21.6.14

मन किससे बातें करता है

ना जानू मैं अन्तरतम में,
अवचेतन की सुप्त तहों में,
अनचीन्हा, अनजाना अब तक,
कौन छिपा सा रहता है ?
मन किससे बातें करता है ?

भले-बुरे का ज्ञान कराये,
असमंजस में राह दिखाये,
इस जीवन के निर्णय लेकर,
जो भविष्य-पथ रचता है ।
मन किससे बातें करता है ?

पीड़ा का आवेग, व्यग्रता,
भावों का उद्वेग उमड़ता,
भीषण आँधी, पर भूधर सा,
अचल, अवस्थित रहता है ।
मन किससे बातें करता है ?

निद्रा के एकान्त महल में,
चुपके से, हौले से आकर,
भावों की मनमानी क्रीड़ा,
स्वप्न-पटों से तकता है ।
मन किससे बातें करता है ?

24 comments:

  1. " कोई पास न रहने पर भी जन - मन मौन नहीं रहता ।
    आप - आप से कहता है वह आप आप की वह सुनता ॥"
    पञ्चवटी से - मैथिली शरण गुप्त

    ReplyDelete
  2. Good Morning
    एक पहेली
    जिसका हल आप भी ढूँढने निकले
    उम्दा रचना रच लिए
    God Bless you

    ReplyDelete
  3. हर घडी हर पल अनहोनी से डरता है
    जाने मन किस्से बातें करता है
    अपनी ही चिंताओं से अपनी आशंकाओं से मरता है
    जाने मन किससे बातें करता है

    ReplyDelete
  4. हर घडी हर पल अनहोनी से डरता है
    जाने मन किस्से बातें करता है
    अपनी ही चिंताओं से अपनी आशंकाओं से मरता है
    जाने मन किससे बातें करता है

    ReplyDelete
  5. यह दुविधा एक बड़ा प्रश्न है.... संभवतः सभी जूझते हैं इससे

    ReplyDelete
  6. मन की चंचलता सुसुप्तावस्था में भी बनी रहती है...यूँ होता तो क्या होता...इसी उधेड़-बुन में...

    ReplyDelete
  7. Quite internalisation- Only the aspirants will attain success. Regards.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल jरविवार (22-06-2014) को "आओ हिंदी बोलें" (चर्चा मंच 1651) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  9. सुन्दर रचना
    मन को छूती अभिव्यक्ति
    सादर -----

    ReplyDelete

  10. मन किससे बातें करता है ,पता चल जाए तो क्या बात है। दिवा स्वप्न देखा किया रोज़ ब रोज़

    ReplyDelete
  11. भले-बुरे का ज्ञान कराये, असमंजस में राह दिखाये, इस जीवन के निर्णय लेकर, जो भविष्य-पथ रचता है । मन किससे बातें करता है ?
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete

  12. निद्रा के एकान्त महल में,
    चुपके से, हौले से आकर,
    भावों की मनमानी क्रीड़ा,
    स्वप्न-पटों से तकता है ।
    मन किससे बातें करता है ?
    सुन्दर पंक्तियाँ |उम्दा रचना |

    ReplyDelete
  13. परमेश्वर है सखा हमारा
    निशि-दिन सँग वही रहता है ।
    वह द्रष्टा बनकर हमें देखता
    मन उससे बातें करता है ।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर आत्म मंथन ,सुन्दर रचना !!
    नौ रसों की जिंदगी !

    ReplyDelete
  15. मन मन से बातें करता है , पर न जाने किस मन से करता है ...
    प्रश्न हर मन से करता है !
    अच्छी रचना !

    ReplyDelete
  16. आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन अमरीश पुरी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  17. सदा एक रहस्य बना रहता है।

    ReplyDelete
  18. भावों की मनमानी क्रीड़ा,
    स्वप्न-पटों से तकता है ।
    मन किससे बातें करता है ?
    .........सुन्दर पंक्तियाँ मन को छूती अभिव्यक्ति :))

    ReplyDelete
  19. जो मन का रचने वाला है
    जो मन का पालन करता है
    शायद उससे ...

    ReplyDelete
  20. मन किससे बातें करता है ? :)

    ReplyDelete
  21. यह तो सभी का प्रश्न है. उसी परम की खोज ही जीवन का चरम है.

    ReplyDelete
  22. चंचल मन को परिभाषित करती कविता. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  23. स्वप्न-पटों से तकता है ।
    मन किससे बातें करता है ?....बहुत खूब !

    ReplyDelete
  24. मन की बातों का साथी दृश्‍यमान न होकर भी कितना आकर्षक है। बहुत मनमोहक कविता।

    ReplyDelete