24.8.11

प्रार्थना

इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो न।

51 comments:

  1. दिल की गहराई से की गई प्रार्थना सफल होती है.
    लगता है आपका रोम रोम प्रार्थनारत है.
    सुन्दर प्रार्थना के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. बचपन से यही करते आये हैं ..खुदा पर जिसे यकीन है ....उसे दुनिया में कोई दुःख - दुःख नहीं लगता ....!.

    ReplyDelete
  3. शक्ति तो सभी अच्छे कर्म करने वालों को दे और आपको भी..
    यही दुआ है..

    ReplyDelete
  4. इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो न।

    ReplyDelete
  5. arrey waah!

    subah subah school ki yaad dila di aapne :-)

    what a great wa to start a day..

    wish a bright and happy morning!

    ReplyDelete
  6. इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो न।....
    अब सिर्फ भगवान पर ही भरोसा है....

    ReplyDelete
  7. प्रार्थना मन का सुकून हो जाती है ...और ईश्‍वर में आस्‍था बनी रहती है .. ।

    ReplyDelete
  8. हम न सोचें हमें क्या मिला है
    हम ये सोचें किया क्या है अर्पण
    फूल खुशियों के बाँटें सभी को
    सबका जीवन ही बन जाये मधुबन
    अपनी करुणा का जल तू बहाकर
    करदे पावन हरेक मन का कोना

    ReplyDelete
  9. :) आपकी प्रार्थना ज़रूर सुनी जाये, ऐसी प्रार्थना हम करते हैं. :) God bless you.

    ReplyDelete
  10. सुंदर प्रार्थना ...जिसे गाते ही मन में अटल विश्वास जाग जाता है ...!!

    ReplyDelete
  11. मन के जीते जीत है, विश्वास कायम रहे. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो न।

    ReplyDelete
  13. हम चलें नेक रस्ते पे हमसे भूल कर भी कोई भूल हो न...

    ReplyDelete
  14. अद्भुत सागर आज़मी का एक शेर भेंट कर रहा हूँ कोई दरीचा खुले या तुझे हंसी आये /किसी तरफ से तो कमरे में रोशनी आये |

    ReplyDelete
  15. अद्भुत सागर आज़मी का एक शेर भेंट कर रहा हूँ कोई दरीचा खुले या तुझे हंसी आये /किसी तरफ से तो कमरे में रोशनी आये |

    ReplyDelete
  16. हम चलें नेक रास्ते पे हमेशा, भूलकर भी कोई भूल हो ना । धन्यवाद प्रवीण, आपने बहुत दिन बाद एक ऐसी सुंदर प्रार्थना याद दिला दी जो कभी मुझे कंठस्थ हुआ करती थी ।

    hum chale nek raste pe hum se, bhoolakar bhee koee bhool ho naa

    ReplyDelete
  17. दूर अज्ञान के हों अंधेरे,
    तू हमें ज्ञान की रौशनी दे.
    फूल खुशियों के बांटें सभी को,
    जितनी भी दे, भली ज़िन्दगी दे.
    बैर हो न किसी का किसी से,
    भावना मन में बदले की हो ना.
    सुन्दर प्रार्थना.

    ReplyDelete
  18. ये प्रार्थना हर युग हर काल मे कालजयी है।

    ReplyDelete
  19. बस्स्स्स्स्स्स्स प्रार्थना ही तो कर सकते हैं... समय के आगे मानव कितना असहाय हो जाता है।

    ReplyDelete
  20. aaj vastav me prarthana ka hi din tha.kal raat se mann bechain hai jab se khabar mili ki Dr.Amar Kumar ka nidhan ho gaya hai.
    hame aise maukon par prarthana se hi sambal milta hai !

    ReplyDelete
  21. -सुंदर प्रार्थना ...यह विश्वास ही तो मन है...

    इतनी शक्ति हमें देना दाता~~~

    इतनी शक्ति हमें देना दाता
    मन का विश्वास कमज़ोर हो न
    हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
    भूल कर भी कोई भूल हो न~~

    हर तरफ़ ज़ुल्म है, बेबसी है
    सहमा सहमा-सा हर आदमी है
    पाप का बोझ बढता ही जाये
    जाने कैसे ये धरती थमी है
    बोझ ममता का तू ये उठा ले
    तेरी रचना का ये अँत हो न
    हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
    भूल कर भी कोई भूल हो न~~

    दूर अज्ञान के हों अँधेरे
    तू हमें ज्ञान की रौशनी दे
    हर बुराई से बचते रहें हम
    जितनी भी दे भली ज़िन्दग़ी दे
    बैर हो न, किसी का किसी से
    भवना मन में बदले की हो न
    हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
    भूल कर भी कोई भूल हो न~~

    हम न सोचें हमें क्या मिला है
    हम ये सोचें किया क्या है अर्पण
    फूल खुशियों के बाँटें सभी को
    सबका जीवन ही बन जाये मधुबन
    अपनी करुणा का जल तू बहाकर
    करदे पावन हरेक मनका कोना
    हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
    भूल कर भी कोई भूल हो न~~

    हम अँधेरे मे हैं रौशनी दे
    खो न दें खुद को ही दुश्मनी से
    हम सज़ा पायें अपने किये की
    मौत भी हो तो सह लें खुशी से
    कल जो गुज़रा है फिर से न गुज़रे
    आनेवाला वो कल ऐसा हो न
    हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
    भूल कर भी कोई भूल हो न~~

    इतनी शक्ति हमें देना दाता
    मन का विश्वास कमज़ोर हो न~~~

    ReplyDelete
  22. हम सबकी प्रार्थना सफल हो.....!

    ReplyDelete
  23. हम सभी की ओर से भी यही प्रार्थना.

    ReplyDelete
  24. इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो न।

    ReplyDelete
  25. मेरी प्रिय प्रार्थना ।
    कल जो गुज़रा है फिर से न गुज़रे
    आनेवाला वो कल ऐसा हो ना

    ReplyDelete
  26. Very powerful lines..... Gives a sense of hope when u listen or sing.

    ReplyDelete
  27. भूल कर भी कोई भूल हो न~~

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सुन्दर प्रार्थना ......

    ReplyDelete
  29. यह एक लाईना?

    ReplyDelete
  30. सच्चे दिल से की गई प्रार्थना कभी व्यर्थ नहीं जाती... प्रार्थना में बहुत शक्ति होती है..

    ReplyDelete
  31. हौसले की चाहत के साथ की गई ईश वन्दना.

    ReplyDelete
  32. ये हमने फ़ाउण्डेशन कोर्स में मंच से गाया था। २२ साल हो गए।

    ReplyDelete
  33. इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो न
    excellent

    ReplyDelete
  34. इसी से तो आस्था और दृढ़ होती है !

    ReplyDelete
  35. बस यही विश्वास है मन में ...

    ReplyDelete
  36. सर अगर हम पत्थर न बने तो बिश्वास कायम रह सकती है !

    ReplyDelete
  37. इतनी शक्ति मिले हमें यही दुआ करते हैं....

    ReplyDelete
  38. भूल कर भी कोई भूल हो न..

    ReplyDelete
  39. सही है प्रार्थना!!!

    ReplyDelete
  40. iski bahut jaroort hai sabko ,hame bhi bahut pasand hai .

    ReplyDelete
  41. iski bahut jaroort hai sabko ,hame bhi bahut pasand hai .

    ReplyDelete
  42. सुंदर प्रार्थना ...यह विश्वास ही तो मन है

    ReplyDelete
  43. प्रार्थना फलीभूत हुई। ईश्‍वर को धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  44. आपका आलेख,’डेडी का पैसा------’पढा,बहुत सच्चा चिट्ठा आपने खोला है.वही रेगिंग उन दिनों अपनत्व की भावनाओं से जुडी होती थी,परंतु,अब उस परिचय के माहोल में पशविक पृवत्तियां ने जगह ले ली है.

    ReplyDelete
  45. आपका आलेख,’डेडी का पैसा------’पढा,बहुत सच्चा चिट्ठा आपने खोला है.वही रेगिंग उन दिनों अपनत्व की भावनाओं से जुडी होती थी,परंतु,अब उस परिचय के माहोल में पशविक पृवत्तियां ने जगह ले ली है.

    ReplyDelete
  46. श्री गणेश उत्सव पर्व पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  47. आप सबका बहुत बहुत आभार।

    ReplyDelete