1.10.11

प्रयोग की वस्तु

एक अवलोकन सदा ही अचम्भित करता है। जब किसी भी वाद को उसके उद्गम से तुलना करने बैठता हूँ तो दोनों के बीच में भ्रान्ति की चौड़ी खाई दिखायी पड़ती हैं। अन्तर ठीक वैसा ही दिखता है जैसा गंगोत्री और गंगासागर के गंगाजल के बीच होता है। गंगा का नाम ही, अपने जल में वह धार्मिक पवित्रता बनाये रखता है, अन्त तक। कालान्तर में नाम और उसके अर्थ के बीच का अन्तर गहराने लगता है। अर्थ जब श्रेष्ठता धारण नहीं कर सकता है तो नाम का प्रयोग प्रारम्भ हो जाता है, धीरे धीरे वह प्रयोग की वस्तु बन जाती है।

ऐसे ही कई नाम हैं जिनका हम आज भी साधिकार बलात प्रयोग कर रहे हैं। आपकी कल्पना कुछ विवादित विषयों की ओर मुड़े, उसके पहले ही मैं कबीर का उदाहरण देना चाहता हूँ। कबीर के दोहे यद्यपि हिन्दी साहित्य के प्राथमिक प्रसंगों में आते हैं, हिन्दी विकास के प्रथम अर्पणों से सुशोभित हैं, पर मेरे लिये वे सत्य, सरलता और साहस के उत्कर्ष के प्रतीक हैं। इतनी निर्भयता से सत्य कहना और वह भी मौलिक सरलता से, यह कबीर का हस्ताक्षर है, यही कबीर का वास्तविक अर्थ है। सत्य पंथनिरपेक्ष होता है, निर्भयता सत्तानिरपेक्ष होती है और सरलता व्यक्तिनिरपेक्ष। ऐसी घटनायें जनमानस को प्रभावित करती हैं, बहुत लोग उनके अनुयायी बन गये, कबीरपंथ चल पड़ा। जिन गुणों के लिये यह ऐतिहासिक उभार जाना जाता है, वे कभी पुनः सम्मुख आये ही नहीं। नाम आज भी जीवित है, पर शिथिल है, अपने अनुनायियों के अर्थों को ढोने में।

कोई दूसरा कबीर आता तो कबीर की निर्भयता, सरलता व सत्यसाधना को सार्थकता मिल जाती। जिन हस्ताक्षरों को हर व्यक्तित्व पर होना था, उन्हें ऐतिहासिक और साहित्यिक बना कर छोड़ दिया गया है, एक प्रयोग की वस्तु बनाकर। इस दुर्दशा का कारण भी कबीर बता गये हैं, मरम न कोउ जाना। यही मर्म समझना है, नहीं तो कालान्तर में कितने ही श्रेष्ठ सिद्धान्तों व उससे सम्बद्ध नामों को हम प्रयोग की वस्तु बना देंगे।

महापुरुषों के नाम से परे उनके मर्म को समझना होगा। बिना मर्म समझे महापुरुषों के नाम का महिमामंडन और उनका अपने व्यक्तिगत स्वार्थों के लिये समुचित बटवारा। पता नहीं कि हम उनके बताये हुये मार्ग पर चलना चाह रहे हैं या उनके नामों को सीढ़ी की तरह प्रयोग कर ऊपर बढ़ना चाह रहे हैं। यदि कहीं वे ऊपर बैठे हमारे कर्मों को देख रहे होंगे तो निश्चय ही अपने नाम का प्रयोग देख विक्षुब्ध हो गये होंगे। उनके अपने जीवनों में भी सिद्धान्त सर्वोपरि थे, आज भी हैं और आगे भी रहेंगे।

नाम का स्वार्थ-प्रयोग भक्तिमार्गियों के लिये एक अक्षम्य अपराध है क्योंकि उनके लिये ईश्वर के नाम और स्वरूप में कोई भेद ही नहीं होता है। स्वरूप का निर्माण गुणों से होता है, अन्ततः गुण ही मर्म हैं शेष स्वार्थ का पोषण है। नाम-स्वरूप-गुण के प्रति व्यक्त श्रद्धा को एक प्रतीक का रूप दे दिया जाता है, प्रतीकों पर स्वार्थों के आवरण चढ़ा दिये जाते हैं, कालान्तर में आवरण प्रतीक से अधिक महत्व ग्रहण कर लेते हैं, आवरणों की जय जयकार होने लगती है, आवरण मलिन हो जाते हैं, नाम प्रयोग में बना रहता है।

गांधी की खादी प्रतीक बन गयी कोई उससे शरीर सुशोभित करता है, कोई उसे सर में धरता है, कोई उससे जूते भी साफ कर लेता है। सत्य कटु है पर गांधी प्रयोग की वस्तु हो गये हैं वर्तमान में।

आवरणों को हटायें, महापुरुषों का मर्म समझें, उन्हें स्वार्थवश प्रयोग की वस्तु न बनायें, आपको उनकी छटपटाहट देखनी ही होगी, अपनी स्वार्थ कारा से उन्हें मुक्ति दे दें।

63 comments:

  1. बहुत ही विचारोत्तेजक ,सार्थक और सराहनीय आलेख

    ReplyDelete
  2. बहुत ही विचारोत्तेजक ,सार्थक और सराहनीय आलेख

    ReplyDelete
  3. आपका लिखा हमेशा बहुत कुछ सोचने को मजबूर करता है. सरल भाषा में इतना कुछ कहना...नाम में ना बांधें तो कबीरपंथ के सच्चे राही तो आप ही हुए. अनुशाशन जैसे विषय हों या तकनीकी, आप बेहद सुलझा हुआ लिखते हैं आप इसलिए आपको पढ़ना हमेशा सुखद होता है.
    विचार कहीं अटकते नहीं, तर्क वितर्क भी बेहद अनुशाषित...कहीं न कहीं आदर्श जीवन की रूपरेखा खींचते हुए दीखते हैं आपके आलेख. अक्सर आपको पढ़ कर इतना कुछ मन में उठता है कि लिखने को कुछ छांट ही नहीं पाती.

    ReplyDelete
  4. आज तो बाऊ जी, हमारे बस के बाहर है.
    आऊट ऑफ़ कोर्स!
    आशीष
    --
    लाईफ?!?

    ReplyDelete
  5. परमात्मा ने हम सबों में वो सब डाला है जो तथाकथित महापुरुषों में होता है, बस हम ही उसे चरम तक नहीं पहुंचाते है ,यहीं उलझ कर अनमोल जीवन यूँ ही बिता देते हैं . अब जीने के लिए लेबल तो चाहिए न..वो भी..ब्रांडेड.

    ReplyDelete
  6. अब महापुरुषों के नाम पर सिर्फ यही मर्म समझा जाता है कि किस महापुरुष के नाम पर किस समुदाय के वोट झटके जा सकते है|
    वर्तमान में वही महापुरुष प्रसांगिक रह गए है जिनकी स्तुति करने से वोट मिल सके|उनके मर्म को समझने की किसी को क्या पड़ी है!!

    ReplyDelete
  7. बहुत सही बात कही है. लोग अपनी विचारधारा का फ़्रेम लेकर चलते हैं, जिस महापुरुष की तस्वीर उसमें फ़िट हो सके, कर लेते हैं. वे उस महापुरुष की छवि बदलते हैं, अपना व्यक्तित्व नहीं। कितने उदाहरण हैं जहाँ अपने आदर्श के शब्द अपनी विचारधारा से भिन्न होने पर उन्हें क्षेपक बता दिया जाता है। इसी प्रकार मूल विचारधारा में से अपने या अपने अनुकूल उपनायक के नाम की शाखायें निकाली जाती हैं। वजह अक्सर वही होती है, अपने नायक को समझने के ईमानदार प्रयास का अभाव।

    स्वागतयोग्य और विचारणीय आलेख!

    ReplyDelete
  8. यहाँ कुछ लिखने से पहले बहुत सोचना होता है.. कि लिखूँ तो क्या लिखूँ?
    जितनी गहराई आप दिखा चुके होते हैं उससे गहरे उतरना हमारे बस की बात नही होती.. कमेंट करे तो क्या?

    मर्म समझने से पहले आशीष भैया भी बोल गये.. :)
    लेकिन उपर उपर समझ में आ जाता है..

    ReplyDelete
  9. बुद्ध से बौद्ध से हीनयान, महायान, वज्रयान, सहजयान, जेन हो कर ही जीवित है. हिन्‍दुओं के वैदिक इन्‍द्र, वरुण, दशावतारों में फिर ब्रह्मा-विष्‍णु-महेश की त्रिमूर्ति में (महत्‍व की दृष्टि से) बदले. फिर जमाना आया शिवलिंग और हनुमान का अब जीवित देवता भी हैं, शायद हमेशा रहे हैं, होते रहेंगे. महापुरुषों के विचारों का युगानुकूल इस्‍तेमाल होता है, वे प्रासंगिक रहते हैं और उनके अनुयाइयों को भी थोड़ा हक मिल जाता है शायद, जिसका असर भी होने लगता है. बुद्ध ने अपने जीवन काल में ही बौद्ध धर्म-संघ पर चिंता जताई और उसके भविष्‍य के प्रति संदेह व्‍यक्‍त कर दिया था.

    खैर... इस ओर फिर से सोचने के लिए आधार देती पोस्‍ट.

    ''भ्रान्तियों की खाईयाँ'' का इस्‍तेमाल देख कर लगा कि आप सोचते अंग्रेजी में हैं, तात्‍पर्य कि यह हिन्‍दी में ''भ्रान्ति की खाई'' कहने से पूरा अर्थ दे सकता है, जिस तरह एक्‍जाम्‍स के लिए अक्‍सर परीक्षा शब्‍द पर्याप्‍त होता है, परीक्षाएं कहना खटकता है. आप भाषा के लिए सजग रहते हैं, इसलिए सुझाव स्‍वरूप ऐसा लिख रहा हूं.(ऐसे ढेरों ब्‍लाग हैं जहां ऐसी टिप्‍पणी निरर्थक होती है या विवाद को आमंत्रित करने वाली हो सकती है.)

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति ||
    आभार महोदय ||

    ReplyDelete
  11. मर्म दुर्लभ है.
    यह मर्म ही बताता है कि सूत की एक साधारण माला किसी के विनय, अनुग्रह, और आदर का प्रतीक है. इसका अनादर करने वाले व्यक्ति को मनुष्यता का पाठ पढना ज़रूरी है.
    पोस्ट सरल, चिंतन गहन.

    ReplyDelete
  12. सार्थक‍ आलेख

    ReplyDelete
  13. हम नाम को आधार बनाकर अपने स्वार्थ की पूर्ति कर रहे हैं.यह विविध रूपों में हो रहा है.राजनैतिक लाभ से लेकर हम अपनी जीवन-चर्या में भी यही सब कर रहे हैं.किसी की पूजा हम इसलिए कर रहे हैं कि हमें अभीष्ट मिल जाये,जबकि यदि हम किसी को पूजना चाहते हैं,उससे भक्ति करना चाहते हैं तो उसके बताये गए कर्मों के अनुरूप चलें.आज भक्ति दिखावे की हो गई है.कबीर और गाँधी इसीलिए आज अधिक प्रासंगिक हैं इस बनावटी समाज में !
    कबीर ने वही कहा जैसा वे सोचते और करते थे ,सत्य के समर्थक व पाखंड के विरुद्ध थे !निरक्षर होते हुए भी सबसे ज़्यादा साक्षर थे !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर आलेख. चिंतन के लिए उत्प्रेरक.

    ReplyDelete
  15. कालान्तर में आवरण प्रतीक से अधिक महत्व ग्रहण कर लेते हैं, आवरणों की जय जयकार होने लगती है, आवरण मलिन हो जाते हैं, नाम प्रयोग में बना रहता है।

    बहुत ही महत्वपूर्ण बात सरल भाषा में कही है आपने, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. सार्थक आलेख

    ReplyDelete
  17. Pandey ji ,
    Bahut sundar aalekh, bahut sundar prastuti, badhai

    ReplyDelete
  18. महाजना येन गतः सः पन्थाः , शायद अब हम ये भूल चुके है और इन महापुरुषों को प्रयोग की वस्तु ही समझते है . विचार झकझोर गए . आभार.

    ReplyDelete
  19. नाम का स्वार्थ तो हमारे राजनेता खूब भुनाना जानते हैं।

    ReplyDelete
  20. विचारों का संगम है यह आलेख ..हमेशा की तरह प्रेरक ..।

    ReplyDelete
  21. बहुत ही महत्वपूर्ण बात सरल भाषा में कही है आपने| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  22. वाद एक झण्डा है जिसे लेकर वादी चलते हैं। कई वाद फैशन भी हो गए हैं तो कई स्टेटस भी। असली मायने समझने वाले उस झंडे के नीचे जाने की फिक्र नहीं करते !

    ReplyDelete
  23. आपकी खोजपरक जानकारी के लिए आप बधाई के पात्र हैं

    ReplyDelete
  24. विचारणीय,
    वैसे भी आपको पढना एक सुखद अनुभव देता है।

    ReplyDelete
  25. विचारणीय,
    वैसे भी आपको पढना एक सुखद अनुभव देता है।

    ReplyDelete
  26. मर्म न जाने कोई ! यही बात सब कह जाती है... मर्म को जानने के लिए श्रम करना पडेगा पर आज तो सबको जल्दी है...

    ReplyDelete
  27. आशीष जी से टीप उधार मांगी है :


    आऊट ऑफ़ कोर्स!

    ReplyDelete
  28. आपके शब्दों के साथ बहते बहते,विचारों के बबंडर में खोते हुए जो किनारा मिला वो तब पार होगा जब विरोधाभासों से मुक्त होकर हम जो सोचें वो करें| किसी भी महापुरुष के नाम का उपयोग का दिखावा खुद से भी तो छल है ...

    ReplyDelete
  29. बढ़िया आलेख... मुझे भी कबीर के दोहे बहुत पसंद है।
    स्मार्ट इंडियन की बात से पूरी ट्राहा सहमत हूँ।

    ReplyDelete
  30. कबीर का शाब्दिक अर्थ होता है महान। कबीर सचमुच महान थे, क्योंकि उनके जैसा महान व्यक्ति ही सत्य व मर्म की बात को इतने डंके की चोट पर कहने का साहस कर सकता है।

    प्रवीण जी सुंदर प्रस्तुति हेतु बहुत-बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  31. नाम यानी ब्रांड ,ट्रेडनेम,असल बात है गुण धर्म लक्षण फिर भी कहा गया राम से बड़ा राम का नाम .उलटा नाम जपाजाप जाना बाल्मीकि भये सिद्ध समाना .

    ReplyDelete
  32. प्रवीण जी नमस्कार, सार्थक आलेख सुन्दर विचारों के साथ जयहिन्द

    ReplyDelete
  33. फिलहाल तो देश के लगभग सभी नोटों (मुद्राओं) में गांधीजी विराजमान दिखते हैं और रिश्वत के प्रत्येक लेनदेन में धडल्ले से उनका उपयोग अनैतिक कार्यों के लिये चलता है । वाकई गांधीजी की आत्मा स्वयं के प्रति कैसे यह जुल्म बर्दाश्त कर रही होगी ।

    ReplyDelete
  34. अर्थ जब श्रेष्ठता धारण नहीं कर सकता है तो नाम का प्रयोग प्रारम्भ हो जाता है, धीरे धीरे वह प्रयोग की वस्तु बन जाती है..ekdam sahi baat..
    bahut badiya chintan manan ke dharatal par likhi prastuti...

    ReplyDelete
  35. क्षुद्र मानवों ने सबको उपभोग /उपयोग की वस्तु बना डाला है -हम खुद चाहे अनचाहे अपने बड़े बुजुर्ग या स्वर्गीय हो चुके स्वजनों के नामों का यूज करते हैं :)

    ReplyDelete
  36. बहुत गहरा उतर गये प्रभु...आप को बांचना अध्यात्म की तरफ मोड़ रहा है हमें. :)

    ReplyDelete
  37. कबीर, विषमताग्रस्त समाज में जागृति पैदा कर लोगों को भक्ति का नया मार्ग दिखाना इनका उद्देश्य था। जिसमें वे काफी हद तक सफल भी हुए।

    ReplyDelete
  38. '' सत्य पंथनिरपेक्ष होता है, निर्भयता सत्तानिरपेक्ष होती है और सरलता व्यक्तिनिरपेक्ष.''

    ----मन में संजोकर रखने लायक सूक्ति.
    जीवन के बड़े काम की भी .

    ReplyDelete
  39. निसंदेह उनकी छटपटाहट समझनी ही होगी...

    ReplyDelete
  40. समय के प्रवाह में विकृतियों का आ जाना एक स्वाभाविक क्रम है.स्थितियाँ निरंतर परिवर्तनशील हैं उन्हीं के अनुसार नवीन निर्धारण युग के महापुरुष करते रहे हैं .

    ReplyDelete
  41. बदलते समय के साथ पुराने की नई व्यख्या होना भी ज़रूरी है -और यह आदमी का दिमाग़ है जो खुराफ़ातें ज़्यादा करता है .

    ReplyDelete
  42. आवरणों को हटायें, महापुरुषों का मर्म समझें, उन्हें स्वार्थवश प्रयोग की वस्तु न बनायें, आपको उनकी छटपटाहट देखनी ही होगी, अपनी स्वार्थ कारा से उन्हें मुक्ति दे दें।

    सार्थक‍ आलेख.

    ReplyDelete
  43. सुंदर व चुस्‍त लेख

    ReplyDelete
  44. a very apt post on 2nd Oct... u r right the name of leaders is being abused these dayz.

    One of the best post I read today !!

    ReplyDelete
  45. बहुत अच्छा लेख..प्रासंगिक.. टिपण्णी देने से न रोक पाया :-)
    गांधीजी को प्रणाम!

    ReplyDelete
  46. महापुरुषों के नाम से परे उनके मर्म को समझना होगा।

    बहुत सार्थक सन्देश ! बहुत सही विषय चुना है आपने....

    ReplyDelete
  47. प्रवीण जी बहुत सुंदर और सार्थक प्रस्तुति.विचारोत्तेजक और गहन लेख हेतु बहुत-बहुत बधाई।..

    ReplyDelete
  48. श्री जेके झा द्वारा प्राप्त टिप्पणी

    जरा सोचिये जो नेता ,गाँधी जी के विचारों को हर वक्त जूते तले रोंदते हैं वो राजघाट गाँधी की समाधी पर पुष्प चढाने का ढोंग इसलिए करते हैं जिससे उसकी शर्मनाक सत्ता में गाँधी जी के नाम का शक्ति प्राप्त हो जाय...जबकि होना ये चाहिये की ऐसे लोग जो देश व समाज को लूटकर सत्ता सुख भोग रहें हैं को गाँधी जी की समाधी पर तबतक पुष्प नहीं चढाने दिया जाय जबतक गाँधी जी के विचारों को पूरी तरह आत्मसात ना कर ले....ढोंगियों और शर्मनाक स्वार्थियों ने महापुरुषों को भी अपमानित करने का हर प्रयास किया है हरदम....

    ReplyDelete
  49. Yet another thought provoking article....!!Following somebody for namesake does not help in any way.
    Yes,indeed ...we do need to act upon our thoughts ....and believe in what we say...मर्म समझना ...बहुत ज़रूरी है ..

    ReplyDelete
  50. निबन्ध शैली में लिखी इस विशेष पोस्ट के लिए आभार .ब्लॉग दर्शन के लिए आपका शुक्रिया .

    ReplyDelete
  51. यह सत्य है कि हमनें अपने महापुरुषों को एक आवरण में छुपा दिया है और वह आवरण ही हमें उनके विचारों से विलग करता रहा है । सुंदर आलेख ।

    ReplyDelete
  52. बहुत ही विचारोत्तेजक आलेख ...

    ReplyDelete
  53. जब लोंग या वस्तुएं ब्रांड बन जाती है तो उन्हें ढोने वालों के लिए उनका असली महत्व गौण हो जाता है ...
    सुन्दर विचार!

    ReplyDelete
  54. आवरण ही तो मनुष्य की नियति बन गया है आवरण हट जाने पर तो सारे संशय दूर हो जाते हैं

    ReplyDelete
  55. विचार करना होगा.

    ReplyDelete
  56. यह एक ढाल है - जिसके पीछे छुप कर हम यह कहना तो चाहते हैं कि "मैं धार्मिक हूँ " या कि "मैं अमुक का अनुयायी हूँ" परन्तु दरअसल यह एक धोखा होता है - जो हम खुद को भी दे रहे होते हैं, दूसरों को भी | ठीक वैसे ही , जैसे अर्जुन गीता में बारम्बार कृष्ण से पूछता है कि "क्या करू" परन्तु करना वही चाहता है जो उसका मन चाह रहा है - युद्ध से मोह वश हो कर पलायन !!!

    ReplyDelete
  57. बारहा पढने को निमंत्रित करता निबंध .

    ReplyDelete
  58. बहुत ही सार्थक और विचारणीय आलेख...

    ReplyDelete
  59. I know i am so late to read this post. but thank you for this excellent information. I hope to get a lot of good information like this here

    India is a land of many festivals, known global for its traditions, rituals, fairs and festivals. A few snaps dont belong to India, there's much more to India than this...!!!.
    Visit for India

    ReplyDelete
  60. Bhai aapke vicharon aur ubhe vyakt karne kii kala ki jitni tareef kii jaye kam hai,,,,bahut sundar

    ReplyDelete
  61. उन्हें स्वार्थवश प्रयोग की वस्तु न बनायें, आपको उनकी छटपटाहट देखनी ही होगी, अपनी स्वार्थ कारा से उन्हें मुक्ति दे दें।

    सच में बहुत आवश्यकता है ऐसे विचारों की आज ......विचारणीय लेख...

    ReplyDelete
  62. हम प्रतीकीकरण में माहिर हो गए हैं। आचरण के स्‍खलन को छुपाने के लिए प्रतीकों के सम्‍मान की दुहाई देने का प्रदर्शन करना अधिक आसान है।

    ReplyDelete