2.2.13

बस, बीस मिनट

यदि आपके पास बीस मिनट का समय हो, तो आप क्या करेंगे? बड़ा ही अटपटा प्रश्न है और उत्तर इस बात पर निर्भर करेगा कि कहाँ पर हैं और किस मनस्थिति में हैं। बहुत संभव हो कि आप कुछ न करें, बीस मिनट में भला किया भी क्या जा सकता है? ऐसे बीस मिनट के बहुत से अवसर आते हैं, प्रत्येक दिन, जीवनपर्यन्त। आप कार्यालय के लिये तैयार तो हो गये हैं पर निकलने में बीस मिनट है। आप फिल्म जाने को तैयार हैं, आपकी श्रीमतीजी को श्रंगार में बीस मिनट और लगेगा। भोजन करने बैठे हैं, पर सलाद कटने में बीस मिनट और लग जायेगा। बैठक बीस मिनट देरी से प्रारम्भ होने वाली है, आप स्टेशन बीस मिनट पहले पहुँच गये। इस तरह के न जाने कितने अवसर निकल आते हैं जो आपने सोचे नहीं होते हैं पर आपके पास बीस मिनट उपस्थित रहते हैं। आप क्या करते हैं, या क्या करेंगे?

देखा जाये तो ऐसे बीस मिनटों का जीवन में बड़ा महत्व है। एक दिन में तीन भी बार ऐसा संयोग हो जाये तो मान कर चलिये कि दिन में एक घंटा अधिक मिल गया आपको। बड़ी ही रोचक बात है कि अलग अलग देखा जाये तो उस समय की क्या उत्पादकता? बहुत से लोगों के लिये आगत की तैयारी में या विगत के चिन्तन में यह समय निकल जाता है। आप यदि कुछ नहीं करेंगे तो विचार तो वैसे भी समय को रिक्त नहीं रहने देंगे, कुछ न कुछ लाकर भर ही देंगे।

कहने के लिये बीस मिनट बहुत कम होते हैं पर कहने को कहा जाये तो बहुत अधिक हो जाते हैं। कोई एक विषय देकर कहा जाये कि इस पर बीस मिनट बोलना है तो आधे के बाद ही साँस फूलने लगती है, विषय के छोर नहीं सूझते हैं तब। हँसी हल्ला में तो घंटों निकल जाते हैं पर पिछले दो घंटों में क्या चर्चा हुयी, इस पर बोलने को कहा जाये तो सर भनभनाने लगता है। एक घटना याद आती है, किसी चालक दल ने इंजन का कार्यभार लेने में पाँच के स्थान पर दस मिनट लिये। जब वरिष्ठ अधिकारी ने बुलाया और इस देरी का कारण पूछा तो उत्तर देने में चालक दल ने यह संकेत देने का प्रयास किया कि पाँच अतिरिक्त मिनट कोई अधिक नहीं होते। वरिष्ठ अधिकारी ने बड़े शान्त भाव से उन्हें सुना और कहा कि बस पाँच मिनट तक वे सामने लगी घड़ी को देखते रहें और उसके बाद अपने मन की बात बता कर चले जायें, कोई आरोप नहीं लगेंगे। पाँच मिनट बाद चालक दल स्वयं ही भविष्य में उस भूल को न दुहराने का आश्वासन देकर चले गये।

कभी कभी समस्या भिन्न प्रकार से आती है, यदि आप किसी विषय के विशेषज्ञ हों, आपने जीवन के न जाने कितने वर्ष उस विषय को दिये हों, न जाने कितने शोधपत्र छाप दिये हों, आपने कोई ऐसा नया कार्य किया हो जिसने विज्ञान, विकास, अर्थ, समाज आदि की दिशा बदल दी हो, और तब आपसे कहा जाये कि सार केवल बीस मिनट में प्रस्तुत करें। आपके सामने उस विषय को सामान्य रूप से समझने वाले श्रोतागण बैठे हैं, आपको इतने विस्तार को समेट कर उसका निचोड़ बीस मिनट में प्रस्तुत करना है। यह समस्या लगभग उसी प्रकार से हुयी कि आपसे कहा जाये कि आपको अपने सामानों में केवल बीस को ले जाने की अनुमति है, तो आप कौन से ले जायेंगे। तब जितना श्रम आपको बीस वस्तुओं को निर्धारित करने में लगेगा उससे कहीं अधिक श्रम आपको अपने जीवन की विशेषज्ञविधा को बीस मिनट में समेटने में लगेगा।

आप क्या करेंगे यदि आपको भी यही कहा जाये? संभवतः मर्म को सर्वाधिक महत्व देंगे, उसके चारों ओर जो भी अनावश्यक या कम आवश्यक है उसे उन बीस मिनटों की परिधि के बाहर रखेंगे। जब कहने को सीमित समय हो और कम तथ्य हों तो संवाद की कुशलता सीधे हृदय उतरती है। संवाद कुशल व्यक्ति यह जानते हैं कि श्रोताओं के हृदय में उतरने का मार्ग विषय को सरल ढंग से प्रस्तुत करने के अतिरिक्त कुछ भी नहीं है। विषय को सरल ढंग से व्यक्त करने के लिये और अधिक श्रम करना पड़ता है और यह कार्य केवल विशेषज्ञ और मर्मज्ञ ही कर सकते हैं।

ऐसा ही कुछ अनुप्रयोग आजकल मुझे आकर्षित कर रहा है और मैं इधर उधर पड़े अपने बीस मिनटों को वही सुनने में लगा रहा हूँ। दिन में तीन और पिछले एक माह से, लगभग ८०-९० वार्तायें सुन चुका हूँ। शिक्षा, विज्ञान, समाज, संगीत, देश और न जाने कितने ही विषय, सारे के सारे उनके विशेषज्ञों द्वारा, हर वार्ता बस बीस मिनट की। रहस्य को और अधिक नहीं खीचूँगा, यह वार्तायें टेड (TED - Technology Entertainment and Design) के नाम से आयोजित की जाती हैं और इनका ध्येय वाक्य है, प्रसारयोग्य विचार (Ideas worth spreading)। विधि भी बड़ी सरल अपना रखी है, अपने आईपैड मिनी पर चुनी हुयी ढेरों वार्तायें डाउनलोड करके रखता हूँ और जब भी १५-२० मिनट की संभावना मिलती है, सुनना प्रारम्भ कर देता हूँ। कार्यालय जाते समय, निरीक्षण के बीच मिले अन्तराल में, किसी बैठक के प्रारम्भ होने की प्रतीक्षा में और कभी कभी सोने के पहले भी, एक बार में बस बीस मिनट निकालने से कार्य चल जाता है।

इस कार्य में रोचकता कई कारणों से आती है और अब तो यह एक खेल जैसा भी लगने लगा है। पहला तो बीस मिनट निकालना कोई कठिन कार्य नहीं है, ईश्वर ऐसे अवसर बहुतायत में भेंट कर देता है। दूसरा, आपके बीस मिनट किसी विशेषज्ञ से उसके किये हुये कार्य के वर्णन व प्रभाव सुनने में निकलते हैं, विचारों को प्रवाह सदा ही गतिमय और विविधता से भरा होता है। तीसरा, आपकी सृजनात्मकता सदा ही उत्कृष्टता और नवीनता से पोषित होती है। अपने क्षेत्र में विशिष्टतम कार्य करने वालों के ही मुख से उनका अनुभव व उद्गार सुनना, समय का इससे अच्छा उपयोग क्या हो सकता है भला? इसमें हजार से ऊपर वार्तायें हैं जोकि एक अरब से भी अधिक बार सुनी जा चुकी हैं, ये संख्यायें इसकी रोचकता को स्पष्ट रूप से व्यक्त करती हैं।

लेखन यात्रा में बहुधा लगता है कि घट खाली हुआ जा रहा है, समय रहता है पर सूझता नहीं कि क्या लिखा जाये? विचार मानसून की भविष्यवाणी की तरह ही आते हैं और आश्वासन देकर चले जाते हैं। जब कुछ देने की स्थिति में नहीं होता है जीवन तो याचक के रूप में आकर कुछ ग्रहण कर लेना रोचक भी लगता है और आवश्यक भी। पता नहीं घट कब तक भरेगा? कभी कभी तो लगता है कि इतने अच्छे और उत्कृष्ट विचार सुनने के क्रम में हम अपनी प्यास और बढ़ा बैठे हैं, जितना सुनते हैं, उतने प्यासे और रह जाते हैं। लगने लगता है कि कितना नहीं आता है अभी, कितना सीखना शेष है अभी।

सुनना व्यर्थ न जायेगा, कुछ न कुछ नये विचार सूत्र अवश्य निकलेंगे, कुछ श्रंखलायें अवश्य बनेगी जिनमें सबको प्रभावित कर जाने की क्षमता होगी, कुछ दर्शन उभरेगा जिसमें हम अपने उत्तर पाने की दिशा में बढ़ने लगेंगे। कुछ नया सीखने या जानने का मन हो तो आप क्या करेंगे? विशेषज्ञों से अच्छा भला और कौन बता पायेगा आपको, वह भी बस बीस मिनट में।

53 comments:

  1. बढ़िया आलेख. बीस मिनट! कभी कभी तो एक उमर भी कम लगती है सीखने के लिये :)

    ReplyDelete
  2. नया जानने और समझने, सुनने की उत्कंठा सदैव बलबती रहती है अंतर्मन में. यूँ तो २० मिनट का समय बहुधा मिलता है लेकिन उसका सदुपयोग एक सुंदर सुझाव है.

    सुंदर आलेख.

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रश्न
    बीस मिनट मात्र
    करना चाहें तो
    कर सकते हैं
    सब-कुछ
    और
    नहीं तो
    साल कम पड़ जाए
    सादर

    ReplyDelete
  4. अच्छी पोस्ट! बीस मिनट वाले वीडियो सुनने के लिये बुकमार्क कर लिये हैं। :)

    ReplyDelete
  5. रोचक, उपयोगी. निर्मल वर्मा याद आए, उन्‍होंने कहीं अपने बचपन के ''पांच मिनट में मर जाने वाले'' खेल का जिक्र किया है.

    ReplyDelete
  6. ...बीस मिनट तो कइयों पर बीस पड़ेंगे !
    .
    .समय को इस तरह सहेजना अतिरिक्त लाभ देगा ।

    ReplyDelete
  7. पांडेय जी अच्छा लेख है परन्तु 20 मिनिट नहीं यदि ५ मिनिट का समय हो तो इधर भी नजर डाल लीजिये -आभार
    New postअनुभूति : चाल,चलन,चरित्र
    New post तुम ही हो दामिनी।

    ReplyDelete
  8. 18 minutes max is the usual limit for TED talks. Seems to me loads of thought went into choosing that length - an average coffee break is 20 minutes. In that time you can see and share the link of an average TED talk. And it can easily go viral.

    Plus, of course, the discipline it imposes on the speakers.

    Nice post.

    ReplyDelete
  9. जब कुछ देने की स्थिति में नहीं होता है जीवन तो याचक के रूप में आकर कुछ ग्रहण कर लेना रोचक भी लगता है और आवश्यक भी।

    सही बात है ....आपका सुझाव भी बहुत अच्छा है , कोशिश रहेगी बीस मिनिट के इस प्रयोग को अपनाने की.....

    ReplyDelete
  10. बीस मिनट का उपयोग बहुत ही अच्‍छी प्रकार से बताया है आपने।

    ReplyDelete
  11. कहने के लिये बीस मिनट बहुत कम होते हैं पर कहने को कहा जाये तो बहुत अधिक हो जाते हैं। कोई एक विषय देकर कहा जाये कि इस पर बीस मिनट बोलना है तो आधे के बाद ही साँस फूलने लगती है, विषय के छोर नहीं सूझते हैं तब। हँसी हल्ला में तो घंटों निकल जाते हैं पर पिछले दो घंटों में क्या चर्चा हुयी, इस पर बोलने को कहा जाये तो सर भनभनाने लगता है।
    एकदम प्रेरक और जीवन में अपनाने योग्य पोस्ट ...!

    ReplyDelete
  12. जीवन में समय का सदूपयोग कर उसका लाभ उठाना चाहिए,क्योकि बीता पल फिर नही मिलने वाला,,,,,

    RECENT POST शहीदों की याद में,

    ReplyDelete
  13. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (2-2-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  14. बीस मिनट रिवाइंड करुँगी ज़िन्दगी - नयी सोच के साथ

    ReplyDelete

  15. बीस मिनट में समय का सदुपयोग।
    इसके अलावा आप इस समय को मेडिटेशन (तनाव ग्रस्त लोगों के लिए ) , बैठे बैठे घुटनों की एक्सरसाइज़ ( बुजुर्गों के लिए ), कविता लिखने ( कवियों के लिए), और कभी कभी स्वयं से रूबरू होने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। :)

    ReplyDelete
  16. रोचक ढंग से बीस मिनट की अहमियत को बताया .... जितना भी जाना जाए कम लगता है .... कभी कभी सच ही घट खाली होने की स्थिति आ जाती है .... प्रेरक लेख

    ReplyDelete
  17. I usually write in those 20 minutes. Nevertheless excellent idea, of course worth spreading.

    :)

    ReplyDelete
  18. अच्छा आलेख ! बीस मिनट का इससे बेहतर उपयोग और क्या हो सकता है...अगर आपके पास कोई और कार्य उस बीस मिनट के अनुसार नहीं हो तो...
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  19. बीस मिनट पर ... इतना उत्‍कृष्‍ट लेखन
    आभार

    ReplyDelete
  20. अद्भुत बीस मिनट और मेरा कमेंट्स भी बीसवां है |इस बीस मिनट ने एक गौरतलब आलेख लिखवा दिया |आभार सर

    ReplyDelete
  21. कितना नहीं आता है अभी, कितना सीखना शेष है अभी......?

    ReplyDelete
  22. सर जी चालक दल के लिए एक सेकेण्ड भी मूल्यवान है | बढ़िया सदुपयोग समय का |

    ReplyDelete
  23. वाह ! समय का सदुपयोग और मस्तिष्क को नित नवीन जानकारी..प्रेरक पोस्ट !

    ReplyDelete
  24. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  25. मैं ऐसे बीस मिनट मिलने पर मोबाइल निकाल कर ब्लॉग पोस्टें पढ़ने लगता हूँ।

    ReplyDelete
  26. आज से हम भी सुनना शुरू करते हैं

    ReplyDelete
  27. मिनट तो ठीक पर मूड भी तो कोई चीज़ है

    ReplyDelete
  28. बढ़िया आलेख..ये बीस मिनट का अपना ही महत्व है..

    ReplyDelete
  29. बहुत ही अच्छे विषय भी रहते हैं ...कुछ करने की प्रेरणा तो मिलती ही है हमेशा...

    ReplyDelete
  30. बीस मि्नट जीवन में महत्वपूर्ण होते हैं… सटीक

    ReplyDelete
  31. बढियां हाबी

    ReplyDelete
  32. अतिशय उपयोगी लेख... धन्यवाद...

    ReplyDelete
  33. जीवन के बहूमूल्य बीस मिनिट ....कुछ देते हुए ...
    बहुत सार्थक और उपयोगी ,एक दिशा दिखते हुए ...आभार

    ReplyDelete
  34. हर मिनिट पल छिन कीमती सरजी !अपन एक शहर से दूसरे शहर में पहुँच जाते हैं परिवेश साथ चलता है पहले पत्र - पत्रिकाएँ होतीं थीं चंद अखबार और अब लैप टॉप जगह कोई भी हो खाली रहना आत्म ह्त्या करने जैसा हो जाता है .असल बात है समय का महत्व समझना .सबकी अपने अपने ओबसेशन हैं सनक हैं ,ज़िंदा रहने के लिए ज़रूरी हैं .

    पाल ले एक रोग नादाँ ज़िन्दगी के वास्ते ,

    सिर्फ सेहत के सहारे कटती नहीं है ज़िन्दगी .

    ReplyDelete
  35. समय का मूल्य और भी गहन हुआ..

    ReplyDelete
  36. सीखने के लिए समय हमेशा कम रहता है . ...

    ReplyDelete
  37. बीस मिनट की रोचक कहानी ... आपकी लेखनी ओर अनेक्कों की जुबानी ...

    ReplyDelete
  38. काफ़ी महत्वपूर्ण हैं बीस मिनट, यदि सदुपयोग कर लिया जाये.

    रामराम.

    ReplyDelete
  39. उन बीस मिनटों में से कुछ समय दुनिया की किताब के चारों ओर फैले पन्ने पढ़ने-समझने में भी लगा दीजिए ,उसे भी तो आपका इंतज़ार है.

    ReplyDelete
  40. है। एक नजरिया तो है आपकी इस पोस्‍ट में।

    ReplyDelete

  41. समय की सवारी करो वरना समय तुम्हारी सवारी करेगा .समय का सदुपयोग कुदरत का सबसे बड़ा इनाम है आदमी के लिए .

    ReplyDelete
  42. यदि मन अवसाद में हो तो शायद ही कुछ करने का मन हो इन बीस मिनटों में...लेकिन फिर भी मैं कुछ सार्थक पढ़ने का प्रयत्न करुंगा।
    सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  43. जिंदगी में हर कदम पर इनसान कुछ न कुछ सीखता ही है बीस मिनट क्या पूरी जिंदगी लग जाती है सीखने के लिए किन्तु महत्वपूर्ण बात है कि सीखना क्या चाहिए जो जीवन में उपयोगी हो समय बरबाद ना हो कुछ अच्छा सीखें फिर अच्छा दूसरों को सिखाये बहुत प्रभाव शाली आलेख हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  44. " संवाद कुशल व्यक्ति यह जानते हैं कि श्रोताओं के हृदय में उतरने का मार्ग विषय को सरल ढंग से प्रस्तुत करने के अतिरिक्त कुछ भी नहीं है। विषय को सरल ढंग से व्यक्त करने के लिये और अधिक श्रम करना पड़ता है और यह कार्य केवल विशेषज्ञ और मर्मज्ञ ही कर सकते हैं।"
    ....................... बहुत सही और सटीक.

    ReplyDelete
  45. समय के कहानी आपकी जुबानी पढ़ी .लगा दिए आपने पंख समय को .पल छिन को ,निचोड़ लिया उसका सार तत्व .वाह .शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  46. समय के कहानी आपकी जुबानी पढ़ी .लगा दिए आपने पंख समय को .पल छिन को ,निचोड़ लिया उसका सार तत्व .वाह .शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  47. बीस मिनट में समय का बहुत बढ़िया सदुपयोग कर दिखाया आपने ...सुन्दर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  48. हम तो मिनिट मिनिट का हिसाब रखते हैं, और कोशिश करते हैं कि मिनिट भी बेकार ना चला जाये ।

    ReplyDelete
  49. Accha padhna/acchha sunNa/vaartayen aadi sunte rahna chaheeye.20 min..ya sirf 10 min...
    jaisa ki aap ne bhi bataya KI aisa karna ..hamesha yeh ahsaas dilata hai ki hamEn abhi aur sikhna hai aur jaNana hai.

    Aap ka lekhan bhi pathak ke vicharon ko poshit avshy karta hai.

    ReplyDelete
  50. आज जनसत्ता में आपका आलेख देखा... पढ़े बिना नहीं रह पाए...
    वाक़ई बहुत अच्छा आलेख है...
    शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  51. और लीजिये ये कुछ पल सार्थक हुए आपकी पोस्ट पढने में ।

    ReplyDelete
  52. तात स्वर्ग अपवर्ग सुख रखिये तुला एक संग ,
    तूल न ताहि सकल मिली ज्यो विधि लब सत्संग।।"
    मैंने अपने ऑफिस के लंच ब्रेक के इस बीस मिनट का भरपूर आनंद लिया।" आपके सुविचारित आलेख के लिए सुक्रिया।

    ReplyDelete
  53. आज हमने भी अपने बीस मिनट का इस्तेमाल आपकी छूटी हुई पोस्ट पढ़ने में किया और अच्छा लगा :)

    ReplyDelete