14.3.12

अपूर्ण एक पूर्ण शब्द है

बचपन और युवावस्था में एक बीमारी बहुधा सबको ही होती है कि बड़ा खाली खाली सा लगता है। एक के बाद एक कोई न कोई कार्य मिलते रहना चाहिये, व्यस्तता बनी रहनी चाहिये, नहीं तो एक अजीब सी उलझन होने लगती है। कुछ अपूर्ण सा लगता है, उसे भर देने को मन उद्धत होने लगता है। हर कर्म का प्रयास परिस्थितियों को अपूर्णता से पूर्णता की ओर ले जाने के लिये होने लगता है। जितनी अधिक ऊर्जा पास रहती है उतनी अधिक अपूर्णता दिखने लगती है जगत में। हर समय कितना कुछ करने के लिये रहता है जीवन में, समय और ऊर्जा के आभाव में कई कार्य ऐसे होते हैं जिन्हे हम करना चाह कर भी नहीं कर पाते हैं। जैसे जैसे जीवन बढ़ता है, ऊर्जा कम होने लगती है, कई नियमित कार्य बढ़ जाते हैं। व्यस्त जीवन का प्रथम प्रभाव यह पड़ता है कि जगत उतना अपूर्ण नहीं दिखता है जितना कुछ वर्ष पहले तक दिखता था।

अपूर्णता एक नियत सत्य है, कोई भी ऐसा तत्व नहीं दिखायी पड़ता है जो पूर्ण हो। जब हर वस्तु में अपूर्णता हो तो वह पूर्ण से अधिक पूर्ण हो गयी। हमारे सारे प्रयास उसी दिशा में होते हैं जिस दिशा में हमें संभावना दिखती है। जब तक प्रयास उस संभावना घट को पूर्ण कर पाते हैं, तब तक संभावनाओं के नये नये घट बन चुके होते हैं, पुनः प्रयास, पुनः संभावनायें। एक सतत कर्म है यह। किसी भी क्षेत्र में यदि कभी प्रयास ठहरे हुये नहीं दिखते हैं, तो किसी भी क्षेत्र को पूर्ण नहीं कहा जा सकता है। इस दृष्टि से देखा जाये तो अपूर्णता अपने आप में शाश्वत है, अपने आप में पूर्ण है।

यदि तर्क व दर्शन की दृष्टि से न भी देखा जाये तो भी पूर्णता कहीं नहीं दिखती है, संभावना समझ के साथ साथ बढ़ती रहती है, अपूर्णता संभावना के साथ बढ़ती रहती है, जो आज पूर्णता लिये सी दिख रही है कल वह अपूर्णता लिये हुये सी दिखने लगती है। पूर्णता पाने के लिये किया गया हमारा प्रयास हमें उस दिशा में ले जाता है, जहाँ हमें अपूर्णता और अधिक स्पष्ट रूप से दिखने लगती है।

इस विचार का उद्भव व आरोहण न हुआ होता यदि मैं अपने एक चित्रकार मित्र आलोक से मिलने न पहुँचा होता। दोनों बच्चे चित्रकला से सम्पन्न वातावरण में पहुँच ऊर्जस्वित थे, उनके हाथों में काग़ज़ और पेंसिल थी, उन्हें रेखाओं को खींचने में रस आ रहा था। उस समय कला के लिये साथ में सब कुछ था पर हाथ में समय नहीं था, ट्रेन का समय बढ़ाया नहीं जा सकता था। जितना समय मिला और कला के बारे में बच्चों ने जितना समझा और जाना था, उसके लिये कुछ घंटे पर्याप्त नहीं थे। एक बड़े चित्रकार के सामने चित्र बनाने का अवसर था जिसे बच्चे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास दे स्वयं को सिद्ध करना चाहते थे। जैसा संभावित था, चित्र पूरे नहीं बन सके। बच्चों ने आलोक को चित्र दिखाये और कहा कि समय नहीं था अतः पूरे नहीं बन पाये।

जब आलोक ने कहा कि मेरे लिये यही पूरा है। बच्चों को बड़ा आश्चर्य हुआ, कहा कि आपको क्यों नहीं लगता कि यह चित्र अधूरा है? आलोक का उत्तर बच्चों के लिये समझ का एक नया अध्याय बनने जा रहा था और मेरे लिये अपूर्णता की पूर्णता। आलोक ने कहा कि मुझे क्या ज्ञात कि तुम्हारी कल्पना में क्या क्या था और तुम क्या क्या बनाना चाहते थे? जो कुछ भी तुमने बनाया वह तो मेरी दृष्टि में पूर्ण है। तुम्हारे द्वारा आधा बना हुआ घर भी पूरा संदेश संप्रेषित करता है। बच्चों के चेहरे खिल गये क्योंकि अभी तक किसी भी अध्यापक ने उन्हें यह ज्ञान नहीं दिया था। उनका प्रयास सदा ही शून्य या पूर्ण के बीच मापा गया था। तथाकथित अपूर्ण कृति में किसी के द्वारा प्रयास की पूर्णता देख पाना उनके लिये सर्वथा नया अनुभव था।

मेरे मन में बहुत दिनों से यह विचार घुमड़ रहा था कि पूर्णता की खोज में हम उन तथ्यों को क्यों नकार देते हैं जिन्हें हम पूर्ण नहीं समझते हैं। आलोक का यह कहना एक आँधी की तरह ज्ञान के सारे कपाट खोल गया। क्या नहीं बना है, उसका चिन्तन कर जो बना हुआ है, उसकी अवहेलना करना कृति के साथ घोर अन्याय है। जीवन में जो नहीं मिल पाया पूर्ण होने के लिये, उसकी व्यग्रता में जो लब्ध है उसे क्यों व्यर्थ करना?

बात सच ही है, अपूर्णता एक भार की तरह आती है, कुछ रिक्त सा लगता है, पूर्णता की ललक हमें सहज नहीं होने देती है। युवावस्था में जो बीमारी ऊर्जा की अधिकता के कारण होती थी, वही बीमारी हमारी ऊर्जा की कमी को अपूर्णता के नैराश्य से जोड़ने लगती है। अनमनापन सा छाने लगता है व्यक्तित्व में, जीवन लगता है, अकारण ही निकला जा रहा है। आलोक की समझ न केवल बच्चों को समझानी होगी वरन हमें भी समझनी होगी, हमारी कर्मशीलता का खण्ड खण्ड अध्याय तभी सतत हो पायेगा तभी पूर्ण हो पायेगा। बिना अपूर्णता को समझे और स्वीकार किये, न तो हम पूर्ण हो पायेंगे और न ही प्रसन्न रह पायेंगे।

औरों के प्रयास इस अपूर्णता के लेकर भले ही व्यग्र रहें पर मेरे लिये अपूर्ण एक पूर्ण शब्द है।

114 comments:

  1. Replies
    1. बीच राह का आनन्द उठाते हुये लक्ष्य तक जाने का उपक्रम है।

      Delete
  2. अद्भुत विचार, अपूर्ण से पूर्ण तक।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपूर्ण अधिक पूर्ण है।

      Delete
  3. अपूर्ण होना भी पूर्ण ही है , कई बार अनगढ़ रचनाकारों के लिए भी यही कहा जाता है !
    अद्भुत दृष्टिकोण , विचारणीय आलेख !

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपना श्रेष्ठ देने की दृष्टि से वे भी पूर्ण हैं।

      Delete
  4. पूर्णता की ललक हमें सहज नहीं होने देती है। अपूर्ण से पूर्ण तक.......शानदार आलेख परवीन जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपूर्णता प्रधान मनस को कुछ छूटा छूटा सा लगता रहता है।

      Delete
  5. पूर्ण निष्क्रिय होता है, अपूर्ण सक्रिय.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सक्रियता स्वीकार है।

      Delete
  6. ॐ पूर्णमदः पूर्णमिदं........सुन्दर पूर्णता सत्चिन्तन !....
    खालीपन अधेढ़ अवस्था और वृद्धावस्था में शायद सबसे अधिक महसूस होता है ....मगर आपको अभी इसका आभास कहाँ ?:)
    बाकी तो चिंतन से इत्तेफाक ही इत्तेफाक है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इसी सूत्र से पूर्ण में अ लगने से वह भी पूर्ण हो गया।

      Delete
  7. शाब्दिक व भाषाई दृष्टिकोण से "अपूर्ण " एक पुष्ट व पूर्ण शब्द है जो परिमार्जन ,विघटन विचलन व्यतिक्रम को चिन्हित करता है / सफलता के समस्त आयाम अपूर्णता की वीथियों से ही गुजरते है जोपरिष्कृत होकर पूर्णताकी प्रशस्तियों का वरण करते हैं /शीर्ष लेख ,सराहनीय है सुन्दर जी /

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिना अपूर्णता से निकले कोई राह पूर्णता तक नहीं जाती है।

      Delete
  8. आलोक ने कहा कि मुझे क्या ज्ञात कि तुम्हारी कल्पना में क्या क्या था और तुम क्या क्या बनाना चाहते थे? जो कुछ भी तुमने बनाया वह तो मेरी दृष्टि में पूर्ण है।

    ऐसे भाव मनः पटल पर गहरी छाप छोड़ जाते हैं |सकारात्मक उर्जा हमें हमारी अपूर्णता का एहसास करते हुए हमें पूर्णता की ओर अग्रसर करती है ये बताते हुए कि पूर्ण कुछ भी नहीं ....प्रभु ने भी अपने मानव रूपों में कुछ न कुछ अपूर्णता तो दर्शाई ही है ....
    रंगों कि दुनिया अपने आप में एक अलग आह्लाद लिए हुए है ...देवला की कृति बहुत ध्यान से देखी,बिलकुल पूर्णता लिए हुए ...दोनों बच्चों को आशीष ...बढ़िया आलेख ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपूर्णता नकारात्मकता न जगाये अतः उसे पूर्ण मान लेना श्रेयस्कर।

      Delete
  9. पूर्णता में भी लोग गुंजाइश निकाल लेते हैं चाहे किसी काम के बारे में हो या कविता,चित्र या कहानी आदि के बारे में ! यह एक सकारात्मक सोच है कि हम अपूर्णता को पूर्णता मान लें.
    ...बच्चों के स्तर पर ऐसी उत्साहजनक सोच उन्हें और आगे करने को प्रेरित करती है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. पूर्णता और अपूर्णता का गड़्मगड्ड हमें जीते रहने देता है, अपनी वर्तमान स्थिति पर।

      Delete
  10. दृष्टि भेद है। कलाकार मित्र के मन को टटोलिए तो वो कहेंगे..अभी वह चित्र नहीं बना जो मैं बनाना चाहता था। लेखक, कलाकार, वैज्ञानिक और भी दूसरे अन्वेषक निरंतर प्रयासरत रहते हैं कुछ नया, कुछ अनूठा, कुछ अद्वितीय कर गुजरने के लिए। मित्र ने कहा..मेरे लिए तो यही पूर्ण है। यह वाक्य अपने स्थान पर सही है, व्यग्र व चंचल मन को शांति प्रदान करने वाला। लेकिन खोजी यह मानकर संतोष कर लेगा तो खोज कैसे करेगा?

    ReplyDelete
    Replies
    1. उनके लिये एक स्तर की पूर्णता से अगले स्तर की पूर्णता की ओर बढ़ना होता है।

      Delete
  11. अद्भुत दृष्टिकोण,विचारणीय सुंदर आलेख !

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    ReplyDelete
  12. baat saty hai ,apoorntaa ko samjhe binaa ,log poorntaa paane ke prayatn mein apoorn hee rah jaate .

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब हर पग पर अपूर्णता दिखती है तो उसे समझ लेना चाहिये।

      Delete
  13. सत्य है |
    अपूर्ण भूत--
    आज अपूर्ण
    भूत में पूर्ण होने की सम्भावना |
    मात्र सम्भावना ||
    ऐसी दृष्टि मिले ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. संभावना, अपूर्णता से पूर्णता के बीच..

      Delete
  14. Very Inspirational!!
    देवला ने उस दिन रिक्वेस्ट की थी की उसका पेंटिंग देखूं..
    लेकिन आप है न, बातों में बस उलझा कर रख दिए :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको देख लेना चाहिये था, उसके पीछे की कहानी पता चल जाती।

      Delete
  15. एक नया ढंग अपूर्ण को पूर्ण में बदलने का.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ईश्वर की हर कृति में पूर्णता ढूढ़ रहे हैं हम।

      Delete
  16. अपूर्णता पूर्ण हुई तो फिर अपूर्णता आ घेरेगी. विसियस सर्कल!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस यही तो जीवन है, पूरा घेरा है।

      Delete
  17. ----वाह! क्या बात है,.....
    "पूर्णमदः पूर्णमिदं पूर्णात पूर्णमुदच्यते।
    पूर्णस्य पूर्णंमादय पोर्णमेवावशिष्यते ".....
    -----पूर्ण तो वही है जो जोडने घटाने से भी सदैव वही रहता है....अर्थात वह अद्रश्य....निर्गुण, निराकार .आकारहीन..न तस्य प्रतिमा अस्ति...
    ---अ + पूर्णता = अन्तरनिहित पूर्णता...अतुलनीय पूर्णता
    ----अन्य सारा जगत तो अपूर्णता में ही पूर्णता लिये हुए है......अत: सब कुछ जो द्रश्यमान है अपूर्ण होने के कारण ही पूर्ण भासमान होता है...पूर्ण होने पर अद्रश्य होजाता है.. यह अपूर्णता की पूर्णता है....

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने, पूर्णता के आगे अ जोड़ने पर वह पूर्ण रहा।

      Delete
  18. क्या नहीं बना है, उसका चिन्तन कर जो बना हुआ है, उसकी अवहेलना करना कृति के साथ घोर अन्याय है।
    बिल्‍कुल सही बात कही है आपने ... इस उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जो भी दिखे, उसी में पूर्णता देख कर आगे बढ़ जायें।

      Delete
  19. पूर्ण व प्राणवान आलेख..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  20. चिर-तृप्ति अगर हो अंतर्मन में चलने का का उत्प्रेरण कही विलुप्त हो जायेगा .अपूर्ण में पूर्णता देखना आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. इसी प्रेरणा से जीवन में शक्ति बनाये हुये हैं।

      Delete
  21. आपकी बात आत्मसात कर ली है ... अपूर्न्तः ही सत्य है, पूर्ण है ... गहरा चिंतन ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. अन्तर करना कठिन हो जाता है, क्योंकि कभी पूर्णता देखी ही नहीं।

      Delete
  22. जितनी अधिक ऊर्जा पास रहती है उतनी अधिक अपूर्णता दिखने लगती है जगत में।
    सूत्रवाक्य सा स्थापित सत्य!

    अपूर्णता ही पूर्णता की आत्मा है... बहुत सुन्दर विश्लेषण किया है आलेख के माध्यम से!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ऊर्जा पास हो तो बहुत कुछ कर डालने की इच्छा होने लगती है।

      Delete
  23. देवला की पेंटिंग सचमुच अद्भुत नजर आ रही है। उससे नजर ही नहीं हट रही है। उसकी यह अपूर्णता जारी रहे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब भेंट होगी तब उसकी पेंटिंग से परिचय कराऊँगा आपका।

      Delete
  24. क्या नहीं बना है, उसका चिन्तन कर जो बना हुआ है, उसकी अवहेलना करना कृति के साथ घोर अन्याय है। जीवन में जो नहीं मिल पाया पूर्ण होने के लिये, उसकी व्यग्रता में जो लब्ध है उसे क्यों व्यर्थ करना आपका कहना एकदम ठीक है सौफ़ी सदी सही लिखा है आपने मगर शाद यही मानव स्वभाव है की जो है उसे खुश न रहकर हमेशा और कुछ नया पाने की चाह सदैव ही बनी रहती है,शायद प्रगति या यूं कहें की आगे बढ्ने के लिए यह हमेशा कुछ नए पाने की इच्छा ही आज हमें यहाँ तक ला पायी है जहां आज हम हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आगे बढ़ने की प्रेरणा देता रहे यह दर्शन।

      Delete
  25. पूर्णता की परिधि का व्यास अपूर्णता से ही तैयार होता है.

    ReplyDelete
  26. बहुत गहन चिंतन ... सच ही पूर्ण कुछ भी नहीं ... अपूर्ण है तब तक ही सहज चेतना जागृत है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. चेतना में ऊर्जा होती है जो अपूर्णता को भरने भागती है।

      Delete
  27. अपूर्णता विकास का प्रेरणाबल है।

    ReplyDelete
  28. कल 15/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  29. अद्भुत लेख....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  30. 'पूर्ण' आदर्श है .अपूर्ण एक यथार्थ है .अपूर्ण पूर्ण की और बढ़ता रहता है लेकिन पहुंचता कभी नहीं है .परम शून्य सा अलब्ध बना रहता है .परिवर्तन की तरह शाश्वत है अपूर्ण .पूर्ण महज़ एक आदर्श है एक सनक है ,असामान्य व्यवहार है पूर्णता की तलाश .एहम सवाल है यात्रा जाना अपूर्ण का पूर्ण की जानिब .

    ReplyDelete
    Replies
    1. यही अलब्ध हमें बढ़ते रहने की प्रेरणा देता रहता है।

      Delete
  31. भाई ... आप तो दार्शनिक की तरह ... लिख रहे है ... साधुबाद ..plz visit my another blog
    babanpandey.blogspot.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. दर्शन भी तो अपूर्णता और पूर्णता के बीच की स्थिति है।

      Delete
  32. सनातन सत्‍य का अधुनातन आख्‍यान।

    ReplyDelete
  33. सार्थक सोच की पूर्णता लिए विचार ....
    बच्चों के लिए जो आपका दृष्टिकोण है उससे बहुत कुछ सीखने को मिला ....
    देवला की पेंटिंग बड़ी आर्टिस्टिक लगी ....बच्चों का रंगों से खेलना जारी रहे ... सस्नेह, शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिटिया को रंगों से बहुत प्यार है, कला में उसकी रुचि बनी रहेगी।

      Delete
  34. बस यही अपूर्णता बनी रहे जीवन में.. बिटिया की पेंटिंग लाजवाब है!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम तो इसी अपूर्णता को जीवन के विकास का आधार बनाये रहते है।

      Delete
  35. कृपया देखिएगा मेरा पहला कमेन्ट आपके ब्लॉग में आया कि नहीं ..सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. और कोई कमेन्ट तो नहीं आया आपका।

      Delete
  36. being imperfect and always in the process of learning is the biggest trait of an otherwise called "perfect" person.

    yet again an awesome read !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. विकास रुक जायेगा पूर्ण होने में, हम अपूर्ण ही भले।

      Delete
  37. पूर्णता और अपूर्णता जीवन में अलग-अलग क्षेत्रों में भिन्‍न-भिन्‍न रूपों में परिभाषित है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम तो पूर्णता परिभाषित करने में भी अपूर्ण हैं।

      Delete
  38. अच्छा और बहुत विचारपूर्ण लिखा है आपने..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  39. सर जी अपूर्ण ही पूर्णता का पथ है , भला इसे कौन भुला सकता है !अपूर्णता ही जीवन है , पूर्ण मृत्यु ! सुन्दर लेख और चित्र में मुझे बहुत कुछ दिखा है ! जैसे भीड़

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा, अपूर्णता ही पूर्णता का पथ है।

      Delete
  40. अद्भुत विचार,सार्थक सोच...

    ReplyDelete
  41. अपूर्ण कृति में किसी के द्वारा प्रयास की पूर्णता देख पाना उनके लिये सर्वथा नया अनुभव था।
    कितना कुछ बाकी है इस विश्व में सृष्टि में जानने को .मैं तो इसका अल्पांश ही बूझ पाया हूँ जैसे जैसे और जितना ज्यादा में जान पाता हूँ ,मुझे लगता है मुझे कुछ नहीं मालूम .यह सृष्टि जितनी गेय है उससे कहीं ज्यादा अगेय बनी हुई है .साइंसदान भी मात्र इसका एक फीसद अंश बूझ पायें हैं .फिर इतना मान गुमान अभिमान क्यों ? .अपूर्णता सनातन है ,सार्वत्रिक है .सार्वकालिक है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रकृति मे कितने रहस्य छिपे हैं और कितने ज्ञात हैं, वही हमारी अज्ञानता और अपूर्णता को दर्शाता है।

      Delete
  42. क्या नहीं बना है, उसका चिन्तन कर जो बना हुआ है, उसकी अवहेलना करना कृति के साथ घोर अन्याय है। जीवन में जो नहीं मिल पाया पूर्ण होने के लिये, उसकी व्यग्रता में जो लब्ध है उसे क्यों व्यर्थ करना?

    very nice..........

    ReplyDelete
  43. अगर अपूर्ण न रहे तो पूर्णता का भी तो कोई अर्थ नहीं रह जाएगा..

    ReplyDelete
    Replies
    1. पूर्णता की अनन्त राह अपूर्णता से होकर जाती है।

      Delete
  44. ऊर्जा का प्रवाह सदैव उच्च स्तर ( विभव /तल/ताप क्रम ) से निम्न स्तर की ओर ही होता है | उसी प्रकार जीवन का प्रवाह भी पूर्णता से रिक्तता की ओर ही होता है | आप अपूर्ण है तभी ऊर्जा आपकी ओर प्रवाहित होगी | जो जितना अधिक अपूर्ण ,वह उतना अधिक पात्र ,पूर्ण होने का | पूर्णता के सापेक्ष अपूर्णता ही मानक है किसी व्यक्ति के धारण ( ज्ञान,संस्कार,बल,वैभव...) करने की क्षमता की |
    उत्तम कोटि का लेख ...|

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपूर्ण ही गतिमान रहेगा, अपूर्ण में ही पूर्णता का प्रवाह रहेगा, पूर्ण अपनी स्थिति क्योंकर छोड़ेगा।

      Delete
  45. Very Inspirational Praveen Ji

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  46. पेंटिंग वाकई बहुत अच्छी लग रही है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिटिया ने जब बनायी थी, हम भी अचरज में पड़ गये थे।

      Delete
  47. बहुत सुन्दर सन्देश है किन्तु शंका है कि याद रहेगा.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
    Replies
    1. पूर्णता दृष्टि से ओझल हो सकती है, अपूर्णता तो हर ओर बिखरी पड़ी है।

      Delete
  48. पूर्ण तो यहाँ कभी कुछ होता ही नहीं है.बाकी सबकी अपनी धारणा !

    ReplyDelete
    Replies
    1. पूर्णता पाने की व्यग्रता जीने का आनन्द न छीने बस।

      Delete
  49. मेरे लिये अपूर्ण एक पूर्ण शब्द है-ऐसा लगा जैसा आपने मेरी बात कह दी...बहुत सटीक!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह अपूर्णता पहले कचोटती थी, अब पूर्ण लगती है।

      Delete
  50. सुन्दर पेंटिंग!
    पूर्ण अपूर्ण पर स्व.कन्हैया लाल नंदनजी की एक कविता:

    एक सलोना झोंका
    भीनी-सी खुशबू का,
    रोज़ मेरी नींदों को दस्तक दे जाता है।
    एक स्वप्न-इंद्रधनुष
    धरती से उठता है,
    आसमान को समेट बाहों में लाता है,
    फिर पूरा आसमान बन जाता है चादर,
    इंद्रधनुष धरती का वक्ष सहलाता है,
    रंगों की खेती से झोली भर जाता है।
    इंद्रधनुष,
    रोज रात
    सांसों के सरगम पर,
    तान छेड़
    गाता है।
    इंद्रधनुष रोज़ मेरे सपनों में आता है।
    पारे जैसे मन का,
    कैसा प्रलोभन है?
    आतुर है इन्द्रधनुष बाहों में भरने को।
    आ क्षितिज दोनों हाथ बढ़ाता है,
    एक टुकड़ा इन्द्रधनुष बाहों में आता है,
    बाक़ी सारा कमान बाहर रह जाता है।
    जीवन को मिल जाती है,
    एक सुहानी उलझन…
    कि टुकड़े को सहलाऊँ ?
    या पूरा ही पाऊँ?
    सच तो यह है कि
    हमें चाहिये दोनों ही,
    टुकड़ा भी, पूरा भी।
    पूरा भी, अधूरा भी।
    एक को पाकर भी दूसरे की बेचैनी
    दोनों की चाहत में

    कोई टकराव नहीं।
    आज रात इंद्रधनुष से खुद ही पूछूंगा—
    उसकी क्या चाहत है?
    वह क्योंकर आता है?
    रोज मेरे सपनों में आकर
    क्यों गाता है?
    आज रात....

    ReplyDelete
    Replies
    1. अद्भुत कविता, एक दूसरे की अपूर्णता भरने का प्रयास करते सब तत्व।

      Delete
  51. असली सौंदर्य अपूर्णता में है.. क्योंकि तब पूर्णता की चाहत बनी रहती है..और पूर्णता जैसी चीज का शायद अस्तित्व ही नहीं है.. तो एक अधूरेपन की कसक हमारे जीवन को संतुलित बनाए रखती है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपूर्णता संतुलन बनाये रखती...शत प्रतिशत सच।

      Delete
  52. Praveen, Thank you for sharing your thoughts, its always inspiring to read your observations but today I am going to talk about Devla's painting - Picasso once said "All children are artists. The problem is how to remain an artist once he grows up." and that's what I see in her work, a young Picasso. If we describe her work in Art Terminology it would be put under 'Abstract art' and Abstract art is something that's never understood completely, the beauty of abstract art is that every time you come back to it, you discover something new in it. That's what I personally find so fascinating about a child's imagination - it has no beginning and no end. When they paint, they paint fearlessly, with complete surrender and without thinking much and that's the reason its universally admired. Brilliant piece of work by her, Pls tell her that Uncle Alok is really inspired by her work and will always look forward to see more from her.

    ReplyDelete
    Replies
    1. दोनों बच्चे अभी तक उड़ रहे हैं, दोस्तों को बता रहे हैं कि वे आपसे मिले हैं। कला में लगन गहरी है और बनी रहेगी।

      Delete
  53. अपूर्ण एक पूर्ण शब्द है,सुन्दर लेख और सुन्दर चित्र .......

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  54. अपूर्णता न हो तो पूर्णता का प्रश्न कहाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. राह वही है, बढ़ने की।

      Delete
  55. apprnta hai to jigyasa hai ,aage badhne ki chaah hai vahi jeevan chakra hai darshan shastra ka ek adhyaay hi samjho padh liya.bahut achchi post.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बढ़ते रहने की निश्चितता है अपूर्णता।

      Delete
  56. अपूर्ण यदि इतना सुंदर है तो पूर्ण ही है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तभी तो अपूर्ण पूर्ण है।

      Delete
  57. सच कहा ये तो सिर्फ अपने दृष्टिकोण की ही बात है | वैसे भी कभी-कभी अपूर्ण होना पूर्ण होने से भी सच्चा होजाता है .....

    ReplyDelete
  58. अपूर्णता एक नियत सत्य है, कोई भी ऐसा तत्व नहीं दिखायी पड़ता है जो पूर्ण हो। पूर्णता का असत्तिव अपूर्णता मे ही निहित है शाय़द।आपको कोटि-कोटि ऩमन।

    ReplyDelete