2.3.11

बसन्त का सन्त

यह एक सुन्दर संयोग ही है कि वैलेन्टाइन दिन बसन्त में पड़ता है। बसन्त प्रकृति के उत्साह का प्रतीक है और प्रेम प्रकृति की गति का। प्रेम का यह प्रतीकोत्सव भला और किस ऋतु को सुशोभित करता? आधुनिक सांस्कृतिक परिप्रेक्ष्य में कुछ प्रश्न उभरते हैं। क्या प्रेम का अर्थ भिन्न संस्कृतियों में भिन्न होता है? प्रेम के आवरण में फूहड़ता का आचरण क्या किसी की सांस्कृतिक विरासत का अंग हो सकता है? प्रेम का सांस्कृतिक स्वरूप क्या किसी देश या समाज की सीमा में बँध कर रह सकता है? हर बार जो उत्तर मिलता है, वह धीरे धीरे सबको समेट लेता है, अपने अन्दर। जैसे जैसे प्रेम की गहराई में उतरने का यत्न करेंगे, वह दैहिक, मानसिक, बौद्धिक सीमाओं को समेटता हुआ अध्यात्मिकता में डूब जाता है।

प्रेम में अध्यात्म जैसा शब्द जोड़ते ही, बहुतों को लगता है कि, उसमें रोचकता निचोड़ ली गयी, अब होगी कोई नीरस सी असहनीय, अचंचलात्मक बातें। प्रेम की गहराई में उतरते ही उसमें ऐसा भारीपन आ जायेगा जो सबके बस की बात नहीं। मीरा का पागलपन, गोपियों की व्यथा, प्रेम की गहनतम अभिव्यक्तियाँ हैं। यह गुरुता उन लोगों को असहनीय है जिनके लिये प्रेम का उद्भव, अभिव्यक्ति और निरूपण एक नियत दिन में ही हो जाने चाहिये। आप कहें कि चलिये प्रेम को कम से कम एक माह में पल्लवित करें या बसंत में बढ़ायें तो आप पर आरोप लग जायेंगे कि आप वैलेन्टाइन बाबा का अपमान कर रहे हैं क्योंकि प्रेम के लिये एक नियत दिन है। क्या वैलेन्टाइन बाबा ने कहा था कि उन्हें एक दिन का कारागार दे दो?

मेरा 14 फरवरी से कोई विरोध नहीं अपितु वैलेन्टाइन बाबा के प्रति अगाध श्रद्धा है। हो भी क्यों न, प्रेम ही सकल विश्व की गति का एकल महत्वपूर्ण कारण है। अपने जीवन से प्रेम हटा दीजिये, आप जड़वत हो जायेंगे। प्रेमजनित गतियाँ असाधारण होती हैं, रोचक भी। उस असाधारणता को एक दिन में सीमित कर देना बाबा का अपमान है, प्रेम का भी। देखिये न, जिस सन्त ने प्रेम का पटल एक दिन से बढ़ाकर जीवन भर का कर देने का प्रयास किया, उसका प्रतीक पुनः हमने एक दिन में समेट दिया।

श्रुतियों के अनुसार, सैनिकों को विवाह की अनुमति न थी, कारण यह कि वे किसी आकर्षण में बँधे बिना ही पूरे मनोयोग से युद्ध करें। यह एक कारण था जिससे बिना विवाह  ही एक दिवसीय सम्बन्धों को आश्रय मिलता था। वैलेन्टाइन बाबा के प्रयासों से वह सम्बन्ध जीवनपर्यन्त बने, विवाह को मान्यता मिली और समाज को नैतिक स्थिरता। प्रेम में जो जितना गहरा उतरेगा, उसको उतना खजाना मिलेगा। सतह पर छींटे बिखेरेंगे तो सतही सुख मिलेगा, गहराई की डुबकी लगायेंगे तो मन के कोमलतम भावों में पगे रत्न होंगे आपके जीवन में। गहरापन बिना समय व्यय किये नहीं आता है, वर्षों की सतत साधना और तब स्पष्ट होता है प्रेम। प्रेम एक दिन का कर्म नहीं, वर्षों का मर्म है।

गहराई के साथ साथ प्रेम में एक विस्तार भी है। किसी की मुस्कराहटों पर निसार हो जाना, किसी को समझ लेना और किसी का दर्द बाटने की अभिलाषा ही प्रेम है। प्रेम तो बादल की तरह भरा हुआ होता है जो बरसना चाहता है या होता है धरती की तरह जो सब कुछ अपने भीतर समाहित कर लेने को आतुर होती है और उसे हजार गुना करके लौटा देती है। प्रेम समर्पण की धरा पर उत्पन्न होता है, निःस्वार्थ भाव से बढ़ता है और विराट हो जाता है, मानवता का विस्तार लिये। सच्चा प्रेम  किसी दिनविशेष से परे सतत पल्लवित होता रहता है।

वैलेन्टाइन बाबा ने तो प्रेम को विस्तार और गहराई दी थी, हमने ही उसे एक दिन में और सतही आकर्षण में समेट दिया। आप ही बताईये कि प्रेम के गूढ़ विषय में किसी की सतही समझ और तज्जनित फूहड़ता के कारण मैं उस सन्त पर श्रद्धा रखना कैसे कम कर दूँ, जिसने प्रेम को सही सामाजिक रूपों में स्थापित किया? मेरे लिये तो वह बसन्त के सन्त हैं।

83 comments:

  1. प्रेम एक दिन का कर्म नहीं, वर्षों का मर्म है।

    ReplyDelete
  2. वैलेंटाइन बाबा को एक नए दृष्टिकोण से देखने को मिला. बढ़िया.

    ReplyDelete
  3. वैलेन्टाइन बाबा ने तो प्रेम को विस्तार और गहराई दी थी, हमने ही उसे एक दिन में और सतही आकर्षण में समेट दिया। -सत्य वचन!!

    ReplyDelete
  4. असल प्रेम जिसे मानवीय संवेदना भी कह सकते हैं ,आज आम लोगों के जीवन जीने की मूलभूत आवश्यकता का अभाव और भ्रष्ट मंत्रियों और धनपशुओं उद्योगपतियों के पैसों की हवस में गुम हो गयी है ,
    किसी की मुस्कराहटों पर निसार हो जाना, किसी को समझ लेना और किसी का दर्द बाटने की अभिलाषा ही प्रेम है,आपने एकदम सही कहा है.....
    लेकिन मानव स्वभाव में जहाँ जन्मजात संतुलन होता है निहित स्वार्थ और परोपकार के बीच उसे आज की भयानक सामाजिक असमानता ने परोपकार से दूर कर सिर्फ निहित स्वार्थ के लिए सोचने पर मजबूर कर दिया है और यह सच्चे प्रेम के साथ-साथ पूरी इंसानियत के लिए खतरे की घंटी है..........

    असल प्रेम की स्थिति जानने के लिए उन बच्चों के बीच जाकर लिखा और सोचा जा सकता है जिन बदनसीबों को दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं तथा पढाई की व्यवस्था भी सरकार में बैठे उच्च संवेधानिक पदों के लोगों ने लूट लिया है.....दिल्ली में कई मेघावी छात्र और छात्रायें अपनी पढाई का खर्चा होटलों में प्लेट धोकर या देहव्यापार कर जुटा रहें हैं ....दूसरी तरफ देश के राष्ट्रपति करोड़ों की बीजली फूंकते हैं हर साल अपने ऊपर ...कुल मिलाकर यही कहा जा सकता है की बाजारवाद की वजह से असल प्रेम संकट में है और उसी का मातम मनाने का दिन है वेलेंटाइन डे......

    ReplyDelete
  5. प्रेम न हो तो जगत का व्यापार न चले।

    ReplyDelete
  6. प्रेम ही सकल विश्व की गति का एकल महत्वपूर्ण कारण है।

    आपका कहना सही है ..लेकिन आज चीजों की वास्तविकता जाने बगैर हम जो कुछ भी कर रहे हैं वो हमारे लिए और खतरनाक है

    ReplyDelete
  7. bahut khoob. valentine baba se kuch seekh na chcheye hume. pyaar ke kayi roop hote hai, jaise doston ka pyaar, maa-bacchon ka pyaar, iss din ko centralise karke nhi balki achi tarah har prakaar se celebrate karna chcheye

    ReplyDelete
  8. यहां तो बाजार से सब कुछ नियन्त्रित हो रहा है.

    ReplyDelete
  9. आपने भी विषय को मार्जिनलाइज्द कर दिया प्रवीण जी ! ठीक है बहुत कुछ आपने अपनी बात उसी दिशा में रखनी चाही जिस बात पर मैं जोर दे रहा हूँ और आपसे सहमत भी हूँ मगर विरोध यह है कि इस बाबत सिर्फ पश्चमी संत को ही प्राथमिकता क्यों ? क्या हमारे देश के इतिहास में ऐसा कोई संत नहीं हुआ जिसने प्रेम का सन्देश दिया हो ? यदि हुए तो उन्हें हम कितना याद कर रहे है? प्रेम और फूहड़ता में फर्क समझना होगा ! चलो संतो को भूल जाइए हीर और राँझा, लैला और मजनू के किस्से तो इस देश में ऍम है क्यों न इतिहास को टटोलकर हम उनके बलिदान दिवस को ही वेलेंटाइन ( प्रेम-दिवस ) नहीं बनाते ?

    ReplyDelete
  10. यह वह ढाई आखर है जिसका तत्व विवेर्चन करते सदियाँ बीत गयीं -हाँ बाबा वैलेंटाईन निश्चय ही प्रातः स्मरणीय संत हैं -
    मुझे तो लगता प्रेम अधिपत्य/बंधन नहीं मुक्ति है ,स्वारथ नहीं परमारथ है ,पाना नहीं खोना है ,संकीर्णता नहीं उदात्तता/उदारता है,व्यामोह नहीं /विमुक्ति है ,क्षुद्रता नहीं विशालता है ................................

    ReplyDelete
  11. प्रेम तो ईश्वर का ही एक नाम है पर हमने शायद अपनी कुत्सित इच्छाओं की पूर्ति हेतु इसे वर्तमान स्वरूप तक पहुंचा दिया.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. प्रेम के लिए तो सारी उम्र भी कम है।

    ReplyDelete
  13. प्रेम के बारे में पढ़ते तो हम सब हैं और प्रेमी होने का दावा भी करते हैं मगर इसका अर्थ शायद ही कभी समझने का प्रयत्न करते हैं !

    शायद प्रेम का सबसे अधिक दिखावा पतिपत्नी के मध्य होता है जहाँ सबसे अधिक ढिंढोरा पीटा जाता है ! प्यार, जिसमें स्नेह न हो प्यार, जिसमें ईमानदारी न हो मुझे कभी प्यार नहीं लगता !

    आज अधिकतर परिवारों में प्रेम के धागों के टुकड़े जहाँ तहां बिखरे पड़े पाए जाते हैं सहेजने वाला कोई नहीं ! गठबंधन की अस्मिता तो बीते जमाने की बाते हैं, टूटी स्नेहिल राखी, जिसे कई गांठों में जोड़ा गया है , बहिन के आंसुओ से सराबोर है और इस राखी को बंधवाते भैया का ध्यान अपने नुकसान की भरपाई में है !

    बस यही प्यार देखता हूँ अक्सर चारो और ....
    :-(

    ReplyDelete
  14. "सच्चा प्रेम किसी दिनविशेष से परे सतत पल्लवित होता रहता है।"

    par jaise hame kisi khas din khuch khas vyanjan mil jaye to khush ho jate hain, sayad waisa hi kuchh feeling aa jati hai...:)

    ReplyDelete
  15. aapke vichaar aur aapke likhne ka tareeka bahut sundar hain.aapne sant valentine ke baare me hamen nai jaankari dee. dhanyavaad.

    Godiyal ji ki baat bhi sahi hai ki prem ke anys prateekon ko bhi pratishtit kiya jay.

    ReplyDelete
  16. bahut sahi kaha ... prem ek vistaar hai

    ReplyDelete
  17. प्रेम ही सकल विश्व की गति का एकल महत्वपूर्ण कारण है।

    ReplyDelete
  18. सतत प्रेम पल्लवन के लिए बलिदान मांगता है

    ReplyDelete
  19. विचारोत्तेजक आलेख। आपसे सहमत।

    ReplyDelete
  20. वाह...बहुत सही कहा प्रेम ही जीवन सार है ...।

    ReplyDelete
  21. praveen ji , aapne bahut hi accha aaalekh likha . bahut accha laga padhkar.. prem ki shubhkaamanye aapko bhi de deta hoon .

    vijay

    ReplyDelete
  22. प्रेम को एक दिन में बांधा नहीं जा सकता.
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  23. "...सैनिकों को विवाह की अनुमति न थी, कारण यह कि वे किसी आकर्षण में बँधे बिना ही पूरे मनोयोग से युद्ध करें..."

    श्रुतियों को एक दम नहीं भूलें हैं वे महानुभाव जो इस दिन ढूंढ कर लोगों के विरूद्ध महायुद्ध जारी रखते हैं हर साल.

    ReplyDelete
  24. this is very god information no doubt
    but we are habitual we have habit or tradition to celebrate a day ,
    e. g Shraadha :this is performed as we remember a person who is not with us but it does not mean that we wont remember him for remaining year
    Same is the case with jayanti or punyatithi
    Raksh bandhan remind our duty for the year and love for sister
    on similar day celebrating prem S Divas is to remember all those who are intimate . we do deliberately as we won’t miss them on this day
    remember Dushant who forgotten Shkuntala in spite of deep love ,probably "such day" would have helped him or shakuntal a lot
    incidentally 14 feb is the date when this famous lovers met some one can trace bak and confirm this day so that we can celebrate this day to ensure we do not forget the intimates ,well then this is sufficient for remaining days and PREM is distributed evenly and eventually

    ReplyDelete
  25. प्रेम की कोइ परिभाषा नहीं हो सकती | प्रेम के बारे में आपके ये पोस्ट बहुत बढ़िया लगी | आभार

    ReplyDelete
  26. प्रेम एक दिन का कर्म नहीं, वर्षों का मर्म है
    सहमत...

    ReplyDelete
  27. वसंत का संत...अच्छी जानकारी दी आपने.

    ReplyDelete
  28. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (2-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  29. h0nesty va godiyaal ji, ने सही कहा...वेलेन्ताइन ने प्रेम का नही, बिबाह न करने देने की एक प्रथा के विरुद्ध प्रचार किया था, प्रेम करना कोई मना थोडे ही था.... अतः वे प्रेम के बाबा/संत कैसे होसकते हैं...यह तो बाज़ार ने अपने मतलब व कुछ मूर्ख, नया करने की होड में , पश्चिमी चश्मे वाले, पैसे वाले लडके-लडकियों के चोंच्ले थे जो बाज़ार ने भुनाना शुरू कर दिया बिना सोचे समझे...धन्धे में सोच रह कहां जाती है...

    ReplyDelete
  30. प्रेम को किसी एक दिन की परिधि में बांध देना उचित नहीं कहा जा सकता .

    ReplyDelete
  31. वसंत के संत को मेरा नमन !

    ReplyDelete
  32. बहुत अच्छा लगा ये लेख भी आपके बाकी लेखों की तरह,इसके आलावा कहने के लिए कुछ और नहीं है| आप चाहें तो इस कमेन्ट को अप्रूव न भी करें क्योंकि कहने को कुछ खास नहीं लिखा है मैंने इस कमेन्ट में| :)
    .
    .
    .
    शिल्पा

    ReplyDelete
  33. kahin naa kahin prem hi hai jo insannn ko insaan se jode rakhta hai .........varna

    ReplyDelete
  34. प्रेम को किसी विशेष ऋृतु और विशेष दिवस के साथ संबंधित करना उचित प्रतीत नहीं होता।
    प्रेम तो देश-काल-परिस्थिति से निर्बंध है।

    ReplyDelete
  35. जिसने प्रेम को सही सामाजिक रूपों में स्थापित किया? मेरे लिये तो वह बसन्त के सन्त हैं।
    @सही उपाधि दी है आपने |

    ReplyDelete
  36. ढाई अक्षर प्रेम के...

    ReplyDelete
  37. और हम सब हैं कि बसन्‍त के सन्‍त का बस अन्‍त करने पर तुले है।

    ReplyDelete
  38. प्रेम के बारे में आपके विचार अच्छे लगे। विरोध संत वैलंटाईन का नहीं, प्रेम के फ़ूहड़ सार्वजनिकरण का होता है।

    ReplyDelete
  39. मुद्दे की तलाश में भटक रहे लोगों का आसान शिकार बन गई है यह तिथि, प्रेम करने वालों से ज्‍यादा उसके विरोधी फलस्‍वरूप पुलिस सबसे ज्‍यादा सक्रिय होती है इस तिथि पर और भाई-बहन का एक साथ सड़क पर निकलना खतरे से खाली नहीं होता.

    ReplyDelete
  40. वैलेंटाइन बाबा का बताया प्यार दो साल से ज्यादा नही वलता, दो साल भी ज्यादा हे....ओर प्रेम करने वाले किसी खास दिन का इन्तजार नही करते. वैलेंटाइन बाबा ने प्रेम का नही सेक्स का रास्ता बताया हे,,, प्रेम करने वाले मां बाप, भाई बहिन ओर अन्य लोगो का दिल नही दुखाते, ओर अपने प्यार को अंत तक खुश देखना चाहते हे, उस पर तेजाब नही फ़ेंकते, उसे हर हालात मे पाना नही चाहते,बल्कि उस की खुशियो के लिये कुर्बानी देना जानते हे... जय हो इस वैलेंटाइन बाबा की

    ReplyDelete
  41. प्रेम समर्पण की धरा पर उत्पन्न होता है, निःस्वार्थ भाव से बढ़ता है और विराट हो जाता है, मानवता का विस्तार लिये। सच्चा प्रेम किसी दिनविशेष से परे सतत पल्लवित होता रहता है।

    बिलकुल ठीक -सटीक बात लिखी है आपने --प्रेम पर सार्थक लेख.

    ReplyDelete
  42. प्रेम प्रदर्शन नही मांगता प्रेम महसूस किया जाता है चाहे वो किसी भी रिश्ते का हो |
    अच्छी पोस्ट |

    ReplyDelete
  43. प्रेम एक दिन का कर्म नहीं, वर्षों का मर्म है।
    बस यही समझने की जरूरत है.

    ReplyDelete
  44. प्रेम और फूहड़ता में अंतर है और यही दर्शाने के लिए शायद वैलेन्टाइन डे मनाया जाता है ॥ बसंत के संत की जय हो :)

    ReplyDelete
  45. सरल शब्दों प्रेम की गहन अभिव्यक्ति...... बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  46. गहराई के साथ साथ प्रेम में एक विस्तार भी है। किसी की मुस्कराहटों पर निसार हो जाना, किसी को समझ लेना और किसी का दर्द बाटने की अभिलाषा ही प्रेम है। प्रेम तो बादल की तरह भरा हुआ होता है जो बरसना चाहता है या होता है धरती की तरह जो सब कुछ अपने भीतर समाहित कर लेने को आतुर होती है और उसे हजार गुना करके लौटा देती है। प्रेम समर्पण की धरा पर उत्पन्न होता है, निःस्वार्थ भाव से बढ़ता है और विराट हो जाता है, मानवता का विस्तार लिये। सच्चा प्रेम किसी दिनविशेष से परे सतत पल्लवित होता रहता है।
    क्या बात है. प्रेम ही सत्य है, शिव है. बढियां लेख के लिए बधाई और महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  47. प्रेम एक दिन का कर्म नहीं, वर्षों का मर्म है।

    बस समजने की जरुरत है..... बहुत अच्छा लगा आपका लेख !

    ReplyDelete
  48. देखिये न, जिस सन्त ने प्रेम का पटल एक दिन से बढ़ाकर जीवन भर का कर देने का प्रयास किया, उसका प्रतीक पुनः हमने एक दिन में समेट दिया।
    bahut unchi baate hai aur sach bhi .bahut umda .

    ReplyDelete
  49. prem ek din ka karm nahi, varsho ka marm hai...bahut sateek..

    ReplyDelete
  50. प्रेम सिर्फ एक दिन प्रदर्शित करने का भाव नहीं है ..यह सिर्फ बाजार की माया है !

    ReplyDelete
  51. प्रवीन जी ... आपकी बात से सहमत हूँ ... मैं खुद इन संत जी की शुक्रगुजार हूँ की उन्होंने ये दिन दिया .... कम से कम इंसान अपनी भावनाएं व्यक्त करने के लिए साल में एक दिन तो समय निकलता है... वरना इस भाग दौड़ की ज़िन्दगी में हम relations को for granted ही ले कर चलते हैं ...

    ReplyDelete
  52. prem bemiyaadi bukhaar ki tarah hai jo laailaaz hota hai par aajkal prem haat me bik raha hai .."prem na haat bikaay" kaha bhi gaya hai!

    ReplyDelete
  53. प्रेम एक दिन का कर्म नहीं, वर्षों का मर्म है।
    साल के 365 दिनों तक यह आग जलनी चाहिए!
    सुन्दर आलेख!

    ReplyDelete
  54. आज मिले
    कल जुड़े
    परसों उड़े
    नरसों भिड़े
    और उस के बाद फिर कभी नहीं..............
    ऐसे माहौल में आप का आलेख काफ़ी महत्वपूर्ण हो जाता है|
    वाकई प्रेम कोई कोर्स नहीं है, यह तो एक साधना है|

    ReplyDelete
  55. kisne kaha ki prem ek din ka he,
    baba ne to bas rasta dikahya he
    baki lage raho bhaiye,
    pyar kisi na yar

    sundar prastuti

    ReplyDelete
  56. bouth he aaacha post hai aapka dear... like it

    Visit Plz Friends..
    Download Free Latest Music
    Latest Lyrics+Video

    ReplyDelete
  57. @ पद्म सिंह
    गहरे विषय को एक दिन में समेट देने के प्रयास विस्मयपूर्ण दिखते हैं, आधुनिक सभ्यता वह भोग रही है।

    @ Abhishek Ojha 
    अनुनायियों की फूहड़ता से सन्त क्यों प्रभावित हो भला?

    @ Udan Tashtari
    वैलेन्टाइन बाबा ने तो प्रेम को विस्तार और गहराई दी थी, हमने ही उसे एक दिन में और सतही आकर्षण में समेट दिया। -सत्य वचन!!

    @ honesty project democracy
    सच कहा आपने, अपनी गलतियों के मातम का दिन मानकर ही मना लें।

    @ दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi
    प्रेम ही जगत के व्यापार का कारण है।

    ReplyDelete
  58. @ : केवल राम :
    बिना गहराई जाने उसके नाम पर प्रेम की एक दिवसीय परिभाषायें गढ़ना अराजकता को जन्म देता है।

    @ SEPO
    बहुत कुछ सीखा जा सकता है, पर वह नहीं जो बाजारवाद के नाम पर हो रहा है।

    @ भारतीय नागरिक - Indian Citizen
    बाजार ही पवित्र स्वरूपों को अपने रंग दे रहा है।

    @ पी.सी.गोदियाल "परचेत" 
    प्राथमिकता निश्चय ही प्रेम की दी जाये, पश्चिमी या पूर्वी संत को नहीं। फूहड़ता का त्याग जैसे भी संभव हो करना होगा और प्रेम को उसके गहरे रूपों में स्थापित करना होगा।

    @ Arvind Mishra
    प्रेम की विशालता को छोड़ एक दिवसीय क्षुद्रता में डूबे जा रहे हैं हम।

    ReplyDelete
  59. @ ताऊ रामपुरिया
    बहुत सच कहा है आपने, प्रेम का स्वरूप ईश्वरसम है।

    @ Deepak Saini
    फिर न जाने क्यों हम प्रेम को एक घटना मान लेते हैं, यह तो एक प्रक्रिया है।

    @ सतीश सक्सेना
    प्रेम तो वैवाहिक सम्बन्धों की आपसी समझ में है। वही समझ हमारी सामाजिकता में भी आ जाये तो बात बन जाये।

    @ Mukesh Kumar Sinha
    प्रेम के दिन में प्रेम पल्लवन को उत्सव के रूप में मनाये, न कि उस पर फूहड़ता व्यक्त करें।

    @ rakesh ravi
    गोदियाल जी बात से मैं भी सहमत हूँ, जब प्रेम में कोई सांस्कृतिक विभेद नहीं तो उनका भी सम्मान हो और भारतीय प्रतीकों का भी।

    ReplyDelete
  60. @ रश्मि प्रभा...
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Patali-The-Village
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ गिरधारी खंकरियाल
    प्रेम में समर्पण है, अधिकार नहीं।

    @ मनोज कुमार
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ सदा
    इसी सार को बिसारे बैठे हैं हम।

    ReplyDelete
  61. @ Vijay Kumar Sappatti
    प्रेम सबके जीवन में पल्लवित हो, सबको यही शुभकामनायें है।

    @ Mired Mirage
    सच कह रही हैं आप, प्रेम में विस्तार है।

    @ Kajal Kumar
    यही तो विडम्बना है वैश्विक समाज की।

    @ madhav
    प्रेम के विस्तार का उत्सव मनायें, न कि फूहड़ता की अभिव्यक्ति करें।

    @ नरेश सिह राठौड़
    प्रेम जब लोगों का जीवन परिभाषित करता है तो उसको कौन बाँध सकता है परिभाषाओं में।

    ReplyDelete
  62. @ shikha varshney
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ शब्द-साहित्य
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ वन्दना
    बहुत धन्यवाद आपका इस सम्मान के लिये।

    @ Dr. shyam gupta 
    इस दिन के नाम पर कुछ भी करने लगना तो प्रेम नहीं हो सकता है।

    @ ashish
    सच कहा आपने, प्रेम सबको बाँधता है तो हम उसे कैसे बाँध सकते हैं।

    ReplyDelete
  63. @ चला बिहारी ब्लॉगर बनने
    प्रेम ही सारी गतियाँ को स्रोत है, तो उसका अंत तो जगत का अंत हो जायेगा।

    @ ZEAL
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Shilpa
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ संजय कुमार चौरसिया
    प्रेम ही इन्सान को इन्सान बनाता है।

    @ mahendra verma
    प्रेम तो विस्तृत है, हर ओर फैला है, बाँधा नहीं जा सकता है।

    ReplyDelete
  64. @ Ratan Singh Shekhawat
    दोनों में प्रेम पल्लवित हुआ।

    @ सुशील बाकलीवाल
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ राजेश उत्‍साही
    यह प्रेम का फूहड़ स्वरूप ही होगा जो इस सन्त को बदनाम कर देगा।

    @ संजय @ मो सम कौन ?
    वैल्नेटाइन बाबा को उनके कार्य का श्रेय मिले, किसी की फूहड़ता का अपयश नहीं।

    @ Rahul Singh
    इस तिथि पर सामान्य सा कुछ लगने ही नहीं देते हैं बाजारवादी और समाजवादी।

    ReplyDelete
  65. @ राज भाटिय़ा
    प्रेम जितना गहरा होगा, निष्कर्ष भी उतने ही गहरे होंगे।

    @ anupama's sukrity !
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ शोभना चौरे
    प्रेम की पूर्णता उसके अनुभव की सहजता में है।

    @ rashmi ravija
    काश सब यह समझ पाते।

    @ cmpershad
    बसंत के संत का मान रख लें हम।

    ReplyDelete
  66. @ डॉ॰ मोनिका शर्मा
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ संतोष पाण्डेय 
    आपके ही भावों को उतारा है इस पोस्ट में।

    @ Coral
    यही समझ काश हम सबकी हो जाये।

    @ ज्योति सिंह
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ amit-nivedita
    वर्षों के श्रम से पल्लवित होता है प्रेम।

    ReplyDelete
  67. @ वाणी गीत
    एक दिवसीय रूप तो बाजार की देन है।

    @ क्षितिजा ....
    इस दिन को सही स्वरूपों में मनाना ही प्रेम की जीत है।

    @ संतोष त्रिवेदी
    प्रेम न हाट बिकाय, सटीक संदेश।

    @ स्वाति
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)
    यह अलख जगे सबके लिये।

    ReplyDelete
  68. @ Navin C. Chaturvedi
    और वह भी सतत साधना।

    @ Khare A
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Manpreet Kaur
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  69. एक दिन का प्रेम तो केवल आस्क्ति है वर्ना प्रेम करने के लिये तो एक उम्र भी कम पड जाती है। बहुत अच्छी पोस्ट। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  70. प्रतीकीकरण और प्रतीकों की पवित्रता-रक्षा केमामले में निष्‍णात हम लोग कुछ भी कर सकते हैं।

    ReplyDelete
  71. विचारोत्तेजक लेख******
    बहुत सही कहा प्रेम ही जीवन सार है

    ReplyDelete
  72. प्रेम की महिमा अपरम्पार....वसंत के बहाने सुन्दर पोस्ट.

    ReplyDelete
  73. @ निर्मला कपिला
    सच कहा आपने, प्रेम करने के लिये उम्र कम पड़ जाती है।

    @ विष्णु बैरागी
    प्रतीकों की अवनति न हो अपितु मान्यता मिले।

    @ amrendra "amar"
    प्रेम की चेतना ही जीवन की गति है।

    @ KK Yadava
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  74. प्रेम एक दिन का कर्म नहीं, वर्षों का मर्म है..

    पूर्णरूपेण सत्य ....आज वैलेंटाईन दे बाजारवाद का रूप है ...इस दिन के बारे में एक दशक से ही जानकारी मिली है ...

    ReplyDelete
  75. @ संगीता स्वरुप ( गीत )
    यह सच है कि बाजार के कारणों से इसे प्रसिद्धि मिली पर इसके मर्म को सही अर्थों में पहचानना होगा।

    @ Hari Shanker Rarhi
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  76. सच कहा है ... और वैसे प्रेम के लिए किसी एक दिन की नहीं हर पल की जरूरत है ...
    सुन्दर आलेख है ...

    ReplyDelete
  77. @ दिगम्बर नासवा
    प्रेम तो मन की वह स्थिति है जो सदा पल्लवित होती रहती है। प्रेम को एक दिन में समेटने का कोई औचित्य ही नहीं है।

    ReplyDelete
  78. "सतह पर छींटे बिखेरेंगे तो सतही सुख मिलेगा, गहराई की डुबकी लगायेंगे तो मन के कोमलतम भावों में पगे रत्न होंगे आपके जीवन में। गहरापन बिना समय व्यय किये नहीं आता है, वर्षों की सतत साधना और तब स्पष्ट होता है प्रेम। प्रेम एक दिन का कर्म नहीं, वर्षों का मर्म है।"
    सत्य वचन हैं आपके ,प्रेम सतत साधना है जैसे जैसे मन निर्मल होता जाता है ,प्रेम का मर्म समझ में आता है."निर्मल मन जन सो मोहि पावा "

    ReplyDelete
  79. बसन्‍त का सन्‍त, खूब।

    ReplyDelete
  80. @ Rakesh Kumar
    सच कहा आपने, बिना निर्मल मन के सच्चा प्रेम उत्पन्न नहीं होता है।

    @ Rajey Sha राजे_शा
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete