4.12.13

न दैन्यं, न पलायनम्

जब तक मन में कुछ शेष है, कहने को,
जब तक व्यापित क्लेश है, सहने को,
जब तक छिद्रमयी विश्व, रह रह कर रिसता है,
जब तक सत्य अकेला, विष पाटों में पिसता है,

तब तक छोड़ एक भी पग नहीं जाना है,
समक्ष, प्रस्तुत, होने का धर्म निभाना है,
उद्धतमना, अवशेष यदि किञ्चित बलम्,
गुञ्जित इदम्, न दैन्यं, न पलायनम्।

36 comments:

  1. न दैन्यं, न पलायनम्।

    ReplyDelete
  2. अनुष्ठित सत्य..

    ReplyDelete
  3. "न दैन्यं, न पलायनम्।"

    ReplyDelete
  4. तारीफी सुविचारित भावपूर्ण पंक्तियां

    ReplyDelete
  5. "मन के हारे हार है मन के जीते जीत पार-ब्रह्म को पाइये मन के ही परतीत ।" कबीर

    ReplyDelete
  6. चाह कर भी कुछ कह नहीं पाते
    सब कुछ चुपचाप सहना है
    जीवन है जीते जाना है
    इस दुनिया में ही तो रहना है

    उत्तम रचना

    ReplyDelete
  7. प्रकाशवान है सत्य ....... उद्दीप्त विजयी भाव ,सुदृढ़ सुन्दर रचना !!

    ReplyDelete
  8. न दैन्यं, न पलायनम्। सुन्दर एवं सार्थक प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  9. कम शब्द , बड़ी बात |

    सादर

    ReplyDelete
  10. न दैन्यं, न पलायनम्
    .........सुन्दर रचना !!!

    ReplyDelete
  11. जब तक सत्य अकेला, विष पाटों में पिसता है,
    तब तक छोड़ एक भी पग नहीं जाना है,
    समक्ष, प्रस्तुत, होने का धर्म निभाना है,

    बहुत सुन्दर पंक्तियां...सुन्दर भाव....

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया ...

    ReplyDelete
  13. कल 05/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  14. समस्‍या के समक्ष प्रस्‍तुत हो कर उसे साधने की प्रेरणा मिले।

    ReplyDelete
  15. यही सत्य है ... यही शिव हैं ... यही सुंदर भी है ....

    ReplyDelete
  16. miles to go before i sleep...very nice...

    ReplyDelete
  17. सत्यम् शिवम् सुन्दरम्।

    ReplyDelete
  18. सच को दिए उत्कृष्ट शब्द .....

    ReplyDelete

  19. धर्म के आगे कहाँ टिकेगा ,छिपेगा अ -धर्म ,कभी न कभी मारा जाएगा धर्म के हाथों। वैसे जो अधर्म के साथ हैं मरे हुए ही हैं। बहुत बढ़िया प्रस्तुति दर्शन तत्व लिए कलियुगी रूपक लिए।

    ReplyDelete
  20. वाह ! बहुत बढ़िया,बेहतरीन अभिव्यक्ति...!
    -----------------------------------------------
    Recent post -: वोट से पहले .

    ReplyDelete
  21. उच्च विचार और संकल्प । सचमुच जीवन और जगत के प्रति उत्तरदायित्त्व समझने पर ही यह भाव आ सकता है ।

    ReplyDelete
  22. सूक्तिमय हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  23. बहुत खुबसूरत विचार !
    नई पोस्ट वो दूल्हा....
    latest post कालाबाश फल

    ReplyDelete
  24. सुन्दर..
    न दैन्यं, न पलायनम् , हाल में इसी शीर्षक पर अटल बिहारी बाजपेई की एक पुस्तक पढ़ी.

    ReplyDelete
  25. बहुत खूब...इस धर्म को निभाते रहें।

    ReplyDelete
  26. Kya baat kya baat kya baat

    ReplyDelete
  27. पलायन बिल्‍कुल नहीं।

    ReplyDelete
  28. सत्य है, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  29. उद्धतमना, अवशेष यदि किञ्चित बलम्,
    गुञ्जित इदम्, न दैन्यं, न पलायनम्।

    ....शाश्वत सत्य...

    ReplyDelete
  30. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  31. वाह...बहुत उम्दा भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    ReplyDelete