1.6.11

कुछ और बढ़ें - हिन्दी और मोबाइल

यह बात तो निश्चित है कि जब तक मोबाइल में हिन्दी पूरी तरह से संस्थापित नहीं हो जाती है, तब तक हम भी गूगल में अपनी खोज धौंकते रहेंगे। हर बार थोड़ा समय मिलते ही शोध प्रक्रिया प्रारम्भ हो जाती है, कुछ नहीं तो उस पर चल रहे संवादों और सम्बन्धित प्रकल्पों की अद्यतन स्थिति ही ज्ञात हो जाती है। पिछले दस दिनों में दो अप्रत्याशित सफलताओं ने खोज-विधियों में और भी सृजनात्मकता ला दी है। मन प्रसन्न तो है पर पूरी तरह से संतुष्ट नहीं। यदि किसी ऐसे पद में होता कि मोबाइल कम्पनियों को धमका कर हिन्दी कीबोर्ड निचोड़ सकता तो धैर्य व प्रतीक्षा को अपनी सतत खोज का आधार न बनाता, पर जब सम्प्रति में भाग्य भी हिन्दी की तरह ही अपुष्ट हो तो व्यग्रता मन के भीतर सम्हाल कर रखनी पड़ेगी।

आपकी भी व्यग्रता भी न बढ़ जाये अतः इन दो सफलताओं के बारे में बता देता हूँ। पहली तो आईफोन, आईपॉड व आईपैड में हिन्दीराइटर के नाम से विकसित ट्रांसलिटरेशन आधारित कीबोर्ड की व्यवस्था और दूसरी ब्लैकबेरी पर पूर्ण हिन्दी कीबोर्ड की उपस्थिति।

एप्पल वैसे तो 37 भाषाओं में कीबोर्ड देने का दम्भ भरते हैं पर उसमें हिन्दी व अन्य भारतीय भाषाओं का कोई स्थान नहीं है। सीडैक ने वर्तमान अँग्रेज़ी कीबोर्ड पर आधारित हिन्दी टाइपिंग तन्त्र विकसित किया है। जो लोग बरह में टाइपिंग के अभ्यस्त हैं उन्हें कोई समस्या नहीं आयेगी। अपने घर में आईपॉड पर, मित्र के आईफोन पर और एप्पल स्टोर में आईपैड2 पर टाइप करके देखा, गति तो नहीं पर संतुष्टि मिल गयी। इस कीबोर्ड से लिखा हुआ कट और पेस्ट के माध्यम से ही दूसरे प्रोग्रामों में स्थानान्तरित हो सकता है।

ब्लैकबेरी फोन मोबाइल क्षेत्र में एक सम्मानित स्थान रखता है। व्यस्त नवयुवा और अभ्यस्त व्यवसायी इसका उपयोग अपनी सारी संचार आवश्यकताओं का निराकरण एक जगह पर हो जाने के कारण करते हैं। आपके ईमेल ब्लैकबेरी सर्वर के माध्यम से एसएमएस की तरह ही आपके ब्लैकबेरी में अवतरित होते हैं। कई कम्पनियों के सारे ईमेल इस माध्यम से सुरक्षित आदान प्रदान किये जाते हैं। ब्लैकबेरी की अपनी भी एक संदेश सेवा है जो किसी भी देश में आपको अन्य ब्लैकबेरी धारकों से सम्पर्क में रखती है और वह भी निशुल्क और संभवतः यही कारण उसे व्यस्त जनों के बीच एक आवश्यक व उपयोगी उपकरण बना देता है।

जो विशेषता इसे इतना लोकप्रिय बनाती है उसी ने इसका सर्वाधिक शक्तिशाली और प्रभावी धारक खो दिया। माननीय ओबामा के राष्ट्रपति बनने के पहले तक उनके हाथ में सज्जित रहा ब्लैकबेरी फोन सुरक्षा कारणों से उन्हें उपयोग में नहीं लाने दिया गया।

व्यस्त नवयुवा, अभ्यस्त व्यवसायी और ओबामीय विवशता से समान रूप से दूर होने पर भी ब्लैकबेरी का आकर्षण सदा ही मेरे लिये बना रहा। परिचालन विभाग में आने के बाद एक ऐसे उपकरण की आवश्यकता लगने लगी जिस पर सारे त्वरित-तथ्य किसी शब्द सीमा या नेटीय सीमा के बँधे बिना ही आ जा सके। एक ब्लैकबेरी और उसकी सेवायें ले लीं।

मन में तनिक भी आशा नहीं की थी कि ब्लैकबेरी मोबाइल में हिन्दी पढ़ सकूँगा, लिखना तो बहुत दूर की बात थी। ईमेलों में आने वाले हिन्दी अक्षर डब्बाकार आते थे।

भगवान भी संभवतः धैर्य ही परखता है, ब्लैकबेरी का नया ओएस 6 आया, उसमें भारतीय भाषाओं के लिये समर्थन था। अब टिप्पणियाँ पढ़ने व उन्हें वहीं से ही प्रकाशित करने का कार्य भी होने लगा। इस पूरे समय मैं अपने साथ नोकिया का सी-3 मोबाइल लेकर चलता रहा और उसमें लेखन भी करता रहा। यह जीवनशैली पाँच दिन ही चली होगी कि ब्लैकबेरी में एक और लघु अपडेट आ गयी, अब हमें हिन्दी टंकण का अधिकार मिल गया है। कीबोर्ड इन्स्क्रिप्ट से थोड़ा अलग है पर लेखन का कार्य फिर भी बहुत अच्छे से निपटाया जा सकता है।

मन प्रसन्न है कि हिन्दी में प्रगति हो रही है, इस पोस्ट का बड़ा हिस्सा इसी मोबाइल से लिखा है। धीरे धीरे ही सही पर यह स्पष्ट हो रहा है, मोबाइल निर्माताओं को, कि बिना भारतीय भाषाओं के समर्थन के कोई भी मोबाइल सारे भारत को नहीं लुभा पायेगा। हम पुनः खोज में लगते हैं, मोहि कहाँ विश्राम?

60 comments:

  1. आपने उपयोगी जानकारी दी है. ब्लैकवेरी खरीदना पड़ेगा.

    ReplyDelete
  2. चलो जी, कभी मौका मिला तो जरुर देखेंगे,

    ReplyDelete
  3. अभी तो इन पर काम करना मुश्किल लगता है, लेकिन आशा है कि जल्‍द यूजर फ्रेंडली चीजें आ जाएंगी और खबर आप से मिल ही जाएगी.

    ReplyDelete
  4. आज ही ओएस ६ कर लेते हैं अपने ब्लैक बेरी को...बहुत आभार आपका.

    ReplyDelete
  5. मन प्रसन्न है कि हिन्दी में प्रगति हो रही है, इस पोस्ट का बड़ा हिस्सा इसी मोबाइल से लिखा है। धीरे धीरे ही सही पर यह स्पष्ट हो रहा है, मोबाइल निर्माताओं को, कि बिना भारतीय भाषाओं के समर्थन के कोई भी मोबाइल सारे भारत को नहीं लुभा पायेगा। हम पुनः खोज में लगते हैं, मोहि कहाँ विश्राम?
    sarthak post .abhar .

    ReplyDelete
  6. प्रवीण जी! ऐसे ही अपनी खोज धौंकते रहें और नई जानकारी देते रहें।
    कीबोर्ड के मानकीकरण का काम भारत सरकार को करना चाहिए और वह भी पूरी दृढ़ता से। परंतु आपने स्वयं ही लिख दिया है कि जब हिंदी के बारे में ही अनिश्चितता है तो क्या किया जाए? फिर भी लगे रहें।

    ReplyDelete
  7. पिछले कई दिनों से पछता रहा हूँ कि मैंने ब्लैकबेरी के बजाय सोनी एरिक्सन का एस्पेन मॉडल क्यों ले लिया। ब्लैकबेरी के मोटे थुले-थुले आकार की वजह से उसे छोड़ देना अब खराब लग रहा है। आपने जो लाभ गिनाये हैं उसे जानकर तो लगता है मुझे फिर कुछ खर्च करना पड़ेगा।

    ReplyDelete
  8. नोकिया और ब्लैकबेरी पर थिरकती उँगलियों की बधाई ...

    ReplyDelete
  9. ये जोकर अभी कल तक यही माने बैठे थे कि भारत एक बहुत बड़ी 'ग़रीब' (और उनसे कहीं कमअक़्ल) जनसंख्या वाला देश है :) जबकि दूसरी तरफ छटांक भर के लोगों वाले देशों में अपने हैंडसैट पगलैटों की तरह लांच करते डोल रहे थे ये पट्ठे.

    ..और तो और आई-फ़ोन का नख़रा नहीं देखा (!) दुनिया भर में तो नया वर्ज़न लांच कर रहा था ये और भारत में एक साल की देरी से पुराना वर्ज़न बेचने की फ़िराक़ में बैठा था... अगर मैं हैदराबाद का निज़ाम होता तो आई-फ़ोन का वही हाल करता जो उसने राल्स रायस का किया था :)

    अब समझ आने लगी है इन्हें लेकिन धीरे-धीरे.

    ReplyDelete
  10. मोबाइलों का मार्केट सेचुरेट हो रहा है तो बिक्री बढ़ाने के लिए नए नए बाजार ये ढूंढेंगे ही, और इस लिहाज से नई सुविधाएँ देंगे ही. चलिए इस हिसाब से अब चहुँओर हिंदी दिखेगी और चलेगी. :)

    ReplyDelete
  11. हिंदी कीबोर्ड और मोबाईल सेवा , बहुत कुछ सिखने औरे जानने को मिला सही कहा आपने, हिंदी काज करे बिना , तुम्हे कहा विश्राम .

    ReplyDelete
  12. अच्छी जानकारी देती पोस्ट..... दोनों ही समाचार स्वागतयोग्य हैं...... हमारे लिए भी और हमारी हिंदी के लिए भी ........

    ReplyDelete
  13. आपके धैर्य, आपकी लगन और किस्मत ने आखिर रंग दिखाया है.हिंदी की स्वीकार्यता को बड़ी कंपनियां भी मानने लगी हैं.
    मैं जब फोन लेने की टोह में था तो ब्लैकबेरी भी बहुत आकर्षित करता था,पर इतने महंगे फोन में भी हिंदी पढ़ न पाना पीड़ादायक था.अब भाई लोगों ने बाज़ार की नब्ज़ पकड़कर हिंदी का दामन थामा है तो हमारे लिए खुशी की बात है.
    एप्पल के आई-फोन का सबसे ज़्यादा क्रेज है,पर वहाँ भी हिंदी का अभाव खटकता था.आपकी सूचनानुसार ,जैसा कि चित्र में दिख रहा है ,हिंदी को अन्य किसी फोन के अलावा इस फोन में आसानी से लिखा जा सकता है.हमें तो यही ज़्यादा सुगम लगता है !अब हमारा अगला निशाना यही फोन होगा.
    इस बीच यह खबर आई है कि सैमसंग के गैलेक्सी एस में 'जिंजर-ब्रेड' अपडेट भारत में भी शुरू हो चुका है.इसको अपडेट कराके देखते हैं !

    फिलहाल ,आपकी खुशी में हम भी शरीक हैं !

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छी जानकारी...सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  15. simple superb...aap jankari ka khajana ho.......

    ReplyDelete
  16. वाह प्रवीण जी, यह तो बहुत ही बढ़िया जानकारी दी आपने... मेरे पास नोकिया का E-5 मोबाइल है, इसमें हिंदी पढना लिखना बहुत मुश्किल है... पढने का जुगाड़ तो ई-पंडित की साईट से पता चला गया, जो थोडा सुस्त ज़रूर है, परन्तु काम चल जाता है. परन्तु लिखने का जुगाड़ अभी तक पता नहीं चल पाया है... अगर आपको कुछ पता हो तो अवश्य ही बताइए...



    प्रेम रस

    ReplyDelete
  17. हिन्‍दी मैया तुमतो प्रतिष्ठित होती जा रही हो, हिन्‍दी वालों की तो बल्‍ले बल्‍ले। बढिया जानकारी।

    ReplyDelete
  18. बहुत ही अच्‍छी जानकारी ... ।

    ReplyDelete
  19. आपके अन्वेषणात्मक मस्तिष्क और धैर्य को नमन...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  20. ब्‍लैकबैरी नहीं...अपन तो नोकिया सी3 खरीदने निकल रहे हैं...हिंदी चिट्ठाकारी जो काफी समय से रुकी सी पड़ी थी उसे शायद इससे कुछ गति मिले

    ReplyDelete
  21. व्यग्रता बढ़ाये रखे तभी हिंदी की तकनीकी जानकारी मिलती रहेगी

    ReplyDelete
  22. हिन्दी उपयोगकर्ताओं को आकर्षित करने के लिए आईफोन, आईपॉड, आईपैड एवं ब्लैकबेरी का प्रशंसनीय प्रयास|

    ReplyDelete
  23. उपयोगी जानकारी के लिए आभार।

    ReplyDelete
  24. आपके हिंदी प्रेम ने दिल जीत लिया!
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  25. बढिया जानकारी
    आज ही Appple I Store गया था।
    Ipad2 खरीदने का विचार है।
    सभी Ipad बिक चुकी हैं।
    अभी Fresh Stock आने में दो हफ़्ते लगेंगे।

    Istore पर मित्रों के हिन्दी ब्लॉग पढ रहा था।
    पर यह भी सोच रहा था कि हिन्दी में टिप्पणी कैसे करूँगा।
    अब कोई समस्या नहीं होगी
    क्या यह हिन्दी राइटर App, मुफ़्त में download कर सकते हैं?
    यदी नहीं तो कितना खर्ज करना पडेगा?
    शुभकममनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  26. एप्पल मैक ओएस के फीचर धीरे धीरे आई ओएस में दल रहा है, आई पैड और आई फ़ोन में भारतीय भाषाओ के की बोर्ड जल्दी ही आयेंगे !

    आई पैड से टिप्पणी !

    ReplyDelete
  27. जिन खोजा तिन पाईया गहरे पानी पेंठ...बहुत सुंदर जानकारी, लेकिन मोबाईल पर लिखने मे तो बहुत समय लगता हे...

    ReplyDelete
  28. अच्छी जानकारी !

    ReplyDelete
  29. एंड्रोएड में हिन्दी कब आएगा? कोई खबर लगे तो बताइयेगा.. मेरा फोन उसके बिना डब्बा ही रहेगा जो डब्बा दिखता है :)

    ReplyDelete
  30. आपके ब्लॉग पर आकर टेक्निकली अशिक्षित महसूस करने लगता हूँ :)
    ब्लैकबेरी का ओस ६ तो है मेरे पास लेकिन चौकोर डब्बे ही दिखते हैं. कहीं कुछ एनेबल करना पड़े शायद.

    ReplyDelete
  31. व्यग्रता बढ़ाये रखे तभी हिंदी की तकनीकी जानकारी मिलती रहेगी| बहुत आभार आपका|

    ReplyDelete
  32. अरे वाह क्या जानकारी दी है ..कुछ दिनों से नया मोबाइल लेने का सोच रही थी पर समस्या वही हिंदी की थी.आपने तो समस्या ही हल कर दी.
    बहुत बहुत शुक्रिया.

    ReplyDelete
  33. thanks for nice infirmation sir.

    ReplyDelete
  34. बहुत महंगा होगा ? मौका लगा तो मैं भी खरीदूंगी। आभार इस जानकारी के लिए।

    ReplyDelete
  35. पुराने ब्लैकवेरी में कुछ जुगाड़ कर सकता हूँ क्या??जरा बताएं

    ReplyDelete
  36. हम तो अभी तक मोबाइल नेट के चक्कर में पड़े ही नहीं है जब मोबाइल पर हिंदी इस्तेमाल करनी होगी आपका शोध बहुत काम आएगा

    ReplyDelete
  37. हम तो नये पैडफोन के लिये प्रतीक्षा करेंगे...

    ReplyDelete
  38. उपयोगी जानकारी :)

    ReplyDelete
  39. हिंदी अपना स्थान बना रही है क्योंकि हिंदी का अपना बाज़ार है... अपनी शक्ति है... जो कह रहे हैं कि हिंदी मर रही है.. जो विलाप में हैं उन्हें ये पोस्ट पढनी चाहिए...

    ReplyDelete
  40. बड़ी प्रसन्नता की बात है कि ब्लैकबेरी में अन्ततः हिन्दी कीबोर्ड आ गया है। वैसे यह सिर्फ टचस्क्रीन फोनों के लिये होगा, क्वर्टी कीबोर्ड वाले फोनों हेतु अभी और इऩ्तजार बाकी है।

    आइफोन हेतु "हिन्दी ईमेल कीबोर्ड" नामक एक ऍप्लिकेशन है जो लगभग इन्स्क्रिप्ट लेआउट पर है। इससे आप सीधे हिन्दी में ईमेल भेज ही सकते हैं, साथ ही टैक्स्ट कॉपी कर फोन में अन्यत्र भी प्रयोग कर सकते हैं।

    http://itunes.apple.com/us/app/hindi-email-keyboard-color/id307561652?mt=8

    ReplyDelete
  41. बहुत अच्छी जानकारी ...आभार

    ReplyDelete
  42. प्रवीण भाई हमें भी उस दिन की प्रतीक्षा है जब मोबाइल से ही आसानी से हिन्दी मेन टाइप वायप कर लिया करेंगे - बिना झंझट

    ReplyDelete
  43. लाजवाब......बहुत सुन्दर प्रयास...

    ReplyDelete
  44. अच्‍छी और उपयोगी जानकारी ...

    ReplyDelete
  45. अच्छी जानकारी है.. सुंदर

    ReplyDelete
  46. बहुत अच्छी जानकारी दी है

    ReplyDelete
  47. उठठेगी इनकी नज़र धीरे-धीरे..

    ReplyDelete
  48. उपयोगी जानकारी...

    ReplyDelete
  49. जिन खोजा तिन पाइयां ,गहरे पानी पैठ.आप पर खूब चरितार्थ होता है.

    ReplyDelete
  50. http://shayaridays.blogspot.com

    ReplyDelete
  51. ब्लैकबेरी में टाइप कैसे करते हैं...क्या कीबोर्ड से?
    हिंदी फॉण्ट या फिर हिंदी फोन पर पढ़ने के लिए मैं भी काफी कुछ गूगल करती रहती हूँ.
    आपका लेख पढ़ कर अच्छा लगा...बहुत मेहनत से इतना कुछ इकठ्ठा किया है आपने.

    ReplyDelete
  52. उपयोगी जानकारी शेयर करने का शुक्रिया !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - अज्ञान

    ReplyDelete
  53. अभी तो हमें मोबाइल की ही पूरी जानकारी नहीं तो अन्य बातें तो भैंस के आगे बीन है :(

    ReplyDelete
  54. बहुत उपयोगी आलेख प्रस्तुत किया है आपने!

    ReplyDelete
  55. बढ़िया जानकारी !
    आप बहुते प्रवीण हैं ....जय जय !

    ReplyDelete
  56. मुझे अपने फोन सैमसंग गैलेक्सी एस का जिंजर-ब्रेड खाना बड़ा महंगा पड़ गया.पिछले अपडेट में सैमसंग ने अपनी ओर से हिंदी-समर्थन किया था,अब वो गायब हो गया,फिर से गड्ढे दिखने लगे हैं.जहाँ रोज तकनीक बदल और विकसित हो रही है,ऐसे में कंपनी अपना कितना भला कर पायेगी,क्या बताएँ पर मेरा तो बंटाधार कर दिया !

    ReplyDelete