24.9.11

शब्द जो थपेड़े से थे

शब्दों का बल नापा नहीं जा सकता है, पर जब उनका प्रभाव दिखता है तो अनुमान हो जाता है कि शब्द तीर से चुभते हैं, हृदय में लगते हैं, भावों को प्रेरित करते हैं, अस्तित्व उद्वेलित करते हैं। कुछ शब्दों में अथाह शक्ति थी, उन्होने इतिहास की दिशा बदल दी। पिता का वचन और राम चौदह वर्ष के वनवास स्वीकार कर लेते हैं, पत्नी की झिड़की और तुलसीदास राम का चरित्र गढ़ने में जीवन बिता देते हैं, सौतेली माँ की वक्र टिप्पणी और ध्रुव विश्व में अपना स्थायी स्थान ढूढ़ने निकल जाते हैं। शब्दों का मान रखने के लिये के लिये वीरों ने राजपाट तो दूर, अपना रक्त भी बहा दिया है। शरणागत की रक्षा के लिये अपना सब कुछ स्वाहा करने के उदाहरणों से हमारा इतिहास भरा पड़ा है।

वैसे तो कितना कुछ हम बोलते रहते हैं, सुनते रहते हैं, बातें आयी गयी हो जाती हैं। शब्दों की उसी भीड़ में कब कौन सा वाक्य आपको झंकृत कर देन जाने कौन सा वाक्य कब आप पर प्रभाव डाल दे, चुभ जाये या जीवन की दिशा बदल दे, आपको भान नहीं रहता है। वह कौन सी मनःस्थिति होती है जिस पर शब्द प्रभावकारी हो जाते हैं? भारतीय जनमानस वैसे तो सहने के लिये विख्यात है, हम न जाने कितनी बातें पचा जाते हैं पर कब शब्दों के प्रवाह हमें बहा ले जाये, इस पर बड़ी अनिश्चितता है।

जिन घरों में नित्य टोका टाकी होती है वहाँ के बच्चे इस प्रकार के शब्द-प्रहारों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेते हैं, धीरे धीरे संवेदनशीलता कुंठित होने लगती है, किसी का कुछ कहना बहुत अधिक प्रेरित या उद्वेलित नहीं करता है उन्हें। समस्या तब आती है जब आपको पहली बार कुछ सुनने को मिलता है, आपकी संवेदनशीलता पर पहली चोट पड़ती है। याद कीजिये, आप सबके जीवन में वह क्षण आया होगा जब शब्दों ने अपनी वाक-ऊर्जा से कई गुना कंपन आपके शरीर में उत्पन्न किया होगा, आप हिल गये होंगे, आप बहुत कुछ सोचने लगे होंगे। ऐसे अवसर प्रकृति सबको देती है, भले ही कोई विद्यालय गया हो या न गया हो, जीवन की पाठशाला में कोई निरक्षर नहीं है, ऐसी परिस्थितियों और घटनाओं के माध्यम से सबकी समुचित शिक्षा और परीक्षा चलती रहती है। संवेदनशीलता यही है कि हम सदा ही सीखने और उसे व्यक्त करने को तत्पर रहें।

संवेदनशीलता यदि कुछ नयापन लाती है तो दुःख भी लाती है। जिन पर भावों का आश्रय टिका होता है, जिनसे अभिलाषाओं के सूत्र बँधे होते हैं, जिनसे आपको उत्तरों की प्रतीक्षा रहती है, उनसे यदि कुछ कठोर सा लगने वाला शब्द आपको सुनायी देता है तो आपको संभावनाओं के सारे कपाट बंद से दिखते हैं। कई अतिभावुक जन इसे सहन नहीं कर पाते हैं और बहुधा अप्रिय कर बैठते हैं। जो शब्दों का मर्म समझते हैं उनके लिये एक कपाट का बन्द होना उन प्रयत्नों का प्रारम्भ है जिसके द्वारा जीवन के उजले पक्ष खुलते जाते हैं।

भाग्यशाली हैं हम सब भाई बहन कि घर में सदा ही निर्णय लेने का अधिकार मिला है, स्वतन्त्र विचारशैली व जीवनशैली को सम्मान मिला है, माता-पिता का स्नेह-कवच सदा ही पल्लवित करता रहा है। यही कारण था कि लड़कपन तक एक हल्कापन और स्वच्छन्दता जीवनशैली में रची बसी रही। हाईस्कूल में सामान्य से अंक देख बस पिता ने यही कहा कि यदि इतनी सुविधा उन्हें मिली होती तो उनका प्रदेश में कोई स्थान आया होता। ये शब्द पूरे अस्तित्व को झंकृत कर गये, आने वाले वर्षों की दिशा निर्धारित कर गये। इण्टरमीडियेट में बोर्ड में स्थान आ गया, आईआईटी में पढ़ने का अवसर मिल गया, सिविल सेवा में चयन हो गया, जीवन में स्थायित्व भी आ गया, पर 25 वर्ष बाद भी वे शब्द स्मृति पटल पर स्पष्ट अंकित हैं।

न उसके पहले पिता ने कभी कुछ कहा था, न उसके बाद पिता ने अभी तक कुछ कहा, पर वे शब्द तो निश्चय ही थपेड़े से थे, अपने बल से आपका प्रवाह बदलने में सक्षम।

80 comments:

  1. प्रेरक बात, प्रेरक प्रसंग। दूसरा पक्ष यह भी है कि, "नशा शराब में होता तो नाचती बोतल ..."

    ReplyDelete
  2. शब्दों की सार्थकता के माध्यम से आपका यह प्रेरणादायी संस्मरण लोगों के लिए मार्गदर्शन का काम करेगा |माँ -पिता की संवेदना से जुड़े अपने ही दो शेर आपके लिए -
    नये घर में पुराने एक दो आले तो रहने दो
    दिया बनकर वहीँ से माँ हमेशा रोशनी देगी
    ये सूखी घास अपने लाँन की काटो न तुम भाई
    पिता की याद आयेगी तो ये फिर से नमीं देगी -

    ReplyDelete
  3. ये शब्द ही हैं जो किसी की दशा और दिशा को बना-बिगाड़ सकते हैं !वे लोग भाग्यशाली हैं जिन्होंने शब्द-बाणों को अपने जीवन का मन्त्र बना लिया और उससे सकारात्मक सीख ली !इसलिए कौन-सा शब्द कब प्रेरित कर जाये ,कह नहीं सकते पर जो लोग यह नहीं समझ पाते ,उन्हीं को ये नुकसान भी पहुँचाते हैं !

    ReplyDelete
  4. शब्द ब्रह्म हैं इसलिए ही तो ....वैसे अक्लमंदों के लिए इशारा ही काफी होता है :)

    ReplyDelete
  5. सच ब्यान कर रहे है आपके शब्द,

    ReplyDelete
  6. शब्दै मारा गिर पड़ा, शब्दै छोड़ा राज।
    जिन्हिं शब्द विवेकिया,तिन का सरिगो काज।

    ReplyDelete
  7. प्रेरक और सत्य वचन!

    ReplyDelete
  8. ''ये शब्द पूरे अस्तित्व को झंकृत कर गये'' वाद्य का सुर मिला हो तभी संभव होता है यह.

    ReplyDelete
  9. शब्द्श: सच ..

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर प्रेरक आलेख. "जिन घरों में नित्य टोका टाकी होती है वहाँ के बच्चे इस प्रकार के शब्द-प्रहारों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेते हैं" यह भी एक बड़ी सीख ही है.

    ReplyDelete
  11. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete

  12. @ ये शब्द पूरे अस्तित्व को झंकृत कर गये...

    पिता के बोले यह शब्द आपका जीवन बदल गए , बधाई आपके व्यक्तित्व की जिसने पिता के कष्ट को महसूस कर लिया प्रवीण भाई !

    काश समाज में भी लोग अपनी गलतियों को महसूस करना सीख लें तो शायद व्यक्तित्व की वह ऊंचाई उन्हें आसानी से मिल पाए जिसको पाने के लिए शायद रातों को नींद भी चैन से न आती हो !
    ....

    ReplyDelete

  13. ब्लॉग जगत के परिप्रेक्ष्य में देख कर कहूं तो आजकल एक दुखद बहस सिर्फ इन्हीं शब्दों की मार को लेकर चल रही है और इसका अंत न जाने कितने दिलों से, कितनों को नीचे गिराएगा, कुछ पता नहीं ....

    अफ़सोस तब होता है जब यह लड़ाई दो विद्वानों के बीच हो रही हो! समाज नायक बनने योग्य लोग, केवल ग़लतफ़हमी और और संवादहीनता की स्थिति में, भीड़ के बीच उपहास का पात्र बन रहे हैं ! लेखक के मनोभावों को समझे बिना की जा रही प्रतिक्रियाएं विस्मयकारी हैं !

    मगर यह सच है कि ...
    कडवे शब्द कहीं गहरे तक जाकर चोट करते हैं ...

    अपमान का दंश भुलाना आसान नहीं चाहे चोट किसी ने दी हो !

    हमें पछतावे तक नहीं पंहुचना चाहिए !

    ReplyDelete
  14. अधिक संवेदनशील होने से शायद दुनिया का अनुभव अधिक रंगीन और भावपूर्ण होता है, पर बातों की चोट से हताश हो जाना या उसे सहन कर पाना उतना ही कठिन है.

    जीवन की छोटी छोटी बातें, जीवन का रुख कब बदल देती हैं पता भी नहीं चलता. पीछे मुड़ कर देखने से ही उनका महत्व समझ में आता है.

    ReplyDelete
  15. अक्षरश: सत्‍य कहा है ...प्रेरक विचारों का संगम है इस प्रस्‍तुति में ... आभार

    ReplyDelete
  16. शब्‍दों में बड़ी ताकत है चाहे तो तुलसीदास बना दे या फिर कंस की श्रेणी में ला खड़ा करे।

    ReplyDelete
  17. अच्छा। शब्द कभी कभी ब्रह्म लेकिन अधिकतर भ्रम होते हैं…झंकृत करने वाले शब्द ही कारण बने तब सब क्यों नहीं झंकृत हो जाते हैं…बस एक बात है यह…

    ReplyDelete
  18. सच है जीवन में शब्दों का गहरा प्रभाव होता है...ये इंसान के ऊपर है की वो शब्दों को सकारात्मक रूप में ले या नकारात्मक....आपने सकारात्मक रूप में लिया और वो पहचान बनाई जो शायद आपके पिताजी का सपना होगा आपके लिए...प्रेरणादाई संस्मरण के लिए धन्यवाद्

    ReplyDelete
  19. थपेड़े से शब्दों ने जीवन को दिशा दी ..प्रेरक प्रसंग ..सच है शब्द संवेदनाओं को छूते हैं ..

    ReplyDelete
  20. जिन घरों में नित्य टोका टाकी होती है वहाँ के बच्चे इस प्रकार के शब्द-प्रहारों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेते हैं,
    बिल्कुल मुझ पर लागू होती है यह बात।

    ReplyDelete
  21. vo shabd bhi mahaan hote hain jo asar karen aur vo dil bhi mahaan hota hai jo unko grahan kare.bahut bahut behtreen lekh.

    ReplyDelete
  22. शब्द असर तभी करते हैं जब उन के प्रति संवेदनशीलता भी हो।

    ReplyDelete
  23. अक्षरशः सत्य. इस पोस्ट के बाद थोडा ज्यादा ही लग रहा है कि आपसे मिलना मिस हो गया.

    ReplyDelete
  24. प्रवीण जी !शब्द निश्चय ही सारथी बनतें हैं बा -शर्ते उनके अर्थ हमारे अन्दर मौजूद हों .शब्द को ब्रह्म कहा गया है इसीलिए .शब्द चलातें हैं ज़िन्दगी ,सुख दुःख का ताना बाना शब्द ही बुनतें हैं हमारे गिर्द चयन हमारा ही होता है फिर भी .हमारी तो किस्मत ही ऐसी थी ,सब भाग्य का लेखा है वगैरा वगैरा .लोग पहले ऐसा बोलतें हैं और फिर ऐसा ही महसूस करतें हैं .इन शब्दों को अपने आसपास से हटा दें तो ज़िन्दगी आसान हो जाती है .शब्द ही चलातें हैं हमारी मनास्तिथियाँ .दिशा और दशा .

    ReplyDelete
  25. जी, शब्दो का जादू...

    लेकिन कई मायनों में प्रेरक लगी ये पोस्ट.

    ReplyDelete
  26. प्रवीण जी
    आपने इल की बात कह दी , देखा जाए तो ये शब् ही है जो , हमें खुशी देते है और दुःख भी देते है .. आपके आज के इस लेख को मैं सलाम करता हूँ ..
    विजय

    ReplyDelete
  27. बिलकुल सही कहा....
    ..ये दुधारी तलवार है....
    " जिव्हा एसी बावरी, कीन्हे बहुरि कमाल |
    आपु तौ कही भीतर गयी, जूता खाय कपाल ||

    तभी तो कहा है....
    " ह्रदय तराजू तोल के तब मुख बाहर आनि "

    ReplyDelete
  28. आपके हर एक शब्द से सहमति.

    ReplyDelete
  29. शब्द हो या शबद, देते ही है सबक . प्रेरणास्पद .

    ReplyDelete
  30. आजकल यह थपेडे तो ब्लाग पर भी चल रहे हैं :)

    ReplyDelete
  31. Pita aur bhaiyon ke kayi vakyon se kuch prabhavit hua parantu fir bhi wo mukam hasil na hua jo chata tha.. Apka blog padh kar thoda malal fir jahir hua parantu jo tathya aur sachchai hai wo to hai hi!!

    ReplyDelete
  32. शब्दहि सुनि-सुनि वेश धरत है,
    शब्द सुनै अनुरागी...... ,शब्द के भेद न पाए.

    ReplyDelete
  33. बहुत बढिया,
    प्रेरणा देने वाला लेख
    काश लोग जीवन में भी उतारें

    ReplyDelete
  34. जी शब्द का प्रभाव नावक के तीर की तरह होता है।कहीं अंधे का पुत्र अंधा ही कहना महाभारत करा देता है, तो कहीं नारायण का गलती से उच्चारण पापी अजामिल का उद्धार कर देता है।

    ReplyDelete
  35. शब्‍द ही सम्‍मान देते हैं और शब्‍द ही हैं जो अपमान भी करते हैं।

    ReplyDelete
  36. PRIY PANDEY JI
    VIKAAAS PANTH PAR MAN KUNTHIT NA HO
    BACHCHAA HO YAA BADAA VYVHAAR MEN SAMVEDANSHOONYTAA VIDROHEE PRAVRITTI KEE JAANMASTHLEE HOTEEH HAI
    ISLIYE
    VACHNE KAA DARIDRATAA
    VANDNEEY VICHAAR BADHAAYEE

    ReplyDelete
  37. "शब्द जो थपेड़े से थे……………मगर जीवन को दिशा दे गये…………एक सार्थक और सटीक आलेख्।

    ReplyDelete
  38. अपने विचार - आपके पोस्ट में.. अभिभूत!!

    ReplyDelete
  39. जिन घरों में नित्य टोका टाकी होती है वहाँ के बच्चे इस प्रकार के शब्द-प्रहारों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेते हैं, बिलकुल सही है| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  40. शब्दों का प्रभाव निश्चय ही अद्भुत है ......शुरू से अंत तक सुविचार देता हुआ ....सुंदर आलेख ...
    badhai ...

    ReplyDelete
  41. सत्य को दर्शाती एक प्रेरक सुन्दर आलेख...

    ReplyDelete
  42. ग्रहण करनेवाले की क्षमता पर भी शब्द का असर निर्भर करता है...

    ReplyDelete
  43. सुन्दर प्रेरणादाई संस्मरण.....प्रवीण जी

    ReplyDelete
  44. हर शब्द की पहचान है,हर शब्द का अस्तित्व।
    काफी कुछ याद आ गया शब्दों का सफर...

    ReplyDelete
  45. बधाई ||

    मित्रवत व्यवहार करके दो बच्चों को MNNIT एवं NIT दुर्गापुर से B TECH करवाया | तीसरी BIET झाँसी से कर रही है |

    थप्पड़ से थपेड़े, असरदार ज्यादा हैं |
    घोड़े जस थपेड़े, थप्पड़ तो प्यादा हैं ||

    कूद-कूद के ढाई, प्रगति पन्थ पर जाए--
    प्यादा अटकाई, प्यादा टांग अड़ाए ||

    नोट : नापसंद हो तो मिटा दें ||

    ReplyDelete
  46. निश्चित ही आपसे सहमत...मैं स्वयं का सी ए बन जाना भी ऐसे ही एक वाकिये की परिणीति मानता हूं...आज तक!

    ReplyDelete
  47. बंदूक से निकली गोली और मुंह से निकली बोली कभी वापस नहीं आती...

    (अपवाद...वन एंड ओनली रजनीकांत)

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  48. शब्द विचारों के वाहक हैं । हमारे जीवन की दिशा ही बदल देते हैं।

    ReplyDelete
  49. Prateek Tripathi24/9/11 22:22

    satya vachan.maza aagaya padhke. blog writing me aaj se mujhe apna shisya sweekar karen.

    ReplyDelete
  50. शब्दों में बहुत ताकत होती है बस हमारे पास संवेदनशील मन चाहिये । आपके जीवन को आपके पिताजी के एक वाक्य नें दिशा दे दी ।

    तुकाराम जी ने कहा है आम्हां घरी धन शब्दांचीच रत्ने । हमारे घर का धन तो बस शब्द-रत्न ही हैं ।

    ReplyDelete
  51. सतगुर साँचा सूरबां
    सबद जु बाह्या एक
    लागत ही भैं मिट गया
    पड़ा कलेजे छेक
    [कबीर]

    ReplyDelete
  52. तीर, तलवार या खंजर की जरूरत क्या है
    मरनेवाला तो फ़क़त बात से मर जायेगा.

    ReplyDelete
  53. praveen ji
    bahut hi suxhmta se aapne shabdon ki vyakhya ki hai .aapke lekh ke har shabd apna prabhav chodne mesaxham hain.
    shabdon ki yahi to vishheshhta hoti hai.
    bahut hi badhiya vishleshhan
    badhai
    poonam

    ReplyDelete
  54. Eminently readable blog post!
    So true indeed.
    Verily is it said "The pen is mightier than the sword"
    Words can be powerful indeed.
    They can inspire, provoke or even damage and destroy.

    I recall that cricketer Navjot Singh Siddhu was inspired/provoked into improving his batting by the stinging criticism of his earlier batting performances
    A sports journalist had described him as "a strokeless wonder"
    Sidhu worked hard to live down that remark.

    Words have changed governments and created new parties.
    Stung by the humiliation of the congress chief minister Anjaiah, by his own boss Rajiv Gandhi, NTR used the powerful words "Telugu Aatma Gouravam" to create the Telugu Desam Party and defeat the congress party which was considered invincible in Andhra.

    Hundreds of examples like this can be cited.
    The power of words is truly phenomal.

    Regards
    GV
    ( excuse me for commenting in English. Hindi typing is possible on my Ipad but much more difficult and time consuming)

    ReplyDelete
  55. प्रेरक प्रसंग. सुंदर शिक्षाप्रद आलेख.

    ReplyDelete
  56. बात लग जाती है तो कुछ हो कर ही रहता है-( लेने वाले पर भी निर्भर करता है)
    आप को तो उबार दिया उस थपेड़े ने !

    ReplyDelete
  57. a very awesome and true post!!

    words are mightier than sword :)

    ReplyDelete
  58. शब्द-शब्द, अक्षर-अक्षर सत्य है।
    लेकिन फिर जो अनुराग जी कहते हैं, बात वो भी सही है।

    ReplyDelete
  59. बहुत सही कहा प्रवीण भाई। कुछ शब्द हमारी जीवन शैली ही बदल डालते हैं।

    ReplyDelete
  60. शब्दों के थपेडे निश्चित जी जीवन में उथल पुथल मचा देते हैं, यह बहुत कुछ ग्रहण करने वाले पर निर्भर करता है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  61. सर जीवन में कुछ शब्द दिशा बदल देते है ! यदि उनके महत्त्व को समझा जाय !

    ReplyDelete
  62. Absolutely true...

    Words r powerful blades... sometimes they cut u so deep that they goes with u even in grave.

    Brilliantly explained !!!

    ReplyDelete
  63. प्रवीण जी ,आपकी आज की पोस्ट को पढ़ने के बाद प्रतिक्रिया व्यक्त करने में मुझे भी शब्द कम पड़ रहें हैं ......

    ReplyDelete
  64. शब्दों का प्रभाव इस बात पर ज्यादा निर्भर करता है कि सामने वाला उसे किस परिपेक्ष्य में लेता है।

    ReplyDelete
  65. एक-एक शब्‍द जैसे चुन-चुन कर प्रयोग किया गया हो, हमेशा की तरह।

    ------
    मनुष्‍य के लिए खतरा।
    ...खींच लो जुबान उसकी।

    ReplyDelete
  66. वाक-ऊर्जा की सारगर्भित मीमांसा...

    ReplyDelete
  67. bahut achhe....shabdon pe aapki pakad ko bhi manana hoga :)

    ReplyDelete
  68. अक्सर देखा जाता है कि ज्यादा शब्दों में कही गयी बात उतना असर नहीं कर पाती जितना कि सही तरीके से कम शब्दों में कही बात....!
    कुछ ऐसे ही संस्मरण हैं मेरे भी अपने पिता जी के साथ...!

    ReplyDelete
  69. जिन्हें कुछ करना होता वे शब्दों के प्रहार को अपने आगोश में ले लेते हैं जिन्हें नहीं करना होता है वे बहाने और विपरीत दिशा ढूंड लेते हैं

    ReplyDelete
  70. शुक्रिया अशोक भाई .हौसला अफजाई के लिए .

    ReplyDelete
  71. sach kaha apne ki kab kaun se shabd kisko bhed jaye , keh nahi sakte... aap samvedansheel thae to ye shabd apko sunai diyae or chubhae... varna aj to lag itnae samvedansheel hi nahi hotae...asar to door , shabd hi sunai nahi dete...

    kabhi mere blog par bhi aiyae achha lagega..

    ReplyDelete
  72. प्रेरणादायी संस्मरण,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  73. शब्दों की महत्ता दिखाता बहुत सुन्दर और प्रेरक आलेख...शब्दों के प्रति संवेदनशीलता बहुत ज़रूरी है.

    ReplyDelete
  74. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    ReplyDelete




  75. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  76. Thanks for this great post. Its super helpful for the noobs like me :)

    ReplyDelete