13.8.11

वननोट और आउटलुक

एक बार लिख लेने के बाद सूचना को व्यवस्थित रखना और समय आने पर उसको ढूढ़ निकालना, इन दो कार्यों के लिये वननोट और आउटलुक का प्रयोग बड़ा ही उपयोगी रहा है मेरे लिये। प्रोग्रामों की भीड़ में अन्ततः इन दोनों पर आकर स्थिर होना, मेरे लिये प्रयोगों और सरलीकरण के कई वर्षों का निष्कर्ष रहा है। 1985 में बालसुलभ उत्सुकता से प्रारम्भ कर आज तक की नियमित आवश्यकता तक का मार्ग देखा है मेरे कम्प्यूटरों ने, न जाने कहाँ और कब यह साथ दार्शनिक हो गया, पता ही नहीं चला।

हर व्यक्ति के पास मोबाइल, दूर प्रदेशों और विदेशों में जाकर पढ़ते सम्बन्धी, विद्यालय, आईआईटी और नौकरी में बढ़ती मित्रों की संख्या, धीरे धीरे संपर्कों की संख्या डायरी के बूते के बाहर की बात हो गयी। प्रारम्भिक सिमकार्डों और मोबाइलों की भी एक सीमा थी, समय 2001 के पास का था। संपर्क, उनकी जन्मतिथियाँ, वैवाहिक वर्षगाठें, बैठकें, कार्यसूची आदि की बढ़ती संख्या और आवश्यकता थी एक ऐसे प्रोग्राम की जिस पर सब डाल कर निश्चिन्त बैठा जा सके। माइक्रोसॉफ्ट के ऑफिस आउटलुक में मुझे वह सब मिल गया और आज दस वर्ष होने पर भी वह सूचना का सर्वाधिक प्रभावी अंग है मेरे लिये। न जाने कितने मोबाइल बदले, नोकिया, सोनी, ब्लैकबेरी, विन्डोज, हर एक के साथ आउटलुक का समन्वय निर्बाध रहा। अनुस्मारक लगा देने के बाद कम्प्यूटर एक सधे हुये सहयोगी की तरह साथ निभाता रहा। यही नहीं, कई खातों के ईमेल और एसएमएस स्वतः आउटलुक के माध्यम से फीड में आते रहे, आवश्यक कार्य व बैठक में परिवर्तित होते रहे।

2007 तक अपनी सारी फाइलों को अलग अलग फोल्डरों में विषयानुसार रखने का अभ्यास हो चुका था। मुख्यतः वर्ड्स, एक्सेल, पॉवर-प्वाइण्ट, पीडीएफ, एचटीएमएल। यह बात अलग है कि हर बार किसी फाइल को खोलने और बन्द करने में ही इतना समय लग जाता था कि विचारों का तारतम्य टूटता रहता था। माइक्रोसॉफ्ट के ऑफिस वननोट की अवधारणा संभवतः यही देखकर की गयी होगी। वननोट का ढाँचा देखें तो आपको इसका स्वरूप किसी पुस्तकालय से मिलता जुलता लगता है, उसकी तुलना में अन्य प्रोग्राम कागज के अलग अलग फर्रों जैसे दिखते हैं। संग्रहण के कई स्तर हैं इसमें, प्रथम-स्तर वर्कबुक कहलाता है, आप जितनी चाहें वर्कबुक बना सकते हैं, विभिन्न क्षेत्रों के लिये जैसे व्यक्तिगत, प्रशासनिक, लेखन, पठन, तकनीक, मोबाइल समन्वय आदि। हर वर्कबुक में आप कई सेक्शन्स रख सकते हैं जैसे लेखन के अन्दर ब्लॉग, कविता, कहानी, पुस्तकें, संस्मरण, डायरी, टिप्पणी इत्यादि, यही नहीं आप कई सेक्शन्स को समूह में रखकर एक सेक्शन-समूह बना सकते हैं। हर सेक्शन में आप कितने ही पृष्ठ रख सकते, एक तरह के विषयों से सम्बन्धित उपपृष्ठ भी।

हर पृष्ठ पर आप कितने ही बॉक्स बनाकर अपनी जानकारी रख सकते हैं, उन बाक्सों के कहीं पर भी रखा जा सकता है। शब्द, टेबल, चित्र, ऑडियो, कुछ भी उनमें सहेजा जा सकता है। आप स्क्रीन पर आये किसी भी भाग को चित्र के रूप में सहेज सकते हैं, किसी भी सेक्शन को पासवर्ड से लॉक कर सकते हैं। मेरी सारी सूचनायें इस समय वननोट में ही स्थित हैं।

अब संक्षिप्त में इसके लाभ गिना देता हूँ। इसमें बार बार सेव करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है, स्वयं ही होता रहता है। मैंने अपनी कई वर्कबुकों को इण्टरनेट में विण्डोलाइव से जोड़ रखा है, कहीं पर कुछ भी बदलाव करने से स्वतः समन्वय हो जाता है। एक वर्कबुक मेरे विण्डो मोबाइल से भी सम्बद्ध है, मोबाइल पर लिखा इसमें स्वतः आ जाता है। यदि कभी किसी बैठक में किसी आलेख की आवश्यकता पड़ती है तो उसे मोबाइल की वर्कबुक में डाल देता हूँ, वह मोबाइल में स्वतः पहुँच जाती है। सूचना का तीनों अवयवों में निर्बाध विचरण।

आउटलुक में ईमेल, ब्लॉग फीड या अन्य अवयवों को सहेज कर पढ़ना चाहें तो 'सेण्ड टु वननोट' का बटन दबाते ही सूचना वननोट में संग्रहित हो जाती है। इसी प्रकार कोई भी वेब पृष्ठ स्वतः ही वननोट में सहेज लेता हूँ। यदि उसे मोबाइल में पढ़ना है तो उसे मोबाइल की वर्कबुक में भेज देता हूँ।

आप किसी भी वाक्य को कार्य में बदल सकते हैं, वह स्वतः ही आउटलुक में पहुँच जायेगा और वननोट के उस पृष्ठ से सम्बद्ध रहेगा। किसी भी वाक्य या शब्द में टैग लगाने की सुविधा होने के कारण आप जब भी सार देखेंगे तो सारे टैगयुक्त वाक्य एक पृष्ठ में आ जायेंगे। मैं उसी पृष्ठ को उस दिन की कार्यसूची के रूप में नित्य सुबह मोबाइल में सहेज लेता हूँ।


लगभग तीन वर्षों से मैं कागज और पेन लेकर नहीं चला हूँ। बैठकों में अपने मोबाइल पर ही टाइप कर लेता हूँ और यदि समय कम हो तो हाथ से भी लिख लेता हूँ। एक सूचना को कभी दुबारा डालने की आवश्यकता अभी तक नहीं पड़ी है। दो वर्ष पहले किसी विषय पर आये विचार अब तक संदर्भ सहित संग्रहित हैं। किसी भी शब्द को डालने भर से वह किन किन पृष्ठों पर है, स्वतः सामने प्रस्तुत हो जाता है।

हाथ से लिखा बहुत ही ढंग से रखता है वननोट, आने वाले समय में हाथ से लिखी हिन्दी को भी यूनीकोड में बदलेगा कम्प्यूटर तब हम अपने बचपन के दिनों में वापस चले जायेंगे और सब कुछ स्लेट पर ही उतारा करेंगे।

लाभ अभी और भी हैं, आपकी उत्सुकता जगा दी है, शेष भ्रमण आपको करना है। या कहें कि दो इक्के आपको दे दिये हैं, तीसरा आपको अपना फिट करना है, सोच समझ कर कीजियेगा।

76 comments:

  1. बढ़िया प्रस्तुति... रक्षाबंधन के पुनीत पर्व पर बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  2. आउट लुक वन नोट और पञ्च प्यारों की प्यार भरी टिप्स के लिए आभार!
    आप तो पूरे कम्प्यूटर गीक निकले!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर सारगर्भित, आभार
    रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  4. Nice post .

    आउट लुक वन नोट और पञ्च प्यारों की प्यार भरी टिप्स के लिए आभार!
    आप तो पूरे कम्प्यूटर गीक निकले!

    रक्षाबंधन के पुनीत पर्व पर बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं...

    देखिये
    हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा और राखी का मर्म

    ReplyDelete
  5. अच्छी जानकारी बहुत काम की ......

    ReplyDelete
  6. आज आपकी पोस्ट की चर्चा हलचल पर है ...कृपया अवश्य पधारें.

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी प्रस्तुति है!
    रक्षाबन्धन के पुनीत पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. bahut kaam ki baat batayi. mauka milte hi try kiya jayega.

    ReplyDelete
  9. bahut kaam ki baat batayi. mauka milte hi try kiya jayega.

    ReplyDelete
  10. रक्षाबंधन की आपको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  11. कापी ही कर ली है। त्यौहार की बधाई।

    ReplyDelete
  12. वननोट और आउटलुक को बेहद प्रभावी ढंग से अभिव्यक्त किया है आपने ...इस संग्रहणीय जानकारी के लिए आपका आभार

    ReplyDelete
  13. इसका प्रयोग तब शुरू किया था जब MS office 2010 install किया. गजब की चीज है.

    ReplyDelete
  14. अब बुढापे में काहे को पढा रहे हो, काम चलता रहे बस इतना ही है।

    ReplyDelete
  15. मास्साब ने इसे बज़ पर शेयर किया तो मैंने पढ़ा. जानकारी मेरे लिए बहुत उपयोगी रही. मुझे एक्सेल पर तो काम करने की आवश्यकता ही नहीं पड़ती है. वर्ड से ही काम चल जाता है,इसलिए कभी वननोट का प्रयोग नहीं किया. पर आपके बताए अनुसार मेरा ध्यान इसकी कुछ नयी विशेषताओं की और गया, विशेषतः हस्तलेखन की सुविधा की ओर. धन्यवाद !

    ReplyDelete
  16. Arey wah, yeh to bade kaam ki jaankaari di aapne....

    ReplyDelete
  17. रक्षाबंधन की आपको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  18. दोनों इक्के जोरदार काम के हैं अब इनको आजमाते हैं, तब तक तीसरा इक्का तो आप खोल ही देंगे, रक्षाबंधन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  19. अच्छी पोस्ट
    रक्षा बंधन पर्व की बधाइयाँ

    ReplyDelete
  20. कमाल की जानकारी दी है आपने।

    ReplyDelete
  21. ये तो बहुत काम की जानकारी है…………आभार्।
    रक्षाबंधन की आपको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  22. VERY HI-TECH POST !..WOW !

    ReplyDelete
  23. बाप रे...! सब कुछ कितना तिलस्मी लग रहा है !! कर पाऊँ तो क्या मजा हो !!! अभी तो ब्लॉगर डैशबोर्ड में नया पोस्ट डालने में भी असुविध होती है। गूगल क्रोम की मदद से डैशबोर्ड खोला नई पोस्ट डाली तो पता चला 24 घंटे बीत गये किसी ने देखा तक नहीं। न जाने क्या हुआ कि पोस्ट किसी के पास तक नहीं पहुंची।

    ReplyDelete
  24. जानकारी पूर्ण आलेख... धीरे धीरे काम करना और भी आसान हो जायेगा...

    ReplyDelete
  25. जानकारी तो बहुत बढ़िया है ..आउटलुक को प्रयोग करना ही नहीं आया .. अब देखते हैं क्या कर सकते हैं

    ReplyDelete
  26. वन नोट के बारे मे विशेष ज्ञानवर्धन हुआ आपकी पोस्ट से।
    रक्षाबंधन की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  27. अच्छी श्रृंखला . आउट लुक और वन नोट का प्रयोग करते रहते है

    ReplyDelete
  28. Praveen ji,
    बहुत सुन्दर, शानदार और भावपूर्ण रचना! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  29. आज तो वन नोट और आउट लुक का पूरा ट्यूटोरियल मिल गया सर जी...

    फाइल सिस्टम की महत्ता पर जितना भी कार्य किया जाये, हमेशा उपयोगी ही साबित होगा.

    आपका आभार!!! बहुत उपयोगी.

    ReplyDelete
  30. अच्छी जानकारी पर हमारे लिए नहीं जिनके पास नोट करने के लिए कुछ है ही नहीं :)

    ReplyDelete
  31. वननोट तो आजमाया नहीं अभी तक, लेकिन उपयोगी और इस्‍तेमाल में आसान होगा, लगता है.

    ReplyDelete
  32. प्रवाहपूर्ण आलेख ,उपयोगी जानकारी आभार

    ReplyDelete
  33. बहुत उपयोगी जानकारी..

    ReplyDelete
  34. बहुत अच्छी प्रस्तुति ... रक्षाबंधन के पुनीत पर्व पर बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  35. व्यवस्थित जीवन की एक मिसाल बन चुकें हैं आप और अब इसकी दीक्षा अपने लेखन की मार्फ़त दे रहें हैं .हम तो जी भी किश्तों में रहें हैं ऐसेमें व्यवस्था कहाँ से लायें .आपकी एनोत्रोपी न्यूनतम है हमारी सर्वाधिक .हमारे पास अ -अव्यवस्थित होने के अनेक तरीकें हैं .आपके पास व्यवस्थित होने का एक और केवल एक ही तरीका है .
    हाथ से लिखा बहुत ही ढंग से रखता है वननोट, आने वाले समय में हाथ से लिखी हिन्दी को भी यूनीकोड में बदलेगा कम्प्यूटर तब हम अपने बचपन के दिनों में वापस चले जायेंगे और सब कुछ स्लेट पर ही उतारा करेंगे।
    http://www.blogger.com/post-edit.g?blogID=232721397822804248&postID=५९१०७८२०२६८३८३४०६२१
    HypnoBirthing: Relax while giving birth?
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    व्हाई स्मोकिंग इज स्पेशियली बेड इफ यु हेव डायबिटीज़ ?

    ReplyDelete
  36. gyan to achha diya , try kerke dekhna hoga

    ReplyDelete
  37. बहुत ही अच्छी जानकारी शेयर की आपने...... सभी के काम आएगी.... पूरी कोशिश रहेगी की अच्छे से समझ सकूं.... बहुत उपयोगी पोस्ट.. आभार

    ReplyDelete
  38. आप तो हैं I I T से I T के छात्र . विशेषज्ञता तो सहज है बहुत उपयोगी जानकारी . रक्षा बंधन की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  39. यह तो कमाल की जानकारी दी आपने ...लगता हूँ इसे सीखने के लिए !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  40. ब्राउज़र की दुनिया में जब एक्सप्लोरर का लगभग एकाधिकार था तो इसने बहुत दुश्मन बना लिए थे जिसके चलते आउटलुक अंकांउट आए दिन हैक तो होते ही रहते थे आउटलुक इ-मेल से वायरस ग्रहण करने का भी एक बहुत ही उदार ग्राहक रहा है. यही कारण था कि मैंने उन दिनों एक्सप्लोरर की जगह नेवीगेटर का प्रयोग किया बाद में फ़यरफ़ोक्स. अब यदा-कदा क्रोम भी प्रयोग कर लेता हूं पर आउटलुक के प्रयोग की कभी हिम्मत नहीं हुई.

    वननोट की सबसे अच्छी बात इसका हाथ से लिखा सेव करना व autosave & autosync फ़ीचर लगे जिनका मैं चाहते हुए भी प्रयोग नहीं कर सकता. [ यह निश्चय ही मेरा दुराग्रह है :-) ]

    ReplyDelete
  41. वाह प्रवीण जी,

    सोच रहा हूं कोई इतना व्यवस्थित कैसे हो सकता है...मुझ जैसा बेतरतीब आदमी तो सात जन्म में भी ये सब न कर सके...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  42. Seriously, I am also fed up of 2-3 diaries, hell lots of nopepad n word document, mails...Tasks are scattered here n there..
    We definitely need to prioritize our work n info...And technology comes handy..I am waiting for my IPad..

    Keep posting, Praveen bhai..I am amazed to how regularly you are blogging..Hats of to your endless energy..

    ReplyDelete
  43. रोचक जानकारी !

    ReplyDelete
  44. वन नोट और आउट लुक का सुंदर इस्तेमाल बताया प्रवीण जी. आउट लुक तो इस्तेमाल करते है परन्तु सीमित और वन नोट तो कभी इस्तेमाल कर के देखा ही नहीं. अब ट्राई कर के देखते है. काम की चीज़ लग रही है आपके विवरण से.

    रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  45. वननोट का कभी इस्तेमाल नहीं किया। कभी जरूरत नहीं पड़ी पर उसकी उपयोगिता के बारे में पढ़कर कुछ जानकारी बढ़ी। आउटलुक से मोबाइल के address शिफ्ट करने का पता तो है पर अभी तक इतने मोबाइल ही नहीं बदले। पर अब शायद उसकी जरूरत पड़े।

    ReplyDelete
  46. यह तो बहुत ही अच्छी जानकारी है.
    आज तक वननोट की उपयोगिता नहीं जानी थी .आभार इस उपयोगी जानकारी के लिए .

    ReplyDelete
  47. मेरे पल्‍ले तो कुछ भी नहीं पढा। पूरी पोस्‍ट पढ कर यही अनुभव हुआ कि यह औजार मेरे लिए भी अत्‍यधिक उपयोगी हो सकता है। कभी आपसे 'अपाइण्‍टमेण्‍ट' लेकर मिलकर सब कुछ समझूँगा।

    ReplyDelete
  48. बहुत अच्छी जानकारी है ,सँभाल कर रख ली है जब MS office 2010 install करवा लूँगी तब प्रयोग कर पाऊँगी.अभी तो वर्डपैड पर काम करती हूँ -फ़ोल्डर और फ़ाइल बना कर .
    धन्यवाद,प्रवीण जी !

    ReplyDelete
  49. आउटलुक बहुत पुरानी चीज है, डायलअप कनैक्शन के जमाने में हमने कुछ समय आउटलुक से बेहतर विकल्प मोजिला थंडरबर्ड का इस्तेमाल किया फिर ब्रॉडबैंड लगवाने के बाद जीमेल के वेब इंटरफेस से ही काम चलता है। अब ईमेल क्लाइंटों पर काम करने का मन नहीं करता।

    वननोट के बारे में सुना तो है पर कभी आजमाया नहीं। आपके बताने पर उत्सुकता हुयी है तो ट्राइ करेंगे।

    ये बतायें कि वननोट में ये हाथ से लिखने का क्या फंडा है, क्या किसी टचस्क्रीन डिवाइस से लिखा है, यदि हाँ तो इतनी अच्छी तरह कैसे लिखा गया?

    आपका हस्तलेखन बहुत सुन्दर है।

    ReplyDelete
  50. आपकी यह रचना देखी जा रही है ब्लॉगर्स मीट वीकली में .
    हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। सोमवार को
    ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।
    बेहतर है कि ब्लॉगर्स मीट ब्लॉग पर आयोजित हुआ करे ताकि सारी दुनिया के कोने कोने से ब्लॉगर्स एक मंच पर जमा हो सकें और विश्व को सही दिशा देने के लिए अपने विचार आपस में साझा कर सकें।

    ReplyDelete
  51. कोई कैसे इतना व्यवस्थित हो सकता है, आप तो वाकई कमाल है । पर जानकारी बढिया है । वन नोट देखना पडेगा । एक्सप्लोरर तो हमने इस्तेमाल करना बंद कर दिया है । मोज़िला अच्छा लगता है ।

    ReplyDelete
  52. बढ़िया प्रस्तुति...

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  53. सार्थक लेख.....

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  54. high tech-post :)
    I use both... undoubtedly they r very effective !!

    Happy independence day

    ReplyDelete
  55. बिल्कुल सही कहा आपने आउट्लुक मेल मैनेज्मेन्ट और सिंक सर्विस का जवाब नहीं। २००५ से जब से अपना पर्सनल कम्प्यूटर लिया तब से कितने ही कम्प्यूटर और मोबाइल बदले लेकिन कभी कोई चीज खोई नही।
    थन्डर्बर्ड तो, आउट लुक के मुकाबले कहीं नही ठहरता। आउटलुक की एक बहुत काम की चीज है Delay Delivery का ऑप्शन जिसका कि मैं बखूबी प्रयोग करता हूँ।

    ReplyDelete
  56. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
  57. अकल की बात है...थोड़ी देर में समझ आती है हमारे...इसे दो चार बार और पढेंगे...बहुत जानकारी भरी बात जो है...
    नीरज

    ReplyDelete
  58. सर बहुत ही उपयुक्त सूचना ! स्वतंत्रता दिवस की बधाई !

    ReplyDelete
  59. कंप्यूटर के इस तकनीकी पक्ष से बहुत अपरिचित हूँ या कहिये आउटलुक,वन नोट और माइक्रोसोफ्ट ऑफिस से अपना ज़्यादा साबका पड़ा ही नहीं !
    आपने इतनी बढ़िया जानकारी दी है तो ज़रूर सीखने की कोशिश करूँगा !

    ReplyDelete
  60. is kshetra me mahir hai aap ,kitne vistaarpoorvak samjhaya wo bhi schitr
    ,swatranta divas ki dhero badhai aapko .

    ReplyDelete
  61. is kshetra me mahir hai aap ,kitne vistaarpoorvak samjhaya wo bhi schitr
    ,swatranta divas ki dhero badhai aapko .

    ReplyDelete
  62. प्रवीण पाण्डेय जी बहुत सुन्दर जानकारी और सार्थक प्रस्तुति अभी इसे बार बार पढ़ कर शोध करना ही होगा ...धन्यवाद
    स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  63. ज्ञानवर्धक प्रस्तुति. आभार. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  64. इतनी उपयोगी जानकारी के लिए आभार...पढ़ पढ़ कर उपयोग में लाना होगा ..!
    I admire ur patience...!

    ReplyDelete
  65. स्वतंत्रता दिवस 2011 की आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  66. Superb write up you have shared here and really great for me to read this here.

    ReplyDelete
  67. कुछ कुछ पल्ले पड़ीं आपकी बातें ....

    ReplyDelete
  68. बेहद ज्ञानवर्धक प्रस्‍तुति ...आभार ।

    ReplyDelete
  69. बहुत अच्छी जानकारी है पाण्डेय जी स्वतंत्रता दिवस की बधाई !

    ReplyDelete
  70. अच्छी जानकारी
    बहुत अच्छी प्रस्तुति है!

    ReplyDelete
  71. अच्छी जानकारी डी है अओने प्रवीण जी ... उपयोग करना पढ़ेगा ...

    ReplyDelete
  72. Anonymous19/8/11 21:22

    Really very useful info bhaiya.
    Regards,
    Abhishek

    ReplyDelete