20.7.11

काबिनी

घना जंगल, न आसमान का नीलापन, न धरती पर सोंधा रंग, न कोई सीधी रेखा, न ही दृष्टि की मुक्त-क्षितिज पहुँच, संग चलता आच्छादित एक छाया मंडल, छिन्नित प्रकाश को भी अनुमति नहीं, बस हरे रंग के सैकड़ों उपरंगों से सजी प्रकृति की अद्भुत चित्तीकारी, रंग कुछ हल्के, कुछ चटख, कुछ खिले, पर सब के सब, बस हरे। हरी चादर ओढ़े प्रकृति का श्रंगार इतना घनीभूत होता जाता है कि संग बहती हुयी शीतल हवा का रंग भी हरा लगने लगता है। बहती हवा को अपनी सिहरनों से रोकने का प्रयास करती झील अपनी गहराई में ऊँचे शीशम वृक्षों के प्रतिबिम्ब समेटे हरीतिमा चादर सी बिछी हुयी है।

घना जंगल, गहरी झील, बरसती फुहारें, शीतल बयार, पूर्ण मादकता से भरा वातावरण।

मैं स्वप्न में नहीं, काबिनी में हूँ।

मैसूर से 80 किमी दक्षिण की ओर, केरल की सीमा से 20 किमी पहले, काबिनी नदी पर बने बाँध ने घने जंगल के बीच 22 वर्ग किमी की एक विशाल जलराशि निर्मित की है और साथ में दिया है न जाने कितने जीव जन्तुओं को एक प्राकृतिक अभयारण्य, निश्चिन्त सा जीवन बिताने के लिये, विकास की कलुषित छाया से सुरक्षित, मनमोहक और रमणीय।

बंगलोर से सुबह 6 बजे निकल कर 11 बजे पहुँचने के बाद जंगल के बीचों बीच बने अंग्रेजों के द्वारा निर्मित कक्ष में जब स्वयं को पाया तो यात्रा की थकान न केवल उड़न छू हो गयी वरन एक उत्साह सा जाग गया, प्रकृति की गोद में निश्छल खेलने का, न टीवी, न फोन, बस प्रकृति से सीधा संवाद। बच्चे तो पल भर के लिये भी नहीं रुके और बाहर जाकर खेलने लगे। थोड़ी ही देर में हम सब निकल पड़े, जीप सफारी में जंगल की सैर करने। 

जंगल के बीच 3 घंटे की जीप-सफारी में इंजन की सारी आवृत्तियाँ स्पष्ट सुनायी पड़ती हैं और जीप रुकने पर आपकी साँसों की भी। बीच बीच में जंगल के जीव जन्तुओं के संवाद में अटकती आपकी कल्पनाशक्ति, साथ में चीता या हाथी के सामने आने का एक अज्ञात भय और उनकी एक झलक पा जाने के लिये सजग आँखें। चीता यद्यपि नहीं दिखा पर उसके पंजों को देख कर उस राजसी चाल की कल्पना अवश्य हो गयी थी।

रात्रि में भोजन के पहले एक वृत्तचित्र दिखाया गया जिसमें मानव की अन्ध विकासीय लोलुपता और अस्पष्ट सरकारी प्रयासों के कारणों से लुप्त हो रहे चीतों की दयनीय दशा का मार्मिक चित्रण था।

सुबह 6 बजे से 3 घंटे की बोट-सफारी में हमने पक्षियों की न जाने कितनी प्रजातियाँ देखी, झील के जल में पानी पीते और क्रीड़ा करते जानवरों के झुण्ड देखे, पेड़ों से पत्तियाँ तोड़ते स्वस्थ हाथियों का समूह देखा, धूप सेकने के लिये बाहर निकला एक मगर देखा। बन्दर, हिरन, मोर, जंगली सुअर, चील, गिद्ध, नेवले और न जाने कितने जीव जन्तु हर दृश्य में उपस्थित रहे।

वातावरण तो वहाँ पर कुछ और दिन ठहरकर साहित्य सृजन करने का था, पर प्रशासनिक पुकारों ने वह स्वप्न अतिलघु कर दिया। वहाँ के परिवेश से पूर्ण साक्षात्कार अभी शेष है।  

वन आधारित पर्यटन की एक सशक्त व्यावसायिक उपलब्धि है, जंगल लॉज एण्ड रिसॉर्ट। वन के स्वरूप को अक्षुण्ण रखते हुये, मानवों को उस परिवेश में रच बस जाने का एक सुखद अनुभव कराता है यह उपक्रम। वन विभाग के अधिकारियों द्वारा संचालित इस स्थान का भ्रमण अपने आप में एक विशेष अनुभव है और संभवतः इसी कारण से इण्टरनेट पर संभावित पर्यटकों के बीच सर्वाधिक लोकप्रिय भी है।

न जाने क्यों लोग विदेश भागते हैं घूमने के लिये, काबिनी घूमिये।  


70 comments:

  1. अति सुन्दर! हमने तो सुना था कि भारतीय चीता दशकों पहले विलुप्त हो गया था।

    ReplyDelete
  2. कबीनी के बारे में बढ़िया जानकारी मिली|

    ReplyDelete
  3. लेख के माध्यम से अच्छी जगह सैर करवाने के लिये धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. बच्चों के चेहरे की रौनक बता रही है कितना मजा आया होगा...भाई के यहाँ जाना ही है मैसूर..फ़ायदा उठाया जाएगा..

    ReplyDelete
  5. अच्छी जानकारी,सुन्दर प्रस्तुति ,आभार

    ReplyDelete
  6. वन विभाग के वृत्‍त चित्र में ''अस्पष्ट सरकारी प्रयासों के कारणों से लुप्त हो रहे चीतों की दयनीय दशा'' का भी जिक्र है.

    ReplyDelete
  7. घना जंगल, गहरी झील, बरसती फुहारें, शीतल बयार, पूर्ण मादकता से भरा वातावरण।
    मनोहारी ..सजीव चित्रण और वर्णन ...
    बचपन की सैर कर आया मन ..
    brought me back some nostalgic memories...thanks...

    ReplyDelete
  8. कबीनी का सुन्दर प्रस्तुतीकरण , बधाई .

    ReplyDelete
  9. प्रवीण भाई आपने हमारा मन ललचा दिया, अब तो हम भी - भाई काबिनी न सही यहाँ महाराष्ट्र में कहीं और सही - किसी पिकनिक की व्यवस्था करते हैं|

    फोटो अल्बम मनोहारी है|

    ReplyDelete
  10. bahut khoobsurat jagah dikhai de rahi hai.sundar chitron ke saath aapka varnan bhi sarahniye hai.bachche bahut pyare hain.bahut khush lag rahe hain.

    ReplyDelete
  11. अद्भुत स्थल की अद्भुत जानकारी!!

    ReplyDelete
  12. सुंदर चित्रावली।
    हमारे पूर्वजों ने ऐसे ही या इन से भी गहरे जंगलों में कभी अग्रपादों की सहायता से वृक्षों पर उतरने चढ़ने का श्रम करने के फलस्वरूप प्रकृति से हाथों का वरदान प्राप्त किया होगा। हाथों ने उन के मस्तिष्क को विकसित होने का अवसर प्रदान किया और वे मनुष्य बन सके।
    जब भी जंगल में जाता हूँ या चित्र देखता हूँ, उन पूर्वजों का स्मरण हो आता है।

    ReplyDelete
  13. घना जंगल, गहरी झील, बरसती फुहारें, शीतल बयार, पूर्ण मादकता से भरा वातावरण।

    मैं स्वप्न में नहीं, काबिनी में हूँ..

    काबिनी के बारे में अच्छी जानकारी देता लेख .. रोचक

    ReplyDelete
  14. अच्छी जानकारी देता लेख .. ...!

    ReplyDelete
  15. प्रकृति से मिलना हमेशा से सुखद रहा है.हमने तो आप के साथ ही काबिनी की सैर मुफ़्त में कर ली.कई चित्र तो लगता है जैसे बोल पड़ेंगे !

    ReplyDelete
  16. प्रारम्भिक 7-8 पंक्तियों में प्रकृति चित्रण ने मन मोह लिया.विकास की कलुषित छाया से सुरक्षित,इंजन की सारी आवृत्तियाँ स्पष्ट सुनायी पड़ती हैं,पर प्रशासनिक पुकारों ने वह स्वप्न अतिलघु कर दिया। -जैसे वाक्यांशों के पद-चिन्हों से पता चला कि यहाँ से प्रवीण जी की कलम गुजरी है.
    विशेषत: पंछियों के चित्र-विहंगम.अपने आनंद को साझा कर हमें भी आनंदित कर दिया.

    ReplyDelete
  17. वाह!
    सचमुच जाना चाहिए यहाँ...अतीव मनोहारी चित्र।

    ReplyDelete
  18. हमारे देश जैसी प्राकृतिक सुन्दरता कही भी दुर्लभ है ...बाहर जाने में आनंद दूसरों की संस्कृति और रहनसहन का अध्ययन में आता होगा ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  19. Sundar prakriti chitran ke saath Kambini bandh ke baaren mein badiya jaankari prastuti ke liye aabhar!

    ReplyDelete
  20. इस पोस्ट को तत्काल अपडेट कीजिए और बताइए कि वहाँ कैसे किस तरह पहुँचा जा सकता है और रेस्टहाउस में रिजर्वेशन इत्यादि कैसे किया जा सकता है. 3 दिवस रुकने के संभावित व्यय की जानकारी भी दें.
    अगली यात्रा काबिनी की पक्की!

    ReplyDelete
  21. वाह बहुत सुन्दर वर्णन कि पढने वाला अभी बश चले तो टिकट कटा ले। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  22. काबिनी के बारे में पढ़कर जिम कार्बेट सफारी याद आयी . मनोहारी चित्र .

    ReplyDelete
  23. इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  24. अभी तो आपकी फोटो एल्बम से ही घूम लिये जी :)

    प्रणाम

    ReplyDelete
  25. बहुत अच्छा संस्मरण बिल्कुल काबिनी की तरह!

    ReplyDelete
  26. नैसर्गिक सौंदर्य से परिचय कराया आपने..

    ReplyDelete
  27. बिलकुल सही सुझाव दिया आपने कि विदेश नहीं देश मे ही घूमना चाहिए ।

    ReplyDelete
  28. कबीनी के बारे में सजीव चित्रण और वर्णन ... बढ़िया जानकारी मिली|
    अच्छी जगह सैर करवाने के लिये आभार*****

    ReplyDelete
  29. सही कहा...अपने देश में इतने सुन्दर सुन्दर स्थल हैं कि इनके आगे विदेश जाने की ललक ही समाप्त होजाय ...

    ReplyDelete
  30. काबिनी आने की इच्छा है. कितना समय हो गया प्रकृति में स्वच्छंदता से रहे बिना!
    लेकिन वहां से वापस आना तो पड़ेगा ही! :(

    धत्त! ये भी कैसी सोच है!:)

    ReplyDelete
  31. आपके साथ तो हम भी सैर कर आये आज ... अच्छी जगह की जानकारी दी है ...

    ReplyDelete
  32. बैंगलोर व केरल के बीच व पास के ऐसे कुछ स्थलों में इस बार के भारत प्रवास में लगभग 2 माह बिताए हैं। उनकी स्मृतियाँ ताज़ा हो गईं। बैंगलोर से कनकपुर, वहाँ से संगम होते हुए कनकपुरा से लगभग 50 किलोमीटर दूर (जहाँ तीनों राज्यों की सीमाएँ मिलती हैं और जो वीरप्पन का गढ़/स्थल कहा जाता है, कावेरी और तीनों ओर घोर जंगल व पर्वतों से घिरा है) में लंबे अरसे तक रहना हुआ। हिरण हाथी, भालू, अजगर, मगर, चीते और मोरों का ही साथ था। फिर Wayanad Wildlife Sanctuary के भीतर तो और भी अनेकानेक जीवों से साबका पड़ा। सब कुछ अत्यंत रोमांचकारी और अद्भुत था।

    निसर्ग का सान्निध्य नव चेतना का उन्मेष कर देता है।

    ReplyDelete
  33. एक नई जगह की सैर कराई आपने
    बहुत सुंदर लेख

    ReplyDelete
  34. कबीनी के बारे में बढ़िया जानकारी मिली| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  35. सही बात है. अपने देश में बहुत कुछ है घूमने के लिए.

    ReplyDelete
  36. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 21 - 07- 2011 को यहाँ भी है

    नयी पुरानी हल चल में आज- उसकी आँखों में झिल मिल तारे -

    ReplyDelete
  37. इतनी अच्छी जगह के बारे मेँ जानकारी मिली। सच विदेश देखने की ख्वायिश रखने वालोँ ने इस देश को अच्छी तरह से देखा नहीँ होगा। incredible india.

    ReplyDelete
  38. प्रवीण जी पहली बात तो चीता और काबिनी का कॊई संबंध नही है दूसरे काबिनी की सुंदरता पर आप और प्रकाश डालें आम तौर पर यह जंगल हाथी और गौर या कहें बाईसन का घर है । तेंदुआ या leopard इसके बाहरी भागो मे पाया जाता है भारतीय चीता भारत से कुल सत्तर साल पहले महाराज सरगुजा की गोलियो का शिकार हो चुका है और तेंदुआ आज भी भारत की सबसे ज्यादा घनत्व वाली शिकारी प्रजाती का सदस्य है

    ReplyDelete
  39. waah... saaree yaadein taza ho gai.. thank you so much... kabhi mai bhi wo photographs share karungi...
    :)
    par vivran ke liye aapke isi post ka link use karungi... is aap allow karenge...

    ReplyDelete
  40. बंगलोर के इतने पास होते हुये भी काबिनी का पता नही था, तीन बार कूर्ग हो आये, इस बार काबिनी में ही छुट्टियां व्यतीत करेंगे. जानकारी के लिये बहुत आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  41. You do have an amazing command over hindi, and the place does look beautiful.

    ReplyDelete
  42. बहुत सुंदर विवरण व सुंदर चित्र,
    साभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  43. सरकारी विश्रामालयों में तो बुकिंग ही नहीं मिलती.. और मुझे आश्चर्य होता है कि बुकिंग मिलती किसे हैं. कार्बेट में कई बार कोशिश की..

    ReplyDelete
  44. मैं प्लान बनाता हूँ फिर जल्दी ही. अगर बैंगलोर के आस पास कोई और जगह इससे अच्छी निकल आई तो फिर और बात है. वरना यहाँ की योजना बनाता हूँ.

    ReplyDelete
  45. हम भी प्रोग्राम बनाते हैं।

    ReplyDelete
  46. बढ़िया फोटोग्राफी मैंने आपकी यात्रा इन फोटो के माध्यम से महसूस की. मेरी भी ६ साल की बच्ची है वो भी जब DISCOVERY और TLC देखती है तो कहती है "पापा वहां घुमाने कब ले चलोगे" तब मै उससे कहता हूँ जब अपने पास बहुत से पैसे आ जायेंगे तब चलेंगे.

    ReplyDelete
  47. काबिनी भ्रमण को साझा करने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  48. praveen ji apka blog phle bhi 1 ,2 baar padha maine aur jab bhi padhti hu padhti hi jati hu.jaadu hai apke shabdo bandhkar rakkh lete hai aapke shabd....

    ReplyDelete
  49. वाह....

    इतने में ही इतना आनंद आया तो प्रत्यक्ष साक्षात्कार कैसी अनुभूति कराएगा,सोचा जा सकता है...

    जब जाने का होगा या नहीं,पर अभी आपने जो यात्रा का आनंद दिया...आभार इसके लिए...

    ReplyDelete
  50. बहुत अच्छी जानकारी तस्वीरों समेट। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  51. hamare jaankari me ye jagah bilkul hi nadarat rahi ,aabhari hoon hamare desh is khoobsurati ko saamne laane ke liye .kaabini lubhavna naam hai .

    ReplyDelete
  52. बहुत सुन्दर यात्रा वृतांत प्रस्तुत किया है आपने साथ ही काबिनी के बारे में तो जानकारी हम जैसों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो आज तक भारत में कुछ विशेष घूमे ही नहीं हैं .आभार

    ReplyDelete
  53. आह...काफी जगहें जाने को न जाने कब से सोच रहा हूँ...ये भी अब उस लिस्ट में एड कर लेता हूँ...
    आपका काम बस हमें जलाना रह गया है...:)

    ReplyDelete
  54. बहुत ही सुन्दर यात्रा सस्मरण ..मन ललचा गया
    मन करता है निकल पडूं इतनी मनमोहक यात्रा पर ..शुभकामनाएं एवं आभार !!!

    ReplyDelete
  55. यह नाम पहली बार सुना.जगह भी बहुत ही सुन्दर लग रही है .
    lucky hain!

    ReplyDelete
  56. बहुत ही रोचक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  57. आपकी किसी रचना की हलचल है ,शनिवार (२३-०७-११)को नयी-पुरानी हलचल पर ...!!कृपया आयें और अपने सुझावों से हमें अनुग्रहित करें ...!!

    ReplyDelete
  58. हाँ विदेश जाने से तो अच्छा है की अपने देश में घूमें और काबिनी जायें....

    ReplyDelete
  59. भैया इस प्रकार के रमणीय स्थल भग्यवान व्यक्तियों को ही प्राप्त हो पाता है।

    ReplyDelete
  60. प्रकृति के इतना करीब कुछ दिन गुज़ारने का आनंद ही कुछ और होताहै। सुंदर चित्र- आभार॥

    ReplyDelete
  61. सर बहुत ही सुन्दर फोटोग्राफी वह भी पुरे परिवार के साथ ! बधाई !प्रकृति तो प्राकृत ही है !

    ReplyDelete
  62. प्रवीण जी ,आज तो आपकी गद्य रचना में भी पद्य सा आनन्द आया .....

    ReplyDelete
  63. इस स्थान के बारे में बताने के लिए बहुत बहुत आभार, ये बताइए कि वहां जाने का सही समय कौन से महीने में होगा।

    ReplyDelete
  64. prakriti yahan ekant baihi...
    kya baat hai. sundar jagah aur aapne kya khoob vanan kiya hai.

    ReplyDelete
  65. मैसूर, बैंगलौर सब घूमा..यही रह जाना था...सो आपसे जाना....बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  66. काबिनी का मनोहारी यात्रा वृत्तांत चित्र मय साथ में आपका पुर सूकून परिवार देख भाल कर अच्छा लगा .विदेश भैया हम तो अपनों से मिलने जातें हैं घूमना घुमाना हमारे लिए बोनस सा सिद्ध होता है बच्चों का प्रेम जहां ले जाए चले जातें हैं .केरल तो धरती मैया का सबसे हरा बिछौना है .कोचीन हमने भी देखा है .उधर चेन्नई ,बंगलुरु ,पोंडिचेरी ,तिरुपति -तिरुमाला ,एला गिरी आदि भी मनोरम स्थल हैं ,खूब देखा है जी भर के इन जगहों को .आई आई टी चेन्नई तो पक्षी विहार के प्रांगन में ही अवस्थित है .

    ReplyDelete