9.11.11

संदेश और कोलाहल

कभी किसी को भारी भीड़ में दूर खड़े अपने मित्र से कुछ कहते सुना है, अपना संदेश पहुँचाने के लिये बहुत ऊँचे स्वर में बोलना पड़ता है, बहुत अधिक ऊर्जा लगानी पड़ती है। वहीं रात के घुप्प अँधेरे में झींगुर तक के संवाद भी स्पष्ट सुनायी पड़ते हैं। रात में घर की शान्ति और भी गहरा जाती है जब सहसा बिजली चली जाती और सारे विद्युत उपकरण अपनी अपनी आवाज़ निकालना बन्द कर देते हैं। पार्श्व में न जाने कितना कोलाहल होता रहता है, हमें पता ही नहीं चलता है, न जाने कितने संदेश छिप जाते हैं इस कोलाहल में, हमें पता ही नहीं चलता है। जीवन के सभी क्षेत्रों में संदेश और कोलाहल को पृथक पृथक कर ग्रहण कर लेने की क्षमता हमारे विकास की गति निर्धारित करती है। 

किसी ब्लॉग में पोस्ट ही मूल संदेश है, शेष कोलाहल। यदि संवाद व संचार स्पष्ट रखना है तो, संदेश को पूरा महत्व देना होगा। जब आधे से अधिक वेबसाइट तरह तरह की अन्य सूचनाओं से भरी हो तो मूल संदेश छिप जाता है। शुद्ध पठन का आनन्द पाने के लिये एकाग्रता आवश्यक है और वेबसाइट पर उपस्थित अन्य सामग्री उस एकाग्रता में विघ्न डालती है। अच्छा तो यही है कि वेबसाइट का डिजाइन सरलतम हो, जो अपेक्षित हो, केवल वही रहे, शेष सब अन्त में रहे, पर बहुधा लोग अपने बारे में अधिक सूचना देने का लोभ संवरण नहीं कर पाते हैं। आप यह मान कर चलिये कि आप की वेबसाइट पर आने वाला पाठक केवल आपका लिखा पढ़ने आता है, न कि आपके बारे में या आपकी पुरानी पोस्टों को। यदि आपका लिखा रुचिकर लगता है तो ही पाठक आपके बारे में अन्य सूचनायें भी जानना चाहेगा और तब वेबसाइट के अन्त में जाना उसे खलेगा नहीं। अधिक सामग्री व फ्लैश अवयवों से भरी वेबसाइटें न केवल खुलने में अधिक समय लेती हैं वरन अधिक बैटरी भी खाती हैं। अतः आपके ब्लॉग पर पाठक की एकाग्रता बनाये रखने की दृष्टि से यह अत्यन्त आवश्यक है कि वेबसाइट का लेआउट व रूपरेखा सरलतम रखी जाये।

यह सिद्धान्त मैं अपने ब्लॉग पर तो लगा सकता हूँ पर औरों पर नहीं। अच्छी लगने वाली पर कोलाहल से भरी ऐसी वेबसाइटों पर एक नयी विधि का प्रयोग करता हूँ, रीडर का प्रयोग। सफारी ब्राउज़र में उपलब्ध इस सुविधा में पठनीय सामग्री स्वतः ही एक पुस्तक के पृष्ठ के रूप में आ जाती है, बिना किसी अन्य सामग्री के। इस तरह पढ़ने में न केवल समय बचता है वरन एकाग्रता भी बनी रहती है। सफारी के मोबाइल संस्करण में भी यह सुविधा उपस्थित होने से वही अनुभव आईफोन में भी बना रहता है। गूगल क्रोम में इस तरह के दो प्रोग्राम हैं पर वाह्य एक्सटेंशन होने के कारण उनमें समय अधिक लगता है।

किसी वेबसाइट पर सूचना का प्रस्तुतीकरण किस प्रकार किया जाये जिससे कि अधिकाधिक लोगों को उसका लाभ सरलता से मिल पाये, यह एक सतत शोध का विषय है। विज्ञापनों के बारे में प्रयुक्त सिद्धान्त इसमें और भी गहनता से लागू होते हैं, कारण सूचना पाने की प्रक्रिया का बहुत कुछ पाठक पर निर्भर होना है। यदि प्रस्तुतीकरण स्तरीय होगा तो पाठक उस वेबसाइट पर और रुकेगा। अधिक सूचना होने पर उसे व्यवस्थित करना भी एक बड़ा कार्य हो जाता है। कितनी सूचियाँ हों, कितने पृष्ठ हों, वे किस क्रम में व्यवस्थित हों और उनका आपस में क्या सम्बन्ध हो, ये सब इस बात को ध्यान में रखकर निश्चित होते हैं कि पाठक का श्रम न्यूनतम हो और उसकी सहायता अधिकतम। उत्पाद या कम्पनी की वेबसाइट तो थोड़ी जटिल तो हो भी सकती है पर ब्लॉग भी उतना जटिल बनाया जाये, इस पर सहमत होना कठिन है।

अन्य सूचनाओं के कोलाहल में संदेश की तीव्रता नष्ट हो जाने की संभावना बनी रहती है। यदि हम उल्टा चलें कि ब्लॉग व पोस्ट के शीर्षक के अतिरिक्त और क्या हो पोस्ट में, संभवतः परिचय, सदस्यता की विधि, पाठकगण और पुरानी पोस्टें। ब्लॉग में इनके अतिरिक्त कुछ भी होना कोलाहल की श्रेणी में आता है, प्रमुख संदेश को निष्प्रभावी बनाता हुआ। बड़े बड़े चित्र देखने में सबको अच्छे लग सकते हैं, प्राकृतिक दृश्य, अपना जीवन कथ्य, स्वयं की दर्जनों फ़ोटो, पुस्तकों की सूची और समाचार पत्रों में छपी कतरनें, ये सब निसंदेह व्यक्तित्व और अभिरुचियों के बारे एक निश्चयात्मक संदेश भेजते हैं, पर उनकी उपस्थिति प्रमुख संदेश को धुँधला कर देती है।

गूगल रीडर की फीड व सफारी की रीडर सुविधा इसी कोलाहल को प्रमुख संदेश से हटाकर, प्रस्तुत करने का कार्य करते हैं। यह भी एक अकाट्य तथ्य है कि गूगल महाराज की आय मूलतः विज्ञापनों के माध्यम से होती है और ब्लॉग के माध्यम से आय करने वालों के लिये विज्ञापनों का आधार लेना आवश्यक हो जाता है, पर विज्ञापन-जन्य कोलाहल प्रमुख संदेश को निस्तेज कर देते हैं।

मेरा विज्ञापनों से कोई बैर नहीं है, पर बिना विज्ञापनों की होर्डिंग का नगर, बिना विज्ञापनों का समाचार पत्र, बिना विज्ञापनों का टीवी कार्यक्रम और बिना विज्ञापनों का ब्लॉग न केवल अभिव्यक्ति के प्रभावी माध्यम होंगे अपितु नैसर्गिक और प्राकृतिक संप्रेषणीयता से परिपूर्ण भी होंगे।

आईये, अभिव्यक्ति का भी सरलीकरण कर लें, संदेश रहे, कोलाहल नहीं।

71 comments:

  1. सलाह काफी लोगों के काम की होगी. हम ठहरे नोइज़-अनैलिसिस वाले बन्दे, सो अपनी बात और है.

    ReplyDelete
  2. बिना विज्ञापनों की होर्डिंग का नगर, बिना विज्ञापनों का समाचार पत्र, बिना विज्ञापनों का टीवी कार्यक्रम और बिना विज्ञापनों का ब्लॉग न केवल अभिव्यक्ति के प्रभावी माध्यम होंगे अपितु नैसर्गिक और प्राकृतिक संप्रेषणीयता से परिपूर्ण भी होंगे।

    सहमत हूँ आपसे ... सबसे ज्यादा अहमियत तो हमारे लिखे विचारों की ही है बाकि सब तो कोलाहल ही कहा जायेगा .....काफी समय से गूगल रीडर का ही प्रयोग कर रही हूँ पोस्ट्स पढ़ने के लिए.......

    ReplyDelete
  3. बिना विज्ञापनों की होर्डिंग का नगर, बिना विज्ञापनों का समाचार पत्र, बिना विज्ञापनों का टीवी कार्यक्रम और बिना विज्ञापनों का ब्लॉग न केवल अभिव्यक्ति के प्रभावी माध्यम होंगे अपितु नैसर्गिक और प्राकृतिक संप्रेषणीयता से परिपूर्ण भी होंगे।

    आपकी सलाह विचारणीय ही नहीं बल्कि आवश्यक भी है .....देखते हैं क्या करते हैं हम अपने ब्लॉग पर ....!

    ReplyDelete
  4. एकदम सहमत, कोलाहल से दूर होना चाहिये परंतु आजकल बहुत सारे लोगों को सारी सुविधाएँ एकदम मिलनी चाहियें, नहीं तो वे ब्राऊजर पर क्रास मारके निकल लेते हैं।

    ReplyDelete
  5. बढ़िया जानकारी युक्त उपयोगी श्रंखला ....
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  6. नेक सुझाव.

    ReplyDelete
  7. बहुत मार्के की पोस्ट -मैं भी ऐसे कई ब्लागों से आक्रान्त सा हूँ और अब अपने ब्लॉग की भी अच्छी वीडिंग करने का मन है! आभार !

    ReplyDelete
  8. आपके पोस्ट पर आना सार्थक लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । सादर।

    ReplyDelete
  9. आप ने पहले से ही कचरा-प्रबंधन कर रखा है ,अनुकरणीय ब्लॉग है आपका ! रीडर को ले कर मैं भी परेशान रहता हूँ !

    ReplyDelete
  10. आपकी यह बात बहुत ही पसंद आयी। कई ब्‍लाग्‍स पर गाने लगा दिए जाते हैं, जिस कारण पोस्‍ट पढ़ने में कठिनाई आती है और कई बार बिना पढ़े ह‍ी ब्‍लाग बन्‍द करना पड़ता है।

    ReplyDelete
  11. अच्छी सूरत को सँवरने की जरुरत क्या है
    सादगी भी तो कयामत की अदा होती है.

    बेशक , उपयोगी संदेश.

    ReplyDelete
  12. ब्लॉग पढ़ने को सरल करने के लिए ब्लॉगर ने भी एक नया लेआउट बनाया है. किसी भी ब्लॉग के अड्रेस के अंत में आप अगर /view टाइप करते हैं तो आपको ब्लॉग सरल अवतार में मिलेगा.

    व्यू के अलग ऑप्शंस आपको क्लास्सिक,फ्लिप्कार्ड, मैग्जीन लेआउट देते हैं. किसी ब्लॉग में अगर बहुत सारी सामग्री है तो मैं ऐसे ही पढ़ती हूँ. इसमें स्क्रीन पर सिर्फ पोस्ट आती है और पोस्ट के नीचे कमेन्ट की संख्या.

    ReplyDelete
  13. नैसर्गिक , अतुलित सन्देश लेकर आते है आप

    ReplyDelete
  14. अच्छी जानकारी उपयोगी सलाह सुंदर पोस्ट....
    मेरे नए पोस्ट में स्वागत है

    ReplyDelete
  15. बहुत ही प्रेरणात्‍मक एवं ज्ञानवर्धक प्रस्‍तुति ...आभार ।

    ReplyDelete
  16. जीवन के सभी क्षेत्रों में संदेश और कोलाहल को पृथक पृथक कर ग्रहण कर लेने की क्षमता हमारे विकास की गति निर्धारित करती है।

    हम संगीत से जुड़े हुए लोगों के लिए भी आपका ये कथन बहुत उपयोगी है ...!!
    सार्थक ...सुंदर लेख ...

    ReplyDelete
  17. अच्छी जानकारी,
    बढिया सुझाव।

    ReplyDelete
  18. उपयोगी आलेख... कोलाहल को समझने के लिए कोलाहल से गुज़ारना जरुरी है....

    ReplyDelete
  19. kuch nahi kahungi.shayad mera blog is kolahal ka udahran hai...:)par aapne acchi tarkeeb nikali kolahal se bachne ki:)

    ReplyDelete
  20. हाँ सरल,सुन्दर और सटीक ब्लॉग ही पसंद आता है.. ज्यादा हो-हल्ला हो तो ऑफिस में ब्लॉग नहीं खोल सकते हैं.. पर सादे पृष्ठ पर काले अक्षर हो तो लगेगा की कुछ अच्छा ही पढ़ रहा है लगता है :D

    ReplyDelete
  21. विचारणीय सलाह.

    ReplyDelete
  22. आईये, अभिव्यक्ति का भी सरलीकरण कर लें, संदेश रहे, कोलाहल नहीं।
    वाह...क्या खूब बात कही है

    नीरज

    ReplyDelete
  23. आपका कहना १०० फी सदी सही है ..

    ReplyDelete
  24. बेहतरीन जानकारी देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  25. बेहतरीन जानकारी देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  26. बहुत ही उपयोगी आलेख

    ReplyDelete
  27. यकीनन अनुकरणीय है यह सलाह

    ReplyDelete
  28. जब भी मैं आपके ब्लॉग में आता, इसके सरलतम रूप पर मुग्ध होता। तकनीकी ज्ञान के अभाव में अधिक कुछ नहीं कर सका। हेडर हटा देता हूँ। और कुछ क्या कर सकता हूँ आप देख कर सलाह दें तो अच्छा रहेगा।...आभार आपका।

    ReplyDelete
  29. बहुत कुछ हटा बढ़ा दिया अपने ब्लॉग से..अब देखिए और बताइये कैसा लग रहा है...अक्षर काले होते तो और मजा आता।

    ReplyDelete
  30. Bahut he acchi salaah!

    ReplyDelete
  31. जीवन कथ्य, स्वयं की दर्जनों फ़ोटो, पुस्तकों की सूची और समाचार पत्रों में छपी कतरनें जैसी बातें उन्ही स्थानों पर अधिक दिखती है जो स्वत सुखाय के गर्व के साथ लिखते हैं लेकिन अधिक से अधिक (टिप्पणी सहित) पाठक देखना चाहते हैं

    आपके द्वारा वर्णित उपाय निश्चित ही सटीक हैं
    किन्तु सोलह श्रृंगार की रसिकता फिर कहाँ जाएगी :-)

    ReplyDelete
  32. आपके पोस्ट पर आना सार्थक सिद्ध हुआ । पोस्ट रोचक लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  33. कार्टून ब्लाग पर कोलाहल न हो तो बेचारा पाठक कुछ सेकेंड के लिए ही रूक पाएगा :)

    ReplyDelete
  34. .
    .
    .
    आप का आब्जर्वेशन व सलाह सही है... पर यह हर किसी पर लागू नहीं होती... दुनिया की इसी तरह की अन्य सलाहों की तरह... :(

    वजह सिर्फ एक है... हर किसी का कोई भी काम करने का मकसद अलग-अलग होता है।


    ...

    ReplyDelete
  35. `किसी ब्लॉग में पोस्ट ही मूल संदेश है, शेष कोलाहल। '

    हाय़! ये टिप्पणियां झिंगुर ध्वनि से गई बिती है :)

    ReplyDelete
  36. बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  37. सच.....
    कितने सन्देश छिपे हैं
    कोलाहल में.

    ReplyDelete
  38. मुझे लगता है, आपके कहने से पहले ही मैं आपके कहे पर चल रहा हूँ - तकनीकी श्ररान के अभाव के कारण।
    महत्‍वपूर्ण और उपयोगी पोस्‍ट।

    ReplyDelete
  39. आपसे नयी नयी जानकारी मिल रही हैं ...अच्छी पोस्ट

    ReplyDelete
  40. आपका यह टेक-अवतार भी आनंददायक है!! अच्छी जानकारी!!

    ReplyDelete
  41. thanx for good suggestions...!!

    ReplyDelete
  42. अच्छे और उपयोगी सुझाव मिल जाते हैं यहाँ !

    ReplyDelete
  43. एक बढिया लेख अपने ब्लॉग को साफ़ सुथरा रखने के लिए | लेकिन ये सिर्फ उनके लिए सार्थक होगा जो सिर्फ अपनी लेखन शैली के बल पर अपनी पहचान बनाना चाहते हैं और लेखन शैली के बल पर पहचान बनाने में समय व परिश्रम लगता है ...|

    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  44. आपकी यह बात बहुत ही पसंद आयी कि वेबसाइट का लेआउट व रूपरेखा सरलतम रखी जाये। सलाह काफी लोगों के काम की है.

    ReplyDelete
  45. sahi kaha aapne...shor ko kam se kam hii rakhna chhaiye...yadi koi vigyapan laga raha hai...to usme bhi dhyan de sakta hai ki kaise lagaya jaye ki reader ko kam se kam asuvidha ho.

    ReplyDelete
  46. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-694:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  47. bahut upyogi salaah aachcha aalekh.

    ReplyDelete
  48. लीजिये मैं आपसे कहने वाला था कि आपके ब्लॉग की थीम बदल कर थोड़ी आकर्षक कीजिये (आकर्षक का मतलब ताम-झाम वाली नहीं) पर अब पता चला आपने जानबूझकर ऐसी रखी है।

    वैसे ज्यादा तामझाम वाली न सही पर ब्लॉग बिलकुल खाली पेज जैसा भी अच्छा नहीं लगता, जिस तरह का लेखन आप करते हैं आपके ब्लॉग की थीम डायरी शैली की या ऑटोमन शैली की होनी चाहिये।

    मुख्य बात यह है कि ब्लॉग की थीम ब्लॉग के विषय से मेल खाती हो।

    ReplyDelete
  49. बढ़िया उपयोगी जानकारी देने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  50. प्र्वीण जी नमस्कार, सुन्दर सोच अभिव्यक्ति ही पाठ्क को रुचिकर होती है सहमत हूं आपसे मेरे ब्लाग पर स्वागत है ।

    ReplyDelete
  51. "आरिजो लब सादा रहने दो
    ताजमहल में रंग न डालो"

    सुन्दर सन्देश...
    सादर...

    ReplyDelete
  52. Feedly बढ़िया औजार है। गूगल रीडर से सिंक में!

    शायद मोबाइल पर भी ठीक चलता होगा।

    ReplyDelete
  53. कसाव दार सटीक समालोचना .क्या मारा है सही खींच के .बेहतरीन व्यंग्य तेल देख तेल की धार देख अभी तो बेटा घुसा है काजल की कोठरी में .घुसा क्या घुसाया गया है .क्या मारा है सर बेहतरीन ,यथार्थ पर कटाक्ष
    बेहतरीन जानकारी .हाँ भाई साहब रात को ध्वनी का वेग भी बढ़ जाता है आद्रता में अंतर आने से .पृष्ठभूमि शोर थम जाने से .अच्छी पोस्ट लिखी है आपने अद्यतन जानकारी समेटे .

    ReplyDelete
  54. बेहतरीन जानकारी .हाँ भाई साहब रात को ध्वनी का वेग भी बढ़ जाता है आद्रता में अंतर आने से .पृष्ठभूमि शोर थम जाने से .अच्छी पोस्ट लिखी है आपने अद्यतन जानकारी समेटे .

    ReplyDelete
  55. I know few ppl whose websites n blogs r full of unnecessary things... :D

    your blog is the most simplest one I love that about it :)

    PS: Been away from blogosphere in past few days, hope u doing fine !!

    ReplyDelete
  56. अपनी तो कोशिश यही रहती है कि कोलाहल के हलाहल बनने से पहले ही संदेश समझ में आ जाये :)

    ReplyDelete
  57. हम गूगल रीडर में पढते हैं...और जो अच्छा लगता है वहाँ पर चल देते हैं|

    बहुत अच्छा आलेख|

    ReplyDelete
  58. जीवन के सभी क्षेत्रों में संदेश और कोलाहल को पृथक पृथक कर ग्रहण कर लेने की क्षमता हमारे विकास की गति निर्धारित करती है।

    -एकदम निचोड़ यही है!!! आनन्द आ गया!

    ReplyDelete
  59. कोलाहल के बीच सन्देश ही नहीं जीवन ही गुम होने लगा है .आपकी ब्लोगिया दस्तक के लिए आभार शब्द की सीमा खुलके सामने आ चुकी है .

    ReplyDelete
  60. बहुत बढ़िया और रोचक !!
    मेरे ब्लॉग को यहाँ पढ़े
    manojbijnori12 .blogspot .com

    ReplyDelete
  61. सहमत हूँ .कोलाहल से एकाग्रता बंटती है.

    ReplyDelete
  62. शत-प्रति-शत सही,सहज और सरल !

    ReplyDelete
  63. मैं ब्लॉग पढ़ने के लिए मुख्यतः रीडर का प्रयोग करता हूँ..वैसे मेरे ब्लॉग में भी बड़े सारे इधर उधर की चीज़ें भरी हैं :P

    पूजा जी ने भी एक नयी बात बताई...:)

    ReplyDelete
  64. praveen ji
    bahut hi sateek avam vicharniy post.
    bhad sateek tareeke se aapne vastu sthiti ko akxharshah spashht kiya hai.
    bahut hi anukul vishhy
    badhai
    poonam

    ReplyDelete
  65. बिना विज्ञापन का समाचार पत्र! क्या कह रहे हैं भाई? आजकल तो समाचार पत्र छापते ही इसलिए हैं कि विज्ञापन छाप सकें.उनकी भी मजबूरी है, कर्मचारियों को वेतन कहाँ से देंगे?

    ReplyDelete
  66. प्रिय प्रवीण पाण्डेय जी बहुत सुन्दर सुझाव आप के कोलाहल कम हों और रचना दमदार हो ...इस पोस्ट पर दी गयी मेरी प्रतिक्रिया शायद हटा दी गयी ..या ..? अच्छा होता आप कुछ स्पष्ट कर देते .....
    लेकिन अपवाद हर जगह है जैसा आप ने विज्ञापन के विषय में सब लिखा है रेडिओ टी वी कोई भी चैनेल बिना विज्ञापन के.... या बिना छवियों के ब्लाग आदि बहुत ही कम...कुछ ही लोग होंगे जो चल पा रहे हैं ...खुलने में आसानी और कम भार ये तो सच है ही ......हिंदी से कोई शायद ही कमा ले रहा हो लेकिन सर्च इंजिन या अन्य का लाभ लेने के लिए लोग कुछ मोह में तो हैं ही ...
    सार्थक जानकारी
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  67. आपकी राय मानते हुए मैने अपने ब्लाग से कोलाहल कुछ डेसीबेल्स कम कर दिये ।

    ReplyDelete
  68. मैं पूरी तरह से चुप्पी में सो बर्दाश्त नहीं कर सकता, मैं हमेशा पर एक प्रशंसक है तो. इसके अलावा, I'lll मैं जब से मेरे काम के दिन के अधिकांश के लिए अपने आइपॉड का उपयोग स्वीकार करते हैं कि
    http://www.arabie3lan.com الشيخ الروحاني
    मैं कागजी कार्रवाई के माध्यम से काम कर रहा है यह एक बहुत खर्च करते हैं. मैं भी अक्सर मेरे सैर के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं, हालांकि, समय - समय पर, मैं इसके बिना जाना होगा और सिर्फ मेरे आसपास ध्वनियों को सुनने और अच्छे मौसम में ले लो.

    ReplyDelete