30.5.12

लिखना नहीं, दिखना बन्द हो गया था

फेसबुक से विदा लिये ३ महीने और ट्विटर को देखे ३० महीने हो गये थे, जीवन आनन्द में चल रहा था, लिखने के लिये पर्याप्त समय मिल रहा था, एक सप्ताह की दो पोस्टें के लिये और कितना समय चाहिये भला? हम तो फेसबुक को लगभग भूल ही चुके थे, पर फेसबुक रह रहकर हमें कोंचने की तैयारी में था। यद्यपि फेसबुक बन्द करने के समय के आसपास ही पाठकों की संख्या में थोड़ी कमी आयी थी, पर उसका कारण हम गूगल महाराज के बदलशील व्यवहार को देकर स्वयं मानसिक रूप से हल्के हो लिये थे।

सबसे पहले एक मित्र का फोन आया, कहा कि यार अच्छा लिखते थे, बन्द काहे कर दिया? हम सन्न, हम सोचे बैठे थे कि ईमेल के माध्यम से किये सब्सक्रिप्शन में कुछ गड़बड़ हुयी होगी, उन्हें वह सुधारने की सलाह दे बैठे। बाद में पता लगा कि वे फेसबुक से ही हमें पढ़ लेते थे, ईमेल खोलने में आलस्य लगता था उन्हें। कहीं हम उन्हें तकनीक में अनाड़ी न समझ बैठें, इस डर से ईमेल की सलाह पर हामी तो भर गये पर उस पर अमल नहीं किया।

घर गये तो वहाँ पर भी दो परिचित मिले, घूम फिर कर बात अभिरुचियों की आयी। उन्होने कहा कि लेखन अच्छी अभिरुचि है और उसके बाद दो तीन पुरानी पोस्टों पर चर्चा करने लगे। हमारा माथा ठनका, उसके बाद भी बहुत कुछ लिखा था, उसके विषय क्यों नहीं उठाये, मर्यादावश उनकी पसन्द पर ही चर्चा को सीमित रखा। बाद में ज्ञात हुआ कि उन तक भी फीड फेसबुक से ही पहुँचती थी।

कुछ दिन पहले बंगलोर में रहने वाले और मेरे विद्यालय में पढ़े लगभग ४० लोगों का एक मिलन आयोजित किया था अपने घर में। पता लगा कि उसमें से बहुत से लोग ऐसे थे जो ब्लॉगजगत के सक्रिय पाठक थे, लिखते नहीं थे, टिप्पणी भी नहीं करते थे, पर पोस्टें कोई नहीं छोड़ते थे। उनमें से कुछ आकर कहने लगे कि भैया, जब व्यस्तता थोड़ी कम हो जाये तो लेखन पुनः आरम्भ कर दीजियेगा, आपका लिखा कुछ अपना जैसा लगता है। स्नेहिल प्रशंसा में लजा जाना बनता था, सो लजा गये, पर हमें यह हजम नहीं हुआ कि हमने लेखन बन्द कर दिया है। अतिथियों को यह कहना कि वे गलत हैं, यह तुरन्त खायी हुयी खीर के स्वाद को कसैला करने के लिये पर्याप्त था, अतः उन्हें नहीं टोका।

इन तीन घटनाओं ने यह स्पष्ट कर दिया कि पाठकों का एक वर्ग जो विशुद्ध पाठकीय रस के लिये पढ़ता है, पिछले ३ महीनों से हमें पढ़ नहीं पा रहा है। टिप्पणी करने वाले सुधीजन और ब्लॉगों के मालिक अभी भी जुड़े हुये थे, ईमेल या गूगल रीडर के माध्यम से। शेष लोग फेसबुक में प्राप्त लिंक के सहारे पढ़ते थे, हमारे फेसबुक से मुँह मोड़ लेने के कारण वे न चाहते हुये भी हमसे मुँह मोड़ चुके थे। समझ मे तब स्पष्ट आया कि फेसबुक अकेले ही १०० के लगभग पाठक निगल चुका है।

क्या करें तब, अपने आनन्द में बैठे रहना एक उपाय था। चिन्तन के जिस सुलझे हुये स्वरूप में फेसबुक को छोड़ा था, उसे पुनः स्वीकार करने से अहम पर आँच आने का खतरा था। सहेजे समय को बलिदान कर पुनः पहुँच बढ़ाने के लिये गँवा देना हर दृष्टि से अटपटा था। बहुत से ऐसे प्रश्न थे, जिसके निष्कर्ष हानि और लाभ के रूप में ज्ञात तो थे पर किसी एक ओर बैठ जाने की स्पष्टता का आभाव चिन्तन में छाया हुआ था।

निर्णय इसका करना था कि मेरे हठ की शक्ति अधिक है या मुझ पर पाठकों के अधिकार की तीव्रता। निर्णय इसका करना था कि लेखन जो स्वान्तः सुखाय होता था, वह अपना स्वरूप रख पायेगा या पाठकों के अनुरूप विवश हो जायेगा। निर्णय इसका करना था कि पूर्व निर्णयों का मान रखा जाये या अतिरिक्त तथ्य जान कर निर्णय संशोधित किये जायें। निर्णय इसका करना था कि त्यक्त को पुनः अपनाना था या एकान्त में आत्ममुग्धता की वंशी बजाना था।

क्या कोई और तरीका है, ब्लॉग सब तक पहुँचाने का? क्या ब्लॉग के साथ सारी सामाजिकता पुनः ओढ़नी पड़ेगी? प्रश्न किसी विस्तृत आकाश में न ले जाकर पुनः फेसबुक की ओर वापस लिये जा रहा था। जुकरबर्गजी, आप नजरअन्दाज नहीं किये जा सकते हैं, हमारे परिचित और पाठकगण आपके माध्यम से ही मुझे जानना चाहते हैं। आपके बारे में मेरे पूर्व विचार न भी बदलें पर अपनों के सम्पर्क में बने रहने के लिये मुझे आपकी छत में रहने से कोई परहेज नहीं है।

पर इस बार ट्विटर की चूँ चूँ भी साथ में रहेगी हमारे। जब दिखना है तो ढंग से और हर रंग से दिखा जायेगा।

81 comments:

  1. हम भी आजकल कुछ ऐसे ही सवालों से जूझ रहे हैं. फेसबुक पर होना मेरे लिए सिर्फ अपने कुछ प्रिय दोस्तों के लिए था. आजकल वहाँ से फरार हैं कि ये कुछ दोस्तों के चक्कर में काफी वक्त न चाहते हुए भी जाया हो जाता था उधर. हमें मोडरेशन में कुछ काम करना तो आता नहीं है. उसपर दिन भर का लिखना पढ़ना चूँकि लैपटॉप पर होता है तो अनचाहे भी फेसबुक का टैब खुला रहता था. लगा कि उधर जितना वक्त देते हैं उसका हासिल कुछ नहीं है...तो इधर एक महीने से हमने भी फेसबुक बंद कर रखा है.

    फेसबुक बंद करने से मानसिक शांति मिली है...हर हमेशा कुछ अपडेट करने की खिटपिट नहीं है. फेसबुक के लिए सामने बैठे दोस्तों को इग्नोर नहीं किया है.

    फेसबुक फ्रेंडलिस्ट भी बहुत हद तक सीमित है...जिन लोगों को पर्सनली जानती हूँ उनके आलावा मुश्किल से कोई और हैं लिस्ट में...तो मेरे लिए फेसबुक कभी मेरे पाठकों से जुड़ने का जरिया नहीं बल्कि दोस्तों से जुड़े रहने का माध्यम मात्र था.

    सोच रही हूँ कि क्या करूं...फिलहाल तो वापस आने का मूड नहीं है...पर जिस दिन आने का मूड होगा...एक बार पुनः आपकी पोस्ट जांच लूंगी. शुक्रिया.

    ReplyDelete
  2. फेसबुक पर वो लोग भी मौजूद होते हैं जिन्हें ब्लॉग से कोई वास्ता नहीं है. ऐसे में वह बड़ा मंच है. उसे नकारना मुश्किल है.

    ReplyDelete
  3. लौट के ब्लॉगर फ़ेसबुक पर आये। :)

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर पोस्ट |

    ReplyDelete
  5. कल जब मेरे मेल बॉक्स में संदेश आया कि PraveenPandey following You On Tweeter तो मैं समझा कि कोई और होंगे क्योंकि आपने फेसबुक को भी अलविदा कहा था।

    मैंने भी ट्वीटर अकाउंट में जाकर देखा नहीं कि आप ही हैं या कोई और क्योंकि मुझे भी ट्वीटर पर गये कई महीने हो गये। पासवर्ड तक भूल चुका हूँ :)

    सो अब ये पोस्ट देखकर समझा कि आप ही थे :)

    बहरहाल सोशल साइटों पर जहां तक समय प्रबंधन की बात है, लगभग सभी सोशल साइटें अपने आप में खूबी लिये हैं लेकिन उनके इस्तेमाल में थोड़ी सजगता रहे तो हम इन सुविधाओं के लती होने से बच जाते हैं। समय को अपने हिसाब से इस्तेमाल कर सकते हैं।

    हां, बीच-बीच में ऐसे क्रैपर्स से भी बचाव जरूरी है जो रात दिन फेसबुक ट्वीटर पर अड्डा गाड़े रहते हैं और वहां से गुजरते बंदे से उम्मीद करते हैं कि आइये आप भी हमारा संग-साथ दिजिए। बैठिये कुछ गुनगुनाइये, क्या बस घर में ही घुसे रहते हैं। ऐसों के लिये एक्चुअल से ज्यादा वर्चुअल दुनिया ज्यादा मायने रखती है :) जाहिर है, शालीनतावश हाय-हैलो करना ही पड़ता है। हाँ वहीं अड्डा जमाने से बचा जाय, थोड़ी सतर्कता बरती जाय तो फेसबुक आदि का अपने उपलब्ध समय के हिसाब से अच्छा इस्तेमाल किया जा सकता है।

    ReplyDelete
  6. फेसबुक ने तो सारी ब्लॉग्गिंग का गणित ही गड़बड़ा दिया भाई साहेब . क्या करे. वो अब एक मजबूरी बनी हुई है ,, वरना फेसबुक से कोई शान्ति नहीं है ..

    ReplyDelete
  7. वैचारिक पुनर्वास होते रहना ,भी परिमार्जन व विकास की कड़ियाँ हैं ,ऐसा नहींकी विचारों का त्याजन हो गया पाट बदलते रहते हैं दरिया तो वही है , वही मृदु धारा , सरल, सर्पिला अविरल प्रवाह .....सही निर्णय मिस्टर पांडे जी ....,

    ReplyDelete
  8. फेसबुक और ट्विटर अपने स्थान पर हैं और ब्लागिंग अपने स्थान पर। जिसे लेखन से प्रेम है उस के लिए वास्तविक स्थान ब्लागिंग ही है।

    ReplyDelete
  9. ...मैंने भी कई बार फेसबुक को छोड़ने की कोशिश की थी पर लगता है इसे छोड़ने के बजाय थोड़ा अनुशासन से प्रयोग किया जाये तो यह बिलकुल अलग आनंद देता है.जो काम ब्लॉग करता है,वह यह नहीं करता और जो काम फेसबुक करता है,ब्लॉग नहीं कर सकता.दोनों में कोई प्रतियोगिता नहीं है,एक-दूसरे के पूरक हैं.
    ट्विटर की अपनी अलग पहचान और उपयोगिता है,मैं तो फिलहाल तीनों के मजे ले रहा हूँ,आपका भी स्वागत है !

    ReplyDelete
  10. फेसबुक पर ज्यादा एक्टिव मैं भी नहीं हूँ... पहले से ही सोच रखा है कि पूरी की पूरी सामाजिकता ओढने के बजाय इसे आपस में जुड़े रहने का माध्यम बनाकर ही रखा जाय .....

    ReplyDelete
  11. समय प्रबंधन पर सजग रहते हुए,फेसबुक सदुपयोग बुरा भी नहीं है।

    ReplyDelete
  12. ... लगाम अपने हाथ हो तो घोड़ा नहीं बि‍दक सकता ☺☺

    ReplyDelete
  13. इसमें क्या दो राय है कि फेसबुक एक अच्छा संकलक भी है -अब देखिये हम आज तो वही से यहाँ सीधे आ पहुंचे :)
    फेसबुक के कितने ही उपयोग अभी अनुदघाटित और अनजान से हैं!

    ReplyDelete
  14. पाठकों का हित सर्वोपरि है, आपके निर्णय का स्वागत है :)

    ReplyDelete
  15. फेसबुक के अपने फायदे हैं |चक्षु खुले रखें.....वही ग्रहण करें जो करना चाह्ते हों|संतुलन और नियम से चलना सर्वदा लाभप्रद रहता है ...!

    ReplyDelete
  16. बेशक आप फेसबुक पर समय व्यतीत ना करे पर अपने ब्लॉग की फीड फेसबुक तक पहुँचाने का उपक्रम सुचारू रूप से जारी रखें ताकि फेसबुक पर मौजूद पाठकों को आपका लिखा मिलता रहे|

    ReplyDelete
  17. फेसबुक भी पाठकों तक पहुँचने का जरिया बने तो सामाजिक मेलमिलाप के अतिरिक्त एक लाभ और हुआ ...यह सही है कि संतुलन आवशयक है !

    ReplyDelete
  18. सचमुच लेखन आप अपने लिए तो नहीं लिखते, लिखते तो पाठकों के लिए ही हैं और पाठक तक पहुँचाने के लिए आपको हर संभव प्रयास करना ही चाहिए खास कर उन पाठकों के लिए जिसे जिन्हें आपकी पोस्ट का इन्तजार रहता है| इसमें अहम को थोडा सेक्रिफई करना पड़े तो मुझे नहीं लगता कोई हर्ज है वैसे आपका अपना एक नजरिया है..और आप को मेरा राय देना मतलब आँखों वाले को अंधे का रास्ता बताना होगा ......आप जो भी फैसला लेंगे सर्वदा उचित ही लेंगे...

    ReplyDelete
  19. तो ये कारण था आपका फेसबुक से दुबारा जुड़ने का :)
    आपके तरह मैं अपना अकाउंट डिलीट तो नहीं करता
    लेकिन कभी कभी दस पन्द्रह दिन तक लोगिन नहीं करता.. ;)

    चलिए आप दुबारा आ गए, मुझे अच्छा लगा!!!

    ReplyDelete
  20. स्‍वयं को पाठक-प्रशंसक सुलभ बनाए रखने का जतन करना ठीक ही है.

    ReplyDelete
  21. कुछ फायदे कुछ नुकसान!

    ReplyDelete
  22. फेसबुक पर संयम बनाये रखने से समय की बर्बादी नहीं होगी ....अपने पाठकों के लिए लिंक्स तो दे ही सकते हैं ...

    ReplyDelete
  23. BLOGVANI KE jaane ke baad facebook se kafi blogs padhne ko mil jaate hai ...shukriyaa waaps aane ke liye

    ReplyDelete
  24. लेखन के साथ हर जगह रहें , बाकी सब बकवास है

    ReplyDelete
  25. बहुत अच्‍छा किया ...आपने

    ReplyDelete
  26. सही बात है,
    प्रवीण जी ये फेसबुक और ट्विटर तो ब्लाग के लिए गति अवरोधक हैं।

    ReplyDelete
  27. ब्लोगिंग के लिये फेसबुक,और ट्विटर, अवरोधक है,,,,,

    RECENT POST ,,,,, काव्यान्जलि ,,,,, ऐ हवा महक ले आ,,,,,

    ReplyDelete
  28. na chahte huye bhee facebook ki andhi me to fas hi gaye hai sab

    ReplyDelete
  29. कल 31/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  30. अतिथियों को यह कहना कि वे गलत हैं, यह तुरन्त खायी हुयी खीर के स्वाद को कसैला करने के लिये पर्याप्त था,

    मुझे भी यहाँ आने में वक्त लगाने का कारण भी यही था .... :)

    ReplyDelete
  31. फेसबुक तो मयखाने की तरह है,रोज रोज वहां जाएंगे तो नशे में वहीं पड़े रहेंगे। और हां ऐसे ऐसे नजारे देखने को मिलते हैं कि लगता है कहां आ गए। हां पांच दस दिन में एक चक्‍कर लगा लेना चाहिए । रही बात अपनी पोस्‍ट की तो वह तो आप बिना उस पर जाए भी शेयर कर ही सकते हैं।

    ReplyDelete
  32. आज फ़ेसबुक ने ऐसी पैठ बना ली है जिसे इग्नोर नही किया जा सकता………पुन: सक्रिय होने के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  33. blog ko chod kar anya mein atishyayata varjit hai

    ReplyDelete
  34. फेसबुक पर समय नष्ट किये बिना भी पोस्ट को फेसबुक पर डाला जा सकता है .
    इससे दोनों मकसद पूरे हो जायेंगे . बस पोस्ट के नीचे फेसबुक का लिंक लगा दीजिये .

    ReplyDelete
  35. वाह! बहुत खूब.. स्वागत है फेसबुक और ट्विटर पर फिर से :)
    बस दुआ करिये की आदत न पड़ जाए :P

    ReplyDelete
  36. पंचों की राय सरमाथे पर पतनाला यहीं गिरेगा .आखिर पाठाकों का एक अपनापन होता है आग्रह भी उसकी अनदेखी आप अपने खतरे पर ही कर सकतें हैं .
    कृपया यहाँ भी पधारें -


    ram ram bhai

    बुधवार, 30 मई 2012
    HIV-AIDS का इलाज़ नहीं शादी कर लो कमसिन से

    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    कब खिलेंगे फूल कैसे जान लेते हैं पादप ?

    ReplyDelete
  37. फेसबुक की उपयोगिता अलग है और कामयाब है ! ट्विट्टर समझ नहीं आता ...

    ReplyDelete
  38. यही तो हम कब से कह रहे थे..पर आप मानते ही नहीं थे:):). पाठकों की इच्छा , सुविधा सिर माथे होनी चाहिए. जरुरी नहीं आप वहाँ समय बिताएं बस एक लिंक चिपकाने से आपका काम हो जायेगा.

    ReplyDelete
  39. बहुत खूब ! स्वागत है फेस बुक पर...

    ReplyDelete
  40. sirjee networked blogs karke ek app hai, usko activate kar dijiye. jaise hi post likh ke post kariyega khud hi logon ke timeline pe aa jayegi. manually daalne ki zaroorat nahin hai

    ReplyDelete
  41. हम तो अभी तक अपने को दूर रख सके है फेसबुक से

    ReplyDelete
  42. फेसबुक के मालिक ने हमहिंदुस्तानियों ( खासकर) की बदौलत अरबों खरबों कमाने थे सो इशु लाकर कमा लिये, अब ब्लॉग पर रहिये या फिर फेसबुक पर जाइए उसे क्या फर्क पड़ता है ? :)

    ReplyDelete
  43. मैं शुरू से फ़ेसबुक को नहीं जानता था और सच कहूं तो पहले तो बिल्कुल नीरस सा लगता था , मगर फ़िर इसे भी जब एक संचार माध्यम और विचारों के तीव्र संपेषण के साथ तीव्रतम प्रतिक्रिया के एक मंच के रूप में देखना शुरू किया और सच कहूं तो उपयोग करना शुरू कर दिया तो बहुत जल्दी ही ये एहसास हुआ कि ..you love it or you hate it ..but you can't ignore it | आप खुद ही बताइए न कि आपके लिखे , प्रेषित , चस्पाए , किसी भी विषय , वस्तु पर एक मिनट से भी , कई बार तो ये दस सेकेंड से कम समय में होता है , सामने वाले की प्रतिक्रिया चाहे वो पसंद के रूप में ही क्यों न हो , आ जाती है तो इसकी तीव्रता का कोई मुकाबला है भला क्या ? ब्लॉगिंग का अलग फ़लक है और फ़ेसबुक का अलग दोनों को एक दूसरे का प्रतिस्पर्धी न बना कर पूरक बनाया जाए तो कहना ही क्या ...

    ReplyDelete
  44. kabhi kabhar ek nazar ham bhi dekh lete hain facebook..message to bahut aate hain jaane kya-kya karte hain log...idhar udhar tang kar rakh dete hain ...khair samay bahut hi kam milta hai isliye jab bhi samay milta hai blog hi dikhta hai ...
    bahut badiya chintan se bhari prastuti..

    ReplyDelete
  45. hmmm waise hum to bina facebook ke invitation ke hi aa gaye isme. waise facebook se muh mat modiye. kyunki jo chiz jode rakhe wo to achchi hi hui na.....

    ReplyDelete
  46. हम्म...हमारी असफलता का कारण फेसबुक से दूर रहना है!

    ReplyDelete
  47. '
    कुछ दिन पहले बंगलोर में रहने वाले और मेरे विद्यालय में पढ़े लगभग ४० लोगों का एक मिलन आयोजित किया था अपने घर में। पता लगा कि उसमें से बहुत से लोग ऐसे थे जो ब्लॉगजगत के सक्रिय पाठक थे, लिखते नहीं थे, टिप्पणी भी नहीं करते थे, पर पोस्टें कोई नहीं छोड़ते थे।'

    मेरे मन में सवाल उठ रहा है कि क्या सभी ब्लॉगरों के ऐसे पाठक है जो खुद ब्लॉगर नहीं है और अगर हाँ तो कितने और किस परिवेश से? क्या आप के सहकर्मी भी आप के सक्रिय पाठक हैं जैसे ये विधालय के दोस्त

    ReplyDelete
  48. बहुत पहले आचार्य धर्मेन्द्र का एक कार्यक्रम देखा था जसिमें उन्होंने माईक का उदाहरण दिया था, यही माइक माइकल जैक्सन प्रयोग करता है और वही माईक एक साधू|

    ReplyDelete
  49. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    पोस्ट साझा करने के लिए आभार!
    हमारा भी लिखना बन्द होने की कगार पर है!

    ReplyDelete
  50. आप सही कह रहे हैं फेस बुक पर लिंक से ही लोग ज्यादा आसानी से पढ़ते हैं और जो अच्छा लिखते हैं आपके जैसे उनके लिए तो पाठक कैसे भी पढेंगे सॉरी देर से पोस्ट देखी कई घंटे इंटरनेट खराब रहा

    ReplyDelete
  51. मेरे ब्लॉग पर भी काफी लोग फेसबुक से ही आते हैं...

    ReplyDelete
  52. लिखने वाला दिखता भी रहे तो लगता है जैसे पुस्तक के साथ कुंजी भी उपलब्ध है |

    ReplyDelete
  53. ट्विटर मुझे चलाना नहीं आता फ़ेस बुक का अंदाज बिल्कुल नहीं भाता।
    इसलिए सिर्फ़ ब्लॉग से रख छोड़ा है नाता
    जो आता है सो आता, बस।

    ReplyDelete
  54. फेसबुक..ठीक ही है.. ब्लॉग के काम्पेयारेटिवली कुछ ख़ास नहीं है.. ब्लॉग की बात कुछ अलग है..

    ReplyDelete
  55. ping.fm अपनाईए, बार बार लोगिन हुए बिना फेसबुक, ट्विटर सहित दसियों सोशल नेटवर्किंग साईट्स में तक अपनी ब्लॉग पोस्ट पहुंचाएं
    हम भी साईट्स के ट्विटर खातों के पासवर्ड भूल चुके लेकिन पोस्ट बाकायदा जातीं हैं उनमे


    ऐसे दसियों जुगाड़ हैं
    अब कोई कहे तो हिंदी में इस बारे में लिख ही दें :-)

    ReplyDelete
  56. बेशक फेसबुक और ट्वीटर आपको एक बड़े फलक पर फैला देती है .आप बने रहतें हैं .चिठ्ठे पर लेनदेन ज्यादा है .वन इज तू वन रिलेशन है .

    ReplyDelete
  57. फेसबुक की महिमा अपार। कई बार सोचते हैं इस पर समय नष्ट न करें, कोई पोस्ट लिख लें पर एक बार फेसबुक पर गये पता ही नहीं चलता कितना समय लगा आये।

    वैसे फेसबुक पर पोस्टें तो नेटवर्क्ड ब्लॉग या ping.fm जैसे माध्यमों से स्वचालित रूप से पहुँचायी जा सकती हैं। वैसे हम आपके फेसबुकिया और ट्विटरिया वन लाइनर पढ़ने को उत्सुक हैं।

    ReplyDelete
  58. और हाँ...
    विश्व भर में
    या केवल अपने शहर तक
    इंटरनेट पर अपने ब्लॉग के प्रचार हेतु,
    मुफ्त विज्ञापन के लिए गूगल द्वारा दिए गए हजारों रूपए का उपयोग भी किया जा सकता है

    ReplyDelete
  59. पांडे जी की अजीब महिमा ............चलिये लौट के फेसबुक पर आये ...........

    ReplyDelete
  60. हार्दिक शुभकामनाएं..पाठकों की संख्या बढती रहे...

    ReplyDelete
  61. सुबह का भूला....साँझ को घर तो आएगा ही
    लिखना तो चाहती थी...कुछ और
    पर गरिमा का ख्याल आगया
    सादर

    ReplyDelete
  62. aapko facebook par dekhkar achha laga.. mere khayal se kuch bhi bura nahin hota, use bura bana diya jaata hai... aapki is post ka link bhi facebook se hi mila.. ;-)

    ReplyDelete
  63. बहुत ही सुन्दर पोस्ट |

    ReplyDelete
  64. इसी प्रवाह के साथ लिखना, और दिखना भी बना रहे...!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  65. facebook par aur hamari mitra mandali me aapka swagat hai...:)

    ReplyDelete
  66. नफ़ा या नुक्सान अभी तय नहीं कर पाया की अकाउंट खोलूँ या नहीं फेसबुक पे ...

    ReplyDelete
  67. तमाम टिप्पणियों मे केवल रत्न सिंह शेखावत साहब की ही बात मे दम है आपने इसे समझ लिया । धन्यवाद।

    ReplyDelete
  68. I love facebook, more than my blog.

    ReplyDelete
  69. मैं भी संगीताजी से पूरी तरह सहमत हूँ.....अपने लिनक्स आप फेसबुक पे डाल दीजिये ...जिससे आपका लेखन सब तक पहुँच सके

    ReplyDelete
  70. कुछ लोग तो ऐसे कह रहे हैं -सांझ हुई और लाखों पाए ,लौट के लालू घर को आये ...भाई साहब फेस बुक तो अब जांघिये और बनियानों पर भी आ गया है ,शमीज़ नुमा आधुनिक कमीज़ (सारी )कथित 'टाप'/टॉप पर भी ,बचना फ़िज़ूल है .. .कृपया यहाँ भी पधारें -


    बृहस्पतिवार, 31 मई 2012
    शगस डिजीज (Chagas Disease)आखिर है क्या ?
    शगस डिजीज (Chagas Disease)आखिर है क्या ?

    माहिरों ने इस अल्पज्ञात संक्रामक बीमारी को इस छुतहा रोग को जो एक व्यक्ति से दूसरे तक पहुँच सकता है न्यू एच आई वी एड्स ऑफ़ अमेरिका कह दिया है .
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    गत साठ सालों में छ: इंच बढ़ गया है महिलाओं का कटि प्रदेश (waistline),कमर का घेरा
    साधन भी प्रस्तुत कर रहा है बाज़ार जीरो साइज़ हो जाने के .

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    ReplyDelete
  71. मैंने तो आपकी पिछली संबंधित पोस्ट पर पहले भी कहा था कि फेसबुक पाठकों तक पहुँचने के लिए सशक्त माध्यम है। उस पर आप अपने समय का सदुपयोग या दुरुपयोग करते हैं ये आप पर निर्भर है।

    ReplyDelete
  72. जुकरबर्गजी, आप नजरअन्दाज नहीं किये जा सकते हैं, हमारे परिचित और पाठकगण आपके माध्यम से ही मुझे जानना चाहते हैं। आपके बारे में मेरे पूर्व विचार न भी बदलें पर अपनों के सम्पर्क में बने रहने के लिये मुझे आपकी छत में रहने से कोई परहेज नहीं है।

    पर इस बार ट्विटर की चूँ चूँ भी साथ में रहेगी हमारे। जब दिखना है तो ढंग से और हर रंग से दिखा जायेगा।

    हम तो आपको ब्लॉग के सहारे ही पढ लेते हैं । चलिये कशमकश तो खत्म हुई ।

    ReplyDelete
  73. लेखन से प्रेम है तो ब्लोगिंग बेजोड़ है.

    ReplyDelete
  74. प्रवीण जी फेसबुक और ट्विटर तो ब्लाग के लिए गति अवरोधक नही बल्कि सहायक है..समय की कमी हो अलग बात है..जैसे कि मेरे पास ......

    ReplyDelete
  75. तभी हम सोंचे कि हमें काहे आपने फेस बुक पर जोड़ लिए ...अचानक से .....खेर जो हुआ अच्छा ही हैं ..आप लिखते ही अच्छा हैं ...

    ReplyDelete
  76. Facebook aur Twitter kii ankhon se tulna achhi lagi.....aap Search Engine Optimization par bhi thoda samay de sakte hain.

    ReplyDelete
  77. :) यार अच्छा लिखते थे, बन्द काहे कर दिया? :)

    ReplyDelete
  78. मित्रों ,
    सादर नमस्कार .

    वेब मीडिया और हिंदी का वैश्विक परिदृश्य - इस विषय पे एक पुस्तक प्रकाशित करने क़ी योजना पे मैं , भाई रविन्द्र प्रभात और शैलेश भारतवासी काम कर रहे हैं . आप का आलेख पुस्तक के लिए महत्वपूर्ण है , आप से अनुरोध है क़ि आप अपना आलेख भेज कर इस प्रकाशन कार्य में सहयोग दें . आलेख ३० जून तक भेजने क़ी कृपा करें . आलेख के लिए कुछ उप विषय इस प्रकार हैं -


    मीडिया का बदलता स्वरूप और इन्टरनेट

    व्यक्तिगत पत्रकारिता और वेब मीडिया

    वेब मीडिया और हिंदी

    हिंदी के विकास में वेब मीडिया का योगदान

    भारत में इन्टरनेट का विकास

    वेब मीडिया और शोसल नेटवरकिंग साइट्स

    लोकतंत्र और वेब मीडिया

    वेब मीडिया और प्रवासी भारतीय

    हिंदी ब्लागिंग स्थिति और संभावनाएं

    इंटरनेट जगत में हिंदी की वर्तमान स्थिति

    हिंदी भाषा के विकाश से जुड़ी तकनीक और संभावनाएं

    इन्टरनेट और हिंदी ; प्रौद्योगिकी सापेक्ष विकास यात्रा

    व्यक्तिगत पत्रकारिता और ब्लागिंग

    हिंदी ब्लागिंग पर हो रहे शोध कार्य

    हिंदी की वेब पत्रकारिता

    हिंदी की ई पत्रिकाएँ

    हिंदी के अध्ययन-अध्यापन में इंटरनेट की भूमिका

    हिंदी भाषा से जुड़े महत्वपूर्ण साफ्टव्येर

    हिंदी टंकण से जुड़े साफ्टव्येर और संभावनाएं

    वेब मीडिया , सामाजिक सरोकार और व्यवसाय

    शोसल नेटवरकिंग का इतिहास

    वेब मीडिया और अभिव्यक्ति के खतरे

    वेब मीडिया बनाम सरकारी नियंत्रण की पहल

    वेब मीडिया ; स्व्तंत्रता बनाम स्वछंदता

    इन्टरनेट और कापी राइट

    वेब मीडिया और हिंदी साहित्य

    वेब मीडिया पर उपलब्ध हिंदी की पुस्तकें

    हिंदी वेब मीडिया और रोजगार

    भारत में इन्टरनेट की दशा और दिशा

    हिंदी को विश्व भाषा बनाने में तकनीक और इन्टरनेट का योगदान

    बदलती भारती शिक्षा पद्धति में इन्टरनेट की भूमिका

    लोकतंत्र , वेब मीडिया और आम आदमी

    सामाजिक न्याय दिलाने में वेब मीडिया का योगदान

    भारतीय युवा पीढ़ी और इन्टरनेट

    वेब मीडिया सिद्धांत और व्यव्हार


    आप अपने आलेख भेज सहयोग करें , इन उप विषयों के अतिरिक्त भी अन्य विषय पे आप लिखने के लिए स्वतन्त्र हैं । आप के सुझाओ का भी स्वागत है ।

    आलेख यूनिकोड में भेजें यदि आपको यूनिकोड में टाइप करने में असुविधा महसूस हो रही है तो कृपया कृतिदेव के किसी फॉन्ट में आलेख भेज दें।

    आप इस साहित्यिक अनुष्ठान मे जिस तरह भी सहयोग देना चाहें, आप अवश्य सूचित करें ।

    डॉ मनीष कुमार मिश्रा
    अध्यक्ष - हिंदी विभाग
    के . एम . अग्रवाल महाविद्यालय 421301
    गांधारी विलेज, पडघा रोड , कल्याण - पश्चिम
    महाराष्ट्र
    8080303132
    manishmuntazir@gmail.com
    www.onlinehindijournal.blogspot.com
    www.kmagrawalcollege.ओर्ग
    http://www.facebook.com/pages/International-Hindi-Seminar-2013/351281781550754

    ReplyDelete