4.1.12

एक चित्रकार की कहानी

दस वर्ष का बच्चा अपनी माँ से कहे कि उसे तो बस चित्रकार ही बनना है, तो माँ को कुछ अटपटा सा लगेगा, सोचेगी कि डॉक्टर, इन्जीनियर, आईएएस बनने की चाह रखने वालों की दुनिया में उसका बच्चा अलबेला है, पर कोई बात नहीं, बड़े होते होते उसकी समझ विकसित हो जायेगी और वह भी कल्पना की दुनिया से मोहच्युत हो विकास के मानकों की अग्रिम पंक्ति में सम्मिलित हो जायेगा। इसी बात पर पिता के क्रोध करने पर यदि वह बच्चा सब सर झुकाये सुनता रहे और जाते जाते पिता की तनी भृकुटियों का चित्र बना माँ को पहचानने के लिये पकड़ा दे, तो माँ को बच्चे की इच्छा शक्ति बालहठ से कहीं अधिक लगेगी। वह तब अपने बच्चे का संभावित भविष्य एक चित्रकार के रूप सोचना प्रारम्भ तो कर देगी, पर वह चिन्तन संशयात्मक अधिक होगा, निश्चयात्मक कम। बच्चा और बड़ा होकर अपने निर्णय पर अटल रहते हुये एक महाविद्यालय के कला संभाग में पढ़ने लगे, पर एक वर्ष बाद ही जब उसके प्राध्यापक उसे बुलाकर समझायें कि कला तो उसमें जन्मजात है, अब उसे और कला सीखने की आवश्यकता नहीं है, यदि महाविद्यालय में शेष वर्षों का सदुपयोग करना है तो उसे जीविकोपार्जन के लिये विज्ञापन या फोटोग्राफी भी सीख लेनी चाहिये। तब कहीं उसकी माँ अपने बच्चे के भविष्य के प्रति आश्वस्त हुयी होगी और उसे यह विश्वास हो गया होगा कि उसका बच्चा जीवन निर्वाह सकुशल कर पायेगा।

माँ की चिन्ता तो यहीं समाप्त हो जाती है पर क्या आप उसके बाद के लगभग २० वर्षों को नहीं जानना चाहेंगे जो उस बच्चे के स्वप्न को पूर्ण रूप से साकार होने में लगे और जिसका जानना हर उस माँ के लिये आवश्यक है जिनके बच्चे की कला में बहुत अधिक रुचि है या जिनका बच्चा १० वर्ष की उम्र में ही चित्रकार बनने की भीष्म प्रतिज्ञा किये बैठा है। हम सबको ऐसे बाल-निश्चयों को गम्भीरता से लेना होगा क्योंकि स्वयं को दस वर्ष की छोटी अवस्था में समझ पाना और अपने बनाये सपने को जी पाना मन की जीवटता का अद्भुत निरूपण है।

जो अच्छा लगे वह कर पाना बहुत कठिन है। अपने जैसे बहुतों को जानता भी हूँ जो औरों से अपनी तुलना करते करते जीवन व्यर्थ कर डालते हैं और जब तक समझ में आता है तब तक बहुत देर हो जाती है, सपनों को साकार करने में। समाज जिसे महत्व देता है, वही लबादा ओढ़ लेते हैं हम लोग, दम घुट जाये किसे परवाह। जो हैं, वह बन कर जी पाना ही सर्वाधिक सुख देता है। वह सुख अनुभव तो नहीं किया जा सकता है पर सबके लिये अनुकरणीय बन जाता है। जीवटता की कठिन राह से निकल आने के बाद तो हम उनसे प्रभावित होते हैं पर उनको किन परिस्थितियों ने प्रभावित किया और किस प्रकार अनजाने और विशेष जीवन को जीते हुये उन्होने अपने सपनों को निभाया है, यह जानना भी आवश्यक है।

हाँ, इस परिप्रेक्ष्य में फिर आते हैं उस कहानी पर। चित्रकला नियमित रूप से जुड़ी रहती है उससे पर पढ़ाई करने के बाद पहली नौकरी एक बहुराष्ट्रीय विज्ञापन कम्पनी में करने जाता है वह। चित्रों में अपनी आशा स्थापित करने वाला बच्चा अपनी सृजनात्मकता कम्पनी के उत्पाद बिकवाने के लिये और आमजन के अन्दर उसकी आवश्यकता के सपने जगाने में लगाने लगता है। कला का उपयोग साबुन, कोला, तेल या चॉकलेट बेचने के लिये। मैं भले ही ऐसे विज्ञापनों का धुर विरोधी न हूँ पर दस वर्ष की अवस्था में जिस बच्चे ने ब्रश से अपनी कल्पना उकेरने का सपना पाला हो उसके लिये यह एक स्थायी निष्कर्ष नहीं हो सकता था, भले ही कितना पैसा उसे मिल रहा हो। लोग इसे प्रतिभा का व्यावसायिक उपयोग मान सकते हैं, पर मन की संतुष्टि के सम्मुख धन का क्या मोल? अन्ततः विज्ञापन के व्यूह से बाहर आ जाता है वह।

फोटोग्राफी में महारत और दूसरी कम्पनी में नौकरी, एक बहुराष्ट्रीय कम्पनी से बड़ा कार्य मिलता है, भारत के बच्चों के बारे में फोटोग्राफ-श्रंखला बनाने का। जहाँ एक ओर हमारे नित के जीवन में एक ही जगह पड़े रहने से और कृत्रिमता ओढ़ लेने से संवेदना का अकाल पड़ जाता है, उसको ईश्वर प्रदत्त अवसर मिलता है, पूरा देश घूमने का और बच्चों के चेहरों में जीवन के भाव पढ़ने का। सड़कों में, गरीबी में, भूख में, उत्साह में, उन्माद में, खेल में, बालश्रम मे, शापित, शोषित, हर ओर बच्चों के भाव, संवेदनाओं की उर्वरा भूमि देखने का अवसर, देश के भविष्य को पढ़ने का अवसर। हर यात्रा में चित्रकला को संवेदना का ग्रास मिलने लगता है।

जीवन बढ़ता है, चित्रकला अधिक के लिये उकेरने लगती है, गौड़ से मूल स्थान पाना चाहती है जीवन में। धीरे धीरे सारी व्यस्ततायें चित्रकला के मौलिक व्यसन के लिये सिमटती जाती हैं। दिन में, रात में, भीड़ में, एकान्त में, हर समय कल्पनाओं के घुमड़ते बादल रंग और आकार में ढल जाना चाहते हैं। अपना सपना देखने के २५ वर्ष बाद उसे अपनी चित्रकला का एकान्त मिलता है, मन के बाँध अपने सारे द्वार खोल देने को तत्पर हैं, प्रवाह अनवरत बने रहना चाहता है।

माँ बेटे के सपने को वास्तविकता बनते हुये देखती है, विश्वास के साथ, अभिमान के साथ। इस चित्रकार की सफल कहानी उन माँओं को विचलित नहीं करेगी जिनके बच्चे ऐसी ही भीष्म प्रतिज्ञायें करने को तत्पर बैठे हैं।

(मेरे मित्र की जीवन कथा है यह, २५ वर्ष बाद हम मिले, मेरे हाथ में कलम उसके हाथ में ब्रश, मैं बद्ध वह निर्बन्ध, मैं अपने सपनों का सेवक वह अपने सपनों का राजा)

82 comments:

  1. असुरक्षा की भावना से सताये माता-पिता द्वारा मेडिकल-इंजीनियरिंग की रैट-रेस में धकेले जा रहे बच्चों के बीच आपके इस मित्र का दृढनिश्चय सचमुच अनुकरणीय है। उन्हें हमारी शुभकामनायें!

    साथ ही हमारे राष्ट्र की यह ज़िम्मेदारी बनती है कि अपने सीमित संसाधनों को बाल-शिक्षा की कीमत पर उच्च शिक्षा में लगाना कम करें और इस बात के प्रयास सुनिश्चित करें कि घर-घर (निर्धनों के घर भी) में बच्चों तक शिक्षा पहुंचे।

    ReplyDelete
  2. बहुत उम्दा विश्लेषण |नव वर्ष की मंगल कामनाओं के साथ ....

    ReplyDelete
  3. अपने तमाम स्वप्नों मे से किसी एक को चुनना और जीवनमन्त्र बना लेना ही भविष्य की सफलता तय कर देता है। स्वप्न क्या है ये महत्वपूर्ण नहीं।

    ReplyDelete
  4. सार्त्र कहते थे कि पढ़ाई के दिनों में ही उन्‍होंने तय कर लिया था कि उन्‍हें दार्शनिक बनना है.

    ReplyDelete
  5. जो लोग सड़कों के किनारे दुकानों के साइन बोर्ड पेंट करते हैं उन्होंने भी हुसैन के सपने संजोए होते हैं कभी, यही हाल फ़िल्मों के एक्ट्राओं का है कि वे भी घर से अमिताभ बच्चन बनने ही निकले होते हैं...

    हैरानी होती है इस बात पर कि कोई इस पर नहीं लिखना चाहता कि कला अपने आप में तो जो कुछ होती है सो तो होती है, लेकिन उसे प्रतिस्थापित करना अपने आप में ही कला है न कि बच्चों का हंसी ठठ्ठा. किसी को भी दोनों में पारंगत होना ज़रूरी होता है वर्ना केवल एक कला में ही पारंगत होने से ढेरों लोग पूनम पांडे हो निकलते हैं.

    ReplyDelete
  6. । जीवटता की कठिन राह से निकल आने के बाद तो हम उनसे प्रभावित होते हैं पर उनको किन परिस्थितियों ने प्रभावित किया और किस प्रकार अनजाने और विशेष जीवन को जीते हुये उन्होने अपने सपनों को निभाया है, यह जानना भी आवश्यक है।

    कोई सपना देखना और उसके पीछे भागते रहना ,उसको सफलता में परिवर्तित करना ...निश्चित रूप से इतना आसन नहीं है |बहुत लगन और हिम्मत चाहिए ...!!आपके मित्र की success story पढ़कर अच्छा लगा ...!!शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. काजल कुमार की टिप्पणी बहुत सटीक है।

    ReplyDelete
  8. तय होता है किसे क्या बनना है। सुंदर विश्लेषण आभार

    ReplyDelete
  9. कुछ कलाएं नैसर्गिक होती हैं,शौक से शुरू होकर पेशेवर बन जाना नियति बन जाती है.
    ज़रूर कुछ प्रतिभाएं सही मौका न पाने पर नष्ट भी हो जाती हैं !

    ReplyDelete
  10. यह प्रेरक प्रसंग उन तमाम मौलिक प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करेगा जिन्हें दुनियावी मामलात में उलझ कर कई समझौते करने पड़ जाते हैं मनुष्य अंततः उसी क्षेत्र में अपनी सफलता के झंडे गाड़ सकता है जिसमें उसकी नैसर्गिक अभिरुचि हो !

    ReplyDelete
  11. सपने तो सबने देखे होते हैं , भौतिक जरूरतों के साथ कलाकार मन की संतुष्टि के लिए एक संतुलन की आवश्यकता है जो सबके लिए आसान नहीं ... ऐसे बिरले साहसी लोगों को नमन !
    काजल जी की टिप्पणी भी बहुत कुछ कहती है ...

    ReplyDelete
  12. एक सिरिअल आता था , जिसमें बजता था - 'क्या बनोगे मुन्ना ...?' पर प्रश्न के साथ माता पिता की इच्छाएं शामिल थीं . जितनी अपनी इच्छा मायने रखती है, उतना ही महत्व बच्चों की इच्छा पर देने से सही होता है .

    ReplyDelete
  13. बहुत ही प्रेरक प्रसंग है... मेरी बिटिया को भी चित्रकारी बहुत पसंद है... अभी तो बहुत छोटी है, लेकिन रोज़ ही कुछ न कुछ बना कर अचंभित करती है...

    ReplyDelete
  14. नव-वर्ष की मंगल कामनाएं ||

    धनबाद में हाजिर हूँ --

    ReplyDelete
  15. हमारी शिक्षा व्यवस्था में ही खोट है.

    ReplyDelete
  16. खुद का बेटा याद आया...........बस इन्तजार है ...

    ReplyDelete
  17. बहोत अच्छे ।

    हिंदी ब्लॉग

    हिन्दी दुनिया ब्लॉग

    ReplyDelete
  18. आपकी कलम से किया गया यह विश्‍लेषण कई सवाल करता है अपने आप से ...आभार सहित इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  19. दृढनिश्चय हो तो ...
    भौतिकता और असुरक्षा की भावना से लड़ते हुए नैसर्गिक प्रतिभा को सुरक्षित रखना चुनौती तो है ही.

    ReplyDelete
  20. बहुत लगन और हिम्मत चाहिए...सपनो को साकार करने के लिए

    ReplyDelete
  21. कला में ही जीवन है।

    ReplyDelete
  22. दृढ निश्चय सफलता के लिए आवश्यक है

    ReplyDelete
  23. आपके मित्र की कहानी वास्तव में सोचने को प्रेरित करती है ..... पर भारतवर्ष में कितने ही ऐसे किशोर होते हैं जो परिवार को सोचते हुए अपना भावी कैरियर स्वाह कर लेते हैं...


    एक सकरात्मक पोस्ट के लिए साधुवाद..

    ReplyDelete
  24. ्हमारे यहाँ यही कमी है कि हम बच्चों की चाहतो पर कम और अपनी चाहतो पर ज्यादा ध्यान देते हैं ना ही शिक्षा प्रणाली ऐसी है कि जिसमे पता चल सके कि बच्चे का किस विषय मे रुझान है।

    ReplyDelete
  25. sab kuch safe hai agar aap ki soch sarthak hai...future har taraf hai..



    jai baba banaras...

    ReplyDelete
  26. आपका यह लेख भी हमेशा की तरह अपने चिर परिचित अंदाज़ में पाठक को बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर देता है ! जीवन का यथार्थ लिखने का आपका यह सफल प्रयास है, परन्तु भारत जैसे अविकसित ( आप इसे विकास शील कह सकते हैं ) देशों में निवास करने वाले अभिभावकों की सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति उन्हें यह करने के लिए मजबूर कर देती है . बेटा/बेटी ज़ल्दी से बड़े होकर अपने पैर खड़े हो जाएँ और अपना परिवार चलने लायक हो जाएँ, बस हर एक माँ बाप यही सोचता है, बच्चे की अभिरुचि क्या है यह सोचने की फुर्सत किसके पास है या फिर फुर्सत है भी तो "पापी पेट का सवाल है" I और बस फिर शुरू होता है अन्धानुकरण I
    आपका अंतिम प्रभावशाली वाक्य "मेरे हाथ में कलम उसके हाथ में ब्रश, मैं बद्ध वह निर्बन्ध, मैं अपने सपनों का सेवक वह अपने सपनों का राजा" शायद इसी मजबूरी का साहित्यिक रूपांतरण ही तो है!

    ReplyDelete
  27. कोई बच्चा या बड़ा जो होने की सम्भावना लिये इस जग में आया है वह अगर बन पाए तब ही उसकी क्षमता का आकलन हो सकता है..बच्चों को अपने हुनर पर भरोसा रखना होगा व मातापिता को भी उन्हें प्रेरित करना होगा...आपके मित्र को बधाई!

    ReplyDelete
  28. बिलकुल, और यह भी सत्य है कि इन्सान जिस भावना और धेय को लेकर चलता है फल भी उसीनुसार मिलता है उसे !

    ReplyDelete
  29. हम अक्सर दूसरे के तय किये हुए मार्ग पर चलने में ही सफलता मानने लगते हैं और जब स्वयं अभिभावक बनते हैं तब उस मन;स्थिति को भूल चुके होते हैं .....

    ReplyDelete
  30. सोचने को बाध्य करता आलेख . आभार .

    ReplyDelete
  31. हम सबको ऐसे बाल-निश्चयों को गम्भीरता से लेना होगा क्योंकि स्वयं को दस वर्ष की छोटी अवस्था में समझ पाना और अपने बनाये सपने को जी पाना मन की जीवटता का अद्भुत निरूपण है।

    सच्ची और अच्छी बात

    नीरज

    ReplyDelete
  32. बहुत चिंतन को मजबूर करती है आपकी पोस्ट.रूचि तो ठीक है परन्तु सिर्फ रूचि से जीवन चल जाये यह भी मुश्किल होता है.तालमेल आवश्यक है.

    ReplyDelete
  33. राजा तो हम भी हैं, आप भी, अपने-अपने सपनों के। और जब से ब्लॉग मिला है, जो स्वतंत्रता से लेखन हुआ है उसकी कोई मिसाल नहीं।

    ReplyDelete
  34. पता नहीं कितने गुलाब, कमल बनाकर विकसित होने की होड में कमल तो बन ही नहीं पाते (बनते कैसे) और गुलाब की सुवास भी नहीं बिखेर पाते!!

    ReplyDelete
  35. आपके मित्र की कहानी बहुत प्रेरक है .. सपनो को साकार करने के लिए भी यथार्थ की कठोर भूमि पर चलना पड़ता है ..

    ReplyDelete
  36. सटीक विश्लेषण.

    ReplyDelete
  37. इतनी कम उम्र मे आपने आपको समझना बहुत साधारणतौर पर कठिन होता है लेकिन अगर कोई बच्चा आफ्ना कोई सपना चुनले और उस पर अडिग रहने का प्रयास कर सके तो इसे अच्छी और कोई बात हो ही नहीं सकती। क्यूंकि जिस तरह आपकी इच्छा मायने रखती है ठीक वैसे ही आपके बच्चे की इच्छा का भी उतना ही मायने रखती है अतः उजवाल भविषय के लिए उसकी इच्छा को मनोबल देना ही साई होगा क्यूंकि ज़िंदगी और सपने उसके है जिनके आधार पर उसका भविष्य बनेगा ....सार्थक पोस्ट

    ReplyDelete
  38. लगन हो और बनी रहे यह भी बहुत जरुरी है। प्रेरक प्रसंग।

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर पोस्ट.
    नव वर्ष पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  40. कम ही लोगों को यह खुशनसीबी मिलती है उनका शौक ही उनका व्यवसाय बन जाए जन्मजात रुझान आजीविका बन निखरे .अच्छी जीवन कथा प्रेरक उत्प्रेरक नै ज़मीन तोडती तलाशती .बधाई .

    ReplyDelete
  41. एम एफ़ हुसैन भी तो हैदराबाद की सडकों पर पोस्टर पेंट करते-करते ही तो बडे कलाकार बने। सब से बडी बात तो यह है कि हमें यह समझना चाहिए कि कोई भी काम छोटा नहीं होता। जिस काम को भी लें उसकी ऊंचाई तक पहुंचे, यही तो मंज़िल है॥

    ReplyDelete
  42. knowingly or unknowingly parents pass their fear and desires to their kids.
    In India they may give money but not freedom .

    ReplyDelete
  43. knowingly or unknowingly parents pass their fear and desires to their kids.
    In India they may give money but not freedom .

    ReplyDelete
  44. सपनो को साकार करने के लिए बहुत लगन और हिम्मत चाहिए|

    ReplyDelete
  45. हर घर की व्यथा-कथा!!

    ReplyDelete
  46. रंगों से अलग सा रंग बिखेरता आलेख ..

    ReplyDelete
  47. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट " जाके परदेशवा में भुलाई गईल राजा जी" पर आपके प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । नव-वर्ष की मंगलमय एवं अशेष शुभकामनाओं के साथ ।

    ReplyDelete
  48. बच्चे की जिसमे रूचि हो वही उसे पढ़ने को मिले।

    ReplyDelete
  49. Bahut prabhavshalee!

    ReplyDelete
  50. कला को जीवन का लक्ष्य बना लेना बहुत कुछ परिस्थितियों पर निर्भर करता है, किंतु यह जरूरी नहीं कि क्ला आजीविका का साधन भी बने.एक विचारणीय विश्लेषण सदा की तरह .

    ReplyDelete
  51. बहुत बढ़िया लेख...
    एक पागलपन हो तो बस मंजिल समझो मिल गयी...अगर वो दीवानगी आपको दिखती है खुद में या अपने बच्चे में तो फिर कोई भी राह हो..रोकें नहीं..
    सादर.

    ReplyDelete
  52. Always listen to your heart..

    ReplyDelete
  53. एक सुन्दर प्रेरणादायी पोस्ट. कुछ ऐसी ही स्थिति मेरे पहचान के एक मान की भी है. साझा करूँगा. नव वर्ष की मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  54. अपने सपने साकार करने के लिए जोखिम भी उठानी पडती है और कीमत भी चुकानी पडती है। सबके अपने-अपने सपने और अपनी-अपनी हिम्‍मत।

    ReplyDelete
  55. bahut prabhaavshali vastvikta se bhara vivran.bahut umda is vivran ka saar.

    ReplyDelete
  56. धन्य है वो लोग जिनमें इतना आत्विश्वास होता है और जो इतने कर्मठ भी होते हैं ...
    वैसे बहुत से माँ बाप असुरक्षा के माहोल में इसलिए भी रहते भी की कहीं बच्चे का जीवन न खराब हो जाए ...

    ReplyDelete
  57. जो अच्छा लगे वह कर पाना बहुत कठिन है। अपने जैसे बहुतों को जानता भी हूँ जो औरों से अपनी तुलना करते करते जीवन व्यर्थ कर डालते हैं और जब तक समझ में आता है तब तक बहुत देर हो जाती है, सपनों को साकार करने में।
    par jab jago tabhi savera man ke chal sake to kya hi achchha ho.

    ReplyDelete
  58. गहन लेखनी,सोचने पर विवश करती...

    ReplyDelete
  59. प्रवीण जी.....
    आप जो भी विषय उठाते हैं इतनी खूबसूरती से उसकी व्याख्या करते हैं कि उसमें किसी प्रकार की कोई गुंजाईश ही नहीं बचती है....!!
    कितने ही लोग आपके लेख से प्रेरणा पा सकते हैं यदि वह उन्हें ध्यानपूर्वक पढ़ें तो....!!
    सभी का मार्गदर्शन करने के लिए धन्यवाद...!!

    ReplyDelete
  60. सफल परिणाम प्रारम्भ में लिए गए निर्णय को उचित सिद्ध नहीं कर सकते |

    end does not justify the means, always.

    ReplyDelete
  61. जो जी चाहे वो मिल जाये कब ऐसा होता है. हर जीवन जीने का समझौता होता है.
    काश ऐसा सभी के साथ हो.

    ReplyDelete
  62. कहानी पढ़कर उम्‍मीद बंधी है भविष्‍य के प्रति।

    ReplyDelete
  63. मार्ग दर्शन देता बहुत सुंदर आलेख,बहुत बढिया लगा,

    WELCOME to new post--जिन्दगीं--

    ReplyDelete
  64. sahab madhyamvargeey parivaar ki aaj tak yahi kahani hai...jee lo ya zindagi jee lo...

    ReplyDelete
  65. सच्ची लगन हर बाधा पार कर सपने साकार कर देती है !

    ReplyDelete
  66. behad sundar vishleshan ... aur swapno ka bahut mahtav hota hai... aur apni ruchi ke hisaab se hee agar apna proffesion chunaa jaaye to vaha aik uttamta aur utkristta kaa srijan hota hai...aapko Navvarsh par shubhkaamnayen

    ReplyDelete
  67. मार्ग दर्शन देता बहुत सुंदर आलेख आभार.

    ReplyDelete
  68. pyara aur umda vishleshan...

    happy new year sir!!

    ReplyDelete
  69. पूत के पाँव पालने में ही दिख जातें हैं दिक्कत यह है माँ बाप एक चले चलाए बने बनाए ढर्रे पे बच्चों को ठेले रहतें हैं .इधर जैसे जैसे काम के अवसरों में विविधता बढ़ी है प्रोद्योगिकी ने जीवन के विविध क्षेत्रों में दखल किया है स्थिति थोड़ा सा बदली ज़रूर है .आपकी हाजिरी गौर तलब है ,मानसिक और भौतिक सतर्कता भी .बधाई .इस ऊर्जा स्तर को बनाए रखिए .

    ReplyDelete
  70. सपनों का राजा बन पाना बहुत कम लोगों के संभव हो पाता- असल जीवन तो सही मायने में वो ही जीते हैं.

    ReplyDelete
  71. ma-bap apne bete men doctor/ engineer jyasda dekhte hai jabki kalakar ko nahin khojte. vicharniya post

    ReplyDelete
  72. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर दम दार आलेख ......
    welcome to new post--जिन्दगीं--

    ReplyDelete
  73. ak sarahneey prastuti .....abhar

    ReplyDelete
  74. पैशन और प्रोफैशन का एक होना आनंद की अनुभूति तो देता ही है.

    कलाकार को नमन.

    ReplyDelete
  75. माँ को ही पता होता है कि उसके बेटे को मन व हृदय मे क्या है, और यह विश्वास व संबल निश्चयही पुत्र की सफलता का मुख्य आधार बनता है। आपके मित्र को बधाई व शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  76. गहन लेकिन सहज विचार प्रवाह का चिंतन.

    ReplyDelete
  77. Praveen, thank you so much and I thank everyone for their comments, ever encouraging.

    If I look back at my own life and your observations, it raises only one question for which we do have an answer too.

    From what age one can expect to be respected for his dream?

    It's the very question my mother asked me when I was 10 'what do you want to be when you grow up?' was the first sign of respect for my dream as a child that got to my head that anything in life can be achieved. Its her question and assurance within her own capacity that I can go ahead, gave me the confidence to do whatever it takes to make my dreams come true. It's her wisdom, her courage and trust in her child made all the difference. When your mother re-affirms that her child is the best artist, rest of the world does not matter. Of course she always said ' Beta, Karm Karo par phal iksha mat karo'.

    When you are imparted with such wisdom, courage, trust and confidence before you head out of your home, trust me every hurdle out there seems nothing.

    My mother never asks how much money I earn, as long as I am enjoying my work and respected for what I do, that's how I've learned to define success.

    The only addiction I have is 'search for truth' and that's what keeps me going. And art is my medium. The dream I hold close to my heart is 'to be able to continue to paint'.

    ReplyDelete
  78. प्रेरक और रुचिकर प्रसंग।

    ReplyDelete
  79. लगन की जीती जागती प्रेरक चित्रकारी!

    ReplyDelete