20.8.14

सूरज डूबा जाता है

अब जागा उत्साह हृदय में, रंग अब जीवन का भाता है,
पर सूरज क्यों आज समय से पहले डूबा जाता है ।

चढ़ा लड़कपन, खेल रहा था,
बचपन का उन्माद भरा था ।
मन, विवेक पर हावी होती,
नवयौवन की उत्श्रंखलता ।
बीत गया पर जीवन में, वह समय नहीं दोहराता है ।
देखो सूरज आज समय से पहले डूबा जाता है ।।१।।

प्रश्नोत्तर में बीता यौवन,
दर्शन, दिशा प्राप्त करके मन ।
अब अँगड़ाई लेकर जागा,
तोड़ निराशा के शत-बन्धन ।
लक्ष्य और मन जोड़ सके, वह शक्ति-सेतु ढह जाता है ।
देखो सूरज आज समय से पहले डूबा जाता है ।।२।।

जीवन पद्धतियों से लड़ने,
अपनी सीमाआें से बढ़ने ।
चलें कँटीली कुछ राहों पर,
निज भविष्य की गाथा गढ़ने ।
लगता क्यों अब जीवन मन का साथ नहीं दे पाता है ।
देखो सूरज आज समय से पहले डूबा जाता है ।।३।।

16.8.14

जीवन बहता है, बहने दो

मन कहता हैवह कहने दो,
जीवन बहता हैबहने दो 

आज व्यर्थ की चिन्ताओं से,
पंथ स्वयं का मत रोको 
जीकर देखो तो वर्तमान,
संगीत मधुर हैमत टोको 
रमणीयों में मन रमने दो,
जीवन बहता हैबहने दो ।। १।।

मनस-विकल्पों के दलदल में,
उलझा लेना सहजसरल है 
क्या पाओगे चिन्तन में,
जो जीवन मेंकल थाकल है 
ऐसी भावुकता रहने दो,
जीवन बहता हैबहने दो ।। २।।

घटनायें बहती नियतिबद्ध,
क्यों तोड़ रहे हो इस क्रम को 
हम नहीं नियन्ता जीवन के,
तो व्यर्थ अकारण इस मन को,
क्यों तिक्त व्यथायें सहने दो,
जीवन बहता हैबहने दो ।। ३।।

तर्क-वितर्कों के कुण्डों में,
जीवन कइयों जल जायेंगे 
रहे निरर्थक बुद्धि-यज्ञ,
निष्कर्ष नहीं मिल पायेंगे 
चहुँ ओर सरसता रहने दो,
जीवन बहता हैबहने दो ।। ४।।

13.8.14

चित्र तुम्हारे

कभी सजाये बड़े यत्न से,
रंग कल्पना के चित्रों में,
चित्र तुम्हारे आज स्वयं हीफीके क्यों पड़ते जाते हैं ?
और मुझे क्यों रेखाआें के उलझे चित्रण ही भाते हैं ?

नहीं क्यों श्रृंगार जीवित,
आज शब्दों के चयन में,
ना जाने क्यों आदर्शों के कोरे प्रकरण ही भाते हैं 
चित्र तुम्हारे आज स्वयं हीफीके क्यों पड़ते जाते हैं ।।१।।

नहीं रीझता हृदय आज क्यों,
मधुर सहजता के गुञ्जन में,
क्यों कानों में आज कृत्रिमता के दानव चिल्लाते हैं 
चित्र तुम्हारे आज स्वयं हीफीके क्यों पड़ते जाते हैं ।।२।।

नहीं आज क्यों वर्षित होता,
प्रेमप्रणय मेरे उपवन में,
ना जाने क्यों मेघ प्रेम के बिन बरसे ही उड़ जाते हैं 
चित्र तुम्हारे आज स्वयं हीफीके क्यों पड़ते जाते हैं ।।३।।

जीवन के सूखे से वन में,
सूने से इस पीड़ित मन में,
अनवरत बढ़ती व्यथा और प्रश्न यही पूछे जाते हैं 
आकर्षक जो चित्र तुम्हारेफीके क्यों पड़ते जाते हैं ।।४।।

9.8.14

नैतिकता के स्थापन

कहाँ रह गये अब वह जीवन,
जिनकी हमको मिली धरोहर ।
छिन्न-भिन्न सारी जग रचना,
मचा हुआ क्यों ताण्डव भू पर ।।

जीवन के सारे दृश्यों से,
रोदन स्वर क्यों फूट रहे हैं ।
क्यों नैतिकता के स्थापन,
जगह जगह से टूट रहे हैं ।।

6.8.14

भौतिकता अनुकूल नहीं है

उमड़ पड़े अनगिनत प्रश्न,
जब कारण का कारण पूछा 
जगा गये सोती जिज्ञासा,
जीवन के अनसुलझे उत्तर ।।१।।

दर्शन की लम्बी राहों पर,
चलता ज्ञान शिथिल हो बैठा 
नहीं किन्तु सन्तुष्टि मिली,
किस हेतु जी रहे जीवन हम सब ।।२।।

प्रसन्नता की सहज पिपासा,
मनुज सदा मधुरस को आतुर 
सुख के साथ दुखों की लड़ियाँ,
किन्तु कौन यह पिरो रहा है ।।३।।

कृत्रिम सुखों पर ऋण अपार है,
सदा किसी पर ही आधारित 
सुख की किन्तु प्रकृति शाश्वत है,
फिर भी अर्थहीन अवलम्बन ।।४।।

खोज रहा थाखोज रहा हूँ,
छिपा कहाँ है सुख का उद्गम 
जहाँ दुखों की काली छाया,
लेश मात्र स्पर्श नहीं हो ।।५।।

मिला नहीं कोई सुख सुन्दर,
पाया बस शापित विषाक्त रस 
स्वार्थलोभमद में सब डूबे,
मरु में अमिय कहाँ से लाऊँ ।।६।।

चिन्तनमननगहन कर सोचा,
भौतिक मेरी प्रकृति नहीं है 
सच पूछो तो सहज प्रकृति में,
अतुलअसीम आनन्द भरा है ।।७।।

कारण का सब स्रोत वही है,
वह सुख हैदुख है जो नहीं वह 
मात्र वही आस्वादन कर ले,
मरु-मरीचिका सतत व्यर्थ है ।।८।।

आत्मा हैंस्थूल नहीं हैं,
जीवन कोई भूल नहीं है 
चक्रव्यूह से कब निकलोगे,
भौतिकता अनुकूल नहीं है ।।९।।