22.2.14

कफ, वात, पित्त

कफ, वात और पित्त, ये तीन तत्व हैं जो शरीर में होते है और कार्यरत रहते हैं। कहने को तो इनको और भी विभाजित किया जा सकता था, पर ये तत्व भौतिक दृष्टि से दिखते भी हैं और गुण की दृष्टि से परिभाषित भी किये जा सकते हैं। शरीर की क्रियाशीलता में हम इनका अनुभव कर सकते हैं। कफ का अनुभव हमें अधिक ठंड में होता है। पित्त नित ही हमारे पाचन में सहयोग करता है। वात हमारे वेगों और तन्त्रिका संकेतों को संचालित करता है। यही कारण रहा होगा कि शरीर को विश्लेषित करने के लिये इनको आयुर्वेद में आधार माना गया है।

जीवन जीना प्रकृति चक्र का अंग होना है। प्रकृति के पाँच तत्वों से मिल कर ही बने हैं, कफ, पित्त और वात। कफ में धरती और जल है, पित्त में अग्नि और जल है, वात में वायु है, इन तत्वों की अनुपस्थिति आकाश है। प्रकृति में जिस प्रकार ये संतुलन में रहते हैं, हमारे शरीर में भी इन्हें संतुलन प्रिय है। जिस अनुपात में यह संतुलन शरीर में रहता है, वह हमारे शरीर की प्रकृति है। कुछ में कफ, कुछ में पित्त, कुछ में वायु या कुछ में इनके भिन्न अनुपात प्रबल होते हैं। यह संतुलित स्थिति हमारा शारीरिक ढाँचा, मानसिक स्थिरता और बौद्धिक व्यवहार निर्धारित करती है। यही संतुलन स्वास्थ्य परिभाषित करता है। प्रकृति से हमारे सतत पारस्परिक संबंधों में ये तीन तत्व घटते बढ़ते रहते हैं। किसी भी एक तत्व का शरीर में अधिक होना ही प्रकृति से हमारे घर्षण का कारण है। यही घर्षण रोग का कारण है। जब तक जीवनशैली या औषधियों से संतुलन की स्थिति में वापस पहुँचकर घर्षण कम किया जा सकता है, रोग साध्य रहता है। जब यह असंतुलन असाध्य हो जाता है, शरीर प्रकृति चक्र से बाहर आ जाता है, प्राण शरीर त्याग देते हैं।

वाग्भट्ट कृत अष्टांगहृदयं के प्रथम अध्याय में ही इन तीन तत्वों के गुण परिभाषित हैं। कौन सा या कौन से तत्व प्रभावी है, यह शरीर की बनावट, मानसिक स्थिति और बौद्धिकता से स्पष्ट हो जाता है। जहाँ वात के प्रभाव वाला मन से सतत चंचल होगा, वहीं कफ के प्रभाव वाला सौम्य और स्थिर होगा। इनके गुणों को समझ लेने से किस वस्तु, मौसम, क्रिया और भाव का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है, उसके सैद्धान्तिक आधार स्पष्ट हो जाते हैं।

कफ के गुण हैं, स्निग्ध(चिकना), शीत, गुरु(भारी), मन्द, श्लक्ष्ण(खारापन के साथ चिकना), मृत्स्न(मिट्टी की तरह गन्ध वाला), स्थिर। ये गुण धरती और जल के सम्मिलित गुण हैं। जहाँ पर भी इनमें से एक या अधिक गुण कारण या प्रभाव में दिखेंगे, उसमें कफ की उपस्थिति मानी जायेगी। शीत है तो वह कफ बढ़ायेगा। यदि कफ अधिक है तो वह भारीपन या मन्द स्वाभाव लायेगा।

पित्त के गुण हैं, सस्नेह(तैलीय), तीक्ष्ण, ऊष्ण, लघु, विस्त्र(मृत शरीर की गन्ध सा), सर(बहने वाला), द्रव। ये गुण अग्नि और जल को परिभाषित करते हैं, कारण से भी या प्रभाव से भी। जिसे पसीना अधिक आता हो, उसमें ऊष्ण गुण है, वह पित्त के प्रभाव में है। ऐसे ही तीक्ष्ण गन्ध वाले पदार्थ पित्त बढ़ाते हैं।

वात के गुण हैं, रुक्ष, लघु, शीत, खर, सूक्ष्म, गतिमयता। ये सारे गुण वायु में भी पाये जाते हैं। यदि वात अधिक होगा त्वचा रुक्ष होगी। यदि मानसिक तनाव अधिक होगा तो विचारों की गतिमयता के कारण वात बढ़ेगा।

यही नहीं, दिन में, ऋतु में, क्रिया में, शरीर में इन तीनों तत्वों की प्रधानता बदलती रहती है। दिन के प्रारम्भ में कफ, मध्य में पित्त और अन्त में वात प्रधान हो जाता है। बचपन में कफ, युवावस्था में पित्त और वृद्धावस्था में वात प्रधान हो जाता है। पाचन के प्रारम्भ में कफ, मध्य में पित्त और अन्त में वात प्रधान हो जाता है। शरीर के ऊपरी भाग में कफ, मध्य में पित्त और नीचे में वात प्रधान हो जाता है। इसी प्रकार ग्रीष्म के चार माह वातप्रधान, वर्षा के चार माह पित्तप्रधान और शीत के चार माह व कफप्रधान होते हैं।

क्रियाओं को देखें तो उनमें भी यही गुण स्पष्ट दिखते है। सोने में इन्द्रियाँ स्थिर होती हैं तो कफ बढ़ता है। व्यायाम से शरीर संकुचित होता है तो लघु गुण के कारण वात और पित्त बढ़ता है। अधिक चिन्तित रहने से वात बढ़ता है। धूप में निकलने से ऊष्णता के कारण पित्त बढ़ता है। भावों में भी इन गुणों के मूल छिपे हैं। स्पर्श, रूप, रस, रंग, गंध में भी इन तीन गुणों के वर्धन या शमन के गुण छिपे हैं। रॉक संगीत या शास्त्रीय संगीत सुनने में ये तत्व भिन्न रूप से प्रभावित होते हैं।

जहाँ कफ संतुलन लाता है, कल्पनाशीलता लाता है, सृजन लाता है, वहीं इसकी अधिकता क्रोध और आक्रामकता लाती है। जहाँ पित्त शरीर का ताप नियन्त्रण करता है, ऊर्जा देता है, वहीं इसकी अधिकता ज्वर लाती है। जहाँ वात शरीर को गतिमय बनाता है, वेगों और तंत्रिकातन्त्र के संवेगों को संचालित करता है, वहीं दूसरी ओर इसकी अधिकता मानसिक असंतुलन का कारण बनती है।

हर प्रकार के खाद्य को आयुर्वेद में इसी आधार पर विश्लेषित किया गया है। क्या लेने से कौन सा तत्व शरीर में बढ़ता है और कौन सा तत्व शमित होता है, इसका विस्तृत वर्णन किया गया है। भोजन के माध्यम से ही किस तरह से बदलाव लाकर हम अपने मौलिक संतुलन की स्थिति में वापस जा सकते हैं। इसी सिद्धान्त को आगे बढ़ाते हुये, उन्हीं के आधार पर रोगों की चिकित्सा भी की जाती है। औषधियों में वह तीव्रता रहती है कि किसी तत्व की कमी या अधिकता को शीघ्रता से दूर किया जा सके।

इस आधार पर शरीर, काल, भाव और अन्य द्रव्यों की प्रकृति का वर्गीकरण एक वैज्ञानिक आधार है और वाग्भट्ट द्वारा कई दशकों की प्रायोगिक प्रक्रियाओं के बाद सिद्ध और लिपिबद्ध किया गया है। वाग्भट्ट ने ७००० श्लोकों में इसकी न केवल विस्तृत व्याख्या की है वरन औषधियों को बनाने की विधियों को वर्णित भी किया है। यही कारण है कि वाग्भट्ट की कृति के ऊपर १० से भी अधिक टीकायें लिखी जा चुकी और आयुर्वेद के आचार्यों में उसमें लिखे एक एक सूत्र के लिये निर्विवादित सम्मान है। ऐसी अद्भुत कृति को आंशिक रूप से भी पढ़ सकना मेरे मन में भारतीय मनीषियों और आयुर्वेद के लिये अभूतपूर्व कृतज्ञता का भाव संचारित करता है।

अब मुझे समझ में आ रहा है कि देशी विधियों के प्रभाव के पीछे आयुर्वेद सम्मत वाग्भट्ट के सूत्रों का सशक्त वैज्ञानिक आधार है। हमारे पूर्वज जो नियम परम्परा से निभाते आ रहे हैं, उसके पीछे आयुर्वेद का व्यापक प्रसार है। कालान्तर में पराधीनता के पाशों में हमें नियम तो याद रहे पर उनका वैज्ञानिक आधार लुप्त हो गया। आवश्यकता है उसे पूर्णविश्वास से अपनाने की।

आगे की कड़ियों में इसको विस्तारित करते व्यावहारिक उपाय।

32 comments:

  1. स्वस्थ जीवन-शैली प्राप्ति हेतु अनमोल सूत्र ।

    ReplyDelete
  2. आयुर्वेद एक जीवन शैली है -लोगों का वर्गीकरण कफज वातज और पित्तज या इनके विभिन्न संयोगों पर आधारित है और तदनुसार उनकी व्याधियों की मूल विच्छेदक चिकित्सा भी -अच्छी चल रही है श्रृंखला !

    ReplyDelete
  3. अब आपको 'डा.' की मानद उपाधि मिल जानी चाहिये |

    ReplyDelete
  4. आपने तो पूरी रिसर्च ही कर ली ... बहुत सुन्दर आलेख ज्ञानवर्धक एवं शैली भी सुन्दर.

    ReplyDelete
  5. कफ पित्त और वात शरीर को संतुलित रखते हैं...रोचक जानकारी पूर्ण लेख...

    ReplyDelete
  6. हमारे कहे को कलम से उतारने के लिये धन्यवाद , अच्छे से समझाया

    ReplyDelete
  7. ये भी तो महत्वपूर्ण और नवीन टीका है .

    ReplyDelete
  8. आपका यह प्रयास प्रशंसनीय है। कुछ ज्ञान बढ़ा, कुछ अगली कड़ियों में बढ़ने की उम्मीद जगी है।

    बचपन से ऐसे माहौल में रहा हूँ कि ये सब बातें कानों में पड़ी हैं मगर कभी ध्यान से न सुना न सुनने के बाद स्मरण ही रहा। बचपन से ही आयुर्वेद एक दीर्घसुत्री इलाज की तरह लगा। बीमार हुआ तो वैद्य जी बोलते.. 7 दिन के लिए भोजन बंद! अंग्रेजी डाक्टर चार टेबलेट देता और बोलता..सब खाओ! अब आप ही बताइये किसके प्रति छवि अच्छी बनेगी? दवा बनाना भी धैर्य और झंझट का काम है। एक लीटर पानी को एक छोटी कटोरी होने तक उबालते रहो..।

    ...अब आपके कारण रूचि जग जाय तो धन्य भाग।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आठ कटोरिया जल आयुर्वेद को बनारस की देन है, ८ भाग जल जब उबलते उबलते एक भाग हो जाये तो उसमें अद्भुत औषधीय गुण होते हैं और तेज ज्वर में काम आता है। ज्वर के समय भोजन करना है कि नहीं, इसका विस्तृत वर्णन वाग्भट्ट ने किया है। ज्वर में ऊष्मा होती है और वह पित्त भड़कने से होता है। पित्त भड़कने में भोजन करते रहेंगे तो निदान अव्यवस्थित और दीर्घकालिक हो जायेगा। रोग को जड़ से उखाड़ना है, और बिना साइड इफेक्ट के तो उपवास उचित है। साथ में यह भी बताया गया है कि निर्जल कभी न रहें, पानी पीते रहें, वह पदार्थ खायें जिसमें पित्त का उपयोग न्यूनतम हो। इतना खायें कि निर्बल न हो जायें, क्योंकि रोग ले लड़ने के लिये शक्ति चाहिये। टैबलेट प्रभाव दबा देती है, मूल में नहीं जाती है, यही अन्तर है जो तात्कालिक और दीर्घकालिक है।

      Delete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  10. पूरी रिसर्च ही कर ली आपने ... बहुत सुन्दर आलेख

    ReplyDelete
  11. कफ, वात और पित्त का सत ,रज और तम से किसी स्तर पर सम्बन्ध है क्या ?ज्ञानवर्धक आलेख .......

    ReplyDelete
  12. निश्‍चय ही कालान्‍तर में पराधीनता के घातक पाशों में रहने के दौरान राष्‍ट्र ने आयुर्वेद के प्रलेखीय दर्शन को तो गाहे-बगाहे जीवित रखा, पर उसकी प्रायोगिकता को दैनंदिन का व्‍यवहार नहीं बनने दिया। करते रहिए अध्‍ययन वाग्‍भट्ट के आयुर्वेद का और ब्‍लॉग जगत में हिन्‍दी को उत्‍कृष्‍टता से स्‍थापित भी।

    ReplyDelete
  13. पराधीनता ही तो सब कुछ लील गयी इस देश का।

    ReplyDelete
  14. निरोगधाम में बहुत पढ़ा ...पर तब इतना मन नहीं लगा........ऊपवास तो प्रयोग किया है बहुत प्रभावी रहा हमेशा

    ReplyDelete
  15. सेहत के सुंदर सूत्र ...अच्छी जानकारी मिल रही है ....;

    ReplyDelete
  16. आगे की कड़ियों का इंतजार है फिर इत्मिनान से कमेंट करेंगे।

    ReplyDelete
  17. हमें भी अष्टांगहृदयम को पढ़ने के बाद बहुत फ़ायदा हुआ, बहुत सी छोटी छोटी बीमारियों के अचूक इलाज मिल गये ।

    ReplyDelete
  18. ज्ञान वर्धक पोस्ट !! आभार आपका !

    ReplyDelete
  19. वाग्भट्ट कृत अष्टांगहृदयं के प्रथम अध्याय में ही इन तीन तत्वों के गुण परिभाषित हैं। कौन सा या कौन से तत्व प्रभावी है, यह शरीर की बनावट, मानसिक स्थिति और बौद्धिकता से स्पष्ट हो जाता है। जहाँ वात के प्रभाव वाला मन से सतत चंचल होगा, वहीं कफ के प्रभाव वाला सौम्य और स्थिर होगा। इनके गुणों को समझ लेने से किस वस्तु, मौसम, क्रिया और भाव का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है, उसके सैद्धान्तिक आधार स्पष्ट हो जाते हैं।

    अष्टांग हृदयम को मथ के आपने मख्खन परोस दिया है। विस्तृत पड़ताल करती श्रंखला आयुर्वेद के बुनियादी सिद्धांतों और आधार का। आभार आपकी निष्काम टिप्प्णियों का।

    ReplyDelete
  20. संग्रहणीय कड़ियँ।

    ReplyDelete
  21. इस विषय पे आपकी खोज का लाभ ब्लॉग जगत ले रहा है ...
    आपमें बात को सहज और विस्तृत रूप से रखने की क्षमता है ... बहुत बहुत आभार आपका ...

    ReplyDelete
  22. बहुत उपयोगी और सारगर्भित प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  23. अति सुन्दर शानदार प्रस्तुति आत्मसात करने के बाद लिखा है आपने अष्टांगहृदयम सार संक्षेप शुक्रिया आपकी निरंतर प्रेरक टिप्पणियों का।

    ReplyDelete
  24. बारीकी से विश्लेषण बहुत ही उपयोगी है ......
    हार्दिक शुभ कामनाएँ

    ReplyDelete
  25. बड़ी आसानी से वे बातें समझा हीं आपने ,जो ग्रंथों में इतनी भारी-भरकम लगती थीं कि उनके बीच धँसने की हिम्मत नहीं पड़ती थी.
    साधु!

    ReplyDelete
  26. आयुर्वेद में प्रत्येक व्यक्ति की उस समय की दशा के आधार पर चिकित्सा निर्धारित की जाती है और वह आधार कफ , पित्त और वात से तय होता है।
    विषय का सरलीकरण समझने में मददगार है।

    ReplyDelete
  27. आपने बहुत ही उपयोगी व प्रमाणिक जानकारी दी है । मुझे याद है मेरे पिताजी , जो अच्छे शिक्षक होने के साथ-साथ आयुर्वेद-चिकित्सा में भी अच्छा अनुभव रखते थे, नाडी पर उंगलियाँ रख कर ही बता देते थे कि मरीज का पित्त कुपित है या वात । फिर उसी अनुसार पथ्य-अपथ्य । दवा कम परहेज ज्यादा । वास्तव में आयुर्वेद ही हमारे शरीर , स्वास्थ्य व सही चिकित्सा का मार्ग प्रशस्त करता है ।

    ReplyDelete
  28. mahattvapoorn jaankari aur vichaar ek saath !

    ReplyDelete
  29. बहुत उपयोगी जानकारी हैं ,मेरे लिए |

    ReplyDelete