27.4.11

कान्हा मुरली मधुर बजाये

यदि किसी को संशय हो कि कृष्ण की बांसुरी में क्या आकर्षण था तो उन्हें मेरे साथ होना था, उस सभागार में, जहाँ पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया अपनी बांसुरी के स्वरों से कृष्ण की आकर्षण-प्रमेय सिद्ध करने में लगे थे।

आलाप प्रारम्भ होता है और हृदय की अव्यवस्थित धड़कनों को स्थायित्व मिलने लगता है, आलाप प्रारम्भ होता है और मन के बहकते विचारों को दिशा मिलने लगती है। आँखें स्थिर होते होते बन्द हो जाती हैं, शरीर तनाव से निकल कर सहजता की ढलान में बहने लगता है। तानपुरे की आवृत्तियों के आधार में बांसुरी के स्वर कमलदल की तरह धीरे धीरे खिलने लगते है, वातावरण मुग्धता द्वारा हर लिया जाता है, न किसी की सुध, न किसी की परवाह, समय का वह क्षण सबका आलम्बन छोड़ बस स्वयं में ही जी लेना चाहता है। बीच में कोई नहीं आता है बस स्वरों का हृदय से सीधा संवाद जुड़ने लगता है, स्वरों का आरोह, अवरोह और साम्य हृदय को अपना तत्व प्रेषित कर निश्चिन्त हो जाता है, संचय का कोई प्रश्न नहीं, आनन्द अपनी पूरी जमा पूंजी उड़ाकर पहले अह्लादित और फिर उस हल्केपन की अवस्था में मगन हो जाना चाहता है।

बांसुरी के इस सम्मोहन को छू भर लेने से गोपियों का वह विश्वास मुखर होने लगता है जिसके अधिकार में उद्धव का निर्गुण ज्ञान अपना गर्व खोने लगता है, रत्नाकर की पंक्तियाँ उस अवस्था को सहजता से व्यक्त कर जाती हैं, प्रेम मद छाके पद परत कहाँ के कहाँ।

कल्पना कीजिये, जब वन के मद-गुंजित वातप्रवाह में बांसुरी के स्वर बहते होंगे, सारे पशु पक्षी अपना स्वभाव भूलकर सम्मोहन की स्थिति में उस स्वर के स्रोत की ओर बढ़ने लगते होंगे। मोहन का सम्मोहन, वेणुगोपाल का आकर्षण भला कौन नकार पाता होगा, शत्रु भी उस स्वर-भंवर में डूबते उतराते हुये अपनी मोक्ष-मृत्यु की संरचना गढ़ने लगते होंगे। गोप-ग्वालिनों का अह्लाद समय की सीमा लाँघ अनन्त में स्थिर हो जाता होगा। स्वरों का रुक जाना आनन्द के आकाश से गिर जाने जैसा होता होगा और कान्हा का द्वारका चले जाना तो असहनीय पीड़ा का चरम।

कृष्ण का आकर्षण समझने के लिये आपको उनके आकर्षण की भाषा समझनी होगी। पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया को सुनने से उस भाषा के स्वर और व्यंजन एक एक करके स्पष्ट  होते गये। हृदय की एक एक परत खोलने की कला तो बांसुरी ही जानती है और बांसुरी का मर्म और धर्म अपने अन्दर समेटे पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया, आँख बन्द कर उँगलियों की थिरकन जब बांसुरी पर लहराती है तब हवा को ध्वनि मिल जाती है।

आधुनिकता के धुंधमय कोहरे में जब भारतीय शास्त्रीय संगीत का वृद्ध-सूर्य अपनी चिरयुवा बांसुरी का सम्मोहन बिखराता है, संगीत का आलोक दिखने लगता है, स्वतः, अनुभवजन्य। तब श्रेष्ठता सिद्ध करने के लिये तर्क आवश्यक नहीं होते हैं, जो आनन्दमयी हो जाता है वही श्रेष्ठ हो जाता है

अन्त में जब राग पहाड़ी गूँजने लगा तो सारा सभागार नृत्यमय व उत्सवमय हो गया, बड़ी बांसुरी की गाम्भीर्य सुर लहरी के बाद हाथों में छोटी बाँसुरी ने स्थान ले लिया, स्वर चहुँ ओर थिरक रहे हैं, प्रारम्भ का शान्ति-सम्मोहन अब आनन्द-आरोहण में बदल चुका था।

कृष्णस्य आकर्षण-प्रमेयम्, इति सिद्धम्।

91 comments:

  1. चौरसिया जी को एक बार लाईव सुना है...आज वो क्षण याद आ गये...


    बहुत आभार आपका यादें ताजा कराने को.

    ReplyDelete
  2. बिलकुल सही कहा है आपने कि इस तरह के कार्यक्रम में आप मह्सूस कर सकते है परमात्मा को. किसी दूसरी दुनिया की सैर होती है.

    ReplyDelete
  3. शुभ प्रभात !
    संगीत उद्वेलित करता है इसमें तो कोई संदेह नहीं मगर इसका आनंद वही ले पता है जो इसका आनंद इसमें डूब कर ले सके !

    ReplyDelete
  4. बिल्किल ठीक लिखा है आपने |वैसे भी शास्त्रीय संगीत सुनने की नहीं,अनुभव करने की चीज़ है |पंडित हरी प्रसाद जी की बांसुरी हो ...और राग पहाड़ी हो ...दिव्य अनुभूति ...!!

    ReplyDelete
  5. श्रोताओं में निर्मल आनंद का संचार करना किसी भी संगीतज्ञ में यूँ ही नहीं आ जाता.उसने गहन रियाज किया होता है संगीत के हर सुर और ताल का.वह खुद डूब जाता है 'सत्-चित-आनंद'के भाव में जिसमें इतनी शक्ति है कि संगीत में उतर कर श्रोताओं कि भाव-समाधि तक लगवा दे.कृष्ण को तो स्वयं 'सत्-चित-आनंद' भाव का साक्षात अवतार ही माना गया है.फिर उनकी बांसुरी की धुन कितनी अलौकिक,अविस्मरणीय,और ह्रदय को सहज आकर्षण करती होगी कि मनुष्य तो मनुष्य, पशु पक्षी यहाँ तक की समस्त जड़ चेतन,पेड़,पत्थर,जमुना की जलधार सभी की भाव समाधि लग जाती होगी इसमें तनिक भी संदेह नहीं है. कवि रसखान तो ऐसे 'सत्-चित-आनंद' को कृष्ण रूप में ध्या कह उठते हैं
    "मानुष हो तो वही रसखान बसौं नित गोकुल गावँ के ग्वारन
    जो खग हों तो बसेरौ नित कालंदी कूल कदम्ब की डारन"

    ReplyDelete
  6. ye soubhagy kai var mila insaan doosre lok me hee pahuch jata hai........
    aap gour farmae to paenge instrumental music me ye magic hai.........ye shavdo ka mohtaz nahee.

    bahut sunder anubhuri varnan.

    ReplyDelete
  7. हरिप्रसाद चौरसिया जी के बांसुरी वादन कृष्ण- सा ही मधुर है ...कोई शक नहीं ...
    "चांदनी" के गीत " तेरे मेरे होठों पे मीठे -मीठे गीत मितवा " में शिव कुमार शर्मा के साथ इनकी जुगलबंदी ने क्या धुन बनायी है ...

    ReplyDelete
  8. kamaal ka hai bhartiya shashtriya geet aur sangeet...

    ReplyDelete
  9. लाईव नहीं सुन पाये, लेकिन रिकार्डिंग तो सुन रखी हैं, मदहोश करने लायक।

    ReplyDelete
  10. आदरणीय हरिप्रसाद चौरसिया जी का बांसुरी वादन कई बार सुना है। बस आँखे बंद करिए और सुरों के साथ गहरे उतर जाईए। अलौकिक आनंद आता है।

    आभार

    ReplyDelete
  11. बांसुरी का सुर कानों में , वह भी चौरसिया जी की वाह !सुन्दर अनुभूति होती है वैसे संगीत कोई भी अच्छा ही लगता है |

    ReplyDelete
  12. हरिप्रसाद चौरसिया को साक्षात्‌ सुनना एक अद्भुत्‌ आनंद लोक की यात्रा होती है।

    ReplyDelete
  13. मगर मुरली की तान सुनने को तरस गए श्रवण रंध्र .....एक आडियो /वीडियो लगाना था न ..
    कृष्ण की मुरली की तान तो एक अनहद नाद थी समस्त चराचर को व्यामोहित कर देने वाली

    ReplyDelete
  14. अनुनादित करता हुआ पोस्‍ट का सुर.

    ReplyDelete
  15. अधरं मधुरं - वदनं मधुरं
    मधुराधिपते रखिलं मधुरं

    ReplyDelete
  16. baansuri aur chaurasiya ji .... krishn ka aakarshan samjh me aa jata hai

    ReplyDelete
  17. हीरो फिल्म के संगीत की कामयाबी भी उनकी बांसुरी ही थी |

    ReplyDelete
  18. चौरसिया जी को मुरली बजाते सुनना भगवत आनंद की अनुभूति करता है .प्रमेय सिद्ध हुई और हम मंत्रमुग्ध हुए .

    ReplyDelete
  19. मधुर संगीत सदा ही मन में एक अलग तरह का भाव पैदा करता है |
    .
    .
    .
    शिल्पा

    ReplyDelete
  20. हरी प्रसाद....
    वास्तव में ये मोहन मुरली उन्हें हरी के प्रसाद स्वरुप ही मिली है..
    मुझे भी एक बार उन्हें साक्षात् सुनने का सौभाग्य मिला है..
    बस यही लगा कि इसके बिना शायद जीवन में कुछ कमी ही रह जाती....
    अभूतपूर्व,अद्वितीय,मंत्रमुग्ध....
    कुछ ऐसा ही आकर्षण है उनकी मुरली में..
    कृष्ण के सशरीर होने का एहसास उसी क्षण महसूस हुआ...
    आपके लेख के लिए धन्यवाद...!!

    ReplyDelete
  21. chourasia jee ke dhuno ko aapne shabdo me vyakt kar diya...abhar!!

    ReplyDelete
  22. शास्त्रीय संगात भी भक्ति साधना है। सुन कर महसूस कर इन्सान िस मे डूब जाता है। अच्छी पोस्ट। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  23. भारतीय वाद्ययंत्र में जो मिठास और शांति प्रदान करने की शक्ति है वो आज के शॊर-शराबे में कहां जिसे लोग संगीत कहते है :)

    ReplyDelete
  24. सिर्फ महसूसने का सुख. आभार सहित...

    ReplyDelete
  25. संगीत में कशिश ही ऐसी होती है कि दूसरी दुनिया में ले जाती है.

    ReplyDelete
  26. आपने इसे रिकोर्ड नही किया…………अगर किया था तो यहां लगाना चाहिये था।

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (28-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  27. बिल्‍कुल सही कहा है आपने इस आलेख में ... बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  28. सुन्दर... अति-सुन्दर...वांसुरी भी...वादन भी...वर्ण्य भाव भी... और क्यों न हो सौन्दर्य की सीमाहीन सीमा की --
    कान्हा तेरी मुरली मन भरमाये।
    कण कन ग्यान का अमरत बरसे, तन मन सरसाये।

    ReplyDelete
  29. यत्न किया था बचपन में की सीख सकूँ ठीक से बांसुरी बजाना।
    चौरसिया जी को सुनना सचमुच सुखद है।

    ReplyDelete
  30. चौरसिया जी को एक बार लाईव सुना है...आज वो क्षण याद आ गये...

    ReplyDelete
  31. अब बांसुरी वादन कैसा लगता यह तो नहीं कह सकती पर आपके लेख ने ज़रूर मन मुदित कर दिया ...

    ReplyDelete
  32. यकीनन..चौरसियाजी का बाँसुरी वादन एक अलग ही दुनिया मे ले जाता है..दर्द निवारक...

    ReplyDelete
  33. चौरसिया जी की बांसुरी साधना तो मन भावन है किन्तु चौरसिया जी का उतराधिकारी कौन होगा अनुतरित है

    ReplyDelete
  34. जैसा चौरसियाजी का संगीत, वैसा है आपका वर्णन!
    काश हम आप जैसे लिख सकते थे!

    हम भी कभी बाँसुरी बजाया करते थे पर इन महारथियों को सुनने के बाद लगता है हम तो केवल सीटी बजा रहे हैं!
    कई साल पहले हमने इनको संगीत मंच पर सुना था।
    देवेन्द्र मुर्देश्वर, प्रकाश वधेरा, रघुनाथ सेठ को भी मंच पर बजाते सुन चुका हूँ।
    रधुनाथ सेठ से उनके घर जाकर मिला था, करीब चालीस साल पहले।

    आजकल रोनु मज़ुमदार और प्रवीण गोदखिन्डी का प्रशंसक बन गया हूँ।
    सभी माहिर हैं। पर कौन सर्वश्रेष्ठ है, यह निश्चय करने के लिए हम अयोग्य हैं।

    कितना सरल वाद्य है यह बाँसुरी। शायद दुनाया में सबसे सस्ता वाद्य है यह।
    केवल एक बाँस का टुकडा!
    उसमे कुछ छेद कर लो, अधरों पर लगा लो, फ़ूँको, और देखो, कुशल और प्रतिभाशाली वादक क्या जादू करता है।
    बिजली की कोई आवश्यकता नहीं। आसानी से उठाकर कहीं भी ले जाओ।
    खडे खडे बजाओ या बैठे बैठे । या चलते फ़िरते बजाओ।

    एक जमाना था जब इस वाद्य को शास्त्रीय संगीत के लिए अयोग्य माना जाता था।
    पन्नलाल घोषजी ने इसे मान्यता दिला दी थी।
    मेरी राय में बाँसुरी को देश का राष्ट्रीय वाद्य का स्थान दिया जाना चाहिए।

    बहुत दिनों बाद टिप्पणी कर रहा हूँ। इस लंबी चुप्पी के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ। कारण ज्ञानजी के ब्लॉग पर बता दिया था।

    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  35. राधे राधे प्रवीण भाई| कान्हा की मुरली को राधा यूँ ही सौतन नहीं कहती थी| और जब चौरसिया जी के हाथों में हो बाँसुरी, तो भाई आनंद-घन नंद नंदन कृष्ण से साक्षात्कार क़ी पूरी पूरी गेरेंटी होती है|

    ReplyDelete
  36. हमें भी एक बार मुरली बजाने की झक चढी थी बचपन में, पर उसे अफोर्ड नहीं कर पाए। आपने इन पलों को पुन: याद दिलवा दिया।

    ---------
    देखिए ब्‍लॉग समीक्षा की बारहवीं कड़ी।
    अंधविश्‍वासी आज भी रत्‍नों की अंगूठी पहनते हैं।

    ReplyDelete
  37. अति-सुन्दर, संगीत में कशिश ही ऐसी होती है कि दूसरी दुनिया में ले जाती है|

    ReplyDelete
  38. पं. हरि प्रसाद चौरसिया जब बांसुरी बजाते हैं तो संगीत का व्याकरण और संगीत का गणित भी रूपाकार ग्रहण करने लगता है।

    भारतीय शास्त्रीय संगीत को वृद्ध-सूर्य की उपमा देने से व्यथित हुआ हूं।....वह तो चिर युवा है।

    ReplyDelete
  39. चौरसिया जी को सुनना सचमुच सुखद है।

    ReplyDelete
  40. हरिप्रसाद चौरसिया जी को हम ने भी एक बार यहां सुना था, धन्यवाद

    ReplyDelete
  41. जी प्रवीण जी हरिप्रसाद चौरसिया जी का बाँसुरी वादन उनके सजीव तल्लीनता को सन्मुख देखते हुए सुनना अद्भुत अनुभूति है। एक बार , लगभग 20 वर्ष पूर्व , बनारस संकटमोचन संगीतोत्सव में मुझे उनके दर्शन व सुनने का सौभाग्य मिला था, किन्तु उसकी मधुर व आनंदमयी स्मृति आज भी मन में यथावत है।

    ReplyDelete
  42. हरिप्रसादजी जैसे व्यक्तित्व हमारे देश का गौरव हैं ...... आप भाग्यशाली हैं उन्हें लाइव सुन पाए ..... सच में उनकी बासुंरी मन को पहले उद्वेलित और फिर शांत कर देती है....... एक सुखद और दिव्य अनुभूति जो अलौकिक आनन्द दे जाये

    ReplyDelete
  43. पं. हरि प्रसाद चौरसिया जी जब बांसुरी बजाते हैं तो संगीत का व्याकरण और संगीत का गणित रूपाकार ग्रहण करने लगता है।
    आभार इस सरस आलेख के लिए।

    ReplyDelete
  44. मुरली के स्वर की शब्द सरिता बहा दी आपने इस पोस्ट में...!

    ReplyDelete
  45. Really, how pleasant it would be to listen to the maestro live!!! And your beautiful description has made it even more charming.

    ReplyDelete
  46. हम होते तो... खैर आकी पोस्ट से महसूस करने की कोशिश कर रहे हैं.
    कभी सुनने का मौका नहीं मिल पाया. :(

    ReplyDelete
  47. हरिप्रसाद चौरसिया जी के बांसुरी वादन के साथ शिव कुमार शर्मा जी का संतूर वादन...

    कभी इस जुगलबंदी को सुनिएगा...दिव्यलोक की अनुभूति होगी...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  48. चौरसिया जी तो जादूगर हैं बाँसुरी के

    ReplyDelete
  49. flute is the only musical instrument which when played causes resonance with all living and non living world, anyone simply gets tuned to its tune.a very musical presentation...

    ReplyDelete
  50. maine bhi gwalior tansen samaroh mein pandit ji ki bansuri suni thi...wo ehsaas hi adbhut tha.

    ReplyDelete
  51. जब पेड पर बैठी हुई कोयल की कुह‍ुक सुनायी पड़ती है तो मन नाच उठता है, फिर भला बांसुरी की तान से तो मन झूमेंगा ही ना। आपको बधाई, जो आपने यह आनन्‍द लिया।

    ReplyDelete
  52. आँखें स्थिर होते होते बन्द हो जाती हैं, शरीर तनाव से निकल कर सहजता की ढलान में बहने लगता है। तानपुरे की आवृत्तियों के आधार में बांसुरी के स्वर कमलदल की तरह धीरे धीरे खिलने लगते है, वातावरण मुग्धता द्वारा हर लिया जाता है, न किसी की सुध, न किसी की परवाह.....

    वाह ...वाह......
    कितने संगीत प्रेमी हैं आप ......
    आपका गया वो गीत आज भी कानों में रस घोल रहा है ......

    ReplyDelete
  53. बनारस की , बचपन की , बांसुरी की तान की याद ताज़ा हो गयी !

    ReplyDelete
  54. बहुत सुरीली पोस्ट....
    हार्दिक बधाई...

    ReplyDelete
  55. Jitni sundar baansuri ki dhun hoti hai utna hi sundar varnan kiya hai aapne ... gopiyaan to yakeenan kho jaati hongi is murli ki taan sun ke ... ham bhi kho gaye aapka vaartalaap padh ke ....

    ReplyDelete
  56. murli ki dhun par sudh -budh hi kahan rahti .fuk de jo pran me uttejana wah kala hai gaan me ,jo kapit karke hila daale hridya dhun wo paayi maine gaan me .pandit ji ko sunna saubhagya ki baat hai .

    ReplyDelete
  57. हृदय की एक एक परत खोलने की कला तो बांसुरी ही जानती है और बांसुरी का मर्म और धर्म अपने अन्दर समेटे पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया, आँख बन्द कर उँगलियों की थिरकन जब बांसुरी पर लहराती है तब हवा को ध्वनि मिल जाती है।
    लेख है या काव्य क्या शब्द क्या भाव और क्या बहाव । अति सुंदर ।

    ReplyDelete
  58. एक जादू है उनके बांसुरी वादन में।

    ReplyDelete
  59. सुमधुर पोस्ट.
    मैं भाग्यशाली हूँ के मैंने अल्पायु से ही प्रख्यात पारंगत कलाकरों की कलासाधना को अपने समक्ष जीवंत रूप में देखा है और गुंजायमान होती हुई स्वरलहरियों ने मुझे न जाने कितनी ही बार विलोड़ित और आह्लादित कर दिया!
    शरद पूर्णिमा के रात्रि को मुक्ताकाश मंच में भोपाल ताल के किनारे चौरसिया जी का बांसुरी वादन याद आ गया. ऐसी ही एक पूर्णिमा को शिव कुमार शर्मा जी का संतूर वादन भी सुना था.
    सतीश जी ने सही कहा, शास्त्रीय संगीत का आनंद उठाने के लिए कुछ समझ और कुछ संस्कृति, दोनों चाहिए.

    ReplyDelete
  60. सर बहुत सुन्दर ! मुरली तो मुरली ही है !

    ReplyDelete
  61. praveen ji
    bahut hi sateek vivechan kiya hai aapne kanha ki murli ka.
    ham to aapki post padhkar hi kanha ki murli ke ras me dub gaye .aapne to apne dil se ise mahsus kiya kiya .sach us waqt ki kalpna kar rahi hun ki jab aapne ise suna hoga to vastav me aap sab kuchh bhul kar kisi anant aanand purn duniya ki sair kar rahe honge.
    kanha ki murli ke deewaane sabhi pashu -pakxi aur gopiyan yun hi nahi hui hongi .yah to unki murli ki taan ka sammohan hi tha jo sabko apna deewana bana leti thi .ab is soubhagy ko ham bhi pana chahte hain jo aapko mila.
    bahut hi aanandpurn lekh
    bahut bahut badhai
    poonam

    ReplyDelete
  62. आनंद का , मनोवस्था का अनुमान लगा सकती हूँ...

    सौभाग्यशाली हैं आप...

    ReplyDelete
  63. आँखें बंद हो और मन का कान मुरली की धुन को सुनने व महसूस करने को व्याकुल हो तो आनद ही आनंद है...क्योकि बांकी आँखें खुली होने पर तो चारो ओर आजकल ऐसी धुन सुनाई देती है जिससे आनंद तो दूर मन का कान परेशान होने लगता है...

    ReplyDelete
  64. आप काफी परिष्कृत रूचि से संपन्न प्रतीत होते हैं , वाह ! क्या बात है ! चैन की बासुरी ऐसे ही बजती रहे !

    ReplyDelete
  65. सच में लाइव सुनना एक रोमाचकारी अनुभव होता है मैंने भी पंडितजीजी को कालिदास मोहस्तव के दरमिय सुना था .... मदहोश करता है

    ReplyDelete
  66. बहुत ही सुंदर और भावपूर्ण। वैसे भी चौरसिया जी को सुनने का एक अपना ही सुखद अहसास है।

    ReplyDelete
  67. कृष्णस्य आकर्षण-प्रमेयम्, इति सिद्धम्
    आपने शानदार तरीके से लिखा है.
    दुनाली पर देखें
    चलने की ख्वाहिश...

    ReplyDelete
  68. कृष्ण का आकर्षण समझने के लिये आपको उनके आकर्षण की भाषा समझनी होगी.....

    jai baba banaras.........

    ReplyDelete
  69. प्रवीण जी मेरे पास एक नोकिया ३११० में रिकार्डर में
    रिकार्ड की गयी amr file है । मैं इसको amr प्लेयर
    से mp3 और wav में कन्वर्ट भी कर चुका हूँ । अब
    कृपया इसे ब्लाग में पोस्ट करने का तरीका बतायें ।
    मेरा ई मेल - धन्यवाद ।
    golu224@yahoo.com

    ReplyDelete
  70. फिलहाल तो मेरी अटेंडेंस लगा लीजिये... अभी जा रहा हूँ ट्रेन पकड़ने........ लौट कर मिलता हूँ.... आपको पढना बहुत अच्छा लगता है बस कुछ बिज़िनेस है.... इसीलिए आ नहीं पा रहा हूँ.... होप यू विल अंडरस्टैंड ............

    ReplyDelete
  71. फिलहाल तो मेरी अटेंडेंस लगा लीजिये... अभी जा रहा हूँ ट्रेन पकड़ने........ लौट कर मिलता हूँ.... आपको पढना बहुत अच्छा लगता है बस कुछ बिज़िनेस है.... इसीलिए आ नहीं पा रहा हूँ.... होप यू विल अंडरस्टैंड ............

    ReplyDelete
  72. इसमें दो राय नहीं कि हरिजी का बांसुरी वादन अद्भुत है.यह उनकी साधना का कमाल ही है कि इस उम्र में भी वे घंटों बांसुरी बजा लेते है. पंडितजी से कई बार मुलाकात का मौका मिला है.वे एक बेहद अच्छे इन्सान भी हैं, आपने उनके बांसुरी वादन का सारगर्भित वर्णन किया है. बधाई.

    ReplyDelete
  73. शास्त्रीय-संगीत की समझ ज़्यादा न होने के बावजूद बांसुरी-वादन मन को मुग्ध कर देता है,चौरसिया जी जैसे लोगों को सुनना बेहद दुर्लभ है !
    सच्चा संगीत वही है जो दिल का दर्द फुर्र कर दे !

    ReplyDelete
  74. भाग्‍यशाली हैं वे जिन्‍हानें सामने बैठकर चौरसियाजी को सुना। एक किंवदन्‍ती को प्रस्‍तुति देते हुए देखना-सुनना वर्णनातीत है।

    ReplyDelete
  75. @ Udan Tashtari
    उन्हे सुनना अपने आप में एक अनुभव था।

    @ रचना दीक्षित
    जब अनुनाद हृदय से होता है तो सच में परमात्मा से निकटता का अनुभव होता है।

    @ सतीश सक्सेना
    आनन्द-निमग्ना होकर ही रसानुभूति होती है।

    @ anupama's sukrity !
    ऐसा ही कुछ अनुभव हुआ हमें।

    @ Rakesh Kumar
    आलौकिक अनुभूति देती है बांसुरी की तान।

    ReplyDelete
  76. @ Apanatva
    बांसुरी के स्वर लहरियों को शब्दों की आवश्यकता ही नहीं।

    @ वाणी गीत
    यह गीत तो बहुत अच्छा लगता है।

    @ भारतीय नागरिक - Indian Citizen
    भारतीय शास्त्रीय संगीत में अध्यात्म झलकता है।

    @ संजय @ मो सम कौन ?
    शान्ति से बैठकर सुने, अलौकिक है।

    @ ललित शर्मा
    सच कहा आपने, यही अनुभूति होती है।

    ReplyDelete
  77. @ Sunil Kumar
    यही आनन्द है उन्हे सुनने का।

    @ मनोज कुमार
    सच कहा आपने।

    @ Arvind Mishra
    रिकॉर्डिंग की अनुमति न थी, नहीं तो लगा देते।

    @ Rahul Singh
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ दीपक बाबा
    मुरलीधारी का यही आकर्षण है।

    ReplyDelete
  78. @ रश्मि प्रभा...
    कृष्ण का मुरली-आकर्षण तो चौरसिया जी ही समझा सकते हैं।

    @ नरेश सिह राठौड़
    हाँ हमने भी देखी है।

    @ ashish
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Shilpa
    वही माधुर्य मुरली से टपकता है।

    @ ***Punam***
    हरि का उपहार ही है, तभी रमकर बजाते हैं।

    ReplyDelete
  79. @ Mukesh Kumar Sinha
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ निर्मला कपिला
    भक्ति और प्रेम के सुरों को सरलता से व्यक्त करती है मुरली।

    @ cmpershad
    वही दिव्य शान्ति मिली वहाँ पर जाकर।

    @ सुशील बाकलीवाल
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ shikha varshney
    सच कहा आपने, वही अनुभव करना अच्छा लगता है।

    ReplyDelete
  80. @ वन्दना
    बहुत धन्यवाद आपका, इस सम्मान के लिये।

    @ सदा
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Dr. shyam gupta
    असीमित, अपरिमित सौन्दर्य के प्रारम्भ क्षेत्र में पहुँचा देता है यह संगीत।

    @ Avinash Chandra
    हमसे तो सुर कभी निकले नहीं पर सुनना सदा ही अच्छा लगता है।

    @ अरुण चन्द्र रॉय
    वे स्मृतियों मधुर होंगी।

    ReplyDelete
  81. @ संगीता स्वरुप ( गीत )
    सच कहा आपने, मन प्रसन्न हो गया था।

    @ मीनाक्षी
    शरीर तो अपनी हलचल भूल जाता है।

    @ गिरधारी खंकरियाल
    कई प्रतिभायें हैं जो संगीत साधना में निरत हैं।

    @ G Vishwanath
    इस पोस्ट का कुछ भाग सभागार से बाहर आते ही लिख लिया था। सेष स्मृति की ध्यानस्थ अवस्था में लिखा। आपकी बांसुरी की कुछ फाइलें हैं मेरे पास, सुनकर बहुत अच्छा लगा था। प्रवीण गोदखिण्डी का संगीत सुना है, बहुत प्रभावित किया है उसने भी। मुरलीधर की मुरली का आकर्षण अप्रतिम है।
    आपको शीघ्र ही पूर्ण स्वास्थ्य लाभ हो।

    @ Navin C. Chaturvedi
    कृष्ण का आकर्षण गूँज रहा था सभागार में उस दिन।

    ReplyDelete
  82. @ ज़ाकिर अली ‘रजनीश’
    सीखने का मेरा प्रयास भी असफल ही रहा था।

    @ Patali-The-Village
    सच कहा आपने, ऐसा ही अनुभव होता है।

    @ mahendra verma
    आपको आहत किया है तो क्षमाप्रार्थी हूँ, भगवान करे कि वे सौ वर्षों से भी अधिक जियें पर वृद्ध सूर्य की लालिमा में भक्ति और प्रेम दोनों ही झलकता है।

    @ संजय भास्कर
    सच कहा आपने।

    @ राज भाटिय़ा
    अलौकिक अनुभव है वह।

    ReplyDelete
  83. @ देवेन्द्र
    इस प्रस्तुति की स्मृति सदा ही मेरे पास रहेगी।

    @ डॉ॰ मोनिका शर्मा
    देश की संस्कृति के संगीत पक्ष के सशक्त हस्ताक्षर हैं।

    @ mahendra verma
    संगीत का प्रभाव समझ में आने लगता है, मुरली की तानों में।

    @ देवेन्द्र पाण्डेय
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Gopal Mishra
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  84. @ Abhishek Ojha
    जब भी अवसर मिले तो अवश्य सुनियेगा।

    @ Khushdeep Sehgal
    यह जुगलबंदी अद्भुत लगी।

    @ M VERMA
    सच कहा आपने।

    @ अमित श्रीवास्तव
    हृदय की धड़कनों को अनुनादित कर जाती है मुरली।

    @ pallavi trivedi
    सच कहा, अलग ही अनुभव है यह।

    ReplyDelete
  85. @ ajit gupta
    प्रकृति तत्वों का राग समाहित है मुरली में।

    @ हरकीरत ' हीर'
    संगीत मन को सुखद अनुभूति देता है, गाना भी बहुत सुहाता है।

    @ अतुल प्रकाश त्रिवेदी
    आभार आपका।

    @ Dr (Miss) Sharad Singh
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ दिगम्बर नासवा
    गोपियों का खिंचे चले जाना, मुरलीधारी की मुरली के आकर्षण के कारण ही होगा।

    ReplyDelete
  86. @ ज्योति सिंह
    सच में सौभाग्य ही कहा जायेगा।

    @ Mrs. Asha Joglekar
    बहुत धन्यवाद आपका। जैसा अनुभव किया, वैसा ही व्यक्त कर दिया।

    @ नीरज जाट जी
    सच कहा आपने।

    @ निशांत मिश्र - Nishant Mishra
    संगीत के इतना निकट रहना सच में परम भाग्य का विषय है।

    @ G.N.SHAW
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  87. @ JHAROKHA
    कान्हा की मुरली में सबको आकर्षित कर लेने का गुण था।

    @ रंजना
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ honesty project democracy
    शोर सुनने से कहीं अच्छा है कि मुरली की मधुर धुन में समय बिताया जाये।

    @ अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Coral
    आप वातावरण में खोने लगते हैं।

    ReplyDelete
  88. @ mahendra srivastava
    बहुत सुखद अनुभव रहा है।

    @ एम सिंह
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Poorviya
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA
    डिवशेयर नामक सॉफ्टवेयर से आप लोड कर सकते हैं।

    @ महफूज़ अली
    आपकी उपस्थिति लगी है, अभी आप ट्रेन पकड़ लीजिये, बाद में बाते होंगी।

    ReplyDelete
  89. @ चला बिहारी ब्लॉगर बनने
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ संतोष पाण्डेय
    विद्या ददाति विनयम्।

    @ संतोष त्रिवेदी
    मुरली में हृदय को छू लेने वाले गुण हैं।

    @ विष्णु बैरागी
    सच कहा आपने कि वर्णन नहीं किया जा सकता है।

    ReplyDelete
  90. सुरेश दुबेजी की ईमेल से प्राप्त टिप्पणी


    बचपन की यादें आपने ताजा कर दिया। बात उन दिनों की है जब गाॅंव के कुछ बाॅंसुरी वादकों को सुनकर मेरा भी बाल मन डोल उठा। उस समय मैं छठवीं कक्षा का छात्र था। माॅं ने प्रयाग में माघ मेला देखने के लिए दो रूप्ये दिये कि जलेबी वगैरह खा लेना। परन्तु धुन तो बासुरी खरीदने की लगी थी। मेले में जाते ही एक बासुरी बजाता विक्रेता घूमता हुआ दिखायी दिया। लपक कर उसके पास पहॅुचा और उससे एक अच्छी सी बासुरी देने का अनुरोध किया। उसने कहा खुद ही बजाकर देख लो। मैंने कहा भइया हम अभी नौसिखिया हैं। वह समझ गया और एक मीडियम बासुरी दिया। उस समय उसकी कीमत 50 पैसे थी।
    इसके बाद ही घर के बडों के साथ गंगा में डुबकी लगायी । मन तो लगा था कि गाॅंव के बाहर बावन बीघे के विशाल आम्रवन में बासुरी सीखने की । छोटा था, इसीलिए किसी ने लिफ्ट नहीं मारी। घर वाले उस समय बासुरी बजाना लोफरगीरी समझते थे। अतः गाय -भैंस चराने के बहाने बाग में जाकर घर वालों की निगाह बचाकर बासुरी का एकलव्य अभ्यास शुरू किया। माॅं शारदा की ऐसी कृपा हुई कि कुछ ही समय में गाॅंव के सर्वश्रेष्ठ बासुरी वादकों के बीच मैं चर्चा का विषय बन गया। फिर तो मैं अन्धों में काना राजा बन बैठा।
    सावन के महीने में एक दिन मैं आम के पेंड़ पर बैठकर बासुरी बजा रहा था। कुछ ही समय बीते थे कि कई मयूर (मोर) आये और शान्त और निर्भय होकर कदाचित मेरी बासुरी की आवाज सुनते रहे। तभी एक अनुज साथी वहाॅं आकर जोर से चिल्लाया भईया ! देखो कितने मोर आ गये हैं। और पकड़ने को दौड़ा। अंततः सभी उड़ गये।
    कुछ दिन बाद बाग के बीच बने सरोवर के किनारे बैठ कर जैसे ही बासुरी बजायी, अनेकों मोर बोलने लगे। तब लगा की बासुरी की आवाज मयूरों का अच्छी अथवा अजीब लगती होगी।
    तब से लेकर 10वीं कक्षा तक बासुरी के सन्दर्भ मेरे साथ अनेक दिलचस्प घटनाएं घटती रहीं। एक दिन मैं नौकरी के समय छोटी सी कालोनी के मकान

    में रात्रि लगभग 8 बजे बासुरी का अभ्यास कर रहा था। लगभग आधे घण्टे के बाद पड़ोस में आये मेहमान ने अचानक दरवाजा खटखटाया और कहाॅं भाई साब जरा बाहर आइये। मैं अपनी साधना में हुए विघ्न से बौखलाते हुए दरवाजा खोला और देखा कि कालोनी में पली अनेक गायें मेरे दरवाजे की सामने खड़ी हैं। सहसा विश्वास नही हुआ। परन्तु यथार्थ यही था।
    कहने का तात्पर्य यह है कि हम जैसे नौसिखिये बासुरी वादक के साथ ऐसी घटनाएं हो सकती हैं। तो कान्हा की मुरली की धुन कैसी रही होगी , थोड़ा-थोड़ा अनुमान सहजता से लगाया जा सकता है। जहाॅं तक उनकी मुरली और आध्यात्मिकता का सम्बन्ध है वह तो छोटी मुॅंह और बड़ी बात होगी । और इसे समझना और अनुभूति करना पहॅुचे साधू-सन्तों के वश की बात है। परन्तु हम सहज बुद्धि के लोग भी बासुरी की स्वरलहरी सुनने के बाद इसके सम्मोहन से बच नही सकते। और यदि बासुरी सम्राट पण्डितजी बजा रहे हों तो क्या बात। खेद है कि उनको मैं लाइव नही सुन सका। और न ही कोई गुरू मुझे मिल पाये। बस यूॅं ही पिपिहिरी की तरह स्वान्तः सुखाय बंशी बजाता रहता हॅू और आत्मिक शान्ति एवं चैन की वंशी का सुखद अनुभव करता रहता हूॅं।
    कभी मौका मिला तो आपको भी इसका अनुभव कराउॅंगा।
    आपका
    सुरेश दुबे, झाॅंसी।

    ReplyDelete