26.4.15

आस कैसी

सोचता हूँ सहज होकर,
भावना से रहित होकर,
अपेक्षित संसार से क्या ?
हेतु किस मैं जी रहा हूँ ?

भले ही समझाऊँ कितना,
पर हृदय में प्रश्न उठता,
किन सुखों की आस में फिर,
वेदना-विष पी रहा हूँ ?

17 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (27-04-2015) को 'तिलिस्म छुअन का..' (चर्चा अंक-1958) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  2. प्रश्न सदा अनुत्तरित...!

    ReplyDelete
  3. उम्मीद पर दुनिया कायम है।......सुन्दर अभिव्यक्ति.......

    ReplyDelete
  4. वेदना का यह विष संवेदना के कारण ही होगा

    ReplyDelete
  5. चिरन्तन चिन्तन

    ReplyDelete
  6. चिरन्तन चिन्तन

    ReplyDelete
  7. किन सुखों की आस में फिर,
    वेदना-विष पी रहा हूँ ?
    गंभीर प्रशन ....मगर जिन्दगी सिर्फ़ एक रास्ता है मंजिल नहीं

    ReplyDelete
  8. यह शाश्वत निरुत्तिरित प्रश्न ..........किसी को नहीं मिला उत्तर ..
    काव्य सौरभ (कविता संग्रह ) --द्वारा -कालीपद "प्रसाद "

    ReplyDelete
  9. गंभीर , सुन्दर अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  10. यह तो है......पता नहीं किन सुखों की आस में?

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया ! आपका नया आर्टिकल बहुत अच्छा लगा www.gyanipandit.com की और से शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  12. सम्वेद्ना है तो चिंतन भी!

    ReplyDelete
  13. यही डोर है जो बांधे है हम सबको .

    ReplyDelete
  14. सुंदर मंथन! खुद की वजूद के कारण को तलाश करती कविता.

    ReplyDelete
  15. वेदना को अत्यधिक व्यक्त करने से निराशा का अधिक संचार होता है।

    ReplyDelete
  16. बहोत सुन्दर और वास्तविकता से भरी रचना

    ReplyDelete