27.4.13

और कब तक

लम्बी कितनी राह चलेंगे,
कब घर का आराम मिलेगा?
कब तक सूखे चित्र बनेंगे,
रंग कब चित्रों में उतरेगा?
कब विरोध के मेघ छटेंगे,
कब भ्रम का अनुराग तजेगा?
स्वप्नों में कब तक जागेंगे,
कब सच को आकार मिलेगा?

आचरण की रूपरेखा,
मात्र वाक्यों में सजाकर,
कर्म की कमजोरियों को,
भ्रंश तर्कों में छिपाकर ।
बोल दे निश्चित स्वरों में,
स्वयं को कब तक छलेंगे?
जीवनी से विमुख होकर,
और कितना हम चलेंगे?

43 comments:

  1. सुंदर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया,उम्दा भाव अभिव्यक्ति!!! ,

    Recent post: तुम्हारा चेहरा ,

    ReplyDelete
  3. सधे शब्दों में गहरी सीख ..... काश हम अब भी चेत जाएँ .....

    ReplyDelete
  4. शब्दों की आड़ में करम कब तक छिपेंगे ...
    बहुत बढ़िया !

    ReplyDelete
  5. जो स्वयं को छलना छोड़ दे वह तो तपस्वी हो गया ।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर भावाव्यक्ति,आभार.

    ReplyDelete
  7. बोल दे निश्चित स्वरों में,
    स्वयं को कब तक छलेंगे?
    जीवनी से विमुख होकर,
    और कितना हम चलेंगे?
    बेहद गहन एवं सशक्‍त भाव ....
    सादर

    ReplyDelete
  8. आचरण की रूपरेखा,
    मात्र वाक्यों में सजाकर,
    कर्म की कमजोरियों को,
    भ्रंश तर्कों में छिपाकर ।
    बोल दे निश्चित स्वरों में,
    स्वयं को कब तक छलेंगे?
    जीवनी से विमुख होकर,
    और कितना हम चलेंगे?

    अपने स्वरूप को खंगालती रचना -

    क्या मैं यहाँ छल करने आया हूँ वह भी किसी और के साथ नहीं खुद के ,औरों को आप छल नहीं सकते ,खुद छलावे में रह जाते हैं फरेब के, देह अभिमानी बनके अपने अहंकार में हैं हम। अब समय है आत्माभिमानी बन के खुद को

    शुद्ध बना ने का .सार्थक आत्मालोचन कराती रचना .

    ReplyDelete
  9. सहने की भी सीमा होती है ... सुंदर

    ReplyDelete
  10. छल हम किसी और से नहीं बल्कि स्वयं से ही करते हैं ......!!गहन अभिव्यक्ति ....!!

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर भावाव्यक्ति,अपने स्वरूप को खंगालती रचना।

    ReplyDelete
  12. बहुत उम्दा ..तस्वीर भी बहुत कुछ बोल रही है

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  14. मन का दर्द उभर आया है।

    ReplyDelete
  15. "लम्बी कितनी राह चलेंगे,
    कब घर का आराम मिलेगा?"
    "जीवनी से विमुख होकर,
    और कितना हम चलेंगे?"
    सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  16. आज के मनुष्‍य और उसके मुखौटे का वार्तालाप।

    ReplyDelete
  17. सत्य से तो साक्षात्कार करना ही पड़ेगा।

    ReplyDelete
  18. मन की अभिव्यक्ति सब कुछ सामने रख देती है, उससे कुछ नहीं बचता.

    ReplyDelete
  19. मन के भावों को बहुत सुन्दरता से उकेरा..आभार

    ReplyDelete
  20. लंबा सफर है...


    सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  21. स्वयं को कब तक छलेंगे?
    यक्ष प्रश्न

    ReplyDelete
  22. 'ऊहापोह' की स्थति कहें या 'किंकर्तव्यविमूढ़' की !!

    ReplyDelete
  23. भटकन बहुत मुखर हो रही है .....

    ReplyDelete
  24. स्वयं को कबतक छलेंगे?- बहुत ही उपयुक्त प्रश्न और बहुत ही उम्दा ढंग से आपने पूछा

    -Abhijit (Reflections)

    ReplyDelete
  25. यह जीवन ऐसे ही चलेगा।

    ReplyDelete
  26. जीवनी से विमुख होकर,
    और कितना हम चलेंगे?

    यह परीक्षा तो सदिअव चलनी है. सुंदर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  27. आचरण की रूपरेखा,
    मात्र वाक्यों में सजाकर,
    कर्म की कमजोरियों को,
    भ्रंश तर्कों में छिपाकर ।
    बोल दे निश्चित स्वरों में,
    स्वयं को कब तक छलेंगे ..

    अगर ये मुखोटे उतार दोगे तो न जाने कितने शर्मसार हो जाएंगे ...
    इमानदारी को तलाशती रचना ..

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सशक्त छान्दसिक कविता |आभार

    ReplyDelete
  29. जब तक अपने आत्म स्वरूप (मैं कौन हूँ )की पहचान नहीं होगी कर्म भी विकर्म ही रहेगा .इसे ही अकर्म बनाना है .शुक्रिया आपकी टिप्पणियों का .विकर्म का फल भोग है अकर्म का आगे फल नहीं है .वहां सिर्फ सुख है .विकर्म की सजा जेलों का तीर्थ तिहाड़ है आज नहीं तो कल कल नहीं तो परसों (अगले जन्म में ).सजा तो मिलेगी जब तक कर्मों को दिशा न मिलेगी .दिग्भ्रमित रहेगा मनुष्य जीवन .

    ReplyDelete
  30. वाह!

    चलते-चलते सोच रहा हूँ
    कितनी दूर अभी है चलना!
    मन की प्यास हिरण का छलना
    कितना कुछ बाकी है सहना!

    ReplyDelete
  31. जरा रूककर यही तो सोचने की आवश्यकता है..

    ReplyDelete
  32. आखिर कब तक ????? फिर भी चलना ही जीवन है .... सार्थक प्रश्न करती सुंदर रचना

    ReplyDelete
  33. जीवन की सार्थकता को खोजती कविता ।

    ReplyDelete
  34. चलते तो रहते ही हैं. सच जानकार , कभी जानकार भी अनजान बनकर.

    ReplyDelete
  35. बहुत सुन्दर .... अद्भुत लेखन ... उम्दा

    ReplyDelete
  36. स्वयं को कब तक छलेंगे!
    ताउम्र स्वयं से प्रश्न करता हुआ स्वयं से ही झूझता रहता है इंसान!
    सशक्त भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  37. आचरण की रूपरेखा,
    मात्र वाक्यों में सजाकर,
    कर्म की कमजोरियों को,
    भ्रंश तर्कों में छिपाकर ।-----
    जीवन की सच्चाई
    सकारात्मक सोच की रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    आग्रह है इसको भी पढें इसको भी
    कहाँ खड़ा है आज का मजदूर------?

    ReplyDelete
  38. बोल दे निश्चित स्वरों में,
    स्वयं को कब तक छलेंगे?
    जीवनी से विमुख होकर,
    और कितना हम चलेंगे


    Isee prashn ka uttar kojana hoga sab ko.

    ReplyDelete
  39. a question that bothers everyone but makes sense to very few

    ReplyDelete
  40. काश यह प्रश्न हम सभी के जीवन में उभरे .

    ReplyDelete