2.5.12

बिग बैंग के ठहाके

एक मित्र ने अंग्रेजी का एक धारावाहिक सुझाया था, 'द बिग बैंग थ्योरी'। शीर्षक आधुनिक विज्ञान से संबंधित है पर विषय वस्तु एक विशुद्ध हास्य है। एक कड़ी देखकर ही मन बना लिया था कि जब भी समय मिलेगा, उसे पूरा देखा जायेगा। मित्र ने ही अभी तक के सारे सत्रों की एक सीडी भी दे दी थी, १२७ कड़ियाँ, लगभग ४० घंटे का मनोरंजन, बिना किसी विज्ञापन के।

रेलयात्रा में वह अवसर मिल गया, औरों को विघ्न न हो अतः ईयरफोन लगा कर देखने लगा। मशीन की आवाज तो नियन्त्रित कर सकता था पर जब स्वयं को ही ठहाका मारने का मन हो तब कौन सा साइलेंसर लगाया जाता। कई बार आस पास के यात्रियों को कौतूहलवश अपनी ओर ताकते देखा तो अपने उद्गारों को यथासंभव नियन्त्रित करने लगा। रेलयात्रा के बाद वही ठहाकायुक्त व्यवहार घर में भी चलता रहा, यह देख माँ पिता को अटपटा तो लगा पर देखा कि लड़का प्रसन्न है तो वह भी मन्द मन्द मुस्कराते रहे।

घर में एक व्यक्ति ठहाका मारे तो उसे अपवाद मान कर छोड़ा जा सकता था, पर दूसरे ठहाकों की आवाज ने हमें भी अचम्भे में डाल दिया। प्रतिद्वंदी कहाँ से आ टपका, जाकर दूसरे कमरे में देखा तो पुत्र महोदय पृथु भी वही धारावाहिक देख रहे थे, दूसरे लैपटॉप पर। रेलयात्रा में हमारे ठहाकों ने उनकी उत्सुकता बढ़ा दी थी, समय पाकर उन्होने अपने लैपटॉप पर उसे कॉपी कर लिया और बिना किसी से सलाह लिये और अपने वीडियो गेम छोड़कर उसी में व्यस्त हो लिये। पृथु के ठहाकों में मुझे अपने ठहाके कुछ कुछ उपस्थित लग रहे थे, पता नहीं गुणसूत्रों में थे या पिछले तीन दिन में सीखे थे। सबको अपना स्वभाव और व्यवहार बड़ा ही सामान्य और प्राकृतिक लगता है पर जब वही व्यवहार आपकी सन्ततियों में भी आ जाये तब कहीं जाकर उसके गुण दोष पता चलते हैं।

सभ्य समाज में बिना किसी पूर्वसूचना के प्रसन्नता के उद्गार ठहाके के रूप में व्यक्त करना भले ही असभ्यता की श्रेणी में आता हो, पर न तो कभी हमारे माँ पिता को मेरे ठहाकों पर आपत्ति रही और न ही कभी हम पृथु को इसके लिये कोई सलाह देंगे। सुना है भावों को व्यक्त होने से दबाने में शरीर और मन का अहित हो जाता है। यह अहित न होने पाये, इसके लिये हम अपने मित्रों की 'रावण के अट्टाहस' जैसी टिप्पणियाँ भी स्वीकार कर चुके हैं। विद्यालय में एक बार ठहाकों की आवाज हमारे प्रधानाध्यापक को हमारी कक्षा तक खींच लायी थी। प्रशिक्षण के समय इन्हीं ठहाकों ने भोजनालय में कुछ महिला प्रशिक्षुओं को सहसा भयभीत कर दिया था, शालीनतावश क्षमा माँगने पर उन्हें विश्वास ही नहीं हो रहा था कि यही लड़का इतनी उन्मुक्तता से ठहाका मार रहा था।

अब, न तो इतना उत्साह रहा है और न ही कोई ठोस कारण दिखता है कि इन ठहाकों पर कोई नियन्त्रण रखा जाये। यदि कोई हास्य व्यंग का दृश्य देखता हूँ तो स्वयं को रोक नहीं पाता हूँ। इस धारावाहिक की विषयवस्तु है ही कुछ ऐसी।

चार मित्र हैं, चारों वैज्ञानिक, उनकी बातें और चुहुलबाजी उसी स्तर पर रहती हैं। उनकी आदतें और यहाँ तक कि उनका भोजन भी सप्ताह के दिनों के अनुसार निश्चित हैं। मुख्य नायक शेल्डन की सनक भरी आदतें उसके मित्रों के लिये कठिनाई उत्पन्न कर देती हैं, पर उनकी मित्रता इतनी गहरी है कि वे सब सह लेते हैं। शेल्डन को न बात छिपाना आता है और न बात बनाना, उसका चीजों को सीधे से कह देना बहुधा सबको हास्यास्पद स्थिति में डाल देता है। उनके घर के सामने पेनी नाम की एक लड़की रहने आती है, वह औसत बुद्धि वाली व्यावहारिक लड़की है और एक होटल में सहायिका का कार्य करती है। पेनी, शेल्डन और उसके मित्रों को एक दूसरे के विश्व अचम्भित और आकर्षित करते हैं।

वैसे तो हिन्दी के हास्य धारावाहिकों में भी आनन्द आता है पर इस धारावाहिक में इतना आनन्द आता है कि ठहाका मारने का मन करता है। पात्रों के अभिनय व एक एक संवाद पर किया श्रम इस धारावाहिक की गुणवत्ता व संबद्ध लोकप्रियता से परिलक्षित है, इसे मिले पुरस्कार भी यही बात सिद्ध करते हैं। अंग्रेजी ऐसी है कि समझ में आती है, तभी हमारे पुत्र भी ठहाका मार रहे थे। यदि कठिनता हो तो इसे उपशीर्षकों के साथ भी देखा जा सकता है।

इस धारावाहिक में निहित हास्य इसे जितना रोचक बनाता है, उससे भी अधिक रोचक है 'बिग बैंग थ्योरी'। उस पर ध्यान नहीं जाता यदि पृथु शेल्डन से प्रभावित हो उस विषय के पीछे न पड़ जाते। इस धारावाहिक को देखने में पृथु के ठहाके उतने ही प्राकृतिक थे जितने गम्भीर इस सिद्धान्त के बारे में उसके प्रश्न।

चलिये, इस बार ठहाकों का आनन्द लीजिये, प्रश्न अगली बार।

59 comments:

  1. Penny, Penny, Penny :)

    It is quite popular among the nerd community.

    Cheers,
    Neeraj

    ReplyDelete
    Replies
    1. abhi tak dekha nahi hai ye program jaldi hi dekhungi fir thahake bhi lagaungi. wese post padhkar laga behtareen hoga

      Delete
  2. ये मेरा फेवरेट धारावाहिक है। सभी पात्र का चरित्र चित्रण चुन चुन कर क्या गया है। डा शेल्डन कुपर के क्या कहने! वैज्ञानिक शब्दावली के प्रयोग से हास्य , कभी सोचा नही था!

    चारो मित्र वैज्ञानिक नही है जी, डा शेल्डन कुपर बुरा मान जायेंगे। हार्वड इंजीनियर है, और डाक्टरेट भी नही है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ, शेल्डन महोदय को बहुत खराब लगेगा, लियनर्ड भी को पूरा वैज्ञानिक नहीं मानते हैं वो तो।

      Delete
  3. इस धारावाहिक को देखकर हम भी ठहाके लगा चुके है . रोचक लेखन .

    ReplyDelete
  4. हाँ, मैंने भी एक दो एपिसोड देखे हैं लेकिन युट्यूब पे...मैं तो इंग्लिश धारावाहिक में अब तक सिर्फ 24 के आठ सीजन,प्रिजन ब्रेक के चार सीजन और हीरोज के सभी सीजन देख चूका हूँ..बस!
    वैसे ये 'बिग बैंग थेओरी' भी मेरे लिस्ट में है, समय मिलते ही डाउनलोड कर के देखता हूँ! :)

    ReplyDelete
  5. मेरे दोनों बच्चे तो इसे बारंबार ही देखते रहते हैं!
    अद्भुत है यह. इस लेवल का धारावाहिक तो हिंदी में शायद अगले सौ बरस में भी न आ पाए!

    ReplyDelete
    Replies
    1. नहीं आयेगा...क्योंकि हिन्दी..हिन्दी है अन्ग्रेज़ी नहीं...

      Delete
  6. सबको अपना स्वभाव और व्यवहार बड़ा ही सामान्य और प्राकृतिक लगता है पर जब वही व्यवहार आपकी सन्ततियों में भी आ जाये तब कहीं जाकर उसके गुण दोष पता चलते हैं।
    वाकई !
    रोचक वर्णन से धारावाहिक के प्रति उत्सुकता हो गयी है !

    ReplyDelete
  7. आजकल ठहाके दुर्लभ हैं , कोशिश ही नहीं होती न उनमें वह दम है !
    पृथु इतने बड़े हो गए हैं ...? यह जान अच्छा लगा !
    यह अपने पापा से आगे जायेंगे !
    बधाई आपको ..

    ReplyDelete
  8. यह हिन्दी में डब वर्जन है या ओरिजिनल...?
    मेरे युनिवेर्सिटी दिनों के एक प्रोफ़ेसर थे -एक बार कक्षा में घुसते ही मुझे खड़ा किया और सावधान किया
    कि मेरे ठहाके उनके चैंबर तक सुनायी देते हैं जो वहां से २०० मीटर दूर था और बीच में बिल्डिंग -व्यवधान भी
    आज तसल्ली इसी बात की है कि वे ठहाके कुछ कम ही सही पर आज भी साथ हैं ....आपके और पृथु और सभी परिवार जनों के साथ हों यही तमन्ना है !

    ReplyDelete
  9. वैसे हम टीवी साधारणतया नहीं देखते. अब देखना पड़ेगा.

    ReplyDelete
  10. यह तो आनंददायक है ही, अगले की प्रतीक्षा है.

    ReplyDelete
  11. देखा है इस कार्यक्रम को.....और ठहाके रोक पाना सच में मुझे भी मुश्किल ही लगा था .... पृथु के जुड़ाव के विषय में जानकर अच्छा लगा ....

    ReplyDelete
  12. बढ़िया |
    आभार भाई जी ||

    ReplyDelete
  13. अभी तक देखने का सौभाग्य प्राप्त नहीं हुआ है, आपने कहा है तो निश्चय ही मजेदार होगा.अच्छी जानकारी हेतु आभार.

    ReplyDelete
  14. ठहाके के असली मरीज़ तो हम हैं जी.घर में श्रीमतीजी इस क्रिया से सहमत नहीं होतीं,पर कार्य-स्थल पर भरपूर हौसला-अफ़जाई होती है.

    इस सीरियल को अभी तक देखा नहीं है,अब कोशिश करूँगा !

    पृथु के लिए शुभकामनाएँ कि वह हमेशा मस्त रहे ,ऐसे ही !

    ReplyDelete
  15. सबको अपना स्वभाव और व्यवहार बड़ा ही सामान्य और प्राकृतिक लगता है पर जब वही व्यवहार आपकी सन्ततियों में भी आ जाये तब कहीं जाकर उसके गुण दोष पता चलते हैं।

    सही बात लिखी है आपने |
    यही बातें हैं जो हमें अपनी जड़ों से बांधे रखतीं हैं ...!!
    टी.वी से दूर-दूर का कोई नाता नहीं है हमारा तो ... |आपकी पोस्ट पढ़ कर लग रहा है सीरियल देख लिया ....!!

    कई बार आस पास के यात्रियों को कौतूहलवश अपनी ओर ताकते देखा तो अपने उद्गारों को यथासंभव नियन्त्रित करने लगा।

    हमारे साथ भी ये समस्या तब आती है जब बहुत देर तक ट्रेन में अकेले होते हुए भी , अपनी राग आलापे बगैर नहीं रह पाते हैं हम |
    बहुत रोचक आलेख ....!!

    ReplyDelete
  16. सबको अपना स्वभाव और व्यवहार बड़ा ही सामान्य और प्राकृतिक लगता है पर जब वही व्यवहार आपकी सन्ततियों में भी आ जाये तब कहीं जाकर उसके गुण दोष पता चलते हैं।

    बिलकुल सही बात .... बहुत अच्छी जानकारी मिली धारावाहिक की .... पृथु में भी आपके गुण आ रहे हैं ...शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. पृथु के ठहाके ने मुझे मुस्कुराने पर विवश किया इमैजिन करके .... पर इसके गंभीर प्रश्नों का सामना नहीं करुँगी :)

    ReplyDelete
  18. मेरे एक मित्र की पत्नी ऑपरेशन के बाद स्वास्थ्य लाभ कर रही थीं.. मैं जब उनसे मिलने गया तो उन्होंने मना कर दिया कि कल से आप मत आइयेगा मिलने .. मेरी बातों से उनकी हँसी रुकती नहीं थी और टांकों में दर्द होने लगता था.. ठहाके भी गायब हो रहे है, ढंग से मुस्कुरा ले कोई तो बड़ी बात है!!

    ReplyDelete
  19. सहमत हूँ आपकी इस बात से कि जब सन्तति हमारे व्यवहार को अपना लेती है तब उस के गुण-दोष का आकलन हम स्वयं भी कर सकते हैं | छोटे बेटे के कीकीत्व ( किताबी कीड़ा ) के लिए मुझे ज़िम्मेदार ठहराया जाता है तब भी मुझे उतना ही आनन्द आता है ,जितना कि बड़े बेटे के नटखटपने का प्रेरणास्रोत बनाये जाने पर ......पृथु के ठहाके ताउम्र बने रहें !

    ReplyDelete
  20. वाह बहुत रोचक अंदाज में लिखा आलेख हास्य धारावाहिक का भी पता लगा और आपके स्वभाव का बहुत ख़ुशी हुई जानकार वर्ना आजकल इतने ठहाके लगाने वाले मिलते कहाँ हैं मुस्कुराएंगे भी ऐसे जैसे दूसरे पर एहसान कर रहे हों शुभकामनाएं की आपके परिवार में ये ठहाके गूंजते रहें हाँ सीरियल देखने की उत्सुकता बढ़ी ..देखने की कोशिश करेंगे

    ReplyDelete
  21. बहुत बढ़िया रोचक ठहाकेदार प्रस्तुति, आपने कहा है तो निश्चय ही मजेदार होगा.इसे देखने की इक्छा बढ़ गई अच्छी जानकारी हेतु आभार.....

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    ReplyDelete
  22. हाँ फूस फूस हंसी से शुद्ध रावणवाली हंसी जयादा बढिया है,

    कई बार इसी हंसी के कारन परिवार/समाज में मुझे बहुत बातें सुनने को मिलती हैं.

    ReplyDelete
  23. आजकल ठहाके और ठहाके लगाने वाले , दोनों ही मुश्किल से सुनाई/ दिखाई देते हैं .

    ReplyDelete
  24. इस पोस्ट में वर्णित ठहाके प्रेरित कर रहे हैं हमें भी... देखते हैं इस शो के कुछ एपिसोड्स आज ही:)

    ReplyDelete
  25. अपना स्वभाव और व्यवहार बड़ा ही सामान्य और प्राकृतिक लगता है पर जब वही व्यवहार आपकी सन्ततियों में भी आ जाये तब कहीं जाकर उसके गुण दोष पता चलते हैं।
    एकदम सही बात .
    रही बात ठहाकों की तो आजकल ऐसे मौके मिलते ही कम हैं अत: जब भी मिले दिल खोल के लगा ही लेने चाहिए.
    जुगाड करते हैं इस धारावाहिक का.क्योंकि हिंदी के हास्य में तो अब अधिकतर फूहडता ही रह गई है.

    ReplyDelete
  26. दोनों एक साथ ही देखिए ना जिससे हंसने में और आनन्‍द आए।

    ReplyDelete
  27. आपके ठहाकों का अंदाजा मैं लगा सकता हूं। क्‍योंकि मेरे एक सहयोगी भी बिलकुल इसी तरह ठहाके लगाते हैं। और जब शुरू होते हैं तो रोकना मुश्किल हो जाता है।

    ReplyDelete
  28. निश्चय ही ठहाके मजेदार होंगे ही..जैसे मजेदार आलेख...

    ReplyDelete
  29. जानदार रिपोर्ताज है समीक्षा है सिफारिश है बिग बेंग सीरियल की .खुलकर ठहाके लगाने में चेहरे की अधिकतम पेशियाँ हरकत में आतीं हैं .बढ़िया व्यायाम है तन और मन का बिग बेंग के बहाने ही सही ठहाके किस्मत वाले ही लगाते हैं अब .


    बुधवार, 2 मई 2012
    " ईश्वर खो गया है " - टिप्पणियों पर प्रतिवेदन..!
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    ReplyDelete
  30. यह धारावाहिक देखा नहीं है और शायद देख भी न सकूँ। इतना समय ही नहीं होता। पर ठहाकों और बिगबैंग की थ्योरी दोनों से बखूबी परिचित हूँ। पिताजी खूब ठहाके लगाते थे। इतना कि घर पहुँचने के पहले ही उन के आने का पता लग जाता था।
    बिगबैंग की थ्योरी से मैं सांख्य को ठीक से समझ सका हूँ।

    ReplyDelete
  31. अब जब आप इतनी तारीफ कर रहे हैं तो देखना ही पड़ेगा।

    ReplyDelete
  32. I have seen a few episodes of Big bang theory and loved it!
    As far as American Sitcoms are concerned I am seriously hooked on to Friends and How I met your Mothers.

    ReplyDelete
  33. ठहाके को ठहाका बढाता है ..
    ठहाके लगते रहें

    ReplyDelete
  34. subtitles..की हिंदी ..उपशीर्षक..हम्म..पहली बार इसे प्रयुक्त होते हुए देखा

    ReplyDelete
  35. हाँ ,अब तो देखे बिना काम नहीं चलेगा !
    और ठहाके ! निर्मल मन ही खुल कर लगा सकता है.
    हँसी तो मुझे भी जब आती है,रोकने से रुकती नहीं.
    पू. श्वसुर जी की दोनों ओर दो-दो इंच लंबी मूँछें जब दूध पीते ,भीग जातीं तो
    मेरी हँसी रोके नहीं रुकती थी. बहाने भी कितने बनायें ,उठ कर ही भागना पड़ता था वहाँ से.

    .

    ReplyDelete
  36. मजेदार और ठहाकेदार प्रस्तुति,.....बहुत ही रोचक.....आभार

    ReplyDelete
  37. आपकी यह पोस्‍ट पढकर अपने सीमित ज्ञान पर, अधिक जानकारियॉं हासिल करने में अपनी अक्षमता पर कष्‍ट हो रहा है। तनिक विस्‍तार से बताइए कि इसे हिन्‍दी उप शीर्षको के साथ कैसे और कहॉं देखा जा सकता है।

    ReplyDelete
  38. बहुत सुंदर। रागदरबारी पढ़कर मैं इसी तरह अकेले में ढहाके लगाया था। इंतजार है soft copy का ताकि मैं भी ढहाके लगा सकूँ।

    ReplyDelete
  39. अच्छे कार्यक्रमों का जिक्र भी होना चाहिए बल्कि इनका जिक्र ही होना चाहिए|

    ReplyDelete
  40. भैय्या मुझे भी दिखाओ न
    बिग बैंग के लिंक्स

    ReplyDelete
  41. कार्यक्रम देखे जाने योग्य है। निःसंकोच हँसी निकल आये तो कहना ही क्या!

    ReplyDelete
  42. जुगाड़ करते हैं देखने का। ठहाके जारीं रहें।

    ReplyDelete
  43. आप के आलेख की रोचकता से ठहाकों के साथ - साथ कुछ चेहरो पर मुस्‍कान स्‍वयं आ जाती है :)
    शुभकामनाओं के साथ उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए बधाई

    ReplyDelete
  44. behatrin samikshaa ki hae aapne bdhaisveekaren.
    mere blog ki nai post par aamantrit haen.

    ReplyDelete
  45. आपका लेख पढ़ कर इस धारावाहिक के प्रति हमारी भी उत्सुकता बढ़ी है।


    सादर

    ReplyDelete
  46. वाह...!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आज चार दिनों बाद नेट पर आना हुआ है। अतः केवल उपस्थिति ही दर्ज करा रहा हूँ!

    ReplyDelete
  47. behtarin lekh...sadar badhayee ke sath..aapka nirantar protsahan mujhe milta hai..har acche lekh tak aapki satat pahunch ..aapki is sahityik prem ko kotisha dhnywad..sadar badhayee ke sath

    ReplyDelete
  48. शु्क्रिया इस कार्यक्रम के बारे में बताने के लिए.

    ReplyDelete
  49. आपके इतने ठहाकों के बाद अब तो इसे देखना ही होगा...

    ReplyDelete
  50. हमें तो ठहाका लगाने की आदत सी है...लत कह लें...कहीं भी जब भी मौका मिलता है खुल कर ठहाका लगाते हैं...इस सिरिअल के बारे में हमने भी सुना है कभी देखेंगे...वैसे अपने देश में बस आस पास ही नज़र खोल कर देखें तो ठहाकों का सामान बहुतायत में मिल जाता है...

    नीरज

    ReplyDelete
  51. अभी तक देखा नहीं ये सिरिअल ... मौका मिलेगा तो देखेंगे और ठहाके भी लगाएंगे ...

    ReplyDelete
  52. hello mai bhi ye program dekhna chhta hun please btyen kha se dekhun.kon se channel par ata hai ya khi se downlod ho sakta hai please ..............

    ReplyDelete