18.12.13

चलो रूप परिभाषित कर दें

नेहा
वत्सल

(वत्सल अर्चना चावजी के सुपुत्र हैं, मृदुल, सौम्य और विलक्षण प्रतिभा के धनी, न जाने कितने क्षेत्रों में। नेहा उनकी धर्मपत्नी हैं। स्नेहिल वत्सल ने नेहा के कई चित्रों का मोहक स्वरूप जब फेसबुक में पोस्ट किया तो आनन्द में अनायास ही शब्द बह चले)

भाव उभारें, अमृत भर दें,
चलो रूप परिभाषित कर दें,

किन शब्दों में ढूँढ़े उपमा,
कैसे व्यक्त करें मन सपना,
कहना मन का रह न जाये,
अलंकार में बह न जाये,
ऊर्जान्वित उन्माद उकेरण,
शब्दों में शाश्वत उत्प्रेरण,
सघन सान्ध्रता प्लावित कर दें,
चलो रूप परिभाषित कर दें।

रंग हजारों, रूप समाये,
इन्द्रधनुष आकार बनाये,
जितने छिटके, उतने विस्तृत,
जितने उड़ते, उतने आश्रित,
हो जाये विस्मृत विश्लेषण,
रंगों में संचित संप्रेषण,
मूर्तमान संभावित कर दें,
चलो रूप परिभाषित कर दें।

कुछ हँसते से चित्र उतारूँ,
यथारूप, मैं यथा बसा लूँ,
जितना देखूँ, उतना बढ़ती,
आकृति सुखमय घूर्ण उमड़ती,
धूप छाँव का हर पल घर्षण,
दृष्टिबद्ध अधिकृत आकर्षण,
किरण अरुण अनुनादित कर दें,
चलो रूप परिभाषित कर दें।

प्रेम रूप के विग्रह गढ़ता,
भावजनित मन आग्रह पढ़ता,
रूप प्रेम पाकर संवर्धित,
कांति तरंगें अर्पित अर्जित,
एक दूजे पर आश्रय अनुपम,
रूप प्रेममय, पूर्ण समर्पण,
अन्तः प्रेम प्रभासित कर दें,
चलो रूप परिभाषित कर दें।

46 comments:

  1. चित्रानंदम शब्दानंदम।

    ReplyDelete
  2. कैमरे से खूबसूरती को संचित किया जा सकता...अन्यथा ये तो रूप बदलती रहती है...सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  3. ऐसी परिभाषा की अभिलाषा कौन न करे । अद्भुत / सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  4. प्रेम अपरिभाषेय है । शब्द बेचारे बौने पड जाते हैं उसकी व्याख्या करते-करते । यही उसकी विशेषता है ।सुन्दर रचना । मुझे तो " मेरी बिटिया सुना करो " आज भी याद है ।

    ReplyDelete
  5. सुप्रभात संग प्रणाम आपने वत्सल के चित्रों को शब्दों से जीवंत कर दिया
    वास्तव में ऐसे ही संतान माँ बाप को गौरवान्वित करते हैं अर्चना के चित्र प्रेम
    वत्सल के धमनी में समाया नज़र आया लेकिन पहली बार इस विधा को आपने
    शब्दों की माला दी बधाई सचमुच आनंद आ गया

    ReplyDelete
  6. चलो रूप परिभाषित कर दें।
    है तो असंभव लेकिन आपका प्रयास सतुत्य है ....वत्सल जी का तो कहना ही क्या ?

    ReplyDelete
  7. रूप की कोई भी परिभाषा नहीं है,
    पर प्रयासों की कोई सीमा कहाँ है |
    रूप सबकी दृष्टि मन की भावना -
    दृष्टि एवं दृश्य की सीमा कहाँ है |

    ReplyDelete
  8. हम भी गुलाबजल छलका दें
    सुंदरता परिभाषित कर दें !

    ReplyDelete
  9. अनुठे शब्दावली से रूप परिभाषित कर दिया.. सुन्दर..

    ReplyDelete
  10. सुंदर नहीं अति सुंदर...रूप भी और परिभाषित करने के तरीके भी...

    ReplyDelete
  11. अद्भुत .... सुन्दर...... कविता ....

    ReplyDelete
  12. जो अन्तः प्रेम प्रभासित कर दे वही सौन्दर्य है ...उत्कृष्ट ,बहुत सुंदर कविता ....!!

    ReplyDelete
  13. मृदुल मनभावन।

    ReplyDelete
  14. कर दिया आपने 'रूप परिभाषित'
    अब भला इसे सुंदर रूप की और क्या परिभाषा हो सकती है। बहुत सुंदर ....

    ReplyDelete
  15. चित्रों को शब्दों से भी जीवन्तता मिल जाती है
    रूप की भाषा ही आदमी को निशब्द कर जाती है

    ReplyDelete
  16. चित्रों को शब्दों से भी जीवन्तता मिल जाती है
    रूप की भाषा ही आदमी को निशब्द कर जाती है

    ReplyDelete
  17. वत्सल ने प्रेम को तस्वीर का रूप दिया और आपने उसे एक कविता दी!! प्रेम की सुगन्ध इसी को कहते हैं!!

    ReplyDelete
  18. एक दूजे पर आश्रय अनुपम,
    रूप प्रेममय, पूर्ण समर्पण,
    अन्तः प्रेम प्रभासित कर दें,
    चलो रूप परिभाषित कर दें
    lajbab rachana pandey ji .......poora vatavaran premmay kr diya apne

    ReplyDelete
  19. चित्र और कविता दोनों का अद्भुत समावेश किया है .........

    ReplyDelete
  20. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 19-12-2013 को चर्चा मंच पर टेस्ट - दिल्ली और जोहांसबर्ग का ( चर्चा - 1466 ) में दिया गया है
    कृपया पधारें
    आभार

    ReplyDelete
  21. कितनी सुन्दर परिभाषा।

    ReplyDelete
  22. रूप की परिभाषा इतनी मर्यादित , मृदु , पावन !
    मन प्रसन्न हुआ !

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति , आप कविता भी सुन्दर लिखते हैं ..

    ReplyDelete
  24. बढिया है जी।

    ReplyDelete
  25. बेहतरीन रचना !!!!

    ReplyDelete
  26. रूप का यह सात्विक रू.प। अति सुन्दर।

    ReplyDelete
  27. अति सुन्दर ..प्रभासित प्रेम हुआ..

    ReplyDelete
  28. इतने प्रभावी भाव सम्प्रेषण पर कितनी भी अच्छी प्रतिक्रिया दी जाए वो भी बहुत कम लगेगी ......

    ReplyDelete
  29. कैमरा तो है ही ... पर आपके शब्द भी वो सब कुछ कह रहे हैं ...
    मुक्त प्रेमभाव ...

    ReplyDelete
  30. वाह! तारीफ़ के लिए शब्द ही नहीं मिल रहे - बस यही -चित्रानंदम शब्दानंदम के आगे रिश्तानन्दम .... आपसे भी..... वत्सल- नेहा तो खैर हैं ही .......
    और कविता मे भाव समा गए हैं...अद्भुत!
    आभार ....

    ReplyDelete
  31. प्रेम रूप के विग्रह गढ़ता,
    भावजनित मन आग्रह पढ़ता,
    रूप प्रेम पाकर संवर्धित,
    कांति तरंगें अर्पित अर्जित,
    एक दूजे पर आश्रय अनुपम,
    रूप प्रेममय, पूर्ण समर्पण,
    अन्तः प्रेम प्रभासित कर दें,
    चलो रूप परिभाषित कर दें।

    सत्य ही रहता नहीं ये ध्यान ,

    तुम कविता ,कुसुम या कामिनी हो
    ---------राष्ट्रकवि

    मेरे लिए तो बस वही,पल हैं हंसी बहार के

    तुम सामने बैठी रहो ,मैं गीत गाऊँ प्यार के।

    जितनी सुंदर छवि है उतनी ही सुथरी उज्जल रचना है। इसे कहते हैं तदानुभूति।

    ReplyDelete
  32. प्रेम रूप के विग्रह गढ़ता,
    भावजनित मन आग्रह पढ़ता,
    रूप प्रेम पाकर संवर्धित,
    कांति तरंगें अर्पित अर्जित,
    एक दूजे पर आश्रय अनुपम,
    रूप प्रेममय, पूर्ण समर्पण,
    अन्तः प्रेम प्रभासित कर दें,
    चलो रूप परिभाषित कर दें।

    सत्य ही रहता नहीं ये ध्यान ,

    तुम कविता ,कुसुम या कामिनी हो
    ---------राष्ट्रकवि दिनकर

    मेरे लिए तो बस वही,पल हैं हंसी बहार के

    तुम सामने बैठी रहो ,मैं गीत गाऊँ प्यार के।

    जितनी सुंदर छवि है उतनी ही सुथरी उज्जल रचना है। इसे कहते हैं तदानुभूति।
    प्रेम रूप के विग्रह गढ़ता,
    भावजनित मन आग्रह पढ़ता,
    रूप प्रेम पाकर संवर्धित,
    कांति तरंगें अर्पित अर्जित,
    एक दूजे पर आश्रय अनुपम,
    रूप प्रेममय, पूर्ण समर्पण,
    अन्तः प्रेम प्रभासित कर दें,
    चलो रूप परिभाषित कर दें।

    सत्य ही रहता नहीं ये ध्यान ,

    तुम कविता ,कुसुम या कामिनी हो
    ---------राष्ट्रकवि दिनकर

    मेरे लिए तो बस वही,पल हैं हंसी बहार के

    तुम सामने बैठी रहो ,मैं गीत गाऊँ प्यार के।

    जितनी सुंदर छवि है उतनी ही सुथरी उज्जल रचना है। इसे कहते हैं तदानुभूति।

    साहित्य में इसे ही रस अवस्था कहते हैं जब रूप रचना एक रस हो जाएँ।

    ReplyDelete
  33. Neha ji ki smile behaad khoobsurat hai :)

    ReplyDelete
  34. what a pic and what a poetry...

    ReplyDelete
  35. बहुत सुंदर भाव .....

    ReplyDelete
  36. रूप परिभाषित करने में तो कोई भी कवि ईर्ष्या करनेलगेगा आपसे।

    ReplyDelete
  37. शुद्ध हिंदी, अलंकारपूर्ण शैली और शब्दों का गंभीर मगर सुखद और सुन्दर चुनाव जो अव्यक्त को व्यक्त सा करता जान पड़ता है वाह क्या शैली है लेखक महोदय!

    ReplyDelete