14.5.14

समझौते

खाई बड़ी थी मतभेदों की,
भरने की करता अभिलाषा,
कितने ही थे समझौते, 
जो मैने अपने साथ किये ।

और अभी भी जीवन के जीवन ही इसमें बह जायेंगे ,
नहीं किन्तु वह भर पायेंगे, किञ्चित दुख बढ़ा जायेंगे ।

और अभी भी मुक्त विवशता आयेगी मेरे ही द्वारे,
समझौतों का भार लिये और पीड़ाआें का हार लिये ।

रहने दो इन मतभेदों को,
क्यों मतैक्य की लिये लालसा,
जीवन के अनुपम मूल्यों को,
 मैं व्यर्थों में व्यर्थ करूँ ।

किन्तु तुम्हारा श्रेय रहा है,
मेरे इस अवमूल्यन में,
तुमने ही आँखें खोली,
तुम धन्यवाद स्वीकार करो ।

22 comments:

  1. हर रिश्ता बलि मॉगता है ।
    निर्वाक्- बेडियॉ डालता है ॥

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छे

    ReplyDelete
  3. कितने ही समझौते मैंने अपने साथ किये।।।।
    हर घड़ी हर पल
    दिन और रात किये
    समझौतों में ही बित गया जीवन सारा
    फिर रह गया मैं बेचारा का बेचारा

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना. ईश्वर सब को शक्ति दे विवेक पूर्ण जीवन जीने के लिए.

    ReplyDelete
  5. गहरी अभिव्यक्ति.....स्वयं को समझाना-समझना ही श्रेष्ठ है

    ReplyDelete
  6. अवमूल्यन भी आवश्यक है, अन्यथा हम दौड़ में पीछे रह जाते हैं , जीवन शायद इसी का नाम है।

    ReplyDelete
  7. बेहद गहन भाव ..... लिये उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  8. अवमूल्यन भी दर्पण का काम करता है बशर्ते वह स्वच्छ व निष्पक्ष हो ।

    ReplyDelete
  9. बेहद गहन.....

    ReplyDelete
  10. जीवन शायद समझौतों से ही गुजरता है..सुंदर प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete

  11. सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति ...!

    RECENT POST आम बस तुम आम हो

    ReplyDelete
  12. आज की ब्लॉग बुलेटिन लोकतंत्र, सुखदेव, गांधी और हम... मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ...

    सादर आभार !

    ReplyDelete
  13. अहंकार को किसी तरह तो गलना होगा
    प्रभु के मंदिर चढ़ने हेतु जलना होगा

    ReplyDelete
  14. चाहे कह लें उन्हें समझोते या कि स्वीकर-भाव,मनःस्थिति की दशाएं है.
    मन अपनी ही ढालों पर तलवारें खीचता रहता है.
    कभी-कभी ऐसा भी होता है?

    ReplyDelete
  15. दोनो ओर व्यक्तित्व समपन्नता में मतभेद होना स्वाभाविक है.स्वाभाविक प्रवाह बना रहे इसलिए एक सम पर आना समझौता भले हो, अवमूल्यन कैसे ?

    ReplyDelete
  16. समझौते जिंदगी के आधार हैं...रिश्तों की तरह...निभाने ज़रूरी हैं...

    ReplyDelete
  17. जाने क्यों वेद लिखे हमने, हँसते हैं अब,अपने ऊपर !
    भैंसे भी, कहाँ से समझेंगे , यह गोबर ढेर, हमारे भी !

    ReplyDelete
  18. रिश्ते हैं तो जीवन है ... बहुत ही लाजवाब धाराप्रवाह ...

    ReplyDelete
  19. हर जीवन , जीवन जीने का समझौता होता है.

    ReplyDelete