29.2.12

आस धुआँ, हर साँस धुआँ

रघुबीरजी के लिये कूड़े के ढेर का प्रकरण अन्ततः एक चिरकालिक शान्ति लाया, यद्यपि इसके लिये उन्हें नगर निगम के अधिकारी के साथ मिलकर सारा भ्रम दूर करना पड़ा। अपने प्रयासों से रघुबीरजी एक जागरूक नागरिक के रूप में पहचान बना चुके थे, लोगों को उन पर विश्वास बढ़ चला था और पर्यावरण संबंधी किसी भी नये विषय में पहल करने के लिये अधिकृत थे।

मानसून अतृप्त धरा को संतृप्त कर के चला गया, कृतज्ञ धरती ने भी फल फूल दिये, धनधान्य दिया। जीवजगत की जठराग्नि प्रचंड ठंड में अपने पूरे आयाम में रहती है, प्रकृति जब खाने को देती है तो भूख भी देती है। शरीर को जीवन रस मिलता रहता है, स्वास्थ्य बढ़ने लगता है, मन भी प्रसन्न हो जाता है। शरीर और प्रकृति का बसन्त साथ साथ ही आ जाता है। रघुबीरजी प्रकृति के इस चक्रीय कालखण्ड को सानन्द बिता रहे थे, अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक कार्य निपटा रहे थे, तभी पतझड़ आ पहुँचा।

प्राकृतिक परिवेश में प्रकृति के कार्य स्पष्ट रूप से दिखायी नहीं पड़ते हैं, स्वतः हो जाते हैं, पता ही नहीं चलते हैं। प्राकृतिक परिवेश की अनुपस्थिति हमें प्राकृतिक प्रक्रियायें समझने को विवश कर देती है। पतझड़ गावों में भी आता है, पेड़ों से पत्ते झड़ते हैं, धरती से पोषित पत्ते धीरे धीरे धरती में विलीन हो जाते हैं, खाद बनकर, आगामी पत्तों को पोषित करने के लिये। नगरों में यह संभव नहीं हो पाता है, एक तो पेड़ ही कम हो चले हैं। दूसरा जब पत्ते झड़कर कांक्रीट या रोड पर गिरते हैं तो अपना निर्वाण बाधित सा पाने लगते हैं। नगरीय जीवन का यह पक्ष एक नयी समस्या लाता है, पत्तों को समेटने की समस्या और यदि उन्हें तुरन्त न समेटा जाये तो वह कूड़े के रूप में नगर में बिखर जाते हैं, यत्र तत्र सर्वत्र।

नगरनिगम होता ही है, नगरीकरण से उत्पन्न समस्याओं का निवारण करने के लिये। एक तन्त्र ही है कोई मन्त्र नहीं कि सारे कार्य पलक झपकाते ही कर डाले। कहने को तो पतझड़ के समय पत्ते समेट कर ले जाने का कार्य नियमित रूप से होना चाहिये, नगरनिगम साप्ताहिक ही कर दे तब भी कृतज्ञ बने रहना चाहिये। नगरनिगम की उदासीनता ने रघुबीरजी के पड़ोसियों को एक नयी विधि अपनाने को विवश कर दिया। आसपास की सोसाइटियों के कुछ उत्साही युवकों ने सफाई कर्मचारियों द्वारा एकत्र इन पत्तों को आग लगा देने का उपाय निकाल लिया। दिन के समय सड़कों पर आवागमन बना रहता है अतः लोगों ने रात में सुलगाने का क्रम बना लिया।

आत्मिक उन्नति और प्राणों में आयाम बनाये रखने के लिये रघुबीरजी अपनी बालकनी में प्राणायाम करते हैं, सुबह सुबह की शुद्ध ऑक्सीजन पूरे शरीर को ऊर्जामय कर देती है। पिछले दो दिनों से प्राणायाम निष्प्रभावी हो रहा था, कारण था फेफड़ों में पहुँची धुँयें की पर्याप्त मात्रा। गन्ध और दृष्टि से समझने का प्रयास किया तो कारण स्पष्ट समझ में आ गया। लगभग सौ मीटर की दूरी पर पत्तों की आग रात भर से सुलग रही थी। धुयें का यह गुबार धीरे धीरे स्मृति में घनीभूत होने लगा। ऐसा नहीं कि यह पतझड़ की ही समस्या थी, धुयें के दो और स्रोत रघुबीरजी को याद आ गये।

जाड़ों के समय भी उसी ओर से सुबह सुबह कुछ सुलगने की गंध आती थी। यद्यपि उस समय बालकनी में प्राणायाम न करने से वह धुआँ रघुबीर जी को अधिक प्रभावित नहीं करता था, पर परिवेश में जले टायर और प्लास्टिक की गंध से वातावरण बुरी तरह से प्रदूषित हो जाता था। उसका कारण भी उन्हें समझ आ गया था, आसपास की सोसाइटियों और एटीएम के चौकीदारों को रात में तापने के लिये जो भी मिल जाये, उसे सुलगाने की आदत थी। अब जीवन किसे प्रिय नहीं होता पर जब विकल्प ठंड या प्रदूषण में से किसी एक से मरने का हो, तो सब प्रदूषण करने बैठ जायेंगे, इस पर कोई आश्चर्य भी नहीं होना चाहिये।

यदि ६ ऋतुओं में केवल दो ही धूम्रदोष से ग्रसित होतीं तो भी एक संतोष किया जा सकता था, भाग्य का खेल मानकर भूला जा सकता था। एक और धुयें की गन्ध थी जो मानसून के महीनों को छोड़ वर्ष पर्यन्त आती थी, और वह भी रात में। धीरे धीरे उसका भी कारण खोजा रघुबीरजी ने। वह घर से निकले कूड़े को सफाई के ठेकेदारों के द्वारा वहीं पर एकत्र कर जला देने के कारण आती थी, यद्यपि नगरनिगम के ठेके में ठेकेदारों को धन उस कूड़े को नगर की सीमाओं से बाहर फेकने का मिलता होगा। लोभवश ठेकेदार स्थानीय निवासियों को सड़ा सा धुआँ पिला रहे थे, वह भी लगभग नियमित।

समस्यायें गम्भीर थीं, स्वयं के प्राणायाम के अतिरिक्त, प्रकृति के प्राणों की रक्षा का दायित्व था रघुबीरजी पर। जैसा कि अंदेशा था, कार्यकारिणी में यह समस्या रखते हुये ही उसे सुलझाने का उत्तरदायित्व रघुबीरजी को सौंप दिया गया। आसपड़ोस के पत्रकार और युवा भी रघुबीरजी के साथ संभावित सफलता में शामिल होने के लिये उत्साहित हो गये। वायु को शुद्ध रखना आवश्यक था, रघुबीरजी ने पुनः गहरी साँस भरी और मन को तैयार कर लिया, एक महत कार्य के लिये....

86 comments:

  1. मानसून अतृप्त धरा को संतृप्त कर के चला गया, कृतज्ञ धरती ने भी फल फूल दिये, धनधान्य दिया। जीवजगत की जठराग्नि प्रचंड ठंड में अपने पूरे आयाम में रहती है, प्रकृति जब खाने को देती है तो भूख भी देती है। शरीर को जीवन रस मिलता रहता है, स्वास्थ्य बढ़ने लगता है, मन भी प्रसन्न हो जाता है। शरीर और प्रकृति का बसन्त साथ साथ ही आ जाता है। रघुबीरजी प्रकृति के इस चक्रीय कालखण्ड को सानन्द बिता रहे थे, अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक कार्य निपटा रहे थे, तभी पतझड़ आ पहुँचा।
    सर बिलकुल ललित निबन्ध शैली में एक उम्दा पोस्ट |विचार और जागरूकता भी शामिल हैं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. me to gazab ki hindi padhkar hi khush ho gai hu...bahut acchi post sir....2,3 baar aur padhungi

      Delete
    2. प्रकृति है ही इतनी सुन्दर कि वर्णन करने में लालित्य आ जाता है।

      Delete
  2. पत्तियों को जला देने की बजाय गड्ढे में डाल देने से खाद बन सकती है , मगर कोलोनियों में यह सम्बह्व नहीं ...नगर निगम ऐसा करेगा नहीं ... रघुबीर जी कुछ हल निकाल पाए होंगे !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. संभवतः रघुबीरजी कुछ ऐसा ही सोच रहे होंगे।

      Delete
  3. कुछ और विकल्प तो खोजना ही पड़ेगा जिससे कि पर्यावरण भी बचा रहे और ठण्ड से भी सुरक्षा मिल सके.

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह एक समस्या तो है ही, विकल्प भी ऐसा हो जो सबको स्वीकार्य हो..

      Delete
  4. विचारणीय......उम्दा आलेख.

    ReplyDelete
  5. प्रिय मित्र !रघुबीर जी की प्रतिछाया में सामाजिक सरोकार की चिंता सर्वग्राह्य व प्रतिष्ठित तो है ही , भाषा की स्निग्धता ,व लालित्य प्रयोग बहुत ही सुन्दर है , अनुपम जी / बहुत -२ बधाईयाँ और सम्मान /

    ReplyDelete
    Replies
    1. रघुबीरजी के व्यक्तित्व में पर्यावरण एक अभिन्न अंग के समान जुड़ा हुआ है, उसे स्थापित करना उनकी सामाजिक क्रिया को आन्दोलित करता रहता है। सफल हों, यह शुभकामना मिलकर रघुबीरजी को दी जाये।

      Delete
  6. हमारे निकायों का न सफाई-प्रबंधन ठीक है और न ही कूड़ा-प्रबंधन !
    बहुत दमघोंटू धुँवा होता है...पर शायद कुछ लोगों को फर्क नहीं पड़ता !

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश हर नगर में एक रघुबीरजी जाग जायें तो यह स्वर अपने गन्तव्य पा जायेगा।

      Delete
  7. रघुबीर जी सफल हों.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमारी भी यही शुभकामनायें हैं..

      Delete
  8. वायु को शुद्ध रखना आवश्यक था, रघुबीरजी ने पुनः गहरी साँस भरी और मन को तैयार कर लिया, एक महत कार्य के लिये....
    जन मानस में जागृति दिलाता हुआ ...ज्वलंत समस्या पर विचार करता हुआ ....सार्थक आलेख ...!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस समस्या को अपने मनसपटल व कार्यपटल पर बसा लेने के लिये पतझड़ से उपयुक्त कोई समय नहीं है।

      Delete
  9. इस धूम गंध से निपटान की कारगर नीति बने -रघुबीर जी के प्रयासों का अभिनंदन!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ऐसा ही कोई सामाजिक सहयोग रघुबीरजी खड़ा कर पायें, यही आशा है।

      Delete
  10. आपके रघुवीर जी समाज को जागरूक बना कर अपने उत्तरदायित्व के प्रति सचेत कर रहे हैं.साधु !

    ReplyDelete
    Replies
    1. रघुबीरजी अपनी समस्या को सफल हल निकाल एक उदाहरण भी प्रस्तुत कर सकें, ऐसी प्रभु से प्रार्थना है।

      Delete
  11. यह एक बड़ी समस्या है हमारे परिवेश की........ ज़रूरी है कुछ तो किया ही जाये ...रघुबीर की सोच अनुकरणीय है.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. कूड़ा जला देना सरलतम कार्य है, प्रदूषण से बचने के लिये कुछ तो कठिनाई होगी ही, वर्तमान से अधिक।

      Delete
  12. प्रकृति के गंभीर धुंए ही रह गए ...रघुवीर जी के माध्यम से ज्वलंत सोच

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश, प्रकृति अपना कष्ट स्पष्ट रूप से कह पाती तो रघुबीरजी का कार्य अत्यन्त सरल हो जाता।

      Delete
  13. जागरूक करने वाली पोस्ट ... विचारणीय है.... शायद रघुबीर जी कुछ सार्थक हल निकाल सकें ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम सब मिलकर यही आशा करें..

      Delete
  14. Replies
    1. नगरीकरण की समस्या है, निराकरण तो करना ही होगा।

      Delete
  15. फिर से नेक कार्य का सारा भार रघुवीर जी के ही कन्धों पर डाल दिया :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. देश के हर नगर में अन्ततः रघुबीरजी ही उठ खड़े होंगे..

      Delete
  16. जय जय रघुवीर जी .

    ReplyDelete
    Replies
    1. धुँयें की लंका पर विजय प्राप्त करें, रघुबीरजी।

      Delete
  17. धीर वीर गम्भीर, भले नागरिक हैं बसे ।

    जय जय जय रघुवीर, होवें सफल प्रयास शुभ ।।


    कीचड़ महिना तीन, कचड़ा पूरे साल भर ।

    मसला है संगीन, प्रर्यावरण बचाइये ।।


    भरके गहरी सांस, एक बार फिर जोश से ।

    दायित्विक अहसास, देने निकले मान्यवर ।।


    दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक

    http://dineshkidillagi.blogspot.in

    ReplyDelete
    Replies
    1. bade bhai ... कचड़ा prbandhan ... आज की तारीख में ... यह एक बड़ी समयसा है ... /
      nagar nigam se lekar... pura sarkaari tantr ... isme lagaa hai .. fir bhi..
      safalta nahi mil rahi

      Delete
    2. bade bhai ... कचड़ा prbandhan ... आज की तारीख में ... यह एक बड़ी समयसा है ... /
      nagar nigam se lekar... pura sarkaari tantr ... isme lagaa hai .. fir bhi..
      safalta nahi mil rahi

      Delete
    3. सुन्दर काव्यमय टिप्पणी...रघुबीरजी पढ़कर और उत्साहित हो जायेंगे।

      Delete
  18. bhagvaan kare yese raghubeer ji har gali me hon to yeh samasya hi nahi aayegi vaise main bhi apne garden ke patton ko har teesre din jalvaati rahti hoon taki hava ke saath idhar udhar na uden.paryavarn ki raksha karna humara kartavya hai.apni post ke madhyam se bahut achchi seekh di hai praveen ji.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमारी भी यही कामना है कि हर नगर के सोये रघुबीरजी जागें।

      Delete
  19. बहुत बढिया आलेख ।

    ReplyDelete
  20. नगरों में यह संभव नहीं हो पाता है, एक तो पेड़ ही कम हो चले हैं। दूसरा जब पत्ते झड़कर कांक्रीट या रोड पर गिरते हैं तो अपना निर्वाण बाधित सा पाने लगते हैं। नगरीय जीवन का यह पक्ष एक नयी समस्या लाता है, पत्तों को समेटने की समस्या और यदि उन्हें तुरन्त न समेटा जाये तो वह कूड़े के रूप में नगर में बिखर जाते हैं, यत्र तत्रसर्वत्र.गंधाते नगरों की एक समस्या है शहरी कचरे का तुरता लचर चलताऊ समाधान जिस और रघुबीर्जी का ध्यान जाना ही चाहिए था .दुनिया भर की विषाक्त गैसें होतीं हैं इस धुयें में जो महानगरों में विंटर स्मोग बन पसरा रहता है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. यही सारा धुँआ हम सबके स्वास्थ्य को प्रभावित करता रहता है..

      Delete
  21. ऐसे रघुबीर जी सरीखे व्यक्तित्व ही आशा जगाते हैं.. निराशा के धुओं को मिटाते हैं और प्रकृति को जीवंत करते हैं!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश रघुबीरजी की आशाओं को निष्कर्ष मिले..

      Delete
  22. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 01-03 -2012 को यहाँ भी है

    ..शहीद कब वतन से आदाब मांगता है .. नयी पुरानी हलचल में .

    ReplyDelete
  23. यहाँ सरकार सस्ते दाम पर हर घर को कम्पोस्ट बिन उपलब्ध कराती है. यह प्लास्टिक की बनी उलटी लम्बी टोकरी की तरह है जिसके सर पर ढ़कन भी लगा होता है. जो हिस्सा नीचे होता है उसमे खिसकने वाला एक दरवाजा जैसा भी होता है.अब जो भी रसोई की अन्पकी सब्जी फल के कतरन और पत्ते हो उसे उसमे डालते जाएँ और नीचे वह कम्पोस्ट में बदलता जायेगा. जिसे नीचे के दरवाजे से निकल कर फूल पौधों की क्यारी के लिए प्रयोग कर सकते हैं.
    मैंने एक ऐसा ही अपने घर के पीछे के बगीचे में लगाया है.यह शायद इक अच्छा हल है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. नगरों की जीवनचर्या में संभवतः यह एक स्थायी हल हो सकता है।

      Delete
  24. हमने भी पहली बार बैंगलोर में ही देखा कि कूड़ा इकट्ठा करके सुलगा दिया जाता है, और उसमें से तरह तरह की गंध आती रहती है, यहाँ कूड़े के लिये ट्रंचिंग ग्राऊँड की कमी होगी शायद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. इतने बड़े शहर में कूड़े को बाहर निकालने के अतिरिक्त कोई विकल्प भी नहीं है। सब अपने घर में कचरा-प्रबन्धन करने लगें तो यह समस्या कम हो सकती है।

      Delete
  25. शब्द-चयन बहुत उत्कृष्ट कोटि का किया है ..... साधुवाद !

    ReplyDelete
  26. रघुबीर जी समाज के उत्प्रेरक है , धुआं और धुंध छटेगा

    ReplyDelete
    Replies
    1. समस्या और उपाय स्पष्ट हों और सबको स्वीकार्य भी..

      Delete
  27. रघुवीर तुम डटे रहो,
    रघुवीर तुम अडे रहो,
    सामने कचरा-अम्बार हो,
    मलबा हो, झंखाड हो,
    देर हो,हो सही,
    लोग चेत जायेंगे,
    होश में आ जायेंगे,
    सांस सांस शुद्ध हो,
    आस आस विशुद्ध हो,
    हार कर थको नहीं,
    रघुवीर तुम थमो नहीं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. रघुबीरजी सरलता से थकने वाले जीव नहीं है...कुछ न कुछ उपाय अवश्य निकलेगा...

      Delete
  28. samjh mein nahi aaya mujhe ki ek saadharan se dikhne wale blog mein itni asaadharan post kaise ho sakti hai... vicharniya lekh hai... aur sath hi blog bilkul saadgi bhari khubsurat hai...

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभिषेकजी, आपका बहुत बहुत धन्यवाद। विषय पर ही ध्यान रहे अतः कुछ और नहीं लगाता हूँ ब्लॉग पर।

      Delete
  29. रोचक व प्रेरक रघुबीर कथाय....

    ReplyDelete
  30. raghuvir ji ke bare me bahut achchhi tarah se likha hai aapke likhne ki shaeli bahut hi uttam hai
    rachana

    ReplyDelete
    Replies
    1. रघुबीरजी की उपस्थिति हर नगर में आवश्यक है..

      Delete
  31. रगुवीर जी नमन!

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुछ कर दिखायेंगे रघुबीरजी..

      Delete
  32. रघुवीर जी की जय- जिन्दाबाद!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रघुबीरजी निश्चय ही कुछ सूत्र निकालेंगे..

      Delete
  33. शहरों का पतझड़ भी धुआं-धुआं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस धुँयें में स्वाहा होता नगरवासियों का स्वच्छ वातावरण..

      Delete
  34. रोचकता लिए हुए बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  35. जय हो रघुवीर जी की,...रोचक....

    फालोवर बन गया हूँ,...देर के लिए...क्षमा

    ReplyDelete
  36. लगता है रघुबीरजी पर पूरा उपन्‍यास ही लिखा जा रहा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. लगता तो यही है कि रघुबीरजी ऐसे ही व्यस्त रहे तो उपन्यास बन जायेगा।

      Delete
  37. कुछ ही लोग होते हैं जो अपने लिए नहीं जीते। वे प्रणम्‍य होते हैं। ऐसे ही हैं रघुवीरजी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उनकी चेतना सब में आशा का संचार करे..

      Delete
  38. यह एक बड़ी समस्या है हमारे परिवेश की...कोई हल तो निकाला ही जाना चाहिए विचारणीय मुद्दा है....हमारी और से आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. पर्यावरण और वातावरण को बचाने का यही तरीका भी है..

      Delete