15.10.11

मेरी बिटिया पढ़ा करो

माना तुमको गुड्डे गुड़िया पुस्तक से प्रिय लगते हैं,
माना अनुशासन के अक्षर अनमन दूर छिटकते हैं,
माना आवश्यक और प्यारी लगे सहेली की बातें,
माना मन में कुलबुल करती बकबक शब्दों की पातें,
पर पढ़ने के आग्रह सम्मुख, प्रश्न न कोई खड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।१। 

विद्यालय जाना बचपन का एक दुखद निष्कर्ष सही,
रट लेने की पाठन शैली लिये कोई आकर्ष नहीं,
उच्छृंखल मंगल में कैसे भाये सध सधकर चलना,
बाहर झमझम बारिश, सूखे शब्दों से जीवन छलना,
पर भविष्य को रखकर मन में, वर्तमान से लड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।२।

बालमना हो, बहुत खिलौने तुमको भी तो भाते हैं,
मन में दृढ़ हो जम जाते हैं, सर्वोपरि हो जाते हैं,
पढ़ने का आग्रह मेरा यदि, तो तुम राग वही छेड़ो,
केवल अपनी बातें मनवाने को दोष तुरत मढ़ दो, 
आज नहीं तो कल आयेंगे, हठ पर न तुम अड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।३।

नहीं अगर कुछ हृदय उतरता, झरझर आँसू बहते क्यों,
बस प्रयास कर लो जीभर के, ‘न होगा यह’ कहते क्यों,
देखो सब धीरे उतरेगा, प्रकृति नियम से वृक्ष बढ़े,
बीजरूप से महाकाय बन, नभ छूते हैं खड़े खड़े,
बस कॉपी में सुन्दर लेखन, हीरे मोती जड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।४।

शब्द शब्द से वाक्य बनेंगे, वाक्य तथ्य पहचानेंगे,
तथ्य संग यदि, निश्चय तब हम जग को अच्छा जानेंगे,
ज्ञान बढ़े, विज्ञान बढ़े, तब आधारों पर निर्णय हो,
दृष्टि वृहद, संचार सुहृद, तब क्षुब्ध विषादों का क्षय हो,
आनन्दों का आश्रय होगा, शब्दों से नित जुड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।५।

है अधिकार पूर्ण हम सब पर, घर में जो है तेरा है,
एक समस्या, आठ हाथ हैं, संरक्षा का घेरा है,
सबका बढ़ना सब पर निर्भर, यह विश्वास अडिग रखना,
संसाधन कम पड़ते रहते, मन का धैर्य नहीं तजना,
छोटे छोटे अधिकारों पर, भैया से मत लड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।६।

यही एक गुण भेंट करूँगा, और तुम्हें क्या दे सकता,
जितना संभव होगा, घर की जीवन नैया खे सकता,
एक सुखद बस दृश्य, खड़ी तुम दृढ़ हो अपने पैरों पर,
सुख दुख तो आयें जायेंगे, रहो संतुलित लहरों पर, 
निर्बन्धा हो, खुला विश्व-नभ, पंख लगा लो, उड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।७।

क्या बनना है, निर्भर तुम पर, स्वप्न तुम्हे चुन लाने हैं,
मन की अभिलाषा पर तुमको अपने कर्म चढ़ाने हैं,
साथ रहूँगा, साथ चलूँगा, पर निर्भरता मान्य नहीं,
राह कठिनतम आये, आये, तुम भी हो सामान्य नहीं,
तुम सब करने में सक्षम हो, स्वप्न हृदय का बड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।८।

है पितृत्व का बोध हृदय में, ध्यान तुम्हारा रखना है,
मिला दैव उपहार, पालना सृष्टि श्रेष्ठ संरचना है,
रीति यही मैं रीत रहूँ, लेकिन तू जिस घर भी जाये,
प्रेम हृदय में संचित जितना, उस घर जाकर बरसाये,
मेरे मन में, यह दृढ़निश्चय, नित-नित थोड़ा बड़ा करो,
मेरी बिटिया पढ़ा करो।९।

110 comments:

  1. है पितृत्व का बोध हृदय में, ध्यान तुम्हारा रखना है,
    मिला दैव उपहार, पालना सृष्टि श्रेष्ठ संरचना है,

    बहुत सुंदर कविता और बहुत प्यारी बिटिया ........पिता के ह्रदय से निकले उद्गार लिए हर पंक्ति हृदयस्पर्शी है......

    ReplyDelete
  2. वाह सुंदर बातचीत.

    ReplyDelete
  3. 'है अधिकार पूर्ण हम सब पर, घर में जो है तेरा है,
    एक समस्या, आठ हाथ हैं, संरक्षा का घेरा है,


    पिता द्वारा व्यक्त अंतर के भाव.....प्रेरक उद्बोधन गीत !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर सन्देश देती हुई रचना पिता की चिंता को भी उजागर करती है यह रचना, बहुत अच्छी

    ReplyDelete
  5. देवला बिटिया को स्नेहाशीष और सुखद भविष्य के लिए शुभकामनाएं ..
    वो सब कुछ करेगी और पापा का निश्चय दॄढ़ होगा..

    ReplyDelete
  6. पितृत्व की चिंताएं बखूबी बयां की हैं आपने। बहुत ही भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  7. कल कल बहती नदी के प्रवाह समान सुंदर भाव प्रवण काव्यात्मक प्रस्तुति और एक पिता का बेटी के नाम स्नेह भरा संदेश। उत्तम प्रस्तुति।


    गुजर गया एक साल

    ReplyDelete
  8. वाह, पुत्री को पिता की ओर से यह ब्लॉग पोस्ट निवेदन एक यादगार कृति है हर पिता लिए जो अपनी पुत्री के लिए सर्वतोभद्र कामना करता है ..बहुत प्रभावशाली रचना !

    ReplyDelete
  9. आँखें भर आयीं...आपने अपनी बेटी के लिए कितना सुन्दर लिखा है.

    ReplyDelete
  10. बेहद भावुक और प्यारी कविता, हम भी अपने बेटे को सुनायेंगे यह कविता ।

    ReplyDelete
  11. प्यारी सी बिटिया के लिए आपकी प्यारी सी कविता बहुत सुंदर लगी |प्यारी बिटिया मेहनत से पढ़ाई करो और पाण्डेय जी [अपने पिता ]से भी बहुत आगे बढ़ो |शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  12. प्यारी सी बिटिया के लिए आपकी प्यारी सी कविता बहुत सुंदर लगी |प्यारी बिटिया मेहनत से पढ़ाई करो और पाण्डेय जी [अपने पिता ]से भी बहुत आगे बढ़ो |शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  13. वाह ! शानदार रचना|

    ReplyDelete
  14. मिला दैव उपहार, पालना सृष्टि श्रेष्ठ संरचना है,
    यकीनन बेटिया सृष्टि की श्रेष्ठ संरचना हैं
    बहुत सुन्दर और भावुक कर देने वाली रचना ..

    ReplyDelete
  15. बिटिया, पढ़ा करो.
    सुबह कोचिंग जाओ,
    शाम को डांस क्लासेज़
    दोपहर कराटे सीखो
    और समय बचे तो कुकरी सीखो.
    बिटिया, पढ़ा करो.
    बचपन और बचपने में क्या रखा है
    खेलकूद और मस्ती
    टाइम वेस्ट के सिवा कुछ नहीं,
    बिटिया पढ़ा करो!!!!!
    पढ़ा करो!!! पढ़ा करो!!!!!

    ReplyDelete
  16. बहुत ही अच्छी भावनाएँ हैं कविता मे।

    सादर

    ReplyDelete
  17. वाह वाह एक पिता का वात्सल्य और बेटी को आगे बढ़ाने की भावना का अद्भुत मिश्रण तैयार किया है आपने साधूवाद आपकी लेखनी को

    ReplyDelete
  18. बेटी को उत्तम सीख देती सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  19. बहुत ही बढ़िया सीख देती है ये कविता, सच में बच्चों को पढ़ाना बहुत मुश्किल है.पर आपका पितृत्व धन्य है,

    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. है पितृत्व का बोध हृदय में, ध्यान तुम्हारा रखना है,
    मिला दैव उपहार, पालना सृष्टि श्रेष्ठ संरचना है,

    भावमय करते शब्‍दों का संगम... इस रचना में ।

    ReplyDelete
  21. अच्‍छी रचना।

    ReplyDelete
  22. बहुत प्यारा गीत है.

    ReplyDelete
  23. यकीनन बेटिया सृष्टि की श्रेष्ठ संरचना हैं
    ekdam theek bole......sunder kavita likhe hain.

    ReplyDelete
  24. अभी बिटिया पूजन को बुला कर खास तौर पर सुनाई ये कविता...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  25. प्रेणदायक रचना

    ReplyDelete
  26. पापा की चिंता ,पापा का प्यार
    दोनों का साथ और बार-बार ....
    आशीर्वाद और प्यार !

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर रचना। मैं अपनी पोती को पढ्वाऊंगा॥

    ReplyDelete
  28. दिल को छूने वाली कविता !

    ReplyDelete
  29. बहुत बढ़िया. और क्या कहें !

    ReplyDelete
  30. are pyaari bitiya padh lo ...apne sapnon se papa ke sapne poore ker do

    ReplyDelete
  31. यह कविता तो बिटिया जीवन भर पढ़ते रहना चाहेगी।
    ...बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  32. वाह वाह वाह ...शब्द नहीं हैं मेरे पास.सुन्दरतम...
    अपनी बेटी को भी पढ़ाऊंगी.

    ReplyDelete
  33. बस चिट्ठे में सुन्दर लेखन, हीरे मोती जड़ा करो।
    लगे रहो प्रवीण भैया, तुम बस हर रोज़ लिखा करो।

    Absolutely charming picture with the most pinchable cheeks I have seen!
    Regards
    GV

    ReplyDelete
  34. प्यारी सी बेटी के लिए सुन्दर लिखा है....!

    ReplyDelete
  35. जरूरी कार्यो के कारण करीब 15 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  36. पिता और पुत्री दोनो अति कोमलमना व संवाद सुखकर हैं। कामना व विश्वास है कि आपकी बिटिया भी आप की ही तरह हर रूप से पूर्ण व्यक्तित्व व सर्सवफल होगी और आपकी कविता में अभिव्यक्त आपकी भावनाओं को अवस्य साकार करेगी। बहुत सुंदर व हृदय स्पर्शी संदेशगीत। बहुत-बहुत शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  37. बाप की कविता बिटिया के नाम एक सफरनामा एक आश्वाशन साथ साथ चलने का आगे बढ़ने का एक आत्मविश्वास रोपती कविता .बेहद सार्थक आश्वस्त करती रचना .

    ReplyDelete
  38. बहुत सुंदर...प्यारी कविता

    ReplyDelete
  39. वाह बहुत सुंदर संदेश देती हुई बढ़िया प्रस्तुति....शुभकामनयें

    ReplyDelete
  40. वाह ---

    बहुत बढ़िया प्रस्तुति ||
    शुभ-कामनाएं ||

    ReplyDelete
  41. पिता का प्यार शब्दों में बह निकला,आँखें नम हुईं पापा की याद आ गई..
    हर बेटी के लिये एक अमूल्य तोहफा है आपकी ये रचना। रचना सी ही प्यारी है आपकी बेटी और सौभाग्यशाली भी जिसके पिता आप हैं...

    ReplyDelete
  42. इतनी खुबसूरत कविता भी हो सकती है..? हाँ ! बिटिया की तरह ही.

    ReplyDelete
  43. बहुत खूबसूरत कविता है बिटिया के लिए...

    ReplyDelete
  44. पितृ - सम्मित - उपदेश ...
    अद्भुत ग्राह्य विलक्षण और सदयः प्रभावी ...सुखद कविता

    ReplyDelete
  45. .
    .
    .
    सुन्दर, अति सुन्दर...

    अपनी बिटिया को भी पढ़ाई यह कविता... अब कम से कम एक सप्ताह तक होमवर्क करवाने में आराम रहेगा पत्निश्री को... :)



    ...

    ReplyDelete
  46. नहीं अगर कुछ हृदय उतरता, झरझर आँसू बहते क्यों, बस प्रयास कर लो जीभर के, ‘न होगा यह’ कहते क्यों, देखो सब धीरे उतरेगा, प्रकृति नियम से वृक्ष बढ़े, बीजरूप से महाकाय

    प्रेरणादायक पंक्तियाँ...प्यारी सी बिटिया के लिए पिता के दिल से निकला भावभीना उद्गार...

    ReplyDelete
  47. This is so adorable !!
    undoubtedly u r a lovely dad :)

    Smiles !!

    ReplyDelete
  48. प्रवीण पाण्डेय जी बहुत सुन्दर रचना ...प्यारा सन्देश काश लोग इस को आजमायें गले लगाएं ..बधाई हो ...
    भ्रमर ५
    यही एक गुण भेंट करूँगा, और तुम्हें क्या दे सकता,
    जितना संभव होगा, घर की जीवन नैया खे सकता,
    एक सुखद बस दृश्य, खड़ी तुम दृढ़ हो अपने पैरों पर,
    सुख दुख तो आयें जायेंगे, रहो संतुलित लहरों पर,
    निर्बन्धा हो, खुला विश्व-नभ, पंख लगा लो, उड़ा करो,
    मेरी बिटिया पढ़ा करो।७।

    ReplyDelete
  49. बहुत सुन्दर और भावुक कर देने वाली रचना|

    ReplyDelete
  50. इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  51. पिता के स्नेह की आंच एक निस्स्वार्थ छाता है .ऐसी बिटिया आसमान के तारों से दूधगंगाओं के पार एक और दूध गंगा ढूंढ लेगी .यकीन मानिए .बहुत सुन्दर कोमल भाव की रचना .जहां तक पृथ्वी के उल्का पात से बाँझ होने की संभावना है वह बहुत ही कमतर है .और अब तो धूमकेतुओं के मार्ग को विचलित किया जा सकता है रोकेट दाग कर .आभार आप की हाज़िर ज़वाबी और हाजिरी का .

    ReplyDelete
  52. शब्द शब्द से वाक्य बनेंगे, वाक्य तथ्य पहचानेंगे,
    तथ्य संग यदि, निश्चय तब हम जग को अच्छा जानेंगे,
    ज्ञान बढ़े, विज्ञान बढ़े, तब आधारों पर निर्णय हो,
    दृष्टि वृहद, संचार सुहृद, तब क्षुब्ध विषादों का क्षय हो,
    आनन्दों का आश्रय होगा, शब्दों से नित जुड़ा करो,
    मेरी बिटिया पढ़ा करो।५।

    कितना सुंदर आदेश है, एक पिता के कर्तव्य को बखूबी निभाता हुआ ।

    ReplyDelete
  53. आपकी इस बिटिया को हार्दिक आशीर्वाद ये आपका सम्मान बहुत बढ़ाएगी ये मैं दावे के साथ कह सकता हूँ..

    ReplyDelete
  54. आपकी इस बिटिया को हार्दिक आशीर्वाद ये आपका सम्मान बहुत बढ़ाएगी ये मैं दावे के साथ कह सकता हूँ..

    ReplyDelete
  55. पिता की कविता पुत्री के नाम। सुंदर।

    ReplyDelete
  56. बहुत ही सुंदर संदेश है।

    ReplyDelete
  57. प्रभात शर्मा15/10/11 23:11

    आपका ब्लॉग पढ़कर बहुत अच्छा लगा !
    शुक्रिया.......

    ReplyDelete
  58. ममतापूर्ण रचना.....!

    सुन्दर भाव...

    सुन्दर शब्द संयोजन...!!

    ReplyDelete
  59. बहुत खुबसूरत सी रचना, प्रवीन भाई...बहुत दिनों बाद दिल को छूने वाला कुछ पढ़ा...ये रचना और उसके भाव हर उस पिता के हैं जिसके घर एक प्यारी सी बिटिया हैं, और पिता हृदय जानता हैं कठिनाइय इस कठोर ज़माने की.....कुछ कहना चाहता हैं अपने अनुभवों से...लेकिन कहे तो कैसे.....इस रचना के माध्यम से कुछ बोझ हल्का होता हैं....
    शायद आने वाले समय में इस रचना का उल्लेख जमाना करे...शुभकामनाये....

    ReplyDelete
  60. प्यारी बिटिया रानी के प्यारे पापा....कितने प्यार से समझाया है...बहुत प्यारा...सीख देता गीत!!

    ReplyDelete
  61. पिता का बेटी के नाम स्नेह भरा काव्यात्मक संदेश

    ReplyDelete
  62. है पितृत्व का बोध हृदय में, ध्यान तुम्हारा रखना है,
    मिला दैव उपहार, पालना सृष्टि श्रेष्ठ संरचना है,
    वह बिटिया धन्य है जिसको इतने प्यार से समझने वाले पिता मिले ...

    बहुत खूबसूरत कविता और सन्देश!

    ReplyDelete
  63. बिटिया की ही तरह सरल, सहज अभिव्‍यक्ति.

    ReplyDelete
  64. डॉ ओपी तिवारी से प्राप्त टिप्पणी

    bahut bahut ati sundarm bhavnatmk abhivkti ha.aapko shubh kamna.
    dr o p tiwari

    ReplyDelete
  65. बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  66. एक पिता का कर्त्तव्य बच्चों को सही मार्गदर्शन देना भी है.

    बहुत सुंदर कविता और बहुत प्यारी बिटिया.

    ReplyDelete
  67. आपकी इस अनमोल रचना को भारत सरकार के ’सर्व शिक्षा अभियान’ के लिये किये जा रहे प्रयास के पाठ्यक्रम में शामिल करना चाहिये ।

    अत्यंत सरल एवं शिक्षा प्रद ,बाललुभावन रचना ।

    ReplyDelete
  68. पिता का सारा दुलार हर अक्षर के हर बिन्दु में झलक रहा है ....... आज तो सिर्फ़ आशीष देने को मन कर रहा है !

    ReplyDelete
  69. मन से प्रवाहित मन में उतरती प्रेरणादायी रचना.

    ReplyDelete
  70. पितृ हृदय के सुन्दर उद्गार!

    ReplyDelete
  71. बेटियों के प्रति आपका प्यार...बहुत प्यारा.

    ReplyDelete
  72. बहुत सुल्दर शिक्षाप्रद रचना!

    ReplyDelete
  73. वाह! अद्भुत/अनमोल गीत है....
    सादर बधाई....

    ReplyDelete
  74. यही एक गुण भेंट करूँगा, और तुम्हें क्या दे सकता,
    जितना संभव होगा, घर की जीवन नैया खे सकता,
    एक सुखद बस दृश्य, खड़ी तुम दृढ़ हो अपने पैरों पर,
    सुख दुख तो आयें जायेंगे, रहो संतुलित लहरों पर,
    निर्बन्धा हो, खुला विश्व-नभ, पंख लगा लो, उड़ा करो,
    मेरी बिटिया पढ़ा करो।७।

    बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना है……………भावविभोर कर दिया…………ऐसा ही तो हम दोनो भी सोचते है और कहते है यूँ लगा हमारे ही मन के भावो को संजोया है।

    ReplyDelete
  75. ati sundar bhaav, prabhaavkaari srijan . badhaayee.

    ReplyDelete
  76. प्यारी बिटिया के लिये स्नेही पापा की सुन्दर सीख .
    विश्वास कीजिये ,खरी उतरेगी जीवन की कसौटी पर ऐसे संस्कार पाकर !
    बिटिया और पापा दोनों काफ़ी-कुछ अनुरूप लग रहे हैं .हार्दिक शुभ-कामनायें !

    ReplyDelete
  77. शिशुओं के लिए प्रेरक शिशु गीत!!

    ReplyDelete
  78. प्यारी, भावुक कविता...मुझे बहुत पसंद आई! :)

    ReplyDelete
  79. You are blessed with a lovely daughter.

    And you have really created a master-piece, i don't think there would be any such creation on the subject.

    ReplyDelete
  80. इतना सुन्दर!
    इतना स्नेहमयी!
    अतीव मधुर! :)

    ReplyDelete
  81. सुन्दर रचना, आभार

    ReplyDelete
  82. माना तुमको गुड्डे गुड़िया पुस्तक से प्रिय लगते हैं,
    माना अनुशासन के अक्षर अनमन दूर छिटकते हैं,
    माना आवश्यक और प्यारी लगे सहेली की बातें,
    माना मन में कुलबुल करती बकबक शब्दों की पातें,
    पर पढ़ने के आग्रह सम्मुख, प्रश्न न कोई खड़ा करो,
    मेरी बिटिया पढ़ा करो।१।
    पिता के निस्स्वार्थ सेवा भाव से भीगी कविता .पितृत्व को आलोकित सम्मानित करती .बधाई .

    ReplyDelete
  83. पितृत्व का बोध ह्रदय में ध्यान तुम्हारा रखना है .......बिटिया पढ़ा करो....बेहद सुन्दर प्रेरणादायी प्रसंग....स्वयं भी पढ़ा और बिटिया को भी पढाया .....शुभ कामनाएं !!!

    ReplyDelete
  84. पर भविष्य को रखकर मन में,
    वर्तमान से लड़ा करो,
    मेरी बिटिया पढ़ा करो....

    हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  85. प्रेरणा दायक, बाल कविता .

    ReplyDelete
  86. काश मैं भी ऐसा पिता बना होता!

    ReplyDelete
  87. आपकी लेखनी को बारम्बार नमन...अद्भुत रचना है ये आपकी.

    नीरज

    ReplyDelete
  88. pita ke hruday ki abhilasha jimmedariyon ka ehsas bahut sunder..

    ReplyDelete
  89. very touching & a global poem for all the daughter in the earth

    ReplyDelete
  90. शुक्रिया भाई साहब इस प्रेरक आहट के लिए खूबसूरत भाव पूर्ण विचार कविता के लिए .

    ReplyDelete
  91. ह्रदय से निःसृत पंक्तियों में प्यार व् दुलार के साथ ही एक पिता का संसार है और सृजन धर्म का चमत्कार भी. बिटिया रानी को ढेर सारा आशीर्वाद.

    ReplyDelete
  92. नहीं! केवल आग्रह या उपदेश नहीं है इस कविता में। अक्षर-अक्षर से टपक रही है पिता के मन में हिलोरे ले रही, लाडली की चिन्‍ता। सन्‍दर।

    ReplyDelete
  93. वाह बहुत सुंदर
    उम्मीद है कि बिटिया रानी को पापा की बात समझ में आ गई होगी। और पढाई भी शुरू हो गई होगी।

    ReplyDelete
  94. स्नेहसिक्त उद्गार!!

    ReplyDelete
  95. स्नेहसिक्त उद्गार !!

    ReplyDelete
  96. बहुत अनमोल रचना है आपकी ये ... आपकी बेटी के लिए भी बहुत अनमोल !मेरी पिता ने भी मेरे लिए ऐसा ही कुछ लिखा था ....
    दिव्यताओं ने जिसको ढाला है ,
    सभ्यताओं ने जिसको पाला है,
    सारे रिश्ते है पुस्तकों जैसे ,
    बेटी रिश्तों की पाठशाला है ........

    ReplyDelete
  97. My daughter says Every girl is a princess to her father,hope now she learns what even a princess is supposed to do.

    ReplyDelete
  98. ये तो सुन्दर है। बाकी कभी बिटिया रानी को शीर्षक से एतराज हो सकता -क्या मैं पढ़ती नहीं हूं। :)

    ReplyDelete
  99. बहुत भावपूर्ण रचना,बधाई!

    ReplyDelete
  100. बहुत ही मधुर ... दिल से निकली कविता है ... हर बाप के दिल से यही पुकार मिकलती है जो शीरे शीरे गुस्से में भी बदल जाती है जब बच्चे नहीं मानते ...

    ReplyDelete
  101. कविता बहुत अच्छी लग रही थी बस अंत तक आते आते वह ...रीति यही मैं रीत रहूँ, लेकिन तू जिस घर भी जाये,
    प्रेम हृदय में संचित जितना, उस घर जाकर बरसाये,

    मुझे अच्छा नहीं लगा. क्या यह आवश्यक है कि हर बेटी को महसूस कराया जाए कि वह किसी अन्य खेत में रोपे जाने के लिए तैयार की जा रही रोप/ पौध है? शायद इससे बचना असम्भव है. बेटी को शुभकामनाएँ.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  102. सर जी -मेरी बिटिया पढ़ा करो -- बहुत ही कोमल और सुदृढ़ विचार ! बिटिया के सर पर रंगीले छतरी , फिर भय कैसा !

    ReplyDelete
  103. है अधिकार पूर्ण हम सब पर, घर में जो है तेरा है,
    एक समस्या, आठ हाथ हैं, संरक्षा का घेरा है,
    सबका बढ़ना सब पर निर्भर, यह विश्वास अडिग रखना,
    संसाधन कम पड़ते रहते, मन का धैर्य नहीं तजना,
    छोटे छोटे अधिकारों पर, भैया से मत लड़ा करो,
    मेरी बिटिया पढ़ा करो।६।

    bahut hi mann se likhi gayi aapki ye rachna ati sundar hai ..beti ko snehashish :)

    ReplyDelete
  104. मेरी प्यारी बिटिया.....

    नन्हें फूलों की क्यारी है मेरी बिटिया
    घर भर को लगती प्यारी है मेरी बिटिया.
    एक साल हुआ पकड़ उंगली दादा की
    चलने की तैयारी है मेरी बिटिया.
    जिसने पकड़ा उसको, झट से चूम लिया
    सबकी राजदुलारी है मेरी बिटिया.
    मुझे ज़मीं पर बिठा पीठ के ऊपर चढ़कर
    मुझ पर करे सवारी है मेरी बिटिया.

    ReplyDelete
  105. मेरी प्यारी बिटिया.....

    नन्हें फूलों की क्यारी है मेरी बिटिया
    घर भर को लगती प्यारी है मेरी बिटिया.
    एक साल हुआ पकड़ उंगली दादा की
    चलने की तैयारी है मेरी बिटिया.
    जिसने पकड़ा उसको, झट से चूम लिया
    सबकी राजदुलारी है मेरी बिटिया.
    मुझे ज़मीं पर बिठा पीठ के ऊपर चढ़कर
    मुझ पर करे सवारी है मेरी बिटिया.

    ReplyDelete
  106. शानदार पोस्ट ... बहुत ही बढ़िया लगा पढ़कर .... Thanks for sharing such a nice article!! :) :)

    ReplyDelete