17.8.11

मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था

मिला था मुझे एक सुन्दर सबेरा,
मैं तजकर तिमिरयुक्त सोती निशा को,
प्रथम जागरण को बुलाने चला था,
मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।

विचारों ने जगकर अँगड़ाइयाँ लीं,
सूरज की किरणों ने पलकें बिछा दीं,
मैं बढ़ने की आशा संजोये समेटे,
विरोधों के कोहरे हटाने चला था ।
मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।१।।

अजब सी उनींदी अनुकूलता थी,
तिमिर में भी जीवित अन्तरव्यथा थी,
निराशा के विस्तृत महल छोड़कर,
मैं आशा की कुटिया बनाने चला था ।
मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।२।।

प्रतीक्षित फुहारें बरसती थीं रुक रुक,
पंछी थे फिर से चहकने को उत्सुक,
तपित ग्रीष्म में शुष्क रिक्तिक हृदय को,
मैं वर्षा के रंग से भिगाने चला था ।
मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।३।।

कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।४।।

58 comments:

  1. विचारों ने जगकर अँगड़ाइयाँ लीं,
    सूरज की किरणों ने पलकें बिछा दीं,
    मैं बढ़ने की आशा संजोये समेटे,
    विरोधों के कोहरे हटाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था

    हर पंक्ति उजास और उल्लास की सोच लिए .......पढ़कर बहुत ही अच्छा लगा.....

    ReplyDelete
  2. I guess this is first time I am reading your poetry and just like your proses it is equally fantastic.

    Lines are full of potency and gives a sense of luminosity to the reader.
    Loved it as ever !!!

    ReplyDelete
  3. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था

    नई रौशनी ..नवल चेतना युक्त ...बहुत सुंदर उद्गार ह्रदय के ....!!

    ReplyDelete
  4. भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था !

    बढ़िया अभिव्यक्ति ....शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  5. बहुत मनभावन कविता -आशा ,विश्वास और उत्साह से लबरेज.......

    ReplyDelete
  6. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।४।।

    जीवन इसी का नाम तो है कि हम अपने मन के निराशावादी भावों को भुलाकर हमेशा नए जोश के साथ आगे बढ़ते रहें ....!

    ReplyDelete
  7. भाई पाण्डेय जी बहुत ही सुंदर कविता बधाई |have a nice day

    ReplyDelete
  8. भाई पाण्डेय जी बहुत ही सुंदर कविता बधाई |have a nice day

    ReplyDelete
  9. वर्तमान परिदृश्‍य पर सटीक कविता, बधाई।

    ReplyDelete
  10. beautiful..looking forward to yr recital on 10th seop.

    ReplyDelete
  11. सामयिक रचना! आपके प्रयास निरर्थक नहीं होंगे,शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  12. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।। आशावादी स्वर ज़िन्दगी के पटरी एक नया जोश लिए ,गीत का हर बंद अंतरा एक निश्चय भाव लिए आगे बढ़ता है गेयता लिए सांगीतिक लय ताल लिए .सुन्दर मनोहर सांगीतिक बंदिश के योग्य गीत .बधाई ,आभार सांझा करने के लिए .
    . August 16, 2011
    उठो नौजवानों सोने के दिन गए ......http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    सोमवार, १५ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ लिया है (दूसरी किश्त ).
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    त्रि -मूर्ती से तीन सवाल .

    ReplyDelete
  13. बहुत ही प्यारी रचना,गंभीर सोच को सरलता व खूबसूरती से पिरोया है आपने...

    ReplyDelete
  14. मिला था मुझे एक सुन्दर सबेरा,
    मैं तजकर तिमिरयुक्त सोती निशा को,
    प्रथम जागरण को बुलाने चला था,
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।

    वाह! प्रवीन जी,
    गीत की जितनी भी प्रसंशा की जाय कम है ! हर पंक्ति वर्तमान सन्दर्भों की संवेदना बड़ी प्रबलता से मुखरित कर रही है !
    मेरा साधुवाद स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  15. धरा का हर कण , प्रकाश पुंज , चिन्तनशील और देदीप्यमान हो
    कर सके समूल नाश, तिमिर और तमस का, हम ऐसे प्रकाशवान हो

    सुँदर गीत .

    ReplyDelete
  16. तम ज़रूर मिटेगा .. अच्छी आशावादी रचना .. प्रयास जारी रहना चाहिए ..

    सुन्दर गीत

    ReplyDelete
  17. वाह ! गुनगुनाकर डालिए इसे.

    ReplyDelete
  18. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था... nai subah jagmagane ko hai

    ReplyDelete
  19. अन्ना जी को पूर्ण समर्थन विदित होता है, इस कविता से . भ्रष्टाचार के तम को वे भी मिटाने चले हैं, सामयिक बात लिखी है

    ReplyDelete
  20. भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था !

    वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...।

    ReplyDelete
  21. वाकई जागने का समय तो हैं ही. बहुत प्रेरणा वर्धक मन-गीत. प्रवीन भाई.:-)

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  23. सच बाते, ऐसा भी होता ही है।

    ReplyDelete
  24. एक बिलकुल अलग सोच ...... अच्छा लगा पढ़ना .......

    ReplyDelete
  25. विचारों ने जगकर अँगड़ाइयाँ लीं,
    सूरज की किरणों ने पलकें बिछा दीं,
    मैं बढ़ने की आशा संजोये समेटे,
    विरोधों के कोहरे हटाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था
    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  26. क्या बात है...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...आनन्द आ गया.

    ReplyDelete
  27. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था

    bahut hi sundar abhivyakti......thanks.

    ReplyDelete
  28. panktiyan badia hai .... achi lagi

    ReplyDelete
  29. धुँधली हुई दिशाएँ, छाने लगा कुहासा,
    कुचली हुई शिखा से आने लगा धुआँ-सा।
    कोई मुझे बता दे, क्या आज हो रहा है,
    मुँह को छिपा तिमिर में क्यों तेज़ रो रहा है?

    --दिनकर

    ReplyDelete
  30. विरोधों के कोहरे हटाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था .
    -
    कविता मन को प्रमुदित करती है,लेकिन एक बात नहीं समझ पा रही हूँ -'चला था' के स्थान पर 'चला हूँ ' क्यों नहीं कर सके आप ?
    बीत गई सो बात गई .अब वर्तमान में चलिये बहुत लोग साथ होंगे !

    ReplyDelete
  31. कवता तो अपनी जगह सुन्‍दर है ही किन्‍तु आपकी शब्‍दावली हिन्‍दी के अपने मूल स्‍वरूप में जीवित रहने का भरोसा दिलाती है।

    ReplyDelete
  32. वाह!! सुंदर शव्दावली व सार्थक भावपूर्ण रचना...व काव्य कला में भी सौंदर्यपूर्ण ...बधाई..
    ----ये 'मैं' कौन है जी.??. यदि गिरधारी जी के अनुसार अन्ना हैं तो अभी से था क्यों..अभी तो चल ही रहा है ...हूँ या है ..हो तो सटीक रहेगा...

    ReplyDelete
  33. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था

    परिपक्व उम्र की सकारात्मक सोच.अति सुंदर.

    ReplyDelete
  34. निराशा के विस्तृत महल छोड़कर,
    मैं आशा की कुटिया बनाने चला था

    सुन्दर शब्द संयोजन और बेहतरीन भाव

    ReplyDelete
  35. शब्द शब्द आशा का संचार करते हुए मानो कह रहा है,
    तमसो मा ज्योतिर्गमय ।

    ReplyDelete
  36. मिला था मुझे एक सुन्दर सबेरा,
    मैं तजकर तिमिरयुक्त सोती निशा को,
    प्रथम जागरण को बुलाने चला था,
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।
    kya gazab ka likha hai.......wah.

    ReplyDelete
  37. नमस्कार प्रवीण जी ...
    इस लाजवाब रचना को पढ़ कर जैसे अँधेरा मिट रहा है ... बहुत ओज़स्वी लयबद्ध ... अति सुन्दर ...

    ReplyDelete
  38. बहुत सुन्दर कविता।

    प्रवीण जी आपका लेखन और कवितायें देखकर लगता है जैसे किसी उच्च कोटि के कवि की रचनायें हैं। अफसर श्रेणी के लोगों द्वारा ऐसी कविताओं के सृजन कम ही देखने को मिलता है।

    ReplyDelete
  39. .

    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था...

    Lovely creation !

    .

    ReplyDelete
  40. आशा का उजास फ़ैलाती खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  41. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।४।।

    रचना के भाव, शब्द संयोजन, लय मन में एक अजीब ताज़गी भर देती है..अद्भुत प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  42. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।४।।
    aapki kavita mujhe behad pasand hai ,padhkar jo khushi milti hai wo shabdo me main byan nahi kar sakti ,ati uttan ,saargarbhit baate hai .

    ReplyDelete
  43. वाह बड़ा प्यारा गीत है। याद कर गुनगुनाना, मित्रों को सुनाना चाहिए।

    ReplyDelete
  44. इस दौर में सात्विक सौन्दर्य भारतीय ऊर्जस्विता के प्रतीक बने हुएँ हैं अन्नाजी ..अन्ना देख रहे खिड़की से,
    दुबक रहे राजा व कलमाड़ी,
    धक्का मार रहे सब नेता,
    कीचड़ में फंसी सत्ता की गाड़ी . अन्ना के हैं आदमी चार ,जिनसे डरती है सरकार ..
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था
    17.8.11
    मिला था मुझे एक सुन्दर सबेरा,
    मैं तजकर तिमिरयुक्त सोती निशा को,
    प्रथम जागरण को बुलाने चला था,
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ।।
    . सार्थक टिप्पणी के लिए आभार प्रवीण जी ,"एक सेहत हज़ार नियामत " ..http://veerubhai1947.blogspot.com/http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    पन्द्रह मिनिट कसरत करने से भी सेहत की बंद खिड़की खुल जाती है .
    Thursday, August 18, 2011
    Will you have a heart attack?
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  45. अँधेरे का अस्तित्व इत सकें न सकें पर प्रकाश का अस्तित्व जगा ज़रूर सकते हैं...
    एक लकीर को छोटी करने के लिए उसे मिटाना ही समाधान नहीं है, उसके साथ एक बड़ी लकीर बनाना ही महानता है..

    ReplyDelete
  46. विचारों ने जगकर अँगड़ाइयाँ लीं,
    सूरज की किरणों ने पलकें बिछा दीं,
    मैं बढ़ने की आशा संजोये समेटे,
    विरोधों के कोहरे हटाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला था ....आशा उल्लास और विश्वास से परिपूर्ण सुन्दर रचना......

    ReplyDelete
  47. हर पंक्ति खूबसूरत है और प्रेरणा दायक भी..
    नई ओज और सोच के लिए आपकी लेखनी को सलाम ..!!

    ReplyDelete
  48. कहीं मन उमंगें मुदित बढ़ रही थीं,
    कहीं भाव-वीणा स्वयं बज रही थीं,
    भुलाकर पुरानी कहीं सुप्त धुन को,
    नया राग मैं गुनगुनाने चला था ।
    मैं अस्तित्व तम का मिटाने चला
    aaj ke sandarbh mein to yah bahut hi jaruri hai..wakai kisi naye rag ki jarurat hai

    ReplyDelete
  49. behatareen prastuti...dhanyawad

    ReplyDelete
  50. क्या बात है!!! :)

    ReplyDelete
  51. अच्छी कविता। साधुवाद।

    ReplyDelete