10.8.11

संग्रहण और प्रवाह

मानव मस्तिष्क की एक क्षमता होती है, स्मृति के क्षेत्र में। बहुत अधिक सूचना भर लेने के बाद यह पूरी संभावना रहती है कि आगत सूचनायें ठहर नहीं रह पायेंगी और बाहर छलक जायेंगी। यह न हो, इसके लिये बहुत आवश्यक है कि उन्हें लिख लिया जाये। तीक्ष्ण बुद्धि के स्वामी भी स्मृति लोप से ग्रसित रहते हैं, जोर डालते हैं कि क्या भूल रहे हैं? अतः जिस समय जो भी विचार आये, लिख लिया जाये। यह आप निश्चय मान लीजिये यदि वह विचार दुबारा आता है तो आप पर उपकार करता है। अब विचार कहीं पर भी आ सकता है तो तैयारी सदा रहनी चाहिये उसे लिख लेने की। या तो एक छोटी सी डायरी हो एक पेन के साथ या आप अपने मोबाइल में ही लिख सकें वह विचार। मुझे भी अपनी स्मृति पर उतना भरोसा नहीं है, मुझे जो भी विचार उपहार में मिलता है मैं समेट लेता हूँ।

इसी प्रकार अध्ययन करते समय कई रचनायें व विषय समयाभाव के कारण उसी समय नहीं पढ़े जा सकते हैं, यह आवश्यक है कि उन्हें किसी ऐसी जगह संग्रहित कर लिया जाये जहाँ पर आप समय मिलने पर विस्तार से पुनः पढ़ सकें। किसी विषय पर शोध करने पर बहुत सी सूचनायें प्रथमतः पृथक स्वरूप में होती है पर उनका समुचित विश्लेषण करने के लिये उन्हें एक स्थान पर रखना आवश्यक होता है। कभी इण्टरनेट में, कभी पुस्तक में, कभी दीवार पर, कभी सूचना बोर्ड पर, कभी चित्र के माध्यम से, कभी वाणी रूप में, कभी मैसेज में, कभी ईमेल में, कभी ब्लॉग में, हर प्रकार से आपको सम्बन्धित तथ्य मिलते रहते हैं, आपको सहेजना होता है, रखना होता है, एक स्थान पर, भविष्य के लिये।

साहित्य के अतिरिक्त भी, अपने अपने व्यावसायिक क्षेत्रों में सम्बद्ध ज्ञान-संवर्धन और नियमावली अपना महत्व रखते हैं और आपकी निर्णय प्रक्रिया को प्रभावित करते हैं। औरों पर निर्भरता कम रहे और निर्णय निष्पक्ष लिये जायें, उसके लिये भी आवश्यक है कि हम अपना ज्ञान संग्रहित और संवर्धित करते चलें। सामाजिक और व्यावसायिक बाध्यतायें आपको ढेरों संपर्क, तिथियाँ, बैठकें, कार्य, निर्देश आदि याद रखने पर विवश करेंगी, उन्हें कैसे सहेजना है, कैसे उपयोग में लाना है और कैसे उन्हें अगले स्तर पर पहुँचा प्रवाह बनाये रखना है, यह स्वयं में एक बड़ा और अत्यन्त ही आवश्यक कार्य है।

डिजिटल रूप में विविध प्रकार की सूचना का संग्रहण मुख्यतः आपके कम्प्यूटर में होता है, आपका ज्ञान आपके साथ और चल सकता है यदि आपके पास लैपटॉप हो। सूचनाओं के एकत्रीकरण के लिये एक उपयोगी मोबाइल और सूचनाओं के बैकअप के लिये इण्टरनेट का प्रयोग आपके संग्रहण को पूर्ण बनाता है। लैपटॉप, मोबाइल और इण्टरनेट, ये तीन अवयव एक दूसरे के पूरक भी हैं और आवश्यक समग्रता भी रखते हैं। आपका संग्रहण-प्रवाह इन तीनों पर आधारित बने रहने से कभी अवरुद्ध नहीं होगा।

सूचना के संग्रहण के तीन अवयव किसी एक डोर से बँधे हों जिससे इन तीनों के समन्वय में आपको कोई प्रयास न करना पड़े। कहीं भी और किसी भी माध्यम से एकत्र सूचना इन तीन अवयवों में स्वमेव पहुँच जानी चाहिये। कहीं आपको इण्टरनेट नहीं मिलेगा, कहीं आपका लैपटॉप आपके पास नहीं रहेगा, कई बार आप मोबाइल बदल लेते हैं या खो देते हैं। यह सब होने पर भी आपका सूचना-तंत्र निर्बाध बढ़ना चाहिये। किसी भी सूचना का आपकी परिधि में बस एक बार आगमन हो, उसे उपयोग में लाने के लिये बार बार बदलना न पड़े। जब मैं लोगों को मोबाइल बदलते समय सारे संपर्क हाथ से भरते हुये या सिमकार्ड से बार बार कॉपी करते हुये देखता हूँ तो मुझे ऊर्जा व्यर्थ होते देख दुःख भी होता है और क्षोभ भी।

सूचनाओं का संग्रहण और समग्र समन्वय, तीनों अवयवों में उनका स्वरूप, एकत्रीकरण और विश्लेषण में लचीलापन, समय पड़ने पर उनकी खोज। इन विषयों का महत्व जाने बिना यदि आप मोबाइल का चयन, लैपटॉप पर संग्रहक प्रोग्राम का चयन और इण्टरनेट पर इन सूचनाओं के स्वरूप का चयन करते हैं, तो संभव है कि आपका संग्रहण आपकी ऊर्जा और समय व्यर्थ करेगा।

असहज मत हों, इन सिद्धान्तों को मन में बिठा लेने के पश्चात जो भी आपके संग्रहण का प्रारूप होगा, वह आपको ही लाभ पहुँचायेगा। इस प्रकार संरक्षित ऊर्जा और समय साहित्य संवर्धन में लगेगा।

इस बार आप अपने संग्रहण के प्रारूप पर मनन कर लें, अगली बार बाजी पास नहीं करूँगा, अपने पत्ते दिखा दूँगा।

59 comments:

  1. ऊर्जा बचाना हम सबकी प्राथमिकता होनी चाहिए।

    आभार।

    ------
    बारात उड़ गई!
    ब्‍लॉग के लिए ज़रूरी चीजें!

    ReplyDelete
  2. उपयोगी सलाह !

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. विषय प्रस्तावना बहुत महत्वपूर्ण है -आगे विस्तार ,कार्यविधि आदि की प्रतीक्षा रहगी -कम्प्यूटर युग ने इस जरुरत के लिए भी के रास्ते सुझा दिए हैं!मगर उन्हें सही सही संयोजित और श्रृंखलाबद्ध करना सबसे बड़ी चुनौती है !

    ReplyDelete
  5. आप भी प्रवीण भाई ...पत्तेबाज निकले :-(
    :-)

    ReplyDelete
  6. आदरणीय पाण्डेय जी आपकी लेखन शैली निराली है कम शब्दों में सघन और उत्कृष्ट बात कह जाते हैं |

    ReplyDelete
  7. आदरणीय पाण्डेय जी आपकी लेखन शैली निराली है कम शब्दों में सघन और उत्कृष्ट बात कह जाते हैं |

    ReplyDelete
  8. bahut mahtvpoorn salaah deta hua yeh aalekh bahut pasand aaya.dimaag ka cumputer gadbada sakta hai isliye dairy me sangrhan karna chahiye,dairy kho sakti hai is liye cumputer me save karna chahiye ye cheejen safar me carry nahi kar saken is liye internet par hona chahiye.sahi hai teen jagah rahega to sangrahan safe n save rahega.bahut achchi salaah.aabhar.

    ReplyDelete
  9. true.. thoughts are like flowing wind... can touch u any time with almost zero probability of coming back and its profitable for us to store that...
    Nice read as ever :)

    ReplyDelete
  10. रोचक आलेख ...
    उर्जा संरक्षण कर समय बचत करना ...और उसका सकारात्मक प्रयोग करना ..
    बहुत सही दिशा में ध्यान आकर्षित किया है आपने..बहुत लाभान्वित होंगे हम सभी ...
    इंतज़ार है अगली कड़ी का ..
    आभार.

    ReplyDelete
  11. भूमिका रोचक और जिज्ञासा बढ़ाने वाली है.

    ReplyDelete
  12. लगता है कि तुरुप का पत्ता आपने ही दबाया हुआ है!:)
    बहुत सारी चीज़ें सिन्क्रोनाइज़ होती जा रही हैं. एक दिन मनुष्य भी मशीनों से जुड़ ही जाएगा. तक सभी समस्याओं से निजात मिल जाएगी? सच!?

    ReplyDelete
  13. संग्रहण और प्रवाह ठीक तरीके से हो तो बहुत सारी आंतरिक और बाह्य ऊर्जा बचा सकते हैं, और संवर्धन में लगा सकते हैं।

    ReplyDelete
  14. संग्रहण के तरीके पर आपके पत्ते देखने का इंतजार करेंगे .

    ReplyDelete
  15. प्रवीण पाण्डेय जी!
    आपने बहुत उपयोगी आलेख लिखा है और जब से हम अपने विचारों को सहेज रहे हैं अच्छा खास कलक्शन हो गया है हमारे पास!
    काश् हम शुरू से ही यह आदत बना लेते?

    ReplyDelete
  16. पहले जमाने में एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक बात सुनकर सुनाकर आदान-प्रदान कर दिया जाता था और पीढ़ियों तक बात चलती चली जाती है।
    आज हम बुकमार्क कर लेते हैं, पर पढ़ना ही भूल जाते हैं।

    ReplyDelete
  17. काम की बात, उर्जा तो बचानी ही पड़ेगी .....

    ReplyDelete
  18. मार्गदर्शन और दर्शन का समन्वय ....दिशा देने वाला है .....!

    ReplyDelete
  19. यह भी व्यवस्थित होने का ही खेल का.....संग्रहण भी सही ढंग से किया जाये तो उर्जा तो बचेगी ही ...... उसे हम नए सृजन के लिए भी उपयोग कर पायेंगें .........

    ReplyDelete
  20. बात तो आपने सही कही...

    ReplyDelete
  21. एक समय था जब तकनीक लोगों के पास नहीं थी सारी बाते दिमाग में ही संग्रगित होती थी आम आदमी की, पर तकनीक के आ जाने से दिमाग अपनी ये क्षमता शायद खोता जा रहा है | कुछ सालो पहले तक कितने फोन नंबर याद रहते थे हर बार नंबर डायल जो करना पड़ता था किन्तु आज दो चार नम्बरों से ज्यादा याद नहीं होते तकनीक ने याद रखने से मुक्ति दिला दी है कुछ जानना है तो गूगल बाबा है ना , वहा से जानने की बाद भी भूल जाइये क्योकि अगली बार फिर गूगल बाबा है ना | तकनीक ने शायद आराम दे दे कर दिमाग को सुस्त बना दिया है |

    ReplyDelete
  22. संग्रहण और प्रवाह से बहुत सारी आंतरिक और बाह्य ऊर्जा बचा सकते हैं.......बहुत उपयोगी आलेख पाण्डेय जी

    ReplyDelete
  23. मस्तिष्क की क्षमता व सूचनाओं के संग्रहण की सुंदर व्याख्या .....

    ReplyDelete
  24. सही है, बहुत अधिक भूसा मस्तिष्क में भरने से विस्मृति पैदा हो जाती है-- अब आप कलमाडी को ही लें, वे अब विस्मृति के शिकार हो गए हैं। उन्हें यह लेख अवश्य पढना चाहिए॥

    ReplyDelete
  25. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  26. संग्रहण चाहे बौद्धिक हो अथवा भौतिक निरंतर प्रक्रिया है व्यक्ति अपनी आवश्यकतानुसार, आदत, व स्वभानुसार, सुविधा अनुकूल विधि अपनाता रहता है.

    ReplyDelete
  27. important advise... thank u...

    ReplyDelete
  28. मुझे तो हमेशा खाना बनाते वक़्त....ढेर सारे विचार आते हैं... कैसे लिखूं उन्हें तब???

    किचेन से निकलो तब भी दूसरे काम राह देखते होते हैं...:)

    ReplyDelete
  29. रोचक और चिन्तन योग्य आलेख ...

    ReplyDelete
  30. बहुत ही ज्ञानवर्धक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  31. hmmm... aapke patton ka intazaar rahega...
    par wakai ye bahut hi jyada jaroori hai ki ham apne sangrahan mei kitna waqt vyarth hi ganwa rahe hain...
    mujhe bhi diary saath rakhne aur mobile mei notes rakhne ki aadat hai... kabhi-kabhi koi baat sirf do lines mei khatm ho jaati aur kabhi achanak unhi ko padhkar kuch bhooli baat yaad aa jati hai...
    thank you so much...

    ReplyDelete
  32. आप हमेशा ही बिल्कुल अलग विषय लेते हैं और उसे प्रस्तुत करने के अंदाज का क्या कहना।
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
  33. praveen ji
    bahut hi badhiya jaankari di hai aapne .
    yah sach hai ki kabhi kabhi ham kisi baat ko bhul jaate hain aur waqt par vo yaad nahi rahta atah use kahi note kar lena hi chahiye jo ki bahut hi jaruri ho.
    ek bahut hi sarthak lekh
    bahut bahut badhai
    poonam

    ReplyDelete
  34. bahut hi upyogi baate hai . inke anusaar badhne me suvidha hogi ,dhanyabaad

    ReplyDelete
  35. सर बहुत सुन्दर ! लिंक पर भी नजर दौडाई ! अच्छे पोस्ट है !

    ReplyDelete
  36. व्यवस्थित संग्रहण का प्रारूप तैयार करने में एक बार समय और दिमाग लगता है उसके बाद सब सरल हो जाता है ..साथ ही ऊर्जा और समय की बचत भी.
    कुछ के लिए एक 'जटिल'सा विषय .
    ...........
    सार्थक लेखन हेतु बधाई.

    ReplyDelete
  37. बहुत उपयोगी श्रृंखला है...मनन में लगे हैं और इन्तजार में भी.

    ReplyDelete
  38. यह बहुत ही उपयोगी सलाह दी है आपने, हमको जो भी आईडिया सूझता है उसे तुरंत सहेजते हैं, खुद को एस एम एस, मेल या जेब में किसी कागज पर लिख कर.

    आपके अगले पत्ते खुलने का इंतजार है, जिससे इसमे और सुधार कर सकेंगे.

    रामराम

    ReplyDelete
  39. atisundar aur mahatwapoorn aalekh..
    aabhar..swagat hai aapaka mere blog par..

    ReplyDelete
  40. कहते है अगर इंसान को कोई चीज़ मुफ्त में मिलती है तो वो है एक सलाह , अभी मांगी भी नहीं ये लो जी :) :)बहुत खूबसूरत बात कही दोस्त बहुत बहुत शुक्रिया |

    ReplyDelete
  41. इस मामले में मैं पारम्‍परिक डायरी/लेखन पेड और कलम को अधिक बेहतर, अधिक उपयोगी मानता हूँ। यह मेरा अनुभव है।

    जहॉं आदमी को खुद के लिए फुरसत मिलनी कम हो गई हो, ऐसे समय में आपकी यह पोस्‍ट बहुतों को 'उपयोगी परामर्श' लगेगी।

    ReplyDelete
  42. सत्‍य वचन।

    ReplyDelete
  43. मुझे तो अपने बेतरतीब होने पर बस यही याद आता है,

    मैं ऐसा क्यों हूं, मैं वैसा क्यों हूं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  44. इंटनेट सबसे सुरक्षित है देखा जाए तो |

    ReplyDelete
  45. saarthak aur gyanvardhak post , aabhar.

    ReplyDelete
  46. प्रवीण जी.. उर्जा संरक्षण कर समय बचत करना ..फिर सकारात्मक्रुप में उसका प्रयोग करना ,बहुत ही उपयोगी टिप्स दिये आपने... कई बार काम के बीच अच्छे विचार आते हैं पर जल्दी ही भूल भी जाते है. बहुत सार्थक पोस्ट...आभार..

    ReplyDelete
  47. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  48. उडते हुए विचारों के प्रवाह को तत्काल सहेज लेना तो आवश्यक होता ही है वर्ना जिस तेजी से वे आते हैं उसी प्रकार लोप भी हो जाते हैं । माध्यम चाहे कलम व डायरी हो अथवा मोबाईल व लेपटाप.

    ReplyDelete
  49. A very useful and effective information!

    ReplyDelete
  50. A very useful and effective information!

    ReplyDelete
  51. मेरी एक आदत बहुत पहले से रही है, कहीं भी जाऊं तो एक पेन और कम से कम एक कागज़ पॉकेट में या फिर वॉलट में जरुर रखता हूँ..ये आदत अब ऐसी हो गयी है की अगर कभी पेन कहीं छूट गयी तो मुझे रास्ते में दूकान से एक पेन खरीदना पड़ता है..

    और वैसे मोबाइल फॉर्मेट करने के बाद भी या बदलने के बाद भी कभी मैंने नंबर नहीं खोये किसी के...दो तीन जगह बैक अप बना के रखता हूँ...और डायरी में भी सबके नंबर नोट कर के..हाँ, थोड़ी मेहनत लगती है लेकिन फिर भी नंबर सुरक्षित तो रहते हैं :)

    ReplyDelete
  52. सही कहा आपने...विचार कभी भी आकर कभी भी जा सकते हैं...मेरा मोबाइल का 'ड्राफ्ट' इनसे भरा रहता है:)

    ReplyDelete
  53. उपयोगी आलेख ......

    ReplyDelete
  54. संग्रह और प्रवाह के प्रणेता ,शुक्रिया आपकी आवा -जाही का .एक न एक शम्मा अँधेरे में जलाए रखिए,.....
    कृपया यहाँ भी आपकी मौजूदगी अपेक्षित है -http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_9034.हटमल
    Friday, August 12, 2011
    रजोनिवृत्ती में बे -असर सिद्ध हुई है सोया प्रोटीन .

    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    बृहस्पतिवार, ११ अगस्त २०११
    Early morning smokers have higher cancer रिस्क.

    ReplyDelete
  55. बहुत उपयोगी आलेख...आभार

    ReplyDelete
  56. आपके बताये हुए तीन अवयवों का तालमेल के साथ प्रयोग कार्य में सुगमता उत्पन्न कर देता है.
    डायरी-लेखन का शौक पहले था,अब नहीं रहा!पहले कभी रात में ,बत्ती बुझने के बाद भी कुछ याद आता तो झट से छोटी डायरी में उतार लेते थे,वाही काम अब मोबाइल से हो जाता है.
    contacts को सहेजने का काम गूगल अकाउंट के ज़रिये आसान लगता है !

    ReplyDelete
  57. बहुत उपयोगी सलाह है ... करके देखना चाहिए ...

    ReplyDelete