28.1.17

सबके अपने युद्ध अकेले

सबके अपने युद्ध अकेले,
और स्वयं ही 
लड़ने पड़ते, 
सहने पड़ते, 
कहने पड़ते,
करने पड़ते,
वह सब कुछ भी,
जो न चाहे कभी अन्यथा।

कल कल जल भी जीवट होकर,
ठेल ठेल कर, काट काट कर,
पाषाणों को सतत, निरन्तर,
तटबन्धों को तार तार कर,
अपनी गति में, अपनी मति में,
जूझा भिड़ता,  निर्मम क्षति में,
लय अपनी वह पा लेता है, मार्ग हुये जब रूद्ध अकेले,
सबके अपने युद्ध अकेले।

प्रस्तुत सब सुविधायें सम्मुख, 
प्राप्य परिधिगत, आकंठित सुख,
फिर भी लगता छूटा छूटा,
नहीं व्यवस्थित, टूटा टूटा,
प्रश्नों के निर्बाध सृजन में
भीतर बाहर बीहड़ वन में,
उत्तर के उत्कर्ष ढूँढते, फिरते रहते बुद्ध अकेले।
सबके अपने युद्ध अकेले।

क्या जाने, क्या चुभ जाये मन,
किन अंगों से फूटे क्रंदन,
चित्त धरा क्या, मन की ठानी,
रिस रिस बहती कौन कहानी,
सामर्थ्यों को लाँघे जाता,
लघुता को अभिमान दिलाता,
बीस बरस तक पत्थर तोड़े, दशरथ माँझी क्रुद्ध अकेले।
सबके अपने युद्ध अकेले।

कहने को तो जगत वृहद है,
परिचित पंथी, साथ सुखद है,
दिन ढलता जब, रात अवतरित,
भाषा निर्बल, शब्द संकुचित,
मन के संग रहना पड़ता है,
अपने को सहना पड़ता है,
काम क्रोध ईर्ष्या मद नद में , होना सबको शुद्ध अकेले।
सबके अपने युद्ध अकेले।

41 comments:

  1. वाह , बेहद खूबसूरत रचना , बधाई आपको !!

    ReplyDelete
  2. जीवन का सार। जीवन का सन्देश।अतिसुन्दर।

    ReplyDelete
  3. Badhai ho..long live yr creativity !!

    ReplyDelete
  4. सुंदर कविता । बधाई ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रेरक कविता ।।।।।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रेरक कविता ।।।।।

    ReplyDelete
  7. अत्‍यंत गूढ़ भावनाओं और वेदनाओंं से सुसज्जित शब्‍द।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज पुन: आपकी यह कविता पढ़ी। इस मौसम में आपके शब्द अत्यधिक प्रासंगिक व प्राकृतिक लगते हैं। अत्यंत आच्छादित करती शब्द सरिता सी कविता

      Delete
    2. Kavita baar-baar padne ko jee chahta hai. Aap kahan hain? Likhen kuchh blog par.

      Delete
  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (29-01-2017) को "लोग लावारिस हो रहे हैं" (चर्चा अंक-2586) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    ReplyDelete
  9. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "शेर ए पंजाब की १५२ वीं जयंती - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  10. क्या बात है सुन्दर ।

    ReplyDelete
  11. आश्वस्ति चाहे जितनी मिली हो उस महाभारत में लड़ना अर्जुन को स्वयं ही पड़ा था .

    ReplyDelete
  12. Aisi kavita bahut dinon ke baad padhne ko mili..shaandaar...behad shaandaar..

    ReplyDelete
  13. पूरा गीता ज्ञान उँडेल दिया।

    ReplyDelete
  14. कल मैंने अपका लिखा चीन यात्रा के सभी पोस्ट पढे। लगा कि अब चीन को जानने लगा हूँ। अापकी कविताएँ भी अच्छी लगती है मगर गद्य का जयादा इंतजार रहता है।
    यह कविता बहुत ही लयबद्ध अौर मन मेण बस जाने वाली है।

    ReplyDelete
  15. वेदनाओंं से सुसज्जित प्रेरक कविता

    ReplyDelete
  16. Anonymous24/3/17 20:06

    EXPOSE THE CONSPIRACY! GOD AND THE DEVIL ARE BACKWARDS!! DON'T LET GUILT-FEELINGS, FEAR AND OTHER KINDS OF EMOTIONAL MANIPULATION RULE YOUR CHOICES IN LIFE!!

    http://joyofsatan.org/
    http://exposingchristianity.org/
    https://exposingthelieofislam.wordpress.com/
    http://www.666blacksun.net/

    ReplyDelete
  17. Anonymous31/3/17 01:02

    For Your Consideration.

    ReplyDelete
  18. it’s really good , i like it

    ReplyDelete
  19. बहुत उम्दा रचना

    ReplyDelete
  20. Badhiya.. Happy Birthday Praveen ji. FB messenger band hai aapka 4 saalon se :)

    ReplyDelete
  21. Anonymous19/5/17 22:54

    बहुत अच्छा लेखन है आपका. सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर लेखन है आपका. बधाई.

    ReplyDelete
  23. bahut accha likha h

    ReplyDelete
  24. काम क्रोध ईर्ष्या मद नद में , होना सबको शुद्ध अकेले।
    सबके अपने युद्ध अकेले।........ बहुत सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  25. waah bahut khoob behtareen rachna

    ReplyDelete
  26. प्रिय ब्लॉगर,
    हिंदी ब्लॉगर्स को अपना समर्थन देने के लिए गाँव कनेक्शन एक छोटा सा प्रयास करने जा रहा है। उम्मीद है आप इससे जुड़ना चाहेंगे।
    हमारा मानना है कि दुःख, अवसाद और आपसी द्वेष फैलाती ख़बरों के इस युग में किताबों और लेखकों का काम नासमझों को समझ का मरहम लगाने का है और इसके लिए मंच कम नहीं, ज़्यादा होने चाहिए।
    हम रोज़ अपने वेब्सायट में (हर महीने जिस पर अट्ठाईस लाख पेज व्यूज़ आ रहे हैं) एक कॉलम और गाँव कनेक्शन दैनिक अख़बार में रोज़ एक पूरा पन्ना ब्लॉग और सोशल मीडिया को समर्पित करेंगे। इसमें हम आपके ब्लॉग, जिसमें आप किसी सामाजिक व राष्ट्रीय मुद्दे या गांव से जुड़े मुद्दों या कोई नई जानकारी को प्रकाशित करना चाहेंगे। इस तरह हम आप लेखकों का लिखा रोज़ लाखों नए पाठकों तक पहुँचा पाएँगे।
    हम आपके लेख के साथ ब्लॉग का लिंक जोड़ेंगे इससे आपके ब्लॉग के पाठकों में भी इजाफा हो सकेगा।

    हमारी दो सदस्यीय टीम बना दी गयी है। अगर आप हफ़्ते दर हफ़्ते इस प्रयास का हिस्सा बनना चाहें तो:
    अनुशा मिश्रा 8393-000032
    शेफाली श्रीवास्तव 96504 77925
    से फ़ोन पर या featuresdesk@gaonconnection.com पर सम्पर्क कर सकते हैं।
    छपने के लिए अंश ईमेल के माध्यम से भेजें और कोई सुझाव हो तो पूरे अधिकार से बताएँ।
    सादर

    ReplyDelete
  27. बहुत उन्दा पंकितीय है

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर कविता है। जितनी बार पढ़ो उतनी ही अच्छी लगती है।

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर और सटीक...अपना युद्ध स्वयं ही लड़ना होता है ...

    ReplyDelete
  30. क्या बात है ! बहुत दिनों बाद आवाजाही हुई।कहाँ गए वो दिन !

    ReplyDelete
  31. रे मन
    तेरा ही आसरा
    तेरा ही सहारा ,
    तेरी ही जीती जागती सी है ,
    मुझमे हरियाली....

    मन के हारे हार है ,मन के जीते जीत ..!! यथार्थ कहती सुंदर रचना ..!!

    ReplyDelete
  32. Praveen ji bahut dino se koi nai post nhi hai...vyastata adhik hai ya aap likh hi nhi rhe...

    ReplyDelete
  33. Praveen ji bahut dino se koi nai post nhi hai...vyastata adhik hai ya aap likh hi nhi rhe...

    ReplyDelete
  34. बहुत सुंदर, सचमें सभी को अकेले ही अपना युद्ध लड़ना पडता है।

    ReplyDelete
  35. Kash sa ladna sabhi to apne ha

    ReplyDelete
  36. Anonymous18/1/18 08:03

    अति उत्तम -सबके अपने युद्ध अकेले,
    और स्वयं ही
    लड़ने पड़ते,
    सहने पड़ते,
    कहने पड़ते,
    करने पड़ते,
    वह सब कुछ भी,
    जो न चाहे कभी अन्यथा। सच है अकेले ही अपना युद्ध लड़ना पडता है

    ReplyDelete
  37. Sundar kavita adbhut pravah

    ReplyDelete