10.12.11

आईपैड या मैकबुक एयर

एक मित्र मिले, हमारा नया मैकबुक एयर देखे, प्रभावित हुये, बोले बड़ा हल्का है, पर जाते जाते संशय की एक कील ठोंक गये, कहे कि हल्का ही लेना था तो आईपैड ले लेते, हल्का भी पड़ता, सस्ता भी। बात ठीक ही थी, सहसा लगा कि कहीं गलत निर्णय तो नहीं ले लिया है। ऐसा नहीं था कि निर्णय प्रक्रिया में यह तथ्य ध्यान में नहीं था, पर किसी और के आत्मविश्वास को त्वरित झुठलाया भी नहीं जा सकता है।

पहले आईपैड के उन तीन पक्षों को समझ लें जो मैकबुक एयर पर भारी हैं। पहला, मैकबुक एयर के १००० ग्राम की तुलना में आईपैड का भार ७०० ग्राम है। ३०० ग्राम की कमी के कारण आप आईपैड को लम्बे समय तक एक हाथ से पकड़ कर उपयोग में ला सकते हैं, कोई पुस्तक पढ़ सकते हैं। लैपटॉप से पुस्तक पढ़ने के प्रयास में दोनों हाथ लगाने पड़ते हैं, पर उसमें भी लम्बे समय तक पढ़ भी सकते हैं और पढ़ने के बाद पुस्तक की तरह बन्द भी कर सकते हैं। दूसरा, आईपैड की बैटरी १० घंटे चलती है जबकि लैपटॉप की ७ घंटे, ३ घंटों का अतिरिक्त समय आपको आईपैड बिना चार्जर कहीं भी ले जाने की सुविधा देता है। तीसरा, यदि आप आईपैड का ६४ जीबी व वाई-फाई वाला मॉडल लें तब भी आईपैड लगभग ४६,००० रु का पड़ता है, मैकबुक एयर से २०,००० रु सस्ता।   

हिन्दी के कीबोर्ड की अनुपस्थिति आईपैड का सर्वाधिक निर्बल पक्ष था। यह एक प्रमुख कारण था कि आईपैड के बारे में और अधिक नहीं सोच सका। यद्यपि हिन्दीराइटर सॉफ्टवेयर के माध्यम से हिन्दी फॉनेटिकली टाइप की जा सकती थी पर लम्बे समय के लिये अंग्रेजी की वैशाखियों पर चलना बड़ा ही असहज और कठिन था। मैकबुक एयर में देवनागरी इन्स्क्रिप्ट कीबोर्ड में टाइप करने का आनन्द आईपैड में नहीं है। अब तो आईपैड में हिन्दी कीपैड आ भी  गया है तो भी स्क्रीन पर लम्बे समय के लिये टाइप करना बड़ा ही असुविधाजनक है। लगभग आधा स्क्रीन कीपैड से घिर जाने के बाद एक पूरा पैराग्राफ भी नहीं दिखता है, इससे लेख और विचारों की तारतम्यता बनाये रखना कठिन होता है। आईपैड पर वाह्य कीबोर्ड का भी प्रावधान है, पर  दो भागों को सम्हालने और समेटने का कष्ट देखते हुये मैकबुक एयर आईपैड की तुलना में कहीं अच्छा विकल्प है। यदि वाह्य कीबोर्ड और स्क्रीन कवर के भार व मूल्य को आईपैड में जोड़ दें तो हल्कापन घटकर १०० ग्राम व सस्तापन घटकर १०,००० रु भर रह जाता है। 

आईपैड की स्क्रीन लगभग २ इंच छोटी है। वैसे तो बहुत सारे कार्यों के लिये बड़ी स्क्रीन की आवश्यकता ही नहीं पड़ती है, पर कई कार्यों के लिये स्क्रीन पर अधिक सूचना की उपस्थिति बड़ी उपयोगी होती है। लैपटॉप की निकटता, आँखों पर बनने वाले ठोस कोण, एक दृष्टि में दृष्टिगत पठनीय सामग्री और विशुद्ध लेखकीय बाध्यताओं के कारण १२ इंच की स्क्रीन ही सर्वोत्तम लगी।

आईपैड में बाह्य सम्पर्कों का नितान्त अभाव है, कोई यूएसबी नहीं, बाहर की फाईलों पर बड़ा पहरा है, संगीत आदि भी केवल आईट्यून के माध्यम से। अपनी फाइलों को स्थानान्तरित करने में आपका पसीना निकल आयेगा। वहीं दूसरी ओर मैकबुक एयर एक पूर्ण लैपटॉप होने के कारण पहले दिन से ही एक सुदृढ़ सहयोगी की तरह साथ में लगा है। साथ ही साथ अधिकतम ६४ जीबी के आईपैड में अपनी सारी फाइलें रख पाना संभव नहीं लगा। मैकबुक एयर में १२८ जीबी और यूएसबी के माध्यम से ५०० जीबी का साथ होने से सारी फाइलें एक जगह पर ही रखने का आराम है। यदि प्राथमिक और एकल कम्प्यूटर के लिये चयन करना हो तो आईपैड की तुलना में मैकबुक एयर कोसों आगे है।

आईपैड या कहें कि किसी भी टैबलेट के लिये उसे सम्हालना, सहेजना, रखना और यात्राओं में सुरक्षित रखना थोड़ा कठिन कार्य है, कारण स्क्रीन का खुला हुआ होना। उसके साथ में एक पैडेड बैग रखना अतिआवश्यक है। वहीं दूसरी ओर मैकबुक एयर की एल्यूमिनियम एलॉय काया स्क्रीन को न केवल सुरक्षित रखती है वरन लाने ले जाने भी सुविधाजनक है। चार-पाँच दिन तो एक फोल्डर में रखकर मैकबुक एयर को ऑफिस ले गया था। एक सोफे या कुर्सी पर बैठकर व लैपटॉप को गोद में रखकर घंटों कार्य कर सकने की सहजता आईपैड या किसी अन्य टैबलेट में अनुपस्थित है।

कहने को तो सैमसंग का गैलेक्सी टैब आईपैड से भी १५० ग्राम हल्का है, पर बात जब कार्यगत उपयोगिता की हो मैकबुक एयर बेजोड़ है। लगता है आने वाले मित्रों और उनके संशयों के समक्ष मेरे निर्णय को सुस्थापित रख पायेगा मैकबुक एयर। तीन माह बाद भी पहली नज़र का प्यार अपनी कसक बनाये हुये है।

64 comments:

  1. मेरे पास दोनों है लेकिन जब मुझे किसी छोटी यात्रा पर जाना होता है जहाँ पर सिर्फ इमेल जैसी जरूरत होती है, आई पैड रखता हूँ. लेकिन जब कोई रिपोर्ट/डोकुमेंट/प्रजेंटेशन बनानी होती है तब माइक बुक एयर रखता हूँ. दोनों एक दूसरे के स्थानापन्न नहीं है. आई पैड पढ़ने के लिए, मेल देखने, मैप देखने के लिए अच्छा है, लेकिन जब कुछ बनाना हो तब असुविधाजनक है.

    ReplyDelete
  2. ठीक बात लगी, मुझे लगता है कि जिस में आप सुविधा महसूस करते हों वही साधन प्रिय होना चाहिये।

    ReplyDelete
  3. डैस्कटाप दा जवाब नईं \")
    -इसे कहीं ले जाने की ज़रूरत ही नहीं होती सो, कितने भी किलो का हो कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता.
    -GB को छोड़ो, आइए टेराबाईट की बात करें...
    -स्क्रीन चाहे 72 इंच का लगाओ, कोई पूछने वाला नहीं.
    -कीबोर्ड व माउस को जहां मर्जी घुमाओ फिराओ.
    -इसे लेकर बिस्तर में जाने की ज़रूरत नहीं, यह अपनी औकात में रहता है :)
    -इसे चार्ज करने की भी ज़रूरत नहीं होती, सीधी पेड़ से ही अमरूद तोड़ कर खाइए न
    -इतने कम पैसे में इतना सारा माल, अब दुकानवाले की जान लेंगे क्या
    -भाषा-वाषा को गोली मारिए, ये तो कई-कई OS चला मारता है और हर तरह की बोलियां बोल सकता है
    -इसमें USB व पैरेलल पोर्टों की बहार होती है, जितना चाहो लगाओ
    -ठोक बजा के भी देख लो, इसके जित्ता पक्का कुछ भी नहीं....

    प्रवीण जी, अगली बार वो सज्जन दोबारा आएं तो ये टिप्पणी पढ़वाइगा उन्हें :)

    ReplyDelete
  4. आईपैड और मैकबुक दोनों की तुलना बेमानी है,लेकिन अधिकतर लोग इस बात पर धोखा खा जाते हैं कि लैपटॉप के बजाय टैब ही ले लिया जाय !

    जो काम (सहजता,गति,पूर्णता) लैपटॉप दे सकता है वह आईपैड नहीं.इसी प्रकार हलके-फुल्के काम के लिए जो आनंद आई पैड में है ,वह लैपटॉप में नहीं !

    ऐसे ही आईफोन का अपना अलग महत्व है.

    आप मैकबुक के मजे लेते रहें ,हमें चिढाते रहें !!

    ReplyDelete
  5. @ काजल कुमार
    आपकी बातों से मन हल्का हुआ क्योकि मैंने भी भारी-भरकम डेस्कटॉप दोबारा लिया हुआ है,जबकि टैब या लैपटॉप लेने के पूरे-पूरे आसार थे,सलाहें थीं !

    ReplyDelete
  6. इन सब तकनीकी जानकारी से लाभ उठा रहा हूं।

    ReplyDelete
  7. टेक्नो-जगत से परिचय हो रहा है,आपके आलेखों के माध्यम से,सादर धन्यवाद.

    ReplyDelete
  8. तुलात्मक अंतर स्पष्ट उजागर किया है |

    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  9. यदि आपको ठीक लगे तो माडरेशन का विकल्प हटाने की अनुकम्पा करें | अन्यथा .......

    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  10. टैबलेट या लैपटाप खरीदना इस बात पर निर्भर करता है की इस्तेमाल का मूल उद्देश्य क्या है। जो लोग इंटरनेट का अधिकतम उपयोग पढ़ने के लिए करते हैं उनके लिए टैबलेट एक बेहतरीन ऑप्शन है। पर जो भी लोग लिखने के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं उनके लिए टैबलेट में कीबोर्ड का न होना बेहद असुविधाजनक है।

    जो भी लोग लिखते हैं चाहे पर्सनल काम के लिए जैसे ब्लॉग इत्यादि...या फिर ऑफिस के काम के लिए जैसे वर्ड डॉकयुमेंट या फिर पावरपोईंट उनके लिए मैक ऐयर ज्यादा सही है। पावरपैक्ड परफोरमन्स है...छोटा है और कहीं भी ले जाने में सुविधाजनक है।

    ऐसे बहुत से लोग हैं जो इंटरनेट अधिकतर सिर्फ कुछ पढ़ने के लिए इस्तेमाल करते हैं, उनके लिए आई पैड ठीक है।

    आपने आईपैड न लेकर बहुत अच्छा किया है, वरना लिखने में इतने झंझट होती तो हमें मिलती वाली अच्छी अच्छी टिप्पणियां तो गयी थीं। :) :)लेखन भी कम हो जाता। लिखना जितना सरल होगा, लिखने का उतना ही मन करेगा।

    जिनहोने ऐसा कहा है, उन्होने आईपैड पर टाइप करके नहीं देखा है। अपनी अपनी जरूरतें होती हैं...वो मुख्यतः पढ़ते होंगे...आप लिखना भी उसी मात्र में कमोबेश करते हैं।

    मैकएयर इज द राइट चॉइस...आहा! :D

    ReplyDelete
  11. दोनों अलग प्रोडक्ट है... जैसी जरुरत वैसा चुनाव...

    ReplyDelete
  12. कई सारी तकनीकी जानकारियां तो आपकी पोस्ट से मिली पर मेरा अनुभव कहता है कि आईपैड पर टाइप करना थोडा मुश्किल होता है ...... आईपैड पर कुछ देखना और पढना ही सुविधाजनक लगता है बस ..........

    ReplyDelete
  13. मेरा परचेजिंग पावर तो अभी दोनों ही नायाब चीज का नहीं है -कोई अप्रवासी/प्रवासी गिफ्ट दे दे तो ले लूँगा -मगर मैं मांगता भी नहीं ! गिफ्ट भी कोई मांग के ली जाती है .लोग बाग़ भी यही चाहते हैं मणि मुंह खोलूँ मगर मैं भी एक ही हूँ अपने ढंग का ---काश वे लोग आपका ब्लॉग और मेरी यह टिप्पणी पढ़ पाते ....
    दूसरा गूगल ट्रान्सलिट्रेशन जिंदाबाद !

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छा लेख..
    दोनों की महत्ता अपनी अपनी जगह सही है....
    चुनने वाले को अपनी जरुरत के हिसाब से चुनना चाहिए न की किसी और के नजरिये से....

    ReplyDelete
  15. मेरा परचेजिंग पावर तो अभी दोनों ही नायाब चीज का नहीं है -कोई अप्रवासी/प्रवासी गिफ्ट दे दे तो ले लूँगा -मगर मैं मांगता भी नहीं ! गिफ्ट भी कोई मांग के ली जाती है .लोग बाग़ भी यही चाहते हैं मणि मुंह खोलूँ मगर मैं भी एक ही हूँ अपने ढंग का ---काश वे लोग आपका ब्लॉग और मेरी यह टिप्पणी पढ़ पाते ....
    दूसरा गूगल ट्रान्सलिट्रेशन जिंदाबाद !

    ReplyDelete
  16. मैं अरविन्द मिश्रा जी की टिप्पणी पर सहमत हूँ ..

    जानकारी के लिए !
    आभार!

    ReplyDelete
  17. काजल भाई की बात ने तो अपनी मन की बात ही कह दी है।

    ReplyDelete
  18. दोनों के अपने-अपने फायदे हैं, जिसका जैसा मिजाज़ उसकी वैसी पसंद...

    कोलकाता जैसे हादसों के ज़िम्मेदार हम हैं!

    ReplyDelete
  19. अपनी जेब अपनी-अपनी पसंद..सही बात यह है कि आप की तकनीकी अनुभव का फायदा हमें होरहा है..सार्थक आलेख...

    ReplyDelete
  20. chahti hun lena ... per abhi time dena hoga

    ReplyDelete
  21. u made the right choice :)

    ReplyDelete
  22. i have understood one thing
    that in this world no one can stand as an replacement for any one
    whether its human or machine

    for the purpose of tech discussions such post are informative

    but
    people still are using windows 98 on a desktop and are happy with it

    ReplyDelete
  23. बढिया जानकारी।

    ReplyDelete
  24. बतर्ज़े सर्फ फेम ललिता जी,

    ठीक कहते हैं प्रवीण जी, मैकबुक एयर खरीदने में ही समझदारी हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  25. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    ReplyDelete
  26. अंत में फ़ैसला यही होता है कि आईपैड की जगह लैपटॉप और लैपटॉप की जग डेस्कटॉप उत्तम है :)

    ReplyDelete
  27. अभी तो हम एल ई डी मानिटर से भी पूरी तरह अभ्यस्त नहीं हुए तो ई जानकारी संस्कृत लागे है :)

    ReplyDelete
  28. पहला प्यार तो पहला और बहुत खास ही होता है, उससे इधर-उधर क्या सोचना।प्यार को निभाने का मजा ही कुछ खास है।

    ReplyDelete
  29. ये जानकारियाँ जरुर लाभप्रद रहेंगी.

    ReplyDelete
  30. अच्छा विष्लेषण. सच बात है दोनों का प्रयोग अलग अलग है. यह कहना भी गलत ना होगा कि टैबलेट लैपटाप का पर्याय नहीं है बल्कि एक अलग केटेगरी है.

    ReplyDelete
  31. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    ReplyDelete
  32. जिया ललचाये..हाथ न आये।

    ReplyDelete
  33. आपकी इस पोस्‍ट के बहाने दोनों मशीनों के बारे में तुलनात्‍मक जानकारी मिली। वह भी सरल भाषा में।

    ReplyDelete
  34. दुल्हन वही जो पिया मन भाये......
    सरल शब्दों में सहज तुलना.

    ReplyDelete
  35. .
    .
    .
    मुझे तो लगता है कि 'एप्पल' वालों को कम से कम आपके 'मैकबुक एयर' खरीदने में खर्च पैसे तो वापस कर ही देने चाहिये... पिछले तीन महीने में काफी गुणगान-विज्ञापन कर चुके हैं आप उनके उत्पादों का... :))


    ...

    ReplyDelete
  36. सटीक तुलनात्मक अध्ययन विश्लेषण किया है आपने दोनों के गुण दोषों का .

    ReplyDelete
  37. बेहतर हमेशा बेहतर ही होता है .

    ReplyDelete
  38. Mujhe lagta hai aap dheere dheere is blog ko Hindi Ka Technology blog bana sakte hain....kaafi log is tarh kii cheejein padh kar apne doubts clear karna chahte hain. Thanks.

    ReplyDelete
  39. बहुत अच्छी तरह तकनीकी अंतर बताया...आपका मैक बुक वर्णन और प्रेम शायद किसी दिन उसे खरीदने के लिये मज़बूर कर देगा..

    ReplyDelete
  40. तुलनात्मक विवेचन अच्छा रहा मैने आयपै़ड तो देखा है पर मैक-एयर नही तोकुछ कह नही सकती । मेरे लिये तो मेरा सोनी का लैपटॉप बढिया है ।

    ReplyDelete
  41. आशीष की तरह ही हम भी वक्त जरुरत बदलते रहते हैं किन्तु सुविधाजनक लैपटॉप ही लगता है अभी...कभी मीटिंग्स वगैरह में बैकवर्ड न नजर आयें तो आई पैड मदद कर देता है :)

    ReplyDelete
  42. मौके की नजाकत देखते हुए दोनों ही रखे हैं लेकिन इस्तेमाल और साथ ज्यादा लैपटॉप ही देता है...कलाईंट मीटिंग वगरह में तो खैर आई पैड लेकर बैठना फैशन सिंबाल बन गया है...एक रखना हो तो शायद लैपटॉप ही रखूँ...

    ReplyDelete
  43. kai mahino baad lautna hua hai mera blog jagat me , sabse pahle aapko hi padh rahi hoon ,bade dhyan se ek ek baat samjh rahi thi ,ye jaankaria bahut kaam ki hai .

    ReplyDelete
  44. सर्व शक्तिमान सर्वोत्कृष्ट की श्रेष्ठता का सिद्धांत यहाँ भी काम कर रहा है .

    ReplyDelete
  45. very valuable information! Thanks!

    ReplyDelete
  46. हमे तो आईपैड बहोत पसंद है !

    जानकारी के लिये शुक्रिया !

    http://hindiduniyablog.blogspot.com/

    ReplyDelete
  47. मेरा टारगेट अभी तो मैक एयर बुक ही है...जबतक कोई इससे ज्यादा मस्त चीज़ नहीं दिखती :)

    ReplyDelete
  48. वाह ...बहुत ही अच्‍छी जानकारी के साथ बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  49. हिन्दी के विना हमारे जैसों के लिए आी पैड की कोई उपयोगिता नहीं

    ReplyDelete
  50. आपके ब्लॉग का नया प्रकार नै आकृति आपकी तरह ही सारली लिए है आकर्षक आकर्षक और आकर्षक .पसंद अपनी अपनी ख़याल अपना अपना यह अभिनव प्रोद्योगिकी नित नया परोसती रहगी .सब खेल शौक और पैसे का है .प्राथमिकता का है कोई सा टॉप हो लैप या डेस्क .

    ReplyDelete
  51. आपसे काफी जानकारी मिली | मेरेब्लोग पर स्वागत है आइयेगा |

    ReplyDelete
  52. उत्तम जानकारियां ---आभार ,

    ReplyDelete
  53. उत्तम जानकारियां ---आभार ,

    ReplyDelete
  54. सस्ता सुंदर सबसे प्यारा
    सबसे अच्छा डेस्कटाप हमारा ,..बढ़िया जानकारी..

    मेरे पोस्ट में आने के लिए आभार ,,......

    ReplyDelete
  55. अच्छा किया आप ने बता दिया

    ReplyDelete
  56. comparison बढ़िया है :) but depends on the basic purpose you need it for :)

    ReplyDelete
  57. bahut hi gyanverdhak lekh, technicalu lekh ke liye aapka aabhar
    dono ke hi apne apne fayde hai

    ReplyDelete
  58. Good and useful comparative study...Thanks Sir

    ReplyDelete
  59. अभिनव प्रोद्योगिकी क्या रूपाकार ले रही है इसे बा -खूबी समझा रहे हैं आप .

    ReplyDelete
  60. याने, मेरे काम का कुछ भी नहीं है इस विवरण में। जो जितना कम जाने, जिसकी जरूरतें जितनी कम हो, वह उतना ही सुखी।

    ReplyDelete
  61. आपके इस लेख पर काफी दिन बाद टिप्पणी कर रहा हूँ। मॅकबुक ऍयर (या अल्ट्राबुक) और आइपैड (या कोई और टैबलेट) अपनी-अपनी जगह हैं। एक की जगह दूसरा नहीं ले सकता।

    जैसे आपने कई चीजें गिनाई वैसे ही एक मैं कहना चाहूँगा, टैबलेट पर लेटे-लेटे वेब सर्फ कर सकते हैं अल्ट्राबुक पर नहीं।

    ReplyDelete