5.11.14

मन्दगति

कौन कहता है, ये जीवन दौड़ है,
कौन कहता है, समय की होड़ है,

हम तो रमते थे स्वयं में,
आँख मूँदे तन्द्र मन में,
आपका आना औ जाना,
याद करने के व्यसन में,

तनिक समझो और जानो,
नहीं यह कोई कार्य है,
काल के हाथों विवशता,
मन्दगति स्वीकार्य है। 

7 comments:

  1. अति उत्तम भाव

    ReplyDelete
  2. इस मंद में भी गति है

    ReplyDelete
  3. तनिक समझो और जानो,
    नहीं यह कोई कार्य है,
    काल के हाथों विवशता,
    मन्दगति स्वीकार्य है।
    ...बिलकुल सही ..

    ReplyDelete
  4. काल की गति कोई न जाने
    मन घोड़े की लगाम को भी वो थामे

    ReplyDelete