21.12.13

रिक्त मनुज का शेष रहेगा

यही दृश्य हमने देखा था
हम कार्यालय से उतरे थे,
दिन के कार्य दिवंगत कर के,
देखा सम्मुख उतरे आते,
मित्र हमें जो मन से भाते,
पीछे आये दो सेवकगण,
वाहन में कुछ करके अर्पण,
ठिठके पग, जब देखा जाकर,
आँखे फैली दृश्य समाकर,
भर भर घर फ़ाइल के बक्से,
हम पूछे तो बोले हँस के,
शेष रहा जो कार्य करेंगे,
घर जाकर वह रिक्त भरेंगे,
काम बहुत है, समय बहुत कम,
इसी विवशता में डूबे हम।

प्रश्न चिन्ह जब रहा उपस्थित,
खोले मन के द्वार अनिश्चित,
हम औरों के जैसे ही थे,
किन्तु आज तक बड़े जतन से,
इस स्थिति को पाला पोसा,
सबका हम पर पूर्ण भरोसा,
चाहें, अब कितना भी चाहें,
चक्रव्यूह से निकल न पायें,

जब भी दिन कुछ हल्का दिखता,
ईश्वर ढेरों उलझन लिखता,
सब जन आते, कहते आकर,
गहन समस्या सम्मुख लाकर,
दर्शनीय हों मार्ग हमारे,
आये हम सब द्वार तुम्हारे,
सुनते हम भी तत्पर होकर,
समयचक्र की सब सुध खोकर,
समाधान की राह निकलती,
पहियों की गति आगे बढ़ती,
मन में भाव जगें करने के,
तन्त्र व्याप्त कंटक हरने के,

उनसे निपटे तो ऊपर से,
आते बारम्बार संदेशे,
अनुभव की है हानि निरन्तर,
पकड़े जाते समय समय पर,
सम्बंधित या आरम्भिक ही,
संशय किंचित, सामूहिक भी,
कार्य सभी उलझाये रहते,
बैठक में बैठाये रहते,

कार्यक्षेत्र में कभी निरीक्षण, 
मानकता के गहन परीक्षण,
इतने विस्तारों में जीना,
गतिमयता, विश्राम कभी ना,
कार्यालय में क्षणभर को ही,
दिन पूरा हो जाता यों ही,
फाइल रहें दर्शन की प्यासी,
महत प्रतीक्षा, और अभिलाषी,
नहीं छोड़ तब जाना होता,
यह संबंध निभाना होता,

सुने शब्द, मन नम हो आया,
किन्तु बुद्धि ने तुरत चेताया,
बोले हम, हमको संवेदन,
किन्तु आप से एक निवेदन,
घर में रहते तीन जीव हैं,
उनके भी सपने सजीव हैं,
कर्तव्यों के मौन पढ़ रहे,
किन्तु अघोषित मौन गढ़ रहे, 
जितना आवश्यक कार्यालय,
उतना आवश्यक हृदयालय,
तनिक देर यदि हो भी जाये,
शेष कार्य पर घर न आये,
घर में बस घर का गुंजन हो,
संबंधों का अभिनन्दन हो,

सच पूछो अच्छा लगता है,
कर्मशील सच्चा लगता है,
किन्तु नहीं वंचित रह जाये,
कर्मठ भी शीतलता पाये,
द्वन्द्व सदैव विशेष रहेगा,
रिक्त मनुज का शेष रहेगा।

41 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (21-12-13) को "हर टुकड़े में चांद" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1468 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. किन्तु अघोषित मौन गढ़ रहे,
    जितना आवश्यक कार्यालय,
    उतना आवश्यक हृदयालय,
    तनिक देर यदि हो भी जाये,
    शेष कार्य पर घर न आये,
    घर में बस घर का गुंजन हो,
    संबंधों का अभिनन्दन हो,
    मूल मंत्र यही है :-)

    ReplyDelete
  3. घर में बस घर का गुंजन हो,
    संबंधों का अभिनन्दन हो,

    सही सलाह , शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  4. अति सुन्दर...

    ReplyDelete
  5. कब ख़त्म होता जीवन का संघर्ष
    स्मृतियां ही तो रह जाती है शेष
    बीत ही तो जाता है जीवन पल प्रति पल
    देकर अत्रिप्ता का संदेष

    ReplyDelete
  6. कब ख़त्म होता है जीवन का संघर्ष
    रह जाती है स्मृतियाँ ही शेष
    बीत ही जाता है जीवन
    देकर अत्रिप्ताता का सन्देश

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  8. जय हो !
    यह नवगीत स्टायल बढ़िया है।

    ReplyDelete
  9. शेष कार्य पर घर न आये,
    घर में बस घर का गुंजन हो,
    संबंधों का अभिनन्दन हो,
    सार्थक सीख देती रचना ......सहज मुस्कान तभी खिलती है ...!!

    ReplyDelete
  10. घर में न खुल जाये दफ्तर..याद रहे यह सीख है बेहतर

    ReplyDelete
  11. अच्‍छा संदेश देती कविता।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया ...

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन अनुभव का लेखा जोखा

    ReplyDelete
  14. घर में बस घर का गुंजन हो,
    संबंधों का अभिनन्दन हो,
    sabhi ka apana apna auchitya hota hai phir sambandh hon ya karya ...........bahut sundar prerak rachna

    ReplyDelete
  15. कार्यालय का बोझ घर तक ! ऊफ!

    ReplyDelete
  16. सार्थक सन्देश ..... बहुत बढ़िया कविता

    ReplyDelete
  17. और जब कार्यालय ही घर पर हो तो.. सांसत में आ जाती है जान..

    ReplyDelete


  18. बहुत सुंदर बन पडी है,काव्यावली
    नौकरशाही की.

    ReplyDelete
  19. I had this problem before the internet era.
    I worked in an engineering design office.
    Instead of files, I would take engineering drawings home.

    By the time I retired, two years ago, the problem was not drawings or files.
    It was emails.
    At least 150 emails per day, on an average to be read, noted, stored, replied, forwarded, acted upon or deleted.
    Even to decide what to do with each email required time and effort.

    Times change.
    What will it be in future?
    Regards
    GV

    ReplyDelete
    Replies
    1. Absolutely right !
      I am in the same situation. Sometimes it is impossible to deal with these emails. Even if you don't bring any files at home, you just can not avoid these emails and they are more than enough to give you sleepless nights.

      Delete
  20. घर का काम होवे घर में
    दफ्तर का होवे दफ्तर में
    घाल-मेल ना करना भैया
    वर्ना पड़ जाओगे चक्कर में

    आप एक अच्छे बॉस हैं, अपने सबोर्डिनेट्स को अच्छा सन्देश दे दिया आपने :)

    ReplyDelete
  21. एक फोटो याद आ रही है आपकी, इस कविता पर ...वत्सल की ली हुई आपके घर पर ...

    ReplyDelete
  22. a very true observstion... kabhi kabhi lgta hai ki kaam karte karte hum kabhi apni zammedaari bhol jaate hai jo ghar parivar ke prati hone chaheye

    ReplyDelete
  23. अति सुन्दर...सार्थक सन्देश ......

    ReplyDelete
  24. हमारी दैनन्दिन व्यथा का सही चित्रण!!

    ReplyDelete
  25. शानदार रचना

    ReplyDelete
  26. जुटे रहो काम में, बस यही जीवन है।

    ReplyDelete
  27. अच्छा सन्देश देती सुंदर पंक्तियाँ ...!
    =======================
    RECENT POST -: हम पंछी थे एक डाल के.

    ReplyDelete
  28. जितना आवश्यक कार्यालय,
    उतना आवश्यक हृदयालय,

    ReplyDelete
  29. आज सबों को इसी संतुलन को तो समझने की अति आवश्यकता है..

    ReplyDelete
  30. Waah bahut hi laybadh evam sundar kavita ..

    ReplyDelete
  31. कमाल का प्रवाह ... और शब्दों की बंदिश ... छिपे सन्देश को उजागर करती रचना ...

    ReplyDelete
  32. घर में बस घर का गुंजन हो,
    संबंधों का अभिनन्दन हो,

    घर में दफतर ,

    दफ्तर में घर ,कभी कभी ऐसा भी तो हो

    दफ्तर का परिवार हो मीठा ,

    ReplyDelete
  33. घर में बस घर का गुंजन हो,
    संबंधों का अभिनन्दन हो!!
    घर तो वही होता जहाँ गुंजन होता है , फाईलों का नहीं !

    ReplyDelete
  34. काश सबको आप सा बॉस मिलजाता :) :)

    ReplyDelete
  35. कविता में कुछ शब्दों का प्रयोग बेहद अनूठा है।
    जैसे- दिन के कार्य 'दिवंगत करके।
    यह पक्तियां भी शब्द शिल्प की अच्छी उदाहरण हैं।
    घर में रहते तीन जीव हैं
    उनके भी सपने सजीव हैं।
    और समापन हमेशा की तरह बेहद अर्थपूर्ण-
    रिक्त मनुज का शेष रहेगा।
    छोटी पंक्तियों की गीतनुमा कविता लिखना आसान नहीं होता। श्रम, समय और साधना की मांग करती है।

    ReplyDelete
  36. प्रवाहपूर्ण सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  37. wah...aap to kavitaaon me baat karne lage hain...ati sundar.

    ReplyDelete