26.3.11

बोसॉन या फर्मिऑन

भौतिकी का सिद्धान्त है पर समाज में हर ओर छिटका दिखायी पड़ता है। हर समय यही द्वन्द रहता है कि क्या बने, बोसॉन या फर्मिऑन। मानसिकता की गहराई हो या अनुप्राप्ति का छिछलापन, प्रचुरता की परिकल्पना हो या संसाधनों पर युद्ध, साथ साथ रह कर जूझना हो या दूसरे के सर पर पैर धरकर आगे निकलना। हर समय कोई एक पक्ष चुनना होता है हमें। हम मानवों के अन्दर का यह द्वन्द जगत की सूक्ष्मतम संरचना में भी परिलक्षित है। आईये देखें कि क्या होता है उनके परिवेश में। इस व्यवहार के क्या निष्कर्ष होते हैं और उस सिद्धान्त को किस तरह हम अपने सम्मलित भविष्य का सार्थक आकार बनाने में प्रयुक्त कर सकते हैं।

दो तरह के उपकण (सब पार्टिकल्स) होते हैं, अपने व्यवहार के आधार पर, व्यवहार जो यह निश्चित करेगा कि कण का आकार कैसा होगा। लगभग 16 प्रकार के उपकणों को इन्हीं दो विभागों में बाटा गया है, 4 बोसॉन्स और 12 फर्मिऑन्स। नामकरण हुआ है, दो महान वैज्ञानिकों के नाम पर, सत्येन्द्र नाथ बोस एवं एनरिको फर्मी जिन्होंने पदार्थ और ऊर्जा के व्यवहार को एक सशक्त गणितीय आधार दिया।

हर उपकण की एक ऊर्जा होती है, उस ऊर्जा के आधार पर उसका एक नियत स्थान होता है जिसे उसकी कक्षा कहते हैं। एक बोसॉन अपने जैसे उपकणों को अपनी ओर आकर्षित करता है और उसके साथ रहकर अपनी ऊर्जा कई गुना बढ़ाता जाता है। एक फर्मिऑन अपने जैसे उपकणों को अपने पास नहीं आने देता है और समान ऊर्जा की भिन्न भिन्न कक्षाओं में रहकर एक दूसरे की निस्तेज करता रहता है।

जब बोसॉन मिलना प्रारम्भ करते हैं तो लेज़र जैसी सशक्त संरचना बनाते हैं, इतनी सशक्त जो बिना अपना तेज खोये हजारों मील जा सकती हैं, इतनी सशक्त जो मीटर भर के लौह को सफाई से काट सकती है, इतनी सशक्त जो किसी भी माध्यम से टकराकर बिखरती नहीं है। कारण सीधा सा है, अपने जैसों को अपने साथ लेकर चलना ही बोसॉन्स को इतनी शक्ति दे जाता है। फर्मिऑन्स साधारण कणों का निर्माण करते हैं, हर जगह पाये जाने वाले, अपनी अपनी कक्षा में सुरक्षित।

आईये, अपने अपने हृदय पर हाथ रख स्वयं से पूछें कि हमारे सम्पर्क में हमारी जैसी प्रतिभा वाला, हमारे जैसे गुणों वाला कोई व्यक्तित्व आता है तो हमारे अन्दर का बोसॉन तत्व जागता है या फर्मिऑन तत्व। न जाने कितनी बार हमारा विश्वास हिल जाता है कि कहीं यह हमारा स्थान न ले ले या हमसे आगे न निकल जाये। हमें अपनी कक्षा असुरक्षित सी लगने लगती है, हम उसे अपनी कक्षा में आने नहीं देते हैं, हम फर्मिऑन बन जाते हैं।

कई समुदायों को देखा है कि अपनों को सदा ही साथ लेकर चलते हैं, अपनी कक्षा में थोड़ा और स्थान बना लेते हैं, वे प्रचुरता की परिकल्पना के उपासक होते हैं, उन्हें लगता है कि उनके क्षेत्र में सबके लिये संभावनायें हैं। जिस समय भारत में सत्ता के लिये राजपुत्रों का संघर्ष एक लज्जाजनक इतिहास लिखने को तैयार था, यूरोप में प्रचुरता के उपासक नये महाद्वीप ढूढ़ने में व्यस्त थे। पृथ्वी उर्वरा है, उसके अन्दर हम जैसी 6 जनसंख्याओं का पालने का सामर्थ्य है पर हम बीघा भर भूमि के लिये उसे अपने भाईयों के रक्त से सींच देते हैं। यह हमारी मानसिकता ही है जो हमें प्रचुरता की स्थिति में भी सीमितता का आभास देती है।

गरीबी में साथ साथ रहना है, कष्ट में साथ साथ रहना है, विपत्ति में साथ साथ रहना है, वैभव होगा तब अन्य विषयों पर शास्त्रार्थ कर लेंगे। आप निर्धारित कर लें कि आपको लेज़र बनना है कि धूल बनकर पड़े रहना अपनी अपनी कक्षाओं में सुरक्षित। आप निर्धारित कर लें कि आपको बोसॉन बनना है या फर्मिऑन।

93 comments:

  1. ham to bhai apne jaise guni ko paakar aage kar dete hain, kuchh maukon par hame hi bewakoof samjha jata hai kyonki aaj zamaana Bosaan ki tarah nahin banna chahta, fir bhi aisa banna achchha aur aatmik sukh pradaan karne wala hai !

    ReplyDelete
  2. बोसॉनीय उत्सव मनाना ही सही है..कितनी मानसिकता बदलनी होगी मगर अपनी ही..

    ReplyDelete
  3. एक मानव ही है जिसमें दोनो गुण विद्यमान रहते हैं। अवसर देख चुनाव करता है।

    ReplyDelete
  4. फर्मिऑन भी एक मानवीय प्रवृति ही है जरुर मगर अंततः बनना बोसॉन ही है ...!

    ReplyDelete
  5. यह द्वंद्व ही जीवन का सौंदर्य रचता है.

    ReplyDelete
  6. जय हो! हिन्दी ब्लॉग्स की सुन्दरतम प्रविष्टियों में से एक। आपने भौतिकी के माध्यम से इतने सुन्दर विचार सामने रखे! आभार!

    ReplyDelete
  7. मानव स्वभाव विचित्रताओं से भरा हुआ है जिसे लगातार सार्थक चिंतन से ही सही निष्कर्ष तक पहुँचाने में मदद मिलता है.....निश्चय ही मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है इसलिए मनुष्य को अपने हर कर्म व हर बढ़ते कदम के प्रयास में मनुष्यता के कल्याण के लिए कुछ नया और सार्थक करने की भावना से काम करना चाहिए ,मनुष्य अपार शक्ति से भरा हुआ है और एक समूह के रूप में उसकी शक्ति की कोई सीमा नहीं होती है लेकिन शक्ति का दुरूपयोग और सदुपयोग तो सोच द्वारा नियंत्रित होती है......आज दुर्भाग्य से यह कहा जा सकता है की हमारे देश में सरकार चला रही पार्टियाँ या उनके धनपशु पार्टनर उद्योगपति अपने समूह शक्ति का दुरूपयोग कर पूरी मनुष्यता को ही ख़त्म करने में लगे हुए हैं झूठी सत्ता सुख और 6000 करोड़ के घर में रहने के पागलपन की सुख की चाह के चलते.......मनुष्य को मनुष्यता को अपने साथ लेकर की विकाश की सीढियाँ चढ़नी चाहिए अन्यथा विकाश और विनाश में कोई अंतर नहीं रह जायेगा ....?

    आपके इस सार्थक लेख ने मेरे सोच को एक सार्थक उर्जा से भर दिया है क्योकि आज के बेढंगी परिस्थितियों में कभी-कभी अच्छे,सच्चे,इमानदार लोगों को अपने अच्छे प्रयास में आशातीत सफलता नहीं मिलने से जीवन से निरासा होने लगती है ...लेकिन ऐसे विचारों से उसे आगे बढ़ने की एक नयी ताजगी मिल जाती है.........मेरे ख्याल में ये शानदार ब्लोगिंग है और समाज में सही सोच को मजबूती देना ही ब्लोगिंग और संचार माध्यम का असल उद्देश्य होना चाहिए............

    ReplyDelete
  8. आपके इस लेख से मैं इतना प्रभावित हुआ हूँ की इसे अपने फेसबुक वाल पे शेयर कर रहा हूँ......."शानदार ब्लोगिंग का उदाहरण" शीर्षक से .....इस ब्लॉग को हर किसी को पढना चाहिए तथा ऐसी ही ब्लोगिंग करनी चाहिए .....आपको कोई ऐतराज तो नहीं....?

    ReplyDelete
  9. बोसॉनीय उत्सव मनाना ही सही है|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  10. वैज्ञानिक शब्दावली और जीवन दर्शन सुंदर मेल किया है आपने....... बोसॉन बनने की इच्छा है हमेशा ताकि जीवन भी एक उत्सव हो साथ साथ जीने का, आगे बढ़ने का .... मेरे अपने लिए ही नहीं जो भी मुझसे जुड़ा हो उसके लिए भी..... बोसॉन और फर्मिऑन दोनों शब्द मेरे लिए नए थे इन्हें जानकर.. समझकर अच्छा लगा ....धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. .
    Satyendra Nath Bose, Great Physicist famous for 'Bose-einstein condensation'.

    Once Fermi, another physicist was accompanying him to his college in erstwhile Calcutta in his car. Several students of Bose met in the way.Every time Bose stopped and got one student in his car. Car was full now.Students started to sit on the roof.

    Fermi was frustrated.
    Who are they? he asked.
    Bose replied 'they are BOSONS, my students, all of them may come in my car"

    Fermi returned to his country and coined another term- FERMIONS- only one can be in one state (car).
    Although both the terms are important in physics but the choice reflects the culture of respective countries.

    We believe in inclusion and collective presence(e.g. joint family) whereas Europeans believe in exclusion and give priority to individuality and not society.

    So I will vote for Boson.

    .

    ReplyDelete
  12. बहुत संदेशात्मक रचना।

    ReplyDelete
  13. शानदार ब्लोगिंग

    ReplyDelete
  14. aam taur per dwand khatm kahan hota hai

    ReplyDelete
  15. बहुर सुन्दर भाई ...

    ReplyDelete
  16. ईर्ष्या ही फर्मियान्स उत्पन्न करती है मानवीय समाज में. और प्रतिस्पर्धा भी. अवचेतन में कहीं न कहीं असुरक्षा की भावना भी फर्मियान्स उत्पन्न करती है. लेकिन सत्य तो एक ही है. बोसान.

    ReplyDelete
  17. साइंटिफिक नज़रिए से , व्यक्तित्व आकलन बड़ा अच्छा लगा, साथ ही बोसॉन्स और फर्मिऑन्स के गुण जानने का मौका भी मिला !

    हम तो, फर्मिऑन्स जैसी जलेसी रखने के मुकाबले, आप जैसे किसी मज़बूत बोसॉन्स की संगति ढूंढ रहे हैं :-)

    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. chahat to Bossons jaisee banane ki hoti hai...lekin aam jindagi me aisa ho nahi pata...!
    ek sarthak lekh ke bahut bahut badhai !
    maine iss lekh ko facebook pe share kar raha hoon..........bina aapse puchhe:)

    ReplyDelete
  19. यह द्वंद्व तो चलता ही रहता है ....बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  20. बोसोन होना चाहते हैं,
    लेकिन उस के लिए पहले अपनों के साथ मजबूत अटूट बंधन बनाना तो सीखना होगा।

    ReplyDelete
  21. चराचर जगत के यथार्थ निर्वाह के लिए भौतिकी के इस सिद्धांत से उपजे दोनों कणों की उपयोगिता है.

    ReplyDelete
  22. जाट देवता की राम राम,
    बहुत खूब, अब लगता है, बार-बार आना पडेगा

    ReplyDelete
  23. जाट देवता की राम राम,
    टिप्पणी तो तुरन्त प्रकाशित होने दिजिए ,पान्डेय जी,

    ReplyDelete
  24. वाह....साईंटिफिक पोस्ट, मजा आ गया...हाँ, वैसे ये बता दूँ की मेरा फिजिक्स कोई खास मजबूत नहीं था :)

    ReplyDelete
  25. apne ko badal le dunia badal gayagee.......

    jai baba banaras......

    ReplyDelete
  26. बोसान और फर्मी के प्रतीकों से बहुत सटीक बात कही आपने।

    देखा जाये तो बोसान प्रवृत्ति ही सत्य है क्योकिं हम और आप ही नहीं सारा अस्तित्त्व ही जुड़ा हुआ है एक दूसरे से। सूदूर सूर्य यदि ठंड़ा हो जाये तो इस पृथ्वी पर जीवन भी समाप्त हो जायेगा।

    फर्मी प्रवृत्ति मिथ्या है, जो किन्ही परिस्थेतियों में तो सत्य लग सकती है परंतु विस्तृत अर्थों में सत्य नहीं, भ्रम है।

    ReplyDelete
  27. विचारणीय आलेख्।

    ReplyDelete
  28. कई लोग टैकियान बनने के चक्कर में न तो बोसॉन बन पाते हैं फर्मिऑन।:)

    ReplyDelete
  29. हम भी है लगे हुए बोसान के पीछे . शानदार ब्लॉग्गिंग .

    ReplyDelete
  30. बहुत ही सटीक विश्लेषण....

    ReplyDelete
  31. सुन्दर विचार सामने रखे
    बहुत सटीक बात कही आपने। बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  32. सुन्दर विचार सामने रखे
    बहुत सटीक बात कही आपने। बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  33. संगठन में शक्ति है! एकता में बल है! शक्ति (बल) का संघठित प्रयोग जगत कल्याण के लिए होना चाहिए, परहित के लिए होना चाहिए वरना ये अपार संगठित शक्ति जगत का विनाश भी कर सकती है! इस लिए हम बोसॉन (देव कण) अवश्य बनें मगर जगत कल्याण के लिए! हम फर्मिऑन (असुर कण) बनकर जगत के विनाश के लिए संगठित न हों, इससे तो अच्छा है हम अकेले अपनी कक्षा में पड़े रहें, अगर किसी का भला नहीं कर सकते तो बुरा भी न करें! वसुधैव कुटुम्बकम!

    ReplyDelete
  34. बहुत ही सटीक विश्लेषण| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  35. बढ़िया पोस्ट है.शानदार विश्लेषण.

    ReplyDelete
  36. हम सब अभी तो फर्मिऑन ही बने हे, इसी लिये हर कोई अपनी मर्जी से हमे हांक रहा हे, जिस दिन हम बोसॉन बनेगे उस दिन हम हांके के इस दुनिया को, बहुत सुंदर लेख, धन्यवाद

    ReplyDelete
  37. कैसे-कैसे विषय और कैसे-कैसे तालमेल । वाह...

    ReplyDelete
  38. बाप रे..... बौदिकता और भौतिकता भरा आलेख.

    ReplyDelete
  39. नहीं समझ आया

    ReplyDelete
  40. बहुत अच्छी पोस्ट है. मनुष्य में विशेष बात उसकी निर्णय लेने की शक्ति है कि वह कैसा बनना चाहता है. मानव में चेतन शक्ति का होना इसे प्रत्येक बात का साक्षी बनाता है और निर्णय लेने के कई विकल्प देता है.
    नई जानकारी देने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  41. जरा और पीछे जा कर निहारें तो लगता है कि भौतिकी के बोसान और फर्मिऑन वेदांत के ब्रह्म और माया हैं, सांख्य के पुरुष और प्रकृति हैं। इसी द्वंद्व से ही सृष्टि की उत्पत्ति, स्थिति और विनाश है।
    खास बात यह है कि गणित और भौतिकी के सिद्धांत तथा मानव व्यवहार के सिद्धांत समानांतर चलते प्रतीत होते हैं।
    उच्च स्तरीय चिंतन, उत्तम लेखन।

    ReplyDelete
  42. बौद्धिक विचारों की भौतिकी के माध्यम से प्रस्तुति !!!!
    वाह ! अनूठा प्रयोग....
    मनुष्य भौतिकी से आत्मिक शक्तियां ग्रहण करने की बजाय
    भौतिकता की ओर भागता हुआ अपनी आत्मिक शक्तियों को
    खोता जा रहा है .उर्जावान विचारों से इसे जगाना जरुरी है.
    अनूठे लेख के लिए बधाइयाँ...

    ReplyDelete
  43. बौद्धिक विचारों की भौतिकी के माध्यम से प्रस्तुति !!!!
    वाह ! अनूठा प्रयोग....
    मनुष्य भौतिकी से आत्मिक शक्तियां ग्रहण करने की बजाय
    भौतिकता की ओर भागता हुआ अपनी आत्मिक शक्तियों को
    खोता जा रहा है .उर्जावान विचारों से इसे जगाना जरुरी है.
    अनूठे लेख के लिए बधाइयाँ...

    ReplyDelete
  44. बौद्धिक विचारों की भौतिकी के माध्यम से प्रस्तुति !!!!
    वाह ! अनूठा प्रयोग....
    मनुष्य भौतिकी से आत्मिक शक्तियां ग्रहण करने की बजाय
    भौतिकता की ओर भागता हुआ अपनी आत्मिक शक्तियों को
    खोता जा रहा है .उर्जावान विचारों से इसे जगाना जरुरी है.
    अनूठे लेख के लिए बधाइयाँ...

    ReplyDelete
  45. प्रवीण भाई,
    न हम बोसॉन है, न फर्मिऑन, हम तो हैं बस छिछोरिऑन...

    इस बारे में ज़्यादा जानना है तो आज रात को मेरी पोस्ट पर आना पड़ेगा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  46. सर्वश्रेष्ठ पोस्ट |
    बोसोन तो हम बनना चाहते है किन्तु फर्मियान तत्व विद्यमान होने से बोसोन बनने में बहुत समय व्यर्थ चला जाता है |

    ReplyDelete
  47. हमें अपनी कक्षा असुरक्षित सी लगने लगती है, हम उसे अपनी कक्षा में आने नहीं देते हैं, हम फर्मिऑन बन जाते हैं।
    यह मानवीय गुण है ...

    बहुत अच्छा सन्देश देता लेख ..

    आप निर्धारित कर लें कि आपको बोसॉन बनना है या फर्मिऑन..
    अब तो सोचना ही होगा ..कोई यूँ ही धूल में तो नहीं मिलना चाहता ..

    बोसॉन और फर्मिऑन तो आपने बता दिया पर .... टैकियान क्या है ? इसकी भी जानकारी मिल जाती तो बेहतर था ..

    ReplyDelete
  48. चमत्कृत कर देनेवाली पोस्ट है आपकी. क्वांटम भौतिकी से मानवी प्रकृति की तुलना अद्भुत है. हम सभी अलग-अलग फ्लेवर्स के क्वांटम कण हैं. कुछ थोड़े से बोसोन हैं तो बहुत से फर्मियौना. और शायद हम लोगों में ही कोई छुपा हुआ हिग्स बोसोन हो जो अपनी तरह का एक ही कण है, सर्वथा असम्पृक्त, जिसका कर्म ही है नए कणों रचना करना.
    और जिस तरह सैद्धांतिक भौतिकविदों को अपने प्रयोगों में अनूठी विमायें जोड़ने पर और भी दुर्लभ कण मिलते हैं, क्या पता हम भी अपने जीवन में नई विमायें जोड़ें तो हमें भी दूसरों में स्थित दुर्लभता और दैवीयता दृष्टिगोचर होने लगे!

    ReplyDelete
  49. physics इसीलिए कहते हैं शायद इस विषय को... और द्वन्द तो जरूरी है वर्ना पता कैसे चलेगा कि हमारे अन्दर कौन सा तत्त्व, कौन सा सिध्हंत ज्यादा विद्यमान है...
    बहुत ही शानदार लेख... और बहुत ही ध्यान से पढने और सोच पर विचार करने को मजबूर करनेवाला...
    बहुत-बहुत शुक्रिया...

    ReplyDelete
  50. बढ़िया विश्लेषण।

    ReplyDelete
  51. मै क्या हूँ ????? सोच रही हूँ.....
    उत्तम पोस्ट....शुक्रिया........

    ReplyDelete
  52. हम तो कभी भी असुरक्षा बोध से ग्रसित नहीं हुए इसलिए हमेशा यही प्रयास रहा कि लोगों को साथ लेकर चलें लेकिन यह भी कटु सत्‍य है कि हमें कोई भी बोर्सोन नहीं मिला। जीवन संघर्ष का दूसरा नाम है इसलिए लगातार संघर्ष कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  53. yah nirbhar karta hai man/soch ki entropy par ki vah kis 'state of diorderliness' me hai.....

    http://amit-nivedit.blogspot.com/2010/11/entropy.html

    ReplyDelete
  54. निशांत मिश्र - Nishant Mishra ने कहा…
    चमत्कृत कर देनेवाली पोस्ट है आपकी. क्वांटम भौतिकी से मानवी प्रकृति की तुलना अद्भुत है. हम सभी अलग-अलग फ्लेवर्स के क्वांटम कण हैं. कुछ थोड़े से बोसोन हैं तो बहुत से फर्मियौना. और शायद हम लोगों में ही कोई छुपा हुआ हिग्स बोसोन हो जो अपनी तरह का एक ही कण है, सर्वथा असम्पृक्त, जिसका कर्म ही है नए कणों रचना करना.
    और जिस तरह सैद्धांतिक भौतिकविदों को अपने प्रयोगों में अनूठी विमायें जोड़ने पर और भी दुर्लभ कण मिलते हैं, क्या पता हम भी अपने जीवन में नई विमायें जोड़ें तो हमें भी दूसरों में स्थित दुर्लभता और दैवीयता दृष्टिगोचर होने लगे!


    हम इस टिप्पणी से पूरी तरह सहमत है !

    ReplyDelete
  55. आईये, अपने अपने हृदय पर हाथ रख स्वयं से पूछें कि हमारे सम्पर्क में हमारी जैसी प्रतिभा वाला, हमारे जैसे गुणों वाला कोई व्यक्तित्व आता है तो हमारे अन्दर का बोसॉन तत्व जागता है या फर्मिऑन तत्व। बहुत ही सुन्दर सब कुछ नया ! मै तो zeal के टिपण्णी के साथ हूँ सर !

    ReplyDelete
  56. वैज्ञानिक दृष्टिकोण से लिखी तमाम संभावनाओं को तलाशती और उर्जा प्रदान करती सार्थक पोस्ट.

    ReplyDelete
  57. प्रवीण जी सदा की तरह ही अति सुन्दर भाव-व्याख्या। साधुवाद।
    राम और भरत का प्रेम इसी बोसानीय उत्सव का ,सजीव उदाहरण है, जबकि कौरवों का पांडवों के प्रति दुराग्रह कि " शुच्यग्रम न दास्यामि, बिना युद्ध्येन केशवः।" इसी फर्मियानिक विद्वेष की पराकाष्ठा । यक्षप्रश्न तो यह है कि सब कुछ जान और सुनकर भी हम अपने भूत व इतिहास से कुछ सबक क्यों नही ले पाते?

    ReplyDelete
  58. ek sandesh liye sarthak post manav vybhaar ko vishleshit kattee amit chap chodne me saksham...

    ReplyDelete
  59. kya bahi aap to vibhinn kshetron ke maharathi hain...maine to inke baare me suna bhi nahi tha...ya suna bhi hoga to kuch yaad nahi...thanks for this interesting info.

    ReplyDelete
  60. बेहद दिलचस्प...काश इतने ही रोचक ढंग से बच्चों विज्ञान पढ़ाया जाए..मुझे लगता है हममें दोनो ही तत्व मौजूद होते हैं...बस कैसे एक को सक्रिय रख पाएँ यही महत्त्वपूर्ण है...

    ReplyDelete
  61. ज्ञानवर्धक लेख के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  62. @ संतोष त्रिवेदी
    अपने जैसों को अपनाकर उनका परिचय कराना भले ही बेवकूफी समझा जाये पर उचित वही है। आपका समकक्ष ही आपकी क्षमताओं का सही आकलन कर सकता है, यह तो करना ही होगा, निष्कर्ष कुछ भी हो।

    @ Udan Tashtari
    यह तो निश्चित ही है कि अपने जैसों को साथ लेकर चलने से ही बोसॉनीय उत्सव मनेगा।

    @ देवेन्द्र पाण्डेय
    अवसरवादिता तो फर्मियॉन ही बनायेंगी।

    @ वाणी गीत
    यदि फर्मियॉन का एकान्त बोसॉन बनने को विवश करे तो भी ठीक है, अन्त भला तो सब भला।

    @ Rahul Singh
    यह द्वन्द रोचकता बनाये रखता है।

    ReplyDelete
  63. @ Smart Indian - स्मार्ट इंडियन
    गूढ़तम उपकण भी हृदय की तरह ही कार्य करते हैं।

    @ honesty project democracy
    मुझे प्रसन्नता है कि आपने लेख इस योग्य समझा। सच में जो लूट मची है, फर्मियॉन मानसिकता का चरम है। साथ मिलकर चलने का सुख उन्हें कहाँ ज्ञात।

    @ Patali-The-Village
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ डॉ॰ मोनिका शर्मा
    ये दोनों शब्द मन में पहले से ही बैठी मानसिकताओं की अभिव्यक्ति मात्र हैं। निश्चय हमें ही करना होता है कि क्या बनें।

    @ ZEAL
    बहुत धन्यवाद आपका, यह घटना प्रस्तुत करने के लिये, इसने पोस्ट को एक नयी विमा दी है। हमारा मन निश्चय ही बोसॉन बनना चाहेगा, परस्पर हिताय।

    ReplyDelete
  64. @ मनोज कुमार
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Udan Tashtari
    स्नेह आपका यूँ ही बना रहे।

    @ रश्मि प्रभा...
    द्वन्द का सही पक्ष भी समझना होगा और उसके निष्कर्ष भी।

    @ परावाणी : Aravind Pandey:
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ भारतीय नागरिक - Indian Citizen
    यही असुरक्षा की भावना ही प्रचुरता में भी सीमितता का आभास देती है।

    ReplyDelete
  65. @ सतीश सक्सेना
    बोसॉन्स मिलकर ही लेजर बनायेंगे, अज्ञान को ध्वस्त करने वाली।

    @ Mukesh Kumar Sinha
    मन में बसा भय हमें सही मार्ग में जाने से न जाने कितनी बार रोकता है।

    @ सदा
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi
    पहले अपनों को जोड़ लें, तब अपने जैसों को जोड़ने की सोचेंगे।

    @ गिरधारी खंकरियाल
    इस तरह के द्वन्द से ही प्रकृति चक्र गतिशील है।

    ReplyDelete
  66. @ जाट देवता (संदीप पवांर)
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ abhi
    इसके निष्कर्ष भी नितान्त सरल हैं आपकी बोसॉनीय प्रवृत्ति की तरह ही।

    @ Poorviya
    संभवतः वही प्रारम्भ हो बोसॉनीय मानसिकता का।

    @ सम्वेदना के स्वर
    पारस्परिक निर्भरता तो बोसॉनीय तत्व को ही सिद्ध करती है, यही प्रकृति का उत्तर भी है हमारी लोलुपता के लिये।

    @ वन्दना
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  67. @ Arvind Mishra
    जिन्हें प्रकाश की गति को भी पछाड़ना हैं, उनके प्रति हमारी संवेदना है।

    @ ashish
    तब तो हमारी आपकी स्पिन एक ही है।

    @ rashmi ravija
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ संजय भास्कर
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Gaurav
    संगठन में शक्ति है और इसे याद रख हमें बोसॉन बने रहना चाहिये।

    ReplyDelete
  68. @ Patali-The-Village
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ shikha varshney
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ राज भाटिय़ा
    सच में, जिस दिन हम बोसॉन बन गये, हम शक्तिशाली हो जायेंगे।

    @ सुशील बाकलीवाल
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ दीपक बाबा
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  69. @ Kajal Kumar
    मिलकर चला हो या अपने जैसों को छोड़कर चलना हो।

    @ Bhushan
    उसे यही निर्णय लेना है कि वह अकेले चले कि सबके साथ।

    @ mahendra verma
    द्वन्द का सही हिस्सा हमारे हाथ में हो, प्रकृति में तो दोनों ही रहेंगे।

    @ अरुण कुमार निगम
    भौतिकी के मर्म को समझे बिना भौतिकता के पीछे भागना हानिकारक है।

    @ खुशदीप सहगल
    आपका आलेख बड़ा अच्छा लगा, न साथ रहना चाहते हैं, न ही दूर जाते हैं, बस छिछोरापन ही कर पाते हैं।

    ReplyDelete
  70. @ शोभना चौरे
    यदि ऐश्वर्य में जीना है तो फर्मियॉन तत्वों को भुलाना होगा।

    @ संगीता स्वरुप ( गीत )
    टैकियॉन प्रकाश की गति से भी तेज चलने वाले उपकण होते हैं, हवा में रहते हैं, हर समय। बोसॉन बनकर हमें अपना सम्मिलित भविष्य रचना होगा।

    @ निशांत मिश्र - Nishant Mishra
    हमें तो कब से उस कण की प्रतीक्षा है जो नवकणों का निर्माण कर सके। हमें अपने तरह के कणों का साथ तो द्ना ही होगा तभी हम प्रभावी हो सकेंगे।

    @ POOJA...
    द्वन्द आवश्यक है प्रकृति को चलाने के लिये पर द्वन्द के किस हिस्से में रहना श्रेयस्कर है, वह निर्णय तो हमें ही करना होगा।

    @ सतीश पंचम
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  71. @ Archana
    आप बोसॉन हैं।

    @ ajit gupta
    औरों को साथ लेकर चलने से कटु सत्य भी मिलेंगे, पर वही करना होगा, अपने जैसे कण भी मिलेंगे।

    @ amit-nivedita
    इन्ट्रॉपी वाली पोस्ट बहुत ही अच्छी लगी, कुछ इन्ट्रॉपी लाभदायक भी होती हैं।

    @ Ashish Shrivastava
    नवनिर्माण भी ही करना होगा और वह केवल बोसॉन ही कर सकता है।

    @ G.N.SHAW ( B.TECH )
    हमें अन्ततः बोसॉन ही बनना होगा।

    ReplyDelete
  72. @ रचना दीक्षित
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ देवेन्द्र
    आपने शास्त्रों से लाकर बोसॉन और फर्मियॉन के उदाहरण रख दिये। हमें इतिहास से सीखना होगा।

    @ Apanatva
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Gopal Mishra
    ये उपकण सूक्ष्तम संरचनायें हैं, मन की तरह ही।

    @ मीनाक्षी
    विज्ञान को समझ कर पढ़ाने में रोचकता आ ही जाती है, बोसॉन को ही सक्रिय रखना होगा।

    ReplyDelete
  73. इस द्वन्द में ही अवसरवादी और मानवीय गुणों में अन्तर पता चल पाता है ।

    ReplyDelete
  74. अपनी कोठरी में सुरक्षा तलाशने का कोई अर्थ नहीं.जिन्दगी कारा के बाहर होती है लेकिन अक्सर हम खुद यह कारा तैयार करते हैं.

    ReplyDelete
  75. वैज्ञानिक शब्दावली देख कर शुरू में यह समझती रही कि मैं इसे नहीं ग्रहण कर पाऊँगी और पढ़ा ही नहीं था .
    आज पढ़ा तो मान गई आपका लोहा और प्रतिपादन की सामर्थ्य !
    प्रभावित हूँ प्रवीण जी, इस सार्थक चिन्तन से ,कृतज्ञ भी हूँ !

    ReplyDelete
  76. @ nivedita
    और ईश्वर आपकी स्थिति स्पष्ट करने के लिये इस तरह के द्वन्द भेजते भी रहते हैं।

    @ संतोष पाण्डेय
    अपनी कक्षा में सुरक्षित रहने के प्रयास में हम जग से विलग हो जाते हैं।

    @ प्रतिभा सक्सेना
    वैज्ञानिक भाषा इतनी कठिन नहीं है, उपकण भी मानवीय गुणों से प्रभावित हैं।

    ReplyDelete
  77. जीवन में यह द्वंद्व चलता रहता है ..लेकिन अंततः परिणाम एक ही रहता है ....और वही सत्य है उसे चाहे कुछ भी कह लें

    ReplyDelete
  78. हम भारतीय हैं तो बोसॉन होंगे ना ????? :)

    ReplyDelete
  79. @ : केवल राम :
    अन्ततः हमें बोसॉन ही बनना पड़ेगा।

    @ सारा सच
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ cmpershad
    हम बोसॉन होना चाहते हैं पर हमारी क्षुद्रतायें आड़े आ जाती हैं।

    ReplyDelete
  80. बात नई नहीं है किन्‍तु प्रस्‍तुति अद्भुत, रोचक और अत्‍यन्‍त प्रभावी।

    मध्‍य प्रदेश में एक शिक्षा राज्‍य मन्‍त्री हुए थे - रावल साहब। प्रखर समाजवादी थे। उनका कहना था कि 'संगठित दुर्जन और असंगठित सज्‍जन' हमारा सबसे बडा संकट है।

    आपकी पोस्‍ट इसी बात को यूँ कह रही है - हमारे सज्‍जन फर्मिऑन हैं और दुर्जन बोसॉन।

    ReplyDelete
  81. @ विष्णु बैरागी
    जब मानवीय गुण उपकणों में दिखने लगें तो प्रसंग और रोचक हो जाता है।

    ReplyDelete
  82. साइंस के गूढ़ तत्वों से बात शुरू कर आपने उसे बहुत सार्थक ढंग से विस्तार दिया है...आपकी लेखन क्षमता अनुकरणीय है...बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    ReplyDelete
  83. @ नीरज गोस्वामी
    प्रश्न तो यह है कि मानव ने उपकणों के गुण स्वीकारे या उपकण मानवों का व्यवहार देख दूषित हुये?

    ReplyDelete
  84. क्या कमाल की पोस्ट है । हमारे अंदर दोनो ही त्तत्व विद्य़मान हैं हम किसे आगे बढाते हैं यह हम पर निर्भर है । थोडी फिजिक्स भी पढ ली आप की इस पोस्ट के कारण । कोशिश करें कि बोसॉनीय कणों का आधिक्य हो ।

    ReplyDelete
  85. बनना तो बोसॉन टाईप का ही चाहते रहे हैं, ये तो साथी लोग ही बता सकते हैं कि बोसॉन हैं या फ़र्मिआन।

    ReplyDelete
  86. कितनी सुन्दर विवेचना की आपने भौतिकी के इस सिंद्धांत की और उसके द्वारा आपने जो सन्देश हम तक पहुचाया वह अनुकरणीय है... वाकई मे हम तो बोसोंस बना चाहेंगे ...

    ReplyDelete
  87. @ Mrs. Asha Joglekar
    जब तक बोसॉनीय कणों का आधिक्य नहीं होगा, समाज विघटित होता रहेगा।

    @ संजय @ मो सम कौन ?
    अगर साथी संगी बतायेंगे तो आपको बोसॉन ही कहेंगे।

    @ डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति
    सब मिलकर समृद्धि को प्राप्त हों।

    ReplyDelete
  88. भौतिकी के सिद्धांत की क्या सुन्दर प्रस्तुति की है आपने.यह पसंद आया कि

    "गरीबी में साथ साथ रहना है, कष्ट में साथ साथ रहना है, विपत्ति में साथ साथ रहना है, वैभव होगा तब अन्य विषयों पर शास्त्रार्थ कर लेंगे। आप निर्धारित कर लें कि आपको लेज़र बनना है कि धूल बनकर पड़े रहना अपनी अपनी कक्षाओं में सुरक्षित। आप निर्धारित कर लें कि आपको बोसॉन बनना है या फर्मिऑन। [Image] बोसॉनीय उत्सव"

    ReplyDelete
  89. @ Rakesh Kumar
    साथ साथ रह कर दुख झेला जा सकता है, उस पर विजय पायी जा सकती है।

    ReplyDelete
  90. भोथिकी के माध्यम से मानव सोच को विश्लेषित कर दिया आपने तो .... बहुत ही कमाल की पोस्ट ...

    ReplyDelete
  91. @ दिगम्बर नासवा
    भौतिकी के उपकण भी मानव सम्बन्धों को इतनी निकटता से समझ पाते हैं, आश्चर्य तो इस बात का हो रहा है।

    ReplyDelete
  92. हम तो बोसोन ही होना चाहते हैं। सिन्दर आलेख।

    ReplyDelete