24.6.14

अपेक्षा

दो खुशी के पल मिलें,
तो मुक्त हो बाँहें खिलें ।
सत्य है इन ही पलों के,
हेतु जीवन जी रहा है ।।१।।

अपेक्षित तो बहुत कुछ है,
दृष्टि में पर्याप्त सुख है ।
किन्तु यह निष्ठुर व्यवस्था,
भाग अपना माँगती है ।।२।।

क्यों नियम के शासनों में,
रूढ़ियों के तम घनों में ।
मुक्ति की उत्कट तृषा में,
घुट गयी स्वच्छन्दता है ।।३।।

शक्ति से है, दोष ऊर्जित,
अहम्‌ में सारल्य अर्पित ।
काल ही निर्णय करेगा,
लोक जिस पथ जा रहा है ।।४।।

व्यर्थ ही सब लड़ रहे हैं,
घट क्षुधा के भर रहे हैं ।
पर खुशी की पौध केवल,
प्रेम के जल की पिपासी ।।५।।

19 comments:

  1. क्यों नियम के शासनों में,
    रूढ़ियों के तम घनों में ।
    मुक्ति की उत्कट तृषा में,
    घुट गयी स्वच्छन्दता है
    x x x
    काल ही निर्णय करेगा,
    लोक जिस पथ जा रहा है

    भाई

    इन उद्गारों को अब पुस्तकाकार रूप में आ जाना चाहिये. टुकउ़ों में पढ़ने में मजा नहीं आता.

    ReplyDelete
  2. भावना जो मन में पलती
    देखते हैं नयन उसको ।
    आज - अब ही है हमारा
    कल की है परवाह किसको ?

    ReplyDelete
  3. बहुत ही भावभरी कविता

    ReplyDelete
  4. आपकी पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन - पुण्यतिथि श्री श्रद्धाराम फिल्लौरी में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  5. पर खुशी की पौध केवल,
    प्रेम के जल की पिपासी
    सार्थक सार .....

    ReplyDelete
  6. सार्थक भावभरी कविता......

    ReplyDelete
  7. बेहद भावपूर्ण .

    ReplyDelete
  8. मृग तृष्णा से ही शक्ति, अहम् सभी आकार लेते हैं।

    ReplyDelete
  9. कल 27/जून/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  10. सार्थक सुन्दर भाव..आभार

    ReplyDelete
  11. व्यर्थ की उलझन है , द्वेष है ...पर निकल कहाँ पाते हैं हम सब .....

    ReplyDelete
  12. सरल जीवन ..बहुत सुंदर भाव ....!!

    ReplyDelete
  13. काल ही निर्णय करेगा,
    लोक जिस पथ जा रहा है
    बहुत ही ऊर्जा लिए हुए हैं आपकी रचना के शब्द

    ReplyDelete
  14. सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  15. पर खुशी की पौध केवल,
    प्रेम के जल की पिपासी
    … सच ख़ुशी प्रेम से ही मिल सकती है

    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  16. जीवन दर्शन के सरल प्रश्‍न को उकेरती कविता।

    ReplyDelete