11.1.12

ऐसी सजनी हो

आँखों ही आँखों में मन के, भाव समझकर पढ़ जाती हो,
हृद की अन्तरतम सीमा में, सहज उतरकर बढ़ जाती हो ।
भावों में सागर लहरों सी, सतत बहे, मधुमय रमणी हो,
हो संजीवनि, नवजीवन सी, संग रहे, ऐसी सजनी हो ।।१।।

अरुण किरण सी, नभ-नगरी में, बन जाये स्फूर्ति चपलता,
डुला रही अपने आँचल से, बन पवनों का शीतल झोंका ।
धीरे धीरे नयन समाये, अलसायी, मादक रजनी हो,
हो संजीवनि, नवजीवन सी, संग रहे, ऐसी सजनी हो ।।२।।

मन के अध्यायों में सब था, किन्तु तुम्हारा नाम नहीं था,
तत्पर, आतुर, प्रेमपूर्ण वह, मदमाता अभिराम नहीं था ।
आ जाये, ऐश्वर्य दिखाये, सकल ओर मन मोह रमी हो,
हो संजीवनि, नवजीवन सी, संग रहे, ऐसी सजनी हो ।।३।।

(बस इतना जान लीजिये कि विवाह के बहुत पहले लिखी थी, यह आसभरी कविता)

99 comments:

  1. आँखों ही आँखों में मन के, भाव समझकर पढ़ जाती हो,
    हृद की अन्तरतम सीमा में, सहज उतरकर बढ़ जाती हो ।
    .... कुछ स्वप्न बहुत हसीं होते हैं।(जब तक आँख न खुल जाय :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य कल्पना जैसा नहीं हो पाता पर कल्पना से कहीं अधिक रोचक होता है

      Delete
  2. अभिलाषा शालीन बहुत यह,
    जैसे माँग रहे हो ईश्वर।
    देविय गुण सी प्रेयसि होगी,
    जिसकी कविता इतनी सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जो नहीं मिला वह नहीं सही, पर लक्ष्य बड़े स्पष्ट यहाँ

      Delete
  3. आँखों ही आँखों में मन के, भाव समझकर पढ़ जाती हो,
    हृद की अन्तरतम सीमा में, सहज उतरकर बढ़ जाती हो ।
    सुंदर मन की आशा ..अभिलाषा ...
    सुंदर कल्पना की उड़ान......
    और बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .....!!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  5. मन के अध्यायों में सब था, किन्तु तुम्हारा नाम नहीं था,
    तत्पर, आतुर, प्रेमपूर्ण वह, मदमाता अभिराम नहीं था ।
    ...ये दो पंक्तियाँ वर्तमान में जोड़ी गई हैं या ये भी विवाह से बहुत पहले की हैं ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. कल्पना के घरों में भूत और भविष्य को साथ साथ रहते देखा है हमने

      Delete
  6. शीतलहर में आपके भावोद्गार बहुत ही ऊष्मा दे गए |अच्छी कविता |

    ReplyDelete
  7. बहुत शानदार

    ReplyDelete
  8. विवाह के पहले सभी के ऐसे ही भाव होते हैं.

    कविता बढ़िया लय में है, आपकी वह लय विवाह के बाद भी बिगड़ी नहीं है :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या हुआ, नहीं यदि लय हो,
      अब तो जीवन की जय हो

      Delete
  9. यह कवि-मन तो सदा कुंवारा ही रहता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रेरणा सूत्र, प्रयास ही कर सकते हैं

      Delete
  10. आँखों ही आँखों में मन के, भाव समझकर पढ़ जाती हो,
    हृद की अन्तरतम सीमा में, सहज उतरकर बढ़ जाती हो ।
    .... bahut sundar abhilasha,bahut achcha geet likha hai.isme yeh photo kiski hai praveen ji??

    ReplyDelete
  11. अब यह राज भी खोलें कि आपकी अभिला्षा पूरी हुई या नहीं।

    ReplyDelete
  12. गजब ....यह कि शादी के बाद भी आप लिख पा रहे हैं.....मतलब.....आस पूरी हुई !!

    ReplyDelete
  13. Anonymous11/1/12 10:17

    ab kaisa lagta hai priye
    jab shadi ke das saal beet gaye
    komal komal koplen ban gaye mote patte.

    ReplyDelete
  14. आँखों ही आँखों में मन के, भाव समझकर पढ़ जाती हो,
    हृद की अन्तरतम सीमा में, सहज उतरकर बढ़ जाती हो ।
    भावों में सागर लहरों सी, सतत बहे, मधुमय रमणी हो,
    हो संजीवनि, नवजीवन सी, संग रहे, ऐसी सजनी हो
    Bahut sundar ! BTW: Why do people expect so much from their "Sajni" only :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. संस्कृति और श्रीमतीजी यह अधिकार भी नहीं देती हैं

      Delete
  15. सुंदर कल्पना,की सुंदर अभिव्यक्ति


    vikram7: हाय, टिप्पणी व्यथा बन गई ....

    ReplyDelete
  16. सजनी अन्नपूर्णा होती है उसकी कल्पना मार्मिक ही होती है

    ReplyDelete
  17. बहुत ही अच्‍छी शब्‍द रचना ...आभार ।

    ReplyDelete
  18. अब वैसी सजनी है ....

    ReplyDelete
  19. लगता है मनोकामना पूरी हो गयी. आपको शास्वत सुख एवं शांति प्राप्त हो. आपकी रचना के तो क्या कहने.

    ReplyDelete
  20. बेहद सुन्दर प्रस्तुति...
    क्या आशिकाना अंदाज़ है ...... बहुत खूब .......

    ReplyDelete
  21. ... माने एलियन ?

    ReplyDelete
  22. Qismatwala hoga jise iaisee sangini mile!

    ReplyDelete
  23. वाह! क्या बात है...

    मौसम है आशिकाना ।
    ए दिल कहीं से उनको एसे में ढूंढ लाना।

    ReplyDelete
  24. धीरे धीरे नयन समाये, अलसायी, मादक रजनी हो,
    हो संजीवनि, नवजीवन सी, संग रहे, ऐसी सजनी हो

    अब जबकि विवाह हो गया है तो आकरी राज भी खोल दो ... आपकी आस सफल तो हुयी न ... (वैसे आपके पास कोई चारा नहीं है हाँ कहने के सिवा ..)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सब पट खोलें धीरे धीरे

      Delete
  25. ख़ूबसूरत कविता...

    ReplyDelete
  26. बहुत बहुत बधाई |
    बढ़िया प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  27. सजनी के प्रति आशावान सुंदर विचार...
    आपकी मनोकामना पूर्ण हो गयी ...
    बधाई !

    ReplyDelete
  28. बड़ी नवनीत भरी कविता।और प्रेम की अभिव्यक्ति कोई आपसे सीखे।सुंदर व सुकुमार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  29. 'हो संजीवनि,नवजीवन सी,संग रहे,ऐसी सजनी हो'

    सुन्दर ख्वाब- आभार.

    ReplyDelete
  30. आपगीत भी लिखते हैं यह तो मैंने आज ही जाना बहुत ही सुंदर भावभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  31. आह हा..क्या आस है ..खूबसूरत..उम्मीद है पूरी हुई होगी :)

    ReplyDelete
  32. मनमोहनी , मनोहारी..मधुर सी ..

    ReplyDelete
  33. लग ही रहा है कि कविता आपने विवाह पूर्व ही लिख होगी। कहने की जरूरत क्‍यों पड गई?

    सब राजी खुशी तो है ना?

    ReplyDelete
    Replies
    1. पुरानी यादों की गुदगुदी जीवन में होती रहना चाहिये

      Delete
  34. कभी उन्होंने नहीं कहा कि तुम प्रणय के देवता हो, मैं समर्पित फूल हूँ!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. पूछते हैं, कहने को तैयार हैं कि नहीं

      Delete
  35. आस तो पूरी हुई है तभी न यह रचना अब तक याद है ..बहुत सुन्दर भावमयी रचना

    ReplyDelete
  36. वाह,आदर्श सजनी के सारे लक्षण -
    मनोकामना पूरी हुई न!

    ReplyDelete
  37. कहां मिलेगी भैया ऐसी सजनी। एक ठो की हम भी जुगाड़ लगा लें :)

    ReplyDelete
  38. इस पद को पढ़कर बहुत सी भूली-बिसरी बातें याद आ गईं।

    छन्द और प्रवाह देखते बनता है। शैली कभी प्रसाद तो कभी पन्त की याद दिलाते हैं।

    ReplyDelete
  39. कल्पनाकाश में तरुणाई का सुंदर इंद्रधनुष .

    ReplyDelete
  40. अदभुत,अदभुत,अदभुत...
    प्रवीण जी, इतनी प्यारी,सुंदर रचना आपमें अदभुत लेखन क्षमता है मालूम है पर ये रचना क्या कहें शब्द ही हीं नहीं मिल रहे इतनी सुंदर है।

    ReplyDelete
  41. भाव प्रधान रागात्मक पक्ष को उजागर करती स्वप्निल कल्पना भावी जीवन की ,आस की डोर से बंधी भावी जीवन संगनी की फेंटेसी सी .लेकिन आपका वर्तमान जिस ऊर्जा से संसिक्त है उसे देखकर बोध होता है कल की आपकी कल्पना आज का यथार्थ है .मुबारक पोस्ट जीवन से जुडी .

    ReplyDelete
  42. दूर दृष्टा पहले से ही रहे हैं आप. :D

    ReplyDelete
  43. क्या बात है ! पुराने पन्नों से निकली नयी कविता.

    ReplyDelete
  44. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 12- 01 -20 12 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... उठ तोड़ पीड़ा के पहाड़

    ReplyDelete
  45. सुन्दर .. बहुत सुन्दर ... शब्द नहीं मिल रहे हैं.. बेहद उम्दा चाह और आस ..यकीन है कि शादी के बाद यह चाहत पूरी हो गयी होगी.. सादर

    ReplyDelete
  46. कविता में कल्पना या कल्पना में कविता....
    दोनों ही अनुभूति अच्छा ही देती हैं....!!

    ReplyDelete
  47. सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  48. आज सुबह सुबह सर्वप्रथम आपकी आपकी रचना पढकर बहुत अच्दा लगा। बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  49. बहुत प्यारी आस ...
    मधुर अभिव्यक्ति..
    सादर.

    ReplyDelete
  50. मधुर शब्द श्रंगार से सजे भाव!!

    @ बस इतना जान लीजिये कि विवाह के बहुत पहले लिखी थी, यह आसभरी कविता

    -विवाह से पहले ही होती है मदमस्त भावों में प्रखरता!! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. praveen sir comment karne me prob hai aj so yaha hi reply kar rahi hu.
      aapko jab jab padhti hbu maza aa jata hai...kitni cute poem hai...very nice

      Delete
    2. ब्लॉग का फार्मेट बदला है, संभवतः यही कारण समस्या हुयी होगी

      Delete
  51. are waah! bahut sundar...
    shaadi purv sabki khwahish kuchh esi hi hoti hai.
    aabhaar.

    ReplyDelete
  52. एक बात तो है.... क्लास क्लास ही होता है...

    नया टेम्पलेट बहुत खूबसूरत है...

    अंग्रेजी में आपको हैप्पी न्यू इयर....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्वास्थ्य चित्रों में दुरुस्त लग रहा है, आपको पढ़ने को भी मिलने लगा। बहुत शुभकामनायें

      Delete
  53. sundar rachana
    bahut accha likha aapane

    ReplyDelete
  54. vivah ke baad bhi ye baten astitva rakhti hain..to aisa na sochen, magar rachna sudar hai!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रेम तो सदा ही प्रमुख रहता है जीवन में, आदर्श स्थिति है यह..

      Delete
  55. अच्छा है !सजनी साजन की हुई |
    मुबारक हो |

    ReplyDelete
  56. अरुण किरण सी, नभ-नगरी में, बन जाये स्फूर्ति चपलता,
    डुला रही अपने आँचल से, बन पवनों का शीतल झोंका ।
    धीरे धीरे नयन समाये, अलसायी, मादक रजनी हो,

    ....वाह! शब्दों और भावों का लाज़वाब संयोजन. एक ताज़ी हवा का झोंका उत्कृष्ट अंदाज़ में..आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छी है कल्पना की उड़ान आभार

      Delete
  57. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  58. सुन्दर दिवा स्वप्न सी तमन्ना है .हकीकत में भिओ ऐसा हो तो जीवन कैसा हो .शुक्रिया आपकी टिपण्णी का विज़िट का .

    ReplyDelete
    Replies
    1. हकीकत में न भी हो पाये पर मानक तो स्थापित किये जा सकते हैं।

      Delete
  59. सुन्दर तरुण कल्पना..बहुत खूब...

    ReplyDelete
  60. वाह सुंदर मनमोहक रचना !

    ReplyDelete
  61. आपकी लेखनी को इस रंग में डूबता देख अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  62. आँखों ही आँखों में मन के, भाव समझकर पढ़ जाती हो,
    हृद की अन्तरतम सीमा में, सहज उतरकर बढ़ जाती हो.....कोमल भावो की अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  63. सपनो कि सजनी कि तलाश में बहूत सुंदर ,मनमोहक, और प्यारी रचना
    लिखी है..

    ReplyDelete
  64. DIL KO SUKOON DETI RACHNA.

    ReplyDelete
  65. yakinan sunder kalpna ki aasha hai kalpna poori ho chuki hogi..............

    ReplyDelete
  66. बहुत सुन्दर अभिलाषा सुन्दर भाषा

    ReplyDelete
  67. अरुण किरण सी, नभ-नगरी में, बन जाये स्फूर्ति चपलता,
    डुला रही अपने आँचल से, बन पवनों का शीतल झोंका ।
    धीरे धीरे नयन समाये, अलसायी, मादक रजनी हो,
    हो संजीवनि, नवजीवन सी, संग रहे, ऐसी सजनी हो ।।२।।
    बेशक आज का खाब ही कल की हकीकत है विज्ञान का इतिहास उठाकर खंगाल लो .बड़ा खाब देखो कलाम साहब भी यही कहतें हैं .बड़े मानक बड़ा मानकीकरण .बड़ा हासिल ज़िन्दगी का .बधाई दिल से इस खूबसूरत प्रस्तुति के लिए . सारे जहां की खूबसूरती समेटे हुए है यह रचना तमाम कनुप्रियाएं यहीं कहीं हैं .

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब तक स्वप्न न देखे जायें, तब तक तो उसको साकार कर पाना कठिन ही है।

      Delete
  68. बहुत बेहतरीन और प्यारी रचना

    ReplyDelete
  69. वाह!
    बहुत बढ़िया!
    लोहड़ी पर्व के साथ-साथ उत्तरायणी की भी बधाई और शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  70. स्नेहसिक्त रचना

    ReplyDelete
  71. ur blogs touch heart deeply. gr8 writing gr8 work. Best wishes n God speed.

    ReplyDelete
  72. जाने कितने लोगों की भावनाओं को शब्द देती कविता। किसी सद्यः स्नाता की तरह मोहक।

    ReplyDelete
  73. शत-प्रतिशत सच उतर गयी रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  74. अच्छा है! :)
    सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  75. खूबसूरत कविता !

    ReplyDelete
  76. मन के अध्यायों में सब था, किन्तु तुम्हारा नाम नहीं था
    ....यूँ तो पूरी कविता प्रवाहमयी है ,पर इस एक पंक्ति ने तो जैसे थाम ही लिया ... बहुत अच्छी लगी कहना शायद बहुत कम है ...:)

    ReplyDelete
  77. maanak sthapit karne mein ek hi problem hai.. deviation ,jo ki hota hi hai, kee sthiti mein bari peeda hoti hai.. iske ulat maanak hi ekdam "low standard" rakhen , jo mil jaye samjhiye Bonus.. :D

    ReplyDelete
  78. Thanks for this great post. Its super helpful for the noobs like me :)

    ReplyDelete