24.3.12

उपलब्धि रही यह जीवन की

रातें लम्बी, दिन छोटे हैं, हम व्यथा बनाये ढोते हैं,
रातों की काली स्याही में, हम उजले दिन भी खोते हैं।
जब आशा बन उद्गार जगी, तब रोक वृत्ति चिन्तित मन की,
अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।१।।

आदर्श-लता हम बोते हैं, श्रम, समय तिरोहित होते हैं,
पूर्णाहुति में सब कुछ अर्पित, लखते अतीत को, रोते हैं।
जब सुनकर चीखें पीर भरी, तब त्याग क्षुधा दावानल सी,
आदर्शों ने उपवास रखा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।२।।

अति उत्साहित चिन्तन मन का, जीवट था, गर्व उमड़ता था,
पा कोई समस्या कैसी भी, बन प्रबल विरोधी भिड़ता था।
जब लड़ने की इच्छा थकती, तब छोड़ पिपासा दंभ भरी,
उद्वेगों को चुपचाप सहा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।३।।

हम चढ़कर ऊँचे पर्वत पर, निश्चय पायें सम्मान प्रखर,
यश-सिन्धु, बिन्दु बन मिल जाते, जीवन आहुतियाँ दे देकर।
तन, मन, समर्थ हो जितना भी, हो जीवन श्रम, क्रम उतना ही,
मैं अपनी क्षमता जान सका, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।४।।

71 comments:

  1. आत्म मूल्यांकन करती सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  2. बहुत उम्दा....उपलब्धि रही यह जीवन की...बहुत ही बेहतरीन उपल्ब्धियाँ हासिल हुईं...आध्यात्मिक टच है रचना में..

    ReplyDelete
  3. बीते हुए जीवन से ही हम सीखते हैं ,हाँ कई बार यह सीख हमें देर से मिलती है और हम काफी कुछ खो देते हैं !
    सुन्दर कविता !

    ReplyDelete
  4. वाह प्रवीन भाई ... मानव मन की कमजोरियां को ... चित्रित करने में आप सफल हुए ... अपने किये कार्यों को अगर सही आकलन किया जाए तो ... पूरी कविता सटीक बैठी है // आपसे एक अनुरोध है भाई ... आप मेरे दुसरे ब्लॉग पर भी आये "२१वी सदी का इन्द्रधनुष ''

    ReplyDelete
  5. वाह! बहुत शानदार अभिव्यक्ति|

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रेरणास्पद कविता

    ReplyDelete
  7. मेरे मित्र रवि जी का जिक्र तो आपने सुना ही होगा मेरे से..
    उन्हें आपकी सभी कवितायें मैं पढ़ के सुनाता था, जब बैंगलोर में था.
    उन्हें अब फोन करने जा रहा हूँ..ये कविता उन्हें सुनाने के लिए! :)

    ReplyDelete
  8. नव संवत्सर का आरंभन सुख शांति समृद्धि का वाहक बने हार्दिक अभिनन्दन नव वर्ष की मंगल शुभकामनायें/ सुन्दर प्रेरक भाव में रचना बधाईयाँ जी /

    ReplyDelete
  9. शब्दों का सुन्दर चयन, भाव सकल शालीन ।
    अन्तर के पट खोलते, धीर वीर परवीन ।


    धीर वीर परवीन, सीखता खुद पर हंसना ।
    आदर्शी उपवास, कभी भी नहीं बहकना ।

    उद्वेग सहे चुपचाप, जानता अपनी क्षमता ।
    ना दैन्यं न भाग, ठसक से जाए जमता ।।

    dineshkidillagi.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. मौन सहे उद्वेग, जानता अपनी क्षमता ।

    ना दैन्यं न भाग, ठसक से जाए जमता ।।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर. "पूर्णाहुति में सब कुछ अर्पित" इससे बड़ा संतोष क्या हो सकता है. बीती बाटें बिसार दे.

    ReplyDelete
  12. अति सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  13. रातें लम्बी, दिन छोटे हैं, हम व्यथा बनाये ढोते हैं,
    रातों की काली स्याही में, हम उजले दिन भी खोते हैं।
    जब आशा बन उद्गार जगी, तब रोक वृत्ति चिन्तित मन की,
    अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।१।।
    Kya gazab ke alfaaz hain pooree rachana ke!

    ReplyDelete
  14. सकारात्मक भावों से परिपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  15. इस ख़ूबसूरत पोस्ट के लिए बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  16. सुन्दर रचना- मेरा मन तो पहली दो पंक्तियों पर ही अटक गया और संकल्प है लम्बी काली रात के चक्कर में छोटे मगर उजले दिन नहीं खोने हैं.

    ReplyDelete
  17. sundar shbdon ka chayan...arthpurn rachna..

    ReplyDelete
  18. सकारात्मक सोच के साथ बहुत सुन्दर आत्म विश्लेषण ..बधाई..प्रवीण जी..

    ReplyDelete
  19. जीवन की उपलब्धियों का संतोष जनक होना सबसे बदी उपलब्धि होती है .

    ReplyDelete
  20. रातों की काली स्याही में, हम उजले दिन भी खोते हैं।
    ये ही सच है ....

    ReplyDelete
  21. .उपलब्धि रही यह जीवन की.... बेहतरीन रचना ... कुछ समय के लिए तो मैं सोच में पड़ गयी की मेरी क्या उपलब्धि है जीवन की ... :)

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन सटीक रचना,......

    my resent post


    काव्यान्जलि ...: अभिनन्दन पत्र............ ५० वीं पोस्ट.

    ReplyDelete
  23. जब आशा बन उद्गार जगी, तब रोक वृत्ति चिन्तित मन की,
    अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।१।।
    जीवन की सच्ची उपलब्धियां बड़ी सुन्दरता से व्यक्त हुई हैं!

    ReplyDelete
  24. रातें लम्बी, दिन छोटे हैं, हम व्यथा बनाये ढोते हैं,
    रातों की काली स्याही में, हम उजले दिन भी खोते हैं।

    .....जीवन में सफलता का सूत्र...बहुत सुंदर प्रेरक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  25. आत्मावलोकन करती सुन्दर प्रेरणादायी रचना.

    ReplyDelete
  26. आपकी तो भाषा ही हर रचना को बेहद सुंदर बना देती है :) बहुत ही सुंदर शब्द भाव संयोजन

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर!
    उपलब्धियों का भान रहे, कम नहीं कहीं से यह।

    ReplyDelete
  28. आदर्श-लता हम बोते हैं, श्रम, समय तिरोहित होते हैं,
    पूर्णाहुति में सब कुछ अर्पित, लखते अतीत को, रोते हैं।
    जब सुनकर चीखें पीर भरी, तब त्याग क्षुधा दावानल सी,
    आदर्शों ने उपवास रखा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।२।।

    अनुपम भाव संयोजन लिए उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  29. आदर्श-लता हम बोते हैं, श्रम, समय तिरोहित होते हैं,
    पूर्णाहुति में सब कुछ अर्पित, लखते अतीत को, रोते हैं।
    जब सुनकर चीखें पीर भरी, तब त्याग क्षुधा दावानल सी,
    आदर्शों ने उपवास रखा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।
    आखिर क्यों भूलें हम भैया जो बीत गया वह बात बात गई .बेहद सार्थक छंदोबद्ध रचना .सकारात्मक स्वरों का पुरजोर आवाहन करती हुई .

    ReplyDelete
  30. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!
    नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  31. वाकई सुन्दर उपलब्धि है आपकी.. सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  32. बढिया उपलब्धि।

    ReplyDelete
  33. जब आशा बन उद्गार जगी, तब रोक वृत्ति चिन्तित मन की,
    अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।१।।

    बेहतरीन रचना कविवर प्रणाम स्वीकारें !

    ReplyDelete
  34. सुंदर भाव, सटीक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  35. जब लड़ने की इच्छा थकती, तब छोड़ पिपासा दंभ भरी,
    उद्वेगों को चुपचाप सहा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।३।।

    आपकी आशाएं और विश्वास सदा बना रहे ...... प्रेरणादायी पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  36. सुंदर अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  37. तन, मन, समर्थ हो जितना भी, हो जीवन श्रम, क्रम उतना ही,
    मैं अपनी क्षमता जान सका, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।४।।
    - अपनी क्षमता का आकलन ,बहुत बड़ी उपलब्धि .कुछ कर गुज़रने का यही आधार बनता है

    ReplyDelete
  38. अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।१।।
    Sab kuch kah diya! Pravin bhai :-)

    ReplyDelete
  39. 'आदर्शों ने उपवास रखा, उपलब्धि रही यह जीवन की' यह तो उध्‍दरणीय सूक्ति अनुभव हो रही है।

    ReplyDelete
  40. आदर्श-लता हम बोते हैं, श्रम, समय तिरोहित होते हैं,
    पूर्णाहुति में सब कुछ अर्पित, लखते अतीत को, रोते हैं

    .... जीवन सत्य के निचोड़

    ReplyDelete
  41. हम चढ़कर ऊँचे पर्वत पर, निश्चय पायें सम्मान प्रखर,
    यश-सिन्धु, बिन्दु बन मिल जाते, जीवन आहुतियाँ दे देकर।
    तन, मन, समर्थ हो जितना भी, हो जीवन श्रम, क्रम उतना ही,
    मैं अपनी क्षमता जान सका, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।४।।

    जीवन की वास्तविक समझ, व हमारी सुख-शांति तो इसी मंत्र में निहित है।

    ReplyDelete
  42. खूबसूरत और बेहतरीन रचना
    अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की

    ReplyDelete
  43. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती आप के ब्लॉग पे आने के बाद असा लग रहा है की मैं पहले क्यूँ नहीं आया पर अब मैं नियमित आता रहूँगा
    बहुत बहुत धन्यवाद् की आप मेरे ब्लॉग पे पधारे और अपने विचारो से अवगत करवाया बस इसी तरह आते रहिये इस से मुझे उर्जा मिलती रहती है और अपनी कुछ गलतियों का बी पता चलता रहता है
    दिनेश पारीक
    मेरी नई रचना

    कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: माँ की वजह से ही है आपका वजूद:
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2012/03/blog-post_15.html?spref=bl

    ReplyDelete
  44. A very beautiful poem!

    ReplyDelete
  45. har line lazabab hai......

    ReplyDelete
  46. मैं अपनी क्षमता जान सका, उपलब्धि रही यह जीवन की ...

    इंसान अपनी क्षमता को पहचान ले तो जीवन सफल और सुखी हो जाता है ...
    मधुर गान है ...

    ReplyDelete
  47. a fantastic introspective post :)
    the feeling of satisfaction at the end of the day is worth all the hardships n work !!

    ReplyDelete
  48. कार्ल मार्क्स ने "Alienation" लिखा था..आपने तो एक कविता मैं ही उस पूरी किताब के दर्शन करा दिए..बहुत खूब.

    ReplyDelete
  49. "रातें लम्बी, दिन छोटे हैं, हम व्यथा बनाये ढोते हैं,
    रातों की काली स्याही में, हम उजले दिन भी खोते हैं।
    जब आशा बन उद्गार जगी, तब रोक वृत्ति चिन्तित मन की,
    अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की"
    बेहतरीन रचना....

    ReplyDelete
  50. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से नव संवत्सर व नवरात्रि की शुभकामनाए।

    ReplyDelete
  51. अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की...

    बहुत सुंदर/सार्थक गीत...
    सादर।

    ReplyDelete
  52. हम चढ़कर ऊँचे पर्वत पर, निश्चय पायें सम्मान प्रखर,.....bas yahi prayaas chal raha hai Praveen ji.

    ReplyDelete
  53. रातें लम्बी, दिन छोटे हैं, हम व्यथा बनाये ढोते हैं,
    रातों की काली स्याही में, हम उजले दिन भी खोते हैं।
    जब आशा बन उद्गार जगी, तब रोक वृत्ति चिन्तित मन की,
    अपने ऊपर कुछ देर हँसा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।१।।
    एक से बढ़के एक अशआर हबीब साहब सभी अपना अलग असर अलग तासीर लिए हुए .बढ़िया गज़ल .

    खुद से संवाद करवाती हुई पोस्ट .आपकी टिपण्णी के लिए शुक्रिया .परसों रवानगी है बेंगलुरु की फुर्सत के क्षणों में याद कीजिएगा (093 50 98 66 85/0961 9022 914 ,08065701791)पहले दोनों नंबर मेरे आखिरी शेखर जेमिनी भाई के (मित्रवर ).२८ मार्च से १८ अप्रेल तक प्रवास है शेषर भाई के यहाँ .

    ReplyDelete
  54. जीवन की उपलब्धियों का आकलन भी आवश्यक है समय समय पर. सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  55. sunder bhawo'n ka adbhut sanyojan...

    ReplyDelete
  56. जो अपने ऊपर हंस पाए उसने ही जीवन को जाना।
    उसका जीवन व्यर्थ ही रहा, खुद से रहा जो अनजाना।
    इस उपलब्धि के समक्ष सभी तुच्छ हैं, फीकी हैं, निःसार है। कवि मूलतः द्रष्टा होता है, इस सत्य को प्रमाणित करती कविता।

    ReplyDelete
  57. जब लड़ने की इच्छा थकती, तब छोड़ पिपासा दंभ भरी,
    उद्वेगों को चुपचाप सहा, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।३।।
    गहन ....सार्थक उपलब्धि जीवन की ...!!
    उत्तम रचना ...!!

    ReplyDelete
  58. आदर्श-लता हम बोते हैं, श्रम, समय तिरोहित होते हैं,
    पूर्णाहुति में सब कुछ अर्पित, लखते अतीत को, रोते हैं।

    सत्य को कहती सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  59. PRAVEEN JI SATEEK LIKHA HAI AAPNE...जो अपने ऊपर हंस पाए उसने ही जीवन को जाना।AABHAR
    LIKE THIS PAGE AND SHOW YOUR PASSION OF HOCKEY मिशन लन्दन ओलंपिक हॉकी गोल्ड

    ReplyDelete
  60. आत्म चिंतन से ओत प्रोत .

    ReplyDelete
  61. सर जी समय चक्र में सु कर्म ही जीवन है !

    ReplyDelete
  62. aatm manthan kar sukoon ka ehsaas pradaan karti shreshth panktiyaan.

    ReplyDelete
  63. aatm manthan kar sukoon ki anubhooti karati shreshta panktiyaan.

    ReplyDelete
  64. जब सुनकर चीखें पीर भरी, तब त्याग क्षुधा दावानल सी,
    आदर्शों ने उपवास रखा, उपलब्धि रही यह जीवन की

    भावों को सर्वोत्तम श्रेष्ठता की उँचाई प्रदान कर दी है।

    ReplyDelete
  65. बहुत सुन्दर.. जीवन चक्र को दर्शाती

    ReplyDelete
  66. we are actually " self sustained system". it requires sometimes self analysis only and if one acts upon 'feed back corrective mechanism' then surely 'success' is his "keep".

    nice verse.

    ReplyDelete
  67. aap bahut achha likhte hain.

    ReplyDelete
  68. हम चढ़कर ऊँचे पर्वत पर, निश्चय पायें सम्मान प्रखर,
    यश-सिन्धु, बिन्दु बन मिल जाते, जीवन आहुतियाँ दे देकर।
    तन, मन, समर्थ हो जितना भी, हो जीवन श्रम, क्रम उतना ही,
    मैं अपनी क्षमता जान सका, उपलब्धि रही यह जीवन की ।।४।।... यही श्रेष्ठ है

    ReplyDelete
  69. बहुत समय बाद आई । सीधे कविता पर ।

    यश-सिन्धु, बिन्दु बन मिल जाते, जीवन आहुतियाँ दे देकर।
    तन, मन, समर्थ हो जितना भी, हो जीवन श्रम, क्रम उतना ही,
    मैं अपनी क्षमता जान सका, उपलब्धि रही यह जीवन की
    कितनी बडी उपलब्धि ।

    ReplyDelete