8.9.12

विस्तार जगत का पाना है

आयाम विचारों का सीमितरह चार दीवारों के भीतर,
लगता था जान गया सब कुछअपने संसारों में जीकर,
कुछ और सिमट मैं जाता थाअज्ञान सुखद हो जाता था,
अपने घर में ही घूम रहामन आत्म-मुग्ध-मदिरा पीकर ।।१।।

करते अन्तरमन अवलोकनसंगूढ़ प्रश्न उठते जब भी,
यदि व्यथित विचारों की लड़ियाँतब लिये समस्या जीवन की,
हम चीखे थे उद्गारों कोजो भेद सके दीवारों को,
पर सुनते थे दीवारों सेअनुनाद वहीसंवाद वही ।।२।।

लगता कुछ और बड़ी दुनियाहटकर विस्तारों से घर के,
थे रमे स्वजीवन में पूरेहम घर से दूर नहीं भटके,
मनजीवन अपना चित-परिचितपर शेष प्रभावों से वंचित,
भर लेने थे सब अनुभव-घटजो रहे अधूरे जीवन के ।।३।।

वनकुंजों में कोयल कूँकेगूँजे मधुकर मधु-उपवन में,
नदियाँ कल कलझरने झर झरबँध प्रकृति पूर्ण आलिंगन में,
चिन्तन नभ में उड़ जाना थाउड़ बादल में छिप जाना था,
संग बूँद चीरते पवन-पुंजसागर ढूढ़ूँ नीरव मन में ।।४।।

मेघों का गर्जन अर्थयुक्तपृथ्वी का कंपन समझूँगा,
माँ प्रकृति छिपाये आहत मनआँखों का क्रन्दन पढ़ लूँगा,
सुन चीख गरीबीभूख भरीअँसुअन बन मन की पीर ढरी,
तन कैसे जीवन ढोता हैअध्याय हृदयगत कर लूँगा ।।५।।

यदि संस्कार क्षयमान हुयेहोती परिलक्षित फूहड़ता,
वह शक्ति-प्रदर्शनअट्टहासलख राजनीति की लोलुपता,
जीवन शापित हर राहों मेंभर कुरुक्षेत्र दो बाहों में,
कर छल-बलपल पल खेल रहीपूछूँगाकैसी जनसत्ता ।।६।।

चहुँ ओर हताशा बिखरी हैबन बीज जगत के खेतों में,
देखूँगा निस्पृहजुटे हुयेसब भवन बनाते रेतों में,
जीवन के पाँव बढ़ायेंगेअपने उत्तर पा जायेंगे,
सब चीख चीख बतलाना हैकब तक कहते संकेतों में ।।७।।

कविता संग रहते ऊब गयीउसको भी भ्रमण कराना है,
एक नयी हवाएक नयी विधाजीवन में उसके लाना है,
अभिव्यक्ति बनी थी जीवन कीबनकर औषधि मेरे मन की,
वह संग रहीपर उसको भीविस्तार जगत का पाना है ।।८।।

64 comments:

  1. सर बहुत ही प्रेरणादायी कविता |

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया प्रेरणादायक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. आगे बढ़ना ही जीवन है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने अर्चना जी
      खोटेज.ब्लागस्पाट.काम

      Delete

  4. वन, कुंजों में कोयल कूँके, गूँजे मधुकर मधु-उपवन में,
    नदियाँ कल कल, झरने झर झर, बँध प्रकृति पूर्ण आलिंगन में,
    चिन्तन नभ में उड़ जाना था, उड़ बादल में छिप जाना था,
    संग बूँद चीरते पवन-पुंज, सागर ढूढ़ूँ नीरव मन में ।।४।।आनुप्रासिक सौन्दर्य इतर भी पूरी रचना में व्याप्त है -

    कविता संग रहते ऊब गयी, उसको भी भ्रमण कराना है,
    एक नयी हवा, एक नयी विधा, जीवन में उसके लाना है,
    अभिव्यक्ति बनी थी जीवन की, बनकर औषधि मेरे मन की,
    वह संग रही, पर उसको भी, विस्तार जगत का पाना है ।।८।इतने भर से संतुष्ट नहीं पथ लम्बा आगे जाना है ....मनोहरं सुन्दरम एक भावात्मक अनुगुंजन अनुनाद विस्तार लिए है रचना में लय और ताल के साथ .काव्य सौन्दर्य शब्दों का औज़ चयन देखते ही बनता हैजैसे सोता फूटा हो खुद -बा -खुद कविता बनकर .

    ram ram bhai

    ReplyDelete
  5. कविता संग रहते ऊब गयी, उसको भी भ्रमण कराना है,
    एक नयी हवा, एक नयी विधा, जीवन में उसके लाना है,
    अभिव्यक्ति बनी थी जीवन की, बनकर औषधि मेरे मन की,
    वह संग रही, पर उसको भी, विस्तार जगत का पाना है ।।८।।

    बहुत प्रबल भाव ...अवसाद छोड़ जीवन नदिया आगे बढ़ रही है ....कल कल नाद करती हुई ...विस्तार लेती हुई ...प्रेरणा देती हुई .....!!
    उत्कृष्ट भाव और काव्य ...दोनों ...

    ReplyDelete
  6. मनोहारी भावाभिव्यक्ति, एक अर्थपूर्ण और आशावादी सोच के साथ आगे बढ़ते जाने की ....

    ReplyDelete
  7. यदि संस्कार क्षयमान हुये, होती परिलक्षित फूहड़ता,
    वह शक्ति-प्रदर्शन, अट्टाहस, लख राजनीति की लोलुपता!
    कविता संग रहते उब गयी , उसको भी भ्रमण कराना है ...

    जीवन चलने का नाम !
    कविता का शिल्प सौन्दर्य अभिभूत करता है !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर पोस्ट है ।
    मेरी नयी पोस्ट -"क्या आप इंटरनेट पर ऐसे मशहूर होना चाहते है ?" को एक बार अवश्य देखे । धन्यवाद
    मेरा ब्लॉग पता है - harshprachar.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. पूरा खुल के आयें हैं भगवन...कविता का यही मजा है कि अंदर का सब-कुछ बाहर उड़ेल दे और वह भी तरतीब से !

    ReplyDelete
  10. संग बूँद चीरते पवन-पुंज, सागर ढूढ़ूँ नीरव मन में ।।४।।
    बेहद भावभरी लाइन

    ReplyDelete
  11. सर ...आखिर हम अपंग होते जा रहे है ....कब तक ..?

    ReplyDelete
  12. अभिभूत करती उत्कृष्ट भाव की रचना,,,,,,

    ReplyDelete
  13. कविता को विस्तार लेने दीजिये , परवाज भरने दीजिये , जीवन की औषधि को फलने फूलने दीजिये. संग्रहणीय कविता .

    ReplyDelete
  14. आनन्द आ गया पढ़ कर, जैसे बरसात में सोते फूट रहे हों ।

    ReplyDelete
  15. अंतस्तल का यायावर ही बाह्य विस्तार पाता है ...

    ReplyDelete
  16. उत्कृष्ट रचना प्रवीण भाई ...

    कविता संग रहते ऊब गयी, उसको भी भ्रमण कराना है,
    एक नयी हवा, एक नयी विधा, जीवन में उसके लाना है

    माँ शारदा का आशीर्वाद है आपको , आप सफल रहेंगे ! हार्दिक शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  17. मेघों का गर्जन अर्थयुक्त, पृथ्वी का कंपन समझूँगा,
    माँ प्रकृति छिपाये आहत मन, आँखों का क्रन्दन पढ़ लूँगा,
    सुन चीख गरीबी, भूख भरी, अँसुअन बन मन की पीर ढरी,
    तन कैसे जीवन ढोता है, अध्याय हृदयगत कर लूँगा ।।५।।

    संवेदनशील मन सब पढ़ ही लेगा .... बहुत सुंदर भाव लिए खूबसूरत कविता

    ReplyDelete
  18. अभिव्यक्ति बनी थी जीवन की, बनकर औषधि मेरे मन की,
    वह संग रही, पर उसको भी, विस्तार जगत का पाना है

    bauhat accha...deep and profound!!

    ReplyDelete
  19. कविता संग रहते ऊब गयी, उसको भी भ्रमण कराना है,
    एक नयी हवा, एक नयी विधा, जीवन में उसके लाना है,
    अभिव्यक्ति बनी थी जीवन की, बनकर औषधि मेरे मन की,
    वह संग रही, पर उसको भी, विस्तार जगत का पाना है ।।

    बेहद प्रभावशाली रचना ...

    ReplyDelete
  20. अभिव्यक्ति बनी थी जीवन की, बनकर औषधि मेरे मन की,
    वह संग रही, पर उसको भी, विस्तार जगत का पाना है

    -क्या बात है...एक विशेष प्रभाव छोड़ रही है संपूर्ण अभिव्यक्ति....विस्तार ही जीवन है..सतत जारी रहना होगा..

    ReplyDelete
  21. जीवन चलने का नाम चलते रहो सुबह शाम... अत्यंत सुंदर एवं सार्थक भावभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  22. जल में क्षोभ उत्पन्न होने पर जैसे तरंग एक केंद्र बिंदु से चारों दिशाओं में आगे बढती है और शनैः शनैः विलुप्त हो जाती है | बस उसी प्रकार जीवन का भी विस्तार होते होते अंत हो जाता है | क्या कहें , विस्तार ही जीवन है अथवा अंत |

    ReplyDelete
  23. गहरे भाव लिए हुए एक सार्थक रचना...|

    ReplyDelete
  24. .पाबला साहब के पुत्र की आकस्मिक मृत्यु पर चर्चा मंच शोक प्रगट करता है ईश्वर उन्हें ये आघात सहने की शक्ति दे .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  25. आयाम विचारों का सीमित, रह चार दीवारों के भीतर,
    लगता था जान गया सब कुछ, अपने संसारों में जीकर,
    कुछ और सिमट मैं जाता था, अज्ञान सुखद हो जाता था,
    अपने घर में ही घूम रहा, मन आत्म-मुग्ध-मदिरा पीकर ।।१।।आत्मालोचन से आगे निकलके एक व्यंजना भी इन पंक्तियों में उनके लिए जो कूप मदूक हैं घर घुस्सू हैं कुछ कुछ इस तरह से -कुछ लोग इस तरह जिंदगानी के सफर में हैं ,दिन रात चल रहें हैं ,मगर घर के घर में हैं .रैडवाइन कर सकती है ब्लड प्रेशर कम न हो एल्कोहल तब

    ReplyDelete
  26. आज 09/09/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  27. Hats off to the great poet Praveen pandey.

    ReplyDelete
  28. अति उत्तम काव्य..

    ReplyDelete
  29. kavitaein aur lekh dono likhne me aap praveen hain.:)

    ReplyDelete

  30. यदि संस्कार क्षयमान हुये, होती परिलक्षित फूहड़ता,
    वह शक्ति-प्रदर्शन, अट्टाहस, लख राजनीति की लोलुपता,
    जीवन शापित हर राहों में, भर कुरुक्षेत्र दो बाहों में,
    कर छल-बल, पल पल खेल रही, पूछूँगा, कैसी जनसत्ता ।।६।।
    अर्थ की व्यवस्था खुद के लिए करती कोयला हुई सत्ता पर बढिया कटाक्ष ,कैसी जनसत्ता भाई मेरे ,ये सत्ता छद्म गांधियों की ,जन हर पल इससे शर्मिन्दा ......
    ram ram bhai
    रविवार, 9 सितम्बर 2012
    A Woman's Drug -Resistant TB Echoes Around the World
    A Growing Threat

    India is home to a quarter of the world's tuberculosis patients

    World 8.8 ,illion

    India 2.3 million

    China 1.0 million

    Russia 150,000


    Brazil 85,000

    US 13,000

    कौन है यह रहीमा शेख जिसकी तपेदिक व्यथा कथा आज आलमी स्तर पर चर्चित है ? गत छ :सालों में यह भारत के एक से दूसरे कौने तक इलाज़ कराने पहुंची है .लेकिन मर्ज़ बढ़ता गया ज्यों ज्यों दवा की .इस दरमियाँ बाप भाई की सारी कमाई ज़िन्दगी भर की बचत खेत खलिहान दांव पर लग गए आज यह भारत की पहली ऐसी मरीज़ा बन गई है जिस पर तपेदिक के लिए मंजूरशुदा ,स्वीकृत कोई भी दवा असर नहीं करती .

    ReplyDelete
  31. 'चरैवेति,चरैवेति.. ' का संदेश हमारे मनीषियों ने इसी मनस्थिति से प्रेरित होकर दिया होगा १

    ReplyDelete
  32. बहुत खूबसूरत भावपूर्ण और अर्थपूर्ण अभिव्यक्ति -आपकी कवितायें हमेशा बहुत ही गेय और गम्य होती हैं -
    एक काव्य संकलन हो जाये!

    ReplyDelete
  33. पीड़ा से अपनी बाहर निकल ,
    बन शंकर जग का विष पीकर ,
    कविता जीवन में लाना है ,
    जीवन कविता में पाना है .
    कविता संग रहते ऊब गयी, उसको भी भ्रमण कराना है,
    एक नयी हवा, एक नयी विधा, जीवन में उसके लाना है,
    अभिव्यक्ति बनी थी जीवन की, बनकर औषधि मेरे मन की,
    वह संग रही, पर उसको भी, विस्तार जगत का पाना है ।।८।।
    कवि के कुछ नया करने की छटपटाहट ,नै ज़मीन की तलाश ,नये क्षितिज का अन्वेषण रूपायित है इन छंदों में
    सोमवार, 10 सितम्बर 2012

    ग्लोबल हो चुकी है रहीमा की तपेदिक व्यथा -कथा (गतांक से आगे ...)..बढ़िया प्रस्तुति है .......

    ram ram bhai
    सोमवार, 10 सितम्बर 2012
    ग्लोबल हो चुकी है रहीमा की तपेदिक व्यथा -कथा (गतांक से आगे ...)

    ReplyDelete
  34. पर सुनते थे दीवारों से, अनुनाद वही, संवाद वही ..

    ..वाह! कितनी गहरी बात कह दी आपने!!

    ReplyDelete
  35. prernadayak... bahut behtareen!

    ReplyDelete
  36. बहुत भावुक,कठोर-सत्य को समेटे हुए.
    जब,स्वम-कारागार की दीवारें
    ढल जाएंगी----
    तब ही, अदृश्य कारागार नज़र आएगें
    स्वम-पीडाओें को लांघ,तभी
    पर-पीडाओं को जी पाएंगे.

    ReplyDelete
  37. गहन और प्रेरणादायक.. काफी विस्तार को समेटा है..

    ReplyDelete
  38. कविता संग रहते ऊब गयी, उसको भी भ्रमण कराना है,
    एक नयी हवा, एक नयी विधा, जीवन में उसके लाना है,
    अभिव्यक्ति बनी थी जीवन की, बनकर औषधि मेरे मन की,
    वह संग रही, पर उसको भी, विस्तार जगत का पाना है---बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति बहुत ही ज्यादा पसंद आई आपकी ये कविता

    ReplyDelete
  39. वाह!
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  40. आपकी इस उत्कृष्ट रचना की चर्चा कल मंगलवार ११/९/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  41. बहुत खूब सर .ड्रग रेजिस्टेंस सरल शब्दों में समझा दिया .
    शरीर यदि दवाओं को पहचानने से इन्कार कर बैठे तो इलाज कौन करेगा भला..

    ReplyDelete
  42. चहुँ ओर हताशा बिखरी है, बन बीज जगत के खेतों में,
    देखूँगा निस्पृह, जुटे हुये, सब भवन बनाते रेतों में,
    जीवन के पाँव बढ़ायेंगे, अपने उत्तर पा जायेंगे,
    सब चीख चीख बतलाना है, कब तक कहते संकेतों में

    बशर्ते की सुनने वाले बहरे न हों !
    सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  43. वन, कुंजों में कोयल कूँके, गूँजे मधुकर मधु-उपवन में,
    नदियाँ कल कल, झरने झर झर, बँध प्रकृति पूर्ण आलिंगन में...

    वाह मनमोहक काव्यात्मक अभिव्यक्ति ....
    मज़ा आ गया प्रवीण जी कमाल की रचना है ...

    ReplyDelete
  44. बहुत सुंदर, विस्तार जगत का अनंत है और उसको पाना कठिन भी फिर भी अपनी सीमाओं और संकल्पों से पाना असंभव तो नहीं है. प्रेरणादायक कविता के लिए आभार !

    ReplyDelete
  45. गहन सोच और प्रेरणादायक सुन्दर रचना !..आभार

    ReplyDelete
  46. आपका जीवन यूँ ही विस्तार पाता रहे ....ये ही जिंदगी का मूल मंत्र भी हैं :)))

    ReplyDelete
  47. वर्तमान परिदृश्य को इंगित करती ..सुन्दर रचना ...!!

    ReplyDelete
  48. कविता संग रहते ऊब गयी, उसको भी भ्रमण कराना है,
    एक नयी हवा, एक नयी विधा, जीवन में उसके लाना है,
    अभिव्यक्ति बनी थी जीवन की, बनकर औषधि मेरे मन की,
    वह संग रही, पर उसको भी, विस्तार जगत का पाना है ।।८।।

    बहुत खूब भावो को विस्तार दिया है।

    ReplyDelete
  49. बेहद सशक्‍त भाव लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ... आभार

    ReplyDelete
  50. न दैन्यं न पलायनम्
    8.9.12

    विस्तार जगत का पाना है
    आयाम विचारों का सीमित, रह चार दीवारों के भीतर,
    लगता था जान गया सब कुछ, अपने संसारों में जीकर,
    आदमी के घर घुस्सू पन कूप मंडूकता को ललकारते हुए यह रचना आत्मालोचन करती हुई आगे बढती है.

    अपने ही स्व :का अतिक्रमण कर कवि सारी कायनात और उसकी खूबसूरती और पीड़ा दोनों से जुड़ता है और कुछ नया करने के लिए छटपटाता है .



    मेघों का गर्जन अर्थयुक्त, पृथ्वी का कंपन समझूँगा,
    माँ प्रकृति छिपाये आहत मन, आँखों का क्रन्दन पढ़ लूँगा,
    सुन चीख गरीबी, भूख भरी, अँसुअन बन मन की पीर ढरी,
    तन कैसे जीवन ढोता है, अध्याय हृदयगत कर लूँगा ।।५।।

    तिहाड़ खोर राजनीति के टुकड़ खोरों की भी अच्छी खबर लेता है


    यदि संस्कार क्षयमान हुये, होती परिलक्षित फूहड़ता,
    वह शक्ति-प्रदर्शन, अट्टाहस, लख राजनीति की लोलुपता,
    जीवन शापित हर राहों में, भर कुरुक्षेत्र दो बाहों में,
    कर छल-बल, पल पल खेल रही, पूछूँगा, कैसी जनसत्ता

    उसका स्व :विस्तारित हो एक बड़े फलक पर फ़ैल जाता है कविता को भी वह लय ताल छंद से मुक्त कर नए विषय आँचल में अपने भर लेने का आवाहन करता चलता है .

    ReplyDelete
  51. सुंदर प्रस्तुति पांडेय जी

    ReplyDelete
  52. संदेशपरक!
    चलायमान रहना कविता का जीवन भी है, आत्मा भी और प्रगति भी।
    यह चलता रहे!

    ReplyDelete

  53. विस्तार जगत का पाना है
    आयाम विचारों का सीमित, रह चार दीवारों के भीतर,
    लगता था जान गया सब कुछ, अपने संसारों में जीकर,
    आदमी के घर घुस्सू पन कूप मंडूकता को ललकारते हुए यह रचना आत्मालोचन करती हुई आगे बढती है.अपने ही स्व :का अतिक्रमण कर कवि सारी कायनात और उसकी खूबसूरती और पीड़ा दोनों से जुड़ता है और कुछ नया करने के लिए छटपटाता है .



    मेघों का गर्जन अर्थयुक्त, पृथ्वी का कंपन समझूँगा,
    माँ प्रकृति छिपाये आहत मन, आँखों का क्रन्दन पढ़ लूँगा,
    सुन चीख गरीबी, भूख भरी, अँसुअन बन मन की पीर ढरी,
    तन कैसे जीवन ढोता है, अध्याय हृदयगत कर लूँगा ।।५।।

    तिहाड़ खोर राजनीति के टुकड़ खोरों की भी अच्छी खबर लेता है


    यदि संस्कार क्षयमान हुये, होती परिलक्षित फूहड़ता,
    वह शक्ति-प्रदर्शन, अट्टाहस, लख राजनीति की लोलुपता,
    जीवन शापित हर राहों में, भर कुरुक्षेत्र दो बाहों में,
    कर छल-बल, पल पल खेल रही, पूछूँगा, कैसी जनसत्ता

    उसका स्व :विस्तारित हो एक बड़े फलक पर फ़ैल जाता है कविता को भी वह लय ताल छंद से मुक्त कर नए विषय आँचल में अपने भर लेने का आवाहन करता चलता है .

    ram ram bhai
    मंगलवार, 11 सितम्बर 2012
    देश की तो अवधारणा ही खत्म कर दी है इस सरकार ने

    ReplyDelete
  54. Bade dino baad bilkul hindi ki sudhta ka ehsaah hua hai yahan aakar. Aaata rahunga. Sadhuwaad!

    ReplyDelete

  55. यदि संस्कार क्षयमान हुये, होती परिलक्षित फूहड़ता,
    वह शक्ति-प्रदर्शन, अट्टाहस, लख राजनीति की लोलुपता,
    जीवन शापित हर राहों में, भर कुरुक्षेत्र दो बाहों में,
    कर छल-बल, पल पल खेल रही, पूछूँगा, कैसी जनसत्ता.

    अट्टाहस की जगह अट्टहास होना चाहिए था, शायद.
    कविता तीन दिन तक मन को मथती रही. गहरे प्रतीक हैं. अद्भुत रचना है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, धन्यवाद। ठीक कर लिया है।

      Delete
  56. सुन्दर प्रेरणा से ओतप्रोत अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  57. कितना कुछ करना है । प्रेरक ।

    ReplyDelete
  58. मेघों का गर्जन अर्थयुक्त, पृथ्वी का कंपन समझूँगा,
    माँ प्रकृति छिपाये आहत मन, आँखों का क्रन्दन पढ़ लूँगा,
    सुन चीख गरीबी, भूख भरी, अँसुअन बन मन की पीर ढरी,
    तन कैसे जीवन ढोता है, अध्याय हृदयगत कर लूँगा ।।५।।
    वाह वाह वाह बेहद खूबसूरत एक एक शब्द एक खूबसूरत सन्देश देता हुआ |

    ReplyDelete
  59. यदि संस्कार क्षयमान हुये, होती परिलक्षित फूहड़ता,
    वह शक्ति-प्रदर्शन, अट्टहास, लख राजनीति की लोलुपता,
    जीवन शापित हर राहों में, भर कुरुक्षेत्र दो बाहों में,
    कर छल-बल, पल पल खेल रही, पूछूँगा, कैसी जनसत्ता ।।६।।

    चहुँ ओर हताशा बिखरी है, बन बीज जगत के खेतों में,
    देखूँगा निस्पृह, जुटे हुये, सब भवन बनाते रेतों में,
    जीवन के पाँव बढ़ायेंगे, अपने उत्तर पा जायेंगे,
    सब चीख चीख बतलाना है, कब तक कहते संकेतों में ।।७।।

    आज के परिवेश का यथार्थ कह रही है कविता, आवाज़ तो इसके विरोध में उठ रही हैं और उठनी चाहिये ।

    ReplyDelete