28.1.12

सुकरात संग, मॉल में

अपने अनुशासन से बुरी तरह पीड़ित हो गया तो आवारगी का लबादा ओढ़ कर निकल भागा। कहाँ जायें, सड़कों पर यातायात बहुत है, एक दशक पहले बंगलुरु की जिन सड़कों पर बिना किसी प्रायोजन के ४-५ किमी टहलना हो जाया करता था, वही सड़कें आज धुँये की बहती धारा अपनी चौड़ाई में समेटे हुये हैं, रही सही कसर वाहनों के कर्कशीय कोलाहल ने व उनके उन्मत्त चालकों ने पूरी कर दी है। सड़कों पर निष्प्रायोजनीय भ्रमण एक रोमांचपूर्ण खेल खेलने जैसा है और उसके बाद सकुशल घर पहुँचना उस दिन की एक विशेष उपलब्धि।

सड़कों पर टहलने का विचार शीघ्र ही छोड़ मॉल में चला गया, न समर्थक के रूप में, न विरोधी के रूप में, बस एक दृष्टा के रूप में, दृष्टि बाहर नहीं, दृष्टि अन्दर भी नहीं, बस कहीं भी और हर जगह, आवारगी और वह भी विशुद्ध अपनी ही तरह की। मॉल को बहुत लोग विलासिता को प्रतीक मानते हैं, मैं नहीं मान पाता। जितनी बार भी जाता हूँ, तन से थका हुआ और मन से सजग हो वापस आता हूँ, विलासिता से बिल्कुल विपरीत। वातानुकूलित वातावरण में घन्टे भर टहलने भर से ही शरीर का समुचित व्यायाम हो जाता है। दृष्टि दौड़ाने पर दिखते हैं, उत्सुक और पीड़ित चेहरे, संतुष्ट और असंतुष्ट चेहरे, निर्भर करता है कि कौन खरीदने आया है और कौन खरीदवाने। थोड़ा सा ध्यान स्थिर रखिये किसी एक दिशा में, बस दस मिनट, किसी की निजता का हनन तो होगा पर लिखने के लिये न जाने कितने रोचक सूत्र मिल जायेंगे।

आगे बढ़ा, एक स्टोर में खड़ा सामान देख रहा था, वहाँ पर एक और व्यक्ति भी थे, लम्बी दाढ़ी, बाल घुँघराले और चेहरे पर आनन्द, ध्यान से देखते ही यह विश्वास हो गया कि ये सुकरात ही हैं। बड़े दार्शनिक थे, नये विचारों के प्रणेता, अपने समय में उपेक्षित, फिर भी अपना ज्ञान बाटते रहे, शासक वर्ग भी जितना झेल सकता था, झेलता रहा, पर जब पक गया तो जहर पिला कर जग से प्रयाण करने को कह दिया। बड़ा आश्चर्य हुआ उन्हें देखकर, सोचा कि दार्शनिकों के देश में भला सुकरात क्या ज्ञान बाटेंगे, जहाँ हर व्यक्ति दार्शनिक है वहाँ सुकरात को क्यों कोई सुनेगा? ईश्वर को यदि किसी को भेजना था तो निर्जीव देश में किसी साहस जगाने वाले को भेज देते।

बात बढ़ी तो उन्होने स्वयं ही बता दिया कि मॉल इत्यादि घूमना तो उनका बड़ा पुराना व्यसन रहा है, मुझे भी निशान्तजी और रवि रतलामीजी के लिखे लेख याद आ गये। सुकरात बोले, पहले तो मैं बस यही सोचकर प्रसन्न हो लेता था कि बिना इन सब सामानों के भी उनका जीवन कितनी प्रसन्नता से बीत रहा है। धीरे धीरे और बार बार वही प्रसन्नता अनुभव करने की आवश्यकता व्यसन बन गयी। पहले तो बाजार आदि छोटे छोटे होते थे, धूल और गन्दगी रहती थी, कई दुकानों में जाना पड़ता था, पास से देखने की स्वतन्त्रता भी नहीं थी, अब बड़ा अच्छा हो गया है, मॉल में ढेरों सामान भी रहता है, समय बड़े आराम से कट जाता है।


उनके आनन्द के सहभागी बनने का लोभ तो सदा ही था, मैं भी साथ हो लिया। उनके साथ मॉल का सामान देखने में उतना ही आनन्द आने लगा जितना उन्हें आया करता था। उनके लिये जो कारण होता था बाजार घूमने का, वही कारण लगभग मेरा भी आंशिक सत्य था, दार्शनिक भी, बौद्धिक भी। मैं और भी ध्यान से देखने लगा कि किन किन सामानों के न होने पर भी जीवन कितने आनन्द से बिताया जा सकता है, न जाने कितना ही सामान हमारी आवश्यकताओं की दृष्टि से व्यर्थ था। न जाने कितने ही सामानों से हमने अपनी माँग हटानी प्रारम्भ कर दी। माँग कम होने से मूल्य कम हो जाता है, इस तरह हमारे दो घंटे के भ्रमण ने न जाने कितने सामानों के मूल्य को कम कर दिया होगा। हर भ्रमण के साथ पूँजीवादी की हानि और शोषित वर्ग का लाभ। मॉल को समर्थक की दृष्टि से देखकर, उसके विरोधियों का ही हित करते थे सुकरात, हम दोनों बस वही करते रहे, आज मॉल में संग संग टहलते हुये।

आज किसी मँहगे सामान को अधिक देखकर उसके प्रति सुकरातीय निस्पृहीय निरादर का भाव तो नहीं जगा सका, पर अपने लिये आवश्यक न जान, उसके लिये चाह जगाते विज्ञापनीय सौन्दर्य से प्रभावित भी नहीं हुआ। आभूषणों की दुकानें भावनात्मक लूटशालायें लगने लगीं, सलाह, जब तक विवश न हों तब तक बचे रहना चाहिये। कपड़ों की दुकानें, जूतियों की कतारें, पर्स और न जाने क्या क्या? मन किया कि हर्षवर्धन बन वर्ष में एक बार एक मॉल खरीद गरीबों में बाट दूँ।

भारतीय नारी तो फिर भी सब देख समझ कर व्यय करती हैं श्रंगार पर, बस यही भाव बना रहे, सुकरात का साथ देने के लिये तो हम हैं ही। अब लगता है कि कितना अच्छा हुआ कि इमेल्दा मारकोस भारत में पैदा नहीं हुयीं, कहीं उनके ऊपर लिखा अध्याय हमारी भावी पत्नियों को पढ़ने को मिल जाता तब तो निश्चय ही मॉल देश के आधुनिक उपासनास्थल बन गये होते।

70 comments:

  1. भौतिकता ,बजारवाद ,मॉल संस्कृति और शहरों की आपाधापी का चित्रण करता उम्दा आलेख सर |

    ReplyDelete
  2. ...मैं तो अपने घर में माल के प्रति दीवानगी के लिए बदनाम हूँ.बिलकुल पास में बहुत बड़ा और प्रसिद्ध माल है .अक्सर वहां घूमना होता है.खरीदारी वैसे ही करते हैं, जैसे आप !
    बिलकुल नई दुनिया में हम होते हैं वहां .हमें तो वहां जाकर सुकून ही मिलता है.ऐसी जगहें केवल खरीदारी के लिए नहीं होतीं.

    ReplyDelete
  3. :) पढ़ कर अनायास एक और प्रसंग याद आया...गौतम बुद्ध अगर आज के दौर में होते तो उन्हें निर्वाण की प्राप्ति किसी मॉल के पिलर के नीचे बैठ कर ही होती :) :)

    आपका मॉल खरीद कर गरीबों में बाँट देने का विचार अति उत्तम है...बस थोड़ा पहले इन्फॉर्मेशन दे दीजिएगा...हम भी गरीबों की जमात लेकर पहुँच जाएँगे। :)

    पोस्ट अच्छी लगी...हमेशा की तरह :)

    ReplyDelete
  4. उत्तम.
    वैसे आप हर्षवर्धन बन कब बांटने वाले हैं? बता दीजियेगा :)

    ReplyDelete
  5. सड़कों पर टहलने का विचार शीघ्र ही छोड़ मॉल में चला गया, न समर्थक के रूप में, न विरोधी के रूप में, बस एक दृष्टा के रूप में, दृष्टि बाहर नहीं, दृष्टि अन्दर भी नहीं, बस कहीं भी और हर जगह, आवारगी और वह भी विशुद्ध अपनी ही तरह की।

    बहुत गहन भाव लिए है आज आपका लेख |दृष्टा की तरह ही जीवन जीना चाहिए ..........एक एक पंक्ति कुछ गूढ़ अर्थ लिए है ...बादल की तरह आवारा थे हम ...या Wordsworth का vagabond cloud याद आ रहा है ...

    ReplyDelete
  6. ''हमारी भावी पत्नियों'' अवाक् कर देने वाला है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमारी भावी पत्नियों का आशय केवल कुँवारों से ही निकाला जाये, उन्हीं के हिस्से यह झेलना शेष रहा है।

      Delete
  7. विचारों पर लदी सोलहों श्रृंगारीय भाषा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. मॉल से मिलती जुलती, सुकरातीय आनन्द को समझा सकने में सक्षम..

      Delete
  8. मॉल्स घूमने के लिये नहीं होते, हमारा मानना तो यही है। मॉल्स में जाकर बाजारवाद और एसी की हवा बहुत परेशान करती है, प्रकृति ज्यादा सुहाती है।

    ReplyDelete
  9. जब तक विवश न हों तब तक बचे रहना चाहिये।

    इस मॉल संस्कृति में आभूषणों की ही नहीं, हर दुकान पर इसी सोच के साथ विचरण करना चाहिए ....

    ReplyDelete
  10. इन मॉल की महती भूमिका है मंहगाई को बढ़ाने में.

    ReplyDelete
  11. दृष्टि बाहर नहीं, दृष्टि अन्दर भी नहीं, बस कहीं भी और हर जगह, आवारगी और वह भी विशुद्ध अपनी ही तरह की।
    गहन भाव लिए हुए ... ।

    ReplyDelete
  12. मॉल बाज़ार वादी जाल हैं... वहाँ फँसिए भी और खुशफहमी मे हँसिये भी...

    ReplyDelete
  13. विज्ञापन तंत्र हमें उच्च मूल्य अपनाने की प्रेरणा देता है :)

    ReplyDelete
  14. गहरी बातें! आवारगी अच्छी ...!!

    ReplyDelete
  15. आनदित हुए हम भी, सुकरात से मिलकर और जीवन का नव दर्शन प्राप्त कर!!

    ReplyDelete
  16. आज की पोस्ट वाह वाह

    @मन किया कि हर्षवर्धन बन वर्ष में एक बार एक मॉल खरीद गरीबों में बाट दूँ।

    सही है बंधुवर हर्षवर्धन भी मात्र भारतवर्ष में जनम लेते हैं..

    ReplyDelete
  17. क्या सुन्दर वर्णन किया है आपने.. माँग कम होने से मूल्य कम हो जाता है, इस तरह हमारे दो घंटे के भ्रमण ने न जाने कितने सामानों के मूल्य को कम कर दिया होगा।. मजे की बात है की हम भी यही मूल्य कम करने का काम अक्सर करते हैं...

    ReplyDelete
  18. कछु कहत न आवै ।
    "ज्यों गूंगेहि मीठे गुड कौ रस अन्तरगत ही भावै "

    ReplyDelete
    Replies
    1. Maza aa gaya aapka aaalekh padhke! Mujhe to aapkee bhasha shaili bahut impress kartee hai!

      Delete
  19. प्रयाग में माघ मेला चल रहा है प्रवीण जी . हर्ष का इंतजार है वहा . इमेल्दा मार्कोस फिलिपीन्स में प्रभावी है क्योंकि वहा सुकरात नहीं पाए जाते है .

    ReplyDelete
  20. vaakai maal me jaakar sari udasi aur thakaan dono gayab ho jaati hain.bahut achcha varnan kiya hai laga ghar baithe hi maal ghoom aaye.

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर,सार्थक प्रस्तुति।

    ऋतुराज वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  22. हम भी बंगलौर के माल में जाते हैं लेकिन अपना क्रेटिडकार्ड घर पर रखकर। सच तो यह है कि घूमने और घूरने की जगह माल में ही बची है।

    ReplyDelete
  23. इन मॉलों में घूमने का सबसे बड़ा आनंद तो यह है कि कि बिना कुछ खरीदे घूम लो और निकल पडो। यह उस पंसारी की दुकान की तरह नहीं कि उसमें जाओ और बिना कुछ खरीदे निकलो तो सेठ घूर कर देखता है :)

    ReplyDelete
  24. सुकरात के संग मॉल में ... वाह

    ReplyDelete
  25. द्रष्टा की तरह माल जाना ... बाजारवाद की आधी सफलता हो गई की आप गए तो सही ...
    बाकी आधी सफलता बाजारवाद अपने आप करवा लेगा ...

    ReplyDelete
  26. हाय! बंगलूर वालों को मॉल ही बचा 'दर्शन' के लिए!!

    ReplyDelete
  27. .माल और म़ोल और मॉल का फर्क आप धीरे से समझा गए अर्थ शाश्त्र का पाठ भी पढवा गए .भारत को सुकरात की वाकई ज़रुरत नहीं है .टहल शालाएं हैं आधुनिक मॉल .एक रास्ता को तोड़ने का ज़रिया भी हैं मॉल .

    ReplyDelete
  28. सच में एक द्रष्टा के रूप में मॉल में जाना एक अच्छा अनुभव है, लेकिन अक्सर वहां से क्रेता बन कर निकलना पडता है..लाज़वाब शैली में बहुत रोचक आलेख..बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  29. सुकरात को तो जहर पिलाया गया था आज सब अपने हाथों पीते हैं.

    ReplyDelete
  30. जब मॉल खरीद कर बांटने की ठान लें, तो कृपया ब्‍लॉगर्स को जरूर इत्‍तेला कर दें। बेचारे कुछ जेन्‍यून गरीबों का भला हो जाएगा।

    ReplyDelete
  31. मॉल की एक चीज़ सबसे अच्छी लगती है कि हर तबके के लोग किसी भी शोरूम में जा सकते हैं...वरना सिंगल स्टोर्स में तो दरबान घुसने भी ना दे. एक बार लाइफस्टाइल में एक कामवाली के परिवार को घूमते देख बहुत अच्छा लगा था.

    ReplyDelete
  32. हर भ्रमण के साथ पूँजीवादी की हानि और शोषित वर्ग का लाभ। मॉल को समर्थक की दृष्टि से देखकर, उसके विरोधियों का ही हित करते थे सुकरात, हम दोनों बस वही करते रहे, आज मॉल में संग संग टहलते हुये।

    सुकरात के साथ अच्छा समय बिताया .. इतने मॉल चल रहे हैं तो लोग खरीदते तो होंगे ही ..गरीबों की लाईन लंबी होती जा रही है ..

    ReplyDelete
  33. भारत में जहां अभी मॉल घूमने फिरने व कुछ लोगों के या कुछ ख़रीदने की जगह हैं वहीं कई दूसरे देशों में मॉल ठीक वैसे ही हैं जैसे हमारे यहां अभी गली-मुहल्ले के नुक्कड़ पर परचून की दुकान. कुछ समय है यहां भी वैसा ही होने में..

    ReplyDelete
  34. सुकरात के संग मॉल में अच्छा लगा..गहन सोच..वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  35. badhia post
    accha smay bita aapka sukratji ke saath
    http://drivingwithpen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  36. बसंत पंचमी की शुभकामनाएं....!

    ReplyDelete
  37. इन मालों में कम से कम अमीर गरीब का भेदभाव तो नहीं रहता.

    ReplyDelete
  38. आप खुशनसीब हैं कि मॉल में जाने का वक्त मिल जाता है।

    ReplyDelete
  39. सुकरात जी मिल गये, बधाई!

    ReplyDelete
  40. माल संस्कृति के उपभोक्ता व्यवहार में पैराडायीम शिफ्ट यह है कि अब उपभोक्ता अपनी जरुरत के बजाय माल पहुँच कर आईटम प्रास्पेकटिंग करता है और तब उसके मुताबिक़ अपनी जरूरते तय करता और खरीदता है ..आपकी मनोदशा एक संक्राति की लगती है .....जो स्वाभाविक ही है ..अगली बार प्लेटो सुकरात सार्त्र वगैरह भी मिल जायं तो कोई आश्चर्य नहीं :)

    ReplyDelete
  41. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति
    आज चर्चा मंच पर देखी |
    बहुत बहुत बधाई ||

    ReplyDelete
  42. dear friend today I feel there is a post to write something without formality,it is your undoubtedly.It is not valuable to find the Socrates,rather to live the SUKRAT is important.It seems a lot of scarcity to calculate the views.consumer to consumer and ultimate consumer is becoming are our fate .yet it is a question installed-why not we read the producer. A lot of vies are in air ,but breathable because they are suspended from benevolent. Appreciable bunch of commendable views.Thanks ,Mr panday ji .

    ReplyDelete
  43. माल का भी अच्छा उपयोग हो रहा है .
    मुझे कबीर दास जी की याद आ गई, वे तो बाज़ार में लाठी लेकर खड़े हो जाते थे चैलेंज देते हुये--'जो घर जारै आपुनो ,सो चलै हमारे साथ. '

    ReplyDelete
  44. हमें तो मॉल में कुछ भी खरीदने में आनन्‍द नहीं आता, जैसा एक आम दुकान पर आता है। दुकानदार दिखाता जाता है और हम ना नुकर करते जाते हैं। यह क्‍या, लगा हुआ है, देख लो और खरीद लो।

    ReplyDelete
  45. शासक वर्ग भी जितना झेल सकता था, झेलता रहा, पर जब पक गया तो जहर पिला कर जग से प्रयाण करने को कह दिया

    शासक सुकरात रीत चली आई......

    ReplyDelete
  46. ब्लॉग बुलेटिन पर की है मैंने अपनी पहली ब्लॉग चर्चा, इसमें आपकी पोस्ट भी सम्मिलित की गई है. आपसे मेरे इस पहले प्रयास की समीक्षा का अनुरोध है.

    स्वास्थ्य पर आधारित मेरा पहला ब्लॉग बुलेटिन - शाहनवाज़

    ReplyDelete
  47. आवश्‍यकताऍं जितनीं कम, सुख और आनन्‍द उतना ही अधिक। यह अनुभव मेरा भी है।

    ReplyDelete
  48. भाई समय कम है, तो आपके लिए माल बहुत जरूरी है।
    वैसे तो हम घरेलू सामान की खरीददारी भी grahak.com पर
    online करते हैं।
    अच्छा विश्लेषण...

    ReplyDelete
  49. हर चेज़ के अपने फायदे और नुकसान हुआ करते हैं माल के भी है।

    ReplyDelete
  50. बहोत अच्छे ।

    नया ब्लॉग

    http://hindidunia.wordpress.com/

    ReplyDelete
  51. ऊँची दूकान महंगा पकवान,सुंदर प्रस्तुति,

    welcome to new post ...काव्यान्जलि....

    ReplyDelete
  52. इतनी व्यस्तता के बावजूद मॉल में घूमने के लिए समय निकाल लेना बड़ी बात है.

    ReplyDelete
  53. आजकल तो छोटे शहरों में भी बेंगलुरु बू आरही है .हवा गंधा रही है ,विदेशी स्टोर्स साजोसामान और सुकरातों की
    भरमार है .

    ReplyDelete
  54. हर्ष वर्धन को फिर एक वाणभट्ट कि आवश्यकता भी पड़ेगी जीवनी लिखने के लिए या स्वयं ही बन जाओगे वाण भट्ट .

    ReplyDelete
  55. दुनियाँ में हूं, दुनियां का तलबगार नहीं हूं। बाजार से गुजरा हूं, खरीददार नहीं हूं!

    ReplyDelete
  56. प्रासंगिक लेख, बधाई

    ReplyDelete
  57. समर्थन और स्नेहाशीष प्रदान करने का आभारी हूँ.

    सार्थक और सामयिक प्रस्तुति, आभार.

    ReplyDelete
  58. बिना इन सब सामानों के भी उनका जीवन कितनी प्रसन्नता से बीत रहा है। !!! मै तो आप की आभारी हूँ प्रवीन जी आपने यह याद दिलाया की कितनी व्यर्थ की चीजे भर गयी हैं हमारे भीतर और बाहर ! ताज्जुब हम अपने को भूल गये हैं !

    ReplyDelete
  59. इसीलिए कहा गया है, द्रष्टा बने ,द्रश्य नहीं |

    ReplyDelete
  60. अपन तो पक्के अवारा हैं....ऐसी अवारगी में जाने कौन कौन टकरा जाता है ..पर सुकरात से टकराना न हुआ..हां परिचय तो कहीं हुआ था..पर मॉल में नहीं टकराए...क्योकि मेरा तो मॉल के बिना भी मस्त अवारापन चालू रहता है सो अपन तो प्रस्न्न हैं ...

    ReplyDelete
  61. सुकरात का साथ देने के लिये तो हम हैं ही। :) हा हा!! हम भी!!

    ReplyDelete
  62. रोचक आवरगी है !

    ReplyDelete
  63. अपन को भी विंडो शॉपिंग ही भाती है...

    ReplyDelete
  64. अब तो हम मॉल देख-देखकर थक गए हैं | अब केवल खिड़की-बाजारी करते हैं या फिर किसी से मिलने चले जाते हैं..
    वैसे भी सब माया ही लगता है.. जब तक बचे हैं, बचे हैं :)

    ReplyDelete
  65. आपकी ये रचना कल चर्चा में चर्चामंच पे रहेगी !

    सादर

    कमल

    ReplyDelete