30.11.13

क्या बोलूँ मैं

मैं,
बैठकर आनन्द से,
वाद के विवाद से,
उमड़ते अनुनाद से,
ज्ञान को सुलझा रहा हूँ,

सीखता हूँ,
सीखने की लालसा है,
व्यस्तता है इसी की,
और कारण भी यही,
कुछ बोल नहीं पा रहा हूँ । 

39 comments:

  1. सुन्दर-भाव-पूर्ण-प्रवाह-पूर्ण प्रस्तुति । स्वगत-कथन ।

    ReplyDelete
  2. नया अंदाज़ है , बधाई !!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चिंतन...
    बना रहे क्रम!

    ReplyDelete
  4. कभी हजार शब्‍दों पर एक चुप.

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया ....शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. गागर में सागर हो गया है।

    ReplyDelete
  7. कोई बात नहीं -कभी कभी मौन भी मुखर होता है !

    ReplyDelete
  8. चुप्‍पी अच्‍छी है

    ReplyDelete
  9. अरे आप इस रूप में भी हैं ….
    इस बार बंगलोर में आप से मिलने की इच्छा थी .....
    लेकिन .............................................
    हार्दिक शुभकामनायें
    !!

    ReplyDelete
  10. आप बोलिए मत.
    बस लिखते जाइए!
    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर उत्कृष्ट रचना ....!
    ==================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    ReplyDelete
  12. क्या बात है....शानदार....
    वह व्यस्तता भी क्या भली,
    जिसमें न हम कुछ कर सकें |
    न दो घड़ी के लिए भी,
    याद उनको कर सकें |

    ReplyDelete
  13. जीवन सुलझाती हुई व्यस्तता …… उलझन सुलझती हुई सी प्रतीत हो रही है .... सुन्दर अभिव्यक्ति। …

    ReplyDelete
  14. मूँद कर आँखें करो उस का ख़याल
    नाभि तक उस का उजाला जायेगा

    ReplyDelete
  15. कुछ बोल नहीं पा रहा हूँ ,

    इसीलिए बार बार सिर खुजला रहा हूँ।

    सुन्दर प्रस्तुति है सर जी।

    ReplyDelete
  16. ब्लॉग जगत में आपकी सार्वत्रिक सार्वकालिक उपस्थिति अनुकरणीय है शुक्रिया आपकी सद्य टिप्पणियों का।

    ReplyDelete
  17. सीखने की लालसा ही मानव को सभी प्राणियों से अलग रखती है सर।

    ReplyDelete
  18. संवेदनशील लोगों के मन की बात।

    ReplyDelete
  19. मन मस्त हुआ अब क्या बोले...

    ReplyDelete
  20. कम शब्दो में ही बहुत कुछ कह गए आप...अजीत जी की बात से सहमत हूँ वाकई गागर में सागर हो गया।

    ReplyDelete
  21. कभी कभी चुप रहकर भी कितना कुछ कहा जा सकता है। …… यह तो आपकी भावाभिव्यक्ति ही बता रही है बहुत खूब सर

    ReplyDelete
  22. सीखने की लालसा है,
    व्यस्तता है इसी की,
    और कारण भी यही,
    कुछ बोल नहीं पा रहा हूँ ।
    ....क्या कहें इसके बाद.....बहुत खूब!

    ReplyDelete
  23. सीखने की लालसा चुप कर रही तो मौन ही बेहतर !

    ReplyDelete
  24. सीखता हूँ,
    सीखने की लालसा है,
    व्यस्तता है इसी की,
    और कारण भी यही,
    कुछ बोल नहीं पा रहा हूँ ।
    सीखता हूँ -

    सीखने की प्रवृत्ति जुड़ी ,

    है मेरे होने से। बढ़िया प्रस्तुति। नए आयाम अभिव्यक्ति के।

    ReplyDelete
  25. यह मौन भी सुनाई दिया .

    ReplyDelete
  26. मौन को पियो, सत्य को जिओ। कुछ मत कहिए, और कहने को क्या रह गया .

    ReplyDelete
  27. जब मन करे, तभी बोलें।

    ReplyDelete
  28. आत्म विवेचन के दौर में ऐसा ही होता है, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  29. न बोलने पर भी बहुत कुछ बोलता है मन ..
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  30. शब्द स्वयं ही राह खोज लेता है..

    ReplyDelete
  31. बहुत खूब ... इस व्यस्तता में भी कमाल किया है शब्दों के साथ ...

    ReplyDelete
  32. उत्कृष्ट रचना ....!

    ReplyDelete
  33. भावों का बेहतरीन प्रेषण

    ReplyDelete
  34. ज्ञानार्जन के लिए मौन नितांत आवश्यक है...

    ReplyDelete
  35. sun raha huuuun maiin....keh raha hai tuuuuu..... chhoti aur sundar rahcna....

    ReplyDelete