14.6.14

बहुधा

अथक चिन्तन में नहाया,
सकल तर्कों में सुशोभित,
अनवरत ऊर्जित दिशा की प्रेरणा से,
बहुधा बना व्यक्तित्व मेरा ।

चला जब भी मैं खुशी में गुनगुनाता,
ध्येय की वे सुप्त रागें,
अनबँधे आवेश में आ,
मन तटों से उफनते आनन्द में,
क्षितिज तक लेती हिलोरें ।

16 comments:

  1. " तत्त्वमसि ।" तुम भी वही हो , जो मैं हूँ ।

    ReplyDelete
  2. आप आकर चले भी गए।

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन विश्व रक्तदान दिवस - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  5. BAHUT...ACHHA....'samb0ddhan

    ReplyDelete
  6. लेता है मन हिलोरें ....

    ReplyDelete
  7. बहुत बढिया...

    ReplyDelete
  8. सुन्दर रचना !!

    ReplyDelete
  9. सुंदर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  10. उत्कृष्ट भाव संयोजन लिए गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. सुन्दर अर्थ और भाव लयताल की रचना।

    ReplyDelete
  12. आपकी इस अभिव्यक्ति की चर्चा कल रविवार (29-06-2014) को ''अभिव्यक्ति आप की'' ''बातें मेरे मन की'' (चर्चा मंच 1659) पर भी होगी
    --
    आप ज़रूर इस चर्चा पे नज़र डालें
    सादर

    ReplyDelete