30.11.11

नये फिल्म समीक्षक

भोजन पर सब साथ बैठे थे, टेलीविजन को विश्राम दे दिया गया था, सबकी अपनी व्यस्तता में यही समय ऐसा मिलता है जब सब एक साथ बैठकर इधर उधर की बातें करते हैं। बच्चों के प्रति मन में स्नेह सदा ही रहा है, उनकी ऊर्जा एक प्रकाश स्तम्भ की तरह हम जैसे दूर जाते जहाजों को जीवन से जुड़े रहने का संकेत देती रहती है। यद्यपि स्वयं भी बचपन की राहों से होकर बड़ा हुआ हूँ पर अब भी औरों के बचपन से कुछ न कुछ सीखने की ललक बनी रहती है। उनको कभी हल्के में लेने का प्रश्न ही नहीं रहा, पहले उनके पालन में, फिर उनके प्रश्नों के उत्तर ढूढ़ने में और उनकी विचार प्रक्रिया समझने में समुचित सतर्कता बनाये रखनी पड़ती है। निश्चय मान लीजिये यदि आज उन्हें हल्के में लिया तो भविष्य में वही हल्कापन ससम्मान वापस मिल जायेगा।

यदि बच्चे आपकी व्यस्तता में आपका समय चाहते हैं तो या आप अपने कार्य को थोड़ा विराम देकर उनकी शंकाओं का समाधान कर दें या उन्हें यह बता दें कि आप उन्हें कब समय दे पायेंगे। झिड़क देने से या टहला देने से, आत्मीयता कुंठित होने लगती है और धीरे धीरे अपने आधार ढूढ़ने कहीं और चली जाती है। बच्चों को सम्मान देने का अर्थ यह कभी नहीं है कि उन्हें अनुशासन में न रहने का अधिकार मिल गया, वरन यह संदेश स्पष्ट करने का उपक्रम है कि उन्हें सकारात्मकता में पूर्ण सहयोग मिलेगा और नकारात्कता में पूर्ण विरोध।

भोजन के अतिरिक्त बच्चों को सोते समय कुछ न कुछ सुनाते अवश्य हैं, मुझे या श्रीमतीजी, जिसको  भी समय मिल जाये। श्रीमतीजी कहानी सुनाती हैं और मेरे हिस्से पड़ती हैं शेष जिज्ञासायें। मुझे कोई एक विषय देते हैं बच्चे और उस पर मुझे जो भी आता है, मुझे वह उनके समझने योग्य भाषा में सुनाना पड़ता है। पता नहीं कि कहानी सुनाने से मेरे लेखन को बल मिलता है या मेरे लेखकीय कर्म कहानी सुनाने को सरल बना देते हैं, पर इस कार्य में रोचकता सदा ही बनी रहती है। यह बात अलग है कि कभी कहानी सुनाते सुनाते मुझे भी नींद आ जाती है। बच्चों द्वारा प्रदत्त पिछले पाँच विषयों को देखकर आप मेरी दशा का अनुमान लगा सकते हैं। ये थे मौसम की भविष्यवाणी, टैंक की कार्यप्रणाली, फिल्मों का निर्माण, विद्युत का आविष्कार और कम्प्यूटर एनीमेशन। दिन भर थक जाने के बाद आपको इन विषयों पर बोलने को कहा जाये तो संभवतः आपको भी बच्चों के पहले ही नींद आ जाये। बच्चे भी अब ढूढ़ ढूढ़कर विषय लाने लगे हैं और मेरी परीक्षा लेने लगे हैं। जो भी परिणाम आये इस परीक्षा के, पर अब धीरे धीरे इस प्रक्रिया में आनन्द आने लगा है।

अन्य संवादों का संदर्भ देने का अभिप्राय उस स्तर को बताने का था जिस पर बच्चों का बौद्धिक आत्मविश्वास अधिकार बनकर झलकता है। यदि कहा जाये कि भोजन की मेज पर सबके बीच बराबर के स्तर पर बातचीत होती है तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी।
विषय था रॉकस्टार के गानों का, घर में सबको ही बहुत अच्छे लगे वे गाने, और उनके बोल भी। निर्णय लिया गया कि बच्चों की परीक्षाओं के बाद देखी जायेगी। गानों की तरह ही उसकी कहानी भी अच्छी होनी चाहिये। इतने में आठ वर्षीय बिटिया बोल उठीं कि मुझे मालूम कि कहानी क्या होगी। अच्छा, जब फिल्म देखी नहीं तो कैसे पता चली? बिटिया बोलीं, उसके गानों से। आश्चर्य, बड़े बड़े फिल्म समीक्षक भी किसी फिल्मों की कहानी उसके गाने देखकर नहीं बता सकते हैं, टीवी पर पाँच गाने देखकर बिटिया कहानी बताने को तैयार हैँ। भोजन का कौर जहाँ था, वहीं रुक गया, बिटिया कहानी बताने लगी।

रणबीर कपूर एक अच्छा लड़का होता है, गिटार बजाता है मंदिर में, हल्का हल्का अच्छा गाना गाता है (गीत फाया कुन)। फिर एक लड़की आती है जिसे वह मोटर साइकिल में घुमाता है, वही लड़की हीरो को बिगाड़ देती है, दोनों बेकार पिक्चर देखने जाते हैं (गीत कतिया करूँ)। लड़का उस लड़की के साथ और बिगड़ जाता है, दाढ़ी बढ़ा लेता है, बेकार से कपड़े पहनता है और तेज तेज गाना गाता है (गीत जो भी मैं)। फिर वह सबके साथ लड़ाई करने लगता है, गाने में एक बार गाली भी देता है, पुलिस से भी लड़ता है और पुलिस उसे पकड़कर भी ले जाती है (गीत साडा हक)। जब उसे अपनी गलती पता चलती है तो उसे बहुत खराब लगता है और वह पहले जैसा होना चाहता है (गीत नादान परिन्दे)।

इतनी स्पष्ट कहानी सुन मेरी बुद्धि स्तब्ध सी रह गयी। पता नहीं, कहानी यह है कि नहीं, वह तो देखने पर ही पता चलेगा, पर अपने घर में एक नये फिल्म समीक्षक को पाकर हम धन्य हो गये।

84 comments:

  1. निश्चय मान लीजिये यदि आज उन्हें हल्के में लिया तो भविष्य में वही हल्कापन ससम्मान वापस मिल जायेगा।
    Pooree tarah sahmat hun aapke wicharon se!

    ReplyDelete
  2. बच्चों को अपने मन की बात बाहर निकाल देने चाहिए, बच्चॆ भी बडे काम की बात कह जाते है।

    ReplyDelete
  3. यूं तकिये पर लैपटाप रखने से उसके नीचे वाले air vent बंद हो जाने से वह गर्म हो जाता है. शार्ट सर्किट भी हो सकता है.
    :)

    ReplyDelete
  4. फ़िल्मी गाने बच्चों की सामान्य बुद्धि में बहुत वृद्धि कर रहे हैं :),
    अक्सर फिल्मों की कहानी ऐसी ही होती है !
    बच्चों को रोज नई कहानी सुनाना खासी चुनौती होती है .
    पारिवारिक माहौल की पोस्ट अच्छी लगी !

    ReplyDelete
  5. ग्रेट!!!

    गानों में ही पूरी कहानी बयान कर दी...

    best wishes!!

    ReplyDelete
  6. हमें तो बचपन में अम्मा और नानी की कहानियां सुनने को मिल जाती थी पर आज के बच्चों को इस बारे में ही पता नहीं है.मैं भी कभी बेटे की जिद पर कहानी सुनाया करता था व उससे भी सुनता था पर अब नहीं.
    बच्चे कितने समझदार होते जा रहे है ,समय से बहुत आगे !

    बिटिया को मेरा आशीष :-)

    ReplyDelete
  7. हमरा तो मन कर रहा है कि आपके यहाँ बच्चे बन कर जियें ....और पीला वाला कप कास कर पकडें रहें!

    ReplyDelete
  8. सार्थक और सामयिक, आभार .

    ReplyDelete
  9. सार्थक आलेख |आम के वृक्ष पर आम का फल ही लगेगा .....
    बस थोड़ी देख भाल करना पड़ती है ..समय-समय पर .....नए फिल्म समीक्षक से मिल कर बहुत अच्छा लगा |हमारी शुभकामनायें...!!

    ReplyDelete
  10. इन फिल्मों ने ही बच्चों को अधिक समझदार बना दिया है

    ReplyDelete
  11. बच्चों की कल्पनाशीलता बड़ो को भी मात कर जाती है कभी कभी ....जैसे मौजूदा उदाहरण ही :)

    ReplyDelete
  12. प्रवीण जी ,सामने टेबल पर नमकीन से भरी प्लेट हमें ललचाने के लिए रखी है क्या ?
    काजल जी की बात पर ज़रूर गौर करिये,वैसे मैं समझता हूँ यह महज़ 'पोज़' का उपक्रम था !

    अब लगे हाथों माडरेशन भी हटा डालिए ताकि लोगों की डबल,तिबल टीपें और मिस-प्रिंट टीपें न आ सकें !

    आभार !

    ReplyDelete
  13. नईं समीक्षक की बाते खूब भायीं .... :)

    सच है की बच्चों को समय और साथ की ज़रुरत होती है .... ताकि वे अपने विचार और कल्पनाशीलता बाँट सकें ....

    ReplyDelete
  14. क्या बात!!!!:):):)

    ReplyDelete
  15. बधाई हो नन्हे फिल्म समीक्षक के लिए .. इतनी सुन्दर कहानी बनायीं है उन्होंने तो उन्हें तो बधाई मिलनी चाहिए .. और आपका बच्चो के प्रति माँ पिता किस तरह से समय दें .. अच्छा लेख भी है.. सुन्दर ..

    ReplyDelete
  16. Boss tussi great ho. I am regular reader of your blog but could not respond as I have never tried writing in Hindi. Your posts are simple, clear and out of everyday experiences which we even don't notice.
    Your posts remind my of the small stories by Sudha Murthy. I can say that next Chetan Bhagat or Sudha Murthy is coming from Railways.

    ReplyDelete
  17. वाह ...बहुत ही बढि़या नई समीक्ष‍क को बधाई ..आपका आभार रोचकता से इसे प्रस्‍तुत करने का ।

    ReplyDelete
  18. "उनकी ऊर्जा एक प्रकाश स्तम्भ की तरह हम जैसे दूर जाते जहाजों को जीवन से जुड़े रहने का संकेत देती रहती है" असहमत कैसे हों.

    ReplyDelete
  19. प्रवीणजी,
    फ़िल्म तो हमने नहीं देखी और न ही गाने सुने हैं लेकिन फ़िल्म समीक्षा पढने के बाद अब सुनने का मन है।
    एक अन्य प्रशन है, आपके सुपुत्र ने चित्र खिंचवाते समय हाथ से जिस मुद्रा का प्रदर्शन किया है, उसका हमारे प्रान्त टेक्सास में एक प्रसिद्ध यूनिवर्सिटी से सम्बन्ध है। सिर्फ़ जिज्ञासा है कि कहीं University of Texas at Austin भारत में भी इतनी मशहूर हो गयी है क्या?

    ReplyDelete
  20. समीक्ष‍क को बधाई ....!

    ReplyDelete
  21. बहुत मज़ा आया पढ़ कर।
    फोटो मे आपके प्यारे से लैपटॉप को किसी की नज़र न लगे :)

    सादर

    ReplyDelete
  22. ना तो हमारे माता-पिता ने पीले कप हमें पकडाये और ना ही हमने उनसे सवाल किये। नतीजा आज सिफर हैं और आपको पढ कर कुछ सीख गये तो अपने बच्चों को जरुर पीले कप दे देंगे। ताकि वो हमारी तरह सिफर ना रहें, चाहे देवला बिटिया के जैसे समीक्षक ना बन पायें।
    बिटिया को शुभकामनायें
    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  23. बड़ी सिनर्जी है परिवार में! पढ़ कर बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  24. बिल्कुल सहमत..
    अच्छा और सार्थक लेख।

    ReplyDelete
  25. बस अपनी सोच तो जीवन में यही रही है ...
    निश्चय मान लीजिये यदि आज उन्हें हल्के में लिया तो भविष्य में वही हल्कापन ससम्मान वापस मिल जायेगा।
    ससम्मान की भी गारंटी नही ....!
    बधाई बढिया सोच के लिए !

    ReplyDelete
  26. जीवन जगत परिवार से जुड़े प्रसंगों को आप अपनी आत्मीयता अपनापन देते हैं एक विश्लेषण करते चलते हैं आप रोजमर्रा की ज़िन्दगी का घर बाहर की जो दिलचस्प ही नहीं प्रेरक मार्गदर्शक भी बनता रहता है .बधाई .

    ReplyDelete
  27. बच्चों को जो समय आपने और श्रद्धा जी ने दिया वो अपनी सकारात्मकता दिखाने लगा है ..बच्चों को अशेष शुभकामनायें !!!

    ReplyDelete
  28. मैंने‍ फिल्‍म देख ली है। नए समीक्षकों ने समीक्षा बिलकुल खरी की है। फिल्‍म का निचोड़ तो यही है।

    ReplyDelete
  29. प्रवीण जी ठीक ऐसा ही मेरे साथ भी हो रहा है... बड़ा बेटा पुराने कंप्यूटर और मोनिटर को कबाड़ी को बेचने नहीं दिया.. आज कल खेल रहा है उन्ही से...नए नए विषयों पर हमारे सामान्य ज्ञान की परीक्षा लेता है.... कोशिश करता हूं कि उत्तर दू... कई बार दूसरे दिन उत्तर दे पता हूं... नई नई कहानिया बनाता हूं... मन कर रहा है यदि उन्हें संग्रह कर लूं तो एक अच्छा संकलन तैयार हो सकता है.... बहुत आत्मीयता से लिखी गई है पोस्ट... युवा पेरेंट्स के लिए मार्गदर्शक बनेगी...

    ReplyDelete
  30. क्या सूक्ष्म नज़र है बिटिया की...:)

    ReplyDelete
  31. बच्चों की कल्पनाशीलता गज़ब की होती है .. और यह आपके इस लेख से भी पता चल गया ... समीक्षक को पिक्चर दिखा ही दीजियेगा :)

    ReplyDelete
  32. बच्‍चे सब जानते हैं।

    ReplyDelete
  33. चलिए समीक्षा के नाम पर पूरी कहानी तो सुन ली आपने , नन्ही परी को आशीर्वाद .

    ReplyDelete
  34. बिटिया रानी को मेरा शुभाशीष ,वह निरंतर ज्ञान अर्जित करे

    ReplyDelete
  35. बच्चों को फोकस में लिए रहतें हैं आप ,बहुत विरल और अच्छा करतें हैं वगरना आज सब कुछ रहते माँ बाप के पास बच्चों के लिए वक्त नहीं हैं आप तो आदर्श ब्लॉग पुरुष भी हैं पिता और पति भी सहकर्मी भी प्रेरक हैं .

    ReplyDelete
  36. फिल्म समीक्षा तो बाद में…पहले फिल्में देखते-देखते ये बच्चे इतने आगे निकल गए लगते हैं कि फिल्म बनाने वालों और उसकी कहानी गानों से ही जान लेते हैं। यह तो फिल्म वालों की असफलता हुई न?…

    ReplyDelete
  37. बिलकुल सही समीक्षा की है नए समीक्षक ने:)
    she seems to have connected with the movie precisely with her brilliant imagination!!!

    ReplyDelete
  38. नन्हें समीक्षको को शुभकामनाएं...बच्चो की बाते बहुत प्यारी होती है...सार्थक आलेख..

    ReplyDelete
  39. बच्चा नहीं समझने का ..क्या ????:):).
    वाकई इन बच्चों की क्षमता और अक्ल देख कर काम्प्लेक्स होने लगता है.
    तस्वीर बहुत ही प्यारी है.

    ReplyDelete
  40. भोजन काल में बाल-बच्चों द्वारा फिल्म विश्लेषण!! निश्चय ही बाल की खाल नहीं, सार्थक!!

    ReplyDelete
  41. निश्चय ही आज कल के बच्चे ग्रेट हैं...

    ReplyDelete
  42. होनहार बिरवान के लक्षण यही- खाद-पानी बढ़िया मिल ही रहा है.
    देखा न ,आप नहीं पहुँच पाये जहाँ वे चुटकी में पहुँच गये !

    ReplyDelete
  43. यह फिल्म समीक्षक उतना ही अद्भुत जितना की उसके पिताजी का सरस रोचक लेख। आपको इन दोनो अनमोल निधियों के शत-शत बधाई।ईश्वर आपकी इन दोनों निधियों को निरंतर और उन्नत कर, यही कामना है।

    ReplyDelete
  44. :) पहले पैराग्राफ की लास्ट लाइन बहुत अच्छी लगी | :)

    ReplyDelete
  45. घर की कहानी, घर-घर की नहीं.

    ReplyDelete
  46. ऐसा लगा आपके साथ बैठ कर सुन रहा हू..काफी गहरे इशारे किये आपने. प्रज्ञावान विचारो के लिए धन्यवाद. (शुद्ध हिंदी :-))

    ReplyDelete
  47. सर बहुत ही प्रेरणादायी पोस्ट

    ReplyDelete
  48. सर बहुत ही प्रेरणादायक पोस्ट |बच्चों की जिज्ञासा का समाधान करना ही चाहिए |

    ReplyDelete
  49. नन्ही फिल्म समीक्षक को ढेरों बधाई और शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  50. आज के बच्चों का आईक्यू भी बढ रहा है साथ ही माता-पिता भी उनके प्रित
    अधिक संवेदनशील हो गयें है. इस समीक्षा के माध्यम से आपने भी
    माता-पिता को जागरूक किया.साभार.

    ReplyDelete
  51. आज के बच्चों का आईक्यू भी बढ रहा है साथ ही माता-पिता भी उनके प्रित
    अधिक संवेदनशील हो गयें है. इस समीक्षा के माध्यम से आपने भी
    माता-पिता को जागरूक किया.साभार.

    ReplyDelete
  52. बच्चों के द्वारा की गई सुंदर समीक्षा..अच्छी लगी
    साथ ही आपका आलेख पसंद आया,..
    पोस्ट में आने के लिए आभार,...

    ReplyDelete
  53. नई फ़िल्म समीक्षक की बेबाक राय बेहतरीन लगी। फिल्म नहीं देखी,लेकिन अगर ऐसा ही है तो इम्तियाज़ का करियर ख़तरे में है!

    ReplyDelete
  54. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-715:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  55. sahi hai baccho ko halke me na lo .....

    ReplyDelete
  56. बाप तो बाप बच्चे रे बच्चे !

    ReplyDelete
  57. Children are our future. We ought to understand them.

    ReplyDelete
  58. naye sameekshak ka aagman shubh ho...
    ab kuchh nayi sameeksha padhne ko milegee....!!
    keep it up, my darling.....!!

    ReplyDelete
  59. मेरा अनुभव है कि बच्‍चों को हमसे कुछ मिले या न मिले, बच्‍चों से हमें काफी-कुछ मिलता है। बच्‍चों से बातें करने का अर्थ ही है - कुछ हासिल कर लेना।

    ReplyDelete
  60. नई फिल्मों के लिए नए समीक्षक की ही जरुरत है.....

    ReplyDelete
  61. नये फ़िल्म समीक्षक का स्वागत है!

    काजल कुमार की बात ध्यातव्य है! :)

    ReplyDelete
  62. खुशकिस्मत हो प्रवीण भाई ....
    आगे से फिल्म समझाने के लिए माथापच्ची नहीं करनी पड़ेगी !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  63. खुशकिस्मत हो प्रवीण भाई ....
    आगे से फिल्म समझाने के लिए माथापच्ची नहीं करनी पड़ेगी !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  64. "यूं तकिये पर लैपटाप रखने से उसके नीचे वाले air vent बंद हो जाने से वह गर्म हो जाता है. शार्ट सर्किट भी हो सकता है."
    Kajak ji ka ye comment dhyan dene laayak hai.

    aapki sameeksha badi rachak hai.

    ReplyDelete
  65. शुक्रिया ज़नाब सलामत रहो .सपरिवार ऐसे ही आगे बढ़ो बढ़ते रहो .अच्छी पोस्ट .

    ReplyDelete
  66. बिटिया की एंटीसिपेटरी-समीक्षा लाजवाब है...

    बच्चे एक ही सवाल को कई बार पूछे, हम जवाब देते नहीं थकते...लेकिन कोई बुज़ुर्ग ऐसे सवाल करे तो हम खीझ क्यों जाते हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  67. aajkal ke bachchon se to mujhe lagta hai ki main hi unse kuch seekh rahi hun.....waise rock star ki ye rocking story aapki bitiya ke kahe anusar hi hogi..... film to dekhi nahi hai ab tak..... lekin ab to story pura puri pata to ho hi gaya hai....

    ReplyDelete
  68. सबसे पहले तो सचेत कर दूँ- बच्चों को लेकर मैं भी चली गयी थी और परिणाम यह हुआ कि न स्वयं मनोयोग पूर्वक फिल्म देख पायी और न ही बच्चों की जिज्ञासाओं का समाधान कर पायी...छोटे बच्चों के लायक बिलकुल भी नहीं फिल्म...इसलिए गलती से भी लेकर न जाएँ..

    जिस तरह का वातावरण घर का आप दंपत्ति रखे हुए हैं, अपार हर्ष हुआ जानकार...बच्चों का मानसिक विकास ऐसे ही परिवेश में ढंग से हो पाता है..

    ReplyDelete
  69. आपकी बाते आज भी उतनी ही खूबसूरत | आज आपको सब परिवार देखा बहुत अच्छा लगा आपका सबका साथ ऐसा ही बना रहे और सबको बेशुमार खुशियाँ मिलती रहे |
    हर बार की तरह सुन्दर |

    ReplyDelete
  70. यदि बच्चे आपकी व्यस्तता में आपका समय चाहते हैं तो या आप अपने कार्य को थोड़ा विराम देकर उनकी शंकाओं का समाधान कर दें या उन्हें यह बता दें कि आप उन्हें कब समय दे पायेंगे।


    ---बिल्कुल सही कहा!! आपसे सहमत!!

    ReplyDelete
  71. निश्चित ही बच्चे ज्यादा सहज होते हैं इसीलिए वे सच्चे और अच्छे होते है और उनकी दृष्टि ज्यादा गहरी होती है.यही सहजता हम धीरे-धीरे खोते चले जाते हैं और जिंदगी से नाता टूटता चला जाता है.

    ReplyDelete
  72. बच्चों का ज्ञान ज्यादा है आज ...
    अच्छा लगा आपका परिवार सहित कुछ लम्हों को जीने का अंदाज़ ...

    ReplyDelete
  73. बच्चों को समय देने वाली आपकी बात सोलह आने सच है। बिटिया में भविष्य का बेहतरीन ब्लॉगर दिख रहा है।

    ReplyDelete
  74. बहुत ही बढ़िया रोचक आलेख पढ़कर बहुत मज़ा आया अक्सर यही होता है जिन चीजों पर हम ध्यान नहीं दे पते बच्चों कि नज़र और ध्यान उन्हीं चीज़ पर ज्यादा हुआ करता है। बस भलाई इसी में है कि हम अभिभावकों के साथ बच्चे इसी तरह मन के सच्चे बने रहे :-)

    ReplyDelete
  75. gt so many things to say :)
    1. u r an awesome dad, ur kids r so lucky !!
    2. ur daughter is a clever girl :)
    3. Rockstar is an awesome movie n she captured around 45% of movie with those songs !!

    यदि आज उन्हें हल्के में लिया तो भविष्य में वही हल्कापन ससम्मान वापस मिल जायेगा।
    Super Like line :)

    ReplyDelete
  76. मकर संक्रांति की हार्दिक शुभ कामनाएँ।
    ----------------------------
    आज 15/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete