25.6.11

दो प्रश्न

भविष्य में क्या बनना है, इस विषय में हर एक के मन में कोई न कोई विचार होता है। बचपन में वह चित्र अस्थिर और स्थूल होता है, जो भी प्रभावित कर ले गया, वैसा ही बनने का ठान लेता है बाल मन। अवस्था बढ़ने से भटकाव भी कम होता है, जीवन में पाये अनुभव के साथ धीरे धीरे उसका स्वरूप और दृढ़ होता जाता है, उसका स्वरूप और परिवर्धित होता जाता है। एक समय के बाद बहुत लोग इस बारे में विचार करना बन्द कर देते हैं और जीवन में जो भी मिलता है, उसे अनमने या शान्त मन से स्वीकार कर लेते हैं। धुँधला सा उद्भव हुआ भविष्य-चिन्तन का यह विचार सहज ही शरीर ढलते ढलते अस्त हो जाता है।

कौन सा यह समय है जब यह विचार अपने चरम पर होता है? कहना कठिन है पर उत्साह से यह पल्लवित होता रहता है। उत्साह भी बड़ा अनूठा व्यक्तित्व है, जब तक इच्छित वस्तु नहीं है तब तक ऊर्जा के उत्कर्ष पर नाचता है पर जैसे ही वह वस्तु मिल जाती है, साँप जैसा किसी बिल में विलीन हो जाता है। उत्साह का स्तर बनाये रखने के लिये ध्येय ऐसा चुनना पड़ेगा जो यदि जीवनपर्यन्त नहीं तो कम से कम कुछ दशक तो साथ रहे।

पता नहीं पर कई आगन्तुकों का चेहरा ही देखकर उनके बारे में जो विचार बन जाता है, बहुधा सच ही रहता है। उत्साह चेहरे पर टपकता है, रहा सहा बातों में दिख जाता है। जीवन को यथारूप स्वीकार कर चुके व्यक्तित्वों से बातचीत का आनन्द न्यूनतम हो जाता है, अब या तो उनका उपदेश आपकी ओर बहेगा या आपका उत्साह उनके चिकने घड़े पर पड़ेगा।

मुझे बच्चों से बतियाने में आनन्द आता है, समकक्षों से बात करना अच्छा लगता है, बड़ों से सदा कुछ सीखने की लालसा रहती है। पर युवाओं से बात करना जब भी प्रारम्भ करता हूँ, मुझे प्रश्न पूछने की व्यग्रता होने लगती है। अपने प्रत्येक प्रश्न से उनका व्यक्तित्व नापने का प्रयास करता हूँ। युवाओं को भी प्रश्नों के उत्तर देना खलता नहीं है क्योंकि वही प्रश्नोत्तरी संभवतः उनके मन में भी चलती रहती है। आगत भविष्य के बारे में निर्णय लेने का वही सर्वाधिक उपयुक्त समय होता है।

मुझे दो ही प्रश्न पूछने होते हैं, पहला कि आप जीवन में क्या बनना चाहते हैं, दूसरा कि ऐसा क्यों? दोनों प्रश्न एक साथ सुनकर युवा सम्भल जाते हैं और सोच समझकर उत्तर देना प्रारम्भ करते हैं। उत्तर कई और प्रश्नों को जन्म दे जाता है, जीवन के बारे में प्रश्नों का क्रम, जीवन को पूरा खोल कर रख देता है। चिन्तनशील युवाओं से इन दो प्रश्नों के आधार पर बड़ी सार्थक चर्चायें हुयी हैं। व्यक्तित्व की गहराई जानने के लिये यही दो प्रश्न पर्याप्त मानता हूँ। वह प्रभावित युवा होगा या प्रभावशाली युवा होगा, इस बारे में बहुत कुछ सही सही ज्ञात हो जाता है।

जब तक इन दो प्रश्नों को उत्तर देने की ललक मन में बनी रहती है, उत्साह अपने चरम पर रहता है।

आप स्वयं से यह प्रश्न पूछना प्रारम्भ करें, आपको थकने में कितना समय लगता है, यह आपके शेष मानसिक-जीवन के बारे में आपको बता देगा। यदि प्रश्नों की ललकार आपको उद्वेलित करती है तो मान लीजिये कि आपका सूर्य अपने चरम पर है।

मैं नित स्वयं से यही दो प्रश्न पूछता हूँ, मेरा उत्तर नित ही कुछ न कुछ गुणवत्ता जोड़ लेता है, जीवन सरल होने लगता है पर उत्तर थकता नहीं है, वह आगे भी न थके अतः जीवन कुछ व्यर्थ का भार छोड़ देना चाहता है। एक दिन उसे शून्य सा हल्का होकर अनन्त आकाश में अपना बसेरा ढूढ़ लेना है।

आप भी वही दो प्रश्न स्वयं से पूछिये। 

68 comments:

  1. अपना सूर्य चरम पर है:)

    ReplyDelete
  2. आगामी जीवन की झलक आपके दो प्रश्नों के उत्तर से काफी-कुछ मिल जाती है.हालाँकि ,आज हमारे स्वभाव में भी कृत्रिमता आ गयी है.हम थोड़े समय के लिए आदर्शवाद का लबादा भी ओढ़ लेते हैं,पर अंततः अपने को ज्यादा गुप्त नहीं रख सकते !

    ReplyDelete
  3. बस इन्हीं दो प्रश्नों के संग बहे जा रहे हैं...उत्तम आलेख.

    ReplyDelete
  4. इन्ही दो प्रश्नों में जीवन का सार है....

    ReplyDelete
  5. आपको थकने में कितना समय लगता है'
    थकन भी सापेक्ष है. कार्य में रूचि के स्तरानुसार परिवर्तित होता रहता है.
    सार्थक दो प्रश्न

    ReplyDelete
  6. प्रश्नों की उथलपुथल मची ही रहती है ...ऐसा क्यों , ऐसा क्यों नहीं !
    सार्थक दार्शनिक चिंतन !

    ReplyDelete
  7. प्रश्‍नों की धार तेज होती ही है और वह खुद से हो तो दुधारी जैसी असरदार हो जाती है.

    ReplyDelete
  8. मैं जानता हूँ कि आपका ऐसा पूछना निश्चित ही सर्वतोभद्र मंगलमयी कामना के वशीभूत होता मगर मैं इन्ही दो प्रश्नों को सबसे असहज पाता हूँ ..मनुष्य का जीवन बहुत ही अनिश्चित और दुर्निवार है -ऐसे प्रश्न क्या पूछे जाना चाहिए ... :)

    ReplyDelete
  9. सूर्य उत्तरायण. दक्षिणायन होता रहेगा, प्रश्न उठेंगे तभी मनन होगा .अपने लिए किये गए प्रश्नों के उत्तर से संतुष्ट होना और उस दिशा में कार्यशील होना , जीवन का अभीष्ट है .सुँदर चिंतन .

    ReplyDelete
  10. इन उत्तर खोजते प्रश्नों ने ही सभ्यता और संस्कृति का विकास किया है। इनका जवाब ढूँढने के क्रम में ही मानवता आगे बढ़ पायी है। मनुष्य विवेकशील है इसलिए इन प्रश्नों की डोर पकड़कर बहुत दूर तक चला आया है और आगे बढ़ता ही जा रहा है।

    जिज्ञासा और जिजीविषा मनुष्य को आगे बढ़्ते रहने की दो सबसे बड़ी प्रेरक शक्तियाँ है। आपका आलेख बहुत अच्छा है। हमें विश्वास है कि यह उत्साह बना ही रहेगा।

    ReplyDelete
  11. जीवन की शेष उर्जा के आंकलन हेतु ये प्रश्न अति आवश्यक हैं.उत्तम आलेख में आपका गहन चिंतन हमेशा की तरह और आपकी ही तरह मुस्कुरा रहा है.

    ReplyDelete
  12. मुझे स्वयम से यह पूछने का समय कभी नहीं मिला। अपन तो - जो मिल गया उसी को मुक़द्दर समझ लिया ...

    ReplyDelete
  13. इन्हीं दो प्रश्नों के साथ जीवन कार्यशील है| सुन्दर सार्थक दार्शनिक चिंतन|

    ReplyDelete
  14. गहन चिंतन के बाद लिखा प्रभावी आलेख ...
    सकारात्मक सोच की दिशा बता रहा है ...!!

    ReplyDelete
  15. उत्साह भी बड़ा अनूठा व्यक्तित्व है, जब तक इच्छित वस्तु नहीं है तब तक ऊर्जा के उत्कर्ष पर नाचता है पर जैसे ही वह वस्तु मिल जाती है, साँप जैसा किसी बिल में विलीन हो जाता है।

    गहराई लिए हुए है आपका व्यक्तित्व |

    चिंतनीय प्रश्न |
    लक्ष्य प्राप्ति के बाद जश्न --
    चलेगा ||
    पर अधिकाँश पहले ही मना लेते हैं जश्न--
    यह निश्चित खलेगा |
    जीवन-पर्यंत ||

    ReplyDelete
  16. बेशक उम्र के आखिरी पडाव पर हूँ लेकिन सूर्य को अभी भी मुट्ठी मे रखती हूँ ताकि जीने की ऊर्जा बनी रहे। सार्थक चिन्तन। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  17. सोचकर बताते हैं।

    ReplyDelete
  18. आपकी एक भी पोस्ट नज़र से छूटती नहीं लेकिन हल्की फुल्की टिप्पणी से लेख का वज़न कम न हो जाए इसलिए यूँ ही निकल जाते हैं..
    थकना क्यों..थक गए तो रुक गए..और रुकना तो मौत के बराबर हुआ..बस चलते ही जाना ज़िन्दगी है..जीवन भर दो नही अनगिनत प्रश्न दिमाग में कौंधते हैं..कुछ सुलझ जाते है...कुछ उलझे रहते है...यूँ ही जीवन चलता रहता है...

    ReplyDelete
  19. सार्थक आलेख।
    खुद से भी प्रश्न पूछते ही रहना चाहिए।

    ReplyDelete
  20. "उत्साह भी बड़ा अनूठा व्यक्तित्व है, जब तक इच्छित वस्तु नहीं है तब तक ऊर्जा के उत्कर्ष पर नाचता है पर जैसे ही वह वस्तु मिल जाती है, साँप जैसा किसी बिल में विलीन हो जाता है"

    वाह...विलक्षण पोस्ट...उत्साहीन व्यक्ति और मुर्दे में कोई विशेष अंतर नहीं है...उत्साहहीन व्यक्ति सिर्फ चलता है जबकि मुर्दा नहीं...बस.

    नीरज

    ReplyDelete
  21. actually prashaant ji, bhaagy ka apna chakr hota hai . jo ham banna chahte hai , wo aksar ban nahi paate.. lekin tab aur ab ke samay me bahut fark hai ,. aaj ka yuva jyada bada canvas liye hue hai chahto ka !!. choices jyada hai , isliye tni naumeedi nahi hoti hai aaj ke baccho ko .. lekin agar ham apne aapko dekhe to 40 saal ke baad ye prashn thoda sa nirarthak sa lagta hai . aisa main sochta hoon..
    lekin at the same time , jo main ban nahi saka, uski kuch kami ,ko main abhi poori kar leta hoon .
    is lekh ke liye bahut dhanywaad.
    vijay

    ReplyDelete
  22. बिल्‍कुल सही कहा है आपने इस आलेख में ।

    ReplyDelete
  23. जब तक प्रश्न रहेंगे सही उत्तरों की खोज चलती रहेगी - जीवन की गतिशीलता को भी दिशा मिलती रहेगी !

    ReplyDelete
  24. प्रश्नों के साथ उत्साह बना रहता है उत्तर मिलने पर आनंद यानि उपभोग की प्रक्रिया प्रारंभ हो जाती है

    ReplyDelete
  25. sach kaha ... inhin do prashnon mein sab hai

    ReplyDelete
  26. भविष्य में क्या बनना है...अपने आप में बहुत सब्जेक्टिव है

    ReplyDelete
  27. इन दो प्रश्‍नों से आजकल जूझ रहा हूं। पर यह भी सच है कि पल पल बदलती दुनिया में हर प्रश्‍न का उत्‍तर क्षण भर के लिए ही स्‍थायी होता है।

    ReplyDelete
  28. इन दो प्रश्‍नों से आजकल जूझ रहा हूं। पर यह भी सच है कि पल पल बदलती दुनिया में हर प्रश्‍न का उत्‍तर क्षण भर के लिए ही स्‍थायी होता है।

    ReplyDelete
  29. बिल्‍कुल सही कहा है आपने यहां ...हमेशा की तरह बेहतरीन आलेख ।

    ReplyDelete
  30. बहुत सुंदर.. जीवन में अक्सर कई प्रश्न उठते रहते हैं। लेकिन इन दो प्रश्नों का अगर उत्तर मिल जाए तो मुझे लगता है कि तीसरे प्रश्न की जरूरत ही नहीं होगी। सच बहुत ही दार्शनिक सोच के साथ लिखा गया है ये लेख.. आभार।
    निर्मला कपिला जी की टिप्पणी वाकई युवाओं के लिए प्रेरणा देने वाली है।
    बेशक उम्र के आखिरी पडाव पर हूँ लेकिन सूर्य को अभी भी मुट्ठी मे रखती हूँ ताकि जीने की ऊर्जा बनी रहे।

    ReplyDelete
  31. समयानुसार अनुभव और परिस्थितिया हमारे इन विचारो के परिशोधन का कार्य करती है..
    यह बात बाल्यावस्था से शुरू हो जाती है जब बच्चा शक्तिमान ही मेन ..फिर फिल्म कलाकार पोलिस वाला..फिर डाक्टर इंजिनियर प्रसाशक इत्यादि इत्यादि
    क्यों?? का जबाब भी मानव और मष्तिष्क के विकासक्रम के साथ बदलता रहता है

    ReplyDelete
  32. बहुत स्वाभाविक से प्रश्न हैं पर बहुत महत्वपूर्ण....जिंदगी के लिए अनमोल...

    ReplyDelete
  33. अरे! हमने तो कभी सोचा ही नहीं कि जीवन में क्या बनना है, बस वही बनते गए जो जीवन बनाता गया.... और अब तो बहुत देर हो चुकी है सोचने के लिए :)

    ReplyDelete
  34. मुझे युवाओं से बात करना अच्छा लगता है। लेकिन मैं उन्हें बात करने और सवाल पूछने का मौका देता हूं। उनका उत्साह, जोश, जिज्ञासा मुझमें नया जीवन भरती है।

    ReplyDelete
  35. हम तो युवाओं के साथ रहते हैं। शायद युवा बने रहने का इस से आसान तरीका कोई नहीं।

    ReplyDelete
  36. हम तो युवाओं के साथ रहते हैं। शायद युवा बने रहने का इस से आसान तरीका कोई नहीं।

    ReplyDelete
  37. बहुत सुन्दर ।
    आपकी पुरानी नयी यादें यहाँ भी हैं .......कल ज़रा गौर फरमाइए
    नयी-पुरानी हलचल
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.com/

    ReplyDelete
  38. हमने कभी सोचा ही नहीं कि हमें क्या बनना है, बस जहाँ आशा की किरण दिखती गई बड़ते गये, जो सोचा था वह बनने नहीं दिया गया, खैर अब न चाहकर भी संतुष्ट होना ही पड़ता है। खैर हम तो शायद ही कभी इन प्रश्नों के उत्तर दे पायें ।

    ReplyDelete
  39. पढने के बाद सच्मुच मुखमुद्रा बिल्कुल रोदें के उस थिंकर सी हो गयी!!

    ReplyDelete
  40. प्रशन ही हैं जो सोचने क् लिए प्रेरित करते हैं और दिशा देते हैं ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  41. इन दो प्रश्नों का सही जवाब मिल जाये तो जीवन की राह आसान हो जाती है .
    प्रभावी लेख .

    ReplyDelete
  42. जीवन में आत्म मंथन तो होना ही चाहिए.सहज बने रहना ही सबसे कठिन है.

    ReplyDelete
  43. लेकिन अब आपका दूसरों को तौलने का और उनके मूल्यांकन का सीक्रेट सबको पता चल गया.

    अच्छा दार्शनिक चिंतन.

    ReplyDelete
  44. अधिकतर लोगों की सोच scalar ही होती है , कठिन होता है, प्रारम्भ से ही सोच को vector बना पाना ।

    ReplyDelete
  45. बड़े ही महत्त्वपूर्ण प्रश्न हैं ये...इसका उत्तर इतना आसान भी नहीं है....पर यह ज़रूरी है की हम इनका उत्तर पता करें तभी जीवन सार्थक हो सकता है.

    ReplyDelete
  46. अभी तक तो मुझे प्रश्न ही पता नहीं थे...अब पूछती हूँ...दोनों...

    ReplyDelete
  47. ----यह एक यक्ष प्रश्न है....उम्र के साथ बदलता रहता है...और हर उम्र में हम वह क्यों न बने, एक नया प्रश्न मन को मथता रहता है ..क्योंकि सीखना व ज्ञान एक सतत प्रक्रिया है ..अतः ...

    ...मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया....

    ReplyDelete
  48. आपके प्रश्न पूछने की आदत तो मैं समझ सकता हूँ, मेरे से भी आपने कई प्रश्न पूछे..वैसे ये बात भी सही है की वो प्रश्नें ज्यादातर काम के बारे में थी लेकिन फिर भी मुझे उनका जवाब देना अच्छा लगा...

    और वैसे कमाल का लेख है ये...:

    ReplyDelete
  49. अभी तक की जीवन यात्रा में जो विकल्प सामने आते गये उसी में चुनाव कर चलते चले गये और अंततः जो मिल गया उसी को मुकद्दर समझ लिया.

    ReplyDelete
  50. इन दोनों प्रश्नों का जवाब आज तक हम नहीं दे पाए ... जवाब की पूर्णतया से पहले कुछ और मन में आ जाता है ..

    ReplyDelete
  51. सर आप ने ठीक ही प्रश्न किया है ! ऐसे ही प्रश्न मेरे मन में भी उठे और पूर्ण विराम भी लगा दिया क्योकि आगे का मार्ग और इसके चारो तरफ ...बहुत ही अनुशासनहीन दिखा !

    ReplyDelete
  52. bahut khoob..inhi pashno me ulajh kar rah gai hai jindagi

    ReplyDelete
  53. aapke jiwan ki gunwatta ka raaj to aaj pata chal gaya...aur ab se ham bhi talassh karte hain :)

    sunder, vicharneey post.

    ReplyDelete
  54. कौन सा यह समय है जब यह विचार अपने चरम पर होता है? कहना कठिन है पर उत्साह से यह पल्लवित होता रहता है। उत्साह भी बड़ा अनूठा व्यक्तित्व है, जब तक इच्छित वस्तु नहीं है तब तक ऊर्जा के उत्कर्ष पर नाचता है पर जैसे ही वह वस्तु मिल जाती है, साँप जैसा किसी बिल में विलीन हो जाता है। उत्साह का स्तर बनाये रखने के लिये ध्येय ऐसा चुनना पड़ेगा जो यदि जीवनपर्यन्त नहीं तो कम से कम कुछ दशक तो ''bahut sarthak post hai aapki ve do prashn main bhi swayam se avashay poochhongi.mere blog kaushal par aane ke liye bahut bahut dhanyawad.

    ReplyDelete
  55. सार्थक चिंतन !

    ReplyDelete
  56. वास्तव में इन दो प्रश्नों का उत्तर ही जीवन की दिशा निर्धारित करता है..बहुत सारगर्भित आलेख..

    ReplyDelete
  57. पूरा जीवन ही इस क्या और क्यों की तलाश में बीत जाता है ......

    ReplyDelete
  58. प्रश्न पूछने के साथ उस पर मनन और उत्तर की तलाश की जाए तभी इन प्रश्नों की सार्थकता है.

    ReplyDelete
  59. aapke lekhon me smahit darshan ka put hamesha aakarshit karta hai...sundar aalekh har bar ki tarah...

    ReplyDelete
  60. उत्साह ही तो हो जीवन में फिर थकान कैसी । अब क्या बनना चाहते हैं का सिर्फ एक ही उत्तर है अच्छा इन्सान और कोशिश जारी रहेगी मरते दम तक ।

    ReplyDelete
  61. इन दो प्रश्नों के उत्तरों से फिर प्रश्नों का जन्म लेना ....बहुत सुंदर चिंतन.....
    ये दो प्रश्न जीवन की सारी उहापोह के जन्मदाता हैं....

    ReplyDelete
  62. इन दो प्रश्नों में ही तो सारा जग सिमटा है......जग की सारी माया सिमटी है. सार्थक चिंतन !

    ReplyDelete
  63. बस इन्ही दो प्रश्नों में जीवन का असली सार छिपा है सार्थक चिंतन ,सुन्दर आलेख!...धन्यवाद.. ...
    प्रवीण जी आप शायद पहली बार मेरे ब्लांग में आए अच्छा लगा । आप की उत्साहित करने वाली टिप्पणियॊं की मुझे हमेशा आवश्यकता होगी. .आभार..

    ReplyDelete
  64. प्रवीण भाई एक बार फिर पते की बात चिपका गये ब्लॉग पर| सही है, उत्तरों से डरेंगे तो आगे कैसे बढ़ेंगे|

    ReplyDelete
  65. अब तक तो मुकम्मल जवाब मिला नहीं!:(

    ReplyDelete
  66. यही दो प्रश्न किसी युवा को सबसे ज्यादा परेशान करते हैं। कई साल लग जाते हैं इनका उत्तर ढूँढने में।

    ReplyDelete
  67. aap ne bhut hi acha likha hi

    ReplyDelete