9.8.14

नैतिकता के स्थापन

कहाँ रह गये अब वह जीवन,
जिनकी हमको मिली धरोहर ।
छिन्न-भिन्न सारी जग रचना,
मचा हुआ क्यों ताण्डव भू पर ।।

जीवन के सारे दृश्यों से,
रोदन स्वर क्यों फूट रहे हैं ।
क्यों नैतिकता के स्थापन,
जगह जगह से टूट रहे हैं ।।

17 comments:

  1. जीवन के सारे दृश्यों से,
    रोदन स्वर क्यों फूट रहे हैं ।
    क्यों नैतिकता के स्थापन,
    जगह जगह से टूट रहे हैं ।।

    विचारणीय..... यह हर संवेदनशील मन सोच रहा है

    ReplyDelete
  2. अाज के सर्वाधिक उपयोगी चिन्तन की काव्य रुप में प्रभावकारी प्रसतुति है।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर पंक्तियाँ जो प्रेरणा देती हैं:-
    नैतिकता के प्रहरी जो हैं
    सदा चुनौती से आहत हैं
    दुष्ट लगे हैं अपकृत्यों में
    मानव दुष्ट-दलन में रत हैं

    ReplyDelete
  4. इसे और विस्तृत करें

    ReplyDelete
  5. अंधेरों में भी--किरण मौजूद होती है---काले बादलों में इंद्रधनुष होता ही है.
    प्रश्न जरूरी भी हैं----प्रश्नों में ही उत्तर निहित भी होते हैं.

    ReplyDelete
  6. आधुनिकता की टीस उभर के आती है पंक्तियों में।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर ...रक्षाबंधन की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. शायद कलियुग अपने चरम की ओर बढ़ रहा है..

    ReplyDelete
  9. स्वार्थ की अंधी दौड में सब भाग रहे हैं
    किसे फिक्र है मूल्यों की, नैतिकता की।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर , मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  11. मानव चरित्र का ह्रासमान होता जा रहा है।

    ReplyDelete
  12. जीवन के सारे दृश्यों से,
    रोदन स्वर क्यों फूट रहे हैं ।
    क्यों नैतिकता के स्थापन,
    जगह जगह से टूट रहे हैं ।।

    एकदम सुन्दर

    ReplyDelete
  13. प्रश्न उठने दीजिए। उत्तर कहीं आसपास ही होता है।

    ReplyDelete