22.2.12

फेसबुक, आपको भी धन्यवाद और विदा

नकारात्मकता से सदा ही बचना चाहता हूँ, बहुत प्रयास करता हूँ कि किसे ऐसे विषय पर न लिखूँ जिसमें पक्ष और विपक्ष के कई पाले बना कर विवाद हो, विवाद में ऊर्जा व्यर्थ हो, ऊर्जा जो कहीं और लगायी जा सकती थी, सकारात्मक दिशा में। जीवन में प्रयोगों का महत्व है, प्रयोगों से ही कुछ नया संभव भी है, प्रयोगों में प्राप्त अनुभव और भी महत्वपूर्ण होते हैं और विषयवस्तु की उपादेयता के बारे में औरों को आगाह करने में सहायक भी।

ऐसा ही एक प्रयोग फेसबुक के साथ किया था, कुछ माह पहले, सम्पर्क लगभग २५० के साथ, कई पुराने मित्र और परिवार के सदस्य, उपयोग मूलतः अपने पोस्ट का लिंक देने के लिये, साथ ही साथ कुछ रोचक पढ़ लेने का उपक्रम। बस इसी भाव से फेसबुक में गया था, वह भी किसी के यह कहने पर कि फेसबुक में साहित्य का भविष्य है। अनुभव यदि कटु नहीं रहा तो उत्साहजनक भी नहीं रहा, कुछ दिनों पहले अपना खाता बन्द कर दिया है, पूरा विचार किया, अपनी न्यूनतम और अनिवार्य की श्रेणी में उसे बैठा नहीं पाया। इसके पहले दो माह का साथ ट्विटर के साथ भी था पर वह चूँ चूँ भी निरर्थक ही लगी। अब रही सही उपस्थिति अपने ब्लॉग के साथ ही बची है, वह चलती रहेगी।

हर निर्णय का आधार होता है, आधार स्पष्ट हो तो व्यक्त भी किया जा सकता है। आधार के तीन सम्पर्क बिन्दु थे, समय, साहित्य और सामाजिकता। इन तीनों बिन्दुओं पर कितना कुछ रिस रहा था और कितना रस मिल रहा था, यह अनुभव हर व्यक्ति के लिये भिन्न हो सकता है, पर विश्लेषण हेतु विषय का उठना आवश्यक है।

पहला है सामाजिकता। यह फेसबुक का सुदृढ़ पक्ष है। अपने कई परिचितों के बारे में जाना, वे कहाँ रह रहे हैं, क्या कर रहे हैं, कुछ चित्र उनके परिवारों के, कुछ घूमने के, कुछ त्योहार के, कुछ मित्रों के साथ, जन्मदिन और वैवाहिक वर्षगाँठ की शुभकामनायें। वैसे तो जिन मित्रों और संबंधियों को जानना आवश्यक था, वे तो फेसबुक से पहले भी सम्पर्क में थे। फेसबुक के माध्यम से उनके बारे में कुछ और जान गये। कुछ और लोगों से भी परिचय बढ़ा पर उसका आधार साहित्यिक न हो विशुद्ध जान पहचान का ही रहा, वह भी किसी तीसरे पक्ष के माध्यम से। संबंधों को महत्व देने वालों के लिये, संबंधों की संख्या से कहीं अधिक, उनकी गुणवत्ता पर विश्वास होता है। फेसबुक में संबंधों का प्रवाहमयी संसार तो मिला पर जब उसकी अभिव्यक्ति में गाढ़ेपन की गहराई ढूढ़ी तो छिछलेपन के अतिरिक्त कुछ भी नहीं पाया।

दोष वातावरण का है, जहाँ स्वयं को व्यक्त करने की होड़ लगी हो, सम्पर्कों की संख्या चर्चित होने के मानक हों, औरों की अभिव्यक्ति का अवमूल्यन केवल लाइक बटन दबा कर हो जाता हो, वहाँ संबंधों के प्रगाढ़ होने की अपेक्षा करना बेईमानी है। संबंधों को पल्लवित करने के लिये समय देना पड़ता है, लगभग बराबर का, स्वयं की अभिव्यक्ति में दिया समय औरों द्वारा अभिव्यक्त को पढ़ने में दिये समय से कम ही रहे। इस वातावरण में ऊपर ऊपर तैरने को आनन्द तो बना रहा पर गहरे उतर कुछ संतुष्टि जैसा कुछ भी अर्जित नहीं हुआ।

दूसरा है समय। जहाँ पर गतिविधियों की झड़ी लगी हो, वहाँ कितना समय सर्र से निकल जाता है, पता ही नहीं चलता है। कई लोगों को जानता हूँ जो सुबह उठकर मुँह धोने के पहले फेसबुक देखते हैं। दिन में कई बार फेसबुक में कुछ न कुछ देखने में समय स्वाहा करने की लत लग जाती है सबको। संभवतः यही कारण है कई संस्थानों में फेसबुक पर रोक लगा दी गयी है। एकाग्रता नहीं रह पाती है, जब भी कुछ सोचने का समय आता है, मन में फेसबुक की घटनायें घूम जाती हैं। भरी भीड़ में परिवेश से त्यक्त युवा बहुधा फेसबुक में विचरते पाये जाते हैं। मेरा भी पर्याप्त समय फेसबुक चुराता रहा, जो पिछले कई दिनों से मुझे पूरी तरह से मिल रहा है।

तीसरा है साहित्य। साहित्य की दृष्टि से अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम ब्लॉग ही है। ट्विटर के १५० अक्षरों में केवल चूँ चूँ ही की जा सकती है। आप अपने होने, न होने, खोने, पाने की सूचना तो दे सकते हैं पर साहित्य सा कुछ लिख नहीं सकते हैं। फेसबुक में भी जहाँ सामाजिकता प्रधान वातावरण हो, वहाँ साहित्य गौड़ हो जाता है। वैसे तो ब्लॉग भी साहित्य का गहरा प्रारूप नहीं है, पाँच छै पैराग्राफ में बड़ी कठिनता से एक विषय समेटा जा सकता है, पर वर्तमान में यही साहित्य की न्यूनतम अभिव्यक्ति और ग्रहण करने की ईकाई है। जहाँ लाखों उदीयमान साहित्यकारों के योगदान से साहित्य सृजन के स्वप्न देखे जा रहे हों, वहाँ अभिव्यक्ति के लिये ब्लॉग से छोटी ईकाईयों का स्थान नहीं है।

पाठक ढूढ़ने का श्रम लेखक को करना होता है, उसी तरह अच्छे लेखक को ढूढ़ने का श्रम पाठक को भी करना पड़ता है। माध्यमों की अधिकता ध्यान बाटती है, अभिव्यक्ति का कूड़ा एकत्र करती है। छोटी चीजें से कुछ बड़ा बन पाने में संशय है, रेत से पिरामिड नहीं बनते, उनके लिये बड़े पत्थरों की आवश्यकता होती है। महाग्रन्थों का युग नहीं रहा पर कम से कम ब्लॉग की ईकाई से सबका योगदान बनाये रखा जा सकता है। साहित्य संवर्धन तो तभी होगा, जब अधिक लोग लिखें, अधिक लोग पढ़ें, लोग अच्छा लिखें, लोग अच्छा पढ़ें, अधिक समय तक रुचि बनी रहे, जब समय मिले तब साहित्य ही पढ़ें, बस में, ट्रेन में, हर जगह। फेसबुक सामाजिकता संवर्धित कर सकता है, साहित्य नहीं।

फेसबुक, आपको भी धन्यवाद और विदा।

199 comments:

  1. अकाउंट बंद कर देना शायद सही नही है, आप उसपर कितना समय देते है वह महत्वपूर्ण है।
    मै फेसबुक पर हूं लेकिन सुबह या शाम एक बार ही लगभग १० मिनट देता हूं। (१० मिनट कम नही, काफी है!) फ़ेसबुक पर उपस्थिति केवल इसलिये है कि अधिकतर मित्रगण उसी पर है और उनके संपर्क मे रहने का वह एक बेहतर साधन है। लेकिन अपने विचारो को व्यक्त करने या पोष्ट लिखने के लिये उसका प्रयोग नही करता हूं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. फेसबुक में रहकर १० मिनट ही देना किसी तपस्या से कम नहीं है, आपको साइबर-संत की उपाधि मिलनी चाहिये। हमारे तो १० मिनट के कई दौर हो जाते थे।

      Delete
    2. Vaise 10 minute dena vakai mushkil nahi hai. :D fir toh main bhi cyber sadhvi ban sakti hu. :D
      LOL

      Delete
    3. और हम सब साइबर-दास..

      Delete
    4. दस मिनट ट कहने के होते है .....जहाँ एक बार चलती है ........तो शाम हो जाती है ओर नतीजा सिफर ....सर में दर्द अलग होता है लेकिन .........कई सालो से फेसबुक पर हूँ........सिर्फ ब्लॉग पर लोग जुटाने के लिए

      Delete
  2. फेस बुक भी अपने विचारों के सम्प्रेषण का एक माध्यम है।
    आज आपकी पोस्ट का लिंक चर्चा मंच पर भी है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार, फेसबुक में विचारों का संप्रेषण तो हो रहा था पर निष्कर्ष नहीं निकल रहा था।

      Delete
    2. कभी-२ तो ब्लॉग में लाईक बटन की कमी खलती है

      Delete
    3. फेस बुक भी अपने विचारों के सम्प्रेषण का एक माध्यम है।
      आज आपकी पोस्ट का लिंक फेसबुक पर भी है!

      Delete
    4. दोनों का एक दूसरे में उपस्थित होना सहजीविता है या प्रतियोगिता।

      Delete
  3. हम भी बस दूरी बनाना ही चाहते हैं, बनाना शुरू कर दिया है, फ़ेसबुक को समय देना धीरे धीरे अन्य गतिविधियों को प्रभावित करने लगा है।

    ReplyDelete
  4. हम भी बस दूरी बनाना ही चाहते हैं, बनाना शुरू कर दिया है, फ़ेसबुक को समय देना धीरे धीरे अन्य गतिविधियों को प्रभावित करने लगा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. चलिये, अपने अनुभव का लाभ हमें भी बताईयेगा।

      Delete
  5. सर आपका आलेख और आकलन दोनों ही सही हैं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके रूप में एक हमराही मिला..

      Delete
  6. हर पहलू की अपनी अच्छाई और बुराई दोनों होती हैं ....क्यों न हम जो अच्छा है उसीकी अपनाएं ...कमियों को नज़रंदाज़ कर दें ..उन्हें जाने दें .क्यों, ठीक हैं न

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छाई के रूप में सारे सम्पर्क रख लिये हैं, शेष त्याग दिया है।

      Delete
  7. फेसबुक का इस्तेमाल हम भी सिर्फ लोगों से संपर्क बनाये रखने के लिए ही करते है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सम्पर्क बनाने में तो यह माध्यम उत्कृष्ट है।

      Delete
  8. फेसबुक के चिट-चैट का अपना रस है, पर वह सबको नहीं सुहाता (बेशक मैं भी वहां स्‍वयं को बेगाना-सा महसूस करता हूं.)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अधिक रस में डायबटीज़ का खतरा है, कभी रम नहीं पाया फेसबुक में, ब्लॉग में पहले दिन से ही संतुष्टि हो रही है।

      Delete
  9. अधिकतर ब्लॉगर ही है मेरे अकाउंट में | फेस बुक को ब्लॉग-एग्रीगेटर की तरह प्रयोग में लाता हूँ बस | सारे लिंक्स प्रायः एकसाथ मिल जाते है पढने को | अब आपने विदा कर दिया तो कोई बात नहीं | दुःख तो मिटटी का घरौंदा भी तोड़ने में होता है | आपने तो परिचित अपरिचित लोगों से स्वयम को अलग कर उन्हें दुःख अवश्य दिया होगा |

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग तो गूगल रीडर के माध्यम से आ जाते हैं, परिचितों से सम्पर्क नहीं टूटा है, बस फेसबुकीय अधिकता नहीं रही।

      Delete
  10. हमने तो अकाउंट ही नहीं खोला था फेसबुक पर .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप तो पूर्वसिद्ध निकले..

      Delete
  11. मेरी छठी,सातवी ..इन्द्रियां पहले ही भांप लेती है..रेत में तेल ..न ..न..

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश, आपने पहले आगाह कर दिया होता...

      Delete
  12. फेसबुक और ट्विट्टर के मोहपाश में कभी पड़ी ही नहीं...... हाँ अकाउंट ज़रूर है पर उपस्थिति न के बराबर.....

    फेसबुक जैसे सोशल नेटवर्किंग साइट्स के बारे में आपका अवलोकन और विचार दोनों एकदम सटीक हैं ... पूर्ण सहमति है आपसे...... सच कहूँ तो मुझे तो लगता है की साहित्य तो दूर फेसबुक जैसे प्लेटफोर्म सामाजिकता को भी शायद एक अजब ही रंग दे रहे हैं..... शुरू में सब ठीक लगता है पर आगे चलकर सभी के अपडेट्स बस कुछ चित्रों तक ही सिमट जाते है , जो कुछ भी जीवन में चल रहा है उसे दुनिया को दिखाना है ...यही सोच रह जाती है.... मुझे तो यह अकेलेपन वाली सामाजिकता ज्यादा लगती है क्योंकि फेसबुक पर ५०० दोस्तों की फेहरिस्त और अपना पड़ौसी कौन है पता नहीं.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. जीवन के मौलिक सुखों का आगमन निकटस्थ परिवेश से ही होता है, न कि साइबर परिवेश से।

      Delete
  13. काफी अधिक समय ले लेती है फेसबुक,वह भी तब जब कि आपके मित्र बहुत अधिक हों. ऑरकुट मुझे कहीं अधिक ठीक लगा था. लेकिन लिखने के लिये ब्लॉग से अच्छा कुछ नहीं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. साहित्य संवर्धन ब्लॉग से ही होता है...बाकी जमा नहीं...

      Delete
  14. बहुत परेशान होकर कुछ समय पहले फेसबुक से तौबा कर ली थी,पर नेटवर्किंग के लिहाज़ से या कहिये 'टाइम-पास' की वज़ह से, काफ़ी कुछ बदले रूप में वापस लौट आया और अब सीमित और हल्की-फुलकी,थोड़ी साहित्यिक भी,दखलंदाजी होती है.कई लोगों की पोस्ट का पता भी देता है फेसबुक.
    हाँ,यदि थोड़ा अनुशासन रखें तो यह ज़्यादा बुरा नहीं है.कभी छोटी-सी बात, जो गहरा प्रभाव रखती है,वह साझा की जाती है ,जो ब्लोगिंग में संभव नहीं.
    कुछ लिहाज से मैं ट्विटर के १४० अक्षरों वाले टूल को फेसबुक से ज़्यादा उपयोगी मानता हूँ.
    कुल मिलाकर फेसबुक और ट्विटर 'इन्स्टैंट फ़ूड'(नाश्ता) और ब्लॉगिंग 'लंच' या 'डिनर'की तरह हैं.

    आप को बधाई कि आप फेसबुक और ट्विटर के मोहपाश से छूट गए !

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिनभर इन्स्टैन्ट फूड खा कर फूलते जा रहे थे हम..अब डाइटिंग पर हैं।

      Delete
    2. हम अभी इससे 'फाइटिंग' कर रहे हैं !

      Delete
    3. एकदिन आप ही जीतेंगे, फेस बुकनहीं..

      Delete
  15. ठीक किया, मगर कहीं सकारात्मकता दिखे तो हमें भी बताना सर जी, अपुन को बहुत जरुरत है उसकी :) !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम भी ढूढ़ने में लगे हैं, आपको आपका ही पता मिल जाये तो पहुँच पायेंगे?

      Delete
  16. hmmm, facebook use karti hu, lekin 3-4 din mein ek-aadh bar, kuch friends, school-college ke jinke sath koi sampark nahi raha tha fir se ban gaya, isliye kabhi account deactivate nahi kiya. Rahi Twitter ki baat, to twitter par bhi hu, lekin kabhi kisi ko nahi bataya account konsa hai, na hi tweets likhti hu, bas kuch logon ko follow karne ke liye hi account banaya tha, aur vahi kar rahi hu.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सौम्य, शान्त, स्थितप्रज्ञ उपस्थिति...सच में सीखने योग्य...

      Delete
    2. क्षण भर चेहरे देख के, करें जरूरी काम |
      बड़ा मुखौटा काम का, छूटे नशे तमाम |
      छूटे नशे तमाम, नशे का बनता राजा |
      छोड़ जरुरी काम, बुलाये आजा आजा |
      कह रविकर रख होश, मुखौटा खोटे लागै |
      रखकर सर पर पैर, सयाने सरपट भागै ||

      दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक
      dineshkidillagi.blogspot.com

      Delete
    3. विषय पर अत्यन्त सारगर्भित अभिव्यक्ति..

      Delete
  17. फेसबुक पर अकाउंट ज़रूर है ..अपनी लिंक्स भेजने का चाव तो है ही ...और साथ ही ... सबको जन्मदिन विश करने के शौक तक ही इस्तेमाल है या कुछ फोटो शेयर हो जाती हैं ....कई कई दिन अकाउंट खुलता ही नहीं ...बस कम से कम इस्तेमाल तक ही अपने आप को सीमित कर रखा है ....ज्यादा लिप्त होना समय की बर्बादी ही है ...!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. फेसबुक में जो कार्य हो पा रहा था, उसके बिना भी उतने सुचारु रूप से चल रहा है। एक बार लिप्त होने के बाद कुछ होश ही नहीं रहता था समय का।

      Delete
  18. संबंधों को पल्लवित करने के लिये समय देना पड़ता है ... बहुत ही सही कहा है आपने ...

    हमेशा की तरह सार्थक व सटीक लेखन .... आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. गहरेपन का आभास छिछली सामाजिकता में हो भी नहीं सकता है।

      Delete
  19. फेस बुक से सांजीक दारा ज़रूर बढ़ता है ... मुझे भी ब्लोग्स पर रहना ही ज्यादा पसंद है ... बाकी जगह जाना बहुत कम होता है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सामाजिक दायरा पढ़ा जाये

      Delete
    2. साहित्य की दृष्टि से तो ब्लॉग ही सशक्त माध्यम है..

      Delete
  20. साहित्‍य का माध्‍यम तो ब्‍लाग ही है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहमत हैं, न्यूनतम ईकाई तो ब्लॉग ही है।

      Delete
  21. मैं तो जियोसिटीज के जमाने से, और तब से जब एसटीडी फोनलाइन के जरिए इंटरनेट डायलअप 56 केबीपीएस मिलता था, तब से इंटरनेट के अनुप्रयोगों का इस्तेमाल कर रहा हूं.

    मैंने ऐेसे तमाम अनुप्रयोगों को ठोंक बजाकर जांचा परखा भी है, और एक सृजनधर्मी व्यक्ति के लिए 'ब्लॉग' ही सर्वोत्तम है. बाकी सब के सब टाइम-पास और टाइम-वेस्ट.

    इसलिए, आपका निर्णय सही है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सृजनशीलता की कसौटी पर श्रेष्ठ माध्यम ही रहे...

      Delete
  22. जहाँ अधिक रुके ऐसी जगहों पर कि यही होना है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब कहीं रुकना नशा होने लगे और उसका निष्कर्ष कुछ न निकले तो समझना कठिन हो जाता है।

      Delete
  23. Pasnd apnee apnee khayaal apna apna ......



    jai baba banaras....

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपनी अपनी प्रकृति है, अपना अपना चाव..

      Delete
  24. Replies
    1. हल्केपन की दिशा में...

      Delete
  25. फेसबुक बुरा नहीं है लेकिन उसे इतना जीवंत बना दिया गया है .......कि कभी कभी तो सपने में ख्याल आता है कि कहीं कोई कमेन्ट कोई लाइक तो नहीं हुआ ................जिसकी वजह जिंदगी प्रभावित हो रही है !निर्णय लेने में फेसबुक समय नहीं देता कि दूसरा अपनी बात कह देता है ...............वहाँ बातों का विस्तार नहीं कर सकते ...........इसके आपसी रिश्ते तो बिगडते ही है

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब लाइक बटन से काम चल जाता हो तो बड़ी बड़ी बातें भी हल्के में निकल जाती हैं..

      Delete
  26. अपने अपने अनुभव है प्रवीण जी………फ़ेसबुक पर भी आपको साहित्य मिलेगा मगर ये बात पक्की है थोडा वक्त देना होगा …………अब हमें तो वहाँ भी काफ़ी अच्छा साहित्य और विमर्श मिल जाता है मगर रोज रोज नही……………इसी तरह ब्लोग का है जैसे यहाँ रोज बढिया पढने को मिले ही मिले जरूरी नही है वैसे ही वहाँ भी है…………अब हमारी किताब जो " स्त्री होकर सवाल करती है " फ़ेसबुक की ही देन है और इसमे एक से बढकर एक कवितायें ये बताती हैं कि कितनी सृजनशीलता है बस उसे ढूँढना पडता है…………बस अनुभव सबके अलग होते हैं । ब्लोग का तो अपना एक स्थान बन ही चुका है जिसे कोई नकार ही नही सकता मगर फ़ेसबुक भी अपना स्थान बना रहा हैबेशक वक्त लग रहा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सब ब्लॉगरों के ब्लॉग गूगल फीड के माध्यम से मिल जाते हैं, तब फेसबुक के माध्यम से उन्हें पढ़ने का कोई औचित्य नहीं। नया सृजन या चर्चा तो न के बराबर ही मिली वहाँ पर...

      Delete
  27. फेसबुक की लत नहीं है , ज्यादा ब्लॉगर्स के लिंक देखने के काम आता है या विश करने की सामाजिकता निभाने जितना ही !
    ब्लॉग का मुकाबला नहीं है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब ब्लॉग की फीड से काम चल रहा हो तो एक अतिरिक्त माध्यम की क्या आवश्यकता..

      Delete
  28. मैं आपकी बात से पूरी तरह से सहमत हूँ पर झूठ नहीं कहूँगी मैं फेसबुक को काफी समय देती हूँ वही रहकर लिखती हूँ लोगो से विचार आदान - प्रदान करती हूँ पर इस बात से भी इंकार नहीं कि हाँ वहाँ रहकर समय बर्बाद जरुर होता है कभी - २ सोचती हूँ , इससे अच्छा तो हम बैठकर कुछ अच्छी किताब ही पढ़ ले और ये भी बिल्कुल सच है कि अगर आगे बढ़ना है और अच्छा लिखना है तो हमें उसका साथ कम करना ही होगा | आपकी बात से पूरी तरह से सहमत बहुत - २ शुक्रिया |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका कहना सही है, अब बचा समय कुछ नये विषयों को पढ़ने में लगाना है..

      Delete
  29. संबंधों को पल्लवित करने के लिये समय देना पड़ता है, लगभग बराबर का, स्वयं की अभिव्यक्ति में दिया समय औरों द्वारा अभिव्यक्त को पढ़ने में दिये समय से कम ही रहे। इस वातावरण में ऊपर ऊपर तैरने को आनन्द तो बना रहा पर गहरे उतर कुछ संतुष्टि जैसा कुछ भी अर्जित नहीं हुआ।
    फेसबुक तांक झाँक की जगह बन रहा है सामाजिकता तक सीमित कहाँ रहा है .जिसकी मर्जी जो जहां तहां लिख जाए ,किसी का कुछ न जाए ,कुछ भी गज़ब हो जाए अपकर्म हो जाए .बहर -सूरत अपने कहाँ पिकनिक रत हैं कहाँ घूम घाम रहें हैं आप जान सकतें हैं देख सकतें हैं .

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुछ भटका भटका सा लगता है फेसबुक, दिशाहीनता का उन्मादी गुबार..

      Delete
  30. आपकी इस बात से पूर्णतः सहमत हूँ कि सोशल नेटवर्क्स की तुलना में ब्लॉग अभिव्यक्ति का ज्यादा सशक्त माध्यम है। इसीलिए जो लोग फेसबुक और ट्विटर की बढ़ती लोकप्रियता को ब्लॉगों के लिए घोर संकट बताते रहे हैं वो मुझे सही नहीं लगता है। जो अपने कथन के बारे में गंभीर हैं वो हमेशा ब्लॉग जैसे माध्यमों को ही अपनाएँगे।

    "जहाँ स्वयं को व्यक्त करने की होड़ लगी हो, सम्पर्कों की संख्या चर्चित होने के मानक हों, औरों की अभिव्यक्ति का अवमूल्यन केवल लाइक बटन दबा कर हो जाता हो, वहाँ संबंधों के प्रगाढ़ होने की अपेक्षा करना बेईमानी है।"

    सही कहा पर हिंदी ब्लॉग भी इस बीमारी से पूर्णतः मुक्त हैं ऐसा मैं नहीं मानता। यहाँ भी खेल नेटवर्किंग का ही है। लाइक बटन दबाना या टिप्पणी के रूप कुछ जाने पहचाने शब्द ठेल देने की प्रथा में मुझे तो ज्यादा फर्क नही लगता।

    रही संबंधों की प्रगाढ़ता की बात तो वो दो व्यक्तियों के मन के मिलने से होती है ना कि इस बात से कि वो व्यक्ति मुझे फेसबुक पर मिला या ब्लॉग पर। ये अवश्य है कि एक नियमित ब्लॉगर का लेखन उसके व्यक्तित्व के कुछ पहलुओं को समझने में सहायक रहता है जबकि फेसबुक मित्र के बारे में ये सहूलियत नहीं है।

    फेसबुक संपर्क सूत्र का बेहतरीन माध्यम है। जहाँ तक अपने अनुभवों की बात करूँ संगीत के क्षेत्र में जानी मानी अनेक विभूतियों से मेरा संपर्क इसी माध्यम से हुआ। कितने ऐसे मित्र मिले जिनकी संगीत की समझ से बहुत कुछ सीखने को मिला। यही नहीं फेसबुक आपकों उन पाठकों तक पहुँचने में मदद करता है जो ब्लॉगों की दुनिया से इतर रहते हुए भी आपके लिखे विषयों में रुचि रखते हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पाठकों तक पहुँचने में जितना श्रम लेखक करता है, उतना ही श्रम पाठक भी अच्छे लेखक तक पहुँचने में करता है। जब फेसबुक नहीं था तो भी स्तरीय ब्लॉग को पढ़ लेते थे, लोगों की पसन्द से बहुत सूत्र निकल आते हैं। आपके ब्लॉग से ही कितना अच्छा संगीत सुनने को मिला।

      Delete
  31. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 23-02-2012 को यहाँ भी है

    ..भावनाओं के पंख लगा ... तोड़ लाना चाँद नयी पुरानी हलचल में .

    ReplyDelete
  32. सामाजिक संबंधों की नजर से फेस बुक ने बेशक महत्वपूर्ण काम किया है,कई बचपन के बिछड़े मित्र उसकी वजह से संपर्क में आ गए परन्तु- साहित्य की दृष्टि से अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम ब्लॉग ही है।आपसे १००% सहमत.

    ReplyDelete
    Replies
    1. मित्र मिलाने के कार्य के बाद, उनको जानने के कार्य में इतना समय होने लगता है, गाढ़ापन तो आ ही नहीं पाता है..

      Delete
  33. आपके निष्कर्ष महत्वपूर्ण है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. समय मिल पा रहा है, यही निष्कर्ष का प्रतिफल है...

      Delete
  34. मुझे कुछ बेहतर आत्मायें ट्विटर पर मिलीं। ब्लॉग पर जो हैं, उनसे कहीं बेहतर! और अभिव्यक्ति के लिये 140 की सीमा में खेलना भी एम्यूजिंग लगा!

    ReplyDelete
    Replies
    1. १४० की सीमा में सार्थक कहने की सामर्थ्य कबीर, रहीम जैसों को ही थी। दोहा, सुभाषित, शेर पहुँची हुयी आत्माओं के ही बस की बात है।

      Delete
    2. ये कमेन्ट था या कम्प्लीमेंट?
      :-)

      Delete
    3. कम शब्दों में गहरी बात कहना तो प्रशंसा ही हुयी प्रशान्त बाबू..

      Delete
    4. जी बिलकुल, कम्प्लीमेंट ही हुई. मगर आत्मीय व्यक्तियों से चुहल में टांग खिंचाई भी ऐसे ही की जाती है, सो पूछ लिया. :-)

      Delete
    5. आप भी तो...देखन में छोटन लगे, घाव करे गंभीर...

      Delete
  35. दोष वातावरण का है, जहाँ स्वयं को व्यक्त करने की होड़ लगी हो, सम्पर्कों की संख्या चर्चित होने के मानक हों, औरों की अभिव्यक्ति का अवमूल्यन केवल लाइक बटन दबा कर हो जाता हो, वहाँ संबंधों के प्रगाढ़ होने की अपेक्षा करना बेईमानी है

    आपकी बात से पूर्णतः सहमत...फेसबुक पर हम हैं जरूर लेकिन नहीं जैसे...बस अपनी टांग फंसा रखी है यूँ समझें.:-) क्यूँ फंसा रखी है ये हम भी नहीं समझे...:-)

    नीरज

    ReplyDelete
    Replies
    1. पता नहीं, हमने भी पहले टाँग ही फंसायी थी, सर तक चढ़ आया था, अब तो ऊंगली भी नहीं पकड़ानी है।

      Delete
  36. ब्लोगिंग को पारिवारिक सम्मेलनों से अलग रखें तो सही होगा ...
    मैं फेस बुक पर हूँ मगर केवल परिवार के साथ और पारिवारिक सूचनाओं के लिए ही इसका उपयोग करता हूँ ! ब्लोगर मित्रों से वहां कोई संपर्क नहीं रखा है अतः आराम है !
    मेरा सुझाव है कि फेसबुक को व्यक्तिगत और पारिवारिक रखें न कि उसे बंद कर दें !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
    Replies
    1. परिवार के लिये सम्पर्क के माध्यम और ब्लॉगिंग के माध्यम को अलग अलग रखना आवश्यक है। श्रीमतीजी के फेसबुक में परिवारजनों की गतिविधियों की जानकारी रहती है।

      Delete
  37. रेत से घरोंदे तो बनते ही हैं और हम ब्लाग पर यही प्रयास कर रहे हैं। फ़ेस बुक तो यदा कदा ही जाते थे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. भव्यता तो बड़े पत्थरों से आती है, न्यूनतम ईकाई तो होनी ही चाहिये अभिव्यक्ति की..

      Delete
  38. फेसबुक यानि समय की बर्वादी

    ReplyDelete
  39. लोग अच्छा लिखें, लोग अच्छा पढ़ें, अधिक समय तक रुचि बनी रहे...
    सूत्र वाक्य यही है... यही होना चाहिए... तभी संवर्धन की सम्भावना बनी रहेगी व्यापक अर्थों में!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग संभवतः वह कार्य सर्वोत्तम ढंग से कर रहा है।

      Delete
  40. 'रेत से पिरामिड नहीं बनते, उनके लिये बड़े पत्थरों की आवश्यकता होती है' - उत्तम विश्लेषण. पर 'फेस बुक' का भी अपना स्थान है. 'पत्थर' की इकाई भी 'रेत' ही होती है, जोड़ने वाला पदार्थ 'सशक्त' होना चाहिए.

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश रेत भी जुड़कर सशक्त पत्थर बन सके, फेसबुक को साहित्यिक शुभकामनायें..

      Delete
  41. मैं भी फेसबुक से दूर ही हूँ। कारण समय का अभाव। दो घंटा मिला तो कहां-कहां दें..अपना लिखें, दूसरों का पढ़े किताबें पढ़ें, टीवी देखें बड़ी समस्या है। जिसके पास ढेर सारा समय हो वही हर जगह दौड़ लगा सकता है। एकदम सही निर्णय है आपका।

    ReplyDelete
    Replies
    1. समय बस बहा चला जाता था इसमें...एकदम नशे सा...कुछ दिन से अब आराम है।

      Delete
  42. आपके विचार से प्रभावित हूँ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपको..

      Delete
  43. आप वाकई साहसी हैं...
    :-)

    किसी नशे से मुक्ति पाना आसान नहीं....
    आपको नमन..
    शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. छोड़ने के पहले कई बार विचारों ने भरमाया अवश्य था।

      Delete
  44. praveen ji aapne likhne ke liye itna achcha vishay liya hai yahan tippani karne vaale bhi is sankramit rog se grasit honge.kam se kam main to hoon hi sahi likha hai aapne face book par samajik dayra to badhta rahta hai kuch log apne publicity karne me lage hain kai nai cheejen bhi dekhne ko milti hain,vaise isko time killing sight bhi kah sakte hain.vivaah bhi hue hain is face book ke jariye aur divorce bhi.mili juli pratikriya.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम यहाँ साहित्यिक रस ढूढ़ने आये थे, जो मिला नहीं...उसमें तो ब्लॉग ही सर्वश्रेष्ठ लगा।

      Delete
  45. Praveen Babu,
    FB par main gaya kaee baar, par tik nahin paaya. Maine mehsoos kiya ke FB ko aap control nahin kar paate.....
    Blogging ka safar jaari rahe!
    Ashish

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल आप जैसा अनुभव मुझे भी हुआ...ध्यान छोटी छोटी चीजों से भटकने लगता है।

      Delete
  46. Facebook is just about show off. Twitter has dearth of words. Blogging is where my heart is!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने पूरी पोस्ट को तीन वाक्यों में समेटकर रख दिया है।

      Delete
  47. FB pe gaya tha main bhi, wapis aa gaya.... FB tends to control you unlike Blogger where you are the boss! Aisa mujhe laga Praveen Babu...

    Aapki blogiri jaari rahe....

    Ashish

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप निश्चिन्त रहें...हम जमे रहेंगे..

      Delete
  48. दिन में कई बार फेसबुक में कुछ न कुछ देखने में समय स्वाहा करने की लत लग जाती है सबको...
    सत्य वचन,प्रवीण जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब हमारा समय बच रहा है, थोक में..

      Delete
  49. एक साल पहले एक दोस्त के कहने पर फ़ेसबुक पर अपना खाता खोला था।
    एक सप्ताह में ही हम समझ गए कि यह माध्यम हमारे लिए ठीक नहीं। हमने अपना खाता बन्द कर दिया।
    आजकल करीब दो दर्जन ब्लॉग पढता हूँ और सात याहू ग्रूपों में सद्स्य बना हूँ। मेरा पेट बस इतने से भर जाता है।

    ट्विट्टर को हमने आजमाया ही नहीं।
    मुझे 144 अक्षरों का rationing स्वीकार नहीं।

    शुभकामनां
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप साल भर पहले ही सलाह दे देते तो कुछ माह हमारे भी व्यर्थ नहीं जाते...

      Delete
  50. आपका आकलन..... सही हैं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  51. प्रवीण जी,....
    फेस बुक और ट्विट्रर मुझे दोनों नापसंद है,जो आनंद ब्लोगिग में है किसी में नही,आपने अच्छा निर्णय लिया,.
    बहुत बढ़िया,अच्छी प्रस्तुति,.....

    MY NEW POST...काव्यान्जलि...आज के नेता...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके आनन्द में हम सहभागी हैं..

      Delete
  52. I loved SEPO's comment!
    Actually that would be a brilliant tweet!
    GV

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने, बहुत ही सटीक ढंग से कहा गया सारांश..

      Delete
  53. आपने मेरे मन की ही बात लिख दी,जो मैं हिम्मत नहीं जुटा पाया।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप तो हर जगह विद्यमान रहते हैं, समय का सदुपयोग करना तो आप से ही सीख रहा हूँ..

      Delete
  54. जिन लोगों के पास काफी वक़्त है..वही ज्यादा सक्रिय हो सकते हैं फेसबुक पर. क्रिएटिव अर्ज की संतुष्टि तो वहाँ नहीं ही मिलती.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने, यदि हाथ में पर्याप्त समय हो तभी उस ओर रुख करना चाहिये..

      Delete
  55. आपका सा हाल है।
    कभी फेसबुक पर दिन में कई घंटे बीत जाते थे। रात में तो नौ बजे के आसपास फेसबुक आन होता था तो दौर देर रात के तीन बजे या इससे अधिक समय तक चलता था पर अब इसे महज अपने लोगों का हालचाल जानने के लिए उपयोग कर रहा हूं। कम्‍प्‍यूटर में दिगर कामों के दौरान कुछ देर(बमुश्किल दस-पंद्रह मिनट) फेसबुक को देखा बस।
    लगता है ये भी बंद कर दूं। देखते हैं आगे क्‍या होता है....।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब समय आपके हाथों में ही न रहे तो एक बार तो सोचना बनता है...साहित्य पढ़ने और लिखने के लिये भी तो समय चाहिये।

      Delete
  56. फेसबुक पर विचारधारा विशेष के लिए समर्पित लोगो का समूह ढूंढ़ पाना मुश्किल है मगर आसानी से संपर्क को तलाशने की संभावनाएं फेसबुक पर ज्यादा हैं..
    खैर...शहद जीने का मिला करता है थोडा थोडा,जाने वालों के लिए दिल नहीं थोडा करते..
    फेसबुक नहीं ब्लाग तो अपना सदाबहार है..

    ReplyDelete
    Replies
    1. थोड़ी भीड़ लगती है फेसबुक पर, ब्लॉग पर आपकी पहचान बनी रहती है..

      Delete
  57. मेरे पास वक़्त की ही कमी है अब... ले दे कर... तीन चार ब्लोग्स पर ही जाना हो पाता है कभी कभी ... और एक दो अच्छे लोगो को अपना अगर कुछ लिखा तो लिंक मेल कर देता हूँ... बस इतना ही... रहा फेसबुक तो सुबह दस मिनट ही दे पाता हूँ... और शाम को दस/पन्द्रह मिनट ..

    ब्लॉग और फेसबुक पर वाकई में टाइम वेस्टेज ही लगता है अब .. लेकिन लिखने से बहुत कुछ निकल जाता है.. रही बात अभिव्यक्ति की ... तो मैं थोड़े शब्दों में सिर्फ पलकें ही झपका पाता हूँ... साहित्य या और कुछ अभिव्यक्त करने के लिए ... मुझे लम्बा एक्सप्रेशन ही अच्छा लगता है.... अब तो मुझे भी संबंधों की संख्या से कहीं अधिक, उनकी गुणवत्ता पर विश्वास होने लग गया है... क्यूंकि अब मैंने भी इन्सान की परख करना सीख लिया है..

    कुल मिला कर ... जिस्ट यह है कि मैं कहना बहुत कुछ चाहता हूँ... लेकिन फ़िर मेरे पास वक़्त की कमी है... और कमेन्ट के रूप में पोस्ट लिखने की इच्छा नहीं... हाँ! यह है कि आप उन लोगों में से हैं.. जिनकी पोस्ट मैं वर्ड टू वर्ड पढ़ता हूँ... उन लोगों में से भी नहीं ... सिर्फ आप ही हैं जिसकी पोस्ट मैं जब भी पढ़ता हूँ तो वर्ड टू वर्ड पढ़ता हूँ.

    फिलहाल गुड नाईट... गौट टू गो... हैव टू गो जिम अरली इन द मोर्निंग... सो... हैव अ स्वीट ड्रीम्ज़...

    ReplyDelete
    Replies
    1. टाइम की इतनी कमी... और इत्ता लंबा कमेन्ट... :)
      सही है ....अभिव्यक्ति अपना रास्ता खोज ही लेती है

      Delete
    2. सुबह उठ कर जिम जाने के लिये तो फेसबुक है ही नहीं क्योंकि फेसबुक के दीवाने मुँह धोने के पहले अपना स्टेटस टटोलते हैं, साइबर आकाश में...आप शब्दशः पढ़ेगें तो हमें और सजग होकर लिखना पड़ेगा..

      Delete
    3. पद्म तुम... यहाँ भी बाज़ नहीं आओगे.... इसका एहसास मुझे वाकई में नहीं.... था..



      :)

      Delete
    4. पद्म तुम... यहाँ भी बाज़ नहीं आओगे.... इसका एहसास मुझे वाकई में नहीं.... था..

      Delete
  58. बाबा रे इतनी सारी टिप्पणियाँ अब मेरे कहने के लिए तो कुछ शेष रहा ही नहीं :) बरहाल आपकी लिखी बातों से सहमत हूँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  59. Deleted Orkut recently, now you are saying FB..n Twitter..One day.......

    Just kidding ..FB n Twitter made us very ugly on deep relation front..

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग व ईमेल ही इण्टरनेटीय उपस्थिति बनाये हुये हैं मेरे लिये..

      Delete
  60. पोस्ट पढ़ना और फिर इत्ते सारे कमेन्ट पढ़ते पढ़ते फेसबुक की दस पंद्रह अपडेट मिस हो गईं :p

    मै ये तो नहीं कहूँगा आपने बहुत अच्छा किया... क्योंकि अपनों से किसी भी मोड़ पर बिछड़ना किसे अच्छा लगेगा। मुझे लगता है साहित्यिक गरिष्ठता और छाव छोप से इतर समाज के वास्तविक चेहरे पर नज़र रखने के लिए फेसबुक पर जाना बुरा नहीं है। पर अति सर्वत्र वर्जयेत की सूक्ति यहाँ भी काम करती है।
    दिन भर चिपक के बैठे वेवजह बिना तुक
    तौबा ऐ फेसबुक मेरी तौबा ऐ फेसबुक

    दिन भर लिखे दीवार पे गन्दा किया करे
    अलसाये पड़े काम न धंधा किया करे
    अपनी अमोल आँखों को अंधा किया करे
    प्रोफ़ाइलें निहारीं किसी की किसी का लुक
    तौबा ऐ फेसबुक मेरी तौबा ऐ फेसबुक

    हर ग्रुप किसी विचार का धड़ा खड़ा करे
    रगड़ा खड़ा करे कभी झगड़ा खड़ा करे
    मुद्दा कोई हल्का कोई तगड़ा खड़ा करे
    कुछ हल न मिला ज्ञान की मुर्गी हुई कुडु़क
    तौबा ऐ फेसबुक मेरी तौबा ऐ फेसबुक

    किस बात को बिछाएं क्या बात तह करें
    कितना विचार लाएं कितनी जिरह करें
    किस बात को किस बात से कैसे जिबह करें
    तब तक मगज निचोड़ा जब तक न गया चुक
    तौबा ऐ फेसबुक मेरी तौबा ऐ फेसबुक

    स्क्रीन पे नज़रें गड़ाए जागते रहे
    छोड़ी पढाई और ज्ञान बाँटते रहे
    पुचकारते रहे किसी को डाँटते रहे
    जब इम्तहान आया दिल बोल उठा ‘धुक’
    तौबा ऐ फेसबुक मेरी तौबा ऐ फेसबुक

    लाइक करूँ कि टैग करूँ या शेयर करूँ
    चैटिंग से किसी की भला कितनी केयर करूं
    जब तक दिमाग की चली मै भागता रहा
    अब दिल ये कह रहा है बहुत भाग लिया रुक
    तौबा ऐ फेसबुक मेरी तौबा ऐ फेसबुक
    ……पद्म सिंह

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी कविता तो फेसबुक को बहुत अधिक झन्नाटा देने वाली है, सच में हाल यही हो जाता है, औरों पर नज़र रखते रखते नजरबन्द हो जाते हैं इसी में..

      Delete
  61. Replies
    1. आप भी मन्द मन्द मुस्करा रहें हैं,
      पर मुस्कराने का मंतव्य नहीं बता रहे हैं।

      Delete
    2. औषधि की निश्चित मात्रा जीवन दायिनी होती है, किन्तु अनिश्चित बाहुल्य मृत्युदाता हो सकता. अब इच्छा अपनी है कि कितनी मात्रा ली जाए...☺

      Delete
    3. औषधि की निश्चित मात्रा जीवन दायिनी होती है, किन्तु अनिश्चित बाहुल्य मृत्युदाता हो सकता. अब इच्छा अपनी है कि कितनी मात्रा ली जाए...☺

      Delete
    4. हमें क्या ज्ञात था कि औषधि में नशा है, लेते ही नित चढ़ने लगता है।

      Delete
  62. फेसबुक ने संपर्क का दायरा अवश्य बढ़ाया लेकिन साहित्य सृजन, पठन पाठन का सार्थक माध्यम सचमुच ब्लॉग ही महसूस होता है..
    सादर..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपसे पूर्णतया सहमत..

      Delete
  63. हिन्दी ब्लागों की संक्रांति दशा शुरू हो चुकी है यह देखकर तो यही दहशत है कि यह रहे या न रहे फेसबुक बना रहेगा.
    आत्म श्लाघा तो ब्लॉग पर भी है -यहाँ भी आत्म प्रमोचन खूब चलता रहा है और अभी भी गुह्य ,प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष जारी है,फेसबुक जितना यूजर फ्रेंडली बनता जा रहा है ब्लॉग नहीं हैं ...आप फेसबुक पर दनादन जो चाहें कर सकते हैं अगर आप डिजिटली गंवार भी हैं तब भी ....जबकि ब्लॉग के लिए कुछ डिजटल साक्षरता अवश्य चाहिए! मुझे लगता है आपको अपने निर्णय पर पुनर्विचार करना चाहिए! रही बात गन्दगी की तो वह हमारे समाज का ही हिस्सा है और हर जगहं है ...यह आप पर है कि उससे कैसे निपटते हैं ..... शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
    Replies
    1. facebook se kahi jyada sashakt madhyam saahity ke liye blog hi hai....facebook ki lokpriyta students ke bich jyada hai....mai vidya ji se sahmat hu ki apne is nashe se mukti lekar wakai me sahsik kaary kiya hai....upyogi post...abhar...

      Delete
    2. संक्रांति है, पर ब्लॉग का सूर्य अब उत्तरायण को है। दोष तो बने रहेंगे पर साहित्य का विस्तार ब्लॉग में पूर्ण संभावित है। जब प्रचुर उत्कण्ठा होगी तभी पुनर्विचार किया जायेगा।

      Delete
  64. आप फेस बुक की बात कर रहे हैं? मुझे तो मेरे गुरु श्री रवि रतलामी ने ब्‍लॉग जगत में प्रवेश करने से पहले ही हिदायत दी थी कि मैं ब्‍लॉग को अपने लिए प्रयुक्‍त करूँ, खुद को ब्‍लॉग के लिए नहीं छोड दूँ वर्ना सचमुच में 'बैरागी' बन जाऊँगा। वही कर रहा हूँ।

    चीजें तभी तक अच्‍छी हैं जब तक कि वे हमारे लिए हैं। जिस दिन हम चीजों के लिए हो गए, उस दिन से ही बण्‍टाढार समझिए।

    मैं फेस बुक पर हूँ और बना रहूँगा। मुझे इससे व्‍यावसायिक लाभ मिल रहा है। या कहिए कि यह मेरे लिए बीमा व्‍यवसाय प्राप्‍त करने का औजार है। जिस दिन यह 'स्‍वार्थ' समाप्‍त होगा उसी दिन (दिन नहीं 'क्षण') से फेस बुक को नमस्‍कार।

    रही ब्‍लॉग की बात? उसका क्‍या कहना! उसका आनन्‍द तो वर्णनातीत है। कोई मुझ पर एक कृपा करे - बताऍं कि अधिकाधिक ब्‍लॉग कैसे पढे जा सकते हैं। अभी वे ही ब्‍लॉग पढ पा रहा हूँ जो मुझे ई-मेल से मिल रहे हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. चीजें तभी तक अच्‍छी हैं जब तक कि वे हमारे लिए हैं।

      सामाजिकता का मर्म बस यही है।

      Delete
  65. कुछ हद तक आपकी बातों से मैं भी सहमत हूं लेकिन इन सोशल नेटवर्किंग साइट्स के माध्यम से बहुत लोगों से सालों बाद संपर्क हुआ, इसमें उनका योगदान हम भूल नहीं सकते। बाकी लत तो किसी भी चीज की बुरी होती है..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सम्पर्क और साहित्य को अलग अलग रख कर देखना होगा। सामाजिकता के लिये एक सशक्त माध्यम होने के बाद भी साहित्य की न्यूनतम ईकाई नहीं है फेसबुक।

      Delete
  66. अंकल जी, मुझे भी ब्लॉग पर ज्यादा मजा आता है. मेरा फेसबुक अकाउंट तो कई बार महीनों तक नहीं खुलता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके ब्लॉग में हम कितना कुछ जान लेते हैं, फेसबुक में कहाँ पता लग पाता है?

      Delete
  67. Maine to isi liye Facebook pe khata hi nahi khola ... Tweeter par Hun par istemal nahi karta ... Blog hi Bahut hai gam bhulaane ko ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम भी आपकी अभिव्यक्ति की प्रतीक्षा में रहते हैं, ब्लॉग पर।

      Delete
  68. ये लिजीये, डेढ़ सैकड़ा के आसपास टिप्पणीयाँ ,फिर भी ब्लागींग सक्रमण के दौर मे कैसे ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. फेसबुक से अधिक चर्चा हो रही है ब्लॉग में, वह भी फेसबुक के बारे में।

      Delete
  69. यह एक नेक कार्य किया है प्रवीण जी क्योंकि आपकी जरूरत अलग है. फेसबुक एक नयी शुरुआत थी और युवाओं में अभी भी बहुत प्रेम है इसके प्रति. सामाजिकता के लिये अभी भी यह एक सशक्त माध्यम है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने, साहित्य के हेतु संभवतः फेसबुक मेरी आवश्यकता नहीं थी।

      Delete
  70. FACEBOOK PAR STATUS UPDATE KARNE ME SIRF AUR SIRF MANORANJAN HAI AUR TIME PASS BHI
    JABKI
    BLOG LIKHANA KHOPARIBHANJAN HAI AUR USE PADHNA INFOTAINMENT HAI.....
    "MUNDE MUNDE MATI BHINNA...."

    ReplyDelete
    Replies
    1. फेसबुक का प्रारूप बड़ा हल्का फुल्का है, साहित्य के गाम्भीर्य के समेटने में अक्षम।

      Delete
  71. आपके ब्लॉग लेखन से बहुत अच्छी जानकारियाँ मिलती हैं.
    फेस बुक में वह बात कहाँ.वैसे मुझे बहुत कम जानकारी है
    फेस बुक की.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग की एक पोस्ट में एक विषय समेटा जा सकता है, पर फेसबुक या ट्विटर में वह धैर्य ही नहीं जो इतने को भी सम्हाल सके।

      Delete
  72. आपने तो जैसे मेरे मन की बात कह दी। मैं भी हूं फेसबुक पर । पर बस पन्‍द्रह दिन में एकाध बार खोल लेता हूं। सचमुच बहुत समय खाऊ है। फेसबुक में फेथ नहीं बन पा रहा है,वह फेकबुक ज्‍यादा लगता है। अपनी भी सब को यही सलाह है कि इससे बचकर ही रहें तो बेहतर है। आप निकल आए इसके फंदे से,मुबारक हो।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुतों के लगभग आप जैसे ही भाव हैं फेसबुक के बारे में, शीघ्र निकल लेना ही ठीक है।

      Delete
  73. मेरा फेसबुक से लेना देना बहुत पुराना रहा है ...और एक बहुत बड़ा संसार है वहाँ ... मेरे साहित्यिक मित्रों का वह काफी बड़ा जमावड़ा है ..जो साहित्यिक गतिविधियों पर ही कार्य करते है .. मतलब साहित्य और रचनाएं , आलोचना समीक्षा, मिलन समारोह, सम्मान समारोह, प्रकाशित पुस्तकों का प्रचार आदि आदि .. बहुत कुछ जानने और समझने को मिलता है| मित्रों की मंडलियां भी हैं ... पूरे रिश्ते जिन्हें हमने दूरियों की वजह से नहीं जाना वह भी मिल गए ..पुराने खोये साथी भी मिले.... लेकिन सच तो यह है कि फेसबुक जैसे समय को खा जाने वाला कोई यंत्र हो .. और वहाँ कुछ लोग बहुत नकली प्रोफाइल वाले होते है .. पारखी नजर की जरूरत होती है .. और नेटवर्किंग में तो कुछ पता नहीं ..अच्छे अच्छे शब्दों को लिखने वाले लोग वाकई में अच्छे भी होते है या सिर्फ एक दिखावा ... मेरा मोह भंग हो गया फेसबुक से ..आपकी तरह :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सामाजिकता और साहित्य का गडमगड्ड हो जाता है, फेसबुक में। मेरा तो कभी मोह हो ही महीं पाया इससे।

      Delete
  74. वैसे अपने फ़ेस को भी क्या देखना...........यह सब आभासी दुनिया है...व्यर्थ ही.... बस ब्लोग ही अपना स्वयं की रचना है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके ब्लॉग की सृजनधर्मिता अनुकरणीय है।

      Delete
  75. अच्छा किया..हमने तो ये रोग पाला ही नहीं..
    prevention is better than cure..
    :-)
    regards.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छा किया, आपका ढेरों समय बचा रहा।

      Delete
  76. आप महान हैं!!!!हमें तो पहले ऑरकुट ने बर्बाद कर दिया और अब फेसबुक बर्बाद कर रहा है!! :P

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप तो बहुत चर्चित हैं, लोग आपकी प्रतीक्षा में रहते हैं फेसबुक में।

      Delete
  77. ब्लॉगिंग, फ़ेसबुक और ट्विटर पर हमारे विचार इधर हैं जी!
    http://hindini.com/fursatiya/archives/2460

    ReplyDelete
    Replies
    1. aapne facebook chor diya jaankar dukh hua.....par aapke tark apni jagah sahi hai sir....aur me janti hu un logo ko bhi bahut dukh hua hoga jo aapki frndlist me the

      Delete
    2. आपके विचारों ने सदा ही प्रभावित किया है, विषय की गहरी विवेचना की है आपने।

      Delete
    3. कनुजी, मित्रों से सम्पर्क नहीं छोड़ा है, बस माध्यम छोड़ा है।

      Delete
  78. फेसबुक और ट्विट्टर पर दोनों में अकाऊंट बनाये हैं किन्तु कभी कभार ही नजर डालते हैं . यहाँ भ्रमण करने से दो बातें सामने आती हैं १ ब्लॉग पर साहित्यिक के अलावा सामाजिक, राजनैतिक , आदि विभिन्न पहलुओं पर विश्लेषण मिलता रहता है समय देने की आवश्यकता है २. फेसबुक और ट्विट्टर पर ९० % लोग सिर्फ समय का दुरूपयोग एक दूसरे को वेवकूफ बनाने पर लगे हैं दूसरे शब्दों में कहें तो फंटूशबाज़ी करने पर लगे हैं . सीखने के नाम पर = शून्य+ शून्य =शून्य

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके अनुभव व विचारों से पूर्णतया सहमत।

      Delete
  79. Apke tyag ko mai naman karta hu Sir.....Face Book sayad style ban chuka hai.Blog se hame bahut kuch sikhne ko milega.

    ReplyDelete
  80. Apke tyag ko mai naman karta hu...Face Book sayad style ban chuka hai. Blog se hame bahut kuch sikhne ko milega

    ReplyDelete
    Replies
    1. औरों के लिये फेसबुक की उपयोगिता हो सकती है। स्वयं के लिये जो श्रेष्ठ हो, वही स्वीकार हो।

      Delete
  81. teenon men ... sampoorntaa kaa abhaav hai ... kaheen kam, to kaheen jyaadaa ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सम्पूर्णता तो पुस्तक पढ़ने में आती है, पर उसकी पहुँच सीमित और आवृत्ति कम है।

      Delete
  82. आपसे सहमत. हम तो केवल कभी कभार कुछ लिंक्स के कारण चले जाते हैं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब से फेसबुक त्यागा है, बहुत समय मिल रहा है स्वयं के लिये।

      Delete
  83. फेसबुक सामाजिकता संवर्धित कर सकता है, साहित्य नहीं।
    absolutely correct

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  84. निश्चित ही साहित्य की दृष्टि से ब्लॉग भी अभिव्यिक्त के सशक्त माध्यम हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग में कम से कम एक विषय पूरा उठाने का प्रारूप उपस्थित है।

      Delete
  85. "पाठक ढूढ़ने का श्रम लेखक को करना होता है, उसी तरह अच्छे लेखक को ढूढ़ने का श्रम पाठक को भी करना पड़ता है। माध्यमों की अधिकता ध्यान बाटती है, अभिव्यक्ति का कूड़ा एकत्र करती है। छोटी चीजें से कुछ बड़ा बन पाने में संशय है, रेत से पिरामिड नहीं बनते, उनके लिये बड़े पत्थरों की आवश्यकता होती है। महाग्रन्थों का युग नहीं रहा पर कम से कम ब्लॉग की ईकाई से सबका योगदान बनाये रखा जा सकता है। साहित्य संवर्धन तो तभी होगा, जब अधिक लोग लिखें, अधिक लोग पढ़ें, लोग अच्छा लिखें, लोग अच्छा पढ़ें, अधिक समय तक रुचि बनी रहे, जब समय मिले तब साहित्य ही पढ़ें, बस में, ट्रेन में, हर जगह। फेसबुक सामाजिकता संवर्धित कर सकता है, साहित्य नहीं।"
    Lekin samaaj mein parivertan ki samvahan dhaaraayein Sahitya se aati hain.

    ReplyDelete
  86. "पाठक ढूढ़ने का श्रम लेखक को करना होता है, उसी तरह अच्छे लेखक को ढूढ़ने का श्रम पाठक को भी करना पड़ता है। माध्यमों की अधिकता ध्यान बाटती है, अभिव्यक्ति का कूड़ा एकत्र करती है। छोटी चीजें से कुछ बड़ा बन पाने में संशय है, रेत से पिरामिड नहीं बनते, उनके लिये बड़े पत्थरों की आवश्यकता होती है। महाग्रन्थों का युग नहीं रहा पर कम से कम ब्लॉग की ईकाई से सबका योगदान बनाये रखा जा सकता है। साहित्य संवर्धन तो तभी होगा, जब अधिक लोग लिखें, अधिक लोग पढ़ें, लोग अच्छा लिखें, लोग अच्छा पढ़ें, अधिक समय तक रुचि बनी रहे, जब समय मिले तब साहित्य ही पढ़ें, बस में, ट्रेन में, हर जगह। फेसबुक सामाजिकता संवर्धित कर सकता है, साहित्य नहीं।"
    lekin samaaj mein parivertan ki samvahan dhaaraayein sahitya hi paidaa karta hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छा साहित्य जनमानस को प्रभावित करता है, सोचने को उद्वेलित करता है।

      Delete
  87. फेसबुक सामाजिकता तो निर्मित करती है किन्तु ज्यादा से ज्यादा ओपचारिकता का निर्माण करती है. शुरुआत कुछ समय से होती है फिर आदत बन जाती है. धीरे धीरे एक मानसिक रोग बन जाता है, फिर भी संपर्क खड़ा करने का अच्छा साधन है. आज कि व्यस्तता में आप अपने मित्रों, परचितों से रोज रोज तो छोडिये महीनो नहीं मिल पाते किन्तु फेस बुक से संबंधो-संपर्को कि निरंतरता बनी रहती है यानी 'उसी से ठंडा उसी से गर्म' तो फेसबुक बुरी नहीं है आदत बुरी है. जहाँ तक साहित्य का प्रश्न है इसके लिए एक अलग मंच बनना चाहिए जो सभी ब्लाग्स को आपस में उसी तरह जोड़ दे जैसे फेसबुक अथवा ट्विटर है. इस प्रकार के व्यक्तिगत ब्लोग्स के इंटरनेट के महासमुद्र में ढूढना भुस के ढेर में सुई ढूढने जैसा है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा साहित्य की ईकाई तो ब्लॉग है, उन्हें जोड़ने का माध्यम ढूढ़ना पड़ेगा

      Delete