31.12.11

ध्यान कहाँ है पापाजी ?

ब्लॉगजगत के ताऊजी से सदा प्रभावित रहे अतः पहली बार स्वयं ताऊ बनने पर अपने भतीजे से भेंट का मन बनाया गया। उत्तर भारत की धुंधकारी ठंड अपने सौन्दर्य की शीतलहरी बिखेरने में मगन थी, दिल्ली के दो सदनों की राजनैतिक गरमाहट भी संवादों और विवादों की बर्फ पिघलाने में निष्फल रही, कई ब्लॉगरों के चाय, कम्बल, अलाव आदि के चित्र भी मानसिक ऊर्जा देने में अक्षम रहे। गृहतन्त्र की स्वस्थ परम्पराओं का अनुसरण करते हुये हमने भी उत्तर भारत की संभावित यात्रा का प्रस्ताव भोजन की मेज पर रखा, उपरिलिखित तथ्यों के प्रकाश में हमारा प्रस्ताव औंधे मुँह गिर गया, वह भी ध्वनिमत से। संस्कारी परम्पराओं का निर्वाह करते हुये, उठ खड़े हुये अवरोध के बारे में जब हमने अपने पिताजी को बताया तो उन्होने भी अपने पौत्र और पौत्री की बौद्धिक आयु हमसे अधिक घोषित कर दी, कहा कि इतनी ठंड में आने की कोई आवश्यकता नहीं है। श्रीमतीजी सदा ही बहुमत के साथ मिलकर मन्त्री बनी रहती हैं, तो हम भी निरुपाय और निष्प्रभावी हो ब्लॉग का सहारा लेकर परमहंसीय अभिनय में लग गये।

बच्चों की छुट्टियाँ श्रीमतीजी के हाथ में तुरुप का इक्का होती हैं, आपका हारना निश्चय है। लहरों की तरह उछाले जाते, उसके पहले ही हमने गोवा चलने का प्रस्ताव जड़ दिया। सब हक्के बक्के, संभवतः विवाह के १४वें वर्ष में सब पतियों के ज्ञानचक्षु खुल जाते हों। लहरों के साथ खेलने के लिये भला कौन सहमत न होगा, गोवा-गमन को हमारा निस्वार्थ उपहार मान हमें स्नेहिल दृष्टि में नहला दिया गया, यह बात अलग थी कि हमने भी वहाँ पर अपने एक बालसखा से मिलने की योजना बना ली थी, वह भी बिछड़ने के २५ वर्ष के बाद।

सागर के साथ संस्कृति को जोड़ते हुये, हम लोग हम्पी होते हुये गोवा पहुँचे। हम्पी संस्कृति के ढेरों अध्याय समेटे है और विवरण के पृथक प्रयास का अधिकारी है। गोवा में लहरों का उन्माद उछाह हमारी प्रतीक्षा में था, लहरों के साथ खेलते रहने की थकान, उसके बाद महीन रेत पर निढाल होकर घंटों लेटे रहना, नीचे से मन्द मन्द सेंकते हुये रेतकण और ऊपर से सूरज की किरणों से आपकी त्वचा पर सूख जाते नमककण, प्रकृति अपने गुनगुने स्पर्श से आपको अभिभूत कर जाती है। बच्चे कभी शरीर पर तो कभी पास में रेत के महल और डायनासौर बनाते रहे, जब कभी आँख खुलती तो बस यही लगता कि कैसे यह गरमाहट और निश्चिन्तता उत्तरभारत और विशेषकर दिल्ली पहुँचा दी जाये।

पिछली यात्राओं में चर्च आदि देखे होने के कारण हमने गोवा और उसके बीचों पर निरुद्देश्य घूमने का निश्चय किया। हमें तो लग रहा था कि हम आदर्श पर्यटक के गुण सीख चुके हैं अतः हमारे द्वारा उठाये आनन्द का अनुभव अधिकतम होगा, पर इस यात्रा में भी कुछ सीखना शेष था, वह भी अपने पुत्र पृथु से।

यद्यपि हम छुट्टी पर थे पर फिर भी कार्य का मानसिक भार कहीं न कहीं लद कर साथ में आ गया था। बच्चों को छुट्टी में पढ़ने के लिये कहना एक खुला विद्रोह आमन्त्रित करने जैसा है, पर हम लोगों के लिये छुट्टी में भी अपने कार्यस्थल से जुड़ाव स्वाभाविक सा लगता है। लगता है कि हम सब किसी न किसी जनम में एटलस रहे होंगे और पृथ्वी के अपने ऊपर टिके होने की याद हमें रह रहकर आती है। या ऐसा हो कि हम पतंगनुमा मानवों को कोई डोर आसमान पर टाँगे रहती है और उस डोर के नहीं रहने पर हमारी अवस्था एक कटी पतंग जैसी हो जाती है, समझ में नहीं आता हो कि हम गिरेंगे कहाँ पर।

जिन दिनों हम गोवा में थे एयरटेल की सेवायें पश्चिम भारत में ध्वस्त थीं। नेटवर्क की अनुपस्थिति हमें हमारे नियन्त्रण कक्ष से बहुत दूर रखे थी। अपने आईफोन पर ही हम अपने मंडल के स्वास्थ्य की जानकारी लेते रहते हैं और समय पड़ने पर समुचित निर्देश दे देते हैं। यदि और समय मिलता है तो उसी से ही ब्लॉग पर टिप्पणियाँ करने का कार्य भी करते रहते हैं। न कार्य, न ब्लॉग, बार बार हमारा ध्यान मोबाइल पर, हमारी स्थिति कटी पतंग सी, मन के भाव चेहरे पर पूर्णरूप से व्यक्त थे।

पृथु को वे भाव सहज समझ में आ गये। वह बोल उठे “नेटवर्क तो आ नहीं आ रहा है तो आपका ध्यान कहाँ है पापाजी।“ वह एक वाक्य ही पर्याप्त था, मोबाइल जेब में गया और पूरा ध्यान छुट्टी पर, बच्चों पर, गोवा पर और सबके सम्मिलित आनन्द पर।

78 comments:

  1. मोबाइल, अक्‍सर ध्‍यान को मोबाइल रखता है.

    ReplyDelete
  2. गोवा मुबारक! नया वर्ष मुबारक!

    ReplyDelete
  3. हमारा ध्यान कहीं भी हो पर बच्चों का ध्यान हमेशा हम पर होता है.......

    ReplyDelete
  4. सही कहा ध्यान कहा है पापा जी
    ......नववर्ष आप के लिए मंगलमय हो
    अग्रिम बधाइयाँ....!

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर

    ReplyDelete
  5. अच्छा ही रहा कि मोबाइल का नेटवर्क गया .... नए वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. बहोत अच्छा लगा आपका ब्लॉग पढकर ।

    हिंदी ब्लॉग
    हिन्दी दुनिया ब्लॉग

    ReplyDelete
  7. "ध्यान कहाँ था" का समुचित उत्तर नहीं दिया आपने, खैर गोवा में ध्यान बाँट ही जाता है अक्सर..

    नववर्ष की शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  8. बहोत अच्छा लगा आपका ब्लॉग पढकर ।

    हिंदी ब्लॉग
    हिन्दी दुनिया ब्लॉग

    ReplyDelete
  9. आप तो घूम लिए,हम बैठे ही रह गए.....ब्लॉगिंग के सहारे !

    ReplyDelete
  10. अच्छा हुआ नेटवर्क ध्वस्त रहा ,कम से कम छुट्टियाँ तो चैन गुजरी होंगी|
    नव वर्ष की पूर्व संध्या पर हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  11. भारतीय काम के समय आनन्‍द की सोचता है और आनन्‍द के समय काम की।

    ReplyDelete
  12. Wow Goa. Hope you are having a gala time out there with family!! Your son looks super cute!!

    God bless and a very Happy New Year!

    ReplyDelete
  13. वैसे ताऊ बनने पर लोग सीरियस हो जाते है :) खैर, बधाई आपको !

    ReplyDelete
  14. हर कैबिनेट में फिट होने वाले लोग हर घर में भी होते हैं! :)
    बच्चा बड़ा होनहार है, नेटवर्क प्रकरण होनहार विरबान के चिकने पत्तों की तरह है.

    ReplyDelete
  15. सबसे बढ़िया है मोबाइल को सालेंट पर रख छोड़ना...फिर दिन में एक आध बार देख लेना अगर बहुत ज़रूरी हो तो.

    ReplyDelete
  16. सार्थक और सामयिक पोस्ट, आभार.

    नूतन वर्ष की मंगल कामनाओं के साथ मेरे ब्लॉग "meri kavitayen " पर आप सस्नेह/ सादर आमंत्रित हैं.

    ReplyDelete
  17. रोचक विवरण ....बच्चे भी सही राह दिखाते हैं कभी ...!!

    ReplyDelete
  18. गोवा के मनोरम तट का आनंद लीजिये . नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  19. गोवा में ध्यानाकर्षण के लिए विभिन्न साधन उपलब्ध है इसलिए दृश्य इन्द्री पर संयम तो कम से डगमगा ही जाता है..मगर बात यही तक रहे तो अच्छा है....
    हिन्दू नव वर्ष की अग्रिम बधाइयाँ...

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर. हम्पी के बारे में आपके लेख का इंतज़ार रहेगा. सीप की रंगोली बड़ी प्यारी लगी. कटी हुई पतंग की स्थिति सौभाग्य से ही मिलती है. काश वह आईफोन भी न रहता.

    ReplyDelete
  21. बिल्‍कुल सही कहा पापाजी का ध्‍यान भटकना नहीं चाहिए ... नववर्ष की अनंत शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  22. यह बात भी उनकी ठीक है .जब छुट्टियाँ मनाने गये हैं उन के साथ तो मन से भी उन्हीं के साथ रहना उचित है !
    नव-वर्ष की हार्दिक शुभ-कामनायें, पूरे परिवार सहित ,आपको !

    ReplyDelete
  23. यह बात भी उनकी ठीक है .जब छुट्टियाँ मनाने गये हैं उन के साथ तो मन से भी उन्हीं के साथ रहना उचित है !
    नव-वर्ष की हार्दिक शुभ-कामनायें, पूरे परिवार सहित ,आपको !

    ReplyDelete
  24. बढ़िया पोस्ट है ,रिश्तों को सहेजने का सरल सुगम उपाय बताया है आपकी पोस्ट ने|

    ReplyDelete
  25. Bache vo sab jan lete hain vo ham chupana chaahte hain ... Gova ka Anand lijiye ...
    Aapko aur pariwar mein sabhi ko nav varsh ki hardik shubh kamnayen ....

    ReplyDelete
  26. सही तो कहा बेटे ने…………:)))……आगत विगत का फ़ेर छोडें
    नव वर्ष का स्वागत कर लें
    फिर पुराने ढर्रे पर ज़िन्दगी चल ले
    चलो कुछ देर भरम मे जी लें

    सबको कुछ दुआयें दे दें
    सबकी कुछ दुआयें ले लें
    2011 को विदाई दे दें
    2012 का स्वागत कर लें

    कुछ पल तो वर्तमान मे जी लें
    कुछ रस्म अदायगी हम भी कर लें
    एक शाम 2012 के नाम कर दें
    आओ नववर्ष का स्वागत कर लें

    ReplyDelete
  27. छुट्टीयां तो बच्चे ही माना सकते हैं.. वैसे आपका नेटवर्क से बाहर होना भी अचा रहा.

    नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  28. संभवतः विवाह के १४वें वर्ष में सब पतियों के ज्ञानचक्षु खुल जाते हों।
    विचारणीय बात..
    मोबाइल को जेब मने ही रखिये और छुट्टियों का आनंद लीजिए.
    नव वर्ष यूँ ही आनंददायक रहे.

    ReplyDelete
  29. अन्तरंग प्रसंग की बेहतरीन झांकी .हमारी लिस्ट में भी गोवा और बनारस देखना बाकी है .वरना कहाँ कहाँ न घूमे हैं हम .नव वर्ष मुबारक हो मय परिवार .ताऊ बनने पर बधाई .

    ReplyDelete
  30. @हम छुट्टी पर थे पर फिर भी कार्य का मानसिक भार कहीं न कहीं लद कर साथ में आ गया था।

    सर मानसिक भार छुट्टियों में मान्य नहीं होता, आप कैसे ले गए.

    ReplyDelete
  31. बहुत बढ़िया....नववर्ष आगमन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  32. इस मौसम में गोवा का आनंद अप्रतिम है..नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  33. शानदार प्रस्तुति...नववर्ष की शुभकामनायें!!!!

    ReplyDelete
  34. रोचक पोस्ट।
    नव वर्ष की अनंत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  35. सही है...ऐसे समय भी निकलना आवश्यक है...जब न मोबाईल हो..न कम्प्यूटर....बस...जहाँ हैं वहीं के हम हैं..

    नव वर्ष पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनायें।

    -समीर लाल

    ReplyDelete
  36. पृथु...नाम तो बड़ा ही सुन्दर है!
    .........
    परिवार के साथ छुट्टियों का आनंद लिजीयेगा..नए साल की अग्रिम शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  37. ताऊ बनने पर आपको बधाई..

    ReplyDelete
  38. ... तभी तो कहा जाता है कि दो कश्तियों में एक साथ पैर नहीं रखना चाहिए॥ अब छुट्टी मनाना है तो बस छुट्टी मनाइये और काम को कुट्टी कहिए :) नववर्ष की शुभकामनाएं॥

    ReplyDelete
  39. प्रवीण जी आपका यात्रा-वृतान्त पढना शुरु किया तो अन्त तक रोचकता के साथ पढा । पृथु की बात सुन कर मुझे याद आया कि जब हम पास होते और माँ कोई किताब पढतीं थी तो हमें बहुत बुरा लगता था । इसी तरह मेरे बच्चों को भी । आपको सपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  40. अच्‍छा किया जो मोबाइल जेब में रख लिया। एके साधे सब सधै।
    आशा है, बच्‍चों को कोई शिकायत नहीं रही होगी।

    ReplyDelete
  41. छुट्टियों का आनंद लीजिये. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  42. सारी चिंताएँ एक तरफ़ और परिवार के साथ छुट्टियाँ एक तरफ़ :)

    नववर्ष की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  43. परिवार के साथ होने पर परिवार के साथ आनंद लेना ही श्रेयस्कर है - हमारे भतीजे सरकार के पापाजी!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  44. आपको व आपके समस्त परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !!!

    ReplyDelete
  45. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  46. नववर्ष की शुभकामनाएँ.....

    ReplyDelete
  47. बच्चों की सुननी ही पड़ेगी.
    'नव वर्ष' आपको सपरिवार मंगलमय हो ,

    ReplyDelete
  48. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  49. पृथु को वे भाव सहज समझ में आ गये। वह बोल उठे “नेटवर्क तो आ नहीं आ रहा है तो आपका ध्यान कहाँ है पापाजी।“ वह एक वाक्य ही पर्याप्त था, मोबाइल जेब में गया और पूरा ध्यान छुट्टी पर, बच्चों पर, गोवा पर और सबके सम्मिलित आनन्द पर।
    देखा बच्चे कितने ज़बर्जस्त प्रेक्षक और दृष्टा होतें हैं .नव वर्ष मुबारक हो सपरिवार आपको .

    ReplyDelete
  50. पृथु भी ब्लॉगर होगा..ब्लॉगर नहीं तो फेसबुकिया कमालर होगा। खोजना पड़ेगा। पहली बार लेखन से ज्यादा पिता-पुत्र की तश्वीर पर मुग्ध हुआ हूँ।
    सभी खुशियों के लिए बधाई। नववर्ष के लिए शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  51. नववर्ष मंगलमय रहे।

    ReplyDelete
  52. बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

    आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  53. Praveen Ji aapko aur aapke parivaar ko naye varsh kii dheron shubhkaamnaein. Nice article.

    ReplyDelete
  54. कभी कभी बिना नेटवर्क के रहना भी ठीक ही होता है ...
    नव वर्ष की बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  55. गोवा वाकई बेहद खूबसूरत है... सपने में आता है अपुन ने अभी तक प्रत्यक्ष नहीं देखा... आज फिर आपकी पोस्ट पढ़ कर याद आ गया....

    ReplyDelete
  56. ब्लॉग जगत मेँ एक समाचार पत्र जैसा भी संचालित हो गया है....
    http://indiadarpan.blogspot.com

    ReplyDelete
  57. छुट्टियाँ सार्थक कर आये
    नया वर्ष मुबारक हो

    ReplyDelete
  58. बहुत अच्छी रचना .. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  59. आपको एवं आपके परिवार को नए वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  60. यही है काम के प्रति निष्ठा और नैष्ठिक कर्म ,काम काम और काम हर जगह काम यहाँ दोनों तरह के मुलाजिम हैं कामकाजी और काम पाजी .

    ReplyDelete
  61. बढ़िया आलेख, हम भी ध्यान रखेंगे...

    ReplyDelete
  62. मोबाईल बंद ही रहे तो छुट्टियों का आनंद है :)

    ReplyDelete
  63. vaah maja aa gaya goa ki sair ka vivran sunkar praveen ji aapki lekhni me koi jaadu sa hai jo bina kisi pause ke padhne par majboor karta hai.pic bhi bahut sundar hai bachchon ki ret me kalakari bhi sarahniye hai.kuch vyastta ke karan blog par der se pahunchi.aap goa ki yatra ke aur chitra bhi post me dikhaaiye.humari bhi purani yaaden taja ho jaayengi.

    ReplyDelete
  64. गोवा में अक्सर ध्यान अंतरध्यान हो जाता है
    नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  65. हम भी अब यही कहतें हैं जी भाई साहब -पलट तेरा ध्यान ध्यान है -अगली पोस्ट कहाँ है ?

    ReplyDelete
  66. नववर्ष आप के लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  67. तो गोवा में मनाया नव वर्ष । हमारी शुभ कामनाएं । एयर टेल की सेवाएं सचमुच ही बंद थीं पश्चिम भारत में ङम बी भुक्तभोगी रहे ।

    ReplyDelete
  68. नववर्ष की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  69. पृथु.........ये नाम तो हमारे भतीजे का भी है :) ....बच्चे पापा के साथ छुट्टियों की कल्पना कर के ही खुश हो जाते हैं और पापा मोबाइल ,कम्प्यूटर और समाचारपत्र की पकड़ से बाहर हो जाएँ .... तब तो उनके लिए लाटरी लग जाती है .... वर्ष में कम-से-कम दो-तीन बार तो पृथु की ये लाटरी लग ही जाया करे यही दुआ है ...:)

    ReplyDelete
  70. Apke blog follow karta hoon thanks to Manish Krishna, commenting for the first time after seeing your photo. You haven't change in last 15-16 years..Prathu is also looking like your. Happy new year.

    ReplyDelete
  71. Its Kids who teach/remind us to live in the moment.

    It was really nice having them over and my studio room still echos their chatter and their paintings are on my studio wall to inspire me :-) Thank you again. Hope to see you all again.

    ReplyDelete
  72. होता है-होता है अक्सर ई फोन जिनके पास हो उनके साथ तो ऐसा होना बहुत ही आम बात है :)

    ReplyDelete