2.7.14

कल्पना


उत्कर्षों को छूती इच्छा,
मात्र कल्पना का आच्छादन 
निष्कर्षों से शून्य धरातल,
जाने तुमसे क्या पाना है ?

बन्द नयन में मेरे तेरी,
छिपी हुयी है रूप-धरोहर 
मन में तेरा पूरा चित्रण,
सच में लेकिन क्या जाना है ?

कभी बैठ एकान्त जगह,
तू हँसती हैमैं सुनता हूँ 
इन स्वप्नों के अर्धसत्य को,
कब तक यूँ ही झुठलाना है ?

अथक कल्पनाअतुल समन्वय,
मन भावों की कोमल रचना 
इस प्रतिमा में लेकिन जाने,
कैसा रंग चढ़ाना है ?

23 comments:

  1. कल्पनाशील मन क्या क्या रचे ....? यथार्थ हर बार सामने आ जाता है

    ReplyDelete
  2. कल्पना के सच को चित्रित करती कविता. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  3. आप की ये खूबसूरत रचना...
    दिनांक 03/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर लिंक की गयी है...
    आप भी इस हलचल में अवश्य आना...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर...

    ReplyDelete
  4. Kya baat hai kya baat hai ...meri bhi saheli hai Kalpana lekin aapki Kalpana kuch khaas hai :-)

    ReplyDelete
  5. अथक कल्पना व अतुल समन्वय वाले मन भावों की कोमल रचना उतनी ही सुंदर भी है।

    ReplyDelete
  6. उत्कर्षों को छूती इच्छा,
    मात्र कल्पना का आच्छादन ।
    निष्कर्षों से शून्य धरातल,
    जाने तुमसे क्या पाना है ?
    ....वाह...लाज़वाब अहसास...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. अथक कल्पना, अतुल समन्वय,
    मन भावों की कोमल रचना ।
    इस प्रतिमा में लेकिन ,
    कैसा रंग चढ़ाना है ?
    .......... रंगों की खोज में कई बार मन भी रंग जाता है तो बरबस ये प्रश्‍न उभर आता है अंतस में

    ReplyDelete
  8. सुन्दर शब्दों का संयोजन
    संयोजन में अद्‍भुत लय भी
    लय में गुंफित भाव अनोखे
    इस कविता में सब पाना है।

    ReplyDelete
  9. एक अलौकिक सौन्दर्य और माधुर्य है कविता में. राग झिंझोटी की तरह लयबद्ध।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर.....

    ReplyDelete
  11. कल्पना अति प्रिय,प्यारी,सुमधुर।
    छुते ही उड़ जाती है,परियों की भांति।
    अति सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  12. अथक कल्पना, अतुल समन्वय,
    मन भावों की कोमल रचना ।
    इस प्रतिमा में लेकिन जाने,
    कैसा रंग चढ़ाना है ..
    प्रेम के रंगों के सिवा और कोई रंग स्थाई कहाँ होते हैं ... भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  13. अति सुंदर प्रस्तुति ,,,,

    ReplyDelete
  14. सुन्दर लालित्यमय कविता ...हाँ कुछ शब्द-युग्मों का समन्वय नहीं बैठता....

    ReplyDelete
  15. Is komal rachana par kewal prem ka rang chadhana hai

    ReplyDelete
  16. कल्पना की अतिशयता, यथार्थ से दूर होती है।

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  18. http://www.parikalpnaa.com/2014/07/blog-post_3274.html

    ReplyDelete
  19. सुन्‍दरता के अाकर्षण में अर्धसत्‍य ही है। यही विचलित करता है।

    ReplyDelete
  20. सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  21. अतुल समन्वय

    ReplyDelete
  22. निष्कर्षों से शून्य धरातल,
    जाने तुमसे क्या पाना है ?
    ..लाज़वाब ...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete