16.8.14

जीवन बहता है, बहने दो

मन कहता हैवह कहने दो,
जीवन बहता हैबहने दो 

आज व्यर्थ की चिन्ताओं से,
पंथ स्वयं का मत रोको 
जीकर देखो तो वर्तमान,
संगीत मधुर हैमत टोको 
रमणीयों में मन रमने दो,
जीवन बहता हैबहने दो ।। १।।

मनस-विकल्पों के दलदल में,
उलझा लेना सहजसरल है 
क्या पाओगे चिन्तन में,
जो जीवन मेंकल थाकल है 
ऐसी भावुकता रहने दो,
जीवन बहता हैबहने दो ।। २।।

घटनायें बहती नियतिबद्ध,
क्यों तोड़ रहे हो इस क्रम को 
हम नहीं नियन्ता जीवन के,
तो व्यर्थ अकारण इस मन को,
क्यों तिक्त व्यथायें सहने दो,
जीवन बहता हैबहने दो ।। ३।।

तर्क-वितर्कों के कुण्डों में,
जीवन कइयों जल जायेंगे 
रहे निरर्थक बुद्धि-यज्ञ,
निष्कर्ष नहीं मिल पायेंगे 
चहुँ ओर सरसता रहने दो,
जीवन बहता हैबहने दो ।। ४।।

16 comments:

  1. बहुत प्रेरक

    ReplyDelete
  2. Great lines..................Super like.

    ReplyDelete
  3. आशा जगाती सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete
  5. अनुपम भावों का संगम ....

    ReplyDelete
  6. जो रुका सड गया जो बहता गया निर्मल हुआ.
    सही आम्कलन

    ReplyDelete
  7. बहता जल-जीवन निर्मल!!!

    ReplyDelete
  8. शानदार प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  9. तर्क-वितर्कों के कुण्डों में,
    जीवन कइयों जल जायेंगे ।
    रहे निरर्थक बुद्धि-यज्ञ,
    निष्कर्ष नहीं मिल पायेंगे ।
    चहुँ ओर सरसता रहने दो,
    जीवन बहता है, बहने दो ।। ४।।

    Indeed fabulous lines..Most of the time we should flow with the existence. A great philosopher has said it rightly that the best way to tackle a problem is to "Go Through It"..Thank you for sharing another good piece of poetry!!

    ReplyDelete
  10. मनस-विकल्पों के दलदल में,
    उलझा लेना सहज, सरल है ।
    क्या पाओगे चिन्तन में,
    जो जीवन में, कल था, कल है ।
    ऐसी भावुकता रहने दो,
    जीवन बहता है, बहने दो ।। २।।

    सुंदर प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete
  11. बहे जाओ.. नई दिशाएँ बनाए जाओ... यथार्थ!

    ReplyDelete
  12. घटनायें बहती नियतिबद्ध,
    क्यों तोड़ रहे हो इस क्रम को ।
    हम नहीं नियन्ता जीवन के,
    तो व्यर्थ अकारण इस मन को,
    क्यों तिक्त व्यथायें सहने दो,
    जीवन बहता है, बहने दो ।। ३।।
    भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  13. बहना ही तो है जीवन। बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  14. वाह! देखा आपने बारिश हो गई. आकाश निरभ्र हो गया. नदी सागर से मिल गई।

    ReplyDelete