28.3.12

नकल का अधिकार

'भैया, पास न भयेन तो बप्पा बहुतै मारी' अर्थ था कि भैया, यदि परीक्षा में पास न हो पाये तो पिताजी बहुत पिटायी करेंगे। १८ साल का युवा, कक्षा १२, मार्च का महीना और आँखों का भय शत प्रतिशत प्राकृतिक। नाम का अधिक महत्व नहीं है क्योंकि आप मस्तिष्क पर थोड़ा सा भी जोर डालेंगे तो पड़ोस के किसी न किसी युवा का नाम आपके मन में कौंध जायेगा। पिता क्यों पीटेगें, क्योंकि उनका यह दृढ़ विश्वास है कि विद्यालय जाने के नाम पर लड़के मटरगस्ती करते रहते हैं क्योंकि पढ़ाई और अनुशासन रहा ही नहीं, कितना अच्छा होता कि लड़का घर में खेती आदि में पिताजी का हाथ बटाता।

लड़का भी क्या करे, परिश्रम तो बहुत किया है उसने। अब कुछ विषय ऐसे हैं जो समझ में आते ही नहीं हैं। अध्यापक ने वर्षभर कुछ पढ़ाया ही नहीं है, जब स्थानीय परीक्षा होती थी तो जुगत लगाकर पास कर दिया जाता था, बोर्ड की परीक्षाओं में पेपर बाहर वाले ही बनाते हैं और जाँचते भी बाहर ही हैं। यदि जो आता है, वह लिख दिया तो फेल होना तय है। फेल हो गये तो पिताजी को अपनी बात सिद्ध करने का अवसर मिल जायेगा और अगले साल से खेती करनी पड़ेगी।

किसी रोमांचक फिल्म से कम नहीं है, उस युवा की व्यथा कथा। जिन्हें हिन्दी फिल्में देखने का समुचित अनुभव है, उन्हें सुखान्त की आशा अन्त तक बँधी रहती है और बस एक बार दर्शक के मन में यह घर कर जाये कि पात्र निर्दोष है तो सुखान्त के लिये पात्र कुछ भी कर डाले, वह क्षम्य होता है।

अब एक ओर जीवन भर खेतों में खटना, वहीं दूसरी ओर थोड़ी बहुत नकल कर पास हो जाना और कालेज इत्यादि में नगरीय जीवन का आनन्द उठाना, युवा को निर्णय लेने में कोई कठिनाई नहीं हो रही थी। ऐसे निर्णयों को सहारा देने के लिये मन दौड़ा दौड़ा आता है, पूरी की पूरी तर्क श्रंखला के साथ।

अब देखिये कुछ दिन पहले तक स्वकेन्द्र परीक्षा होती थी अर्थात अपने ही विद्यालयों में बोर्ड की परीक्षा। जहाँ पूरे विद्यालय की प्रतिष्ठा दाँव पर लगी हो वहाँ पर छात्रों को येन केन प्रकारेण उत्तीर्ण कराना तो बनता है। कैसे भी हो बिना किसी अतिरिक्त प्रयास के सभी छात्र उत्तीर्ण हो जाते थे, ससम्मान की आस किसी को नहीं रहती थी क्योंकि सम्मान तो पहले ही गिरवी रखा जा चुका होता था। पता नहीं किस अधिकारी का निर्णय था कि परकेन्द्र परीक्षा ली जाये। किसी प्रतिद्वन्दी विद्यालय में जाकर सुविधानुसार प्रश्नपत्र हल करना तो दूर, सर हिलाना भी संभव नहीं रहता था। जहाँ कमरे में एक निरीक्षक होता था, वहाँ दो दो लग जाते थे। पता नहीं बिना पढ़े बच्चों को इस तरह से सताने में ईश्वर उन अध्यापकों को क्या आनन्द देता होगा।

स्वकेन्द्र हो या परकेन्द्र, नकल तो करनी आवश्यक ही थी। जब नकल न कर के पास होना सर्वथा असम्भव हो, तो नकल कर के पास होने का प्रयास तो किया ही जा सकता था। पकड़े जाने पर अनुत्तीर्ण कर दिये जाते हैं, पर बचने पर उत्तीर्ण होने की संभावना थी। प्रायिकता के इस सिद्धान्त पर और प्रयास सफल न होने पर भी अनुत्तीर्ण ही होने के निष्कर्षों ने नकल को दशकों तक छात्रों के बीच जीवन्त और लोकप्रिय बनाये रखा।

इस सर्वजनहिताय सिद्धान्त को तो तब झटका लगा था जब किसी मंत्री को छात्रों का यह सुख देखा नहीं गया। जो कार्य वर्ष भर की पढ़ाई करने में अक्षम थी, वह वर्षान्त की नकल करा देती थी। एक नकल अध्यादेश लाया गया जिसमें नकल करते छात्रों को सीधे जेल भेजे जाने का प्रावधान था। कितना बड़ा अन्याय, जिस अपराध के लिये पूरे शिक्षा तन्त्र को कटघरे में खड़ा किया जाना चाहिये, उसके लिये एक निरीह से छात्र को दण्ड देने के प्रावधान रखा गया। एक दो वर्ष पूरी युवाशक्ति सहमी सहमी रही, उत्तीर्ण छात्रों का प्रतिशत ३० के भी नीचे चला गया, घोर कलियुग, दो तिहाई युवाशक्ति नकारा। प्रतिक्रिया स्वाभाविक थी, नयी सरकार आयीं, छात्रों को उनका मौलिक अधिकार ससम्मान वापस कर दिया गया।

हमारे होनहार पात्र के लिये अब प्रश्न यह नहीं था कि नकल करना उचित है कि अनुचित या नकल करने का अवसर मिलेगा कि नहीं, प्रश्न इस बात का था कि नकल की किन विधियों को प्रयोग में लाकर उत्तीर्ण हुआ जा सकता था और वह भी, कम से कम प्रयास में, श्रम को भी सोच समझ कर बहाने का दायित्व जो था उन पर। या कहें कि क्या जुगत लगाने से नकल के लिये बनायी जाने वाली पुर्चियों की संख्या न्यूनतम हो और उसमें किस तरह अधिकतम सामग्री डाली जा सके।

अब कहीं जाकर हमको समझ में आया कि हमसे किस प्रकार की सहायता की अपेक्षा की जा रही थी।

63 comments:

  1. प्रभावशाली पंक्तियाँ प्रवीण भाई ||


    पेन में स्याही जबरदस्त, झल्ला जेहन स्याह ।
    चुटका चुटकी में छपे, मेधा रही कराह ।।

    मोबाइल नेट दोस्ती, रेस्टोरेंट जहीन ।
    इम्तिहान बेहद खले, भूला मोट-महीन ।।

    मुर्ग-मुसल्लम नोचता, आज नोचता बाल ।
    शुतुरमुर्ग बन ताकता, किन्तु गले न दाल ।

    पानी पी पी कोसता, प्रश्न-पत्र को घूर ।
    थोड़ी भी ना नम्रता, शिक्षक सारे क्रूर ।

    ReplyDelete
  2. नक़ल करना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार हैं व्यंग्य के माध्यम से सटीक बात .आभार

    ReplyDelete
  3. नक़ल अर्थतः खोखलापन व्यक्तित्व व समाज दोनों का /,अभिव्यकि व अभिव्यंजना की मुखरता सराहनीय .....कौन जिम्मेदार ! लेनी होगी जिम्मेदारी ...चिंतनीय /

    ReplyDelete
  4. आपसे हुई बातचीत का वृत्तांत सजीव हो उठा, और भी बहुत सारी पुरानी परकेन्द्र और स्वकेन्द्र की बातें याद हो आयीं, अनायास ही मुख पर स्मित मुस्कान लहरा उठी।

    नकल करना छात्रों का विशेषाधिकार होना चाहिये, नकल किसलिये करना पड़ रही है, उसके गर्भ में कोई नहीं जाना चाहता, शिक्षा तंत्र को इसका विश्लेषण करना चाहिये। सामयिक यक्ष प्रश्न है शिक्षा तंत्र के सामने -

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये पोस्ट पढ़ कर मेरी भी पहली प्रतिक्रिया कुछ ऐसी ही थी...सच में चेहरे पे एक मुस्कान आ गयी...
      आपको कुछ और बातें बताऊंगा इसी से सम्बंधित जब अगली बार मिलना होगा :)

      Delete
  5. नक़ल का नया-नया मॉडल बिहार से सीखा जा सकता है .. सरकार के सहयोगपूर्ण नीतियों के साथ..

    ReplyDelete
  6. नकल कर कर के ही तो बच्चा सीखता है, बड़ा होता है। पता नहीं क्यों लोग उस पर पाबंदी लगा देते हैं? और परीक्षा क्या है? फिजूल का गोरखधंधा। क्यो नहीं सीधे ही प्रमाणपत्र दे देते कि ये दस, बारह, पन्द्रह कक्षा पढ़ लिया। पता नहीं क्यों उत्तीर्ण का प्रमाण पत्र देते हैं।
    परीक्षा तो असली पानीपत या हल्दीघाटी में होती है।

    ReplyDelete
  7. मैं पंजाब में था तो एक आठवीं के छात्र(एक निजी स्कूल के) ने बोर्ड की परीक्षा को इस तरह परिभाषित किया था, "जिस पेपर को सरजी बोर्ड पर सोल्व करवाते हैं, वो बोर्ड परीक्षा होती है।"

    ReplyDelete
  8. :) आज का युग धर्म है नक़ल :) यह रामराज्य की दस्तक भी! कारण तो आप विवेचित कर ही भये :)

    ReplyDelete
  9. इसी लिए तो दसवीं में अपने कपिल चचा ने अब यह बोर्ड परिक्षा का झंझट ही करा दिया कि अपने ही स्कूल में रहकर जमकर नक़ल करो और ढेर सारी अक्ल पाओ !

    ReplyDelete
  10. ...वहाँ का क्या करे जहां अध्यापक तो पढाना चाहें पर बच्चे कक्षा से गोल रहें,अगर रहें भी तो मोबाइल के साथ और बगैर किसी अनुशासन के.सिगरेट और अन्य नशों का सेवन करते हुए अध्यापक देखें पर डाट न सकें !

    दोनों तरह की दशा में छात्रों से अधिक दोष हमारी व्यवस्था का है !

    ReplyDelete
  11. आखिरकार नक़ल करने में भी तो जुगत लगनी ही पड़ती है ...!!जितनी जुगत नक़ल करने में लगायी उतनी पढ़ने में लगाते तो नैया पार हो जाती .....
    समय पर की गयी थोड़ी सी मेहनत से दूर भागता है इंसान .....परेशान होता है ....
    सार्थक आलेख ...

    ReplyDelete
  12. नकल में अक्ल की जरूरत होती ही,

    MY RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    ReplyDelete
  13. आजकल तो शिक्षक ही नहीं जानते विषय को तो किसी को नम्बर किसी को जीरो

    ReplyDelete
  14. मैं तो Open Book Examination को हमेशा से सपोर्ट करता रहा हूँ. किताबों की खुली छूट देकर सवाल Analytical पूछें जाए, जिसका कोई भी जवाब सीधे किताबों में ना मिल पाए. अधिक से अधिक वे उन किताबों का reference ही ले सकें.

    साथ ही मन में ये भी आता है की ऐसे सवाल बनाने के लिए और उत्तर-पुस्तिका जांचने के लिए भी जो न्यूनतम ज्ञान होना चाहिए वह कहाँ से हम लायेंगे? :)

    ReplyDelete
  15. हमें तो बोर्ड का इतना ही अर्थ मालूम है कि जो हमें पढाया गया था और हमने रट्टा लगाया था, उस सबसे बाहर के प्रश्न होते थे प्रश्नपत्र में। तो फिर नकल करने का अधिकार तो बनता है ना :)
    और उस पर जुल्म ये कि "नकल कैसे करें" जैसे जरुरी विषय को हमसे दूर रखा जाता था। तो सबसे सरल हमें फेल होना ही लगता है, आज भी :)

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  16. कहते हैं कि अगर जड़ कमज़ोर हो सम्पूर्ण वृक्ष ही कमज़ोर और फलविहीन होता है..हमारे शिक्षा तंत्र (विशेषतः यूपी) में उल्टा है, यहाँ तंत्र कि जड़ ऊपर है जो हमेशा से ही कुशल नेतृत्व के अभाव में सम्पूर्ण तंत्र और जनता के भविष्य की अनदेखी करती रही है..वो करे भी क्यों ना, ना तो वो कुशल लीडर हैं और न आदर्श मनुष्य..
    एक आदर्श परीक्षा मोडल की अदद ज़रुरत हैं आज के समय में जो लोगो की नक़ल वाली सोच को बदल सके..ऐसा तभी संभव है जब छात्रों को एक बार की परीक्षा के बजाय पूरे साल के उनके क्रिया कलापों और प्रदर्शन के आधार पर ग्रेड्स दिए जाएँ..ना कि अंक !!

    ReplyDelete
  17. नक़ल के लिए अक्ल की आवश्यकता पड़ती है.

    ReplyDelete
  18. ये व्यवस्था का दोष है ... शिक्षा पद्धति का दोष है ...

    ReplyDelete
  19. नक़ल के लिए भी अक्ल चाहिए :).बड़ा स्किल वाला काम है ये भी.
    @जिस अपराध के लिये पूरे शिक्षा तन्त्र को कटघरे में खड़ा किया जाना चाहिये, उसके लिये एक निरीह से छात्र को दण्ड देने के प्रावधान रखा गया।
    सोलह आने सच्ची बात .

    ReplyDelete
  20. नक़ल करने से भला तो फ़ैल हो जाना ही हैं ...पर नक़ल कर के पास होने का सुख तो नक़ल करने वाले ही जाने :-) अच्छी पोस्ट नक़ल के लिए भी अक्ल चाहिए :).बड़ा स्किल वाला काम है ये भी. ye bhi bahut sahi kaha Sikha ji ne :-)

    ReplyDelete
  21. अपनी ग्रामीण शाखा में पोस्टिंग के दौराँ देखे गए दृश्य नज़र से गुज़र गए!!

    ReplyDelete
  22. आपकी पोस्‍ट पढ कर अपने स्‍कूली दिन याद आ गए। याद आ गया वह सहपाठी जिसने एक पर्ची में सूची बना रखी थी कि कस ऑपिक की पर्ची, कहॉं छुपा रखी है। निरीक्षक ने वही पर्ची पकड ली।

    ReplyDelete
  23. sarthak post hae aapki mja bhi aaya pr jankari bhi mili.aabhar.

    ReplyDelete
  24. मजा आ गया पढ़कर, और अपने स्कूल व कॉलेज के दिनों के कुछ अद्भुत नकल-महारथियों की याद सायाश ताजा हो गयी । इतनी तथ्यपूर्ण बात का इतना चुटीला व प्रभावकारी विश्लेषण यह तो प्रवीण जी की प्रवीणता से ही संभव है। सुंदर व प्रभावकारी लेख।

    ReplyDelete
  25. कुछ समय शिक्षण के क्षेत्र में रहा... अनेक वाकये याद आ गए....

    सादर।

    ReplyDelete
  26. सर जी हमारे समय में नक़ल जरा कम था ! आज आधुनिक हो गया है !

    ReplyDelete
  27. bahut badiya prastuti..
    Nakal ke liye bahut akal aur himmat chahiye hoti hai... hamein to nakal ke naam se hi pasina aa jaata hai..

    ReplyDelete
  28. हर व्यक्ति को शार्टकट चाहिए ....

    ReplyDelete
  29. टीपू सुल्तान के वंशजों की मनोहर कहानी . हमने भी देखा है २-४ ऐसे पराक्रमी

    ReplyDelete
  30. नक़ल करने वाले तो हर समय रहे हैं, पर पहले इनकी संख्या नाम मात्र की होती थी..वैसे जितना नक़ल की जुगाड में समय लगता है, उतने में पढ़ाई भी हो सकती है...बहुत रोचक आलेख

    ReplyDelete
  31. नक़ल करने वाले संसाधनों के जुगाड में अक्ल इस्तेमाल कर लेते हैं और सफल भी हो जाते हैं.
    सटीक व्यंग्य

    ReplyDelete
  32. खुलेआम किताबें ले जाने को कह दिया जाय -जिसने पढ़ी नहीं होंगी और मैटर पता नहीं होगा उत्तर छाँट भी नहीं पायेगा .

    ReplyDelete
  33. मेरे प्राध्यापक मित्र (अब सेवा निवृत्त )डॉ .वागीश मेहता अपने एक और साथ के साथ सैर पे निकले थे .रास्ते में उन्हें एक पूर्व छात्र मिला .मेहता जी ने पूछा भाई क्या करते हो आजकल ."क्या करता स्कूल चलाता हूँ ,उसी का प्रिंसिपल बन गया "आपने तो मेरा केस बाँध दिया था (नकल करते पकडे जाने पर हरियाणा का छात्र आज भी यही कहता है सर केस मत बांधों ).तो भाई साहब नकलची को मत पकड़ो वह आगे चलके प्राचार्य बन जाएगा .पूरे शिक्षा तंत्र का बड़ा गर्क कर रहें हैं ये कायदे पे चलने वाले इन्विज्लेटर .जरा सोचिये जिस शिक्षा तंत्र ने आज स्कूल के अध्यापक से क्लास रूम की कुर्सी छीनकर उसे एक ऐसा रोबोट बना डाला है जो खड़े खड़े ६-७ घंटा लगातार पढाता ,वह कैसे छात्र पैदा करता होगा ?ये कपिल सिब्बलीय तंत्र है उकील साहब संसद को भी कचेरी समझे बैठे हैं .विषय -अंतरण के लिए माफ़ करें .यह तंत्र नकलची ही पैदा करेगा अक्लमंद अकलची नहीं .

    ReplyDelete
  34. Today is a lot of pressure on children to perform!

    ReplyDelete
  35. नकल के लिए अकल की जरूरत होती है .... जो विद्यार्थी पढ़ने में अकल नहीं लगाते वो नकल में खूब लगाते हैं ...

    ReplyDelete
  36. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 29-०३ -2012 को यहाँ भी है

    .... नयी पुरानी हलचल में ........सब नया नया है

    ReplyDelete
  37. हमने को खूब पकड़ी हैं -कहाँ-कहां छिपी हुई पर्चियाँ !

    ReplyDelete
  38. ये भी एक कला ही है कि नकल की पुर्चियाँ कैसे बनाना और छिपाना है- इसमें निपुण होना भी तो सबके बस की बात नहीं है महाराज. कम से कम आपके और हमारे जैसों के लिए तो नहीं.

    ReplyDelete
  39. यक़ीनन दोष तो पूरी व्यवस्था का ही है..... पर शिक्षा से जुड़े मुद्दों पर भी विचार ही कहाँ किया जा रहा है..... न प्रशासन प्रशासनिक स्तर पर और न ही हमारे परिवारों में .....

    ReplyDelete
  40. jab parchi banane me time lagaate hain utni der me lessons yaad kyun nahi kar lete...aaj kal to parchiyan bhi nahi kanhi kanhi to poori book hi saamne rakh kar exam dete hain adhiktar yeh gaon me hota hai.bahut achche prasang par aalekh likha hai badhaai.

    ReplyDelete
  41. आज की शिक्षा गुणात्मक से जादा मात्रात्मक बन गयी है ! शिक्षा का कही पे बहुत बोझा है कही पे वो नाम मात्र है ... दोनों जगह नक़ल के लिए रास्ता बनाती है!

    ReplyDelete
  42. आज की शिक्षा गुणात्मक से जादा मात्रात्मक बन गयी है ! शिक्षा का कही पे बहुत बोझा है कही पे वो नाम मात्र है ... दोनों जगह नक़ल के लिए रास्ता बनाती है!

    ReplyDelete
  43. संगीता जी ने सही कहा ,जो पढने में अक्ल नहीं लगते वो नकल में खूब अक्ल लगाते है ,बढिया पोस्ट

    ReplyDelete
  44. समय अनुरूप पोस्ट

    ReplyDelete
  45. बहुत सही कहा है आपने ... सार्थकता लिए हुए सटीक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  46. जो परीक्षा देने आगया वह पास होना चाहिए .परीक्षा भवन में किताबें रखने की छूट दी जायेगी तभी गुणवत्ता बढ़ेगी असल बात होगी सामग्री का चयन ,संदर्भ सामिग्री की अपनी गुणवत्ता और निर्धारित समय में गुणात्मक प्रदर्शन आधारित मूल्यांकन .अभी तो सब धान सत्ताईस सेरी है .मूल्यांकन कैसे होता है उत्तर पुतिकाओं का स्पोट इवेल्युएशन ने उसे 'नकद ;भुगतान नकदी फसल की तरह लाभ का सौदा बना दिया है .अब समय बेचा मास्साब ट्यूशन से इत्ता कमा लेतें हैं मूल्यांकन (उत्तर पुस्तिकाओं के )को राजी ही नहीं होते .यहाँ नक़ल करना न करना अपनी प्रासंगिकता खो चुका है .'ये देखो कुदरत का खेल, पढ़े फ़ारसी बेचे तेल .'लूंगी खोर सेना -नायकों पर इलज़ाम लगा रहें हैं .

    ReplyDelete
  47. चलिए छात्रों को उनका जन्मसिद्ध अधिकार वापिस मिल गया बधाई.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  48. आज के हिन्दुस्तान समाचार पत्र (दिल्ली संस्करण) में आपकी यह पोस्ट प्रकाशित हुयी है
    ...... हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  49. कापी करना है मेरा जन्म सिद्ध अधिकार
    देते घूमें युवा अब गली गली ललकार
    गली गली ललकार जमाना बदल गया है
    ताज-तख्त अब सारा लश्कर बदल गया है
    पढ़ना लिखना छोड़ पुर्चियां खूब बनाओ
    कापी कर के खूब डिवीजन फर्स्ट ले आओ.

    ReplyDelete
  50. नक़ल करनेवालों की पोल देर सबेर खुलती ही है.

    ReplyDelete
  51. अच्छी और सामयिक पोस्ट |

    ReplyDelete
  52. No doubt system is to be blame... but the parents and student himself deserves a partial blame too !!

    ReplyDelete
  53. नक़ल करना हमारा अधिकार हैं सटीक व्यंग्य

    ReplyDelete
  54. नकल करना भी सब की बस की बात नही....सटीक लेख...

    ReplyDelete
  55. सटीक व सार्थक प्रसंग ... आभार.

    ReplyDelete
  56. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  57. नकल में भी साहस चाहिए।

    ReplyDelete
  58. 'purjification' is the best preparation ,either distinction or rustication.

    बहुत पहले कभी सुना था |

    ReplyDelete
  59. अनुसरण करने योग्य ..

    ReplyDelete
  60. २९ मार्च के हिंदुस्तान अखबार में ये पृष्ठ देखा था..बड़ी खुशी हुई.उस वक्त हमारे मोडेम में कुछ दिक्कत थी इसलिए देर से टिप्पणी कर रहे हैं..

    ReplyDelete
  61. यह भी एक कला है जो सबके बस की बात नहीं...

    ReplyDelete
  62. पकडे ना गये तो पास तो शायद हो जायें पर फर्स्ट डिविजन नही...........।

    ReplyDelete