4.8.12

बड़ा अनूठा खेला है

किसी काम को करूँना करूँकानाफूसी चलती है,
बुद्धि कहे यदिकर भी डालोमन की राय बदलती है,
सुबह आँख खुलतीमन कहतासो जाओ तुम थके बहुत,
शुभ विचार के सम्मुख नित ही तर्कों की सेना प्रस्तुत,
मन करता है रोज लड़ाईबहका हैअलबेला है,
सचमुच भैयाजीवन जीनाबड़ा अनूठा खेला है

मन चंचल हैनित नित साधननये नये ले आता है,
बुद्धि तर्क मेंअनुभव में जाअपना ज्ञान बढ़ाता है,
मन गतिमानबुद्धि है स्थिरअपने में मदमाये दो,
दोनों ही हैं अति आवश्यकरहते मान बढ़ाये दो,
नहीं कोई भी हाथ बटातारहता आत्म अकेला है,
सचमुच भैयाजीवन जीनाबड़ा अनूठा खेला है

दोनों की मैं सुन लेता हूँदोनों की मैं सहता हूँ,
तट हैं दोमैं भी तटस्थ होधीरे-धीरे बहता हूँ,
बढ़ता जाता इसी आस मेंदोनों के संचार सहज हों,
मिलजुल कर जीते दुविधायेंदोनों के विस्तार वृहद हों,
दो जीवट हैं और हृदय में आशाओं का मेला है,
सचमुच भैयाजीवन जीनाबड़ा अनूठा खेला है

63 comments:

  1. सही चित्रण- इन्हीं द्विधाओं के साथ चलना मनुष्य की नियति है!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर कविता मनभावन सावन की तरह सर बधाई |

    ReplyDelete
  3. जीवन जीना बड़ा अनूठा खेला है ...सच ही !

    ReplyDelete
  4. तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ-
    क्या कहने ? वाह ....
    चिर द्वंद्व :-)

    ReplyDelete
  5. तटों में बंटते, तटों को जोड़ते सार्थक बहाव.

    ReplyDelete
  6. सुबह-सुबह मन प्रसन्न हो गया। आज दिन अच्छा बीतेगा। सुंदर कविताई के लिए बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  7. यही तो दुविधा है ,नहीं कोई विधा है |
    जब हो स्थिति असमंजस की ,
    न सुनू बुद्धि की और न मन की ,
    छोड़ दोनों तट बह जाऊं धारा जग की |

    ReplyDelete
  8. कभी पढ़ा था कि 'water and electricity are good servants but bad masters' मन के लिए भी यही कह सकते हैं| आत्मा रथ, मन घोड़े, विवेक चाबुक| चाबुक सही तो घोड़े वश में और रथ सही दिशा में अग्रसर और चाबुक बेअसर तो घोड़े निरंकुश और रथ? मत पूछिए ..

    ReplyDelete
  9. किसी काम को करूँ, ना करूँ, कानाफूसी चलती है,
    बुद्धि कहे यदि, कर भी डालो, मन की राय बदलती है,

    सरस, सरल प्रवाह लिए इस रचना ने दिल जीत लिया ! इन निर्दोष रचनाओं को बाहर निकालिए प्रवीण भाई !

    ReplyDelete
  10. मन से परे भी एक शोर होता है ... तठस्थ हो बढ़ना होता है

    ReplyDelete
  11. जीवन में एकरसता भी तो ठीक नहीं !

    ReplyDelete
  12. दोनों की मैं सुन लेता हूँ, दोनों की मैं सहता हूँ,
    तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ,

    मन और मस्तिष्क दोनों की ही सुननी पड़ती है .... तभी जीवन सहजता से चल पाता है ... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. अनूठी रचना.

    ReplyDelete
  14. मन मस्तिष्क के अजब द्वन्द लिए जीवन का खेला ...... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  15. तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ,

    प्रवीण भैय्या ...... आनंद आ गया

    ReplyDelete
  16. इन्हीं द्विधाओं के साथ जीना है जीवन..बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर... आज कविता में भी आपका यह रूप बहुत अच्छा लगा...

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर... आज कविता में भी आपका यह रूप बहुत अच्छा लगा...

    ReplyDelete
  19. दिल और दिमाग के द्वंद्ध में कभी इसकी जीत , कभी उसकी . यह दुविधा तो हमेशा बनी रहती है .

    ReplyDelete
  20. दो जीवट हैं और हृदय में आशाओं का मेला है,
    सचमुच भैया, जीवन जीना, बड़ा अनूठा खेला है।

    दिमाग में यह द्वंद तो हमेशा चलता रहता है ,,,,बेहतरीन प्रस्तुति,,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: रक्षा का बंधन,,,,

    ReplyDelete
  21. मन गतिमान, बुद्धि है स्थिर, अपने में मदमाये दो,
    नहीं कोई भी हाथ बटाता, रहता आत्म अकेला है,
    तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ,

    एक बोधदायक अभिव्यक्ति!!
    मन बुद्धि दोनो आत्म के नियंत्रण में हो सार्थक!!

    ReplyDelete
  22. सचमुच भैया, जीवन जीना, बड़ा अनूठा खेला है………यही जीवन है

    ReplyDelete
  23. असमंजस का खेल , कोई पास कोई फेल . सुँदर अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  24. चलना तो फिर भी जीवन की रीत है ... मन को साधना जरूरी है ...

    ReplyDelete
  25. तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ,
    बढ़ता जाता इसी आस में, दोनों के संचार सहज हों,
    मिलजुल कर जीते दुविधायें, दोनों के विस्तार वृहद हों,
    बहुत ही बढिया ...

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (05-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (05-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  28. मन तो आख़ि‍र मन है

    ReplyDelete
  29. दिल और दिमाग की उलझन ही तो असली झमेला है... कभी कोई सही होता है, तो कभी कोई...

    ReplyDelete
  30. क्या प्रवाह क्या भाव अनोखे, क्या शब्दों का मेला है |
    करूँ कहे मन, दिल न माने, सचमुच बड़ा झमेला है |
    बूंद लम्बवत चली तरंगे, रिमझिम रिमझिम रेला है |
    चले जिन्दगी इसी तरह से, रविकर ठेलिम-ठेला है ||

    ReplyDelete
  31. दो जीवट हैं और हृदय में आशाओं का मेला है,
    सचमुच भैया, जीवन जीना, बड़ा अनूठा खेला है।
    Kis,kis andaazme jeevan ka bayan kiya gaya hai!

    ReplyDelete
  32. जीवन जीना, बड़ा अनूठा खेला है....भैयाजी!

    ReplyDelete
  33. Awesome..I love simple words and that made miracle here..Loved it, Pravin bhai! Wakai jeevan ek dvand hi hain.

    ReplyDelete
  34. ES RACHNA KE SWAGTARHT MERI DO PANKTIYA"RAVIKAR JI TUM DHANYA HO, DHANYA TUMHARE KHEL, APRIMEY HAR KON TUMHARA FIR BHI THELAM-THEL"

    ReplyDelete
  35. दोनों की मैं सुन लेता हूँ, दोनों की मैं सहता हूँ,
    तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ,
    बढ़ता जाता इसी आस में, दोनों के संचार सहज हों,
    मिलजुल कर जीते दुविधायें, दोनों के विस्तार वृहद हों,
    दो जीवट हैं और हृदय में आशाओं का मेला है,
    सचमुच भैया, जीवन जीना, बड़ा अनूठा खेला है।
    "दिस और देट "भौतिक द्वंद्व ,दिल की मानू या दिमाग की .....तटस्थ हो दृष्टा भाव देखा है जीवन बनके सरिता की अविकल ,धारा ....असल बात है जीना ,सार्थक समझना ,माना जाना बेहतरीन विचार कविता .
    ram ram bhai
    रविवार, 5 अगस्त 2012
    आपके श्वसन सम्बन्धी स्वास्थ्य का भी समाधान है काइरोप्रेक्टिक (चिकित्सा व्यवस्था )में
    आपके श्वसन सम्बन्धी स्वास्थ्य का भी समाधान है काइरोप्रेक्टिक (चिकित्सा व्यवस्था )में
    कृपया यहाँ पधारें -http://veerubhai1947.blogspot.de/

    ReplyDelete
  36. दोनों की मैं सुन लेता हूँ, दोनों की मैं सहता हूँ,
    तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ,
    क्या बात कही है आपने जिन्दगी का फलसफा ही स्पष्ट कर दिया
    उम्दा लेखन

    ReplyDelete
  37. मन की चंचलता और दिमाग की तार्किकता. बढ़िया सामंजस्य बनाया है. बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  38. तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ,
    बढ़ता जाता इसी आस में, दोनों के संचार सहज हों,
    मिलजुल कर जीते दुविधायें, दोनों के विस्तार वृहद हों,बहुत सुन्दर भाव ...शानदार प्रस्तुति हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  39. सुंदर गीत....
    मन की कब वह मानता, बुद्धि उठाये तर्क।
    मनुज स्वयं को मथ रहा, मिले सत्य का अर्क।


    सादर।

    ReplyDelete
  40. भाई साहब अपने किये से आदमी कब संतुष्ट रहा है और बेहतर करना चाहता है इसी से उपजती है ये बे -चैनी कुछ और अच्छा करने की .बढ़िया भाव समेटे है रचना .

    ReplyDelete
  41. Irony and the difficulties of life are portrayed very effectively in this poem. A very relevant and to the point narration of our lives.

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.
    मय्येव मन आधत्स्व मयि बुद्धिं निवेशय
    निवसिष्यसि मय्येव अत ऊर्ध्वं न संशयः

    ReplyDelete
  43. तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ!
    वाह!
    बहुत खूब लगी यह रचना .

    ReplyDelete
  44. सचमुच भैया, जीवन जीना, बड़ा अनूठा खेला है। बहुत खूब। बधाई।

    ReplyDelete
  45. आपकी इस उत्कृष्ट प्रस्तुति की चर्चा कल मंगलवार ७/८/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है |

    ReplyDelete
  46. सुन्दर...अति--सुन्दर.....सार्थक...

    ReplyDelete
  47. सरित प्रवाह सी जीवंत कविता!!

    ReplyDelete
  48. अभी कुछ और करो ,अभी कुछ और करो ,ये भौतिक द्वंद्व ही प्रोडक्टिव स्ट्रेस है .आपने बहुत भला लिखा आज दिन लगता है अच्छा बीतेगा वैसे यहाँ फिलवक्त कैंटन में रात है वक्त हुआ है साढ़े दस रात के तारीख है ६ अगस्त ,भारत में इस समय बजे होंगे सुबह के साढ़े सात तारीख होगी सात अगस्त .एक ही समय में हम दो अलग अलग काल खंडों से जुड़ जातें हैं .काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली की अगली कड़ी होगी -What Is A Subluxation ?Bringing out the best in you .If you have a subluxation in your spine ,you can not function at your best .Subluxations interfere with proper nerve and organ health.Chiropractors teach patients about the need for periodic spinal adjustments.Correcting silent subluxations today might save you and your family from conditions that ,later in life ,could not possibly be ignored .

    ReplyDelete
  49. दोनों की मैं सुन लेता हूँ, दोनों की मैं सहता हूँ,
    तट हैं दो, मैं भी तटस्थ हो, धीरे-धीरे बहता हूँ,
    बढ़ता जाता इसी आस में, दोनों के संचार सहज हों,
    मिलजुल कर जीते दुविधायें, दोनों के विस्तार वृहद हों,

    ....मन और बुद्धि का संघर्ष जीवन का सत्य है और उनमें सामंजस्य बनाना इसकी सफलता...एक उत्कृष्ट प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  50. अत्यंत विचारपूर्ण....

    ReplyDelete
  51. मन चंचल है, नित नित साधन, नये नये ले आता है,
    बुद्धि तर्क में, अनुभव में जा, अपना ज्ञान बढ़ाता है,
    मन गतिमान, बुद्धि है स्थिर, अपने में मदमाये दो,
    दोनों ही हैं अति आवश्यक, रहते मान बढ़ाये दो,
    नहीं कोई भी हाथ बटाता, रहता आत्म अकेला है,
    सचमुच भैया, जीवन जीना, बड़ा अनूठा खेला है।
    उत्कृष्ट प्रस्तुति..........

    ReplyDelete
  52. सचमुच भैया, जीवन जीना, बड़ा अनूठा खेला है।

    ReplyDelete
  53. सुंदर गीत

    ReplyDelete
  54. वास्तविक चित्रण! सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  55. सर जी आप की लेखनी है या घर के दुसरे की ? जो भी हो जीवट है |

    ReplyDelete
  56. कविता के भाव अच्छे लगे।

    ReplyDelete
  57. कम से कम शब्दों में कहना हो तो इतना ही कहूँगा कि अनूठी रचना है.

    ReplyDelete
  58. अतिसुन्दर भाव.

    ReplyDelete
  59. सही कहा। इस अनूठे खेल को समझने का क्रम सनातन से चला आ रहा है और प्रलय तक चलता हीदरहेगा।

    ReplyDelete