9.8.15

मैनें रेखाचित्र बनाये

मैनें रेखाचित्र बनाये,
जगह जगह से कर एकत्रित, आकृतियों के ढेर सजाये ।

कहीं कहीं पर मधुर कल्पना के धुँधले आकार बिछाये,
कहीं सोचकर बड़े यत्न से, सुन्दर से कुछ चित्र बनाये ।
इतना सब कुछ पहले से है, फिर भी कुछ तो छूटा जाये ।
मैनें रेखाचित्र बनाये ।।१।।

इन रेखाचित्रों में उभरे, तेरे थे जो चित्र बनाये,
अलग व्याख्या, अलग सजावट, तेरा सब श्रृंगार सजाये ।
पर रेखाआें की यह रचना, आँखों में क्यों उतर न पाये ।
मैनें रेखाचित्र बनाये ।।२।।

कार्य यही अब इन चित्रों के तीखेपन को सरल बनाना,
कहीं वेदना के दृश्यों का, थोड़ा सा आकार घटाना ।
पर गन्तव्य पहुँचने पर, अनुभव की नद विस्तार बढ़ाये ।
मैनें रेखाचित्र बनाये ।।३।।

17 comments:

  1. वाह ! बहुत खूब ....

    ReplyDelete
  2. जिवन की सुन्दर व्याख्या
    अहा"कहीं वेदना के दृश्यों का,थोड़ा सा आकार घटाना।"
    अतिसुन्दर रचना। साधू साधू

    ReplyDelete
  3. जिवन की सुन्दर व्याख्या
    अहा"कहीं वेदना के दृश्यों का,थोड़ा सा आकार घटाना।"
    अतिसुन्दर रचना। साधू साधू

    ReplyDelete
  4. दिनांक 10/08/2015 को आप की इस रचना का लिंक होगा...
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर...
    आप भी आयेगा....
    धन्यवाद...

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रचना है

    ReplyDelete
  6. इन टेढ़ी-मेढ़ी रेखाओं को बनाते चलना ही चित्रकार का काम है ... आगे ...और आगे .... और

    ReplyDelete
  7. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 11 अगस्त 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, बजरंगी भाईजान का सब्स्टिटूट - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  9. मैनें रेखाचित्र बनाये ....वाह! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर्1 इन रेखा चित्रों मे सुन्दर रंग भरें ये दुया है1

    ReplyDelete
  11. इन रेखा चित्रों में ही जीवन उलझा रहता है.

    ReplyDelete
  12. इन रेखाचित्रों में अब रंग भी भरा जाना चाहिए|

    ReplyDelete