9.7.11

सहना, रहना, सहते रहना

वर्षों हम तो यही समझते रहे कि पीड़ा पहुँचाने की क्षमता ही शक्ति का प्रतीक-चिन्ह है, पीड़ा का भय ही शक्ति का आदर करता है। जीवन भर यही समझ लिये पड़े रहते यदि लगभग 15 वर्ष पहले एक सेमिनार में जाने का सौभाग्य न मिला होता। संदर्भ भारत और पाकिस्तान की सामरिक क्षमताओं पर था और एक प्रखर वक्ता उस पर बड़े तार्किक ढंग से प्रकाश डाल रहे थे। उनके अनुसार, शक्ति को नापने में पीड़ा पहुँचाने की क्षमता से भी अधिक महत्वपूर्ण है की पीड़ा सहने की क्षमता। उस समय लगा कि किसी ने विचारों के कपाट सहसा खोल दिये हैं, हम भी मुँह बाये सुनते रहे। धीरे धीरे जब शक्ति के इस सिद्धान्त की व्याख्या कई उदाहरणों के साथ की गयी तो सामरिक संदर्भों में वह सिद्धान्त मूर्त रूप लेने लगा।

जो देश पर लागू होता है, वह देह पर भी लागू होता है। एक धुँधला सा चित्र बना रहा, व्यवहारिक अनुप्रयोग के अभाव में अपूर्ण सा ही बना रहा यह सिद्धान्त। कुछ सिद्धान्त उद्घाटित होने के लिये अनुभव का आहार चाहते हैं, स्वयं पर बीतने से अनुभव का उजाला शब्दों की स्पष्टता बढ़ा देता है। यौवन तो केवल कहने और करने का समय था, संभवतः इसीलिये यह सिद्धान्त अपूर्ण सा बना रहा। सहने के अनुप्रयोग जीवन में आने शेष थे, संभवतः इसीलिये यह सिद्धान्त अपूर्ण सा बना रहा।

भारतीय मनीषियों ने भले ही अविवाहित रह कर यह तथ्य न समझा हो पर हमारे लिये विवाह सिद्धान्त-समूहों का प्राकृतिक निष्कर्ष है। हर वर्ष बीतने के साथ ज्ञान-चक्षुओं के न जाने कितने स्तर खुलते जाते हैं, जीवन यथारूप समझ में आने लगता है, घर में अपनी स्थिति स्पष्ट होने के साथ ही विश्व में भी अपनी नगण्यता का भान होने लगता है, युवावस्था की वेगवान पहाड़ी नदी सहसा समतल पर आकर फैल जाती है, श्रीमतीजी और बच्चों के किनारों के बीच सिमटी।

जब कुछ अनुकूल नहीं होता है तो बड़ी कसमसाहट होती है, व्यग्रता को उसी क्षण उतार देने का मन करता है, दिन भर उतारने और चढ़ाने में मन और तन लगा रहता है, जीवन गतिमान बना रहता है। घर के बाहर तो यह व्यवहार चल सकता है पर घर के भीतर भी आप यही करने बैठ गये तो आपको शान्ति कहाँ मिलेगी?

शान्ति-प्राप्ति की इसी विवशता ने सहने का महामन्त्र सिखा दिया। स्वभावानुसार थोड़े दिन तो व्यवहार में रुक्षता बनी रही पर धीरे धीरे सहने का गुण सीखने लगे। पहले तो तुरन्त उत्तर न देकर कुछ घंटों के लिये जीभ ने सहना सीखा, फिर उस बात को कुछ दिनों में ही भुलाकर मन ने सहना सीखा, फिर उन्हीं परिस्थितियों में संभावित अनुकूलता निकाल कर जीवन ने सहना सीखा।

कल्पना कीजिये कि आपकी सहनशीलता इतनी बढ़ जाये कि प्रतिकूलताओं के छोटे मोटे पत्थर आपकी मनस-झील में तरंग तो उत्पन्न करें पर उनमें न ही आयाम हो और न ही अनुनाद। तब आपकी मानसिक-शक्ति का क्षरण करने के प्रयास थक हार कर वापस चले जायेंगे। जब सामने वाला आपको विचलित करने के प्रयास करते करते थक जायेगा, तब आपको बिना अपनी ऊर्जा व्यर्थ किये शक्ति का आभास होने लगेगा।

पता नहीं, जब देश में हर ओर आक्षेपों का उद्योग पनप रहा है, मेरा सहनशील चिन्तन किस महत्व का हो, पर आत्मशक्ति का एक सशक्त कारक बनकर उभरी है मेरी सहनशीलता। सहनशीलता में गाँधीजी के सत्य के प्रयोगों ने एक स्वतन्त्रता तो दिला दी है, हमारे प्रयोग न जाने क्या मुक्त कर बैठेंगे।

हम तो 'सहना, रहना और सहते रहना' के मार्ग पर चलते चलते अपनी शक्ति बढ़ाने में लगे हैं, कम से कम घर में हमारा बॉर्नबीटा यही है। आप कौन सा शक्ति-पेय पीते है?

74 comments:

  1. ग़ालिब का शेर है की, "मुश्किलें इतनी पड़ी की आसान हो गयीं"

    बुजुर्ग तो यही कह गए हैं की सहने से आत्मा का विस्तार होता है. लेकिन हर आदमी की सहने की क्षमता होती है. चाहने भर से सहनशील नहीं हुआ जा सकता.

    ReplyDelete
  2. vastav men behatar post, badhai

    ReplyDelete
  3. इसे ही शायद कहते होंगें स्थितिप्रज्ञता या तुरीयावस्था !
    इतना अनवरत तो नहीं, महीने में दो चार दिन मेरे भी ऐसे बीतते हैं ...
    तब कर्ण कपाट भले ही खुले हों मस्तिष्क द्वार हठात बंद हो रहता है ...
    यह आत्मानुशासन से संभव है :) मगर इस मनोदशा को लम्बा न खीचिये ..
    अनुषंगिक प्रभाव उत्पन्न हो सकते हैं !

    ReplyDelete
  4. Praveen ji badhaai bahut achcha likhte hain aap.aapka lekh bahut pasand aaya.sahi hai sahansheelta shanti ka mool mantra hai sabhi ko yeh seekhna chahiye jeevan behtar ho jayega.

    ReplyDelete
  5. शहंशाह न सही सहनशाह तो बना ही जा सकता है.हर तपस्या के लिये सहनशीलता जरुरी होती है.जीवन भी एक तपस्या ही है.रहना है तो सहना है.सहते रहना है.उम्र के साथ साथ सहने की सीमाओं का विस्तार भी होता है. एक यथार्थ को सुंदर शैली में व्यक्त किया है,तभी तो प्रवीण कहाते हो.

    ReplyDelete
  6. भारतीयों की सहनशक्ति तो यूँ भी अद्भुत है ...
    सहनशक्ति की प्रेरणा किसने किससे ली , मनीषियों ने गृहस्थों से या इससे उलट , ये भी शोध का विषय है !

    ReplyDelete
  7. घर में अपनी स्थिति स्पष्ट होने के साथ ही विश्व में भी अपनी नगण्यता का भान होने लगता है, ...सहमत हूँ..... ऐसा ही होता है..... बहुत सुंदर चिंतन ....

    ReplyDelete
  8. शायद इसी को ताप कहा जाता है

    आदर्श व्यवस्था के आकांक्षियों द्वारा सुव्यवस्था पर विचार विमर्श के लिए प्रारंभ किया गया पहला विषय आधारित मंच , हम आप के सहयोग और मार्गदर्शन के आकांक्षी हैं |
    सुव्यवस्था सूत्रधार मंच
    http://www.adarsh-vyavastha-shodh.com/"

    ReplyDelete
  9. "....सहनशीलता इतनी बढ़ जाये कि प्रतिकूलताओं के छोटे मोटे पत्थर आपकी मनस-झील में तरंग तो उत्पन्न करें पर उनमें न ही आयाम हो और न ही अनुनाद...." इसे चिकने घड़े के नाम से भी समझा जा सकता है :)

    ReplyDelete
  10. सहनशीलता पर आपके विचार मन को सोचने पर मजबूर करते हैं .....आपका आभार

    ReplyDelete
  11. शक्ति को नापने में पीड़ा पहुँचाने की क्षमता से भी अधिक महत्वपूर्ण है की पीड़ा सहने की क्षमता--

    सुन्दर प्रस्तुति,
    हार्दिक बधाई ||

    सहनशीलता में गाँधीजी के सत्य के प्रयोगों ने एक स्वतन्त्रता तो दिला दी है, हमारे प्रयोग न जाने क्या मुक्त कर बैठेंगे।
    हम तो 'सहना, रहना और सहते रहना' के मार्ग पर चलते चलते अपनी शक्ति बढ़ाने में लगे हैं,

    ReplyDelete
  12. kaho n kaho sahta hi hai aadmi yaa waqt

    ReplyDelete
  13. श्रद्धा और सबूरी ...अर्थात प्रभु में आस्था और सब्र या सहनशीलता ....ये दो मिलकर ही सही जीवन दर्शन हो सकता है ...बहुत सार्थक लेख ...

    ReplyDelete
  14. सब परिस्थितियों पर निर्भर करता है। यदि आप किसी के साथ सहजीवन बिताना चाहते हैं तो दोनों को कुछ कुछ सहना होगा। कुछ सहने से इन्कार भी करना होगा। विवाद में समझौता भी करना होगा।
    किसी से समझौताहीन संघर्ष करना हो तो भी संघर्ष के दौरान बहुत कुछ सहन करना होगा। बिना उस के संघर्ष भी संभव नहीं है। हाँ सहनशीलता हर परिस्थिति में आवश्यक है।

    ReplyDelete
  15. 'भारतीयों की सहनशक्ति तो यूँ भी अद्भुत है ...'
    वाणी गीत जी की इस बात से मैं भी सहमत हूँ -बस निरीक्षण के आधार पर उसमें यह वाक्यांश और जोड़ना चाहती हूँ -'घर से बाहर '.अब प्रवीण जी ,घर में भी विकसित हो जाय तो आनन्द ही आनन्द!

    ReplyDelete
  16. इसीलिए पूरे विश्व में भारत में शादियों के सफल रहने का प्रतिशत सबसे ऊंचा है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  17. पहले तो तुरन्त उत्तर न देकर कुछ घंटों के लिये जीभ ने सहना सीखा, फिर उस बात को कुछ दिनों में ही भुलाकर मन ने सहना सीखा, फिर उन्हीं परिस्थितियों में संभावित अनुकूलता निकाल कर जीवन ने सहना सीखा।

    जब मन से सहना सीख किया तो शांत झील में तरंगे तो उठेंगी पर शोर नहीं ...

    ReplyDelete
  18. बहुत खुबसूरत हम आपके विचारों को आज फिर से सलाम करते हैं जीवन तो रोज नये रंग दिखाती है दोस्त और अगर जिसने अपने आप पर काबू प् लिया तो कोई शक्ति उसे नहीं हिला सकती यही जीवन को बेहतर बना सकती है और खुद जिओ और जीने दो का पाढ सिखा सकती है | हम भी आपकी ही तरह .............. 'सहना, रहना और सहते रहना' के मार्ग पर चलते चलते अपनी शक्ति बढ़ाने में लगे हैं, :)
    सुन्दर और यथार्थ विषय पर चर्चा |

    ReplyDelete
  19. अच्छा लगा इसे पढ़ना।

    ReplyDelete
  20. हम भी, आपकी तस्वीर सामने लगा , यही मंत्र उच्चारण करने का प्रयत्न कर रहे हैं !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  21. बढ़िया चिंतन , सहनशीलता तो सुखमय जीवन के मूल में है .

    ReplyDelete
  22. बहुत बढिया.. शायर नवाज देवबंदी की दो लाइनें याद आ रही हैं...

    वो रुला कर हंस ना पाया देर तक.....
    जब मैं रोकर मुस्कुराया देर तक .........

    ReplyDelete
  23. अद्भुत दार्शनिक चिंतन है यह, जो जीवन के महान अनुभवों के बाद ही मिल पाता है, हम जैसे पहले पायदान पर खड़े लोगों के लिए "चिंतनीय, मननीय और करणीय" है .
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    @ कम से कम घर में हमारा बॉर्नबीटा यही है। आप कौन सा शक्ति-पेय पीते है?

    # गुरूजी अब हम भी यही शक्ति-पेय पान करेंगे :)
    पर अरविन्द मिश्राजी के बताये आनुषंगिक प्रभाव से भी डर लगता है ............... शायद द्विवेदी जी का फार्मूला सटीक है आनंददायी जीवन जीने के लिए.
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

    ReplyDelete
  24. sahnshilta aur sahishnuta se prani matra ke saath prem gahrata chal jata hai

    ReplyDelete
  25. "जब सामने वाला आपको विचलित करने के प्रयास करते करते थक जायेगा, तब आपको बिना अपनी ऊर्जा व्यर्थ किये शक्ति का आभास होने लगेगा"

    ये एक ऐसी बात आप ने कह दी है कि इसे जो अपना लेगा उस के जीवन से मानसिक तनाव समाप्त हो जायेंगे...जीवन में सिर्फ शांति ही बचेगी...बहुत गुणकारी सूत्र दिया है ये आपने..जिसका उपयोग जीवन में कहीं भी किया जा सकता है..

    नीरज

    ReplyDelete
  26. कुछ सिद्धान्त उद्घाटित होने के लिये अनुभव का आहार चाहते हैं, स्वयं पर बीतने से अनुभव का उजाला शब्दों की स्पष्टता बढ़ा देता है।
    आनंद आ गया ................ सहनशीलता का रियल लाइफ में प्रयोग का तरीका और फायदे सटीक चिंतन ............... बधाई ........

    ReplyDelete
  27. आनंद आ गया ................ सहनशीलता का रियल लाइफ में प्रयोग का तरीका और फायदे सटीक चिंतन ............... पुनः बधाई ........

    ReplyDelete
  28. आपका बार्नवीटा तो गजब का है प्रवीण जी, वैसे भी आजकल तो बड़ों के लिए अलग से ऐसे पाउडर आने लगे हैं जो बार्नवीटा की तरह दूध का स्वाद तो बढ़ाते ही हैं, पचाने में सहायक होते हैं। (पिछले दिनों टीवी पर देखे एक विज्ञापन से यह ज्ञान प्राप्त हुआ, गलत भी हो सकता है) तो सीधा सा अर्थ है कि अगर बड़े हो रहे हो, तो अब बच्चों की तरह पैर पटकने से काम नहीं चलेगा, सहनशीलता तो आचरण में लानी ही होगी। लेकिन इससे पहले इसका सारा भार स्त्रियों पर ही होता था, पर यह जानकर खुशी हो रही है कि पुरुष भी इसे अपने आचरण में शामिल कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  29. सचमुच सुन्दर विचार. एक मोमेंट में आदमी के सोचने के तरीके में कितना बदलाव आ सकता है!!!

    ReplyDelete
  30. प्रवीण पाण्डेय जी ,
    कुछ बोलने से ,इक चुप भली,
    बड़ी सज़ा,थोड़े में टली...हा हा हा !
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  31. हमारी सहनशक्ति की ही तो पराकाष्ठा है कि स्विज़ बैंक में अरबों की दौलत पड़ी है और हम फिर भी सहनशील है। इसका एक ही कारण है कि आम जनता का शक्ति पेय ठर्रा है :)

    ReplyDelete
  32. प्रवीण भाई आप की बात में निश्चित रूप से दम है, पर एक सच ये भी है

    बाद गांधीजी के यार इस मुल्क़ में|
    पुस्तकों में ही गांधीगिरी रह गई||

    एक और चिंतन परक आलेख के लिए बधाई|

    बेहतर है मुक़ाबला करना

    ReplyDelete
  33. जिसने सहना सीख लिया उसने जीना सी्ख लिया।

    ReplyDelete
  34. यह धरा भी कितना कुछ सहती है फिर भी संभाले रहती है सम्पूर्ण सृष्टि को!!

    ReplyDelete
  35. सहनशीलता तो सुखमय जीवन के मूल में है| बहुत सुंदर चिंतन|

    ReplyDelete
  36. कम से कम इस देश में अब आम नागरिक सहनशीलता की हर सीमा को समझ गया है और आमलोगों की पीड़ा सहने की क्षमता भी कई गुना बढ़ गयी है बल्कि ये कहा जा सकता है की पीड़ा ही जीवन है आज इस देश में अगर सत्य,न्याय,ईमानदारी व इंसानियत की राह पर चलना है तो....क्योकि भारत सरकार ही सत्य,न्याय,ईमानदारी व इंसानियत की सबसे बरी दुश्मन बन चुकी है आज ....और इस देश का संसद इंसानियत के दुश्मनों से भर चुका है...

    ReplyDelete
  37. गहन चिंतन के बाद निकला निष्कर्ष ...
    “आत्मशक्ति का एक सशक्त कारक”!!
    "सहना, रहना, सहते रहना"

    ReplyDelete
  38. आपने तो शक्ति को बड़े सुन्दर ढंग से परिभाषित कर दिया ..पीड़ा का महत्व शिक्तिशाली कहलाने के लिए और सहनशीलता इनको खुल कर रख दिया और वैवाहिक अवैवाहिक जीवन में इस स्तर पर अंतर भी पता चला ..उम्दा लेख..

    ReplyDelete
  39. जिसमें सहनशीलता है वह निश्चित ही ज्ञानी भी है...आपकी हर पोस्ट में जीवन से जुड़ा गहरा दर्शन होता है जो मन को प्रभावित करता है..

    ReplyDelete
  40. भारतीय मनीषियों के अविवाहित रहने में भी एक सहनशीलता थी. असहनीय को सहन तो करना ही पड़ता है, लेकिन इस द्वंद से आप वाकिफ कैसे हो गये? :)

    ReplyDelete
  41. आपके इस पेय का एक घूंट भी मुश्किल से बन पाता है, आपसे सध गया है, बधाई.

    ReplyDelete
  42. पोस्‍ट का एक वाक्‍य आकर्षित भी करता है और प्रभावित भी - प्रतिकूलताओं के छोटे मोटे पत्थर आपकी मनस-झील में तरंग तो उत्पन्न करें पर उनमें न ही आयाम हो और न ही अनुनाद।

    गॉंधीजी से किसी ने पूछा था कि हिन्‍दी वर्णमाला में 'स', 'श' और 'ष' क्‍यों रखे गए किसी एक से ही काम क्‍यों नहीं चलाया जा सका उत्‍तर में गॉंधीजी ने कहा था कि उन्‍हें तो इसका एक ही मतलब समझ आता है - 'सहन करो, सहन करो, सहन करो।'

    ReplyDelete
  43. मुस्कराकर गम का जहर जिसको पीना आ गया,
    समझो इस जग में उस बंदे को जीना आ गया.

    आभार इस चिन्तनपरक प्रस्तुति पर...

    ReplyDelete
  44. एक और चिंतन परक आलेख के लिए बधाई|

    ReplyDelete
  45. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  46. "हर वर्ष बीतने के साथ ज्ञान-चक्षुओं के न जाने कितने स्तर खुलते जाते हैं"
    So true.. a line with a profound meaning !!
    Tolerance is the biggest weapon any one can have, but tolerance for wrong things is the biggest hindrance too.

    ReplyDelete
  47. इस पेय पदार्थ का एक साईड एफ़ैक्ट भी है, जो एक बार पियेगा हमेशा उसे ही पीना होगा।

    ReplyDelete
  48. हर एक व्यक्ति का व्यक्तित्व अलग होता है और उसके सहनशीलता का पैमाना भी..
    सहनशीलता कब तक /कहाँ तक/किन परिस्तिथियों में /कितनी होनी चाहिए यह समय और अनुभव सिखाता है.
    मौन अच्छा है मगर स्थिति के अनुसार बोलना भी ज़रुरी होता है .
    एक साँप और ऋषि की कहानी याद होगी ही.
    सहना उतना ही चाहिए जब तक आप को या आप के प्रियजनों को उस स्वभाव से नुक्सान ना पहुँच रहा हो.अधिक सहनशील व्यक्तियों को आज कल की दुनिया में शांति कहाँ मिलती है??कभी न कभी तो आवाज़ उठानी ही पड़ती है.

    ReplyDelete
  49. सर सौ बात के आगे एक चुप काफी है ! इसी का नाम जीवन है अभी तो बहुत कुछ बाकी है ! आगे संतुलित रूप से बढ़ना ही वीरता है !

    ReplyDelete
  50. अति सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  51. सहनशक्ति के बल पर ही तो पाक को 60 वर्षों से अधिक से झेल रहें हैं!

    ReplyDelete
  52. सहन शीलता ही सुखमय जीवन का आधार है.

    ReplyDelete
  53. सहन करना सीखने का अच्छा तरीका सिखाया .... अगर ये संभव हो जाये तो कोई उलझन सम्मुख न आये .....

    ReplyDelete
  54. striyon ki niyti ke chhetr me ek purush ki imandar koshish ka swagt hai .
    dekhna is kdm se bndhan smbndh bn jayega our jeevn me shbhagita ko prshry milega . shn shbd tirohit ho jayega . aameen .

    ReplyDelete
  55. पर आत्मशक्ति का एक सशक्त कारक बनकर उभरी है मेरी सहनशीलता। सहनशीलता में गाँधीजी के सत्य के प्रयोगों ने एक स्वतन्त्रता तो दिला दी है, हमारे प्रयोग न जाने क्या मुक्त कर बैठेंगे। ....
    इन प्रयोगों पर ही तो दुनिया टिकी है. शानदार पोस्ट...बधाई.



    _______________
    शब्द-शिखर / विश्व जनसंख्या दिवस : बेटियों की टूटती 'आस्था'

    ReplyDelete
  56. निष्कर्ष अच्छे हैं.एक निश्चित हद तक सहना उत्तम है.सर से ऊपर निकलने पर माकूल जवाब देना और जीत हासिल करना भी जरूरी है.

    ReplyDelete
  57. सहते रहने के अपने फायदे हैं बशर्ते वे सिद्धांतों और मूल्यों से समझौता करने की क़ीमत पर न हों !

    ReplyDelete
  58. प्रवीण, बहुत सुन्दर आलेख और अभिव्यक्ति, पढ़ कर आनन्द आया.

    ReplyDelete
  59. सहना, रहना और सहते रहना
    beautiful thoughtful post

    ReplyDelete
  60. इस बार तो आपने बहुत ही विचारणीय लेख लिखा है,
    आभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  61. एक चुप हज़ार सुख व्यक्ति पर तो लागू होता है भारत सरकार पन नहीं .आपके ब्लॉग पर सदैव विचार पूर्ण सामिग्री फैली रहती है .

    ReplyDelete
  62. गांधीजी का जिक्र आपने खूब किया. उन्होंने इसी सहनशीलता को अपने सत्याग्रह का सबसे बड़ा हथियार बना दिया था. विचारोत्तेजक पोस्ट, आभार.

    ReplyDelete
  63. गहन चिन्तनयुक्त प्रासंगिक लेख....

    ReplyDelete
  64. लगता तो हमें भी यही है कि हमारा पेय भी यही है. लेकिन किस हद तक ये तो मुझे जानने वाले ही बता पायेंगे. इस पथ पर अग्रसर होने की कोशिश जारी है.

    ReplyDelete
  65. आपके दोनों ही लेखों में जीवन से गहरा जुडाव है. एक लेख जहाँ घर में बिखरी चीजों को सजाकर जीने की प्रेरणा देता है, वहीँ दूसरे लेख में समभाव से, निर्विकार चेतना के साथ जीने का सन्देश है..सहना, रहना और सहते रहना शीर्षक वाले लेख से सच कहूँ तो बड़ा संबल मिला.आभारी हूँ.नमन.

    ReplyDelete
  66. इन दिनों बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है आपके ब्लॉग पे....:)

    ReplyDelete
  67. वैसे जीवन खुद में ही एक समझौता है।

    आपकी पोस्ट पढ़कर बॅल का "ऍडजस्टमेंट इन्वेंटरी" नामक परीक्षण याद आ गया जो कभी बीऍड में पढ़ा था। ये मनोविज्ञान का एक टैस्ट है जिसमें कई सामान्य प्रश्नों के माध्यम से मनोस्थिति का पता लगाया जाता है।

    ReplyDelete
  68. सहना, रहना और सहते रहना..............

    ReplyDelete
  69. हम तो 'सहना, रहना और सहते रहना' के मार्ग पर चलते चलते अपनी शक्ति बढ़ाने में लगे हैं, कम से कम घर में हमारा बॉर्नबीटा यही है। आप कौन सा शक्ति-पेय पीते है?
    shayad yahi ,lagbhag sabhi lete hai kahi .badhiya rahi .

    ReplyDelete
  70. arvind ji ki tippani bha gayi ,sach hi kaha ,veena ki taar utni hi khincho jisse wo na toote .

    ReplyDelete