25.2.12

परीक्षा

परीक्षा श्रेष्ठता सिद्ध करने की विधि है, श्रेष्ठ होने की अनिवार्यता नहीं है। यह दर्शन का वाक्य नहीं, हम सबके दैनिक अनुभव की विषयवस्तु है। उदाहरणों की बहुतायत है, जो जीवन में श्रेष्ठ रहे और जो परीक्षा में श्रेष्ठ घोषित किये गये, उनके बीच कभी किसी प्रकार का तार्किक संबंध रहा ही नहीं है। कारण दो ही हो सकते हैं, या तो जिस पाठ्यक्रम पर परीक्षा होती है, वह बड़ा छिछला है, या तो परीक्षा की विधि में दोष है। तुरन्त ही निष्कर्ष पर पहुँच कर कुछ असिद्ध करने की व्यग्रता में नहीं हूँ, क्योंकि स्वयं भी परीक्षा की पद्धति का प्रतिफल हूँ।

क्या परीक्षा आवश्यक है? हाँ और नहीं भी। जब संसाधनों की माँग अधिक हो और आपूर्ति कम तो वह संसाधन किसे मिले, उसके लिये प्रतियोगिता होती है। प्रतियोगिता बहुधा धन की होती है, जिसके पास अधिक धन, उसके पास अधिक संसाधन। इसी प्रकार जब किसी नौकरी के लिये अधिक लोग आवेदन करते हैं तो सुयोग्य पात्र का निर्धारण करने के लिये भी प्रतियोगिता होती है, जो धन के स्थान पर ज्ञान पर आधारित होती है। यही प्रतियोगिता परीक्षा का उद्गम बिन्दु है। यह एक अलग विषय है कि परीक्षा में परखे गये ज्ञान में और नौकरी में काम आने वाले ज्ञान में जमीन आसमान का अन्तर होता है। जब संसाधन अधिकता में होते हैं, तब प्रतियोगिता होती ही नहीं है, परीक्षा की कोई आवश्यकता नहीं।

निर्धन समाज में संसाधन कम होते हैं, उनके लिये प्रतियोगिता अधिक होती है, परीक्षा एक के बाद आती रहती है, संघर्ष में बीतता है जीवन। हर छोटी छोटी चीज के लिये जूझना जब नियति हो, तब परीक्षा जीवन का अनिवार्य अंग बन कर हम सबसे चिपक जाता है। अरब के देशों के लिये परीक्षा का कोई महत्व नहीं, पश्चिमी धनाड्य देशों में भी परीक्षा होती हैं पर उनका स्वरूप इतना संघर्षमय तो नहीं ही रहता होगा जैसा अपने देश में है।

यह मानसिकता बहुत गहरे उतरी है, हमारी शिक्षा पद्धति में। यदि हम कल्पना करें कि विद्यालय में कोई परीक्षा न हो, सबको उत्तीर्ण कर दिया जाये, सबको अपने योग्य नौकरी चुनने का अधिकार हो, कोई प्रतियोगिता नहीं, सब अपना जीवन जियें, अपनी रुचि के अनुसार, आनन्द में। बहुत लोग यह बात पचा नहीं पायेंगे। मान मिले न मिले पर यह स्वप्न रह रह कर आता ही रहेगा, क्योंकि यही मेरे लिये किसी सभ्य और सुसंस्कृत समाज की आदर्श स्थिति है। आप कह सकते हैं कि यदि प्रतियोगिता नहीं रहेगी तो लोग पढ़ेगे नहीं, विज्ञान, साहित्य, तकनीकी आदि विकसित ही नहीं होंगी, हम असभ्य के असभ्य रह जायेंगे। आपके इस तर्क से मैं तुरन्त सहमत हो जाऊँगा, पर पाठ्यक्रम और परीक्षा की विधि का विश्लेषण करने के बाद।

हमारी ७० प्रतिशत बौद्धिक क्षमता समाज से प्राप्त अनौपचारिक शिक्षा से विकसित होती है, शेष ३० प्रतिशत औपचारिक शिक्षा में भी दो तिहाई क्षमता हमारी जिज्ञासा से आती है। मात्र १० प्रतिशत क्षमता नियमित अध्यापन से आती है। इसी १० प्रतिशत को विकसित करने के लिये हमारी शिक्षा पद्धति कटिबद्ध है। पूरी पठनीय सामग्री को एक वर्षीय १०-१२ पाठ्यक्रमों में बाटना, हर वर्ष परीक्षा, सब विषयों का प्रारम्भिक ज्ञान, हर बार कुछ और नया। जितना पढ़ना पड़ता है उसका केवल १० प्रतिशत ही स्मृति में रह पाता है, स्मृति में उपस्थित आधा ज्ञान ही किसी काम का होता है। कुल मिला कर जितना ज्ञान आवश्यक है उसका २० गुना हमें हजम करना पड़ता है औपचारिक शिक्षा के माध्यम से। हर पीढियों में यह मात्रा बढ़ती जाती है, क्योंकि हर विषय के पुरोधा अपने विषय के प्रति छात्रों को आकर्षित करने के लिये विषय से संबंधित तकनीकियाँ और विशिष्ट ज्ञान पाठ्यक्रम में ठूस देना चाहते हैं। गणित के जो सवाल हम कक्षा १२ में करते थे, उसे कक्षा ९ में देखकर हमारे होश उड़ गये। आने वाले समय में आवश्यक औपचारिक ज्ञान से ३० गुना बच्चे को घोटना पड़े, और वह भी मात्र १० प्रतिशत कुल बौद्धिक क्षमता विकसित करने के लिये, तो कोई आश्चर्य नहीं है, अपने बच्चों को सुपरमैन की उपाधि देना तब आपके लिये अधिक सरल होगा।

जब पाठ्यक्रम की मात्रा अधिक होगी, तो परीक्षा का भार भी उतना ही होगा। अब आयें परीक्षा की विधि पर। क्या परीक्षा यह निश्चित कर पाती है कि सब पाठ्यक्रम पढ़ डाला गया है और ढंग से समझ में आ गया है? क्या परीक्षा के प्रश्नपत्र का प्रारूप यह जानने के लिये होता है कि आपको क्या आता है या क्या नहीं आता है? परीक्षा हो जाने के बाद कितना रह पाता है दिमाग में? इन तीनों प्रश्नों का उत्तर ढूढ़ने में हमें वे राहें मिल जायेंगी, जिन पर हम अपनी आने वाली पीढ़ियों को चलते देखना चाहते हैं। अपने शैक्षणिक जीवन में परीक्षा की कई विधियों से साक्षात्कार हुआ, जिसके विषय में एक अलग पोस्ट में लिखूँगा। कोई तो कारण होगा कि परीक्षा का नाम सुन जितना पसीना और कँपकपी लोगों को आती है, उतना जून की गर्मी व दिसम्बर की सर्दी में भी नहीं आती होगी।

यदि प्रतियोगी परीक्षाओं को भी देखें तो उनमें नियत ज्ञान का स्तर, उस नौकरी में वांछित ज्ञान के स्तर से बहुत अधिक होता है। रेलवे में परास्नातकों को पत्थर ढोते हुये देखता हूँ तो देश के भविष्य के बारे कुछ बोल पाना कठिन सा लगने लगता है। हर क्षेत्र में यही स्थिति है, पढ़े अधिक हैं पर उनका महत्व नहीं है। संभवतः परीक्षा पद्धति को सही स्वरूप में देख पाना और उसे ज्ञान और उपयोगिता के अनुसार प्रयोग में ला पाना हमारे भविष्य को तय करेगा।

परीक्षा पद्धति हमारी शिक्षा व्यवस्था के लिये परीक्षा की घड़ी है।

124 comments:

  1. 25/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    परीक्षा पद्धति हमारी शिक्षा व्यवस्था के लिये परीक्षा की घड़ी है।
    आज के हालत में एक revolution की ज़रुरत है ...सार्थक आलेख ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. परीक्षा श्रेष्ठ को चुने और श्रेष्ठ बनने में सहायक हो, अब इतनी ही आशा है परीक्षा पद्धति से।

      Delete
  2. परिक्षा पद्धति पर अच्छा लिखा है |सच् बयां करता लेख |
    आशा

    ReplyDelete
    Replies
    1. परीक्षा सबके अनुभव का विषय रहा है और सबका अनुभव लगभग यही रहा है।

      Delete
  3. परीक्षा में सफलता, बेहतर करने के लिए परीक्षा नामक खेल के नियम का पालन जरूरी होता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. खेल ही करना हो तो रोचक तो किया जा सकता है, कई अध्यापक यह प्रयास करते रहते हैं।

      Delete
  4. आज 'परीक्षा' के बजाय इसकी पद्धति पर प्रश्नचिह्न ज़्यादा हैं.किसी के भी ज्ञान को किसी एक माध्यम से जान पाना कभी संभव नहीं हो सक्ता.यह भी उतना ही सत्य है कि विद्यालयी-परीक्षा ,जिसमें एक निश्चित दायरा होता है और प्रतियोगिता-परीक्षा में फर्क होता है.
    यह बात भी कई बार देखी गई है कि ऐसी परीक्षाओं से पास हुए लोग उनसे कमतर क्षमतावान होते हैं जो इनमें तकनीकी-रूप से उत्तीर्ण नहीं हो पाते !

    ..फिर भी परीक्षाओं की अनिवार्यता बनी रहेगी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. यदि अनिवार्यता बनी रहनी है, तो कम से कम विधि में सुधार ही हो जाये।

      Delete
  5. ...स्मृति में उपस्थित आधा ज्ञान ही किसी काम का होता है। कुल मिला कर जितना ज्ञान आवश्यक है उसका २० गुना हमें हजम करना पड़ता है|

    इससे सहमत होना बहुत मुश्किल है।
    संभवतः आप जिस ज्ञान की चर्चा कर रहे हैं वह दैनिक जीवन या नौकरी को चलाने के लिए आवश्यक तकनीकी और व्यावहारिक जानकारी से संबंधित है। ऐसा ज्ञान जो किसी अन्य उद्देश्य की प्राप्ति का साधन मात्र है।

    मेरा मानना है कि ज्ञान अपनेआप में एक साध्य भी है। व्यक्तित्व का एक आभूषण है। जरूरी नहीं कि इसका प्रयोग कुछ पाने के लिए किया ही जाय। इसकी प्राप्ति स्वयं एक उपलब्धि है। इस भौतिक संसार में ऐसा बहुत कुछ है जिसके बारे में जान भर लेना बहुत सुख देता है। ज्ञान का सागर अनंत है असंख्य रत्नों से भरा हुआ। चाहे जितनी डुबकी लगाइए इससे पार नहीं पा सकते। अपनी क्षमता भर मोती इकठ्ठा कर लीजिए और प्रसन्न रहिए।

    फाँसी पर चढ़ने से ठीक पहले किताब पूरी कर लेने की भगत सिंह की ललक क्या संदेश देती है?

    जैसे नियमित व्यायाम से शरीर स्वस्थ रहता है उसी प्रकार कठिन प्रश्न हल करने से दिमाग की कसरत होती है। इस कसरत से जब दिमाग मजबूत हो जाता है तो वह नयी चुनौतियों का सामना आसानी से करता है। जिसका दिमाग जितना अधिक कसरत करेगा वह उतना ही अधिक मजबूत होगा और उसे उतनी ही बड़ी जिम्मेदारी (नौकरी) मिलेगी और उसी अनुपात में वेतन और सुविधाएँ। स्कूली पाठ्यक्रम तो इस कसरत की बानगी भर हैं जो शायद जरूरी भी हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पाठ्यक्रम में जितना पढ़ाया जाता है उसका १/२० हिस्सा भी हमारे काम आ पाता है, यह उनके लिये जिन्हें मानसिक कसरत करते रहने का अभ्यास है। बहुतों के लिये औपचारिक शिक्षा का लाभ केवल पढ़ लेने या गुणा भाग करने में आता है पर उसके लिये १२ वर्षों का सश्रम अभ्यास!
      स्वध्याय तो निश्चय ही अत्यन्त महत्वपूर्ण है।

      Delete
  6. परीक्षाएं तो सभी लेते हैं, उसे पास-फेल, सफल-असफल तो सभी ठहराते ......... पर शिक्षा की, शिक्षा की व्यवस्था की परीक्षा कौन लेता है, शिक्षा व्यवस्था की सफलता-असफलता की जांच-परख कौन करता है, शिक्षा व्यवस्था के गुण-दोषों का निर्णय कौन लेता है?

    ReplyDelete
    Replies
    1. संभवतः अब इसका समय आ गया है कि परीक्षा पद्धति की परीक्षा हो।

      Delete
  7. परीक्षा और परीक्षा पद्धति दोनों पर ही विचार करना आवश्यक है...... कभी लगता है की आवश्यकता से कहीं ज्यादा ज्ञान बटोर लिया जा रहा है और कभी लगता है की पढ़ लिखकर भी कुछ नहीं सीखा, हर तरह के उदहारण मौजूद हैं ......सारगर्भित लेख

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनावश्यक और बहुत अधिक ज्ञान हमारे मस्तिष्कों में ठूँस दिया जाता है, इतना कि सृजनशीलता के लिये स्थान ही नहीं बचता है।

      Delete
  8. Bahut he accha topic hai yeh discussion aur behaas ke liye. Kabhi lgta hai ki exam zaroori hai, performance measurement ke liye and for seriousness towards the education system. But sometimes it just seems to be a heavy burden on poor students.

    ReplyDelete
    Replies
    1. कौन किसके योग्य है, बस इसका सफल निर्धारण कर दे, परीक्षा पद्धति। सबको सब पढ़ा डालना और कुछ काम न आना शिक्षा पद्धति की पहचान बन चुकी है।

      Delete
  9. सबसे बड़ी परीक्षा जीवन की, जो इसमें पास वह सबमें पास. एक अच्छे लेख के लिये धन्यवाद.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अन्ततः जीवन की जीवन्त परीक्षायें ही हमें बड़े बड़े अनुभव दे जाती हैं।

      Delete
  10. मैट्रिक्स और ३-डी त्रिकोणमिति अब शायद इंटरमीडिएट में पढाये जाने लगे हैं जो कभी बीएससी में पढाये जाते थे..

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छा हुआ, पहले ही पढ़ लिया नहीं तो ३० गुना पढ़ना पड़ता।

      Delete
  11. "सबको अपने योग्य नौकरी चुनने का अधिकार हो, कोई प्रतियोगिता नहीं, सब अपना जीवन जियें, अपनी रुचि के अनुसार, आनन्द में। ... मान मिले न मिले पर यह स्वप्न रह रह कर आता ही रहेगा, क्योंकि यही मेरे लिये किसी सभ्य और सुसंस्कृत समाज की आदर्श स्थिति है।"
    यही रामराज्य है !
    परीक्षा पद्धति एक सहज बौद्धिक विकास के मार्ग में एक बड़ी बाधा है ....बहुत से अन्यथा अप्रतिम मेधा के व्यक्ति सारा जीवन पताका क ख ग में बिता डालते हैं ....जीवन के छोटे छोटे सुखों को बटोरने /हलोरने में लगे रहते हैं ..जीवन के सही पुरुषार्थों से वंचित रह एक दिन विदा ले लेते हैं और उससे भी ज्यादा विगलित संकार छोड़ जाते हैं ...आप गौर करेगें तो पायेगें कि विश्व की अप्रतिम मेधायें परीक्षा प्रणाली की देंन नहीं रहीं बल्कि वहां से निस्काषित होकर अपने प्रतिभा का विस्तार पायीं -भारतीय शिक्षा प्रणाली तो और भी दोषपूर्ण है -यह केवल तोता रटन्तों को राजपद देती है ... विचारोत्तेजक !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप गौर करेगें तो पायेगें कि विश्व की अप्रतिम मेधायें परीक्षा प्रणाली की देंन नहीं रहीं...

      पता नहीं यह तथ्य शिक्षाविदों को क्यों नहीं दिखायी पड़ता है?

      Delete
  12. परीक्षा और इन्सान का जीवन एक दूसरे के पूरक है विरोधी नहीं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. तभी तो परीक्षाओं को इन्सान के विकास में और प्रेरक बनाने के लिये, उनकी पद्धति में बदलाव की आवश्यकता है।

      Delete
  13. हमारी शिक्षा पद्धति बहुसंख्या की पक्षपाती है जिसमें समझ पर उतना ज़ोर नहीं है जितना सूचनायें इकट्ठी करने पर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब परीक्षाओं में याद कर के उगलने की बाध्यता हो तो समझ कहाँ से विकसित होगी।

      Delete
  14. आपकी बात से शत प्रति
    शत सहमत।

    ReplyDelete
  15. ज्ञानी होने का भ्रम और सूचना का भंडारण!!
    परीक्षा = एक महीने का रटंत श्रम + बीस संभावित प्रश्नों पर केंद्रित अध्ययन. परिणाम = सफलता.
    शोचनीय!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके परीक्षा-सूत्र परीक्षा पद्धति को असिद्ध करने के लिये पर्याप्त हैं।

      Delete
  16. परीक्षा ज़रूरी है ... पर नम्बर सही आकलन नहीं , वाकई इसकी कई कड़ियाँ गलत हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. तभी तो पाठ्यक्रम और विधि, दोनों में बदलाव आवश्यक है।

      Delete
  17. आपकी बात से पूर्णत: सहमत ... सार्थक व सटीक लिखा है आपने ...आभार ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  18. pariksha ki saflta kisi ke paripakw hone na udaharan nahi,aisa kabhi nahi hota ki jis claas ke exam ko student pass karta hai wo uska gyata ya achchha jankar siddh ho gaya,ye saflta to bus dikhawe ka madle hai jo aapko logo k bich sajaye rakhta hai,practically aap kitne behtar hain ye to bilkul alag si chij hai jo ek unsuccess student me bhi rah sakta hai,sahi sikha jaruri hai aur pariksha...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जीवन में सीखना और ज्ञान प्राप्त करना, दोनों ही परीक्षा में अच्छा करने से तार्किक संबंध महीं रखते हैं।

      Delete
  19. शिक्षा पद्धति पर सार्थक विश्लेषण .... जो कुछ इन संस्थानों मेन सीखते हैं वो कम ही काम आता है जीवन में ... फिर भी जानने और समझने की क्षमता बढ़ती है ... विचारणीय पोस्ट

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुल औपचारिक ज्ञान में दो तिहाई तो जिज्ञासा के ही माध्यम से आता है।

      Delete
  20. परीक्षा पद्धयती में बहुत सुधार अपेक्षित है | मूल रूप से विषय का ज्ञान कितना हुआ और व्यवहारिकता में उस ज्ञान का उपयोग ,ये दोनों ही अनिवार्य रूप से उसमें प्रतिध्वनित होने चाहिए ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. मूल रूप से विषय का ज्ञान कितना हुआ और व्यवहारिकता में उस ज्ञान का उपयोग ,ये दोनों ही अनिवार्य रूप से उसमें प्रतिध्वनित होने चाहिए ....

      बस यही दो मानक हों पाठ्यक्रम और परीक्षा की विधि निर्धारित करने के।

      Delete
  21. EMANDARI SE SABSE BEST CHUNANE KA SABSE BEST MADHYAM PARIKSHA HI HO SAKTA HAI....
    POST GRADUATE YADI RAILWAY ME GANGMAN KA KAM KAR RAHE HAI TO WO PARIKSHA HI HAI JO JARURAT SE JYADA YOGYA KO CHUN RAHA HAI..

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतियोगी परीक्षाओं में आँकी योग्यता, कार्य में प्रयुक्त योग्यता से बहुत अधिक होती है। ऐसे में तो अधिक पढ़ा व्यर्थ ही चला गया।

      Delete
  22. SAMAY AUR SHIKSHAK DONO PARIKSHA LETA HAI...
    SHIKSHAK SAITHANTIK BAAT SIKHAKAR PARIKSHA LETA HAI
    AUR
    SAMAY PARIKSHA LEKAR SAANSARIK BAAT SIKHATA HAI..

    ReplyDelete
  23. "विश्व की अप्रतिम मेधायें परीक्षा प्रणाली की देंन नहीं रहीं" यही सत्य है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस यही तथ्य सदैव इस पद्धति को कचोटता है।

      Delete
  24. सक्सेस नहीं एक्सलेंस के पीछे भागना चाहिए...सक्सेस अपने आप पीछे आएगी...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
    Replies
    1. गुणवत्ता तो तब आयेगी जब रटने से फुरसत मिले..

      Delete
  25. सिलेबस की अधिकता,अनावश्यक ज्ञान और फिर उस ज्ञान का कोई महत्व नहीं..जरुरी है कि शिक्षा पद्धती की परीक्षा की जाये.
    सार्थक विषय पर अच्छा आलेख.

    ReplyDelete
    Replies
    1. तभी तो पूरी पढ़ाई के बाद खच्चर से बोझ को उतार कर खड़े हुये, तब हवा में उड़ने जैसा अनुभव हुआ।

      Delete
  26. परीक्षा श्रेष्ठता सिद्ध नहीं करती है..फिर भी परीक्षा ज़रूरी है...आपने खुद ही सवाल किए और खुद ही उसका जवाब भी दे दिया। अंततः बस यही कहूँगी विचारणीय आलेख

    ReplyDelete
    Replies
    1. परीक्षा हों पर अपने वर्तमान रूप में नहीं...

      Delete
  27. सच् बयां करता लेख |शिक्षा पद्धति पर सार्थक विश्लेषण ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  28. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  29. परीक्षा श्रेष्ठता सिद्ध करने की विधि है, श्रेष्ठ होने की अनिवार्यता नहीं है।
    श्रेष्ठ होने का मानक भी नहीं है .फिर जितना मर्जी पढ़ लो ,माहिर बन जाओ किसी विषय के उसके बाद फिर 'MBA' भी करो .टाइम मेनेजमेंट सीखो .टीम से काम लेना सीखो .क्षमता का अधिकतम दोहन करना सीखो .

    भाई साहब कई दिनों से आपको याद कर रहा हूँ .बेंगलुरु मेरे अज़ीम तर दोश्त रहतें हैं शेखर जेमिनी उनसे मिलने आ रहा हूँ .मार्च २८,२०१२ से अप्रेल १९ ,२०१२ उन्हीं के पास होवूंगा .यहाँ मुंबई से २७ मार्च को उद्यान एक्सप्रेस से निकल रहा हूँ क्षत्रपति शिवाजी मुंबई स्टेशन से प्रात :८:३०पर .

    मेरा दूर ध्वनी :093 50 98 66 85 /0961 902 2914 है .इच्छा रहेगी इस समय अंतराल में कभी आपसे भेंट हो सके आपके अपने अनुकूल समय अंतराल में .अपने अनुकूल स्पेस में .इति आदर एवं नेहा से -वीरुभाई .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके स्वास्थ्य संबंधी सुझावों को समझने की उत्कण्ठा रहेगी।

      Delete
  30. "परीक्षा पद्धति को सही स्वरूप में देख पाना और उसे ज्ञान और उपयोगिता के अनुसार प्रयोग में ला पाना हमारे भविष्य को तय करेगा"
    सार्थक व सटीक आलेख.

    ReplyDelete
    Replies
    1. भविष्य के मुखर स्वागत के लिये प्रतिभाओं का निखारा जाना आवश्यक है।

      Delete
  31. सभी आवश्यक मानकों पर विचार करता हुआ सार्थक आलेख...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  32. बहुत उम्दा लिखा है भैया, इसे पढ़ के आपके घर में हुई वो बातचीत याद आ गयी, जहाँ आप अपने प्रोफ़ेसर के बारे में बता रहे थे, उस बात को भी कभी विस्तार से लिखिए...मैं अपने एक दोस्त को वही बातें कुछ दिन पहले बता रहा था..

    ReplyDelete
    Replies
    1. परीक्षा की प्रचलित विधियों पर भी लिखना शेष है।

      Delete
  33. लेकिन वर्तमान सन्दर्भ में राष्ट्रीय संस्थान जैसे आई.आई.टी, एम.बी.बी.एस जैसी परीक्षाओं में 'आरक्षण' आ जाने के कारण अब ये मुझे श्रेष्ठता का मापदंड नहीं लगता है, बल्कि किसके पास किस जाती का सर्टिफिकेट है, उसका मापदंड लगता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब राजनीति श्रेष्ठता के मानकों को प्रभावित करने लगे तो प्रश्नचिन्ह और भी बड़े हो जाते हैं..

      Delete
  34. मेरे अपने विद्यार्थी जीवन में सबसे अधिक प्रेसर मैंने MCA में झेला है. तीन साल के कोर्स में B.Tech के चार साल और M.Tech के एक साल का पाठ्यक्रम था. नौकरी में आने के बाद भी तीन महीने के ट्रेनिंग में बहुत कुछ सिखाया गया.
    मगर जो कुछ भी सिखा अभी तक उसका सीधा प्रयोग करने का अवसर प्राप्त नहीं हुआ है, और ना ही आगे कोई संभावना दिख रही है. मगर साथ ही ये भी जरूर है की जो भी सिखा उसी में कुछ जरूरी बदलाव लाकर काम चल रहा है और बढ़िया चल रहा है.
    तो कहीं ना कहीं से यह शिक्षा पद्धति जरूरी भी लगता है और कहीं ना कहीं से उसकी आवश्यकता भी नहीं दिखती है. समझ नहीं पा रहा हूँ की क्या सही है और क्या गलत?

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रश्न उठाकर सुलझाव की दिशा में चलने की सोचना ही प्रारम्भ है इस प्रक्रिया का..

      Delete
  35. हर छोटी छोटी चीज के लिये जूझना जब नियति हो, तब परीक्षा जीवन का अनिवार्य अंग बन कर हम सबसे चिपक जाता है। सार्थक व सटीक......आभार ।

    ReplyDelete
  36. हर छोटी छोटी चीज के लिये जूझना जब नियति हो, तब परीक्षा जीवन का अनिवार्य अंग बन कर हम सबसे चिपक जाता है। सार्थक व सटीक......आभार ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. यही कारण है कि बचपन से कुछ भी पाने के लिये परीक्षा को अनिवार्य पाया हमने।

      Delete
  37. सार्थक आलेख...! Really nice.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  38. निश्चित ही इस विश्लेषण की आवश्यक्ता वृहद स्तर पर...बहुत उम्दा आलेख एवं चिंतन.

    ReplyDelete
    Replies
    1. कई अध्यापक अपने एकल प्रयासों में लगे रहते हैं...

      Delete
  39. भाई साहब 'परीक्षा 'का मतलब ही है' पर इच्छा' जिस पर आपका कोई नियंत्रण नहीं होता है .कभी काल करें ताकि आपका संपर्क सूत्र में सेव कर लूं .

    Call at 09350986685/0961 9022 914/02222 1761 43 /C-4,Anuradha ,NOFRA,Colaba,Mumbai,400-005.

    ReplyDelete
    Replies
    1. संभवतः इसीलिये सदा ही भय जगाती है परीक्षा..

      Delete
  40. SAHI SAMAY PR SAHI AUR BEHAD SARTHAK LEKH ....BADHAI PANDEY JI.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  41. बहुत सुंदर प्रस्तुति । Welcome to my New Post.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  42. "परीक्षा श्रेष्ठता सिद्ध करने की विधि है, श्रेष्ठ होने की अनिवार्यता नहीं है।"
    बिलकुल सही कहा आपने ........... परीक्षा एक माध्यम तो हो सकता है अभीष्ट कदापि नहीं...... !रचना पठनीय तो है ही विचारोत्तेजक भी......!

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश श्रेष्ठता परखने की कोई पद्धति निकले...

      Delete
  43. चिंतन - मनन को कार्यान्वित करने की आवश्यकता आन पड़ी है..

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम सब भी उसी पद्धति के परिणाम हैं, अन्य पद्धति के गुण लाभ कौन परखेगा..

      Delete
  44. "परीक्षा श्रेष्ठ को चुने और श्रेष्ठ बनने में सहायक हो, अब इतनी ही आशा है परीक्षा पद्धति से।"आपका यह कथन अति सार्थक व महत्वपूर्ण है। वस्तुतः परीक्षा का गुणवत्तापूर्ण ज्ञानार्जन हेतु होना अनिवार्य है, किंतु हमारी अभाव भरी प्रणालि में प्रतियोगी परीक्षा का उद्देश्य प्रतिभोन्मुखी विकाश करने के बजाय कमोवेस प्रतियोगियों का भीड़ का उन्मूलन ज्यादा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. परीक्षा को स्तर इतना अधिक संभवतः अधिक प्रतियोगियों के कारण होता जा रहा है..

      Delete
  45. बहुत ही उम्दा वैचारिक पोस्ट |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका...

      Delete
  46. योग्यता का परीक्षण तो होना ही चाहिये - शिक्षा की पद्धति और परीक्षा की विधि पर समुचित विचार की आवश्यकता है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. परीक्षा तो होनी ही है, पाठ्यक्रम और विधि पर विचार अवश्य हो..

      Delete
  47. शिक्षा पद्धति का पुनुरुद्धार की नितांत आवश्यकता है

    ReplyDelete
    Replies
    1. अधिकांश विचारशील व्यक्तियों की यही राय है..

      Delete
  48. यह भी है कि शिक्षा लोगों को शिक्षित नहीं कर रही। :-(

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब अंग दोषपूर्ण हो जायें तब निष्कर्ष कहाँ से समुचित हो पायेंगे...

      Delete
  49. सर जी ..आप से सहमत हूँ ! इस भाग दौड़ की दुनिया में परीक्ष में ज्यादातर वही देने की संभावना रहती है , जिसे कम से कम लोग लिख सके ! जो लिखा वही सिकंदर !वास्तव में शिक्षा की परीक्षा नहीं होती है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. ..धीरे धीरे भीड़ कम करने का तरीका बनती जा रही है परीक्षा..

      Delete
  50. मै बच्चों को पढ़ाने में प्रायः एक प्रयोग यह करता था कि किसी विषय अथवा पाठ को पढने -पढ़ाने के बाद उनको यह अवसर देता था कि वे स्वयं कुछ प्रश्न बनाए जो रोचक भी हो और कठिन भी |यह प्रयोग कक्षा १२ तक अत्यंत कारगर रहा | प्रोफेशनल कोर्सेस में भी ऐसे प्रयोग किये जाने चाहिए | अपने अर्जित ज्ञान के सम्बन्ध में ही प्रश्न बनाने से अनेक भेद खुद ब खुद खुल जाते थे | बड़ा सफल प्रयोग रहा ये | निश्चित तौर पर वर्तमान शिक्षा पद्धति में बदलाव की आवश्यकता है | मूल्यांकन का मापदंड केवल उत्तर पुस्तिका नहीं होनी चाहिए | शिक्षक और शिक्षार्थी के बीच भय रहित संवाद और सम्बन्ध होना अत्यंत आवश्यक है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी विधि बहुत कारगर है, अगली पोस्ट पर परीक्षा की विधि पर किये गये प्रयोगों में सम्मिलित करना चाहूँगा..

      Delete
  51. आज ' हिन्दुस्तान ' में आपका यह लेख छपा मिला | आपको बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद, कुछ देर पहले ही ज्ञात हुआ..

      Delete
  52. बहुत गहरा प्रश्न है ... क्या पद्धति होनी चाहिए शिक्षा की ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश कोई हल निकल आये..

      Delete
  53. वाकई एक बेहतरीन सोचनिय लेख!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका..

      Delete
  54. सार्थक दृष्टिकोण से निकले हुए निष्कर्ष!!
    संशोधन की महती आवश्यकता!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. संशोधन की मात्रा देश का भविष्य निश्चय करेगी..

      Delete
  55. हमारी शिक्षा व्यवस्था का बहुत सारगर्भित विश्लेषण..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज की शिक्षा भविष्य का विकास है..

      Delete
  56. SIR..aapki es post ka kuch ansh aaj HINDUSTAAN ke sampadkiy prishth pr padhne ko mila..yakinan es post ke madhyam se aap jo kahana chah rahe hai wah adhik janmans tk pahuncha hoga...saadar

    ReplyDelete
    Replies
    1. हिन्दुस्तान को आभार, परीक्षा अपने अभीष्ट में सफल रहे, व्यर्थ के श्रम को कम करे..

      Delete
  57. वर्तमान शिक्षा पद्धति सिर्फ 'इम्तिहानी लाल 'पैदा कर रही है परीक्षार्थी को सूचना वान,सूचना का वाहक तो बनाती है ज्ञानवान नहीं .गुणी व्यक्ति और साक्षर सूचना (शिरो )मणि में अंतर होता है .कहा भी गया है 'रटंत विद्या फलंत नाहीं '.अच्छा विमर्श चल रहा है .और की गुंजाइश बनी रहगी .

    ReplyDelete
    Replies
    1. परीक्षा देते देते विद्यार्थी पक जाता है....शीर्ष तक जाने के लिये परीक्षाओं की श्रंखला और निष्कर्ष श्रम की तुलना में बहुत कम..

      Delete
  58. आजकल सलेक्शन नहीं एलिमिनेशन का दौर है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. और परीक्षा पद्धति के द्वारा बाहर छोड़ दिये युवाओं की मनोदशा के बारे में ते सोचिये...वे भी जीवित मानुष हैं..

      Delete
  59. आपके साथ हुई बातचीत के बहुत सारे अंश याद हो आये, और परीक्षा तो हमेशा भय साथ लाती है क्योंकि हमारे भारतीय समाज में परीक्षा मानक की कसौटी है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उस चर्चा के रोचक अंश आने अभी शेष हैं..

      Delete
  60. परीक्षा - पराक्रम के परीक्षा की घडी आ गई है . परिवर्तन की अपेक्षा है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. परीक्षा को अपनी उपादेयता सिद्ध करनी है, शिक्षा के उद्देश्यों की दिशा में।

      Delete
  61. वाह प्रवीण जी क्या विषय लिया है और उसका बहुत ही खूबसूरती से उल्लेख किया है धन्यवाद.

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह माह तो वैसे भी परीक्षा का माह है..

      Delete
  62. वर्ष भर की पढाई पर परीक्षा के तीन घण्‍टे भारी पड जाते हैं जबकि जीवन की परीक्षा तो प्रति पल चलती रहती है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. साल भर पर भारी केवल वह ३ घंटे..

      Delete